कॉफी पीने के फायदे और नुकसान – Coffee Benefits and Side Effects in Hindi

Medically reviewed by Neelanjana Singh, Nutrition Therapist & Wellness Consultant
Written by

कॉफी एक लोकप्रिय पेय पदार्थ है, जिसे उसकी खुशबू और स्वाद के लिए जाना जाता है। आमतौर पर ताजगी और स्फूर्ती पाने के लिए लोग इसका सेवन करते हैं। रोजमर्रा के जीवन में बड़े शौक से पी जाने वाली कॉफी के फायदे और नुकसान दोनों की जानकारी होना भी जरूरी है। इसी वजह से स्टाइलक्रेज के इस आर्टिकल में हम वैज्ञानिक अध्ययनों के आधार पर कॉफी के फायदे और नुकसान के बारे में विस्तार से बता रहे हैं। साथ ही यहां कॉफी से जुड़ी अन्य जानकारी भी साझा की गई है।

पढ़ते रहें लेख

आइए, सबसे पहले जानते हैं कि कॉफी क्या है।

कॉफी क्‍या है? – What is Coffee in Hindi

कॉफी को कॉफिया अरेबिका (Coffea Arabica) नाम के पेड़ पर लगने वाले फल से तैयार किया जाता है। इस पेड़ पर लगने वाली फलियों (कॉफी बीन्स) को भूनकर और पीसकर कॉफी पाउडर बनता है। कॉफी की लोकप्रियता का पता इसी से लगाया जा सकता है कि वर्तमान में इसकी मांग इसके उत्पादन से भी ज्यादा है।

स्क्रॉल करें

लेख के इस भाग में कॉफी पीने के फायदे क्या-क्या होते हैं, यह पढ़िए।

कॉफी पीने के फायदे – Benefits of Coffee in Hindi

कॉफी का सेवन करने से शरीर को कई लाभ मिल सकते हैं। बस इस बात का ध्यान दें कि कॉफी यहां बताई गई किसी भी समस्या का इलाज नहीं है। यह सिर्फ समस्या से बचाव और उसके प्रभाव को कुछ हद तक कम करने में सहायक हो सकती है।

1. ऊर्जा और फुर्ती बढ़ाने में कॉफी के फायदे

ऊर्जा और फुर्ती बढ़ाने में कॉफी मददगार हो सकती है। दरअसल, कॉफी में मौजूद कैफीन को दिमाग और तंत्रिका प्रणाली की एक्टिविटी बढ़ाने के लिए जाना जाता है
(1)। एनसीबीआई (नेशनल सेंटर फॉर बायोटेक्नोलॉजी इंफॉर्मेशन) द्वारा प्रकाशित एक अध्ययन के अनुसार, कॉफी शरीर में ऊर्जा संतुलित करने का काम कर सकती है (2)।

साथ ही कॉफी से अलर्टनेस यानी सतर्कता बढ़ती है। साथ ही दैनिक गतिविधियों के प्रदर्शन में भी सुधार हो सकता है (3)। एक अन्य शोध में बताया गया है कि कैफीन युक्त पेय पदार्थों का सेवन करने से कॉग्निटिव (मस्तिष्क संबंधी) गतिविधियां बेहतर हो सकता है (4)। इन सभी बातों के आधार पर यह कहा जा सकता है कि ऊर्जा बढ़ाने में कॉफी पीने के लाभ हो सकते हैं।

2. वजन कम करने में कॉफी के फायदे

वजन करने के घरेलू उपाय में कॉफी का नाम भी शामिल है। बताया जाता है कि इसमें मौजूद कैफीन, मेटाबॉलिज्म यानी भोजन से ऊर्जा बनने की क्रिया को बढ़ाता है। साथ ही इससे पैदा होने वाली गर्मी (Thermogenesis) मोटापे को नियंत्रित करने में सहायक हो सकती है (2)।
एक अन्य वैज्ञानिक अध्ययन में भी जिक्र मिलता है कि कैफीन के द्वारा मेटाबॉलिज्म बढ़ता है, जिससे वजन कम करने में मदद मिल सकती है (5)। इसी वजह से कॉफी पीने के फायदे में वजन कम करने को भी गिना जाता है।

