अनानास और उसके जूस के फायदे, उपयोग और नुकसान – All About Pineapple (Ananas) in Hindi

Medically reviewed by Neha Srivastava, MSc (Life Sciences) Neha Srivastava Neha SrivastavaMSc (Life Sciences)
Written by , MA (Journalism & Media Communication) Puja Kumari MA (Journalism & Media Communication)
 • 
 

अनानास ऐसा फल है, जो खाने में जितना स्वादिष्ट होता है, उसके फायदे भी उतने ही होते हैं। चाहे अनानास का जूस पिएं या उसे खाएं, हर तरह से यह फल शरीर को फायदा पहुंचा सकता है। इस फल में पौष्टिक तत्वों की भरमार है। खाने में रसीला और सेहत से भरपूर अनानास अपने आप में गुणों का खजाना है। अगर कोई व्यक्ति अनानास के लाभ से अनजान हैं, तो स्टाइलक्रेज का यह लेख उन्हीं के लिए है। इस लेख में हम अपने पाठकों को अनानास के फायदे बताएंगे। साथ ही बताएंगे कि इसे कैसे खान-पान में शामिल किया जा सकता है।

नीचे स्क्रॉल करें

आइए, सबसे पहले जानते हैं कि अनानास क्या है।

अनानास फल क्या है?

अनानास एक खट्टा-मीठा फल है, जिसे ए. सैटिवस(A. sativus), एनानासा सैटिवा (Ananassa sativa), ब्रोमेलिया एनानास (Bromelia ananas), बी. कोमोसा (B. comosa)  आदि नामों से जाना जाता है। अनानास ब्रोमोलिसियाए प्रजाति का प्रमुख फल है, जो फिलीपींस, थाईलैंड, इंडोनेशिया, मलेशिया, केन्या, भारत और चीन सहित कई उष्णकटिबंधीय देशों में उगाया जाता है। अनेक संस्कृतियों ने इसे औषधीय पौधा माना है। अनानास के इन औषधीय गुणों के लिए ब्रोमेलेन (Bromelain) नामक तत्व को जिम्मेदार ठहराया जाता है, जो अनानास का अर्क है। ब्रोमेलेन एक प्रकार का डाइजेस्टिव एंजाइम है जो कि प्रोटीन के डाइजेशन में मदद कर सकता है। अनानास और इसके यौगिकों पर काफी शोध किए जा चुके हैं, जिनके आधार पर इस लेख में इसके फायदे बताए गए हैं(1)। हालांकि एक बात का ध्यान अवश्य रखें कि अनानास किसी बीमारी के इलाज का विकल्प नहीं है। जो लोग गंभीर बीमारियों से जूझ रहे हैं, वो डॉक्टर से परामर्श लेने के बाद ही अनानास का सेवन करें। इसका सेवन बीमारी के लक्षण को कम करने या बचाव में कारगर हो सकता है। तो तैयार हो जाइये इस पौष्टिक फल के गुणों के बारे में जानने के लिए।

चलिए, अनानास के फायदे के बारे में जानते हैं ताकि पाठक जान सके कि अनानास किन-किन तरीकों से स्वास्थ्य को लाभ पहुंचा सकता है।

अनानास के फायदे – Benefits of Pineapple in Hindi

अनानास के फायदे के बारे में जो जानकारी नीचे दी जा रही है, उसे हमने वैज्ञानिक अध्ययनों के आधार पर एकत्रित करने की कोशिश की है। हो सकता है कुछ मामलों में सटीक वैज्ञानिक प्रमाण की कमी हो, तो ऐसे में अनानास में मौजूद गुणों के आधार पर भी इसके स्वास्थ्य लाभ बताए गए हैं।

