सामग्री और उपयोग

अमरूद के फायदे, उपयोग और नुकसान – Guava (Amrud) Benefits, Uses and Side Effects in Hindi

by
अमरूद के फायदे, उपयोग और नुकसान – Guava (Amrud) Benefits, Uses and Side Effects in Hindi Hyderabd040-395603080 July 18, 2019

इस अति व्यस्त लाइफ में खुद की सेहत का ध्यान रखना बहुत जरूरी है। ऐसे में ताजा सब्जियों के साथ-साथ अपने आहार में ताजे फलों को भी शामिल करें। जब बात आती है फलों की, तो सेब, अनार, आम व अंगूर की बात हर कोई करता है, लेकिन अमरूद जैसे गुणकारी फल का जिक्र कम ही होता है। यह भारत में आसानी से पाया जाने वाला सामान्य फल है। अमरूद के गुण अनेक हैं और शायद कई लोग अमरूद को सिर्फ इसलिए खाते हैं, क्योंकि यह स्वादिष्ट है, लेकिन इसके फायदों से अनजान हैं।

इस लेख में हम न सिर्फ अमरूद के औषधीय गुण बताएंगे, बल्कि अमरूद के फायदे भी बताएंगे। सिर्फ अमरूद ही नहीं, बल्कि अमरूद के पत्ते भी बहुत लाभकारी हैं। इससे पहले कि आप अमरूद के फायदे और अमरूद के औषधीय गुण जानें, आपको अमरूद से जुड़ी कुछ रोचक जानकारियों के बारे में पता होना जरूरी है।

अमरूद के बारे में जानें कुछ और बातें

अमरूद का वैज्ञानिक नाम सिडियम गुआवा (Psidium guajava) है। कई लोगों का मानना है कि एक अमरूद को कभी बांटना नहीं चाहिए। अगर कोई व्यक्ति एक अमरूद खा रहा है, तो उसे पूरा खाना दें। ऐसा माना जाता है कि पूरे अमरूद में एक बीज ऐसा होता है, जो इम्युनिटी सिस्टम को बेहतर करता है और सर्दी -जुकाम से बचाता है। हालांकि, अमरूद से इम्युनिटी सिस्टम बेहतर होने की बात तो ठीक है, लेकिन बीज वाली बात का कोई वैज्ञानिक आधार नहीं है।

अमरूद कई तरह के होते हैं, जैसे – अमरूद सेब (apple guava), इलाहाबादी सफेदा अमरूद, लाल गूदेवाला, चित्तीदार आदि। सिर्फ किस्में ही नहीं, बल्कि अमरूद के अलग-अलग भाषा में नाम भी अलग-अलग हैं, जैसे – अंग्रेजी में गुआवा (guava), बंगाली में पेयारा व मराठी में पेरू आदि। अब वक्त है अमरूद के फायदे जानने का।

अमरूद के फायदे – Benefits of Guava in Hindi

अमरूद के औषधीय गुण कई हैं, जैसे – पेट को ठीक रखता है, सर्दी-जुकाम के लिए, सिरदर्द, दांत दर्द और ऐसे कई अन्य गुण मौजूद हैं। इसमें विटामिन, प्रोटीन, आयरन, फोलेट व कैल्शियम जैसे कई पोषक तत्व मौजूद हैं। अमरूद के फायदे के बारे में हम आपको आगे विस्तार से जानकारी देंगे।

1. मधुमेह के लिए अमरूद के फायदे

Diabetes ke Liye Amrud Pinit

Shutterstock

आजकल मधुमेह यानी डायबिटीज बहुत सामान्य बीमारी बन चुकी है। बिना छिलके वाला अमरूद ब्लड शुगर को कम करने में मदद करता है (1)। साथ ही अमरूद का एंटी-डायबिटिक और एंटी-हायपरलिपिडेमिक (anti-hyperlipidemic) प्रभाव टाइप-2 डायबिटीज को कम करने में मदद कर सकता है (2)। अमरूद सिर्फ डायबिटीज ही नहीं, बल्कि अन्य कई गंभीर बीमारियों के इलाज में भी काफी फायदेमंद साबित हो सकता है (3)। अमरूद के पत्ते में मौजूद एंटी-हाइपरग्लिसमिक (Anti-hyperglycemic) और एंटी-हायपरलिपिडेमिक (anti-hyperlipidemic) प्रभाव से भी डायबिटीज में सुधार हो सकता है। भोजन के साथ अमरूद लीफ टी के लगातार सेवन से पूर्व-मधुमेह और मधुमेह के रोगियों को एक एलिमोथेरेपी के रूप में लाभ होने की उम्मीद है (4)। इसलिए, अगर आपको मधुमेह है या आप मधुमेह से बचना चाहते हैं, तो नियमित तौर पर अपने डाइट में अमरूद को शामिल करें।

