15+ Best Tips for Healthy & Strong relationships In Hindi – रिश्तों को बेहतर और मजबूत कैसे बनाएं

by

करीबी रिश्ते मुकद्दर से बनते हैं, इसलिए उन्हें निभाने और मजबूत बनाने की कला हर किसी को आनी चाहिए। अगर रिलेशनशिप कमजोर पड़ने लगते हैं, तो उसका सीधा असर व्यक्ति के मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य पर पड़ सकता है। इसी वजह से छोटी-मोटी खीटपीट को नजरअंदाज करते हुए रिश्तों को तहेदिल से निभाना चाहिए। रिश्ते कांच जैसे होते हैं, इसलिए कमजोर होते ही इनके बिखरने का खतरा बना रहता है। तो क्यों न आज से रिश्तों को जताने की जगह इन्हें मजबूत बनाने की कोशिश की जाए। रिश्तों को बेहतर कैसे बनाएं, जानने के लिए आप यहां दिए गए रिलेशनशिप टिप्स अपना सकते हैं।

स्क्रॉल करें

आर्टिकल में हम सबसे पहले बता रहे हैं कि जीवन में रिश्तों की क्या अहमियत होती है।

जीवन में संबंधों का क्या महत्व है?

15+ Best Tips for Healthy & Strong relationships In Hindi

Shutterstock

इसमें कोई दो राय नहीं कि रिश्तों का असर स्वास्थ्य पर भी पड़ता है। कई डॉक्टर और साइकेट्रिस्ट भी ऐसा कहते हैं। विशेषज्ञों के मुताबिक, अच्छे रिश्ते व्यक्ति को स्वस्थ बनाने, खुश रखने और लंबी उम्र देने में मदद कर सकते हैं (1)। रिश्तों के कमजोर होने और उनमें खटास आने की वजह से तनाव और चिंता भी बढ़ सकती हैं (2)।

ये रिश्ते ही होते हैं, जो कठिनाई के समय में मदद के लिए हाथ बढ़ाते हैं। रिश्ते अकेलेपन को दूर करने और जीवन में स्थिरता लाने के साथ ही चुनौतियों का सामना करने के लिए हौसला बढ़ाते हैं। इसी वजह से रिश्तों को महत्वपूर्ण माना जाता है।

आगे पढ़ें कुछ खास

रिश्तों के महत्व के बाद हम आगे इन्हें मजबूत बनाने के कुछ तरीके बता रहे हैं।

15+ बेस्ट टिप्स रिश्तों को स्वस्थ और मजबूत रखने के लिए- Top 15+ Best Tips for Healthy & Strong relationships In Hindi

15+ Best Tips for Healthy & Strong relationships In Hindi

Shutterstock

रिश्ते हमें सही राह दिखाने के साथ ही जीवन जीने की कला सिखाते हैं। रिश्तों पर भरोसा रखकर ही हम सही मायने में रिश्ता मजबूत बना सकते हैं। यहां हम आपको रिश्तों को मजबूत बनाने के लिए कुछ जरूरी टिप्स के बारे में बता रहे हैं।

1. विश्वास

किसी भी रिश्ते के लिए विश्वास अहम नींव होती है। बिना भरोसे वाला रिश्ता खोखले पेड़ जैसा होता है, जो कभी भी गिर सकता है। इसी वजह से रिश्ते को मजबूत बनाने के लिए एक दूसरे पर विश्वास करना जरूरी है।

2. बदलाव के लिए दवाब न डालें

कई बार हम अपने पार्टनर को खुद जैसा बनाने की कोशिश करते हैं, जिसकी वजह से रिश्तों में तनाव आने लगता है। इससे धीरे-धीरे रिश्ता इतना कमजोर हो जाता है और उसके टूटने का डर बना रहता है। इसी वजह से अपने पार्टनर को बदलने और खुद जैसा बनाने की कोशिश करने की जगह खुद की आदतों को बदल लें। इससे रिश्ते में मिठास घुलने के साथ ही इसकी डाेर भी मजबूत रहेगी।

