कपूर का फेस पैक लगाने के फायदे और बनाने का तरीका – Camphor Face Pack in Hindi

by

लगभग हर घर में कपूर आसानी से मिल सकता है। पूजा-पाठ में मुख्य रूप से इस्तेमाल होने वाला कपूर, त्वचा के लिए भी उपयोगी हो सकता है। कपूर कई औषधीय गुणों से भरपूर है, जिस कारण यह त्वचा की देखभाल करने के लिए एक अच्छा विकल्प हो सकता है। तो त्वचा के लिए कपूर का फेस पैक के फायदे क्या-क्या हो सकते हैं, इसी से जुड़ी जरूरी जानकारी आप स्टाइलक्रेज के इस लेख में पढ़ सकते हैं। यहां हम न सिर्फ कपूर का फेस पैक के फायदे की जानकारी देंगे, बल्कि कपूर का फेस पैक बनाने का तरीका भी बताएंगे।

शुरू करें पढ़ना

सबसे पहले जानते हैं कपूर के फैस पैक के फायदे के बारे में।

कपूर का फेस पैक के फायदे – Benefits Of Camphor Face Packs in Hindi

यहां हमने कपूर के फेस पैक के फायदे बताए हैं। हालांकि, हम यह स्पष्ट कर दें कि कपूर को हमेशा अन्य सामग्री के साथ मिश्रण बनाकर उपयोग करें। इसका अकेले उपयोग करने से बचें, क्योंकि इससे त्वचा में जलन की समस्या हो सकती है (1)। साथ ही इस बात का ध्यान रखें कि कपूर का फेस पैक त्वचा से जुड़ी समस्याओं से राहत या बचाव तो दिला सकता है, लेकिन इसे गंभीर त्वचा समस्या का इलाज समझने की भूल न करें। तो अब जानते हैं कपूर का फेस पैक के फायदे, जो कुछ इस प्रकार हैं :

1. त्वचा की खुजली और जलन से राहत दिलाए

कपूर के अर्क में एंटीसेप्टिक (किसी घाव के संक्रमण से बचाव), एंटीप्रायटिक (Antipruritic – खुजली कम करने वाला) और रूबेफेसीएंट (Rubefacient- त्वचा की सूजन को कम करने वाला) गुण मौजूद है (2)। ये गुण त्वचा से जुड़ी एलर्जी की समस्या को कम करने में मदद कर सकते हैं। वहीं, कई स्किन लोशन में भी कपूर का उपयोग किया जाता रहा है (3)। इसका उपयोग त्वचा की रैशेज और खुजली की समस्या से राहत दिलाने में सहायक हो सकता है। कई तरह की सामान्य त्वचा संबंधी समस्याओं के लिए भी कपूर का उपयोग लाभकारी हो सकता है (4)।

2. जलन की समस्या में

कपूर का एंटीबायोटिक और एंटीसेप्टिक प्रभाव त्वचा पर जलने के घाव से राहत दिलाने में मदद कर सकता है। अध्ययनों के अनुसार जले हुए जख्म पर कपूर लगाने से कपूर के ये प्रभाव वहां की रक्त वाहिकाओं में रक्त का संचार (Microcirculation – माइक्रोसर्कुलेशन) बढ़ा सकते हैं और घाव के भरने की प्रक्रिया को बेहतर कर सकते हैं। साथ ही कपूर का उपयोग जलने के कारण नसों में होने वाले दर्द को भी कम करने में असरदार हो सकता है। कपूर के इस प्रभाव को बढ़ाने के लिए कपूर में नारियल तेल का मिश्रण भी उपयोग किया जा सकता है (5)।

वहीं, एनसीबीआई की वेबसाइट पर प्रकाशित एक अन्य शोध से इसकी पुष्टि होती है कि जलने के घाव ठीक करने वाली दवाइयों में तिल के तेल और शहद के साथ कपूर का भी उपयोग किया जाता है (6)। इस आधार पर त्वचा पर जलने के घाव भरने में घरेलू तौर पर कपूर का इस्तेमाल करना उपयोगी माना जा सकता है। हालांकि, हम यह स्पष्ट कर दें कि कपूर का उपयोग जलने के हल्के-फुल्के जख्म के लिए करना उचित हो सकता है। अगर जख्म गंभीर है तो डॉक्टरी इलाज को ही प्राथमिकता दें।

