क्या दूध गर्म पीना चाहिए या ठंडा? Which Milk is Better, Hot or Cold?

Written by

क्या दूध गर्म पीना चाहिए या ठंडा? यह सवाल अमूमन हर किसी के जहन में आता है। वैसे देखा जाए, तो लोग अपनी-अपनी पसंद और जरूरत के अनुसार दूध पीना पसंद करते हैं। इसके बावजूद ठंडे व गर्म दूध को लेकर उलझन होती है। इसी समस्या को दूर करने में हमारा या लेख आपकी मदद कर सकता है। स्टाइलक्रेज के इस लेख में गर्म दूध पीने के फायदे और नुकसान विस्तार से बताए गए हैं। साथ ही ठंडा दूध पीने के फायदे और नुकसान भी यहां पढ़ सकते हैं। इसलिए, लेख के अंत तक बने रहे हमारे साथ और अंत में अक्सर पूछे जाने वाले कुछ सवालों के जवाब भी पढ़ें।

शुरू करें पढ़ना

सबसे पहले हम गर्म दूध पीने के फायदे और नुकसान बता रहे हैं।

गर्म दूध पीने के फायदे और नुकसान – Benefits and Side Effects of Hot Milk in Hindi

इस भाग में आप गर्म दूध पीने के फायदे और नुकसान पढ़ेंगे। बता दें कि दूध पीने के स्वास्थ्य लाभ कई हैं (1)। साथ ही ध्यान रखें कि इसके सभी फायदे सिर्फ स्वास्थ्य को बेहतर बनाने के लिए ही हैं। यह किसी भी गंभीर शारीरिक बीमारी का पूर्ण इलाज नहीं है।

गर्म दूध पीने के फायदे :

अगर सीमित मात्रा में गर्म दूध पिया जाए, तो यह सेहमंद के साथ ही लाभकारी भी हो सकता है। इसलिए, एक नियमित तौर पर सीमिन मात्रा में ही गर्म दूध पीएं। गर्म दूध पीने के फायदे जानने के लिए नीचे पढ़ें।

  1. अच्छी नींद के लिए : जापान की एक यूनिवर्सिटी की रिसर्च में कहा गया है कि दूध में मौजूद ट्रिप्‍टोफैन नामक एमिनो एसिड नींद से जुड़े हार्मोन सेरोटोनिन और मेलाटोनिन का उत्पादन बढ़ा सकता है। इस वजह से सोते समय रात में गर्म दूध पीने के फायदे नींद में आने वाली परेशानियां कम कर सकते हैं, जिससे अच्छी नींद आ सकती है (2)। यह जानकारी एनसीबीआई (नेशनल सेंटर फॉर बायोटेक्नोलॉजी इंफॉर्मेशन) की साइट पर उपलब्ध है।
  1. इम्यूनिटी के लिए : गर्म दूध पीने के फायदे में रोग प्रतिरोधक क्षमता को बेहतर करना भी शामिल है। दूध के इस गुण और बेहतर करने के लिए आप इसमें अश्वगंधा भी मिला सकते हैं (3)
  1. कोविड-19 से रिकवरी : कोरोना वायरस से रिकवरी करने और बुखार कम करने में भी गर्म दूध पीने के फायदे हो सकते हैं। इस बात की पुष्टि महाराष्ट्र सरकार की ओर से जारी जरूरी गाइडलाइंस से होती है (4)। बस ध्यान रहे कि मरीज को इस दौरान अन्य पोषक खाद्य व तरल पदार्थों का भी सेवन करना चाहिए। इतना ही नहीं आयुर्वेद में भी कोविड-19 के संबंध में दूध का उल्लेख है। आयुर्वेद के अनुसार, गर्म दूध में हल्दी मिलाकर पीने से कोरोना के बाद मानसिक तनाव को कुछ हद तक कम किया जा सकता है (5)
  1. चिंता दूर करे : नींद की कमी चिंता जैसी मानसिक स्थितियों को बढ़ा सकती है (6)। वहीं, सोते समय गर्म दूध पीने से न सिर्फ सोने की गुणवत्ता बढ़ सकती है, बल्कि इसका एंटी स्ट्रेस गुण चिंता दूर करने में भी मदद कर सकता है (7)
  1. पचाने में आसान : कुछ लोगों को दूध पचाने में परेशानी हो सकती है, जिसे लैक्‍टोज इंटॉलरेंस कहते हैं (8)। वहीं, कच्चे दूध के मुकाबले गर्म दूध आसानी से पच सकता है (9)। ऐसे में गर्म दूध के फायदे लैक्‍टोज इंटॉलरेंस की समस्या दूर करके बदहजमी जैसी समस्या भी दूर कर सकते हैं।

