सामग्री और उपयोग

चिचिण्डा के 12 फायदे, उपयोग और नुकसान – Benefits of Snake Gourd (Chichinda) in Hindi

by
चिचिण्डा के 12 फायदे, उपयोग और नुकसान – Benefits of Snake Gourd (Chichinda) in Hindi Hyderabd040-395603080 October 17, 2019

क्या आप चिचिण्डा का सेवन करते हैं? अगर आप इसे नहीं खाते, तो आज ही इसे अपनी डायट में शामिल करें। यह ऐसा खाद्य पदार्थ है, जो न सिर्फ आपकी सेहत के लिए, बल्कि बालों के लिए भी बेहतरीन साबित हो सकता है। अगर किसी को मोटापे की समस्या है, पेट खराब है या डायबिटीज से जूझ रहा है, तो चिचिंडा यानी स्नेक गॉर्ड आपके लिए रामबाण का काम कर सकता है।

स्टाइलक्रेज के इस लेख में हम चिचिण्डा के फायदे व चिचिण्डा का उपयोग बताएंगे। साथ ही चिचिण्डा कैसे खाएं का भी जवाब आपको इस लेख में मिलेगा। आइए, पहले जानते हैं कि चिचिण्डा के फायदे क्या हैं।

चिचिण्डा के फायदे – Benefits of Snake Gourd in Hindi

1. डायबिटीज

शुगर को नियंत्रित करने के लिए चिचिण्डा फायदेमंद साबित होता है। इसे चाइनीज डाइट का महत्वपूर्ण आहार भी माना गया है। चिचिण्डा में एंटीओबेसिटी और एंटीडायबिटीक गुण होते हैं, जो आपके वजन और टाइप-2 डायबिटीज को नियंत्रित रखने में मदद करते हैं (1)।

2. बुखार के लिए

चिचिण्डा बुखार में भी काम आता है। यह विटामिन और खनिजों के साथ से भरपूर है और आपको मलेरिया से निपटने में भी मदद कर सकता है (2)। अगर आपको बुखार है, तो चिचिण्डा में थोड़ी-सी चिरायता (जड़ी-बूटी) और शहद मिलाकर सेवन करने से बुखार में आराम मिल सकता है।

3. दिल के लिए

3. दिल के लिए Pinit

Shutterstock

चिचिण्डा हृदय संबंधी समस्याओं के लिए भी फायदेमंद माना जाता है। यह दिल में दर्द और तनाव के लिए कारगर साबित हो सकता है। यह आपके सर्कुलेशन को सुधारता है, जिससे हृदय संबधी समस्याओं का खतरा कम होता है। बेहतर परिणाम के लिए रोजाना दो कप चिचिण्डा का अर्क लिया जा सकता है (3)।

4. पाचन और कब्ज के लिए

अगर आपका पाचन खराब रहता है और कब्ज की समस्या रहती है, तो चिचिण्डा आपके लिए फायदेमंद साबित हो सकता है। इसमें भरपूर मात्रा में फाइबर होता है, जिससे कब्ज की समस्या दूर होती है और पेट में गैस नहीं बनती। इस कारण आपका पाचन तंत्र ठीक प्रकार से काम करता है।

5. श्वसन संबंधी समस्या के लिए

5. श्वसन संबंधी समस्या के लिए Pinit

Shutterstock

चिचिण्डा में कफ निवारक गुण होते हैं, जो आपके श्वसन मार्ग और साइनस से श्लेष्म और कफ को हटाने में मदद करते हैं। इसके सेवन से श्वसन मार्ग साफ होता है, जिस कारण सांस लेने में होने वाली कठिनाई से राहत मिल सकती है।

6. पीलिया

पीलिया की बीमारी किसी को भी हो सकती है। ऐसे में चिचिण्डा के पत्ते फायदेमंद साबित हो सकते हैं। आप धनिया के बीज के साथ चिचिण्डा के पत्तों को पीसकर करीब 30 से 60 ग्राम खुराक का सेवन दिन में तीन बार कर सकते हैं (4)।