3. एक्जिमा के उपचार के लिए

अध्ययन से यह पता चलता है कि एक्जिमा की समस्या से राहत के लिए भी कपूर के फायदे हो सकते हैं, जिसका आयुर्वेद में भी जिक्र मिलता है। इस रिसर्च के अनुसार एक्जिमा से राहत पाने के मलहम में कपूर का इस्तेमाल किया जाता रहा है (4)। बता दें कि एक्जिमा एक प्रकार का चर्म रोग यानी त्वचा से जुड़ी समस्या है, जिसे डर्मेटाइटिस (त्वचा की सूजन) भी कहा जाता है। इसके कारण त्वचा में खुजली की समस्या हो सकती है। यह चेहरे, कोहनी, घुटनों के पीछे और हाथों व पैरों पर सबसे अधिक हो सकता है,  जो चकत्तों के रूप में देखा जा सकता है। साथ इनमें सूजन और खुजली भी हो सकती है (7)।

इसके अलावा, कपूर और ग्लिसरीन का मिश्रण लगाने से जूनोटिक स्केबीज (Zoonotic Scabies – जानवरों के कारण होने वाला चर्म रोग) से भी राहत मिल सकती है। अध्ययन के अनुसार ग्लिसरीन के साथ या बिना ग्लिसरीन के कपूर के तेल का इस्तेमाल करने से 5 से 10 दिनों के अंदर जूनोटिक स्केबीज से राहत मिल सकती है (8)।

4. स्किन रैशेज (चकत्ते) कम करे

आयुर्वेद में भी स्किन से जुड़ी कई समस्याओं के लिए कपूर के इस्तेमाल का जिक्र मिलता है। एक रिसर्च के अनुसार त्वचा पर कपूर का तेल लगाने से खुजली, रैशेज और सूजन की समस्या को कम किया जा सकता है (9)। साथ ही, कपूर में एंटी प्रुरिटिक (Antipruritic – खुजली कम करने वाला), कूलिंग और एंटीबैक्टीरियल प्रभाव है। जिस वजह से इसका इस्तेमाल अन्य औषधियों के साथ क्रीम और लोशन बनाने के लिए भी किया जा सकता है (10)। इस आधार पर यह माना जा सकता है कपूर के ये गुण त्वचा में रैशेज या चकत्ते की समस्या को कम करने में प्रभावी हो सकते हैं।

5. कील-मुंहासों (एक्ने) के लिए

कपूर में एक्ने का इलाज करने की भी क्षमता हो सकती है। दरअसल, कपूर का उपयोग त्वचा को ठंडक प्रदान कर सूजन की समस्या को कम करने में सहायक हो सकता है। खासतौर पर तैलीय त्वचा और एक्ने की परेशानी में कपूर का उपयोग लाभकारी हो सकता है (11)। वहीं, नारियल के तेल या जैतून जैसे तेल के साथ कपूर का उपयोग करने से एक्ने का उपचार व इसके निशान भी हटाने में मदद मिल सकती है (4)। बता दें कि तैलीय त्वचा के कारण भी कील-मुंहासों की समस्या हो सकती हैं (12)। ऐसे में तैलीय त्वचा के लिए भी कपूर का उपयोग लाभकारी हो सकता है।

आगे पढ़ें

अब हम कपूर का फेस पैक इस्तेमाल करने की विधि बता रहे हैं।

कपूर का फेस पैक – Camphor Face Packs in Hindi

नीचे हमने विभिन्न सामग्रियों के मिश्रण से कपूर का फेस पैक बनाने का तरीका बताया है। इसमें से आप अपनी पसंद और सहूलियत के अनुसार अपनी पसंदीदा कपूर फेस पैक चुन सकते हैं। तो कपूर का फेस पैक बनाने का तरीका कुछ इस प्रकार है:

1. अरंडी का तेल और कपूर का फेस पैक

सामग्री :

  • दो चम्मच अरंडी का तेल
  • एक से दो कपूर का क्यूब (टुकड़ा)
  • एक कटोरी

कैसे करें इस्तेमाल :

  • एक कटोरी में अरंडी का तेल लें।
  • इसमें कपूर का चूर्ण मिलाएं और इसका मिश्रण तैयार करें।
  • फिर इसे चेहरे पर लगाएं और 15 मिनट बाद चेहरा धो लें।
  • यह उपाय सोते समय भी किया जा सकता है।

कैसे है लाभदायक :

मुंहासे दूर करने में कपूर का फेस पैक किस तरह से लाभकारी हो सकता है, इसकी जानकारी हम पहले ही दे चुके हैं। वहीं, इसके प्रभाव को बढ़ाने के लिए इसमें अरंडी के तेल को मिला सकते हैं। एक अध्ययन से पता चलता है कि अरंडी के तेल में एंटीसेप्टिक, एंटीबैक्टीरियल, एंटीफंगल और एंटी माइक्रोबियल गुण होते हैं (13)। साथ ही, अंरडी के तेल में मॉइस्चराइजिंग गुण भी होता है, जो त्वचा को कंडीशन करने, कोमल और मुलायम बनाने में भी मदद कर सकता है (14)। वहीं, कई बार एक्ने का कारण बैक्टीरिया भी हो सकता है (15)। इस आधार पर कहा जा सकता है कि कपूर के इस फेस पैक के उपयोग से कील-मुहांसों की समस्या से बचाव हो सकता है।

2. बादाम तेल और कपूर का फेस पैक

सामग्री :

  • दो चम्मच बादाम का तेल
  • दो से तीन क्यूब कपूर
  • एक बाउल

कैसे करें इस्तेमाल :

  • एक बाउल में बादाम के तेल में कपूर का चूर्ण मिलाएं।
  • फिर इसे चेहरे पर लगाएं।
  • नहाने से आधे घंटे पहले इसे चेहरे पर लगा सकती हैं।

कैसे है लाभदायक :

कपूर के गुण एक्जिमा की समस्या से त्वचा का बचाव कर सकते हैं (4)। वहीं, त्वचा के लिए बादाम तेल के फायदे की बात करें, तो यह त्वचा को सूर्य की हानिकारक यूवी किरणों के प्रभाव से बचाने में मदद कर सकता है। इसमें बादाम के तेल में पाए जाने वाले एंटीऑक्सीडेंट गुण प्रभावकारी हो सकते हैं। इसके अलावा, इसमें एंटी-एजिंग प्रभाव भी होता है, ऐसे में त्वचा को जवां बनाए रखने में भी बादाम तेल के फायदे हो सकते हैं (16)।

3. मुल्तानी मिट्टी और कपूर का फेस पैक

सामग्री :

  • दो से तीन कपूर के क्यूब
  • दो चम्मच मुल्तानी मिट्टी का चूर्ण
  • पेस्ट बनाने के लिए आवश्यकता अनुसार गुलाब जल
  • एक कटोरी

कैसे करें इस्तेमाल :

  • एक कटोरी में गुलाब जल लें।
  • अब इसमें मुल्तानी मिट्टी और कपूर का चूर्ण मिलाएं।
  • फिर इस पेस्ट को त्वचा पर लगाएं।
  • सप्ताह में एक से दो बार यह कपूर का फेस पैक उपयोग कर सकते हैं।

कैसे है लाभदायक :

कपूर त्वचा के लिए लाभकारी है, यह हम पहले ही बता चुके हैं। वहीं, त्वचा के लिए मुल्तानी मिट्टी के फायदे भी कम नहीं हैं, यह त्वचा की गंदगी को साफ करने में सहायक हो सकती है। इतना ही नहीं यह त्वचा के रोम छिद्रों से तेल को निकालकर ऑयली स्किन की परेशानी से भी राहत दिलाने में सहायक हो सकती है (17)।