1. हड्डियों के लिए अनानास के फायदे

हड्डियों को लंबे समय तक मजबूत रखने के लिए खानपान में अनानास को शामिल किया जा सकता है। इसमें मैंगनीज होता है, जो हड्डियों को मजबूत रखने के लिए एक जरूरी खनिज माना जाता है। एनसीबीआई (NCBI- National Center for Biotechnology Information) के अनुसार महिलाओं के लिए 1.8 मिलीग्राम/दिन और पुरुषों के लिए 2.3 मिलीग्राम/दिन मैंगनीज की जरूरत होती है (2)। वहीं, 100 ग्राम अनानास में 0.927 मिलीग्राम मैंगनीज पाया जाता हैं। इसलिए मैंगनीज की पूर्ति करके अनानास हड्डियों को मजबूती प्रदान कर सकता है। इसके अलावा, अनानास में कैल्शियम भी मौजूद होता है और कैल्शियम हड्डियों स्वास्थ्य के लिए क जरूरी पोषक तत्व के रूप में जाना जाता है (3) (4) इन दोनों जरूरी पोषक तत्वों के आधार पर हड्डियों के लिए अनानास का सेवन किया जा सकता है।

2. अस्थमा के लिए अनानास के लाभ

अनानास का घटक ब्रोमेलेन अस्थमा के मरीजों के लिए किसी वरदान से कम नहीं हैं। यह अस्थमा के कारण श्वास मार्ग (Airway) में होने वाली सूजन को कम कर सकता है। एनसीबीआई में छपी एक स्टडी के अनुसार, अनानास के अर्क (ब्रोमेलेन) में एंटीइंफ्लेमेटरी गुण होते हैं, जो श्वास मार्ग की सूजन को कम करके अस्थमा के लक्षणों से राहत दे सकते हैं(5)। हालांकि, ध्यान रहे कि इसके साथ डॉक्टर द्वारा बताई दवाइयों का सेवन भी जरूरी है।

3. मुंह के स्वास्थ्य के लिए अनानास के फायदे

अनानास में पाया जाने वाला यौगिक ब्रोमेलेन अच्छा एंटीबैक्टीरियल तत्व भी है। यही कारण है कि इसे दन्त चिकित्सा में एंटीइंफ्लेमेटरी (सूजन कम करने वाली) और एनाल्जेसिक (दर्द निवारक) दवा के रूप में इस्तेमाल किया जा सकता है (6)। साथ ही एक शोध के अनुसार, ब्रोमेलेन में एंटी-प्लाक (anti-plaque) और एंटी-जिंजिवाइटिस (anti-gingivitis) गुण पाए जाते हैं। ये गुण दांतों के ऊपर बैक्टीरिया युक्त परत (प्लाक) को जमने से रोक सकते हैं, जिससे जिंजिवाइटिस (मसूड़ों में सूजन) नामक रोग होने का जोखिम कम हो सकता है(7) साथ ब्रोमेलेन दांतों की चमक और सफेदी बरकरार रखने में मदद कर सकता है (8)। इन्हीं गुणों के चलते इसे मुंह की स्वच्छता और स्वास्थ्य के लिए अच्छा माना जा सकता है।

4. ह्रदय के लिए अनानास के फायदे

अनानास का सेवन करने से हृदय स्वास्थ्य बना रह सकता है। इसमें कार्डियोप्रोटेक्टिव यानी ह्रदय तंत्र की रक्षा करने वाले गुण मौजूद हैं। इसमें डायटरी फाइबर की उच्च मात्रा मौजूद होती है, जो शरीर में कोलेस्ट्रॉल की मात्रा को सीमित कर सकता है। आहार फाइबर शरीर के स्वास्थ्य रखरखाव के लिए आवश्यक है। दरअसल, डायटरी फाइबर का सेवन हृदय रोग, मोटापा और टाइप 2 मधुमेह की समस्या से राहत दिलाने में सहायक हो सकता है (9)।