3. एक दूसरे को समय दें

आज की भाग-दौड़ भरी जिंदगी में एक दूसरे के लिए समय निकालना मुश्किल हो जाता है। वक्त की इस कमी के कारण रिश्ता कमजोर पड़ने लगता है। यह समय रिश्तों को मजबूत बनाने के साथ ही आप दोनों को करीब लाने में मदद कर सकता है। कुछ और न सही, तो कम-से-कम एक दूसरे का सुख-दुख बांटने के लिए समय जरूर निकालें।

4. एक दूसरे का सम्मान करें

रिश्ता चाहे कैसा भी हो इसमें एक दूसरे का सम्मान बहुत अहमियत रखता है। आपने अंग्रेजी में वह कहावत तो सुनी ही होगी कि ‘गिव रिस्पेक्ट टेक रिस्पेक्ट।’ यदि आप रिश्तों को सम्मान नहीं देते हैं, तो लोग आपसे दूर भागने लगते हैं। इसी वजह से एक दूसरे की भावनाओं का, बातों का और सुझाव का सम्मान करें।

5. एक दूसरों की केयर करें

रिलेशनशिप को मजबूत बनाने के लिए सबसे जरूरी है एक दूसरे की केयर करना। एक दूसरों को पसंद आने वाली चीजों का ख्याल रखने से रिश्ता मजबूत होता है। इससे सामने वाले को एहसास होगा कि आपके लिए वो कितने खास हैं। इससे रिश्ते में मधुरता के साथ-साथ रिश्तों में मजबूती भी आ सकती है।

6. मन में बातों को दबाकर न रखें

रिलेशनशिप में सबसे जरूरी होता है कि अपनी भावनाओं और विचारों के बारे में खुलकर और ईमानदारी से बताना। कई बार बातों को मन में ही दबाने से रिश्ते कमजोर होने लगते हैं और एक-दूसरे पर लोग शक करने लगते हैं। ऐसे में हमेशा अपने मन की बात को सामने वाले को बताएं।

7. आधी-अधूरी बातें न करें

अक्सर आधी-अधूरी बातें रिश्तों में आने वाली खटास का कारण बन जाती हैं। इसी वजह से बातें हमेशा पूरी और स्पष्ट तरीके से कहें। जैसे अधूरा ज्ञान खतरनाक होता है, ठीक उसी तरह आधी-अधूरी बातें रिश्ते को कमजोर बनाती हैं और गलतफहमी पैदा करती हैं। अधूरी बातों के कारण कई बार लड़ाई-झगड़ा तक हो जाता है। इसी वजह से बातें पूरी करें।

8. आउटिंग प्लान करें

रिश्ते में नई जान डालने और मजबूती लाने का एक तरीका आउटिंग प्लान करना भी है। आप अपने पार्टनर, फैमिली या फिर दोस्त, जिसके साथ भी अपना रिश्ता मजबूत करना चाह रहे हैं, उन्हें आउटिंग पर लेकर जाएं। कम-से-कम महीने में एक बार आउटिंग के लिए एक साथ जरूर जाएं। बाहर घूमने जाने से लोग फ्रेश फील करते हैं और एक गहरा बॉन्ड भी बनता है।

9. अपने पर्सनल इवेंट्स में शामिल करें

किसी भी फंक्शन और पार्टी में अकेले शामिल होने की जगह अपने पार्टनर को भी साथ ले जाएं। अपने जानकारों से उन्हें मिलाएं। इससे सामने वाले को अच्छा महसूस होगा और यह एहसास होगा कि वो आपके जीवन में कितनी अहमियत रखते हैं। इससे गलतफहमियों की वजह से बीच में आने वाली दूरियां भी कम हो सकती हैं।

10. छोटी-छोटी खुशियों का रखें ध्यान

रिश्तों को मजबूत बनाने का एक मंत्र उनकी छोटी-छोटी खुशियों का ख्याल रखना भी है। मान लीजिए आपके दोस्त, पार्टनर या फिर फैमिली में से किसी को भी कोई खास आइसक्रीम या मिठाई पसंद है। आप
ऑफिस से लौटते हुए इसे अपने साथ ले आएं या फिर कभी स्पेशली इन्हें खाने के लिए बाहर चले जाएं। इसी तरह से दूसरी बातों का भी ध्यान रखें। इससे उन्हें खुशी मिलती है और आप दोनों का रिश्ता मजबूत हो सकता है।