7. पेट साफ करने की दवा

चिचिण्डा पेट साफ करने की दवा के रूप में काम करता है। यह शरीर में सभी विषैले जीवाणुओं को बाहर निकाल देता है। इस मामले में चिचिण्डा की सब्जी की जगह उसका रस सबसे ज्यादा फायदेमंद होता है। यह पाचन तंत्र को बेहतर तरीके से काम करने में मदद करता है। वहीं, इसकी पत्तियां आंतों को साफ करने में मदद करती हैं। आप हर सुबह एक से दो चम्मच चिचिण्डा के रस का सेवन कर सकते हैं। साथ ही इसके बीज भी पुरानी से पुरानी कब्ज को जड़ से खत्म कर सकते हैं (5)।

8. एलोपेशिया

चिचिण्डा का रस आपको एलोपेशिया की समस्या से राहत दिलाने में भी मदद कर सकता है। एलोपेशिया ऐसी समस्या है, जिसमें सिर के बीच-बीच में से बाल झड़ने लगते हैं और सिर पर गंजेपन के चकत्ते बन जाते हैं (6)।

9. कम कैलोरी वाला

चिचिण्डा एक कम कैलोरी वाला खाद्य पदार्थ है। यह आपको फैट से बचाते हुए कई जरूरी पोषक तत्व देता है। कम कैलोरी होने से यह आपको वजन नियंत्रित रखने में भी मदद करता है। अगर आप चाहते हैं कि आपका फैट न बढ़े, तो चिचिण्डा का सेवन करें (2)।

10. मिनरल से भरपूर

चिचिण्डा स्वास्थ्यवर्धक सब्जियों में से एक है, क्योंकि यह मैग्नीशियम, कैल्शियम और फास्फोरस जैसे आवश्यक खनिजों से समृद्ध है। ये खनिज शारीरिक कार्यों में सुधार करते हैं और हड्डियों व दांतों को मजबूती देते हैं।

11. डैंड्रफ में फायदेमंद

11. डैंड्रफ में फायदेमंद Pinit

Shutterstock

आजकल डैंड्रफ यानी रूसी की समस्या आम हो गई है। अगर आप भी रूसी से परेशान हैं, तो चिचिंडा का सेवन आपको फायदा पहुंचा सकता है। डैंड्रफ होने पर आप सप्ताह में तीन बार चिचिंडा रस अपने सिर पर 15-20 मिनट के लिए लगाएं। आपको कुछ ही समय में फर्क नजर आने लगेगा।

12. बाल झड़ने से रोके

अगर आपको झड़ते बालों की समस्या है, तो चिचिंडा का प्रयोग फायदेमंद साबित हो सकता है। झड़ते बालों की समस्या से राहत पाने के लिए आप चिचिंडा के रस को सप्ताह में दो से तीन बार बालों में लगाएं। फिर सादे पानी से धो लें। बाद में आप शैंपू कर सकते हैं।

