सामग्री और उपयोग

भांग के बीज के 9 फायदे और नुकसान – Hemp Seeds Benefits and Side Effects in Hindi

by
भांग के बीज के 9 फायदे और नुकसान – Hemp Seeds Benefits and Side Effects in Hindi Hyderabd040-395603080 November 19, 2019

भांग को एक नशीले पदार्थ के रूप में जाना जाता है, लेकिन अगर इसे सीमित मात्रा और सही तरह से इस्तेमाल किया जाए, तो यह एक औषधि के रूप में भी काम कर सकता है। स्टाइलक्रेज के इस लेख से हम भांग के बीज के फायदे के साथ-साथ भांग के बीज का तेल के फायदे के बारे में जानकारी देंगे। हम आपको भांग बीज के तेल के गुण या भांग के बीज के फायदे के बारे ज्यादा से ज्यादा प्रमाण के साथ जानकारी देने की कोशिश करेंगे। हालांकि, भांग के बीज स्वास्थ्य के लिहाज से फायदेमंद हैं, लेकिन ये बीमारी को पूरी तरह से ठीक नहीं कर सकते। भांग बीज के गुण इस आर्टिकल में बताई जा रही समस्याओं से कुछ हद तक बचाव कर सकते हैं या उनके असर को कुछ कम करने में सहायक भूमिका निभा सकते हैं।

लेख की शुरुआत हम भांग बीज और भांग के बीज से बनने वाले तेल के बारे में जानने से करते हैं।

भांग का बीज और इसका तेल क्या है?

भांग के बीज भांग के पौधे से मिलते हैं और इसी बीज से भांग का तेल तैयारा किया जाता है। भांग के बीज और भांग बीज का तेल दोनों ही औषधीय गुणों से भरपूर होते हैं। अगर सही तरीके से इनका उपयोग किया जाए, तो इनके कई शारीरिक लाभ हो सकते हैं। भांग के बीज और भांग बीज के तेल में पॉलीअनसैचुरेटेड फैटी एसिड, प्रोटीन, कैनाबिनोइड (Cannabinoids), विटामिन-ई और कई अन्य पोषक तत्व मौजूद होते हैं, जो इन्हें गुणकारी बनाने में मदद करते हैं (1) (2)।

लेख के अगले के भाग में जानिए भांग बीज या भांग बीज के तेल के गुण क्या-क्या हो सकते हैं।

भांग के बीज और इसके तेल के फायदे – Benefits of Hemp Seed and Oil in Hindi

नीचे हम स्वास्थ्य संबंधी भांग बीज या भांग के बीज का तेल के फायदे के बारे में जानकारी देने की कोशिश कर रहे हैं। ध्यान रहे कि यह किसी भी गंभीर बीमारी को पूरी तरह ठीक करने के लिए नहीं है। यह सिर्फ बीमारी के लक्षणों या प्रभाव को कम करने का काम कर सकता है।

1. कैंसर के लिए

भांग के बीज या भांग के बीज के तेल में कैनबिनोइड (Cannabinoid) नामक तत्व पाया जाता है, जो कैंसर से बचाने में मदद कर सकता है (3) (4)। साथ ही भांग के बीज व पत्तियों में एंटी-कैंसर गुण भी होता है, जो कैंसर होने के जोखिम को कम करने में मदद कर सकता है। इसके बीज को ट्यूमर और अल्सर से बचने के लिए भी उपयोग किया जा सकता है (5)। इसका सेवन करने से पहले एक बार डॉक्टर की सलाह जरूर लें, ताकि वो इसका सेवन करने की सही मात्रा के बारे में बता सकें। साथ ही हम यहां स्पष्ट कर दें कि कैंसर जानलेवा बीमारी है। इसलिए, पूरी तरह से घरेलू इलाज पर निर्भर रहना गलत है। कैंसर जैसी अवस्था में डॉक्टरी उपचार जरूरी है।

2. मधुमेह के लिए

अगर किसी को मधुमेह है, तो भांग के बीज का तेल लाभदायक हो सकता है। इसमें ओमेगा 3 पॉलीअनसैचुरेटेड फैटी एसिड (Omega-3 PUFA) मौजूद होता है, जो मधुमेह के मरीजों में टाइप 1 डायबिटीज (Insulin Dependence) के लक्षणों को कुछ हद तक कम करने में मदद कर सकता है (4)। इस घरेलू उपाय के साथ-साथ डॉक्टर के निर्देश पर मधुमेह की दवा लेना भी जरूरी है। यह घरेलू इलाज सिर्फ मधुमेह से उबरने में मदद कर सकता है।