11. एक तरफा फैसला लेने से बचें

अधिकतर रिश्ते तब कमजोर हो जाते हैं, जब सामने वाला बिना किसी सहमति के जरूरी फैसले ले लेता है। अपने रिश्ते या फिर उन्हें प्रभावित करने वाले किसी भी फैसले को अकेले न लें। सामने वाले को भी उसमें शामिल करें और उनसे राय लें। कोई भी रिश्ता एक तरफा नहीं होता, इसलिए फैसला भी कभी एक तरफा नहीं लेना चाहिए। रिश्ते में दोनों की भावनाओं का सम्मान करना और मिलजुलकर फैसला लेना जरूरी होता है।

12. सामने वाली की बात को सुनें

किसी भी रिश्ते को मजबूत बनाने के लिए आपके एक अच्छा श्रोता होना जरूरी है। अक्सर रिश्तों में खटास तब आने लगती है, जब सामने वाली की बात को ध्यान से नहीं सुना जाता है। इसी वजह से वो जो भी कहें उसे ध्यान से सुनें और समझने की कोशिश भी करें। इससे रिश्तों में गलफहमी की जगह नहीं बचती और सामने वाला क्या सोचता है, यह भी अच्छे से समझ आ जाता है।

13. परिवर्तन को स्वीकार करें

परिवर्तन प्रकृति का नियम होता है और यही नियम रिश्तों पर भी लागू होता है। समय के साथ व्यक्ति का नजरिया और रहन-सहन भी बदलता है। इन बदलावों पर लड़ने की जगह इन्हें स्वीकार करने की कोशिश करें। अगर वह बदलाव आपको पसंद नहीं आ रहा है, तो इस बात को सही ठंग से अपने पार्टनर के सामने रखें। साथ ही पार्टनर की बात को भी समझने की कोशिश करें।

14. चीजों की सराहना करें

रिश्तों में मिठास घोलने के लिए एक दूसरे के कामों की सराहना करना जरूरी है। इससे रिश्ता मजबूत बनता है और पार्टनर को खुशी का एहसास होता है। इसी वजह से छोटी-बड़ी हर तरह के कामों को एप्रिशिएट करना शुरू कर दें।

15. जीवन के हर उतार-चढ़ाव में साथ रहें

हर किसी के जीवन में उतार-चढ़ाव आते रहते हैं। ऐसे में कोशिश करें कि अपने पार्टनर के हर उतार-चढ़ाव में आप उनके साथ रहें। जीवन में जब भी लो-पॉइन्ट आए, तो उन्हें आगे बढ़ने के लिए प्रेरित करें और अच्छे वक्त का जश्न मनाने के लिए भी उनके साथ रहें। इससे रिश्ता मजबूत बनता है।

16. माफी मांगना और माफ करना सीखें

रिश्तों में अक्सर छोटी-बड़ी बात को लेकर झगड़ा होना आम बात है। ऐसे में खुद से पहल करके माफी मांग लें और सामने वाली की गलती हो, तो उसे माफ करना सीखें। इससे रिश्ते में किसी तरह का मन मुटाव नहीं रहता और रिश्ता मजबूत बनता है।

17. किए गए वादों को पूरा करें

रिश्तों में मजबूती लाने के लिए किए गए वादों को पूरा करने की कोशिश करें। अगर किसी कारण से आप उस काम को न कर पाएं, तो उन्हें समझाएं कि आखिर किन परेशानियों के कारण ऐसा हुआ। वादा करते समय यह भी ध्यान दें कि वो पूरा हो सकता है कि नहीं। ऐसी चीजों का वादा बिल्कुल न करें, जो संभव न हो। इससे रिश्ते में खटास आ सकती है और उनका आप से भरोसा उठ सकता है।

पढ़ते रहें यह लेख

आगे हम कमजोर होते रिश्तों को पहचानने के लिए कुछ जरूरी टिप्स बता रहे हैं।

अनहेल्दी रिश्तों की पहचान कैसे करें – Identifying Unhealthy Relationships in Hindi

15+ Best Tips for Healthy & Strong relationships In Hindi

Shutterstock

रिश्तों में कभी-कभी लड़ाई और मन मुटाव होना आम है। यदि यह ज्यादा समय चलता है, तो रिश्तों में कड़वाहट आ जाती है। ऐसे में यह समझना जरूरी है कि रिश्ता कितना कमजोर होता जा रहा है। इसकी पहचान क्या है यह नीचे जानें।