5. वजन कम करने में सहायक हो सकता है अनानास

वजन कम करने में अनानास का रस सहायक हो सकता है। चूहों पर की गई स्टडी में पाया गया है कि अनानास का रस एंटी-ओबेसिटी तत्व की तरह काम कर सकता है। इसके सेवन से लिपोजेनेसिस (lipogenesis – वसा बनने की चयापचय प्रक्रिया) में कमी आ सकती है और लिपोलिसिस (lipolysis – फैट और अन्य लिपड टूटने की प्रक्रिया) में वृद्धि हो सकती है। अनानास के रस में पाया जाने वाला यह गुण वजन कम करने में सहायक हो सकता है (10)। इसके अलावा, एक गिलास अनानास का जूस शरीर को दिन भर के लिए हाइड्रेट रखने में मदद कर सकता है, ऊर्जा दे सकता है और साथ ही मेटाबॉलिज्म को बढ़ा सकता है। इसलिए भी इसका सेवन वजन कम करने के लिए फायदेमंद हो सकता है।

6. सर्दी-जुकाम में अनानास के फायदे

सर्दी और जुकाम में भी अनानास के सेवन के फायदे देखे जा सकते हैं। गले और नाक से जुड़ी स्वास्थ्य समस्या कैटर (Catarrh-सर्दी-जुकाम) के लक्षणों से यह राहत दे सकता है। इस समस्या में म्यूकस मेंब्रेन में सूजन आ जाती है और अधिक बलगम जमने लगता है। अनानास में एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण होते हैं, जो इस समस्या से राहत दिलाने में मदद कर सकते हैं (11)। हालांकि, इस बारे में अभी शोध की आवश्यकता है, लेकिन हल्की-फुल्की समस्या में इसका सेवन किया जा सकता है।

7. जी-मिचलाने से निजात देता है अनानास

जी मिचलाने की परेशानी में भी अनानास लाभकारी हो सकता है। यह समस्या चाहे सुबह-सुबह होने वाली मॉर्निंग सिकनेस हो या यात्रा के दौरान होने वाली मोशन सिकनेस, इसका सेवन मददगार साबित हो सकता है (11), लेकिन इस बारे वैज्ञानिक शोध की कमी है कि इसके कौन से गुण जी मिचलाने की समस्या को कम कर सकते हैं। हां, अनानास एक खट्टा-मीठा फल है, ऐसे में इसके स्वाद को जी मिचलाने की समस्या से राहत दिलाने का कारक माना जा सकता है।

8. कैंसर से बचाव में अनानास के गुण

कैंसर एक गंभीर बीमारी है, जिसके इलाज के लिए लंबी चिकित्सा प्रक्रिया से गुजरना पड़ता है। विज्ञान भी इसके सटीक उपचार के लिए लगातार कोशिश कर रहा है, लेकिन खान-पान का ध्यान रखें] तो कैंसर से बचाव संभव है (12)। अनानास भी उन खाद्य पदार्थों में शामिल है, जो कैंसर से बचाव में कारगर माने जाते हैं। इसका प्रमुख एंजाइम ब्रोमेलेन कैंसर कोशिकाओं के विकास में बाधा बन सकता है। पेट के कैंसर (Advanced colorectal cancer) के बारे में की गई एक रिसर्च के अनुसार, ब्रोमेलेन फ्री रेडिकल्स से लड़ने वाले रिएक्टिव ऑक्सीजन कणों (Reactive oxygen species) और ऑटोफैगी (मृत कोशिकाओं की प्राकृतिक सफाई) को एक्टिव करके कैंसर के जोखिम को रोक सकता है (13)।  एनसीबीआई की वेबसाइट पर प्रकाशित एक अन्य अध्ययन के अनुसार, ब्रोमेलेन की एंटी-प्लेटलेट गतिविधि भी कैंसर के जोखिम में हस्तक्षेप कर सकती है। इतना ही नहीं इसमें मौजूद एंटी-कैंसर गुण भी कैंसर कोशिकाओं को बढ़ने से रोक सकता है और कैंसर के जोखिम को कम कर सकता है (14)

9. सूजन और गले की खराश में अनानास के फायदे

जैसा कि लेख में बताया गया है कि अनानास में एंटीइंफ्लेमेटरी गुण पाए जाते हैं। इसलिए, इसका सेवन सूजन और उससे जुड़ी समस्याओं से निपटने में कारगर हो सकता है (1)। दरअसल, इसमें मौजूद एंजाइम ब्रोमेलेन में सूजन कम करने के गुण मौजूद होते हैं, इसी गुण के कारण यह एक्यूट साइनसाइटिस, गले में खराश, गठिया और गाउट जैसी सूजन की समस्याओं से निजात पाने में सहायक हो सकता है (15)

10. रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में अनानास के फायदे

अनानास में कई फाइटोकेमिकल्स (प्राकृतिक रसायन) हैं, जैसे कि कौमेरिक एसिड (Coumaric acid), फेरुलिक एसिड (Ferulic acid), क्लोरोजेनिक एसिड (Chlorogenic acid) और एलेजिक एसिड (Ellagic acid)। इसके साथ ही इसमें विटामिन सी, मैंगनीज, थियामिन, राइबोफ्लेविन, पाइरिडोक्सिन, कॉपर और फाइबर जैसे माइक्रोन्यूट्रिएंट्स (जरूरी पोषक तत्व) भी हैं। ऐसे में अनानास और उसके मुख्य घटक ब्रोमेलेन का सेवन करने से शरीर में उन कई जरूरी पोषक तत्वों की पूर्ति की जा सकती है, जो प्रतिरोधक क्षमता में सुधार करने में सहायक हो सकते हैं (16)। अनानास में ब्रोमेलेन के अलावा, विटामिन-सी की भी अच्छी मात्रा में पाई जाती है, जो इम्यून पावर में सुधार करने में सहायक हो सकता है।

11. पाचन शक्ति बढ़ा सकता है अनानास

अनानास के फायदे की बात की जाए, तो यह पाचन के लिए भी लाभकारी हो सकता है। दरअसल, एनसीबीआई में प्रकाशित एक अध्ययन के अनुसार, पेड़-पौधों से मिलने वाले एंजाइम जैसे ब्रोमेलेन, पाचन को दुरुस्त रखने में सहायक हो सकता है। ब्रोमेलिन ऐसा एंजाइम है, जो प्रोटीन को तोड़ने में सहायक हो सकता है, जिससे पाचन क्रिया आसान हो सकती है (17)। इस आधार पर कहा जा सकता है कि अनानास का सेवन पाचन क्रिया को सुचारू रूप से चलाने में सहायता कर सकता है।

12. ब्रोंकाइटिस में अनानास के फायदे

अनानास में एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण होते हैं, जो कई तरह की सूजन की स्थितियों से निपटने में मदद कर सकते हैं। ये ब्रोन्कियल ट्यूब में सूजन को कम करने में भी मदद कर सकते हैं, जो आमतौर पर ब्रोंकाइटिस के कारण होती है (1) (18)। साथ ही इसमें कुछ एंटी माइक्रोबियल गुण भी पाए जाते हैं, जो ब्रोंकाइटिस के लक्षणों से राहत दे सकते हैं (19)

13. रक्तचाप नियंत्रण के लिए अनानास के लाभ

रक्तचाप को सामान्य रखने में भी अनानास खाने के फायदे हो सकते हैं। इसमें मौजूद पोटैशियम की उच्च मात्रा और सोडियम की कम मात्रा रक्तचाप स्तर को सामान्य रखने में मदद कर सकती है (20)। हालांकि, अगर कोई व्यक्ति ब्लड प्रेशर की दवा का सेवन कर रहा है, तो इसके सेवन से पहले एक बार डॉक्टरी परामर्श भी जरूर लें।

14. एंटीऑक्सीडेंट युक्त अनानास

अनानास में सीमित मात्रा में एंटीऑक्सीडेंट गुण पाए जाते हैं, जो शरीर में मुक्त कणों से लड़ने में मदद कर सकते हैं। अनानास की यह गतिविधि स्वास्थ्य के लिहाज से महत्वपूर्ण है, क्योंकि ये मुक्त कण यानी फ्री रेडिकल्स के कारण होने वाली स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं से बचाव कर सकते हैं। अपने एंटी एंटीऑक्सीडेंट गुणों के चलते ही यह किडनी और उसकी कार्यप्रणाली को सुरक्षा देने में भी कारगर हो सकता है (21)इसके साथ ही अनानास विटामिन- ए जैसे एंटीऑक्सीडेंट का भी अच्छा स्रोत है इसलिए यह आंखों के लिए भी अच्छा हो सकता है। तो एंटीऑक्सीडेंट युक्त खाद्य पदार्थों की श्रेणी में अनानास को शामिल करना एक अच्छा विकल्प हो सकता है।

