मुंहासे के लिए ग्रीन टी के फायदे और उपयोग – Green Tea To Treat Acne in Hindi

Written by

ग्रीन टी के स्वास्थ्य फायदों से अमूमन सभी लोग अच्छे से वाकिफ होंगे, लेकिन त्वचा के लिए इसके लाभ की जानकारी शायद ही हर किसी को होगी। खासकर, मुंहासों के इलाज के लिए ग्रीन टी को कारगर माना जाता है। इसके गुणों के कारण ही बाजार में ग्रीन टी युक्त कई स्किन केयर प्रोडक्ट्स भी मौजूद हैं। इसी बात को ध्यान में रखते हुए स्टाइलक्रेज के इस लेख में हम मुंहासों के लिए ग्रीन टी के फायदे के बारे में बता रहे हैं। इसके साथ ही बेदाग और खूबसूरत त्वचा के लिए ग्रीन टी के अलग-अलग तरीके से इस्तेमाल से जुड़ी जानकारी भी साझा करेंगे। इसलिए, अगर आप जानना चाहते हैं कि ग्रीन टी से पिंपल कैसे ठीक करें, तो यह लेख अंत तक जरूर पढ़ें।

शुरू करते हैं लेख

आइए, लेख की शुरुआत में जानते हैं कि मुंहासों पर ग्रीन टी कैसे काम करती है।

क्या ग्रीन टी से मुंहासे ठीक हो सकते हैं? Does Green Tea actually work for Acne in Hindi?

हां, ग्रीन टी से पिंपल की समस्या को कुछ हद तक ठीक किया जा सकता है। इसका कारण यह है कि ग्रीन टी में पॉलीफेनॉल नामक कंपाउंड पाया जाता है। यह कंपाउंड एंटी-माइक्रोबियल (सूक्ष्म जीवों को नष्ट करने वाला), एंटी इंफ्लेमेटरी (सूजन कम करने वाला) व एंटीऑक्सीडेंट (मुक्त कणों से लड़ने वाला) की तरह काम करता है। साथ ही यह पॉलीफेनॉल त्वचा से निकलने वाले सीबम (त्वचा से निकलने वाला तैलीय पदार्थ) के उत्पादन को नियंत्रित कर सकता है। यह सीबम ही है, जिसके कारण मुंहासों की समस्या होती है। इस प्रकार कहा जा सकता है कि ग्रीन टी का इस्तेमाल मुंहासों से बचाने में लाभकारी हो सकता है। वहीं, अगर किसी को मुंहासों की समस्या है, तो उसकी परेशानी कुछ हद तक कम हो सकती है। यह सारी जानकारी एनसीबीआई (नेशनल सेंटर फॉर बायोटेनॉलाजी इंफॉर्मेशन) की साइट पर उपलब्ध एक रिसर्च पेपर में दी गई है (1)।

बने रहें हमारे साथ

लेख में आगे मुंहासों के लिए ग्रीन टी के फायदे के बारे में विस्तार से जानते हैं।

मुंहासे के लिए ग्रीन टी के फायदे – Green Tea Benefits for Acne in Hindi

यहां हम बता रहे हैं कि कैसे ग्रीन टी की मदद से मुंहासों की परेशानी से छुटकारा पाया जा सकता है। ये घरेलू नुस्खे हैं। इन्हें मेडिकल ट्रीटमेंट समझना गलत होगा। इसलिए, किसी को मुंहासे की समस्या अधिक है, तो उसे डॉक्टर की सलाह लेनी चाहिए। सिर्फ घरेलू नुस्खों के जरिए उसे ठीक करना संभव नहीं है। आइए, जानते हैं कि मुंहासों पर ग्रीन टी कैसे फायदेमंद है।

1. सूजन में कमी

ग्रीन टी मुंहासे के कारण होने वाली सूजन को कम करने में मदद कर सकती है। इस बात की पुष्टि एनसीबीआई की साइट पर उपलब्ध एक रिसर्च पेपर से होती है। वहीं, लेख की शुरुआत में बताया गया है कि ग्रीन टी में पॉलीफेनॉल नामक कंपाउंड होता है, जिसमें एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण होता है। इस कारण यह सूजन को कुछ हद तक कम कर सकता है। रिसर्च पेपर में भी स्पष्ट रूप से लिखा हुआ है कि 2 प्रतिशत ग्रीन टी युक्त लोशन मुंहासों की समस्या को कुछ हद तक ठीक कर सकता है (1)।