2. कैंसर से बचाव के लिए अमरूद के फायदे

अमरूद स्तन और प्रोस्टेट कैंसर के उपचार में मददगार साबित हो सकता है। एंटीऑक्सीडेंट लाइकोपीन (lycopene) और विटामिन-सी उन मुक्त कणों से लड़ते हैं, जो कैंसर का कारण बन सकते हैं। एंटीऑक्सीडेंट कैंसर कोशिकाओं के प्रसार को भी रोक सकते हैं (5)। एंटीऑक्सीडेंट के अलावा, अमरूद में फाइबर भी होता है, जो बवासीर और पेट के कैंसर को रोकता है। सिर्फ अमरूद ही नहीं, बल्कि अमरूद की पत्तियां भी मददगार हो सकती हैं। अध्ययनों के अनुसार अमरूद के पत्तों से निकला अर्क भी कैंसर जैसी घातक बीमारी से बचाव कर सकता है (6)।

3. वजन कम करने के लिए अमरूद के फायदे

Weight Loss ke Liye Amrud Pinit

Shutterstock

वजन घटाने के लिए फलों का सेवन जरूर करना चाहिए। जब फल की बात आए, तो अमरूद को न भूलें। बेशक, अभी कोई ठोस प्रमाण नहीं है कि अमरूद वजन घटाने में मदद करता है, लेकिन अनुमान है कि इसमें मौजूद फाइबर कंटेंट की वजह से यह वजन कम कर सकता है। साथ ही यह भी माना जाता है कि इसमें अन्य खाद्य पदार्थों की तुलना में कैलोरी कम है, इसलिए भी यह वजन कम करने में मदद कर सकता है।

4. सही पाचन शक्ति के लिए अमरूद के फायदे

अमरूद आपके पाचन तंत्र को सुधारने में मदद कर सकता है। अमरूद में फाइबर की मात्रा अधिक होती है, जिस कारण यह दस्त, अपच, गैस व पेट की अन्य परेशानियों में आराम दिलाने में मदद कर सकता है (7)। एक सर्वेक्षण के अनुसार, अमरूद में मौजूद एंटी-माइक्रोबियल (antimicrobial) और एंटी-पास्मोडिक (antispasmodic) गुण दस्त के उपचार में फायदेमंद साबित हो सकते हैं। इस मामले में अमरूद की पत्तियां भी लाभकारी हैं (8)। अमरूद के रोगाणुरोधी गुण आंत के रोगाणुओं से भी लड़ सकते हैं और दस्त को रोकने में मदद कर सकते हैं (9)। ऐसा भी माना जाता है कि अमरूद के पत्ते मिचली और उल्टी की परेशानी में भी राहत दिलाते हैं।

5. रोग प्रतिरोधक क्षमता के लिए अमरूद के फायदे

Immunity ke Liye Amrud Pinit

Shutterstock

विटामिन-सी प्रतिरक्षा प्रणाली को बेहतर करने और रोग पैदा करने वाले रोगजनकों से लड़ने में मदद कर सकता है (10)। ऐसे में अमरूद का सेवन आपकी रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने में मदद करेगा, क्योंकि यह विटामिन-सी से भरपूर है। विटामिन-सी आपके शरीर की कोशिकाओं को नुकसान से बचाता है और कई तरह की बीमारियों से आपके शरीर की रक्षा करता है (11) (12)। बस ध्यान रहे कि फल पका हुआ हो, क्योंकि पके हुए फल में सबसे ज्यादा विटामिन-सी होता है।

