सामग्री और उपयोग

कोको बटर के फायदे, उपयोग और नुकसान – Cocoa Butter Benefits and Side Effects in Hindi

by

कोको बटर का नाम आते ही, इससे बनने वाले सौंदर्य उत्पादों व खाद्य पदार्थों का जिक्र जरूर किया जाता है। हो भी क्यों न, इसके औषधीय गुण इतने लाभकारी जो हैं। यही कारण है कि कोको बटर का उपयोग सौंदर्य प्रसाधन के रूप में सदियों से किया जा रहा है, लेकिन हम बता दें कि कोको बटर खूबसूरत बनाने के साथ-साथ आपको कई बीमारियों से भी बचाता है। कोको बटर के फायदे में एनीमिया, भूख की कमी, बुखार, ट्यूबरक्लोसिस, पथरी, शारीरिक संबंधों में कम रुचि व दिमागी थकान आदि से आराम दिलाना शामिल है (1)। स्टाइलक्रेज के इस लेख में हम कोको बटर के ऐसे ही कुछ खास फायदों की बात करेंगे। फायदों के अलावा हम कोको बटर के नुकसान के बारे में भी बताएंगे।

आइए, सबसे पहले आपको बता दें कि कोको बटर क्‍या है। 

कोको बटर क्‍या है – What is Cocoa Butter in Hindi 

कोको बटर एक प्रकार का बटर है, जिसे थियोब्रोम कोको के पौधे पर होने वाले कोको बीज से निकाला जाता है। वास्तविकता में यह कोको बीज का फैट होता है। इन बीजों को पकाने के बाद, दबा कर इनमें से कोको बटर निकाला जाता है। रंग में यह हल्का पीला, मीठी खुशबू और स्वाद में लगभग चॉकलेट जैसा होता है। कोको बटर का उपयोग चॉकलेट और अन्य मीठे खाद्य पदार्थ जैसे बेकरी उत्पाद बनाने में किया जाता है (2)। कोको बटर के फायदे की वजह से इसका उपयोग कई ब्यूटी उत्पाद में किया जाता है (3)। इसमें ऐसे कई गुण पाए जाते हैं, जो आपकी त्वचा के लिए लाभकारी साबित हो सकते हैं। उन सभी गुणों के बारे हम आपको लेख के अगले भाग में बताएंगे।

यह जानने के बाद कि कोको बटर क्‍या है, आगे जानिये कोको बटर के फायदे के बारे में।

कोको बटर के फायदे – Benefits of Cocoa Butter in Hindi

1. एलर्जी

कोको बटर का उपयोग एक्जिमा को कम करने में किया जा सकता है। एक्जिमा एक प्रकार की स्किन एलर्जी होती है, जिसमें त्वचा पर लाल चकत्ते, रैशेज, खुजली और सूजन होने लगती है। इससे राहत पाने में कोको बटर का उपयोग 50 से 100 प्रतिशत लाभकारी साबित हो सकता है (4)। इसमें एंटी इन्फ्लेमेटरी गुण होते हैं, जो स्किन एलर्जी के लक्षण से आराम दिलाने में मदद करते हैं (3)।

2. स्किन बर्न

कोको बटर के फायदे में त्वचा को स्किन बर्न से राहत दिलाना भी है। इसका उपयोग सनबर्न या अन्य किसी वजह से जली त्वचा को ठीक करने में किया जाता है (5)। कोको बटर में एंटी ऑक्सीडेंट गुण पाए जाते हैं, जिन्हें जली त्वचा के घाव भरने में लाभकारी माना गया है (3)। यह त्वचा में फ्री रेडिकल्स की गतिविधियों को कम करता है और घाव को जल्दी भरने में मदद करता है (6)।

3. टैटू के घाव

माना जाता है कि जिस प्रकार कोको बटर का उपयोग जली हुई त्वचा के घाव को भरने में किया जा सकता है, उसी तरह इसका प्रयोग टैटू के घाव भरने में भी किया जा सकता है। फिलहाल, इस संबंध में कोई वैज्ञानिक शोध उपलब्ध नहीं है। इसलिए, अगर आप टैटू के कारण हुए घाव पर कोको बटर लगा रहे हैं, तो एक बार विशेषज्ञ से परामर्श जरूर कर लें।

4. शेविंग क्रीम की तरह

कई शेविंग क्रीम ब्रांड्स अपने उत्पादों में कोको बटर का उपयोग करते हैं। ऐसा इसलिए, क्योंकि कोको बटर में मॉइस्चराइजिंग गुण होता है (5)। इसकी इसी खूबी की वजह से माना जाता है कि यह शेविंग क्रीम में त्वचा में नमी बनाए रखने वाले तत्व की तरह काम कर सकता है। यहां हम स्पष्ट कर दें कि कोको बटर के इस गुण के संबंध में अभी कोई वैज्ञानिक शोध उपलब्ध नहीं है।