15. त्वचा के लिए अनानास के फायदे

सेहत के लिए अनानास कितना फायदेमंद होता है, यह आप जान चुके हैं, लेकिन त्वचा के लिए भी अनानास खाने के फायदे हो सकते हैं। एनसीबीआई में प्रकाशित एक अध्ययन के अनुसार, अनानास के मुख्य घटक ब्रोमेलेन पिटेराइसिस लाइकेनोइड्स क्रोनिका (Pityriasis lichenoides chronica- त्वचा संबंधी समस्या) नामक त्वचा रोग के उपचार में सहायक हो सकता है। इसके एंटी-इंफ्लेमेटरी, प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने वाले और एंटी-वायरल गुण त्वचा को सुरक्षा प्रदान करने में सहायक हो सकते हैं (22)। साथ ही में अनानास में सल्फर के कुछ यौगिक पाए जाते हैं, जिनमें एंटी-ब्राउनिंग (anti-browning effect) प्रभाव पाया जाता है। इस प्रभाव के चलते अनानास त्वचा में निखार लाने में सहायक हो सकता है (23)

16. बालों के लिए अनानास के फायदे

जैसा कि अभी लेख में ऊपर बताया गया है कि अनानास में सल्फर के कुछ यौगिक मौजूद होते हैं, इसलिए यह त्वचा के साथ- साथ बालों के लिए भी फायदेमंद हो सकता है। विशेषज्ञों का मानना है कि बालों की ऊपरी परत और नाखून केराटीन से बने होते हैं, यह एक मजबूत प्रोटीन होता है, जो लचीले सल्फर यौगिकों से बना होता है। ऐसे में, माना जा सकता है कि सल्फर युक्त अनानास इस प्रोटीन (केराटीन) का निर्माण करने में मददगार हो सकता है और बालों को सुंदर व मजबूत बना सकता है (24)

लेख अंत तक पढ़ें

लेख के अगले भाग में जानते हैं कि अनानास में कौन-कौन से पौष्टिक तत्व पाए जाते हैं।

अनानास के पौष्टिक तत्व – Pineapple Nutritional Value in Hindi

नीचे हम बता रहे हैं कि 100 ग्राम अनानास में कौन-कौन से पौष्टिक तत्व होते हैं और उनकी मात्रा कितनी होती है (3)

पोषक तत्व मात्रा प्रति 100 ग्राम
पानी86 ग्राम
एनर्जी50 केसीएएल
प्रोटीन0.54 ग्राम
टोटल लिपिड (फैट)0.12 ग्राम
कार्बोहाइड्रेट13.12 ग्राम
फाइबर (टोटल डाइटरी)1.4 ग्राम
शुगर9.85 ग्राम
कैल्शियम13 मिलीग्राम
आयरन0.29 मिलीग्राम
मैग्नीशियम12 मिलीग्राम
फास्फोरस8  मिलीग्राम
पोटैशियम109 मिलीग्राम
सोडियम1 मिलीग्राम
जिंक0.12 मिलीग्राम
कॉपर0.11 मिलीग्राम
मैगनीज0.927 मिलीग्राम
सेलेनियम 0.1 माइक्रोग्राम
विटामिन सी47.8 मिलीग्राम
थियामिन0.079 मिलीग्राम
राइबोफ्लेविन 0.032    मिलीग्राम
नियासिन0.5 मिलीग्राम
विटामिन बी-60.112 मिलीग्राम
फोलेट (डीएफई)18 माइक्रोग्राम
विटामिन ए (आईयू)58 IU
विटामिन के0.7 माइक्रोग्राम
फैटी एसिड (सैचुरेटेड)0.009 ग्राम
फैटी एसिड (मोनोअनसैचुरेटेड)0.013 ग्राम
फैटी एसिड (पॉलीअनसैचुरेटेड)0.04 ग्राम

