बालायाम योग के फायदे और करने का तरीका – Balayam Yoga Steps And Benefits in Hindi

Written by

शरीर के हर एक भाग को लाभ पहुंचाने के लिए अलग-अलग तरह के योगासन किए जा सकते हैं। वहीं, बात करें बालों के लिए, तो बालों से जुड़ी समस्याओं के लिए भी कई तरह के योग का जिक्र मिलता है, जिसमें एक नाम बालायाम योग का भी है। अब आप सोच रहे होंगे कि बालायाम योग क्या है, तो इसके लिए स्टाइलक्रेज का यह लेख मददगार साबित हो सकता है। यहां हम बालायाम योग करने के फायदे और बालायाम योग के साइड इफेक्ट के साथ ही इससे जुड़ी जरूरी जानकारी दे रहे हैं। बालों के लिए बालायाम के फायदे पाने के लिए लेख को अंत तक जरूर पढ़ें।

विस्तार से पढ़ें

सबसे पहले जानिए बालायाम योग क्या है।

बालायाम योग क्या है – What is Balayam in hindi

बालायाम दो अलग-अलग शब्द को मिलाकर बना है, जिसमें पहला शब्द बाला यानी बाल और दूसरा व्यायाम है। यही वजह है कि इसे बालों का व्यायाम कहा जाता है। बालायाम योग के दौरान दोनों हाथों के नाखूनों को आपस में रगड़ा जाता है। ऐसा माना जाता है कि नाखूनों को रगड़ने पर बालों के विकास में मदद मिल सकती है (1)। इसलिए, इसे बालों को बढ़ाने वाले योग में शामिल किया जाता है। इसके अलावा, बालों के लिए बालायाम योग के कई अन्य फायदे भी हैं, जिनके बारे में आगे लेख में बताया गया है।

नीचे भी पढ़ें

चलिए जानते हैं कि बालायाम योग करने के फायदे में क्या-क्या शामिल है।

बालायाम योग करने के फायदे – Benefits of Balayam Yoga in hindi

बालायाम योग के लाभ बालों पर अलग-अलग तरह से नजर आ सकते हैं। वहीं, इस बात का ध्यान रखें कि बालायाम किसी भी तरीके से बालों से जुड़ी समस्याओं का इलाज नहीं है। इसका अभ्यास कुछ हद तक आराम पहुंचाने में मदद कर सकता है। अगर बालों से जुड़ी समस्या गंभीर है, तो डॉक्टर से संपर्क जरूर करें। अब पढ़ें आगे :

1. बालों की चमक

बालायाम योग करने के फायदे में बालों की चमक को भी शामिल किया जा सकता है। दरअसल, ऐसा माना जाता है कि नियमित रूप से बालायाम योग को करने पर बालों में चमक आ सकती है। फिलहाल, इस बात की पुष्टि करने के लिए किसी प्रकार का वैज्ञानिक अध्ययन उपलब्ध नहीं है।

2. सफेद बालों के लिए

बालायाम योग रिजल्ट्स सफेद बालों पर दिखाई दे सकता है। एक वैज्ञानिक अध्ययन में बालों से जुड़ी समस्याओं (जिसमें समय से पहले सफेद बालों की समस्या भी शामिल है) के लिए कई योगासनों को शामिल किया गया है, जिसमें एक नाम बालायाम योग का भी है (2)। हालांकि, इस समस्या के लिए अकेला बालायाम कितना कारगर होगा, फिलहाल इसे लेकर अभी और शोध किए जाने की आवश्यकता है।

3. झड़ते बालों के लिए

एक वैज्ञानिक रिसर्च की मानें, तो योग का अभ्यास स्कैल्प के रक्त प्रवाह को बनाए रखने में मदद कर सकता है, जिससे झड़ते बालों की समस्या में योग से आराम मिल सकता है। वहीं, योग को केशविकार (जिसमें बाल झड़ना भी शामिल है) के लिए भी उपयोगी माना गया है। वहीं, इस शोध में केशविकार के लिए जिन योगासनों का जिक्र किया गया है, उनमें बालायाम भी शामिल है। ऐसे में हम मान सकते हैं कि बाल झड़ने की समस्या में बालायाम का अभ्यास अहम भूमिका निभा सकता है (2)।

