पेशाब में जलन होने पर क्या खाना चाहिए – Foods for Urinary Tract Infection in Hindi

Written by

पेशाब करते समय जलन होना बेहद आम है। हालांकि, कभी-कभी यह यू टी आई यानी मूत्र पथ में संक्रमण के कारण हो सकता है (1)। ऐसे में सही उपचार के साथ-साथ खानपान का खास ध्यान रखने की भी जरूरत होती है। ऐसे में स्टाइलक्रेज के इस लेख में हम पेशाब में जलन होने पर क्या खाना चाहिए, इससे जुड़ी जानकारी लाए हैं। इसके अलावा, पेशाब में जलन कम करने के लिए डाइट में क्या नहीं खाना चाहिए इसकी जानकारी भी मिलेगी। तो पेशाब में जलन होने पर क्या खाना चाहिए और क्या नहीं, यह जानने के लिए लेख को पूरा पढ़ें।

स्क्रॉल करें

आइए, अब जानते हैं पेशाब में जलन होने पर क्या खाना चाहिए।

पेशाब में जलन होने पर क्या खाना चाहिए? – Foods to Eat for Urinary Burning in Hindi

यू टी आई के इलाज के साथ-साथ, जल्दी ठीक होने के लिए खानपान का ध्यान रखना भी आवश्यक है। ऐसे में यहां हम पेशाब में जलन होने पर क्या खाना चाहिए, इसकी जानकारी दे रहे हैं। पेशाब में जलन से बचाव के लिए आहार कुछ इस प्रकार हैं:

1. क्रैनबेरी

पेशाब में जलन होने का एक कारण मूत्र पथ का संक्रमण भी होता है (2)। ऐसे में मूत्र पथ संक्रमण से बचाव या उसके लक्षणों को कम करने के लिए क्रैनबेरी यानी करौंदा उपयोगी हो सकता है। एनसीबीआई (National Center for Biotechnology Information) की वेबसाइट पर प्रकाशित शोध में इस बात की पुष्टि होती है कि क्रैनबेरी या क्रैनबेरी जूस का सेवन न सिर्फ यूरिनरी ट्रैक्ट इन्फेक्शन से बचाव कर सकता है, बल्कि उसके लक्षणों को भी कम कर सकता है (3)।

वहीं, एक अन्य शोध में भी इस बात की पुष्टि होती है कि क्रैनबेरी जूस में मौजूद प्रोएन्थ्रोसायानिडीन-ए (Proanthrocyanidin-A) कंपाउंड मौजूद होता है, जो मूत्र पथ के संक्रमण का कारण बनने वाले बैक्टीरिया पर प्रभावकारी हो सकता है (4)। ऐसे में पेशाब में जलन की समस्या के लिए या मूत्र पथ संक्रमण से बचाव के लिए क्रैनबेरी या क्रैनबेरी जूस का सेवन लाभकारी हो सकता है। हालांकि, बेहतर है इस बारे में एक बार डॉक्टरी सलाह लें, क्योंकि क्रैनबेरी कुछ दवाइयों के साथ मिलकर प्रतिक्रिया भी दे सकती है।

2. प्रोबायोटिक रिच फूड्स

पेशाब में जलन महसूस होने पर दही का सेवन लाभकारी हो सकता है। एक शोध के मुताबिक, दही प्रोबायोटिक्स खाद्य पदार्थों की श्रेणी में आता है, जो मूत्र पथ के संक्रमण से बचाव करने में सहायक हो सकता है (5)। ऐसे में मूत्र पथ संक्रमण से बचाव के लिए प्रोबायोटिक्स खाद्य पदार्थ उपयोगी हो सकता है। हालांकि, यह पेशाब में जलन से राहत दिल सकता है या नहीं इस विषय में अभी शोध की आवश्यकता है।