आगे जानते हैं, अनानास के सेवन के तरीकों के बारे में । 

खाने का तरीका – How to Eat Pineapple in Hindi

अनानास का सेवन करने के कई तरीके हो सकते हैं, जैसे :

  • अनानास का रस निकालकर इसका जूस बनाया जा सकता है, जिसकी विधि लेख में आगे बताई गई है।
  • अनानास को छिलकर और छोटे टुकड़े में काटकर ऐसे भी खाया जा सकता है।
  • दही में अनानास के छोटे-छोटे टुकड़े डालकर इसका सेवन किया जा सकता है।
  • फलों के सलाद में अनानास का सेवन कर सकते हैं।
  • अनानास को जैम के रूप में भी खा सकते हैं।
  • कई लोग घर में अनानास की चटनी बनाकर भी इसका सेवन करते हैं।

अनानास का सेवन कब करें?

अगर किसी व्यक्ति का स्वास्थ्य सही है, तो वह अनानास का सेवन कभी भी कर सकता है। जैसा कि इस लेख में बताया गया है कि अनानास का सेवन करने से पाचन क्षमता में सुधार हो सकता है। ऐसे में इसका सेवन खाना खाने के बाद किया जा सकता है। इसके अलावा, सुबह नाश्ते के दौरान अनानास के जूस का सेवन किया जा सकता है, वहीं अनानास का सेवन हेल्दी स्नैक्स के रूप में कभी भी कर सकते हैं।

अनानास का सेवन कितनी मात्रा में करना सही है?

यूएसडीए (U. S. Department of Agriculture) के अनुसार, फलों के सेवन की दैनिक मात्रा उम्र, लिंग और शारीरिक गतिविधि के स्तर पर निर्भर करती है। प्रत्येक व्यक्ति दिन में 1 से 2 कप फलों का सेवन कर सकता है (25)। अगर अनानास की बात की जाए तो स्वस्थ व्यक्ति दिन भर में 1 कप कटे हुए अनानास का सेवन कर सकता है।

आगे है और जानकारी

आइए, लेख में आगे जानते हैं कि अनानास का जूस किस प्रकार तैयार किया जा सकता है।

अनानास का जूस (पाइनएप्पल जूस) बनाने की विधि

सामग्री :

  • 2 कप कटा हुआ अनानास
  • 3 से 4 बर्फ के टुकड़े
  • 2 से 3 चम्मच चीनी
  • काला नमक (वैकल्पिक)
  • आधा चम्मच भुना जीरा पाउडर

बनाने की विधि :

  • अनानास के टुकड़ों को जूसर में डालकर इनका रस निकाल लें।
  • इस रस को छलनी से छान कर एक बड़े बर्तन में निकाल लें।
  • अब इसमें चीनी, जीरा पाउडर और काला नमक डालकर अच्छी तरह से मिला लें।
  • एक गिलास में बर्फ के टुकड़े डालें और ऊपर से ये जूस गिलास में डालें।
  • तैयार है जायकेदार और खट्टा-मीठा अनानास का जूस।

अधिक जानकारी आगे है

लेख में आगे अनानास के नुकसान दिए गए हैं, जिनका ज्ञान स्वास्थ्य के लिहाज से उपयोगी हो सकता है।

अनानास के नुकसान – Side Effects of Pineapple in Hindi

इसमें कोई दो राय नहीं है कि अनानास के अनेक फायदे हैं, लेकिन अधिक सेवन से इसके कुछ नुकसान भी देखे गए हैं।

  • अनानास का सेवन करने से कई बार कुछ लोगों को एलर्जी हो जाती है और इससे खुजली, दस्त, उल्टी और पेट दर्द की समस्या हो सकती है (26)
  • इसके अलावा, अनानास खाने से कुछ लोगों के मुंह में खुजली, जीभ में सूजन, खांसी और डिस्फेगिआ (dysphagia-निगलने में परेशानी) जैसी समस्या भी हो सकती है (27)
  • अनानास में अबोर्टिफैसियंट (abortifacient) गर्भपात कराने वाला गुण होता है, इसलिए गर्भावस्था में इसका सेवन न करना बेहतर है(28)
  • चीकू,आम और पपीते की तरह ही अनानास का सेवन ब्लड शुगर के स्तर को बढ़ा सकता है। ऐसे में, डायबिटीज के मरीजों को इससे परहेज करना चाहिए या बहुत कम मात्रा में सेवन करना चाहिए (29)