इसके अलावा, मुल्तानी मिट्टी त्वचा को गहराई से साफ करने के साथ ही, ब्लड सर्कुलेशन को बेहतर बनाने, रंगत निखार, ब्लैकहेड्स और व्हाइटहेड्स, झाइयों को कम करने के साथ-साथ मुंहासे और दाग-धब्बे कम करने में भी प्रभावकारी हो सकता है (18)। इस आधार पर कहा जा सकता है कि खासतौर पर तैलीय त्वचा की देखभाल के लिए यह मुल्तानी मिट्टी युक्त कपूर का फेस पैक इस्तेमाल किया जा सकता है।

4. नारियल तेल और कपूर का फेस फैस

सामग्री :

  • चार से पांच कपूर के क्यूब
  • एक से दो चम्मच नारियल का तेल
  • एक छोटा बाउल

कैसे करें इस्तेमाल :

  • एक कटोरी में दोनों का मिश्रण मिलाएं।
  • फिर कॉटन बॉल की मदद से इसे त्वचा पर लगाएं।
  • थोड़ी देर बाद इसे पानी से धो लें।

कैसे है लाभदायक :

कपूर में एंटीबैक्टीरियल प्रभाव होता है यह लेख में पहले ही बताया गया है। साथ ही यह भी बताया गया है कि कपूर और नारियल के तेल का मिश्रण लगाने से जली हुई त्वचा के घावों को भरने में भी मदद मिल सकती है (5)। इसके साथ ही नारियल के तेल में भी प्राकृतिक रूप से एंटीबैक्टीरियल और एंटी इंफ्लामेटरी गुण होते हैं, जो स्किन इंफेक्शन का कारण बनने वाले बैक्टीरिया (S. Aureus) के खिलाफ प्रभावी हो सकते हैं। साथ ही इसमें त्वचा को ठंडक प्रदान करने वाला (Emollient) प्रभाव भी होता है (19)।

इस आधार पर यह कहा जा सकता है कि जली हुई त्वचा से लेकर एक्जिमा जैसी समस्या को दूर करने के लिए नारियल तेल युक्त कपूर का यह मिश्रण इस्तेमाल किया जा सकता है। हालांकि, ध्यान रहे कि जलने के जख्म अगर गहरे हैं तो डॉक्टरी इलाज को प्राथमिकता देना आवश्यक है।

5. बेसन और कपूर का फेस पैक

सामग्री :

  • दो चम्मच बेसन
  • दो से तीन कपूर के टुकड़ों का चूर्ण
  • तीन चम्मच नारियल का तेल
  • एक कटोरी

कैसे करें इस्तेमाल :

  • एक बाउल में नारियल तेल में बेसन और कपूर का चूर्ण मिलाएं।
  • फिर तैयार हुए इस लेप को पूरे चेहरे पर अच्छे से लगाएं।
  • आधे घंटे बाद गुनगुने पानी से चेहरा धो लें।
  • सप्ताह में एक बार इसे उपयोग किया जा सकता है।

कैसे है लाभदायक :

त्वचा के लिए कपूर और नारियल के तेल के फायदे हम पहले ही लेख में बता चुके हैं, वहीं इस मिश्रण के गुणों को बढ़ाने के लिए इसमें बेसन का इस्तेमाल भी किया जा सकता है। दरअसल, बेसन का इस्तेमाल एक प्राकृतिक फेस पैक के रूप में कई सालों से किया जाता रहा है। बेसन चेहरे की रंगत निखारने और उसे मुलायम बनाने में मदद कर सकता है। साथ ही, बेसन में त्वचा से अतिरिक्त तेल हटाने का भी गुण होता है, जिससे मुंहासों की समस्या से बचाव करने में भी मदद मिल सकती है (20)। कपूर के साथ त्वचा के लिए बेसन का फेस पैक आसान और लाभकारी उपाय हो सकता है।