6. दिल के लिए अमरूद के फायदे

अमरूद में भरपूर मात्रा में फाइबर होता है। फाइबर खराब कोलेस्ट्रॉल, जो दिल की बीमारी का कारण बन सकता है, उसे कम करता है और अन्य कई तरह की दिल की बीमारियों से बचाव कर सकता है (13)। फलों में उच्च पोटैशियम का स्तर भी दिल को स्वस्थ रखने में मदद कर सकता है और ब्लड प्रेशर को संतुलित करता है (14)। अमरूद के पत्तों में मौजूद पोलीसेकेराइड (एक प्रकार का कार्बोहाइड्रेट) एंटीऑक्सीडेंट के रूप में कार्य करता है और ऑक्सिडेटिव स्ट्रेस से लड़ने में मदद करता है (15)। ऑक्सिडेटिव स्ट्रेस शरीर को काफी क्षति पहुंचा सकता है और दिल भी इसकी चपेट में आ सकता है। इसके अलावा, अगर अमरूद के पत्तों को चाय के रूप में उपयोग किया जाए, तो ये एथेरोस्क्लेरोसिस (atherosclerosis) को भी रोक सकते हैं (16) (17)।

7. आंखों के लिए अमरूद के फायदे

Eyes ke Liye Amrud Pinit

Shutterstock

आजकल छोटी उम्र से ही बच्चों की आंखें कमजोर होने लगती हैं। ज्यादा टीवी देखना, देर तक पढ़ाई करना, कम रोशनी में पढ़ना, बढ़ती उम्र और कई बार पौष्टिक आहार की कमी, इस समस्या का कारण बन जाती है। विटामिन्स, मिनरल्स व कैल्शियम की कमी से मोतियाबिंद और कई अन्य तरह की आंखों की बीमारी हो सकती है। आप अपने आहार में अमरूद को भी शामिल करें। इसमें मौजूद विटामिन-ए आंखों की रोशनी को बढ़ाने में मदद करेगा। साथ ही इस फल में विटामिन-सी की भरपूर मात्रा भी आंखों की रोशनी को तेज करने में मदद कर सकती है (18)।

8. गर्भावस्था में अमरूद के फायदे

गर्भावस्था में सूप, फलों का रस, फल और कई अन्य खाद्य पदार्थों का सेवन महिला के लिए जरूरी होता है। ऐसे में अगर गर्भवती महिला फलों में अमरूद का सेवन करेगी, तो यह उनके लिए बहुत लाभदायक होगा। अमरूद फोलेट का अच्छा स्रोत है (19), जो गर्भावस्था के दौरान काफी जरूरी है (20)। कई अध्ययनों से पता चलता है कि यह पोषक तत्व बच्चे में जन्म दोष को रोकता है – विशेष रूप से बच्चे के मस्तिष्क और रीढ़ की हड्डी से जुड़ी समस्याओं को। साथ ही यह मां और शिशु दोनों की आंखों की रोशनी बढ़ाने में मदद करता है, रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाता है, दिल को स्वस्थ रखता है और ऐसी ही कई और चीजों पर ध्यान देता है।

नोट: अगर आपको किसी भी चीज से जल्दी एलर्जी होती है या आपको अमरूद से या फलों के सेवन से एलर्जी है, तो एक बार अपने डॉक्टर से इस बारे में जरूर बात कर लें।

[ पढ़े: प्रेग्नेंसी (गर्भावस्था) में क्या खाना चाहिए और क्या नहीं खाना चाहिए ]

9. तनाव के लिए अमरूद के फायदे

Stress ke Liye Amrud Pinit

Shutterstock

मैग्नीशियम शरीर की नसों और मांसपेशियों को आराम देने के लिए जाना जाता है और तनाव को कम कर सकता है। अध्ययन यह भी सुझाव देते हैं कि मैग्नीशियम व्यक्तियों में चिंता को दूर करने में मदद कर सकता है (21)। आप मैग्नेशियम के लिए अमरूद का सेवन कर सकते हैं (19)। यह न सिर्फ शरीर को ठंडा रखेगा, बल्कि तनाव और चिंता के स्तर को भी काफी हद तक कम कर सकता है। इसलिए, अमरूद के मौसम में अपने पूरे दिन के आहार में कम से कम एक बार अमरूद को जरूर शामिल करें।

