क्लस्टर सिरदर्द के कारण, लक्षण और इलाज – Cluster Headache in Hindi

Written by

ज के समय में सिर दर्द होना आम बात हो गई है। आमतौर पर यह कुछ देर बाद खुद ठीक हो जाता है, लेकिन यह लगातार हो रहा है, तो क्लस्टर सिरदर्द हो सकता है। यह एक ऐसी समस्या है, जिसके बारे में जानकारी होना बेहद जरूरी है। यही कारण है कि इस लेख में हम क्लस्टर हेडेक के बारे में बता रहे हैं। इस आर्टिकल में हम क्लस्टर सिरदर्द के कारण, लक्षण के साथ-साथ उससे बचाव के उपाय भी बताएंगे। बस तो इस बीमारी के बारे में जानने के लिए लेख को अंत तक जरूर पढ़ें।

शुरू करते हैं लेख

इस क्रम में सबसे पहले समझ लेते हैं कि क्लस्टर सिरदर्द होता क्या है।

क्लस्टर सिरदर्द क्या है – What is Cluster Headache in Hindi

क्लस्टर सिरदर्द एक असामान्य प्रकार का सिरदर्द है। इसे प्राइमरी हेडेक डिसॉर्डर कहा जाता है, जो लगभग 0.1 प्रतिशत आबादी को प्रभावित करता है (1)। यह दर्द सिर के एक तरफ ही होता है। इस दौरान आंखों में आंसू आना, पलकों का नीचे झुक जाना और नाक जमने जैसा एहसास हो सकता है। आमतौर पर यह सिरदर्द 15 मिनट से तीन घंटे तक रोजाना एक हफ्ते तक या महीनों तक रह सकता है। अक्सर क्लस्टर सिरदर्द को लोग माइग्रेन, साइनस की समस्या, और तनाव से होने वाला सिरदर्द समझ लेते हैं (2)।

आगे है और जानकारी

अब हम क्लस्टर सिरदर्द के प्रकार के बारे में बता रहे हैं।

क्लस्टर सिरदर्द के प्रकार – Types of Cluster Headache in Hindi

क्लस्टर सिरदर्द को इसकी गंभीरता व स्टेज के आधार पर दो भागों में बांटा गया है। ये कुछ इस प्रकार हैं (1) –

  • एपिसोडिक – यह क्लस्टर सिरदर्द 85 से 90 प्रतिशत लोगों को प्रभावित कर सकता है। इसमें मरीजों को हफ्तों से लेकर महीनों तक रोजाना अटैक का अनुभव होता है। फिर कुछ महीनों या वर्षों के लिए आराम मिलता है। आम तौर पर साल भर में एक से दो बार ऐसा सिरदर्द होता है और महीनों तक रह सकता है।
  • क्रॉनिक- क्लस्टर सिरदर्द के इस प्रकार से लगभग 15 से 20 प्रतिशत लोग प्रभावित होते हैं। इसमें मरीजों को एक वर्ष से अधिक समय तक चलने वाले सिर दर्द का अनुभव होता है। यह सिरदर्द बिना ठीक हुए लगातार भी हो सकता है और कुछ लोगों का सिरदर्द एक महीने ठीक होकर फिर होने लग जाता है।

पढ़ते रहें आर्टिकल

लेख के अगले भाग में क्लस्टर सिरदर्द के लक्षण के बारे में जानिए।

क्लस्टर सिरदर्द के लक्षण – Symptoms of Cluster Headache in Hindi

क्लस्टर सिरदर्द अचानक और गंभीर सिरदर्द के रूप में शुरू होता है। इसका सबसे बड़ा लक्षण दर्द ही है। इसके अलावा, क्लस्टर हेडेक होते समय व्यक्ति कुछ अलग महसूस करता, जिसे इसका संकेत माना जा सकता है (2) –

  • तेज सिर दर्द के साथ जलन होना
  • चेहरे के एक तरफ गर्दन से सिर तक दर्द होना
  • आधे घंटे तक तेज दर्द होते समय 5 से 10 मिनट तक दर्द का और बढ़ना

क्लस्टर हेडेक के साथ एक साइड की आंख और नाक में भी दर्द हो रहा है, तो यह लक्षण भी नजर आ सकते हैं (2) :

