अकरकरा के 10 फायदे, उपयोग और नुकसान – Akarkara (Anacyclus pyrethrum) Benefits, Uses and Side Effects in Hindi

Written by , MA (Journalism & Media Communication) Puja Kumari MA (Journalism & Media Communication)
 • 
 

विश्वभर में कई ऐसी जड़ी-बूटियां हैं, जो शरीर के लिए फायदेमंद मानी गई हैं। इनमें अश्वगंधा, अर्जुन की छाल और मुलेठी जैसे नाम शामिल हैं। वहीं, एक और जड़ी-बूटी है, जिसे शरीर के लिए फायदेमंद माना गया है। इस जड़ी-बूटी का नाम है अकरकरा। यह कई औषधीय गुणों से समृद्ध होता है, जिस वजह से इसे सेहतमंद माना जाता है। यह किस तरह से स्वास्थ्य लाभ पहुंचा सकता है और शारीरिक समस्याओं से बचाने में मदद कर सकता है, यह हम स्टाइलक्रेज के इस लेख में विस्तार से बता रहे हैं। यहां अकरकरा के फायदे के साथ ही इसके उपयोग, सावधानियों और खुराक के बारे में भी विस्तृत जानकारी मिलेगी।

स्क्रॉल करें

लेख के शुरुआती हिस्से में हम अकरकरा क्या होता है, यह बता रहे हैं।

अकरकरा क्या होता है?

अकरकरा बारहमासी जड़ी-बूटी है, जो हिमालयी क्षेत्र में पाई जाती है। इसका वैज्ञानिक नाम एनासाइक्लस पायरेथ्रम (Anacyclus Pyrethrum) है। इस पौधे की जड़ें थोड़ी सुगंधित और स्वाद में तीखी होती हैं। अकरकरा के पौधे और जड़ को इसमें मौजूद औषधीय गुणों के लिए जाना जाता है। पौधे के अन्य भागों से अधिक इसकी जड़ का इस्तेमाल किया जाता है। यह जड़ कई तरह की आयुर्वेदिक दवा बनाने में काम आती है। यह शरीर के लिए किस प्रकार फायदेमंद हो सकता है, यह जानकारी हम आगे बता रहे हैं।

महत्वपूर्ण जानकारी नीचे है

आगे जानते हैंअकरकरा पाउडर के लाभ के बारे में।

अकरकरा के फायदे – Benefits of Akarkara in Hindi

अकरकरा के फायदे कई हो सकते हैं, जिसके बारे में हम नीचे विस्तार से बता रहे हैं। बस ध्यान दें कि अकरकरा किसी गंभीर बीमारी का इलाज नहीं, बल्कि समस्या के प्रभाव को कम करने में वैकल्पिक रूप से मददगार हो सकता है।

1. अपच

अकरकरा के फायदे में अपच को ठीक करना भी शामिल है। कहा जाता है कि अकरकरा पाचन को बेहतर करने में मदद कर सकता है। एक स्टडी के मुताबिक अकरकरा की जड़ें लार और अन्य डाइजेस्टिव जूस के स्राव को उत्तेजित कर पाचन में मदद कर सकती हैं। साथ ही यह पेट की गैस से भी राहत दिला सकता है (1)

2. अर्थराइटिस

गठिया से भी राहत दिलाने में अकरकरा चूर्ण मदद कर सकता है। इसका कारण है अकरकरा में मौजूद  एंटीअर्थरिटिक (antiarthritic) प्रभाव (2)। बताया जाता है कि यह ब्लड सर्कुलेशन को बेहतर करके गठिया के लक्षण को कम कर सकता है (1)। वहीं, एक अन्य शोध में अकरकरा के एंटी-इंफ्लेमेटरी और एंटीनॉसिसेप्टिव गुणों के बारे में पता चलता है, जो गठिया से होने वाली सूजन और दर्द को कम करने में मदद कर सकते हैं(3)

3. पैरालिसिस (Paralysis)