10. ब्लड प्रेशर के लिए अमरूद के फायदे

उच्च रक्तचाप यानी हाई ब्लड प्रेशर भी आम बीमारियों में से एक है। लगभग 5.7 करोड़ लोग उच्च रक्तचाप से पीड़ित हैं। डब्ल्यूएचओ (वर्ल्ड हेल्थ आर्गेनाईजेशन) के अनुसार, उच्च रक्तचाप के कारण दिल का दौरा पड़ने, आंखों की रोशनी कम होने और मौत तक होने की आशंका होती है (22)। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि आप उच्च रक्तचाप में अमरूद को अपने आहार में शामिल कर सकते हैं। अमरूद के मौसम में हर रोज या हर दूसरे दिन अमरूद को अपने डाइट में शामिल करें। अमरूद में पोटैशियम होता है और पोटैशियम की उच्च मात्रा दिल को स्वस्थ रखती है व ब्लड प्रेशर को भी कम करती है (14)। अमरूद में भी पोटैशियम होता है, जो हाई ब्लड प्रेशर को कम करने में मदद कर सकता है (23)।

11. थायराइड के लिए अमरूद के फायदे

Thyroid ke Liye Amrud Pinit

Shutterstock

थायराइड कोई बीमारी नहीं है, बल्कि सभी के गले में मौजूद ग्रंथि होती है, जो मेटाबॉलिज्म को सही रखती है और हम जो भी खाना खाते हैं, उसे एनर्जी में बदलती है। साथ ही यह ग्रंथि हार्मोन का भी निर्माण करती है। जब ये हॉर्मोन असंतुलित होते हैं, तो उसे थाइराइड कहते हैं (24)। आपको जानकर हैरानी होगी कि भारत में 4.2 करोड़ लोग थायराइड से ग्रस्त हैं (25)। थायराइड से बचने के लिए अपनी डाइट में हरी-सब्जियां, फल, जूस और अन्य सेहतमंद खाद्य पदार्थों का सेवन करें। फल की बात करें, तो अमरूद का सेवन थाइराइड में फायदेमंद है, क्योंकि अमरूद में कॉपर होता है और कॉपर थाइराइड में बहुत महत्वपूर्ण होता है (26)। कॉपर की कमी से थायराइड के साथ-साथ कई अन्य स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं भी हो सकती हैं। एक अध्ययन ने थायराइड रोग में पोषक तत्वों के स्तर का मूल्यांकन किया। परिणामों से पता चला है कि कॉपर, मैंगनीज, जिंक और सेलेनियम की कमी थायराइड में आम है (27)। इसलिए, अगर आप थायराइड से बचना चाहते हैं या आपको थायराइड है और आप उसे संतुलित रखना चाहते हैं, तो अमरूद के मौसम में इसका सेवन जरूर करें।

12. सर्दी-जुकाम के लिए अमरूद के फायदे

अमरूद के फायदे की लिस्ट में सर्दी-जुकाम को ठीक करना भी शामिल है। हालांकि, कई लोगों को यह अटपटा लग सकता है कि सर्दी-जुकाम में अमरूद कैसे खा सकते हैं, क्योंकि अमरूद की तासीर ठंडी होती है। फिर भी अगर आप खुद को सर्दी-जुकाम से बचाना चाहते हैं, तो अमरूद खा सकते हैं। आप कच्चे अमरूद को नमक या काले नमक के साथ खा सकते हैं। अमरूद में प्रचुर मात्रा में विटामिन-सी होता है (19) और विटामिन-सी सर्दी-जुकाम के जोखिम को कम कर सकता है। साथ ही विटामिन-सी रोग-प्रतिरोधक क्षमता को भी बढ़ाता है (28) (10)। इसलिए, अमरूद का सेवन जरूरी है, लेकिन ध्यान रहे कि आप अमरूद खाने के बाद पानी न पिएं।