  • आंख के नीचे या आसपास सूजन होना
  • आंसू निकलना
  • आंखों का लाल होना
  • ड्रॉपी आईलिड (पलकों के ऊपरी हिस्से का नीचे को झुक जाना)
  • सिर दर्द जिस साइड हो रहा हो, उधर की नाक जमना
  • चेहरे का लाल होना और अत्यधिक पसीना आना

नीचे स्क्रॉल करें

लेख में आगे बढ़ते हुए पढ़िए क्लस्टर सिरदर्द के कारण क्या-क्या हो सकते हैं।

क्लस्टर सिरदर्द  के कारण – Causes of Cluster Headache in Hindi

क्लस्टर सिरदर्द के कारण पूरी तरह से स्पष्ट नहीं है। अनुमान के तौर पर स्टडिज में बताए गए कुछ कारण इस प्रकार हैं (2)।

  • माना जाता है कि यह सिरदर्द शरीर के अचानक चेहरे से संबंधित तंत्रिका क्षेत्र यानी ट्राइजेमिनल नर्व में हिस्टमाइन या सेरोटोनिन रसायन को रिलीज करने से हो सकता है। हिस्टामाइन शरीर में एलर्जी की प्रतिक्रिया के दौरान बनने वाला रसायन है और सेरोटोनिन तंत्रिका कोशिकाओं द्वारा बनाया जाने वाला रसायन होता है।
  • यह समस्या हाइपोथेलेमस के कारण भी हो सकती है, जो मस्तिष्क का एक छोटा सा हिस्सा होता है।
  • क्लस्टर हेडेक जेनेटिक यानी आनुवंशिकता के कारण भी हो सकता है।

इनके अलावा, क्लस्टर हेडेक को ट्रिगर यानी अचानक बढ़ाने व बीमारी शुरू करने वाले कारण कुछ इस प्रकार हैं (2) –

  • शराब और सिगरेट का सेवन
  • ट्रेकिंग और हवाई यात्रा करना
  • सूरज की और अन्य कोई तेज रोशनी
  • अधिक शारीरिक गतिविधि
  • गर्मी
  • उच्च नाइट्रेट्स वाले खाद्य पदार्थ जैसे मीट
  • कुछ दवाएं
  • कोकीन का सेवन

लेख में बने रहें

चलिए, अब क्लस्टर हेडेक के जोखिम कारक क्या हो सकते हैं, इसपर एक नजर डाल लेते हैं।

क्लस्टर सिरदर्द के जोखिम कारक – Risk Factors of Cluster Headache in  Hindi

यहां हम क्रमवार तरीके से क्लस्टर सिरदर्द के जोखिम कारकों का जिक्र कर रहे हैं (1) –

  • पुरुषों में यह बीमारी होना का जोखिम अधिक होता है
  • 30 से अधिक की आयु के लोग
  • शराब का सेवन
  • मस्तिष्क की सर्जरी या ट्रामा

स्क्रॉल कर पढ़ें

अब बारी है क्लस्टर सिरदर्द के निदान के बारे में जानने की।

क्लस्टर सिरदर्द का निदान  Diagnosis of Cluster Headache in Hindi

हम यहां बता रहे हैं कि डॉक्टर क्लस्टर सिरदर्द का इलाज करने के लिए किन-किन तरीकों को अपना सकते हैं। क्लस्टर सिरदर्द का निदान कुछ इस प्रकार किया जा सकता है (2)।

  • शरीर पर दिखने वाले लक्षणों के बारे में डॉक्टर पूछ सकते हैं।
  • इसके अलावा डॉक्टर मरीज से उसकी मेडिकल हिस्ट्री (पहले से चली आ रही कोई स्वास्थ्य समस्या) की भी जानकारी ले सकते हैं।
  • सिर के एमआरआई जैसे परीक्षणों से सिरदर्द के अन्य कारणों का पता लगाया जा सकता है।

इलाज जानिए

क्लस्टर सिरदर्द के निदान के बाद जानिए क्लस्टर सिरदर्द का इलाज कौन-कौन से तरीकों से किया जा सकता है।

क्लस्टर सिरदर्द का इलाज – Treatment of Cluster Headache in Hindi

क्लस्टर सिरदर्द को इलाज से पूरी तरह से ठीक नहीं किया जा सकता है। इलाज के जरिए क्लस्टर हेडेक के केवल लक्षणों से राहत मिलती है। इसके लिए डॉक्टर कुछ इस तरह का उपचार कर सकते हैं (2) (3) –

