सामग्री और उपयोग
Stylecraze

चीज़ खाने के फायदे और नुकसान – Cheese Benefits and Side Effects in Hindi

by
चीज़ खाने के फायदे और नुकसान – Cheese Benefits and Side Effects in Hindi Hyderabd040-395603080 November 1, 2019

पनीर और मक्खन के साथ-साथ अब चीज़ का चलन भी बढ़ गया है। बाजार में ऐसी कई डिश मिलती हैं, जिसमें चीज़ इस्तेमाल किया जाता है। कुछ लोग तो एक्स्ट्रा चीज़ के दीवाने हैं। वहीं, घर में बनने वाले खाने-पीने के सामान में भी चीज़ का इस्तेमाल अधिक होने लगा है। संभव है कि आप भी चीज़ खाने वाले शौकिनों की लिस्ट में शामिल हो, लेकिन क्या आप इस चीज़ के फायदों से परिचित हैं? अगर आपको ऐसा लगता है कि चीज़ का काम सिर्फ खाने का स्वाद बढ़ाना है, तो आप आधा सच जानते हैं, जबकि पूरा सच यह है कि स्वास्थ्य के लिए चीज़ काम की चीज है। स्टाइलक्रेज के इस आर्टिकल में हम इसी बारे में बात करेंगे। हम चीज़ का उपयोग और चीज़ खाने के फायदे के बारे में जानकारी देंगे।

विषय सूची


चीज़ क्या है? – What is Cheese in Hindi

अगर चीज़ को पनीर का आधुनिक रूप कहा जाए, तो गलत नहीं होगा। पनीर की तरह यह भी एक तरह का डेयरी पदार्थ है, जिसे दूध से बनाया जाता है। जहां पनीर को बनाने के लिए दूध में खटास का इस्तेमाल किया जाता है। वहीं, चीज़ के निर्माण के लिए दूध में बैक्टीरिया का इस्तेमाल किया जाता है। चीज़ दो तरह के होते है, सॉफ्ट और हार्ड चीज़। यह दिखने में पनीर की तरह होता है, लेकिन स्वाद में पनीर से बिल्कुल अलग और मीठा होता है। यह कई तरह के पोषक तत्व से भरपूर होता है, जो कि आपके लिए लाभदायक हो सकता है। इसके पोषक तत्वों के बारे में हम आगे लेख में जिक्र करेंगे।

चलिए अब चीज़ खाने के फायदे के बारे में जानते हैं।

चीज़ के फायदे – Benefits of Cheese in Hindi

चीज़ से कई तरह के फायदे हो सकते हैं, जिसकी जानकारी इस लेख में दी जा रही है।

1. कैविटी

कैविटी के कारण दांतों के खराब होने की समस्या उत्पन्न हो सकती है। ऐसे में चीज़ के सेवन से दांतों में कैविटी होने के जोखिम को कम किया जा सकता है। चीज़ में कैरोस्टेटिक गुण पाए जाते हैं, जो कैविटी को कम करने का काम कर सकते हैं। साथ ही यह कैल्शियम का अच्छा स्रोत होता है, जो आपके दांत को लाभ पहुंचाने में फायदेमंद हो सकता है (1)।

2. कैंसर

एक शोध के अनुसार, चीज़ का सेवन करने से कोलोरेक्टल व ब्रैस्ट कैंसर आदि से बचा जा सकता है। चीज़ में कैल्शियम व विटामिन-डी जैसे गुण पाए जाते हैं, जो कैंसर से हमारी रक्षा करते हैं (2) (3) (4) ।

3. वजन बढ़ाने के लिए

अगर आप दुबले-पतले हैं, तो आपके वजन को बढ़ाने में चीज़ अहम भूमिका निभा सकता है। चीज़ में प्रोटीन, कैलोरी और वसा भरपूर मात्रा में पाए जाते हैं, जो आपके वजन को बढ़ाने में मददगार साबित हो सकते हैं (5)।

4. हड्डियों की मजबूती के लिए

चीज़ के लाभ हड्डियों के लिए भी हो सकते हैं। एक अध्ययन के अनुसार, चीज़ में भरपूर मात्रा में कैल्शियम पाया जाता है, जो हड्डियों को मजबूत करने का काम करता है। इसके कारण ऑस्टियोपोरोसिस जैसे हड्डियों से संबंधित रोगों को दूर रखने में भी मदद मिल सकती है (6)। ऑस्टियोपोरोसिस में हड्डियां कमजोर हो जाती है और उनके टूटने की आशंका बनी रहती है।

6. उच्च रक्तचाप के लिए

रक्तचाप बढ़ने से हृदय संबंधी विकार उत्पन्न हो सकते हैं। ऐसे में चीज़ का उपयोग इस समस्या को कम करने में सहायक हो सकता है। चीज़ को रक्तचाप को कम करने वाली डैश (DASH) डाइट में भी शामिल किया जाता है। दरअसल, चीज़ में सोडियम और प्रोटीन की मात्रा पाई जाती है, जो रक्तचाप को नियंत्रण करने का काम कर सकते हैं (7)। इसलिए, चीज़ के लाभ उच्च रक्तचाप के लिए भी माने जा सकते हैं।