दुनियाभर में पैरालिसिस से बचाव के लिए अकरकरा का इस्तेमाल सालों से किया जाता रहा है (4) दरअसल, अकरकरा मैस्टिकेटरी (भोजन चबाने वाली प्रक्रिया) को सक्रिय कर सकता है, जिसे जीभ और गले की मांसपेशियों के पैरालिसिस में लाभकारी माना जाता है (5)। इसे पैरालिसिस के लिए टोनिक माना जाता है (6)

4. बुखार के लिए

बुखार में भी अकरकरा चूर्ण फायदेमंद हो सकता है (6)एक शोध में कहा गया है कि सालों से टाइफस बुखार (बैक्टीरियल इंफेक्शन की वजह से होने वाला) में अकरकरा का इस्तेमाल किया जा सकता है (7)। दरअसल, इसमें एंटी-वायरल और एंटी-बैक्टीरियल प्रभाव होते हैं, जिस वजह से यह बुखार कम करने के तरीके के रूप में काम कर सकता है। इसी वजह से हल्के बुखार में अकरकरा के सेवन की सलाह दी जा सकती है (1)

5. याददाश्त को बढ़ाने के लिए

अकरकरा में मेमोरी बढ़ाने वाली गतिविधि होती है। इसी वजह से इसका इस्तेमाल याददाश्त बढ़ाने के लिए किया जा सकता है (1)। दरअसल, अकरकरा का इथेनॉलिक अर्क मस्तिष्क के कोलिनेस्टरेज (Cholinesterase) के स्तर में वृद्धि करके स्मृति में सुधार कर सकता है (8)। कोलिनेस्टरेज एक प्रकार का एंजाइम होता है, जो सेंट्रल नर्वस सिस्टम, नर्वस टिश्यू, मांसपेशियों व रेड सेल्स में पाया जाता है।

जारी रखें पढ़ना

6. हिचकी

हिचकी को कम करने में भी अकरकरा चूर्ण का इस्तेमाल किया जा सकता है (9)। हिचकी आने पर आधा चम्मच अकरकरा चूर्ण और शहद का मिश्रण फायदा पहुंचा सकता है। फिहलाह, वैज्ञानिक शोध में यह बात स्पष्ट नहीं है कि अकरकरा का कौन-सा गुण हिचकी को रोकने में सहायक होता है।

7. दांतों के लिए

दांतों को समस्याओं से दूर रखने के लिए भी इस आयुर्वेदिक जड़ी-बूटी अकरकरा का इस्तेमाल किया जा सकता है। अकरकरा में सियालगॉग (लार बनाने वाला) प्रभाव होता है, जो दांत दर्द से आराम दिला सकता है (1)। यह डेंटल केरिज, दांतों का ढीलापन और पायरिया से राहत दिलाने में भी मदद कर सकता है (9)। इसी वजह से हर्बल टूथपेस्ट में भी अकरकरा चूर्ण का इस्तेमाल किया जा सकता है (10)

8. हल्के चक्कर और सुस्ती को दूर करने के लिए

हल्के चक्कर आना और सुस्ती से परेशान हैं, तो अकरकरा का सेवन किया जा सकता है। लोक मान्यता है कि सुस्ती दूर करने और हल्के चक्कर आने की समस्या से निजात पाने के लिए शहद में थोड़ा अकरकरा चूर्ण मिलाकर खा सकते हैं। फिलहाल, इस संबंध में कोई सटीक और स्पष्ट शोध उपलब्ध नहीं है।  

9. मासिक धर्म की समस्या

अकरकरा अनियमित और देरी से होने वाली महावारी की समस्या को कम कर सकता है। साथ ही रुके हुए मासिक धर्म को भी ठीक करने में सहायक माना जाता है। दरअसल, अकरकरा एम्मेनागॉग (Emmenagogue) की तरह कार्य करता है, जो मेंस्ट्रुअल फ्लो को बढ़ाने का काम कर सकता है(1)।10. यौन स्वास्थ्य
पारंपरिक रूप से अकरकरा का इस्तेमाल बेहतर यौन स्वास्थ्य के लिए भी किया जा सकता है। कहा जाता है कि अकरकरा कामोत्तेजक (Aphrodisiac) की तरह कार्य कर सकता है। यह कामेच्छा को बढ़ाने और इजेकुलेशन (वीर्य स्खलन) को धीमा कर सकता है (1)। वहीं, एक महीने तक पानी के साथ इसका सेवन करने पर यह लिबिडो यानी कामेच्छा बढ़ाने वाला प्रभाव दिखा सकता है। साथ ही यह पुरुष की प्रजनन क्षमता को भी बढ़ाने में सहायक हो सकता है (1)