गर्म दूध पीने के नुकसान :

जहां गर्म दूध पीने के फायदे हैं, वहीं गर्म दूध पीने के नुकसान भी हैं, जो इस प्रकार हैं।

  1. दूध में लैक्टोज होता है। इस वजह से अधिक मात्रा में गर्म दूध पीने से पाचन से जुड़ी समस्या हो सकती है, जिससे दस्त, गैस या पेट फूलने की समस्या हो सकती है (10)
  1. गर्म दूध पीने के नुकसान में मुंह का जलना भी शामिल है। ऐसा तब होता है, जब तेज गर्म दूध एकदम से पी लिया जाए।
  1. अधिक मात्रा में दूध पीने से कूल्हे के फ्रैक्चर का जोखिम बढ़ सकता है। ऐसा दूध के पाचन से जुड़ी समस्या के कारण हो सकता है (11)

पढ़ते रहें यह लेख

गर्म दूध पीने के फायदे और नुकसान जानने के बाद, आगे पढ़ें ठंडा दूध पीने के फायदे और नुकसान।

ठंडा दूध पीने के फायदे और नुकसान – Benefits and Side Effects of Cold Milk in Hindi

इस भाग में आप ठंडा दूध पीने के फायदे और नुकसान जानेंगे। ध्यान रखें कि दूध ठंडा पिएं या गर्म यह लोगों की अपनी-अपनी पसंद पर निर्भर होता है, लेकिन कुछ स्थितियों में ठंडा दूध पीना अधिक स्वास्थ्यकारी हो सकता है, जिसके बारे में हमने नीचे बताया है।

ठंडा दूध पीने के फायदे :

ठंडा दूध पीने के फायदे पर कम वैज्ञानिक शोध उपलब्ध हैं। फिर भी मौजूद शोध यह स्पष्ट करते हैं कि अगर मात्रा का ध्यान रखते हुए ठंडा दूध पिया जाए, तो यह स्वास्थ्य के लिए लाभकारी हो सकता है।

  1. एसिडिटी के लिए : ठंडे दूध में एंटासिड प्रभाव होता है, जो पेट के एसिड को न्यूट्रलाइज कर सकता है। इससे पेट से जुड़ी कई समस्याओं, जैसे – पेट की एसिडिटी, अपच की समस्या व सूजन से राहत मिल सकती है (12)। इस तथ्य की पुष्टि एनसीबीआई की साइट पर पब्लिश रिसर्च पेपर से होती है। यह रिसर्च मुंबई की एक यूनिवर्सिटी ने की है।
  1. डिहाइड्रेशन और गर्मी से बचाए : ऐसा माना जाता है कि ठंडा दूध पीने से शरीर में पानी की कमी नहीं होती है। इस संबंध में एनसीबीआई की साइट पर एक रिसर्च पेपर उपलब्ध है। इसमें बताया गया है कि फैट फ्री दूध में करीब 90 प्रतिशत पानी होती है (13)। सुबह ठंडा दूध पीना सबसे बेहतर समय माना गया है ।
  1. एनर्जी के लिए : गाय का कच्चा दूध मोनोअनसैचुरेटेड फैट या अन्य तरह के वसा से समृद्ध होता है। यही वजह है कि कच्चे या ठंडे दूध को ऊर्जा से भरपूर आहार माना जा सकता है, जो शरीर की एनर्जी बढ़ाने में सहायक हो सकता है। इसलिए, जिम या वर्कआउट के बाद ठंडा दूध पीना लाभकारी हो सकता है।
  1. अस्थमा से राहत : ऐसा माना जाता है कि ठंडा या कच्चा दूध पीने से बच्चों में एलर्जी व अस्थमा से जुड़े जोखिम कम हो सकते हैं। फिलहाल, इस विषय पर और वैज्ञानिक शोध किया जा रहा है (14) 
  1. पोषण से भरपूर : ऐसा माना जाता है कि पाश्चुराइज दूध के मुकाबले ठंडे या कच्चे दूध में पौष्टिक तत्वों की मात्रा अधिक हो सकती है। पोषक तत्वों की मात्रा कुछ हद तक दूध को गर्म करने की प्रक्रिया पर भी निर्भर करती है (15)
  1. बेहतर स्किन क्लींजर : कुछ लोग कच्चे दूध का इस्तेमाल घरेलू तौर पर स्किन क्लींजर के रूप में भी करते हैं। ठंडा दूध चेहरे पर लगाने से त्वचा में कसावट आती है और प्राकृतिक रूप से हाइड्रेट हो सकती है।
  1. शिशुओं में डिस्फेजिया के लिए : समय से पूर्व पैदा हुए शिशुओं में डिस्फेजिया यानी दूध निगलने की समस्या हो सकती है (16)। ऐसे में शिशु को ठंडा दूध पिलाने के फायदे हो सकते हैं। एक रिसर्च में इसकी पुष्टि हुई है कि ठंडा दूध पिलाने से नवजात शिशुओं में डिस्फेजिया का उपचार किया जा सकता है (17)। यहां हम स्पष्ट कर दें कि शिशु को इस समस्या में शिशु को किस प्रकार का दूध देना है, यह पूरी तरह से डॉक्टर पर निर्भर करता है।