3. खूब पानी पिएं

पानी का सेवन पेशाब में जलन होने से राहत प्रदान करने का काम कर सकता है। एनसीबीआई की एक रिसर्च में इस बात का जिक्र मिलता है कि यू टी आई की समस्या में ज्यादा से ज्यादा पानी पीने की सलाह दी गई है (6)। ऐसे में ये कहा जा सकता है कि पानी का सेवन पेशाब में जलन होने पर कारगर साबित हो सकता है।

4. विटामिन सी फूड्स

पेशाब में जलन होने की समस्या में विटामिन सी युक्त खाद्य पदार्थ कुछ हद तक राहत प्रदान कर सकते हैं। दरअसल, विटामिन सी जैविक एजेंटों को अपग्रेड करके इन्फेशन से लड़ने में लाभकारी हो सकता है। इससे जुड़ी जानकारी में इस बात का साफ तौर पर जिक्र है कि पेशाब में जलन की समस्या में हर घंटे दो ग्राम विटामिन सी लेना फायदेमंद हो सकता है (7)।

विटामिन सी युक्त ब्लूबेरी जूस का सेवन करने से बैक्टीरिया शरीर से निकल सकता है। इसके साथ ही यह इम्यून पावर को मजबूत कर यू टी आई का कारण बनने वाले बैक्टीरिया से बचाव कर सकता है। इसी आधार पर माना जा सकता है कि मूत्र पथ संक्रमण या उसके लक्षणों जैसे – पेशाब में जलन होने की समस्या में विटामिन सी युक्त खाद्य पदार्थों जैसे- नींबू, संतरा, किवी, ब्रोकोली का सेवन करना भी लाभकारी हो सकता है।

5. लहसुन

पेशाब में जलन की समस्या में लहसुन काफी फायदेमंद माना जा सकता है। दरअसल, लहसुन में एंटीबैक्टीरियल गुण होता है और साथ ही इसमें एंटी-ऑक्सीडेंट गुण भी पाए जाते हैं। यही नहीं, इसमें सल्फर काम्पाउंड होते हैं, जो शरीर को डिटॉक्सीफाई करने में सहायक हो सकता है। ये गुण यूरिन इन्फेक्शन के लक्षण जैसे – बार-बार पेशाब आने की समस्या, दर्द या जलन से राहत दे सकते हैं (7)।

6. ताजे फल और सब्जियां

ताजे फल और सब्जियों का सेवन करना भी पेशाब में जलन की परेशानी को कम कर सकता है। एक शोध में इस बात का जिक्र साफ तौर पर मिलता है कि हरी और पत्तेदार सब्जियां और ताजे फलों का सेवन करने वाले लोगों में यूरिन इन्फेक्शन की समस्या के लक्षण कम होने की संभावना अधिक पाई गई थी। ऐसे में ये कहा जा सकता है कि पेशाब में जलन की समस्या या मूत्र पथ संक्रमण से बचाव में ताजे फल और सब्जियों का सेवन प्रभावी हो सकता है (8)।

पढ़ना जारी रखें

लेख में पेशाब में जलन कम करने के लिए क्या खाएं जानने के बाद अब पेशाब में जलन में क्या नहीं खाना चाहिए जानते हैं।

पेशाब में जलन में क्या नहीं खाना चाहिए?

पेशाब में हो रही जलन की समस्या में नीचे बताए गई चीजों का सेवन करने से बचना चाहिए। ये कुछ इस प्रकार हैं (9) (10) (11):

  • कैफीन युक्त पेय पदार्थ
  • शराब
  • कार्बोनेटेड ड्रिंग्स
  • मीठे पेय पदार्थ
  • मांसाहारी खाद्य पदार्थों से परहेज करें।

पेशाब में जलन होने पर क्या खाना चाहिए, इसकी जानकारी हमने इस लेख के जरिए अपने पाठकों तक पहुंचाने की कोशिश की है। यहां बताए गए खाद्य पदार्थों के सेवन से पहले बेहतर है एक बार डॉक्टरी सलाह भी लें। साथ ही पेशाब में जलन के लिए आहार से संबंधित डाइट चार्ट के बारे में भी डॉक्टर से पूछ सकते हैं। इसके अलावा, डॉक्टरी सलाह के बिना किसी भी दवा का उपयोग ना करें। वहीं पेशाब में हो रही जलन से बचने के लिए खासतौर पर साफ-सफाई का ध्यान रखें। याद रहे, इस समस्या से बचने के लिए सावधानी ही आसान और बेहतर तरीका है।

अक्सर पूछे जाने वाले सवाल:

क्या अंडा यूटीआई के मरीजों के लिए अच्छा है?