4. गंजेपन के लिए

जैसा कि ऊपर बताया गया है कि बालायाम योग का नियमित अभ्यास बाल झड़ने की समस्या को नियंत्रित करने में मदद कर सकता है। इस आधार पर ऐसा माना जा सकता है कि यह योग गंजेपन से बचाव का काम कर सकता है। दरअसल, गंजेपन की समस्या बालों के अधिक झड़ने के कारण होती है। वहीं, समय से पहले अगर बाल झड़ने की समस्या को नियंत्रित कर लिया जाए, तो गंजेपन का जोखिम कम हो सकता है (2)।

5. बालों की मजबूती

बालायाम योग को करने पर बालों को मजबूती मिल सकती है। दरअसल, एक शोध में केशविकार के लिए अन्य योगासनों के साथ बालायाम का भी जिक्र मिलता है। वहीं, शोध में केशविकार में कमजोर बालों का भी जिक्र है। ऐसे में हम मान सकते हैं कि बालायाम का अभ्यास बालों को मजबूत भी प्रदान कर सकता है (2)।

आगे जरूरी जानकारी है

बालायाम योग करने का तरीका नीचे बताया गया है।

बालायाम योग करने का तरीका – Steps to do Balayam in Hindi

कोई भी योग का असर तब होता है, जब योग करने का तरीका सही हो। इसलिए, बालायाम योग को सही तरीके से करने के लिए नीचे बताए गए स्टेप्स का पालन किया जा सकता है :

  • सबसे पहले एक शांत स्थान पर योग मैट बिछाकर सुखासन की मुद्रा में बैठ जाएं।
  • अब आंखें बंद करें और मन को शांत रखने की कोशिश करें।
  • मन शांत करने के लिए तीन-चार बार लंबी सांस लें और धीरे धीरे छोड़ें।
  • इसके बाद दोनों हाथों को कोहनी से मोड़कर छाती के सामने ले आएं।
  • अब दोनों हाथों की उंगलियों को अंदर की ओर मोड़ें और आधी मुट्ठी बनाएं।
  • इसके बाद दोनों हाथों के नाखूनों को एक दूसरे का स्पर्श कराएं।
  • अब दोनों हाथों के नाखूनों को आपस में रगड़ें।
  • इस समय सामान्य रूप से सांस लेते और छोड़ते रहें।
  • बालायाम योग को 8 से 10 मिनट तक कर सकते हैं। बीच में जरूरत अनुसार कुछ सेकंड का आराम भी ले सकते हैं।
  • ध्यान रहे, नाखूनों को जोर से नहीं रगड़ना है।

पढ़ना जारी रखें

अब हम बालायाम योग को कब करना चाहिए, इसकी जानकारी दे रहे हैं।

बालायाम योग को कब करना चाहिए – When we should do Nail Rubbing Exercise in Hindi

वैसे तो बालायाम योग को किसी भी समय किया जा सकता है। वहीं, इसे रोजाना अभ्यास में लाने के लिए सुबह या शाम को बालायाम योग टाइम बना सकते हैं, ताकि पूरे ध्यान के साथ इसे किया जा सके। इस बात का ध्यान जरूर रखें कि अच्छी तरह योग करने पर ही इसके लाभ नजर आ सकते हैं।

पढ़ते रहें

चलिए जानते हैं कि बालायाम योग को कितनी देर तक करना सही रहेगा।

बालायाम योग कितनी देर करना चाहिए – How much time should I do Balayam Yoga in Hindi

बालायाम योग टाइम जानने के बाद इस बात को भी जानना जरूरी है कि इसे कितनी देर तक किया जाए। बालायाम को रोजाना 8 से 10 मिनट तक किया जा सकता है। वहीं, इसके करते वक्त आराम लेने की जरूरत महसूस हो, तो कुछ सेकंड का आराम एक-दो बार ले सकते हैं।

नीचे भी पढ़ें

अब हम बालायाम योग करने से संबंधित कुछ सावधानियां बता रहे हैं।

बालायाम योग के लिए कुछ सावधानियां – Precautions for Balayam Yoga In Hindi

बालायाम योग को करने से पहले इससे जुड़ी कुछ सावधानियों के बारे में जानना जरूरी है। इन सावधानियों को हम नीचे कुछ बिंदुओं के माध्यम से बता रहे हैं :