3. हृदय के लिए

भांग के बीज में ओमेगा 3 और ओमेगा 6 फैटी एसिड मौजूद होते हैं, जो हृदय को स्वस्थ रखने में मदद कर सकते हैं (1)। फिलहाल, इस संबंध में अभी और वैज्ञानिक शोध की आवश्यकता है। वहीं, हृदय को स्वस्थ रखने के लिए सही जीवनशैली और रूटीन की भी जरूरी है।

4. उच्च रक्तचाप के लिए

हाई ब्लड प्रेशर या उच्च रक्तचाप की समस्या किसी को भी हो सकती है। ऐसे में चूहों पर हुए एक शोध के मुताबिक, भांग के बीज में मौजूद मिल प्रोटीन के सेवन से उच्च रक्तचाप में लाभ मिल सकता है (6)। ऐसे में भांग के बीज उच्च रक्तचाप को कुछ हद तक ठीक कर सकते हैं।

नोट : यहां दिए गए वैज्ञानिक प्रमाण में चूहों पर शोध पर जिक्र किया गया है। उच्च रक्तचाप के मामले में मनुष्यों पर भांग का प्रयोग नहीं किया गया है। ऐसे में इसका सेवन करने से पहले डॉक्टरी परामर्श जरूरी है।

5. मासिक धर्म के लिए

मासिक धर्म के दौरान महिलाओं को कई तरह की समस्याएं जैसे – पेट दर्द और ऐंठन का सामना करना पड़ता है। ऐसे में अगर घरेलू उपाय की बात की जाए, तो भांग को मासिक धर्म में होने वाले ऐंठन से छुटकारा पाने के लिए उपयोग किया जा सकता है। इसमें एंटीस्पास्मोडिक गुण मौजूद होता हैं, तो इस आधार पर कहा जा सकता है कि यह मासिक धर्म में होनी वाली ऐंठन से राहत दिला सकते हैं (5)। वहीं, गंभीर अवस्था में डॉक्टर की सलाह लेने में देरी न करें।

6. एंटी-इन्फ्लेमेटरी

भांग के बीज या भांग बीज के तेल में कैनबिनोइड्स (Cannabinoids) मौजूद होते हैं, जिसमें एंटी-इन्फ्लेमेटरी गुण मौजूद होते हैं। अपने इस गुण के कारण यह शरीर में सूजन या अधिक सूजन के कारण होने वाले कैंसर से बचाव कर सकता है (7)। ऐसे में अगर किसी को शरीर में सूजन के कारण कोई समस्या हो रही है, तो इसमें मौजूद एंटी-इन्फ्लेमेटरी गुण कुछ हद तक राहत दिलाने में मदद कर सकते हैं (5)। साथ ही डॉक्टर की सलाह भी जरूरी है, क्योंकि सूजन के कारण शरीर में कई अन्य समस्याएं भी हो सकती है। इसलिए, गंभीर अवस्था में घरेलू उपचार के साथ-साथ डॉक्टरी इलाज भी जरूरी है।

7. रोग-प्रतिरोधक क्षमता के लिए

अगर किसी की रोग-प्रतिरोधक क्षमता कमजोर हो, तो वह व्यक्ति कई तरह की बीमारियों का शिकार हो सकता है। ऐसे में भांग बीज में पाए जाने वाले कैनबिनोइड्स को लेकर जानवरों पर कई वैज्ञानिक शोध किए गए हैं। इन शोध में जो परिणाम सामने आए हैं, उसके अनुसार कैनबिनोइड्स कई प्रकार की प्रतिरक्षा कोशिकाओं की कार्यप्रणाली को मॉड्यूलेट करने का काम कर सकता है। फिलहाल, मानव प्रतिरक्षा प्रणाली पर कैनबिस या कैनाबिनोइड के प्रभाव के बारे में अभी और शोध की आवश्यकता है (7)।

8. त्वचा के लिए

भांग के बीज का तेल त्वचा के लिए भी लाभकारी हो सकता है। इसका उपयोग सूर्य की हानिकारक किरणों से त्वचा को होने वाले क्षति से बचा सकता है। इसके अलावा, यह स्किन कैंसर से भी बचाव कर सकता है (8)। त्वचा के लिए भांग के बीज के तेल से बना साबुन उपयोग किया जा सकता है। अगर किसी की त्वचा संवेदनशील है, तो उसे इसका उपयोग करने से पहले त्वचा विशेषज्ञ की राय जरूर लेनी चाहिए।