यूटीआई के मरीजों को अंडे का सेवन नहीं करना चाहिए। यह उनके लिए हानिकारक हो सकता है (11)। अगर किसी को यू टी आई में अंडा खाने का मन हो तो इस विषय में पहले डॉक्टर की सलाह लें।

अगर मुझे यूटीआई है तो क्या मैं डेयरी उत्पाद का सेवन कर सकता हूं?

हां, यूटीआई होने पर डेयरी उत्पादों का सेवन किया जा सकता है। दरअसल, फर्मेन्टेड मिल्क प्रोडक्ट, जैसे- दही में गुड बैक्टीरिया यानी प्रायोबेटिक मौजूद होते हैं। ये यूटीआई का कारण बनने वाले बैक्टीरिया पर प्रभावकारी हो सकते हैं (5)।

क्या चिकन यूटीआई के लिए हानिकारक है?

हां, चिकन यूटीआई के लिए हानिकारक हो सकता है (12)। दरअसल, शाकाहारी लोगों की तुलना में मांसाहारी लोगों में यू टी आई होने का जोखिम अधिक हो सकता है (11)।

क्या नींबू पानी यूटीआई के लिए अच्छा है?

हां, नींबू पानी यूटीआई के लिए अच्छा माना जा सकता है (13)।

क्या फाइबर फूड्स का सेवन यूटीआई में कर सकते हैं?

हां, फाइबर फूड्स का सेवन यूटीआई में किया जा सकता है (11)।

संदर्भ (Sources) :

Articles on StyleCraze are backed by verified information from peer-reviewed and academic research papers, reputed organizations, research institutions, and medical associations to ensure accuracy and relevance. Read our editorial policy to learn more.

  1. Urinary Tract Infections
    https://medlineplus.gov/urinarytractinfections.html
  2. Urinary tract infection – adults
    https://medlineplus.gov/ency/article/000521.htm
  3. Cranberries and lower urinary tract infection prevention
    ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC3370320/
  4. A Review of Cranberry Use for Preventing Urinary Tract Infections in Older Adults
    https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/30068438/
  5. Recurrent Urinary Tract Infections Management in Women
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC3749018/
  6. PURLs: Can drinking more water prevent urinary tract infections?
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC7271893/
  7. An overview on urinary tract infections and effective natural remedies
    https://www.plantsjournal.com/archives/2017/vol5issue6/PartA/5-6-7-566.pdf
  8. Fruit and Vegetable Intake in Relation to Lower Urinary Tract Symptoms and Erectile Dysfunction Among Southern Chinese Elderly Men
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC5291566/
  9. Does instruction to eliminate “coffee” “tea” “alcohol” “carbonated” and artificially sweetened beverages improve lower urinary tract symptoms: A Prospective Trial
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC4799659/
  10. Urinary tract infection in women – self-care
    https://medlineplus.gov/ency/patientinstructions/000391.htm
  11. The risk of urinary tract infection in vegetarians and non-vegetarians: a prospective study
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC6992707/
  12. Foodborne urinary tract infections: a new paradigm for antimicrobial-resistant foodborne illness
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC3589730/
  13. Determination of Antimicrobial Activity of Some Commercial Fruit (“Apple” “Papaya” Lemon and Strawberry) Against Bacteria Causing Urinary Tract Infection
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC6186015/
Was this article helpful?
The following two tabs change content below.

ताज़े आलेख