  • सावधानी के लिए बालायाम योग को गर्भावस्था के दौरान न करें। माना जाता है कि इससे गर्भाशय में संकुचन पैदा हो सकता है। हालांकि, इससे जुड़े सटीक वैज्ञानिक शोध का अभाव है।
  • अगर किसी को नाखून से जुड़ी कोई समस्या है, तो उसे बालायाम करने से बचना चाहिए। इससे नाखून की समस्या और बढ़ सकती है।
  • उच्च रक्तचाप से ग्रस्त व्यक्तियों को भी यह योग नहीं करना चाहिए। इससे रक्तचाप और भी बढ़ सकता है। हालांकि, इससे भी जुड़े वैज्ञानिक अध्ययन का अभाव है।

पढ़ते रहें

आगे जानिए, बालायाम योग करने के नुकसान।

बालायाम योग के साइड इफेक्ट – Side Effect of Balayam Yoga in Hindi

बालायाम योग के नुकसान से जुड़ा कोई सटीक वैज्ञानिक शोध उपलब्ध नहीं है। फिर भी सावधानी के लिए जैसा कि हमने ऊपर बताया कि नाखूनों की समस्या, उच्च रक्तचाप की समस्या से जूझ रहे लोगों और गर्भवतियों को इसे करने से बचना चाहिए, वरना इसके कुछ नुकसान सामने आ सकते हैं।

बालायाम योग बालों के लिए किस प्रकार लाभकारी हो सकता है, यह बात अब आपको समझ आ गई होगी। साथ ही यह भी अच्छी तरह पता चल गया होगा कि इसे किस प्रकार किया जाना चाहिए। अब आप चाहें, तो बाल झड़ने की समस्या के लिए इसका रोजाना अभ्यास कर सकते हैं। वहीं, बालायाम के नुकसान से बचने के लिए बालायाम करने से जुड़ी सावधानियों को ध्यान में रखना भी जरूरी है। हम उम्मीद करते हैं कि यह लेख आपको पसंद आया होगा। इसी तरह की जानकारी प्राप्त करने के लिए जुड़े रहें स्टाइलक्रेज के साथ।

अक्सर पूछे जाने वाले सवाल :

बालायाम योग से किसे बचना चाहिए?

जैसा कि हमने ऊपर बताया कि गर्भवतियों, उच्च रक्तचाप के मरीजों और नाखूनों की समस्या से जूझ रहे लोगों को बालायाम योग करने से बचना चाहिए।

क्या बालायाम योग वास्तव में काम करता है?

जी हां, बालायाम योग बालों के लिए काम कर सकता है (3)। इससे जुड़ी विस्तारपूर्वक जानकारी हमने ऊपर दे दी है।

क्या नाखून रगड़ने से बालों के पुनः विकास में मदद मिल सकती है?

नाखून रगड़ने से बालों के पुनः विकास में मदद मिल सकती है या नहीं, इसपर सटीक वैज्ञानिक शोध का अभाव है। हालांकि, ऐसा माना जाता है कि ऐसा करने पर बालों को लाभ पहुंच सकता है।

Sources

Articles on StyleCraze are backed by verified information from peer-reviewed and academic research papers, reputed organizations, research institutions, and medical associations to ensure accuracy and relevance. Read our editorial policy to learn more.

  1. Effects of Reflexology Massage on Hair Regrowth After Chemotherapy-induced Alopecia Among Women with Cancer: A Randomised Clinical Trial
    http://cms.galenos.com.tr/Uploads/Article_39939/BezmialemScience-8-215-En.pdf
  2. IMPORTANCE OF YOGA IN KESHAVIKAR
    https://jsss.instituteofeayurved.com/pdf/vol2-3-oct-dec16/Article-2.pdf
  3. ROLE OF AYURVEDA IN COSMETOLOGY W.S.R. TO HAIRCARE
    http://ijaar.in/posts/images/upload/IJAAR_VOLUME_IV__ISSUE_III_JUL_%E2%80%93AUG_2019_Page_No__271_279.pdf
Was this article helpful?
The following two tabs change content below.
भूपेंद्र वर्मा ने सेंट थॉमस कॉलेज से बीजेएमसी और एमआईटी एडीटी यूनिवर्सिटी से एमजेएमसी किया है। भूपेंद्र को लेखक के तौर पर फ्रीलांसिंग में काम करते 2 साल हो गए हैं। इनकी लिखी हुई कविताएं, गाने और रैप हर किसी को पसंद आते हैं। यह अपने लेखन और रैप करने के अनोखे स्टाइल की वजह से जाने जाते हैं। इन्होंने कुछ डॉक्यूमेंट्री फिल्म की स्टोरी और डायलॉग्स भी लिखे हैं। इन्हें संगीत सुनना, फिल्में देखना और घूमना पसंद है।

ताज़े आलेख