13. कब्ज के लिए अमरूद के फायदे

Constipation ke Liye Amrud Pinit

Shutterstock

अमरूद में फाइबर होता है (19), जो पेट और पाचन संबंधी समस्याओं को काफी हद तक दूर करने में मदद कर सकता है। एक रिपोर्ट के अनुसार फाइबर गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल ट्रैक्ट (gastrointestinal tract) पर कई तरह से प्रभाव डाल सकता है। यह कब्ज को दूर करके पेट में हो रहे ऐंठन को भी ठीक करता है (29)। इसलिए, अभी तक अगर आपने अमरूद को अपनी डाइट में शामिल नहीं किया है, तो बिना देर करते हुए इस छोटे-से, लेकिन गुणकारी फल को अपनी डाइट में शामिल करें।

14. दिमागी विकास के लिए अमरूद के फायदे

अमरूद के गुण कई हैं। इसमें मौजूद विटामिन-सी मस्तिष्क के लिए बहुत जरूरी है। विटामिन-सी युक्त खाद्य पदार्थ खाने से उम्र के साथ होने वाली मानसिक समस्या और अल्जाइमर की बीमारी से बचा जा सकता है (30)। विटामिन-सी एक शक्तिशाली एंटीऑक्सीडेंट है, जो मस्तिष्क की कोशिकाओं को नुकसान पहुंचाने वाले मुक्त कणों से लड़ने में मदद करता है। उम्र के साथ-साथ यह आपके मस्तिष्क स्वास्थ्य की रक्षा करता है (31)।

15. अमरूद में पाए जाने वाले विटामिन्स

शरीर के लिए पौष्टिक तत्व जैसे – प्रोटीन, कैल्शियम व मिनरल्स बहुत जरूरी होते हैं और विटामिन भी उन्हीं में से एक हैं। शारीरिक विकास हो, वजन संतुलित रखना हो, रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ानी हो, त्वचा पर निखार लाना हो या बालों को बढ़ाना हो, हर लिहाज से विटामिन का सेवन जरूरी है। हरी सब्जियां, फल, मांस-मछली, ड्राई फ्रूट्स आदि विटामिन के मुख्य स्रोत हैं। इसी तरह अमरूद भी विटामिन से भरपूर फल है। अमरूद में विटामिन-ए, सी, के, डी, बी6 और बी12 पाया जाता है (19)।

  • विटामिन-ए आपकी आंखों के लिए, पेट के लिए, त्वचा के लिए व श्वसन तंत्र के लिए जरूरी है (32)।
  • विटामिन-सी रोग प्रतिरोधक क्षमता के लिए जरूरी होता है (33)।
  • विटामिन-के कैंसर से बचाव करता है। साथ ही हड्डियों को स्वस्थ बनाकर उन्हें टूटने से बचाता है और ह्रदय संबंधी बीमारी के खतरे को भी कम करता है (34)।
  • विटामिन-डी मांसपेशियों और हड्डियों को स्वस्थ बनाता है। साथ ही कैंसर, दिमाग संबंधित विकार, टाइप-2 डायबिटीज और अन्य कई बीमारियों से बचाव करता है (35)।
  • विटामिन-बी 6 दिमागी विकास के लिए जरूरी होता है, खासकर भ्रूण के दिमागी विकास के लिए। इसलिए, गर्भवती महिलाओं को विटामिन-बी6 की काफी जरूरत होती है (36)।
  • विटामिन-बी 12 की कमी से तंत्रिका संबंधी परेशानियां, हड्डियों की समस्या, सूजन व अन्य कई परेशानियां हो सकती है (37) (38)।

16. मासिक धर्म के दर्द के लिए अमरूद के फायदे

Menstrual Pain ke Liye Amrud Pinit

Shutterstock

मासिक धर्म या पीरियड्स हर महिला के लिए वो वक्त होता है, जिसमें उसे कई परेशानियों का सामना करना पड़ता है। मूड स्विंग्स, पेट दर्द, ऐंठन, सिरदर्द और ऐसी ही कई अन्य समस्याएं होती हैं, जिन्हें महिलाएं हर माह झेलती हैं। ऐसे में अमरूद का सेवन काफी फायदेमंद साबित हो सकता है। एक अध्ययन में पाया गया कि 197 महिलाएं, जिन्हें डिसमेनोरिया (dysmenorrhea) यानी पीरियड्स के दौरान दर्द की शिकायत थी, उन्हें हर रोज 6 मिलीग्राम अमरूद के अर्क वाली दवा का सेवन कराया गया (39), जिससे उन्हें फायदा हुआ। वहीं, एक अन्य दक्षिण अफ्रीकी अध्ययन में अमरूद की पत्तियों के अर्क से ऐंठन को दूर करने की पुष्टि की गई है (40)। ध्यान रहे कि दर्द से राहत पाने के लिए सिर्फ अमरूद का सेवन ही नहीं, बल्कि अच्छी डाइट और सही जीवनशैली भी जरूरी है।