5. एंटी एजिंग क्रीम

प्रदूषण और धूप की पराबैंगनी कारणों का त्वचा पर कई प्रकार से बुरा असर होता है। समय से पहले झुर्रियां पड़ना भी इसमें शामिल है। ऐसे में, कोको बटर को एंटी एजिंग क्रीम की तरह उपयोग किया जा सकता है। इसमें विटामिन-ई पाया जाता है (7), जो त्वचा पर एंटी ऑक्सीडेंट की तरह काम करता है। यह बढ़ती उम्र के लक्षण जैसे झुर्रियां व महीन रेखाएं आदि से निजात पाने में मदद कर सकता है (8)। इस प्रकार कोको बटर के फायदे में एंटी एजिंग गुण भी शामिल है।

6. अंडर आई क्रीम

बिल्कुल एंटी एजिंग क्रीम की तरह कोको बटर का उपयोग अंडर आई क्रीम की तरह भी किया जा सकता है। बढ़ती उम्र के लक्षण जैसे झुरियां, महीन रेखाएं व मुंहासे आदि आंखों के नीचे भी आ सकते हैं। ऐसे में इसमें पाया जाने वाला विटामिन-ई काम आ सकता है (7)। इससे आंखों के नीचे मसाज करने से कोको बटर के फायदे आपको अंडर ऑय क्रीम की तरह मिल सकते हैं (8)।

7. स्ट्रेच मार्क्स

कोको बटर के फायदे आपके स्ट्रेच मार्क्स को बढ़ने से रोकने और कम करने में मदद कर सकते हैं। कोको बटर और इसमें पाए जाने वाला विटामिन-ई त्वचा की इलास्टिसिटी और नमी को बढ़ाता है, जिससे स्ट्रेच मार्क्स को कम करने में मदद मिल सकती है (9)। फिलहाल, इस संबंध में अभी और शोध की जरूरत है।

8. फटे होंठों के लिए

अगर आपके होंठ फटे हुए हैं और उनमें नमी की कमी है, तो आप कोको बटर का उपयोग कर सकते हैं। कोको बटर त्वचा पर नमी की एक परत बनाए रखता है और उन्हें फटने या रूखा होने से बचाता है (5)। इसलिए, जब भी होंठ सूखें, तो उन पर थोड़ा-सा कोको बटर लगाने से आपको फटे होंठों से जल्द आराम मिल सकता है।

9. बालों के लिए फायदेमंद

शोध में पाया गया है कि कोको बटर का उपयोग त्वचा में रक्त संचार और ऑक्सीजन के संचार को बढ़ाने में मदद कर सकता है (10)। अगर रक्त संचार बेहतर रहता है, तो बालों को बढ़ने में मदद मिलती है (11)। साथ ही कोको बटर में मौजूद विटामिन-ई (7), बालों को फ्री रेडिकल्स से होने वाले ऑक्सिडेटिव स्ट्रेस से बचाकर झड़ने से रोकता है (12)।

यह जानने के बाद कि कोको बटर क्या होता है और इसके फायदे क्या हैं, आइए आपको इसमें मौजूद पोषक तत्वों की जानकारी दे दें।

कोको बटर के पौष्टिक तत्व – Cocoa Butter Nutritional Value in Hindi 

नीचे जानिये कि कोको बटर में कौन-कौन से पौष्टिक तत्व कितनी मात्रा में पाए जाते हैं (7): 

पोषक तत्वमात्रा प्रति 100 ग्राम
कैलोरी884 kcal
ऊर्जा3699 किलोजौल
टोटल लिपिड (फैट)100 ग्राम
विटामिन्स
विटामिन-ई1.8 मिलीग्राम
विटामिन-के24.7 माइक्रोग्राम
लिपिड्स
फैटी एसिड (टोटल सैचुरेटेड)59.7 ग्राम
फैटी एसिड (टोटल मोनो अनसैचुरेटेड)32.9 ग्राम
फैटी एसिड (टोटल पॉली अनसैचुरेटेड)3 ग्राम
फाइटोस्टेरोल्स201 मिलीग्राम

कोको बटर के पौष्टिक तत्वों जानने के बाद अब आपको यह बताते हैं कि आप कोको बटर का उपयोग किस प्रकार कर सकते हैं।

कोको बटर का उपयोग – How to Use Cocoa Butter in Hindi 

कोको बटर का उपयोग कई ब्यूटी उत्पादों, हेयर केयर उत्पाद और खाद्य पदार्थों में किया जाता है, जैसे (2) (3) :