  • बात-बात पर शक करना।
  • बिना किसी कारण के झगड़ते रहना।
  • एक दूसरे से ज्यादा बात न करना।
  • रिश्तों के प्रति गंभीर न होना।
  • एक दूसरे की इज्जत न करना।
  • एक साथ समय बिताने और बात करने पर चिड़चिड़ाहट होना।
  • छोटी-छोटी बातों पर बहस करना और बात को लंबे समझ तक खींचते रहना।
  • पुरानी बातों को बार-बार याद करके लड़ाई करना।
  • हर बात पर एक-दूसरे को नीचा दिखाने की कोशिश करना।
  • अच्छे कामों में भी खामियां निकालना।
  • छोटी गलतियों को बहुत बड़ा बनाकर झगड़ना।

लेख में बने रहें

अंत में हम रिश्तों में दोबारा जान डालने के लिए कुछ टिप्स के बारे में बता रहे हैं।

कमजोर रिश्ते को दोबारा कैसे मजबूत बनाएं – Tips to reinforce Unhealthy relationship

15+ Best Tips for Healthy & Strong relationships In Hindi

Shutterstock

ऐसा नहीं है कि एक बार रिश्तों में खटास आने के बाद उसमें वापस मिठास नहीं आ सकती। कई बार कुछ गलतियों के कारण रिश्तों की डोर कमजोर होती है, लेकिन कुछ प्रयासों से उसे दोबारा मजबूत बनाया जा सकता है। यहां हम आपको रिश्तों में जान डालने वाले कुछ आसान टिप्स बता रहे हैं।

  • गलती होने पर उसे स्वीकार करें और माफी मांग लें।
  • अपने इगो को छोड़कर खुद से बात शुरू करें।
  • झगड़ा करने और चिल्लाने की आदत है, तो खुद पर काबू रखें।
  • उनकी खुशियों में शामिल होना शुरू कर दें।
  • उन्हें अपनी पसंद के हिसाब से फैसले लेने की आजादी दें।
  • सप्ताह में एक बार अपने पार्टनर को बाहर घुमाने ले जाएं।
  • समय-समय पर उन्हें गिफ्ट्स या सरप्राइज दें।

रिश्ते में अगर चमक और मजबूती न हो, तो जिंदगी खोखली लगने लगती है। इसी वजह से अपने जीवन के हर रिश्ते को मजबूत बनानी की कोशिश हमेशा करनी चाहिए। अगर किसी भी मोड़ पर लगने लगे कि रिश्ता नाजुक हो रहा है, तो लेख में बताए गए टिप्स और रिश्ते को मजबूत बनाने के तरीकों को आप अपना सकते हैं। उम्मीद करते हैं कि इस लेख को पढ़ने के बाद आप अपने रिश्ते को अटूट बनाने की कोशिश जरूर करेंगे। याद रखें कि रिश्ते ही जीवन में खुशहाली लेकर आते हैं, इसलिए इन्हें मजबूत बनाए रखना जरूरी है।

2 संदर्भ (Sources):

Stylecraze has strict sourcing guidelines and relies on peer-reviewed studies, academic research institutions, and medical associations. We avoid using tertiary references. You can learn more about how we ensure our content is accurate and current by reading our editorial policy.
Was this article helpful?
The following two tabs change content below.

Saral Jain

सरल जैन ने श्री रामानन्दाचार्य संस्कृत विश्वविद्यालय, राजस्थान से संस्कृत और जैन दर्शन में बीए और डॉ. सी. वी. रमन विश्वविद्यालय, छत्तीसगढ़ से पत्रकारिता में बीए किया है। सरल को इलेक्ट्रानिक मीडिया का लगभग 8 वर्षों का एवं प्रिंट मीडिया का एक साल का अनुभव है। इन्होंने 3 साल तक टीवी चैनल के कई कार्यक्रमों में एंकर की भूमिका भी निभाई है। इन्हें फोटोग्राफी, वीडियोग्राफी, एडवंचर व वाइल्ड लाइफ शूट, कैंपिंग व घूमना पसंद है। सरल जैन संस्कृत, हिंदी, अंग्रेजी, गुजराती, मराठी व कन्नड़ भाषाओं के जानकार हैं।

ताज़े आलेख

scorecardresearch