2. सीबम उत्पादन में नियंत्रण

सीबम का ज्यादा उत्पादन मुंहासों के मुख्य कारणों में से एक है (2)। ग्रीन टी का इस्तेमाल सीबम (ग्रंथियों से निकले वाला एक प्रकार का तैलीय पदार्थ) के उत्पादन को कम कर मुंहासों को कम करने में सहायता कर सकता है। एनसीबीआई की साइट पर उपलब्ध एक रिसर्च पेपर के मुताबिक, ग्रीन टी में पॉलिफिनॉल नामक कंपाउंड पाया जाता है, जो सीबम के स्राव को कम कर मुंहासों की समस्या को कम कर सकता है। इसके अलावा, शोध में यह भी बताया गया है कि मुंहासों की समस्या से निजात पाने के लिए ग्रीन टी को त्वचा पर लगाने व पीने दोनों तरह से इस्तेमाल किया जा सकता है (1)।

3. एंटीऑक्सीडेंट

एनसीबीआई पर उपलब्ध एक शोध से पता चलता है कि ग्रीन टी में मौजूद पॉलीफिनॉल एंटीऑक्सीडेंट के रूप में कार्य करते हैं। ये त्वचा को ऑक्सीडेटिव डैमेज के कारण होने वाले नुकसान से बचाव में सहायक हो सकते हैं। इसके अलावा, ये सूरज की हानिकारक यूवी किरणों से होने वाली क्षति से त्वचा को सुरक्षा प्रदान कर सकते हैं (1)।

4. बैक्टीरिया पर नियंत्रण

मुंहासे होने की एक वजह बैक्टीरिया भी है। वहीं, एनसीबीआई के एक शोध में जिक्र है कि ग्रीन टी में मौजूद पॉलीफिनॉल त्वचा पर एंटीमाइक्रोबियल की तरह काम करता है। यह गतिविधि बैक्टीरिया को त्वचा पर पनपने से रोक सकती है (1)। एक अन्य शोध के अनुसार, ग्रीन टी में एंटी बैक्टीरियल (बैक्टीरिया को नष्ट करने वाला) प्रभाव होता है (3)। इस आधार पर ग्रीन टी को मुंहासों को दूर करने के लिए बेहतर माना जा सकता है।

नीचे स्क्रॉल करें

चलिए, अब जानते हैं कि मुंहासों के लिए ग्रीन टी का उयोग कैसे किया जा सकता है।

मुंहासे के लिए ग्रीन टी का उपयोग – How to Use Green Tea for Acne in Hindi

मुंहासों की समस्या से राहत पाने के लिए ग्रीन टी का इस्तेमाल अलग-अलग तरीके से किया जा सकता है। नीचे एक्ने के लिए ग्रीन टी फेस मास्क के बारे में बता रहे हैं:

1. ग्रीन टी फेस मिस्ट

सामग्री:

  • 1 चम्मच ग्रीन टी
  • 2 चम्मच गुलाब जल
  • आधा कप पानी
  • 1 स्प्रे बोटल

इस्तेमाल का तरीका:

  • आधा कप पानी में ग्रीन टी की पत्तियां मिलाएं।
  • पानी को 10 मिनट के लिए उबलने दें।
  • ठंडा होने पर पानी को छान लें।
  • इसमें गुलाबजल मिलाएं।
  • इसके बाद एक स्प्रे बोतल में इस मिश्रण को स्टोर करके फ्रिज में रख लें।
  • ग्रीन टी फेस मिस्ट बनकर तैयार है।

कैसे है लाभकारी:

ग्रीन टी फेस मिस्ट का इस्तेमाल एक्ने की समस्या को काफी हद तक कम कर सकता है। दरअसल, ग्रीन टी में एंटीमाइक्रोबियल और एंटी-इंफेलेमेटरी गुण मौजूद होते हैं। ये दोनों प्रभाव मुंहासों को कम करने में कारगर हो सकते हैं (4)। वहीं बात करें गुलाब जल की, तो इसमें एंटी-बैक्टीरियल और एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण होते हैं, जो त्वचा पर बैक्टीरिया को नष्ट कर मुंहासों की समस्या को काफी हद तक कम कर सकते हैं (5)। इसके अलावा, गुलाब जल त्वचा का पीएच स्तर संतुलित रखने के साथ चेहरे से अत्यधिक तेल को कम कर मुंहासों से राहत प्रदान कर सकता है (6)। इस आधार पर यह कहना गलत नहीं होगा कि ग्रीन टी फेस मिस्ट का इस्तेमाल कील-मुंहाले से राहत दिला सकता है।

कब उपयोग करें:

  • इस मिश्रण को हफ्ते में करीब 4-5 बार इस्तेमाल किया जा सकता है।

2. शहद व ग्रीन टी

सामग्री:

  • एक ग्रीन टी बैग
  • एक चम्मच शहद

इस्तेमाल का तरीका:

  • सबसे पहले ग्रीन टी बैग को एक कप गर्म पानी में करीब 3 मिनट तक रखें।
  • फिर टी बैग को काटकर उसमें से पत्तियां निकाल लें।
  • अब इन पत्तियों में शहद को मिक्स करके पेस्ट तैयार कर लें।
  • इस पेस्ट को चेहरे पर लगाकर करीब 20 मिनट के लिए छोड़ दें।
  • इसके बाद चेहरे को हल्के गुनगुने पानी से धो लें।

कैसे है लाभकारी:

मुंहासों के लिए ग्रीन टी के फायदे से जुड़ी जानकारी लेख मे ऊपर दी जा चुकी है। वहीं, शहद की बात करें तो इसमें एंटीबैक्टीरियल प्रभाव होता है, जो मुंहासों की वजह बनने वाले बैक्टीरिया से लड़ने में सहायक हो सकता है। इसके अलावा, शहद में एंटीइंफ्लेमेटरी प्रभाव मुंहासो के कारण होने वाली सूजन को कम करने में मदद कर सकता है (7)। इस आधार पर यह माना जा सकता है कि मुंहासो से राहत पाने के लिए ग्रीन टी के साथ शहद का इस्तेमाल लाभकारी हो सकता है।

कब उपयोग करें:

  • इस फेस पैक को हफ्ते में करीब 3 बार इस्तेमाल किया जा सकता है।

3. सेब का सिरका (एप्पल साइडर विनेगर) और ग्रीन टी

सामग्री:

  • 1/4 कप एप्पल साइडर विनेगर
  • 3/4 कप ग्रीन टी का पानी
  • कॉटन बॉल

इस्तेमाल का तरीका:

  • ग्रीन टी बैग को गर्म पानी में दो से तीन मिनट के लिए भिगोएं।
  • समय पूरा होने पर ग्रीन टी बैग को निकाल लें और पानी को ठंडा होने दें।
  • अब इसमें एप्पल साइडर विनेगर मिलाएं।
  • कॉटन बॉल की मदद से तैयार मिश्रण को चेहरे पर लगाएं।

कैसे है लाभकारी:

ग्रीन टी और सेब के सिरके (एप्पल साइडर विनेगर) का मिश्रण भी मुंहासों की समस्या को दूर करने में सहायता कर सकता है। दरअसल, इसमें एंटीमाइक्रोबियल प्रभाव पाया जाता है, जो मुंहासों को पनपने से रोक सकता है। इसके अलावा, इसमें मौजूद एंटी-बैक्टीरियल गुण मुंहासे का कारण बनने वाले स्टैफिलोकोकस ऑरियस बैक्टीरिया को नष्ट कर सकता है (8)। ऐसे में ग्रीन टी और सेब के सिरके से तैयार यह मास्क मुंहासों को ठीक करने में बेहद उपयोगी हो सकता है।

कब उपयोग करें:

  • इस मिश्रण को हर दिन लगाया जा सकता है।

4- ट्री ऑयल और ग्रीन टी

सामग्री:

  • आधा कप ग्रीन टी
  • 4-5 ड्रॉप टी ट्री ऑयल
  • एक कॉटन पैड
  • आधा कप पानी

इस्तेमाल का तरीका:

  • ग्रीन टी के बैग को गर्म पानी में तीन मिनट तक डालकर रखें।
  • इसके बाद इसे ठंडा होने के लिए रख दें।
  • ठंडा होने के बाद इसमें टी ट्री ऑयल मिलाएं।
  • कॉटन पैड की मदद से इस मिश्रण को पूरे चेहरे पर लगाएं।

कैसे है लाभकारी:

मुंहासों के लिए ग्रीन टी मास्क के फायदे बढ़ाने के लिए इसमें टी ट्री ऑयल मिला सकते हैं। दरअसल, टी ट्री ऑयल में भी एंटीमाइक्रोबियल और एंटीइंफ्लामेटरी गुण मौजूद होते हैं, जो मुंहासों को कम करने में लाभदायक हो सकते हैं ( 9)। एक अन्य शोध के मुताबिक, टी ट्री ऑयल का इस्तेमाल त्वचा को साफ करने के लिए किया जा सकता है। यह त्वचा से अधिक तेल निकालने व गहराई से साफ करने में सहायक हो सकता है (10)। ऐसे में कहा जा सकता है कि टी ट्री ऑयल और ग्रीन टी का मिश्रण मुंहासों की समस्या के लिए उपयोगी हो सकता है।

कब उपयोग करें:

  • इस फेस पैक को हफ्ते में एक से दो बार इस्तेमाल किया जा सकता है।

5. एलोवेरा और ग्रीन टी

सामग्री:

  • 1 ग्रीन टी बैग
  • 1 चम्मच एलोवेरा जेल
  • आधा कप पानी
  • रुई

इस्तेमाल का तरीका:

  • गर्म पामी में ग्रीन टी को कुछ देर तक भिगोकर रखें।
  • ठंडा होने पर पानी में एलोवेरा जेल मिलाएं।
  • फिर रुई की मदद से इस मिश्रण को चेहरे पर अच्छी तरह से लगा लें।

कैसे है लाभकारी:

एलोवेरा और ग्रीन टी का मिश्रण चेहरे के लिए बेहद फायदेमंद माना जाता है। दरअसल, एक शोध में साफ तौर से जिक्र मिलता है कि एलोवेरा में एंटी-एक्ने प्रभाव होता है, जो मुंहासों की समस्या से राहत दिलाने में कफी हद तक लाभकारी हो सकता है। इसके अलावा, इसमें मौजूद एंटीसेप्टिक गुण त्वचा को बैक्टीरिया से बचाने का काम कर सकता है (11)। इसलिए, माना जाता है कि ग्रीन टी और एलोवेरा से तैयार यह मिश्रण मुंहासों से छुटकारा दिला सकता है।

कब उपयोग करें:

  • सप्ताह मे दो बार एलोवेरा और ग्रीन टी के मिश्रण का इस्तेमाल किया जा सकता है।

6 नींबू और ग्रीन टी:

सामग्री:

  • 1/4 कप ग्रीन टी
  • एक चम्मच नींबू का रस
  • रुई

इस्तेमाल का तरीका:

  • एक कटोरी में ग्रीन टी और नींबू का रस मिलाएं।
  • दोनों सामग्रियों का मिश्रण बनाकर फ्रिज में स्टोर कर लें।
  • फेसवॉश से चेहरे को अच्छे से साफ करें।
  • चेहरे को तौलिए से हल्के हाथों से पोंछें।
  • रूई की मदद से ग्रीन टी और नींबू के मिश्रण को पूरे चेहरे पर लगाएं।
  • इस पैक को चेहरे पर 10 मिनट तक लगा रहने दें।
  • 10 मिनट बाद ठंडे पानी से चेहरे को साफ कर लें।

कैसे है लाभकारी:

ग्रीन टी और नींबू का मिश्रण भी मुंहासों की समस्या को दूर करने में सहायता कर सकता है। दरअसल, नींबू के रस में भी एंटी-बैक्टीरियल गतिविधि मौजूद होती है। यह त्वचा को बैक्टीरियल संक्रमण से बचाने का काम कर सकती है (12)। इस आधार पर ग्रीन टी और नींबू का इस्तेमाल पिंपल की समस्या के लिए बेहद कारगर माना जा सकता है।

कब उपयोग करें:

  • इस फेस पैक को हफ्ते में करीब 2 बार इस्तेमाल किया जा सकता है।

7- जैतून का तेल और ग्रीन टी

सामग्री:

  • 1 चम्मच शहद
  • 1 छोटी चम्मच ऑलिव ऑयल
  • ग्रीन टी बैग

इस्तेमाल का तरीका:

  • शहद और ऑलिव ऑयल को मिलाकर गुनगुना करें।
  • इसके बाद इसमें ग्रीन टी बैग को काटकर डाल दें।
  • गैस की आंच बंद कर दें।
  • तैयार मिश्रण को ठंडा होने दें।
  • इसके बाद चेहरे पर हल्के हाथ से मसाज करते हुए इसे लगाएं।

कैसे है लाभकारी:

ग्रीन टी और शहद के फायदों के बारे में लेख में ऊपर जानकारी दी गई है। वहीं, ऑलिव ऑयल हमारी त्वचा के लिए बेहद फायदेमंद होता है। एनसीबीआई (नेशनल सेंटर फॉर बायोटेक्नोलॉजी इंफॉर्मेशन) द्वारा पब्लिश रिसर्च के मुताबिक, जैतून के तेल में मौजूद फेमोलिक कंपाउंड एंटी-बैक्टीरियल प्रभाव दिखाता है (13)। वहीं, मुंहासे होने का एक मुख्य कारण बैक्टीरिया भी है (14)। ऐसे में ग्रीन टी के साथ ऑलिव ऑयल का इस्तेमाल मुंहासों को दूर करने में लाभकारी हो सकता है।

कब उपयोग करें:

  • इस फेस पैक को एक-एक दिन के गैप के बाद उपयोग किया जा सकता है।

नीचे स्क्रॉल करें

लेख के अंतिम भाग में जानिए ग्रीन टी से होने वाले नुकसान।

मुंहासों के लिए ग्रीन टी का उपयोग करने से जुड़ी सावधानी

मुंहासों का इलाज करने के लिए ग्रीन टी फेस मास्क के उपयोग करने से पहले आपको कुछ सावधानियां बरतने की आवश्यकता है। एतिहात न बरतने पर मुंहासे सही होने की बजाय और बढ़ भी सकते हैं। इसलिए ग्रीन टी फेस मास्क का उपयोग करते वक्त नीचे दी गई बातों का विशेष ध्यान रखें।

  • ग्रीन टी फेस मास्क तैयार करने के लिए हमेशा अच्छी क्वालिटी की ग्रीन टी का उपयोग करें।
  • ग्रीन टी खरीदते समय एक्सपायरी डेट जरूर चेक करें।
  • लेख में दिए गए ग्रीन टी के अलग-अलग फेस पैक का चेहरे पर इस्तेमाल करने से पहले पैच टेस्ट जरूर करें।
  • कोई ऐसी सामग्री जो फेसपैक में मौजूद है, जिससे आपको एलर्जी है, तो उस फेसपैक का इस्तेमाल त्वचा पर ना करें। परीक्षण कोहनी के पीछे किया जा सकता है।
  • चेहरे पर फेस मास्क लगाते समय साफ कॉटन बॉल (रुई) का इस्तेमाल करें।
  • फेस मास्क को हल्के हाथों से लगाएं। स्किन पर किसी भी तरह का दबाव न बनाएं।
  • किसी तरह का कट या घाव स्किन पर हो, तो नीबूं का इस्तेमाल भूलकर भी न करें। यह घाव को गहरा कर सकता है।

मुंहासों से राहत पाने के लिए ग्रीन टी का इस्तेमाल किस तरह करना है, इस बात से आप अच्छे से वाकिफ हो गए होंगे। याद रखें, लेख में दिए गए ग्रीन टी फेस मास्क का चयन अपनी त्वचा की जरूरत के अनुरूप ही करें। ये फेस मास्क हर किसी को फायदा करे, यह संभव नहीं है। संवेदनशील त्वचा वाले लोग पैच टेस्ट के बाद इस फेस मास्क को उपयोग में लाएं। उम्मीद करते हैं आपको हमारा यह लेख पसंद आया होगा। यदि आपका कोई दोस्त या करीबी मुंहासों से परेशान है, तो उनके साथ ये लेख साझा करने न भूलें।

अक्सर पूछे जाने वाले सवाल:

ग्रीन टी से मुंहासों का इलाज करने में कितना वक्त लगता है?