स्टाइलक्रेज के इस लेख में अनानास से जुड़ी सभी जरूरी जानकारियां देने की कोशिश की गई है। उम्मीद है कि यह जानकारियां सभी के काम आएंगी और हमारे पाठक अनानास का सेवन सही प्रकार से करेंगे। इस लेख से यह तो स्पष्ट है कि अनानास का संतुलित सेवन सेहतमंद है, लेकिन अगर कोई व्यक्ति किसी एलर्जी या स्वास्थ्य समस्या से जूझ रहा हो, तो इसे डॉक्टर की सलाह पर ही खाएं। ऐसी महत्वपूर्ण जानकारी वाले हमारे अन्य लेख पढ़ना न भूलें।

अक्सर पूछे जाने वाले सवाल

एक दिन में अनानास का कितना सेवन किया जा सकता है ?

प्रतिदिन 1 कप अनानास का सेवन किया जा सकता है (25)। फिर भी बेहतर है कि इसे हर रोज खाने की बजाय दो दिन में एक बार या हफ्ते में एक से दो बार सेवन करें, क्योंकि जरूरत से ज्यादा सेवन से इससे नुकसान भी हो सकते हैं। इससे होने वाले नुकसान के बारे में ऊपर बताया गया है।

क्या अनानास का सेवन डायबिटिज में किया जा सकता है ?

कम मात्रा में डायबिटीज के रोगी अनानास का सेवन कर सकते हैं, क्योंकि अनानास का ग्लाइसेमिक इंडेक्स मीडियम होता है। अनानास के अधिक सेवन से मधुमेह के मरीजों को इसलिए बचना चाहिए क्योंकि यह एक मीठा फल है। बेहतर है मरीज इस बारे में डॉक्टरी सलाह लें

क्या रात में अनानास का सेवन सही रहता है?

हां, रात में अनानास का सेवन किया जा सकता है। अनानास, मेलाटोनिन सीरम (melatonin) का प्राकृतिक स्रोत है जो अच्छी नींद के लिए सहायक हो सकता है (30)

क्या अनानास किडनी और लिवर के लिए अच्छा होता है?

हां, अनानास किडनी और लिवर के लिए काफी अच्छा होता है, क्योंकि इसमें मौजूद ब्रोमोलेन में एंटीऑक्सीडेंट गतिविधि पाई जाती है। यह किडनी की कार्य प्रणाली को सुधार सकता है (21)। वहीं, दूसरी ओर यह लिवर पर जमे फैट को घटाता है यानी लिपोलिसिस (lipolysis) को बढ़ावा देता है (31), जिससे लिवर स्वस्थ रहता है।

अनानास की तासीर कैसी होती है?

अनानास की तासीर ठंडी होती है, इसलिए यह गर्मी में शरीर को ठंडक दे सकता है।

References

Articles on StyleCraze are backed by verified information from peer-reviewed and academic research papers, reputed organizations, research institutions, and medical associations to ensure accuracy and relevance. Read our editorial policy to learn more.

