ब्लीच करने के फायदे और नुकसान – Benefits and Side effects of Bleach in Hindi

Written by , (एमए इन मास कम्युनिकेशन)

हर किसी की चाहत होती है कि वो खूबसूरत दिखे। इसके लिए लोग अपने चेहरे पर तमाम तरह के प्रोडक्ट्स का इस्तेमाल करते हैं। इन्हीं में से एक ब्लीच भी है। जी हां, अक्सर ब्यूटी पार्लर और सलोन में ब्यूटीशियन भी स्किन ब्लीच करवाने की सलाह देते हैं। क्या सही में ब्लीच करने के फायदे होते हैं या इससे चेहरे को नुकसान पहुंचता है, समझने के लिए इस लेख को पढ़ें। स्टाइलक्रेज का ये आर्टिकल आपको ब्लीच के फायदे के साथ ही ब्लीच करने के नुकसान से भी वाकिफ कराएगा।

स्क्रॉल करें

अब ब्लीच करने के फायदे क्या हैं, इस पर चर्चा करते हैं।

ब्लीच करने के फायदे – Benefits of Bleach in Hindi

ब्यूटी एक्सपर्ट्स का मानना है कि त्वचा पर ब्लीच लगाने से कई तरह के फायदे हो सकते हैं। इसी वजह से हम यहां ब्यूटीशियन के दावों के आधार पर ब्लीच करने के फायदे बता रहे हैं (1)। बस ध्यान दें कि ब्लीच का ज्यादा उपयोग बिल्कुल नहीं करना चाहिए, वरना चेहरे को गंभीर नुकसान हो सकता है (2)।

1. सन टैन के लिए

त्वचा की टैनिंग को दूर करने के लिए ब्लीच का उपयोग किया जाता है। इसके इस्तेमाल से त्वचा की टैनिंग काफी हद तक कम होने का दावा किया जाता है। रिसर्च भी बताती हैं कि ब्लीच एक ऐसा केमिकल है, जिसे उसके लाइटनिंग और व्हाइटनिंग प्रभाव के लिए जाना जाता है (3)। इस आधार पर कह सकते हैं कि सन टैन को कम करने में ब्लीच करना मददगार हो सकता है। बस ध्यान दें कि इसका ज्यादा उपयोग स्किन को नुकसान भी पहुंचाता है, इसलिए सीमित मात्रा में ही इसे इस्तेमाल करें।

2. ग्लोइंग स्किन

माना जाता है कि त्वचा पर ग्लो लाने में भी ब्लीच से मदद मिल सकती है। ब्यूटीशियन दावा करते हैं कि ब्लीच करने के बाद चेहरा में ताजगी और अलग-सी चमक आ जाती है। साथ ही ब्लीच करने से त्वचा की रंगत भी पहले के मुकाबले बेहतर हो सकती है (2)। इसकी वजह ब्लीचिंग क्रीम में मौजूद मेलेनिन (त्वचा की रंगत गहरा करने वाला पिगमेंट) के उत्पादन को रोकना माना जाता है (4)।

3. दाग धब्बों को कम करे

चेहरे पर मुंहासों के काले धब्बों को हल्का करने के लिए ब्लीच एक झटपट तरीका हो सकता है। दरअसल, ब्लीच से मेलेनिन प्रोडक्शन को कम करके धब्बों को हल्का करने में मदद मिल सकती है (2)। बस इसका उपयोग ज्यादा न करें, अन्यथा फायदे की जगह ब्लीच के नुकसान हो सकते हैं। 

4. चेहरे के बाल छुपाए

चेहरे के बारीक बाल की वजह से त्वचा की रंगत गहरी नजर आती है। ऐसे में त्वचा पर ब्लीच लगाकर चेहरे के बालों का रंग सुनहरा या त्वचा की रंगत जैसा किया जाता है। इससे चेहरे पर बाल ज्यादा नजर नहीं आते और त्वचा की रंगत एक सार नजर आने लगती है। इसी वजह से ब्लीच को बालों को छुपाने का अच्छा और आसान तरीका माना जाता है। 

पढ़ना जारी रखें

ब्लीच करने के फायदे के बाद इसके इस्तेमाल के तरीके जानते हैं।

ब्लीच करने का तरीका और विधि

ब्लीच का इस्तेमाल भले ही चेहरे की रंगत सुधारने के लिए किया जाता है, लेकिन इसे करते समय ध्यान देना जरूरी है। हम ऊपर बता ही चुके हैं कि ये एक तरह का केमिकल होता है। ऐसे में अगर इसकी मात्रा ज्यादा हो जाती है, तो इसके नकारात्मक परिणाम चेहरे पर नजर आ सकते हैं। इसी वजह से आगे हम ब्लीच का उपयोग चेहरे पर कैसे करें, यह बता रहे हैं।