पढ़ते रहें

अकरकरा पाउडर के लाभ के बाद लेख के अगले भाग में हम अकरकरा के उपयोग के बारे में बता रहे हैं।

अकरकरा का उपयोग – How to Use Akarkara in Hindi

अकरकरा के फायदे जानने के बाद इसके उपयोग से जुड़ी जानकारी का होना भी जरूरी है। इसी वजह से नीचे हम अकरकरा के उपयोग के बारे में बता रहे हैं।

  • अकरकरा का उपयोग पाउडर और चूर्ण के रूप में पानी के साथ किया जा सकता है
  • इसके पाउडर व चूर्ण को शहद के साथ सेवन कर सकते हैं।
  • अकरकरा की जड़ का सीधे सेवन भी किया जा सकता है।
  • मार्केट में अकरकरा की कैप्सूल भी उपलब्ध है, उनका भी सेवन डॉक्टरी परामर्श पर किया जा सकता है।
  • अकरकरा के पाउडर से मसूड़ों की मसाज भी की जा सकती है।

आगे है और जानकारी

अब अकरकरा से संबंधित सावधानियों पर एक नजर डाल लेते हैं।

अकरकरा लेने से पहले की सावधानियां

अकरकरा पाउडर के लाभ माना कई हैं, लेकिन इसके सेवन से पहले कुछ बातों का खास ख्याल रखा जाना चाहिए। क्या हैं अकरकरा से जुड़ी सावधानियां नीचे जानें –

  • अकरकरा का सेवन संयमित मात्रा में करना चाहिए। ज्यादा सेवन से अकरकरा के नुकसान हो सकते हैं।
  • अकरकरा में ड्यूरेटिक प्रभाव होता है, जिस की वजह से बार-बार पेशाब आ सकता है (1)
  • इसके सेवन से कुछ लोगों को एलर्जी का खतरा भी हो सकता है। इसी वजह से पहले थोड़ी मात्रा में ही खाए, जिससे यह पता चल सके कि इससे एलर्जी होती है या नहीं।

बने रहें हमारे साथ

आगे हम अकरकरा की सुरक्षित खुराक के बारे में जानकारी दे रहे हैं।

अकरकरा की खुराक

एनासाइक्लस पायरेथ्रम का सेवन 175 mg और 550 mg प्रति किलो वजन को सुरक्षित मात्रा बताया गया है। वहीं, अकरकरा की अधिकतम खुराक 2000 mg प्रति किलो वजन भी सेवन के लिए सुरक्षित मानी गई है। व्यक्ति अपने शरीर की जरूरत के अनुसार इसका सेवन ऊपर बताई गई मात्रा या फिर इनके बीच की मात्रा में कर सकता है (1)। इसके अलावा, इस विषय में डॉक्टरी परामर्श भी लिया जा सकता है।

विस्तार से पढ़ें

चलिए, अब अकरकरा खाने के नुकसान के बारे में जान लेते हैं।

अकरकरा के नुकसान – Side Effects of Akarkara in Hindi

अकरकरा के फायदे और नुकसान दोनों हो सकते हैं। नीचे हम अकरकरा के नुकसान के बारे में बता रहे हैं, जो इसके अधिक सेवन के कारण हो सकते हैं(1)