  1. Properties and Therapeutic Application of Bromelain: A Review
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC3529416/
  2. Essential Nutrients for Bone Health and a Review of their Availability in the Average North American Diet
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC3330619/
  3. Pineapple, raw, all varieties
    https://fdc.nal.usda.gov/fdc-app.html#/food-details/169124/nutrients
  4. Calcium in diet
    https://medlineplus.gov/ency/article/002412.htm
  5. Bromelain Limits Airway Inflammation in an Ovalbumin-Induced Murine Model of Established Asthma
    https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/22894886/
  6. In vitro Evaluation of Antibacterial Efficacy of Pineapple Extract (Bromelain) on Periodontal Pathogens
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC4229839/#ref10/
  7. Anti-plaque and anti-gingivitis effect of Papain, Bromelain, Miswak and Neem containing dentifrice: A randomized controlled trial
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC5429476/
  8. Efficacy of Extrinsic Stain Removal by Novel Dentifrice Containing Papain and Bromelain Extracts
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC3573376/
  9. Consumption of Ananas comosus’ Juice Fruit and Aerobic Exercise Practice Both Effects on Blood Lipid Parameters of Yaounde’s Obese Women (Cameroon)
    https://www.jocpr.com/articles/consumption-of-ananas-comosus-juice-fruit-and-aerobic-exercise-practice-both-effects-on-blood-lipid-parameters-of-yaound.pdf
  10. Physiological and Molecular Study on the Anti-Obesity Effects of Pineapple ( Ananas comosus) Juice in Male Wistar Rat
    https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/30319853/
  11. FRUITS, BENEFITS, PROCESSING, PRESERVATION AND PINEAPPLE RECIPES
    https://www.researchgate.net/publication/306017711_FRUITS_BENEFITS_PROCESSING_PRESERVATION_AND_PINEAPPLE_RECIPES
  12. Diet
    https://www.cancer.gov/about-cancer/causes-prevention/risk/diet
  13. Bromelain Inhibits the Ability of Colorectal Cancer Cells to Proliferate via Activation of ROS Production and Autophagy
    https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/30657763/
  14. Potential role of bromelain in clinical and therapeutic applications
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC4998156/
  15. Benefits and uses of pineapple
    https://www.researchgate.net/publication/306017037_Benefits_and_uses_of_pineapple
  16. Effects of Canned Pineapple Consumption on Nutritional Status, Immunomodulation, and Physical Health of Selected School Children
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC4258310/
  17. The Role of Enzyme Supplementation in Digestive Disorders
    https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/19152478/
  18. Bronchitis
    https://medlineplus.gov/ency/imagepages/17099.htm
  19. Potential role of bromelain in clinical and therapeutic applications
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC4998156/
  20. Lowering Your Blood Pressure With DASH
    https://www.nhlbi.nih.gov/files/docs/public/heart/new_dash.pdf
  21. Kidney therapeutic potential of peptides derived from the bromelain hydrolysis of green peas protein
  22. https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC6880536/
  23. Role of Bromelain in the Treatment of Patients With Pityriasis Lichenoides Chronica
    https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/17671882/
  24. Sulfur-containing Constituents and One 1H-pyrrole-2-carboxylic Acid Derivative From Pineapple [Ananas Comosus (L.) Merr.] Fruit
    https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/20843530/
  25. Health Benefits of Pineapple
    http://nutritionlive.uprrp.edu/?p=830
  26. All About the Fruit Group
    https://www.choosemyplate.gov/eathealthy/fruits
  27. Systemic Allergic Reaction and Diarrhoea After Pineapple Ingestion
    https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/8511816/
  28. Non-IgE-mediated food allergy? A case report
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC4412657/
  29. Investigation of Uterotonic Properties of Ananas Comosus Extracts
    https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/27426506/
  30. Blood Glucose Responses of Diabetes Mellitus Type II Patients to Some Local Fruits
    https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/24394507/
  31. Dietary Sources and Bioactivities of Melatonin
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC5409706/
  32. Physiological and molecular study on the anti-obesity effects of pineapple (Ananas comosus) juice in male Wistar rat
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC6170270/
Was this article helpful?
thumbsupthumbsdown
Neha Srivastava

Neha SrivastavaPG Diploma In Dietetics & Hospital Food Services

Neha Srivastava - Nutritionist M.Sc -Life Science PG Diploma in Dietetics & Hospital Food Services. I am a focused health professional and I am determined to promote healthy living. I have worked for Apollo Hospitals in Hyderabad and gained rich experience in Dietetics and Hospital Food Services. I have conducted several Diet Counselling Sessions in various Multi National Companies like...read full bio

ताज़े आलेख