17. स्वस्थ त्वचा के लिए अमरूद के फायदे

कौन नहीं चाहता कि उसकी त्वचा कोमल, बेदाग और निखरी हुई दिखे, लेकिन आजकल धूल-मिट्टी, प्रदूषण, धूप, तनाव और कई अन्य चीजें त्वचा की प्राकृतिक चमक को छीन लेती हैं। इसी का नतीजा होता है रूखी व बेजान त्वचा। आपकी त्वचा आपके खान-पान का आइना होती है, इसलिए खान-पान में सुधार करें। त्वचा में निखार लाने के लिए अमरूद को अपनी डाइट में शामिल करें। अमरूद में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट गुण आपकी त्वचा को सूरज की हानिकारक किरणों से होने वाले नुकसान और त्वचा पर दिखने वाले बढ़ती उम्र के संकेत जैसे- झुर्रियों व झाइयों को कम कर सकते हैं (41)। अमरूद में प्रचुर मात्रा में विटामिन-ए और सी होता है, जिसका असर आपकी त्वचा पर दिखता है। खासकर, विटामिन-सी आपकी त्वचा को स्वस्थ बनाता है। अमरूद में मौजूद एंटी-माइक्रोबियल गुण कील-मुंहासे पैदा करने वाले बैक्टीरिया को मिटाकर पिंपल को काफी हद तक कम कर सकते हैं (42)।

आइए, अब अमरूद के जरूरी पोषक तत्वों के बारे में भी जान लेते हैं।

अमरूद के पौष्टिक तत्व – Guava Nutritional Value in Hindi

यहां हम आपको अमरूद में मौजूद पौष्टिक तत्वों के बारे में बता रहे हैं।

कैलोरी की जानकारी
एमाउंट्स पर सेलेक्टेड सर्विंग %डीवी (DV)
कैलोरीज112 (469kJ)6%
कार्बोहाइड्रेट84.9 (355 kJ)
फैट13.1 (54.8 kJ)
प्रोटीन14.1 (59.0 kJ)
एल्कोहल0.0(0.0 kJ)
कार्बोहाइड्रेट
एमाउंट्स पर सेलेक्टेड सर्विंग %डीवी (DV)
कुल कार्बोहाइड्रेट23.6 ग्राम8%
डाइटरी फाइबर8.9 ग्राम36%
स्टार्च0.0 ग्राम
शुगर14.7 ग्राम
 प्रोटीन और अमीनो एसीड्स
एमाउंट्स पर सेलेक्टेड सर्विंग %डीवी (DV)
प्रोटीन4.2 ग्राम8%
विटामिन्स
एमाउंट्स पर सेलेक्टेड सर्विंग %डीवी (DV)
विटामिन-ए1030 आईयू (IU)21%
विटामिन-सी377 मिलीग्राम628%
विटामिन-डी~~
विटामिन-ई (अल्फा टोकोफेरॉल)1.2 मिलीग्राम6%
विटामिन-के4.3 माइक्रोग्राम5%
थियामिन0.1 मिलीग्राम7%
राइबोफ्लेविन0.1 मिलीग्राम4%
नियासिन1.8 मिलीग्राम9%
विटामिन-बी60.2 मिलीग्राम9%
फोलेट80.8 माइक्रोग्राम20%
विटामिन-बी120.0 एमसीजी 0%
पैंटोथेनिक एसिड0.7 मिलीग्राम7%
कॉलिन12.5 मिलीग्राम
बेटाइन~
 मिनरल्स
एमाउंट्स पर सेलेक्टेड सर्विंग %डीवी (DV)
कैल्शियम29.7 मिलीग्राम3%
आयरन0.4 मिलीग्राम2%
मैग्नीशियम36.3 मिलीग्राम9%
फास्फोरस66.0 मिलीग्राम7%
पोटैशियम88 मिलीग्राम20%
सोडियम3.3 मिलीग्राम0%
जिंक0.4 मिलीग्राम3%
कॉपर0.4 मिलीग्राम19%
मैंगनीज0.2 मिलीग्राम12%
सेलेनियम1.0 माइक्रोग्राम1%
फ्लोराइड~