ठंडा दूध पीने के नुकसान :

इस भाग में हम कच्चे दूध के आधार पर ठंडा दूध पीने के नुकसान बता रहे हैं।

  1. अगर ठंडा दूध कच्चा है, तो पेट से जुड़ी बीमारियों का कारण बन सकता है, क्योंकि कच्चे दूध में कई तरह के बैक्टीरिया होते हैं (18)
  1. लैक्‍टोज इंटॉलरेंस होने पर कच्चा दूध पचाने में परेशानी हो सकती है। गंभीर होने पर शरीर में कैल्शियम की मात्रा प्रभावित हो सकती है, जिससे हड्डियों से जुड़ी समस्या जैसे – फ्रैक्चर का जोखिम बढ़ सकता है (19)
  1. अगर ठंडा दूध कच्चा पिया जाए, तो इससे फूड पॉइजनिंग का जोखिम बढ़ सकता है (20)
  1. सर्दियों में ठंडा दूध पीने के नुकसान हो सकते हैं। यह सर्दी-जुकाम का कारण बन सकता है।

स्क्रॉल करें

लेख के अंत में यह जानें कि दूध गर्म पीना चाहिए या ठंडा।

गर्म या ठंडा कौन सा दूध पीना अधिक लाभकारी है? – Which Milk is Better, Hot or Cold?

ऐसा माना जाता है कि ठंडे दूध के मुकाबले गर्म दूध को पचाना आसान होता है। इसके पीछे मुख्य कारण लैक्टोज है। ठंडे दूध में लैक्टोज की मात्रा ज्यादा होती है। वहीं, जब दूध को गर्म किया जाता है, तो लैक्टोज की मात्रा कुछ कम हो जाती है। इस कारण से अगर किसी को लैक्‍टोज इंटॉलरेंस की समस्या है, तो उन्हें गर्म दूध ही पीना चाहिए।

वहीं, स्वास्थ्य विशेषज्ञों के अनुसार, गर्म या ठंडा दूध पीना मौसम पर भी निर्भर करता है। गर्मियों में दिन के समय ठंडा दूध पीने से शरीर में पानी की पूर्ति करने और गर्मी से बचाए रखने में मदद मिल सकती है (13)। वहीं, सर्दियों में गर्म दूध पीना लाभकारी हो सकता है। रात में सोते समय गर्म दूध पीना नींद की गुणवत्ता को बढ़ा सकता है (2)। साथ ही गर्म दूध में हल्दी मिलाकर पीने से सर्दी-जुकाम जैसी समस्या से कुछ राहत मिल सकती है।

दोस्तों, उम्मीद है कि दूध कैसे पीना चाहिए गर्म या ठंडा, आपको इस सवाल का उचित जवाब इस लेख से मिला होगा। तो अगली बार जब भी कोई आपके पूछे कि क्या दूध गर्म पीना चाहिए या ठंडा, तो इस लेख के माध्यम से आप भी उन्हें अपनी राय बता सकते हैं। साथ ही, गर्म या ठंडा दूध पीने के नुकसान का भी ध्यान रखें। आपके लिए गर्म दूध पीने के फायदे अधिक हैं या ठंडा दूध पीने के फायदे, ये बात दूध से जुड़ी एलर्जी पर भी निर्भर करती है। इसलिए, दूध का सेवन करने से पहले लैक्‍टोज इंटॉलरेंस की जांच जरूर करें।

अक्सर पूछे जाने वाले सवाल

क्या गर्म दूध के मुकाबले ठंडे दूध में कैलोरी अधिक होती है?