  • ऑक्सीजन इनहेलेशन और ट्रिप्टन ड्रग्स- इस तरह की दवाओं का प्रयोग माइग्रेन का इलाज करने के लिए किया जाता है। इसे नाक स्प्रे या इंजेक्शन के रूप में दिया जा सकता है। इससे तेज क्लस्टर सिरदर्द से तुरंत राहत मिल सकती है।
  • नेजल स्प्रे – क्लस्टर हेडेक के दर्द की साइकिल को तोड़ने के लिए डॉक्टर कुछ नेजल स्प्रे दे सकते हैं, जो नाक और नथुने को सुन्न करके कुछ राहत दिला सकता है।
  • एंटी-इंफ्लेमेटरी (स्टेरॉयड) दवाएं – क्लस्टर सिर दर्द से राहत पाने के लिए एंटी-इंफ्लेमेटरी दवाइयों का भी उपयोग किया जा सकता है। इसकी शुरूआत उच्च खुराक के साथ की जाती है। फिर धीरे-धीरे इसे 2 से 3 सप्ताह तक कम कर दिया जाता है।
  • डिहाइड्रोएरगोटामाइन (डीएचई) इंजेक्शन-  यह 5 मिनट के अंदर क्लस्टर अटैक को रोक सकता है। ध्यान दें कि यह दवा अन्य दवाइयों के साथ लेने पर खतरनाक साबित हो सकती है। इसलिए, डॉक्टर की सलाह के बिना इसे न लें और डॉक्टर से इलाज करवाते समय उन्हें उन सारी दवाओं के बारे में बताएं, जो हाल-फिलहाल में रोगी द्वारा ली जा रही है।
  • सर्जिकल ट्रीटमेंट- अगर दवाओं से क्लस्टर सिरदर्द में आराम नहीं मिलता है, तो सर्जिकल उपचार की सलाह डॉक्टर दे सकते हैं। ऐसा ही एक उपचार है न्यूरोस्टिम्यूलेटर।

लेख में  बने रहें

चलिए, अब हम जानते हैं कि क्लस्टर सिरदर्द में क्या खाना चाहिए और क्या नहीं खाना चाहिए।

क्लस्टर सिरदर्द में क्या खाना चाहिए और क्या नहीं – Diet in Cluster Headache

एनसीबीआई (National Center for Biotechnology Information) द्वारा प्रकाशित एक शोध के मुताबिक, क्लस्टर सिरदर्द के दौरान किटो डाइट प्रभावी हो सकती है (4)।

  • कम-कार्बोहाइड्रेट (लगभग 15 ग्राम) वाले खाद्य पदार्थ का सेवन करें।
  • सलाद के साथ ऊपर से मेयोनीज और जैतून के तेल का भी सेवन कर सकते हैं।
  • वेजिटेबल ऑयल।
  • स्नैक्स के रूप में बादाम, नट्स और तिलहन (ऑयल सीड)।
  • पत्तेदार सब्जियां और सभी मसाले।

क्या नहीं खाना चाहिए (4) :

  • क्लस्टर सिर दर्द की समस्या के दौरान राइस का उपयोग  न करें, यह नुकसानदायक हो सकता है।
  • ब्रेड, पास्ता, कुकीज के सेवन से भी बचें।
  • फलियां और स्टार्च वाली सब्जियां (आलू, मक्का, हरी मटर)।
  • ऊपर बताए गए डेयरी उत्पादों के अलावा अन्य प्रोडक्ट से बचना चाहिए।
  • शराब और धूम्रपान क्लस्टर अटैक का कारण बन सकते हैं, इसलिए इन दोनों  से भी परहेज जरूरी है।

अंत तक पढ़ें लेख

आगे बढ़ते हुए क्लस्टर सिरदर्द से बचने के उपायों पर एक नजर डाल लेते हैं।

क्लस्टर सिरदर्द से बचने के उपाय – Prevention Tips for Cluster Headache in Hindi

क्लस्टर सिरदर्द से बचाव के लिए उन चीजों के सेवन से बचना जरूर है, जो इसके अटैक का कारण बन सकती हैं, जैसे :