7. प्रेगनेंसी में लाभदायक

गर्भावस्था के दौरान चीज़ खाने को लेकर भी आपके मन में कुछ संशय जरूर होगा। अगर ऐसा है, तो यहां आपको इसका जवाब मिल जाएगा। गर्भावस्था के दौरान सॉफ्ट चीज़ के जगह हार्ड चीज़ का सेवन करना ज्यादा सुरक्षित हो सकता है (8)। चीज़ में कैल्शियम, विटामिन और मिनरल भरपूर मात्रा में होते हैं, जो भ्रूण की हड्डियों की संरचना में मदद कर सकते हैं (2) (9)। साथ ही जन्म दोष (रीढ़ की हड्डी और मस्तिष्क से संबंधित) की समस्या से भी छुटकार दिलाने का काम कर सकते हैं।

8. प्री मेंस्ट्रुएशन सिंड्रोम

लगभग हर युवती को प्री मेंस्ट्रुएशन सिंड्रोम से गुजरना पड़ता है। पीरियड्स से हफ्ते भर पहले होने वाले शारीरिक, मानसिक और भावनात्मक बदलाव को प्री मेंस्ट्रुएशन सिंड्रोम कहा जाता है। इस अवस्था में युवती को चिड़चिड़ापन, पेट में दर्द व सिरदर्द हो सकता है। एक वैज्ञानिक रिसर्च के अनुसार, चीज़ के सेवन से प्री मेंस्ट्रुएशन सिंड्रोम के समय होने वाली थकान, अवसाद और खाने की लालसा को कम किया जा सकता है। यह चीज़ में पाई जाने वाली कैल्शियम की मात्रा के कारण संभव हो पाता है (10)।

9. माइग्रेन

एक शोध के अनुसार, माइग्रेन की समस्या को कम करने के लिए कुछ खाद्य पदार्थों का खासतौर पर जिक्र किया गया है। इसमें चीज़ को भी शामिल किया गया है। चीज़ में राइबोफ्लेविन पाए जाते हैं, जो माइग्रेन और माइग्रेन से होने वाले दर्द से राहत दिलाने का काम कर सकते हैं (2) (11)। इसलिए, ऐसा कहा जा सकता है कि चीज़ के फायदे माइग्रेन के लिए भी हो सकते हैं।

10. प्रतिरक्षा प्रणाली

चीज़ के उपयोग से शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत किया जा सकता है। मिनस फ्रैस्कल नामक चीज़ प्रोबायोटिक से भरपूर होता है, जो प्रतिरक्षा प्रणाली को बेहतर करने में मदद कर सकता है। साथ ही यह इन्फेक्शन की समस्या से भी निजात दिलाने का काम कर सकता है। यह मुख्य रूप से एथलीटों के लिए लाभदायक हो सकता है (12)।

11. नींद में मदद

अगर आपको अनिद्रा की समस्या है, तो चीज़ का सेवन आपके लिए लाभदायक हो सकता है। चीज़ में मेलाटोनिन पाया जाता है। यह एक प्रकार का हार्मोन होता है, जो नींद के लिए मददगार साबित हो सकता है। इसलिए, अनिद्रा की समस्या से राहत पाने के लिए चीज़ का उपयोग किया जा सकता है (13)।

12. चमकती त्वचा के लिए

त्वचा की रंगत को निखारने के लिए चीज़ उपयोग किया जा सकता है। एक शोध में पाया गया है कि विटामिन-बी त्वचा के रंग को निखारने का काम कर सकता है (14)। वहीं, अन्य शोध के अनुसार, चीज़ में विटामिन-बी की मात्रा पाई जाती है (2)। इसलिए, ऐसा कहा जा सकता है कि चीज़ के लाभ त्वचा के लिए भी हो सकते हैं।

13. बाल स्वास्थ्य

बालों के स्वास्थ्य के लिए चीज़ का उपयोग लाभदायक हो सकता है। चीज़ में विटामिन बी, जिंक, आयरन, मैग्नीशियम और कैल्शियम की भरपूर मात्रा पाई जाती है (2), जो बालों को झड़ने से रोकने में मदद कर सकते हैं (15)।

चीज़ में मौजूद पौष्टिक तत्वों के बारे में जानने के लिए लेख के अगले भाग को पढ़ें।

चीज़ के पौष्टिक तत्व – Cheese Nutritional Value in Hindi

चीज़ में कई तरह के पौष्टिक तत्व होते हैं, जिस कारण यह आपके लिए फायदेमंद होता है। इन पौष्टिक तत्वों को हम एक चार्ट के जरिए समझा रहे हैं (2) :