आइए, अब यह भी जान लेते हैं कि चिचिण्डा में कौन-कौन से पोषक तत्व पाए जाते हैं।

चिचिण्डा के पौष्टिक तत्व – Snake Gourd Nutritional Value in Hindi 

प्रति सर्विंग बाउल के आधार पर
पोषक तत्वमूल्यडीवी %
ऊर्जा8.62 Kcal
प्रोटीन2 g4.00%
कुल वसा3.9 g11.14%
कार्बोहाइड्रेट12.5 g9.62%
कुल डाइटरी फाइबर0.6 g1.58%
शुगर0.5 g
मिनरल
कैल्शियम5.1 mg0.51%
आयरन5.7 mg71.25%
मैग्नीशियम6.7 mg1.60%
फास्फोरस5 mg0.71%
पोटैशियम359.1 mg7.64%
सोडियम33 mg2.20%
जिंक7.2 mg65.45%
कॉपर4.4 mg488.89%
मैंगनीज12.5 mg543.48%
सेलेनियम3.1 µg5.64%
विटामिन
विटामिन-बी1 (थियामिन)5.2 mg433.33%
विटामिन-बी2 (राइबोफ्लेविन)2.7 mg207.69%
विटामिन-बी3 (नियासिन)3.8 mg23.75%
विटामिन बी 5 (पैंटोथेनिक एसिड)3 mg60.00%
विटामिन बी 6 (पाइरिडोक्सीन)11.3 mg869.23%
विटामिन बी 9 (फोलेट)5.6 µg1.40%
विटामिन सी (एस्कॉर्बिक एसिड)30.5 mg33.89%
विटामिन ए, RAE9.8 µg1.40%
विटामिन ई (अल्फा-टोकोफेरॉल)1.1 mg7.33%

आर्टिकल के इस भाग में हम बता रहे हैं कि चिचिण्डा का इस्तेमाल कैसे-कैसे किया जा सकता है।

चिचिण्डा का उपयोग – How to Use Snake Gourd in Hindi

चिचिण्डा का उपयोग - How to Use Snake Gourd in Hindi Pinit

Shutterstock

लौकी जैसे दिखने वाले चिचिण्डा की न सिर्फ स्वादिष्ट सब्जी बन सकती है और रस निकालकर पिया जाता है, बल्कि इसके विभिन्न अंगों को औषधि की तरह प्रयोग किया जा सकता है। ये अंग इस प्रकार हैं :

  • जड़
  • पत्ते
  • फल

इसे औषधि के तौर पर लेने की बात करें, तो इसका रस करीब 10-20 मिली लिया जा सकता है, जबकि काढ़े को 20-40 मिली ले सकते हैं। फिर भी आप इसे स्वयं से न लेकर किसी आयुर्वेदिक डॉक्टर के परामर्श पर ही लें।

आर्टिकल के अंत में हम चिचिण्डा के नुकसान बता रहे हैं।

चिचिण्डा के नुकसान – Side Effects of Snake Gourd in Hindi

जिस प्रकार से चिचिण्डा कई बीमारियों में फायदेमंद है, उस हिसाब से इसके खास नुकसान नहीं हैं। साथ ही इसके दुष्प्रभावों की अभी तक वैज्ञानिक पुष्टि भी नहीं हुई। चिचिण्डा के नुकसान इस प्रकार हैं :

  • इसके अधिक सेवन से यौन क्षमता में कमी आ सकती है।
  • इतना ही नहीं यह आपके मस्तिष्क की कार्यक्षमता को प्रभावित कर याददाश्त को कमजोर कर सकता है।
  • जिन्हें पेट से जुड़ी समस्या है, अगर वो इसका सेवन करते हैं, तो गैस बन सकती है।
  • अगर आप गर्भवती हैं या स्तनपान करा रही हैं, तो इसका अधिक सेवन न करें। इससे आपको व होने वाले शिशु को नुकसान हो सकता है।

चिचिण्डा के फायदे, चिचिण्डा का उपयोग व चिचिण्डा कैसे खाएं जैसे सवालों के जवाब हमने आपको इस लेख में बताने की कोशिश की है। उम्मीद है आपको इस लेख में चिचिंडा से संबंधित जरूरी सवालों के जवाब मिल गए होंगे और यह जानकारी आपके काम आएगी। अगली बार आप सब्जी खरीदने जाएं, तो चिचिण्डा को जरूर लाएं और इसका सेवन करें। चिचिण्डा का उपयोग करने से आपको क्या-क्या लाभ होते हैं, हमारे साथ नीचे दिए कमेंट बॉक्स में शेयर कर सकते हैं।

और पढ़े:

संबंधित आलेख