मुंहासों को कम करने के लिए ग्रीन टी को कारगर माना जाता है, लेकिन हर व्यक्ति पर इसका असर अलग तरीके से हो सकता है। कुछ लोगों में इसका असर जल्दी नजर आ सकता है। वहीं, कुछ लोगों में इसका असर नजर आने में समय लग सकता है। इसलिए, ऐसा स्पष्ट रूप से नहीं कहा जा सकता है कि ग्रीन टी से कितने समय में मुंहासों का इलाज हो सकता है।

आपको मुंहासों पर कितनी बार ग्रीन टी का उपयोग करना चाहिए?

दिन में एक बार ग्रीन टी का इस्तेमाल मुंहासों पर किया जा सकता है।

क्या ग्रीन टी को सीधे अपनी स्किन पर लगा सकते हैं?

हां, त्वचा पर सीधे ग्रीन टी का इस्तेमाल किया जा सकता है। बस अधिक संवेदनशील त्वचा वालों को इसे लगाने से पहले पैच टेस्ट जरूर करना चाहिए।

क्या ग्रीन टी रातों-रात पिंपल्स को दूर कर सकती है?

नहीं, रातों-रात पिंपल्स से छुटकारा नहीं पाया जा सकता है। नियमित रूप से ग्रीन टी का इस्तेमाल पिंपल्स से राहत दिलाने में मदद कर सकता है।

क्या ग्रीन टी से चेहरे पर पिंपल्स हो सकते हैं?

ग्रीन टी से चेहरे पर पिंपल्स नहीं होते हैं, बल्कि यह पिंपल्स को कम करने में मदद कर सकती है। इस बारे में विस्तार से ऊपर लेख में जानकारी दी गई है।

14 Sources

Articles on StyleCraze are backed by verified information from peer-reviewed and academic research papers, reputed organizations, research institutions, and medical associations to ensure accuracy and relevance. Read our editorial policy to learn more.

  1. Green Tea and Other Tea Polyphenols: Effects on Sebum Production and Acne Vulgaris
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC5384166/#sec5-antioxidants-06-00002title
  2. Study of psychological stress sebum production and acne vulgaris in adolescents
    https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/17340019/
  3. Antibacterial activities of green tea crude extracts and synergistic effects of epigallocatechingallate (EGCG) with gentamicin against MDR pathogens
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC6658803/
  4. Epigallocatechin-3-Gallate Improves Acne in Humans by Modulating Intracellular Molecular Targets and Inhibiting P. acnes
    https://www.sciencedirect.com/science/article/pii/S0022202X1536111X
  5. Pharmacological Effects of Rosa Damascena
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC3586833/
  6. Formulation and evaluation of herbal face mist
    http://www.jipbs.com/VolumeArticles/FullTextPDF/471_JIPBSV7I102.pdf
  7. Medicinal and cosmetic uses of Bee’s Honey – A review
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC3611628/
  8. Antimicrobial activity of apple cider vinegar against Escherichia coli Staphylococcus aureus and Candida albicans; downregulating cytokine and microbial protein expression
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC5788933/
  9. Tea tree oil gel for mild to moderate acne; a 12 week uncontrolled
    open-label phase II pilot study
  10. Development and Preliminary Cosmetic Potential Evaluation of Melaleuca alternifolia cheel (Myrtaceae) Oil and Resveratrol for Oily Skin
    https://clinmedjournals.org/articles/ijdrt/journal-of-dermatology-research-and-therapy-ijdrt-2-032.php?jid=ijdrt
  11. ALOE VERA: A SHORT REVIEW
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC2763764/
  12. ANTIBACTERIAL ACTIVITY OF Citrus limon ON Acnevulgaris ( PIMPLES ) SHINKAFI
    https://www.semanticscholar.org/paper/ANTIBACTERIAL-ACTIVITY-OF-Citrus-limon-ON-%28-PIMPLES-Pimples/74f374e7aa23dd53e4660323a31d858c97fafa39?p2df
  13. Antibacterial Activity of Three Extra Virgin Olive Oils of the Campania Region Southern Italy Related to Their Polyphenol Content and Composition
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC6780878/
  14. Acne
    https://medlineplus.gov/ency/article/000873.htm
Was this article helpful?
The following two tabs change content below.

ताज़े आलेख