  • ब्लीच का उपयोग करने से पहले अपने चेहरे को अच्छे फेसवॉश से साफ करें।
  • अब चेहरे को थपथपाकर सुखाने के बाद ब्लीच के पैक को खोलें।
  • ध्यान दें कि ब्लीच के पैकेट में दो पाउच और दो डिब्बी होती हैं। इसमें से एक प्री क्रीम और एक पोस्ट क्रीम का पैक होता है। साथ ही एक क्रीम की डिब्बी और एक एक्टीवेटर की डिब्बी होगी।
  • पैकेट में से प्री क्रीम के पाउच से क्रीम लेकर चेहरे पर लगाएं और एक मिनट तक हल्के हाथों से मसाज करें।
  • कुछ पैकेट में प्री क्रीम नहीं आती हैं, तो आप उस पैक के हिसाब से इस स्टेप को स्किप भी कर सकते हैं।
  • अब अपने चेहरे के अनुसार एक छोटी कटोरी में पैकेट में मौजूद चम्मच से 2-3 चम्मच ब्लीच निकाल लें। इसके बाद उसमें एक चुटकी एक्टिवेटर को अच्छे से मिला लें।
  • ब्लीच को पैक में दिए गए एप्लीकेटर की सहायता से अपने चेहरे और गर्दन पर अच्छे से लगाएं। इसको ब्रश या अपनी उंगलियों से भी लगा सकते हैं।
  • अब ब्लीच को चेहरे पर 10 से 15 मिनट के लिए लगा रहने दें।
  • फिर हल्के गीले कपड़े या सॉफ्ट टिश्यू की मदद से चेहरे को पोछ लें और ठंडे पानी से चेहरा धो लें।

पढ़ते रहें लेख

ब्लीच करने का तरीका और विधि के बाद अब इसके नुकसान पर एक नजर डाल लेते हैं।

ब्लीच करने के नुकसान – Side Effects of Bleach in Hindi

ब्लीच लगाने से त्वचा पर फायदों के अलावा कुछ नुकसान भी हो सकते हैं। ये नुकसान ब्लीच का अधिक और बार-बार उपयोग करने पर हो सकता है। अधिकता से होने वाले ब्लीच के नुकसान कुछ इस प्रकार हैं (3) (4) (5)।

  • त्वचा पर ब्लीच लगाने से कुछ लोगों को हल्की जलन महसूस हो सकती है।
  • संवेदनशील लोगों के चेहरे पर इसका इस्तेमाल करने से स्किन लाल हो सकती है।
  • ब्लीच के ज्यादा उपयोग से त्वचा की उपरी परत पतली हो सकती है।
  • इसके अधिक उपयोग से स्किन कैंसर होने का खतरा बढ़ सकता है।
  • ब्लीच से कुछ लोगों को सूजन जैसी समस्याएं उत्पन्न हो सकती है।
  • ब्लीच का त्वचा पर अधिक उपयोग से मोतियाबिंद की समस्या हो सकती है।
  • त्वचा पर काले धब्बे और मुंहासे होने की भी शिकायत हो सकती है।
  • चेहरे पर ब्लीच लगाते समय ये मुंह के अंदर चली जाए, तो थायराइड, ल्यूकेमिया (खून का कैंसर), लीवर डैमेज और हीमोलिटिक एनीमिया जैसी परेशानी हो सकती है।
  • ब्लीच को चेहरे पर लगाने के दौरान आंखों पर हल्की चिरमिरहाट और जलन कुछ लोगों को महसूस होती है। इससे संवेदनशील लोगों की आंखों में लालिमा भी हो सकती है।

स्क्रॉल करें

ब्लीच करते वक्त बरतने वाली सावधानियों के बारे में चर्चा करते हैं।

ब्लीच करने से पहले व बाद क्या करें और सावधानियां

नीचे लेख में हम ब्लीच करने से पहले और बाद में क्या करना चाहिए, यह बता रहे हैं। इसके अलावा, इसको त्वचा पर लगाने से पहले किन चीजों की सावधानियों को बरतना चाहिए, इसकी भी चर्चा करेंगे।