3. टाइप 2 डायबिटीज में कॉफी के लाभ

कॉफी पीने के फायदे में टाइप 2 डायबिटीज के जोखिम को कम करना भी शामिल है। एनसीबीआई पर मौजूद एक रिसर्च के अनुसार, रोजाना 4 कप कॉफी पीने से टाइप 2 डायबिटीज का जोखिम 30 प्रतिशत तक कम हो सकता है (6) । एक अन्य शोध में कहा गया है कि कॉफी के सेवन से इंसुलिन संवेदनशीलता में सुधार होता है, जिससे टाइप 2 डायबिटीज का खतरे कम हो सकता है (7)।

चूहों पर किए गए एक शोध में जिक्र मिलता है कि कॉफी में मौजूद क्लोरोजेनिक एसिड, क्विनिक एसिड, ट्राइगोनलाइन और लिग्नन सेकियोसोलेराइकिनसोल तत्व ग्लूकोज मेटाबॉलिज्म में सुधार कर सकते हैं। ऐसा करने करके ये सभी तत्व ब्लड शुगर को कम करने में सहायक भूमिका निभा सकते हैं (7)।

4. पार्किंसंस का जोखिम कम करे कॉफी

कॉफी पीने के फायदे में पार्किंसंस रोग से बचाव भी शामिल है। इस मस्तिष्क विकार में केंद्रीय तंत्रिका तंत्र व्यक्ति के चलने फिरने और संतुलन बनाने की क्षमता को प्रभावित करती है (8)। बताया जाता है कि कॉफी में मौजूद कैफीन तंत्रिका तंत्र को उत्तेजित करने वाला न्यूरोस्टिमुलेंट और तंत्रिका तंत्र को सुरक्षा देने वाला न्यूरोप्रोटेक्टिव प्रभाव प्रदर्शित करता है (9)। इससे पार्किंसंस के जोखिम को कुछ हद तक कम करने में मदद मिल सकती है।

5. लिवर को सुरक्षा प्रदान करे

कॉफी का सेवन करने से लिवर को क्षति से बचाया जा सकता है। एक शोध में बताया गया है कि रोजाना 4 कप कॉफी का सेवन करने वाले व्यक्तियों में एस्पारटेट एमिनोट्रांस्फरेज (Aspartate Aminotransferase) और एलेनिन एमिनोट्रांस्फरेज (Alanine Aminotransferase) नामक एंजाइम का स्तर कम पाया गया। इन दोनों एंजाइम की बढ़ी हुई मात्रा लिवर क्षति की ओर संकेत करती है (11)। इस कारण कहा जा सकता है कि कॉफी के गुण लिवर को क्षति से बचा सकते हैं।

आगे पढ़ें

6. अवसाद से बचाव में कॉफी के फायदे

विशेषज्ञों का मानना है कि तनाव को कम करने में कैफीन की सकारात्मक भूमिका हो सकती है, क्योंकि इसका सेवन अल्फा-एमिलेज (sAA) नामक एंजाइम में बढ़ोत्तरी कर सकता है। कैफीन का ये गुण अवसाद, तनाव और चिंता से राहत पहुंचाने में सहायता कर सकता है (12)। अन्य शोध के अनुसार, महिलाएं जो कॉफी का नियमित सेवन करती हैं, उन्हें अवसाद होने का जोखिम कम हो सकता है (13)।

7. अल्जाइमर और डिमेंशिया से सुरक्षा

अल्जाइमर सबसे आम मानसिक बीमारी है, जिसमें धीरे-धीरे याद रखने और सोचने की क्षमता कम होती जाती है। इसके कारण डिमेंशिया नामक मनोविकार पैदा हो सकता है (14)। यहां कैफीन के फायदे देखे जा सकते हैं। कैफीन नर्वस सिस्टम को उत्तेजित कर सकता है और कॉग्निटिव (मानसिक) स्वास्थ्य को बेहतर बना सकता है। यही कारण है कि अल्जाइमर और डिमेंशिया से सुरक्षा में कैफीन कारगर हो सकता है। फिलहाल, इस बात की पुष्टि करने के लिए और शोध की जरूरत है (15)।

8. कैंसर का जोखिम कम करने में कॉफी के फायदे

एक स्टडी के अनुसार, रोजाना 2 कप कॉफी पीने से लिवर, प्रोस्टेट और एंडोमेट्रियल कैंसर का जोखिम क्रमशः 27%, 3% और 12% तक कम हो सकता है। इसके विपरीत कुछ शोध में कॉफी को कैंसर का जोखिम कारक भी माना गया है। ऐसे में कॉफी का सेवन कैंसर से बचाव में कैसे प्रभावी हो सकता है, इस विषय पर अभी और शोध किए जाने की जरूरत है (16)। इसी वजह से इस संबंध में डॉक्टर से सलाह जरूर लें, क्योंकि कैंसर एक घातक बीमारी है, जिसका सही डॉक्टरी इलाज होना जरूरी है।