  • क्लस्टर सिरदर्द से बचने के लिए उन सभी खाद्य पदार्थों का त्याग करें, जो इसके जोखिमों को और अधिक बढ़ा सकता है।
  • ज्यादा गर्मी से बचें।
  • क्षमता से अधिक शारीरिक गतिविधियां न करें।
  • चीज़, मक्खन, क्रीम को छोड़कर अन्य प्रकार के डेयरी प्रोडक्ट्स के सेवन से परहेज करें।
  • धूम्रपान और शराब के सेवन से बचें।

इसके अलावा, क्लस्टर सिरदर्द  होने पर निम्नलिखित बातों पर गौर करें। इससे यह समझ आएगा कि क्या सब करने से सिरदर्द बढ़ रहा है। फिर उन चीजों से परहेज करें (2) –

  •  सिर दर्द का दिन और समय।
  • पिछले 24 घंटों में क्या खाया और पिया।
  • उस दिन कितने दर की नींद ली।
  • दर्द शुरू होने से पहले क्या कर रहे थे और कहां थे।
  • सिरदर्द कितनी देर तक रहा और उससे कैसे आराम मिला।

क्लस्टर सिर दर्द एक ऐसी समस्या है, जिसे पूरी तरह ठीक नहीं किया जा सकता। इलाज के जरिए केवल इसके लक्षण ही कम हो सकते हैं। ऐसे में अगर इससे जुड़ा एक भी लक्षण किसी को दिखाई दे, तो तुरंत डॉक्टर से मिलें। अगर कोई पहले से ही इस समस्या से पीड़ित है, तो लेख में बताए गए परहेज और बचाव के तरीकों को अपना सकता है। हम उम्मीद करते हैं कि इस आर्टिकल को पढ़ने के बाद आप क्लस्टर सिरदर्द के बारे में अच्छे से समझ गए होंगे।

अक्सर पूछे जाने वाला सवाल

क्लस्टर सिरदर्द और माइग्रेन में क्या अंतर है?

माइग्रेन एक सामान्य प्रकार का सिरदर्द है और क्लस्टर सिरदर्द को सिरदर्द का असामान्य प्रकार माना जाता है। माइग्रेन 4 से 72 घंटे तक रहता है और इस दौरान व्यक्ति रोशनी और ध्वनि के प्रति संवेदनशील हो जाता है (5)। वहीं, क्लस्टर सिरदर्द महीनों तक रह सकता है (2)।

क्या क्लस्टर सिरदर्द परिवार में किसी को होने के कारण भी हो सकता है?

हां, क्लस्टर सिरदर्द परिवार में किसी को होने के कारण भी हो सकता है (2)।

क्या कैफीन क्लस्टर सिरदर्द के लिए अच्छा है?

कैफीन सिरदर्द में मददगार साबित हो सकता है, लेकिन क्लस्टर सिरदर्द में इसका क्या प्रभाव होगा यह स्पष्ट नहीं है (6)।

क्या सीबीडी क्लस्टर सिरदर्द के लिए अच्छा है?

एनसीबीआई की वेबसाइट पर मौजूद रिसर्च पेपर के अनुसार, क्लस्टर सिरदर्द के लिए सीबीडी (कैनबिस ऑयल) का इस्तेमाल किया जा सकता है (7) ।

आप क्लस्टर सिरदर्द से कैसे आराम पा सकते हैं?

क्लस्टर सिरदर्द से आराम पाने के लिए लेख में बताए गए परहेज और ट्रिगर से बचते हुए बचाव को अपनाएं। इसके अलावा, डॉक्टर से संपर्क भी कर सकते हैं।

Sources

Articles on StyleCraze are backed by verified information from peer-reviewed and academic research papers, reputed organizations, research institutions, and medical associations to ensure accuracy and relevance. Read our editorial policy to learn more.

Was this article helpful?
The following two tabs change content below.
आवृति गौतम ने सेंट्रल यूनिवर्सिटी ऑफ साउथ बिहार से मास कम्युनिकेशन में एमए किया है। इन्होंने अपने करियर की शुरूआत डिजिटल मीडिया से ही की थी। इस क्षेत्र में इन्हें काम करते हुए दो वर्ष से ज्यादा हो गए हैं। आवृति को स्वास्थ्य विषयों पर लिखना और अलग-अलग विषयों पर विडियो बनाना खासा पसंद है। साथ ही इन्हें तरह-तरह की किताबें पढ़ने का, नई-नई जगहों पर घूमने का और गाने सुनने का भी शौक है।

ताज़े आलेख