ये कहना मुश्किल है कि किस प्रकार के दूध में कैलोरी ज्यादा होती है। इसलिए, बेहतर होगा कि एक बार आहार विशेषज्ञ से पूछा जाए।

वजन कम करने के लिए ठंडा दूध पिएं या गर्म दूध?

माना जाता है कि ठंडे दूध में मौजूद कैल्शियम चयापचय को बढ़ा सकता है, जिससे शरीर अधिक कैलोरी खर्च कर सकता है। इससे वजन घटाने में मदद मिल सकती है। तेजी से वजन कम करने के उपाय में आप ठंडा दूध पिएं या गर्म, इस संबंध में अभी भी रिसर्च जारी है।

प्रोटीन पाउडर पीना ठंडे दूध के साथ अधिक लाभकारी है या गर्म दूध के साथ?

अपनी पसंद के अनुसार प्रोटीन पाउडर को ठंडे या गर्म दूध के साथ पी सकते हैं, लेकिन प्रोटीन या कोई अन्य माल्टेड पाउडर गर्म दूध में जल्दी से घुलता है। इसलिए, बेहतर होगा कि इसे गर्म दूध के साथ लिया जाए।

संदर्भ (Sources)

  1. Effects of Dairy Products Consumption on Health: Benefits and Beliefs—A Commentary from the Belgian Bone Club and the European Society for Clinical and Economic Aspects of Osteoporosis, Osteoarthritis and Musculoskeletal Diseases
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC4703621/
  2. The Effects of Milk and Dairy Products on Sleep: A Systematic Review
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC7766425/
  3. GUIDELINES for AYURVEDA PRACTITIONERS for COVID 19
    https://www.ayush.gov.in/docs/ayurved-guidlines.pdf
  4. GUIDELINES ON COVID 19 FOR AYURVED
    UNANI & HOMOEOPATHY PRACTITIONERS
  5. Fight COVID-19 depression with immunity booster: Curcumin for psychoneuroimmunomodulation
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC7462590/
  6. Sleep and anxiety disorders
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC3181635/
  7. SLEEP IMPROVING EFFECTS OF MILK
    https://www.semanticscholar.org/paper/SLEEP-IMPROVING-EFFECTS-OF-MILK-Bakker-Zierikzee-Smits/9a798918c7da8c0a43fa87595e96267f7146e6dd
  8. [Lactose intolerance and consumption of milk and milk products]
    https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/9467238/
  9. Effect of heat and homogenization on in vitro digestion of milk
    https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/27060826/
  10. Lactose Intolerance
    https://www.niddk.nih.gov/health-information/digestive-diseases/lactose-intolerance/all-content
  11. Milk intake and risk of mortality and fractures in women and men: cohort studies
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC4212225/
  12. A comparative study of the antacid effect of some commonly consumed foods for hyperacidity in an artificial stomach model
    https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/28917362/
  13. Water, Hydration and Health
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC2908954/
  14. Raw Milk Consumption: Risks and Benefits
    https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/27340300/
  15. Milk Nutrition and Perceptions
    https://scholarsarchive.jwu.edu/cgi/viewcontent.cgi?referer
  16. Development of a Dysphagia Screening Test for Preterm Infants (DST-PI)
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC5532349/
  17. Cold Milk for Dysphagia in Preterm Infants
    https://clinicaltrials.gov/ct2/show/NCT04421482
  18. Milk
    https://www.betterhealth.vic.gov.au/health/healthyliving/milk
  19. Survey to Determine Why People Drink Raw Milk
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC4268642/
  20. Raw Milk Consumption
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC4890836/
Was this article helpful?
The following two tabs change content below.
सरल जैन ने श्री रामानन्दाचार्य संस्कृत विश्वविद्यालय, राजस्थान से संस्कृत और जैन दर्शन में बीए और डॉ. सी. वी. रमन विश्वविद्यालय, छत्तीसगढ़ से पत्रकारिता में बीए किया है। सरल को इलेक्ट्रानिक मीडिया का लगभग 8 वर्षों का एवं प्रिंट मीडिया का एक साल का अनुभव है। इन्होंने 3 साल तक टीवी चैनल के कई कार्यक्रमों में एंकर की भूमिका भी निभाई है। इन्हें फोटोग्राफी, वीडियोग्राफी, एडवंचर व वाइल्ड लाइफ शूट, कैंपिंग व घूमना पसंद है। सरल जैन संस्कृत, हिंदी, अंग्रेजी, गुजराती, मराठी व कन्नड़ भाषाओं के जानकार हैं।

ताज़े आलेख