9. पाचन के लिए

अगर किसी को पाचन संबंधी समस्या है, तो भांग एक औषधि की तरह काम कर पाचन की समस्या को ठीक करने में मदद कर सकती है। जैसा कि हमने ऊपर बताया कि इसमें कैनबिनोइड्स (Cannabinoids) नामक कंपाउंड पाया जाता है, जो पेट दर्द, दस्त और सही पाचन में लाभकारी हो सकता है (5)। फिलहाल, इस संबंध में अभी और शोध की आवश्यकता है, इसलिए इसका सेवन डॉक्टर की सलाह पर ही करना बेहतर होगा (9)।

आगे जानिए भांग के बीज में मौजूद पौष्टिक तत्वों के बारे में।

भांग के बीज के पौष्टिक तत्व – Hemp Seeds Nutritional Value in Hindi

नीचे हम भांग के बीज में पाए जाने वाले पौष्टिक तत्वों की सूची आपके साथ साझा कर रहे हैं (10)।

पौष्टिक तत्व प्रति 100 ग्राम
एनर्जी 600 केसीएल
प्रोटीन 33.33 ग्राम
टोटल लिपिड (फैट)50 ग्राम
कार्बोहाइड्रेट6.67 ग्राम
फाइबर, टोटल डायटरी 3.3 ग्राम
आयरन 9 मिलीग्राम
पोटैशियम 800 मिलीग्राम
फैटी एसिड, टोटल सैचुरेटेड 3.33 ग्राम

आगे जानिए भांग बीज का उपयोग कैसे किया जाए।

भांग के बीज का उपयोग – How to Use Hemp Seeds in Hindi

नीचे हम भांग के बीज को उपयोग करने के कुछ तरीकों के बारे में बता रहे हैं।

  • भांग के बीज को पीसकर उसके पाउडर को दलिया या दही के साथ सेवन किया जा सकता है।
  • भांग बीज को स्मूदी में डालकर सेवन किया जा सकता है।
  • सलाद में भांग बीज का सेवन किया जा सकता है।
  • घर में भांग के बीज का दूध बनाकर सेवन किया जा सकता है।

नोट : भांग बीज या भांग के बीज का तेल को कब और कितनी मात्रा में सेवन करना चाहिए, इस बारे में कोई पर्याप्त वैज्ञानिक प्रमाण उपलब्ध नहीं हैं। इसलिए, इस बारे में डॉक्टर की सलाह जरूरी है। डॉक्टर व्यक्ति की उम्र और स्वास्थ्य के अनुसार इसके सेवन की सलाह दे सकते हैं।

भांग बीज के अधिक सेवन से भांग के बीज के नुकसान भी हो सकते हैं, जिसके बारे में हम लेख के अलगे हिस्से में बता रहे हैं।

भांग के बीज और इसके तेल के नुकसान – Side Effects of Hemp Seeds in Hindi

नीचे जानिए भांग के बीज से होने वाले दुष्प्रभावों के बारे में।

  • गर्भवती महिला इसका उपयोग न करें क्योंकि इससे गर्भपात होने का खतरा हो सकता है (5)।
  • इसके अधिक सेवन से मस्तिष्क संबंधी समस्या हो सकती हैं (5)।
  • इससे एलर्जी भी हो सकती है, लेकिन इसका कोई वैज्ञानिक प्रमाण नहीं है।

भांग बीज या भांग के बीज का तेल के फायदे जानकर कई लोग इसे अपनी जीवनशैली में शामिल करना चाह रहे होंगे। इस औषधि को डेली रूटीन में शामिल करें, लेकिन डॉक्टरी सलाह के बाद। हर किसी का शरीर एक जैसा नहीं होता, इसलिए भांग बीज के लाभ उठाने से पहले डॉक्टर से इसके उपयोग के बारे में जानकारी जरूर लें, क्योंकि भांग के बीज के नुकसान भी हैं। इसलिए, भांग के बीज के नुकसान से बचने के लिए इसे सही तरीके से उपयोग में लाएं। साथ ही भांग बीज के उपयोग के बाद अपना अनुभव हमारे साथ साझा करना न भूलें।

The following two tabs change content below.

Arpita Biswas

अर्पिता ने पटना विश्वविद्यालय से मास कम्यूनिकेशन में स्नातक किया है। इन्होंने 2014 से अपने लेखन करियर की शुरुआत की थी। इनके अभी तक 1000 से भी ज्यादा आर्टिकल पब्लिश हो चुके हैं। अर्पिता को विभिन्न विषयों पर लिखना पसंद है, लेकिन उनकी विशेष रूचि हेल्थ और घरेलू उपचारों पर लिखना है। उन्हें अपने काम के साथ एक्सपेरिमेंट करना और मल्टी-टास्किंग काम करना पसंद है। इन्हें लेखन के अलावा डांसिंग का भी शौक है। इन्हें खाली समय में मूवी व कार्टून देखना और गाने सुनना पसंद है।

संबंधित आलेख