अमरूद का उपयोग – How to Use Guava in Hindi

How to Use Guava in Hindi Pinit

Shutterstock

अब जब आप अमरूद खाने के इतने फायदे जान चुके हैं, तो आपके मन में यह सवाल भी उठ रहा होगा कि अमरूद का सेवन कब और कैसे किया जाए। इन सारे सवालों का जवाब हम आपको इस लेख में बता रहे हैं।

अमरूद खाने का सही वक्त

आप इसे दोपहर में खाना खाने के बाद खाएं। आप इसे सुबह खाली पेट भी खा सकते हैं।

अमरूद खाने का तरीका –
  1. सबसे पहले अच्छा अमरूद चुने, कोशिश करें कि अमरूद पका हुआ और नर्म हो, क्योंकि जो अमरूद नर्म होगा उसका स्वाद मीठा होगा। ध्यान रहे कि अमरूद जरूरत से ज्यादा नर्म न हो, क्योंकि ऐसा होने से अमरूद सड़ा हुआ या जल्दी खराब हो सकता है।
  2. अमरूद को सूंघ लें, अच्छे अमरूद में मीठी-मीठी खूशबू होती है।
  3. अमरूद को अच्छी तरह से धो लें, ताकि इससे धूल-मिट्टी या गंदगी निकल जाए और अमरूद साफ हो जाए।
  4. अमरूद को हमेशा काटकर खाएं।
  5. आप पके हुए अमरूद को नमक के साथ खा सकते हैं या आप कच्चे अमरूद को छोटा-छोटा काटकर या उसे घिसकर नमक के साथ खा सकते हैं।
  6. अगर आप पाचन शक्ति सुधारना चाहते हैं, तो पके हुए अमरूद को काले नमक के साथ खाएं।
  7. अगर कब्ज की परेशानी है, तो सुबह पका हुआ अमरूद खाएं।
  8. आप पके हुए अमरूद के गुद्दे को चम्मच के साथ खा सकते हैं।
  9. आप अमरूद को काटकर सॉस के साथ खा सकते हैं।
  10. आप अमरूद का जूस पी सकते या फिर उसक स्मूदी व आइसक्रीम का भी सेवन कर सकते हैं।
  11. आप चाहें तो अमरूद की सब्जी बनाकर भी खा सकते हैं।

अमरूद को लंबे समय तक स्टोर कैसे करें? – How to store Guava in Hindi

How to store Guava in Hindi Pinit

Shutterstock

अब बात आती है कि अमरूद को कैसे रखें कि वो लंबे वक्त तक सही रहे। नीचे हम अमरूद को सही ढंग से स्टोर करने की विधि बता रहे हैं।

  1. आप कोशिश करें कि अमरूद को अन्य फलों के साथ फ्रिज में न रखें, बल्कि उसे फ्रिज में अलग से किसी और कम्पार्टमेंट में रखें। दूसरे फलों के साथ रखने से अमरूद जल्दी पक कर खराब हो सकते हैं।
  2. अमरूद को काटने के कुछ देर बाद खाना है, तो आप काटने के बाद इसमें नींबू लगा सकते हैं।
  3. अमरूद को फ्रीज भी कर सकते हैं, लेकिन उससे पहले अमरूद को अच्छे से धोकर सूखा लें और फिर छिल लें। छिलने के बाद उसे आधा-आधा काट लें और आधे को एयर टाइट कंटेनर या जार में रख लें। ध्यान रहे कि कंटेनर बड़ा हो और उसमें अमरूद के लिए हेडस्पेस अच्छी मात्रा में हो। ऐसा करने से अमरूद लंबे वक्त तक ताजा रहेगा।
  4. आप एयर टाइट जार या कंटेनर में ठंडी चीनी की चाशनी को डालकर उसमें भी अमरूद को डुबोकर रख सकते हैं। जार को ढक्कन से अच्छी तरह से बंद जरूर करें।
  5. ध्यान रहे कि अमरूद को ज्यादा वक्त के लिए न स्टोर करें। अमरूद ही क्या कोई भी फल लंबे वक्त तक न रखें।