तो दोस्तों यहां हमने त्वचा के लिए कपूर फेस पैक के फायदे विस्तार से बताएं हैं। साथ ही, इसके लाभकारी प्रभावों को बढ़ाने के लिए कपूर का फेस पैक बनाने का तरीका भी बताया है। अगर रोजमर्रा की व्यस्त जीवनशैली के कारण आपको त्वचा से जुड़ी कोई छोटी-मोटी समस्या है, तो इस लेख में बताए गए कपूर के फेस पैक के नुस्खे लाभकारी हो सकते हैं। हालांकि, इसके साथ ही स्वस्थ आहार का सेवन भी जरूरी है। वहीं, ध्यान रखें कि ये घरेलू उपाय गंभीर त्वचा संबंधी समस्या का इलाज नहीं है। इसलिए अगर इन उपायों के बाद भी त्वचा की समस्या बनी रहती है तो डॉक्टरी इलाज अवश्य कराएं। उम्मीद है यह लेख आपके लिए उपयोगी रहा होगा।

अक्सर पूछे जाने वाले सवाल

क्या कपूर त्वचा की रंगत निखारने में मदद कर सकता है?

इसमें कोई दोराय नहीं है कि कपूर का इस्तेमाल करने से चेहरे से जुड़ी कई समस्याओं जैसे :- एलर्जी, मुंहासे, दाग-धब्बों से छुटकारा मिल सकता है। वहीं, अगर त्वचा स्वस्थ रहेगी तो निखार अपने आप ही आ सकता है। वहीं, त्वचा पर निखार पाने के लिए बेसन के साथ कपूर का फेस पैक उपयोग कर सकते हैं। बेसन त्वचा को एक्सफोलिएट कर त्वचा की रंगत निखारने में सहायक हो सकता है (20)। हालांकि, सीधे तौर कपूर त्वचा की रंगत निखारने में कितना प्रभावी हो सकता है, इस बारे में उचित वैज्ञानिक शोध की आवश्यकता है।

क्या चेहरे पर कपूर का इस्तेमाल करना अच्छा उपाय है?

विभिन्न वैज्ञानिक प्रमाणों पर आधारित इस लेख से यह पता चलता है कि कपूर के कई लाभकारी प्रभाव हो सकते हैं, जो त्वचा से जुड़ी कई समस्याओं का उपचार कर सकते हैं। ऐसे में त्वचा से जुड़े इसके विभिन्न गुणों और प्रभावों को देखते हुए यह कहना गलत नहीं होगा कि चेहरे के लिए कपूर का इस्तेमाल करना अच्छा हो सकता है। वहीं, सीधे तौर पर इसका त्वचा पर इस्तेमाल करने से बचें, बेहतर है ऊपर बताए गए तरीकों से कपूर का उपयोग करें।

क्या कपूर ब्लैकहेड्स की समस्या दूर कर सकता है?

हां, ब्लैकहेड्स की समस्या दूर करने के लिए कपूर का फेस पैक इस्तेमाल किया जा सकता है। कपूर को मुल्तानी मिट्टी के साथ उपयोग कर ब्लैकहेड्स की समस्या से राहत पाया जा सकता है। दरअसल, मुल्तानी मिट्टी त्वचा में छिपी अशुद्धियों को निकाल सकती है (17)। वहीं, कील-मुहांसों से बचाव के लिए त्वचा का साफ होना आवश्यक है (21)।

क्या एलर्जी वाली त्वचा के लिए कपूर का फेस पैक इस्तेमाल किया जा सकता है?

अगर किसी की त्वचा संवेदनशील है या एलर्जी वाली त्वचा है तो बेहतर है कपूर के उपयोग से पहले पैच टेस्ट करें। इसके अलावा, कपूर का इस्तेमाल करने से पहले डॉक्टरी या त्वचा विशेषज्ञ की सलाह लेना भी अच्छा विकल्प हो सकता है।

21 Sources

Was this article helpful?

ताज़े आलेख

scorecardresearch