  • कोको बटर का उपयोग हर रोज मॉइस्चराइजर की तरह किया जा सकता है। जब भी त्वचा रूखी लगे, अपने हाथों में थोड़ा-सा कोको बटर ले कर त्वचा पर लगा लें।
  • धूप में निकलने से पहले त्वचा पर कोको बटर लगाने से यह त्वचा को सूरज की हानिकारक किरणों से बचाता है। इसलिए इसका उपयोग सनस्क्रीन की तरह भी किया जा सकता है।
  • जैसा कि हमने ऊपर बताया कि यह फटे होंठों के लिए भी लाभदायक है। ऐसे में, आप कोको बटर का उपयोग लिप बाम की तरह भी कर सकते हैं।
  • रात को सोने से पहले चेहरे पर कोको बटर से एंटी एजिंग क्रीम की तरह मसाज करें। इससे त्वचा मुलायम रहेगी और चेहरे पर झुर्रियां भी नहीं आएंगी।
  • कोको बटर को पिघला कर आप इससे अपने स्कैल्प और बालों में मसाज कर सकते हैं।
  • कोको बटर में फैट की मात्रा अधिक होने के वजह से इसका उपयोग केक व अन्य बेकरी उत्पाद में बटर की तरह किया जा सकता है। यह खाने को बेहतर स्वाद देगा।

अब आपको कोको बटर से जुड़ी लगभग हर जानकारी मिल गई होगी। लेख के आखिरी भाग में जानिये कोको बटर के नुकसान के बारे में।

कोको बटर के नुकसान – Side Effects of Cocoa Butter in Hindi

कोको बटर के नुकसान पर अभी कोई वैज्ञानिक रिपोर्ट उपलब्ध नहीं है। हां, अगर आप कोको बटर का उपयोग किसी खास बीमारी या एलर्जी के लिए कर रहे हैं, तो उपयोग करने से पहले एक बार डॉक्टर से परामर्श जरूर कर लें। इसके अलावा, कोको बटर के कुछ उत्पादों में एस्ट्रोजन हार्मोन (मादा हार्मोन) का स्तर कम करने के प्रभाव देखे गए हैं, जिसे एंटी-एस्ट्रोजेनिक प्रभाव कहा जाता है (13)। एस्ट्रोजेन हॉर्मोन महिलाओं के मासिक धर्म, गर्भावस्था और अन्य शारीरिक गतिविधियों में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। एंटी-एस्ट्रोजेनिक को एस्ट्रोजन ब्लॉकर भी कहा जाता है। इसके प्रभाव के कारण महिलाओं के शरीर में मादा हॉर्मोन एस्ट्रोजेन का निर्माण नहीं होता है (14)। एस्ट्रोजेन की कमी से महिलाओं को महावारी, गर्भावस्था और अन्य शारीरिक गतिविधियों में समस्या का सामना करना पड़ सकता है (15)। इससे किशोरावस्था के दौरान भी विकास में समस्या आ सकती है (16)।

इस लेख से यह तो स्पष्ट हो गया कि कोको बटर क्‍या है और यह आपकी त्वचा में प्राकृतिक रूप से नमी बनाए रखने में कितना लाभदायक साबित हो सकता है। उम्मीद करते हैं कि अब जब कभी भी आप एक प्रभावशाली मॉइस्चराइजर के बारे में सोचेंगे, तो कोको बटर के फायदे आपके दिमाग में जरूर आएंगे। कोको बटर के नुकसान सभी को नहीं झेलने पड़ते। अगर आपको नट्स एलर्जी है, तो शायद कोको बटर का उपयोग आपके लिए नुकसानदायक हो सकता है। इसलिए, इसे इस्तेमाल करने से पहले एक बार डॉक्टर से परामर्श कर लें। साथ ही, अगर अब भी आपके मन में कोको बटर या उससे जुड़ा कोई भी सवाल है, तो नीचे कमेंट बॉक्स में लिख कर हमसे पूछ सकते हैं।

अक्सर पूछे जाने वाले सवाल

कोको बटर की जगह उपयोग किये जाने वाले विकल्प?

कोको बटर की जगह शिया बटर का उपयोग किया जा सकता है। इसमें भी लगभग कोको बटर जैसे ही गुण पाए जाते हैं।

कोको बटर को कितने समय तक सुरक्षित रखा जा सकता है?

कोको बटर को लगभग दो साल तक सुरक्षित रखा जा सकता है। जब भी आप कोको बटर से बने उत्पाद खरीदें, तो उनकी एक्सपायरी डेट देख लें और उसी के अनुसार उनका उपयोग करें।

और पढ़े:

×
This article changed my life!
This article was informative.
Change

×
This article contains incorrect information.
This article doesn’t have the information I’m looking for.
Change

Was this article helpful?
The following two tabs change content below.

Soumya Vyas

सौम्या व्यास ने माखनलाल चतुर्वेदी विश्वविद्यालय, भोपाल से इलेक्ट्रॉनिक मीडिया में बीएससी किया है और इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ जर्नलिज्म एंड न्यू मीडिया, बेंगलुरु से टेलीविजन मीडिया में पीजी किया है। सौम्या एक प्रशिक्षित डांसर हैं। साथ ही इन्हें कविताएं लिखने का भी शौक है। इनके सबसे पसंदीदा कवि फैज़ अहमद फैज़, गुलज़ार और रूमी हैं। साथ ही ये हैरी पॉटर की भी बड़ी प्रशंसक हैं। अपने खाली समय में सौम्या पढ़ना और फिल्मे देखना पसंद करती हैं।

ताज़े आलेख