अमरूद के नुकसान – Side Effects of Guava in Hindi

हालांकि, अमरूद के कुछ गंभीर साइड इफेक्ट नहीं हैं, लेकिन खाते वक्त थोड़ी सावधानी बरतनी जरूरी है।

  1. ज्यादा अमरूद खाने से पेट खराब हो सकता है, क्योंकि इसमें फाइबर की मात्रा अधिक होती है।
  2. गर्भवती महिला या स्तनपान कराने वाली महिलाओं को अमरूद का सेवन सावधानी से करना चाहिए, क्योंकि इसके ज्यादा सेवन से उन्हें पेट संबंधी परेशानियां हो सकती है।
  3. अगर किसी को कुछ स्वास्थ्य संबंधी समस्या है, जिसमें फाइबर और पोटैशियम का सेवन न के बराबर है, तो ऐसी स्थिति में अमरूद के सेवन से पहले अपने डॉक्टर से सलाह-परामर्श कर लें।
  4. ज्यादा अमरूद के सेवन से सूजन, पेट फूलना और गैस जैसी समस्याएं हो सकती हैं।
  5. अगर आपकी पाचन शक्ति कमजोर है, तो ज्यादा अमरूद का सेवन न करें।
  6. अगर किसी को ठंड या सर्दी-खांसी की ज्यादा परेशानी है, तो ऐसे में अमरूद कम खाएं, क्योंकि अमरूद की तासीर ठंडी होती है और इससे ठंड लग सकती है।
  7. सिर्फ अमरूद ही नहीं उसके पत्ते से भी साइड इफेक्ट हो सकते हैं। गर्भवती महिला को अमरूद के पत्ते की चाय या अमरूद के पत्ते से बनी किसी भी चीज का सेवन नहीं करना चाहिए, क्योंकि ऐसे में गर्भावस्था में परेशानी हो सकती है। न सिर्फ गर्भावस्था में बल्कि स्तनपान कराने के दौरान भी सेवन न करें।
  8. अमरूद के पत्ते के सेवन से खून की कमी यानी एनीमिया, सिरदर्द यहां तक कि किडनी की भी समस्या हो सकती है।

अगर अमरूद को ध्यान और सावधानी के साथ खाया जाए तो अमरूद के नुकसान से बचाव हो सकता है।

नोट: अगर आपको जल्द किसी चीज से एलर्जी या पहले अमरूद से एलर्जी हुई हो, तो आप अमरूद का सेवन डॉक्टर से पूछकर ही करें।

अमरूद गुणकारी, सस्ता और आसानी से मिलने वाला फल है। अमरूद के औषधीय गुण और इसमें मौजूद पोषक तत्व इसे खास बनाते हैं। इसलिए, आप अपनी डाइट में अमरूद को जरूर शामिल करें। साथ ही अमरूद के फायदे तभी अच्छे से मिल सकते हैं, जब इसका सही तरीके से सेवन किया जाए। इसलिए, अमरूद के गुण का अच्छे से लाभ लेने के लिए इसका संतुलित और सही मात्रा में सेवन करें। सिर्फ अमरूद ही नहीं, उसके पत्ते भी बहुत फायदेमंद हैं। इसलिए, अमरूद के फायदे के साथ-साथ इसके पत्तों को भी उपयोग कर हमारे साथ अपने अनुभव नीचे कमेंट बॉक्स में शेयर करना न भूलें। साथ ही अगर आपके पास भी अमरूद, अमरूद के फायदे या अमरूद के पत्तों से जुड़ी कोई जानकारी है या आपको अमरूद की कोई रेसिपी पता है, तो उसे भी हमारे साथ जरूर शेयर करें।

और पढ़े:

संबंधित आलेख