  • गर्भावस्था में इसका सेवन सुरक्षित है या नहीं यह स्पष्ट नहीं है। इसी वजह से प्रेगनेंसी में इसके सेवन की सलाह नहीं दी जा सकती है।
  • ड्यूरेटिक प्रभाव की वजह से अकरकरा का सेवन रात में न किया जाए, तो बेहतर होगा। अन्यथा रात भर पेशाब के लिए उठना पड़ेगा और नींद पूरी नहीं हो पाएगी।
  • जैसा कि हम ऊपर बता ही चुके हैं कि अकरकरा लार अधिक बना सकता है, तो रात के समय सेवन करने से मुंह से लार छूट सकती है
  • हम पहले भी बता चुके हैं कि यह मेंस्ट्रुअल फ्लो को बढ़ा सकता है। इसी वजह से पीरियड्स के दौरान इसके सेवन से बचाना चाहिए। अन्यथा अधिक ब्लड लॉस हो सकता है।

अकरकरा के बारे में आप विस्तार से जान चुके हैं। इसके इस्तेमाल से जुड़ी सावधानियों को ध्यान में रखकर ही इसका उपयोग करें। साथ ही अकरकरा के उपयोग के तरीके पर एक नजर डालकर ही इसका इस्तेमाल करना बेहतर होगा। भले ही इसके नुकसान गंभीर नहीं हैं, लेकिन इसके सेवन से पहले इसकी मात्रा पर खास ध्यान दें। किसी भी जड़ी-बूटी का फायदा उसका संयमित मात्रा में सेवन करने से ही मिलता है।

References

Articles on StyleCraze are backed by verified information from peer-reviewed and academic research papers, reputed organizations, research institutions, and medical associations to ensure accuracy and relevance. Read our editorial policy to learn more.

  1. Pharmacognostic and phytopharmacology study of Anacyclus pyrethrum: An insight
    https://www.japsonline.com/admin/php/uploads/1818_pdf.pdf
  2. Antimicrobial Activity and Chemical Composition Screening of Anacyclus pyrethrum Root
    https://www.ijper.org/sites/default/files/Doi%20-%20article%20id%2010.5530ijper.51.3s.22.pdf
  3. Anti-inflammatory, Antinociceptive, and Antioxidant Activities of Methanol and Aqueous Extracts of Anacyclus pyrethrum Roots
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC5591861/
  4. In vitro study on α-amylase inhibitory activity of an Ayurvedic medicinal plant, Anacyclus pyrethrum DC root
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC4071720/
  5. Evaluation of the Anabolic, Aphrodisiac and Reproductive Activity of Anacyclus Pyrethrum DC in Male Rats
    http://www.royanaward.com/files12/vikas%20sci.pdf
  6. Pharmacogostical Studies On The Root Of Anacyclus Pyrethrum Dc
    http://nopr.niscair.res.in/bitstream/123456789/15564/1/IJNPR%203(4)%20518-526.pdf
  7. Aqarqarha (Anacyclus Pyrethrum Dc.) A Potent Drug In Unani Medicine:A Review On Its Historical And Phyto-pharmacological Perspective
    http://jpsionline.com/admin/php/uploads/524_pdf.pdf
  8. Memory-enhancing activity of Anacyclus pyrethrum in albino Wistar rats
    https://www.sciencedirect.com/science/article/abs/pii/S222218081260067X
  9. Aqer Qerha (Anacyclus Pyrethrum Dc.) A Nobel Drug Of Unani System Of Medicine-a Review
    https://ijpjournal.com/bft-article/aqer-qerha-anacyclus-pyrethrum-dc-a-nobel-drug-of-unani-system-of-medicine-a-review/?view=fulltext
  10. Comparative studies between herbal toothpaste (dantkanti) and non-herbal tooth paste
    https://www.sciencepubco.com/index.php/IJDR/article/view/6633
Was this article helpful?
thumbsupthumbsdown
Puja Kumari

Puja Kumariहेल्थ एंड वेलनेस राइटर

पुजा कुमारी ने बनारस हिंदू यूनिवर्सिटी से जर्नलिज्म एंड मास कम्युनिकेशन में एमए किया है। इन्होंने वर्ष 2015 में अपने करियर की शुरुआत न्यूज आधारित वेब पोर्टल से की थी। अब तक इनके 2 हजार से भी ज्यादा आर्टिकल प्रकाशित हो चुके हैं। पुजा को विभिन्न विषयों पर लेख लिखना पसंद है, लेकिन इनका सबसे ज्यादा पसंदीदा विषय घर की...read full bio

ताज़े आलेख