9. स्ट्रोक से बचाव में कॉफी के फायदे

एनसीबीआई की वेबसाइट पर प्रकाशित एक शोध में कोरियाई लोगों द्वारा कॉफी का अधिक मात्रा में सेवन करने से स्ट्रोक के जोखिम में सुरक्षात्मक प्रभाव दिखा है (17)। एक शोध के अनुसार, कॉफी का नियमित सेवन कुछ हद तक उच्च रक्तचाप की समस्या, डायबिटीज और हृदय रोग के जोखिम को कम करने में मदद कर सकता है। इन सभी स्वास्थ्य समस्याओं को स्ट्रोक का जोखिम कारक माना जाता है। इस प्रकार कॉफी का सेवन स्ट्रोक के जोखिम को कम करने में मददगार हो सकता है (18)।

10. त्वचा के लिए कॉफी के फायदे

कॉफी में प्रमुखता से मौजूद कैफीन तत्व त्वचा के लिए लाभदायक हो सकता है। यही कारण है इसका उपयोग कई कॉस्मेटिक प्रोडक्ट में किया जाने लगा है। बताया जाता है कि कैफीन त्वचा में अच्छी तरह समाकर कोशिका स्तर पर काम करने में सक्षम है। साथ ही इसमें एंटीऑक्सीडेंट गतिविधि होती है। कॉफी के गुण के चलते इसका मुख्य घटक कैफीन त्वचा को अल्ट्रावायलेट रेडिएशन के हानिकारक प्रभाव से बचा सकता है, जो त्वचा को उम्रदराज दिखाने का बड़ा कारण होता है। इसके अलावा, कैफीन त्वचा कोशिकाओं में फैट जमने से रोक सकता है (19)।

11. बालों के लिए

कॉफी के फायदे बालों पर भी नजर आ सकते हैं। एनसीबीआई की वेबसाइट पर प्रकाशित मेडिकल रिसर्च की मानें, तो कॉफी में मौजूद कैफीन रक्त के माइक्रोसर्कुलेशन को बढ़ाने का काम कर सकता है और 5-α-रिडक्टेस (एक तरह का एंजाइम) गतिविधि में बाधा उत्पन्न कर बालों के विकास को उत्तेजित कर सकता है (19)।

पढ़ते रहें आर्टिकल

अभी आपने कॉफी के फायदे जानें। अब आगे कॉफी में मौजूद पोषक तत्वों पर एक नजर डालिए।

कॉफी के पौष्टिक तत्व – Coffee Nutritional Value in Hindi

कॉफी ऐसा पेय पदार्थ है, जो स्वादिष्ट होने के साथ-साथ कुछ पोषक तत्वों से भी युक्त होता है। एक कप कॉफी यानी पीने के लिए तैयार कॉफी में निम्न पोषक तत्व पाए जाते हैं (20)।

पोषक तत्वमात्रा प्रति एक कप
पानी239 ग्राम
ऊर्जा2.4 कैलोरी
प्रोटीन0. 288 ग्राम
फैट0. 048 ग्राम
कैल्शियम4.8 मिलीग्राम
आयरन0.024 मिलीग्राम
मैग्नीशियम7.2 मिलीग्राम
फास्फोरस7.2 मिलीग्राम
पोटेशियम118 मिलीग्राम
सोडियम4.8 मिलीग्राम
जिंक0.048 मिलीग्राम
थायमिन0.034 मिलीग्राम
राइबोफ्लेविन0.182 मिलीग्राम
नियासिन0.458 मिलीग्राम
विटामिन बी-60.002 मिलीग्राम
फोलेट4.8 माइक्रोग्राम
विटामिन ई0.024 मिलीग्राम
कैफीन96 मिलीग्राम

पढ़ते रहें आर्टिकल

आइए, अब कॉफी के उपयोग से जुड़ी जरूरी बातें जानते हैं।

कॉफी का उपयोग – How to Use Coffee in Hindi

कॉफी अपनी पसंद और प्राथमिकता के आधार पर कई तरीके से पी जा सकती है, लेकिन कॉफी पीने के नुकसान को भी ध्यान में रखना जरूरी है, जिनका हम लेख में आगे जिक्र करेंगे। कॉफी का सेवन कितने तरीके से किया जा सकता है, यह जानने से पहले जानते हैं कि कॉफी का सेवन कब और कितनी मात्रा में करना सही है।

कॉफी का सेवन कब और कितनी मात्रा में करें?