पोषककुल मात्रा
पानी36.75 g
ऊर्जा403kcal
प्रोटीन22.87g
टोटल लिपिड (फैट)33.31 g
कार्बोहाइड्रेट3.37 g
शुगर, टोटल0.48g
मिनरल
कैल्शियम Ca710 mg
आयरन, Fe0.14mg
मैग्नीशियम, mg27mg
फास्फोरस, P455 mg
पोटैशियम, K76mg
सोडियम, Na653 mg
जिंक, Zn3.64 mg
विटामिन
थियामिन0.029mg
राइबोफ्लेविन0.428 mg
नियासिन0.059mg
विटामिन बी-60.066mg
फोलेट, DFE27 µg
विटामिन बी -121.10 µg
विटामिन ए, RAE337µg
विटामिन ए,।U1242।U
विटामिन ई (अल्फा-टोकोफेरोल)0.71mg
विटामिन डी (डी 2 + डी 3)0.6 µg
विटामिन डी24 ।U
विटामिन के2.4 µg
लिपिड
फैटी एसिड, टोटल सैचुरेटेड18.867 g
फैटी एसिड, टोटल मोनोअनसैचुरेटेड9.391 g
फैटी एसिड, टोटल पॉलीसैचुरेटेड0.942 g
कोलेस्ट्रोल99 mg

आइए, अब जानते हैं कि चीज़ को किस प्रकार से इस्तेमाल किया जा सकता है।

चीज़ का उपयोग – How to Eat Cheese in Hindi

अगर आप सोच रहे है कि चीज़ कैसे खाएं, तो यह लेख आपके लिए सहायक हो सकता है। यहां हम बता रहे हैं कि चीज़ को किस-किस प्रकार से इस्तेमाल में लाया जा सकता है।

कैसे करें सेवन :

चीज़ को कई तरह से खाने के लिए उपयोग किया जा सकता है।

  • चीज़ पिज्जा
  • चीज़ सैंडविच
  • चीज़ बॉल
  • चीज़ डोसा
  • चीज़ पराठा
  • चीज़ मैक्रोनी पास्ता
  • चीज़ गार्लिक ब्रेड
  • चीज़ ब्रेड पकौड़ा

कब खाएं :

  • सुबह नाश्ते के रूप में खा सकते हैं।
  • इसे शाम को स्नैक्स के तौर पर भी ले सकते हैं।
  • सुबह या दोपहर को पराठे पर लगाकर खाया जा सकता है।

कितना खाएं :

वैसे तो चीज़ खाने के लिए कोई निर्धारित मात्रा नहीं है। यह व्यक्ति के आहार क्षमता पर निर्भर करता है।

आइए, लेख के आगे भाग में चीज़ खाने के नुकसान के बारे में जानते हैं।

चीज़ के नुकसान – Side Effects of Cheese in Hindi

जैसा कि आपने ऊपर चीज़ के फायदे जाने हैं, उसी तरह चीज़ खाने के कुछ नुकसान भी हैं, जो इस प्रकार हैं :

  • चीज़ के सेवन से एलर्जी होने का जोखिम बढ़ सकता है (16)।
  • चीज़ में फैट की मात्रा ज्यादा होती है, जिस कारण इसे मधुमेह की समस्या में लेने से माना किया जाता है। इसे अधिक मात्रा में खाने से मधुमेह की समस्या उत्पन्न हो सकती है (17)।
  • अगर आप वजन कम करना चाहते हैं, तो चीज़ का सेवन न करें, क्योंकि इससे वजन बढ़ सकता है (5)।

संभव है कि आपके मन में चीज़ को लेकर जितने भी सवाल थे, उन सभी के जवाब मिल गए होंगे। साथ ही यह भी पता चल गया होगा कि चीज़ का सेवन करने से किन-किन समस्याओं से निकलने में मदद मिल सकती है। इस लेख को पढ़ने के बाद आप यह भी समझ गए हों कि चीज़ को किस-किस तरह से खाने के लिए उपयोग कर सकते हैं। हम आशा करते हैं कि हमारा यह लेख आपके लिए उपयोगी साबित होगा। अगर आप इस विषय से जुड़ी किसी अन्य प्रकार की जानकारी चाहते हैं, तो आप कमेंट बॉक्स के माध्यम से हम तक पहुंचा सकते हैं।

और पढ़े:

The following two tabs change content below.

Bhupendra Verma

भूपेंद्र वर्मा ने सेंट थॉमस कॉलेज से बीजेएमसी और एमआईटी एडीटी यूनिवर्सिटी से एमजेएमसी किया है। भूपेंद्र को लेखक के तौर पर फ्रीलांसिंग में काम करते 2 साल हो गए हैं। इनकी लिखी हुई कविताएं, गाने और रैप हर किसी को पसंद आते हैं। यह अपने लेखन और रैप करने के अनोखे स्टाइल की वजह से जाने जाते हैं। इन्होंने कुछ डॉक्यूमेंट्री फिल्म की स्टोरी और डायलॉग्स भी लिखे हैं। इन्हें संगीत सुनना, फिल्में देखना और घूमना पसंद है।

संबंधित आलेख