ब्लीच करने से पहले :

  • अमोनिया फ्री ब्लीच का चुनाव करें।
  • बाजार से ब्लीच खरीदते वक्त अपने त्वचा के अनुसार ब्लीच का चयन करें। जैसे कि त्वचा तैलीय, रूखी जिस प्रकार की भी ही हो उनके अनुरूप ही ब्लीच को खरीदें।
  • सबसे पहले ब्लीच का पैच टेस्ट करें। किसी भी तरह की समस्या नजर न आए, तो ही इसका उपयोग चेहरे पर करें।
  • ब्लीच लगाते वक्त उसके पैक में दिए गए दिशा निर्देशों का पालन करें।
  • ब्लीच के पैक में प्री क्रीम दी गई है, तो उसे चेहरा धोने के बाद अच्छी तरह से लगा लें।

ब्लीच करने के बाद :

  • ब्लीच को 15 मिनट लगाने के बाद किसी टिश्यू पेपर या हल्के गीले सूती कपड़े से चेहरा पोंछ लें।
  • इसके बाद ठंडे पानी से चेहरे को साफ करें।
  • फिर ब्लीच पैक में दी हुई पोस्ट ब्लीच क्रीम जरूर लगाएं।

सावधानियां :

  • चेहरे पर अगर मुहांसे हैं, तो ब्लीच का उपयोग न करें। इससे चेहरे पर जलन हो सकती है।
  • ब्लीच का उपयोग महीने में एक बार से ज्यादा न करें।
  • एक्टिवेटर को ज्यादा न मिलाएं, वरना चेहरे पर जलन हो सकती है।
  • चेहरे पर ब्लीच लगाने के बाद गर्म पानी से चेहरा न धोएं।
  • ज्यादा देर तक त्वचा पर ब्लीच लगाए रखने से स्किन पर हानिकारक प्रभाव पड़ सकते हैं।
  • ब्लीच लगाने के बाद आमतौर पर ये कहा जाता है कि चेहरे पर कुछ न लगाएं। ऐसे में ब्लीच का उपयोग रात में कर सकते हैं।

माना जाता है कि ब्लीच के उपयोग से चेहरे के बाल सुनहरे होने के अलावा त्वचा को ग्लो भी मिलता है। इसी वजह से लोग इसे झटपट लगाकर शादी पार्टी के लिए तैयार हो जाते हैं। बस ध्यान दें कि ब्लीच करने के फायदे के साथ ही ब्लीच करने के नुकसान भी होते हैं। ऐसे में बेहतर यही रहेगा कि ब्लीच का ज्यादा उपयोग न किया जाए। जब कभी जरूरत लगे, तो इसे घर में खुद से लगाने के बजाए ब्यूटीशियन की मदद लें।

अक्सर पूछे जाने वाले सवाल

क्या ब्लीचिंग चेहरे के लिए अच्छी है?

नहीं, रिसर्च के आधार पर ब्लीच करना त्वचा के लिए अच्छा नहीं है (6)।

क्या ब्लीच आपकी त्वचा को नुकसान पहुंचा सकता है?

हां, ब्लीच से त्वचा पर मुंहासे, लाल चकत्ते और सूजन जैसी समस्याएं उत्पन्न हो सकती हैं। ऊपर लेख में अन्य नुकसान के बारे में भी विस्तार से बताया गया है (6)

संदर्भ (Sources)

Articles on StyleCraze are backed by verified information from peer-reviewed and academic research papers, reputed organizations, research institutions, and medical associations to ensure accuracy and relevance. Read our editorial policy to learn more.

  1. Skin Bleaching
    https://link.springer.com/chapter/10.1007/978-3-030-72617-1_8
  2. Skin Bleaching Practices: Products Mechanisms and Effects
    https://www.journalajrdes.com/index.php/AJRDES/article/view/30122
  3. Bleach Toxicity
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/books/NBK441921/
  4. Effects of Skin Lightening Cream Agents – Hydroquinone and Kojic Acid on the Skin of Adult Female Experimental Rats
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC7147621/#CIT0004
  5. Skin lightening practices beliefs and self-reported adverse effects among female health science students in Borama Somaliland: A cross-sectional survey
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC6938842/
  6. Skin Bleaching and Dermatologic Health of African and Afro-Caribbean Populations in the US: New Directions for Methodologically Rigorous Multidisciplinary and Culturally Sensitive Research
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC5120641/
Was this article helpful?
The following two tabs change content below.

ताज़े आलेख