ताजगी और ऊर्जा के लिहाज से कॉफी का सेवन सुबह के समय करना अच्छा हो सकता है, लेकिन इसका संतुलित सेवन दिन में कभी भी किया जा सकता है। सोने से ठीक पहले कैफीन का सेवन करना चाहिए या नहीं इस पर अभी संदेह की स्थिति बनी हुई है (21)।

अब बात करते हैं कि कॉफी का सेवन कितनी मात्रा में करना चाहिए, तो विशेषज्ञों के अनुसार प्रतिदिन करीब 2 से 3 कप कॉफी पी सकते हैं (22)। इससे अधिक मात्रा में कैफीन नुकसानदायक साबित हो सकता है, जिसके बारे में हम लेख में आगे बताएंगे।

आगे जानिए कि कॉफी का सेवन कितने प्रकार से किया जा सकता है।

कॉफी का सेवन कैसे करें?

  • कॉफी का सेवन कई तरीके से किया जा सकता है, जैसे (23)।
  • गर्म पानी में कॉफी पाउडर डालकर ब्लैक कॉफी बनाई जा सकती है।
  • इसमें दूध, क्रीम, कोको पाउडर और शुगर व्हाइट कॉफी बना सकते हैं।
  • पानी में कॉफी, शुगर और बर्फ के टुकड़े डालने के बाद मिक्सर में घुमाएं। बस कोल्ड कॉफी तैयार है।
  • इसके अलावा, फिल्टर कॉफी का सेवन भी किया जा सकता है।

पढ़ते रहें

लेख के अगले भाग में जानें कॉफी के नुकसान।

कॉफी के नुकसान – Side Effects of Coffee in Hindi

अमेरिकन फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन (एफडीए) की मानें, तो कैफीन की अधिक मात्रा से कुछ स्वास्थ्य समस्याएं पैदा हो सकती हैं, जो कुछ इस प्रकार हैं (23)

सुबह की शुरुआत कॉफी के साथ करना सेहतमंद और ऊर्जा से भरा हो सकता है। साथ ही यह कई बीमारियों को दूर रखने में भी सहायक हो सकती है। बस इसका सेवन सीमित मात्रा में ही करें। हां, अगर कोई किसी गंभीर स्वास्थ्य समस्या से जूझ रहा है, तो कॉफी का सेवन नियमित रूप से करने से पहले डॉक्टर से सलाह जरूर लें। साथ ही स्वस्थ लोगों को कॉफी के नुकसान को ध्यान में रखते हुए ही इसे अपनी डाइट में शामिल करना चाहिए। चलिए, आगे कॉफी से जुड़े कुछ सवालों के जवाब जानते हैं।

अक्सर पूछे जाने वाले सवाल

क्या दिन में 2 कॉफी लेना ठीक है?

जी हां, दिनभर में 2 कप कॉफी का सेवन करना ठीक है।

क्या कॉफी किडनी के लिए बुरी है?

जी नहीं, कॉफी किडनी के लिए बुरी नहीं है। यह किडनी की समस्या को कम करने का काम कर सकती है (24)।

क्या कॉफी त्वचा के लिए हानिकारक है?

नहीं, कॉफी त्वचा के लिए हानिकारक नहीं होती है, बल्कि इसे त्वचा के लिए लाभकारी माना जाता है। कॉफी की मदद से त्वचा को अल्ट्रावायलेट रेडिएशन से बचाने और एजिंग प्रक्रिया में सहायता मिल सकती है (19)।

क्या हर रोज कॉफी पीना ठीक है?

जी हां, रोजाना सीमित मात्रा में कॉफी पीना ठीक होता है।

Sources

Was this article helpful?
The following two tabs change content below.
भूपेंद्र वर्मा ने सेंट थॉमस कॉलेज से बीजेएमसी और एमआईटी एडीटी यूनिवर्सिटी से एमजेएमसी किया है। भूपेंद्र को लेखक के तौर पर फ्रीलांसिंग में काम करते 2 साल हो गए हैं। इनकी लिखी हुई कविताएं, गाने और रैप हर किसी को पसंद आते हैं। यह अपने लेखन और रैप करने के अनोखे स्टाइल की वजह से जाने जाते हैं। इन्होंने कुछ डॉक्यूमेंट्री फिल्म की स्टोरी और डायलॉग्स भी लिखे हैं। इन्हें संगीत सुनना, फिल्में देखना और घूमना पसंद है।

ताज़े आलेख