कंसीलर क्या है और इसे कैसे लगाते हैं – How to Apply Concealer in Hindi

by

क्या आप भी चेहरे के जिद्दी काले घेरों को छुपाने के लिए भारी फाउंडेशन का इस्तेमाल करके थक चुकी हैं, लेकिन वे गायब होने का नाम नहीं लेते? अगर ऐसा है तो घबराइए नहीं। हमारे पास इस समस्या के लिए एक प्रभावी समाधान है, कंसीलर। जी हां, आपने सही सुना। कंसीलर काले घेरों, धब्बों और मुंहासों को छुपाने के लिए सबसे प्रभावी मेकअप उत्पाद है। स्टाइलक्रेज के इस लेख में जानिए स्टेप बाय स्टेप कंसीलर लगाने का तरीका और इसे लगाते समय बरती जाने वाली सावधानियों के बारे में।

जानकारी के लिए पढ़ते रहें लेख।

सबसे पहले जानिए त्वचा अनुसार कंसीलर का चुनाव किस प्रकार किया जाता है?

स्किन टाइप के अनुसार कंसीलर का चुनाव कैसे करें?

कंसीलर का मुख्य काम त्वचा के गहरे भागों की रंगत में निखार लाना है। इसका उपयोग काले घेरों के साथ, नाक और मुंह के आस पास की काली पड़ी त्वचा, मुंहासों और डार्क स्पॉट्स को छुपाने के लिए भी किया जा सकता है।  कंसीलर खासतौर पर दो प्रकार के होते हैं, जिनका उपयोग अलग-अलग तरह की त्वचा के लिए किया जा सकता है। नीचे दोनों प्रकार के कंसीलर के बारे में विस्तार से बताया गया है।

1. क्रीम कंसीलर

किस तरह की त्वचा के लिए उचित – नॉर्मल से तैलीय त्वचा।

इस प्रकार के कंसीलर का टेक्सचर क्रीमी होता है। यह नॉर्मल से तैलीय त्वचा के लिए बेहतरीन तरीके से काम करता है। क्रीमी होने के कारण यह काले घेरों को पूरी तरह कवर (Full Coverage) करने में मदद कर सकता है। इस तरह के कंसीलर का उपयोग काले घेरों के साथ डिसकलरेशन को ठीक करने के लिए भी किया जा सकता है।

2. लिक्विड कंसीलर

किस तरह की त्वचा के लिए उचित : ड्राई से कॉम्बिनेशन त्वचा।

ये कंसीलर टेक्सचर में लिक्विड होते हैं, इनका उपयोग रूखी त्वचा के लिए किया जा सकता है। ये बहुत हल्के (Light Weight) होते हैं और त्वचा को नम बनाए रखने में मददगार हो सकते हैं। इन्हें लगाना और त्वचा में ब्लेंड करना आसन होता है। लिक्विड होने के कारण ये त्वचा में आसानी से अवशोषित (Absorb) हो जाते हैं और डार्क स्पॉट्स पर लाइट से लेकर फुल कवरेज देने में मदद कर सकते हैं।

कंसीलर के बारे में अधिक जानने के लिए स्क्रॉल करें।

कंसीलर लगाने का तरीका समझने से पहले, आगे जानिए किस तरह की समस्या के लिए किस रंग के कंसीलर का उपयोग करना चाहिए।

समस्या के अनुसार कंसीलर कैसे चुनें?

जैसा कि हम बता चुके हैं कि कंसीलर का उपयोग काले घेरों के साथ, चेहरे की अन्य समस्याएं (काली पड़ी त्वचा, मुंहासों और डार्क स्पॉट्स) के लिए भी किया जा सकता है। इन सभी समस्याओं के लिए अलग-अलग कलर के कंसीलर का उपयोग किया जाता है। इन्हें आमतौर पर कलर करेक्टर भी कहा जाता है। अगर किसी को कई तरह की समस्याएं हैं, तो एक ही चेहरे पर कई रंग के कलर करेक्टर का उपयोग किया जा सकता है। इन सभी के बारे में नीचे विस्तार से बताया गया है।

1. काले घेरों के लिए

कुछ प्रकार के काले घेरों में आंखों के नीचे की त्वचा नीली पड़ने लगती है। इस तरह की समस्या के लिए ऑरेंज और येल्लो रंग के कलर करेक्टर को मिक्स करके उपयोग किया जा सकता है। ये आंखों के नीचे के हिस्से की रंगत को निखारकर, डार्क सर्कल्स का उपाय करने में मदद करेंगे। अगर स्किन टोन हल्का है तो इन कलर के हल्के शेड का उपयोग होगा। वहीं, अगर किसी की त्वचा का रंग गहरा है तो इन कलर्स का डार्क शेड इस्तेमाल किया जायेगा।

2. मुंहासों के लिए

मुंहासों और उसके आस पास की त्वचा अक्सर लाल पड़ जाती है। ऐसे में, वहां की त्वचा के लिए हरे रंग के कलर करेक्टर का उपयोग किया जा सकता है। यह प्रभावित क्षेत्र के लालपन को सामान्य करने में मदद करता है।

3. डार्क स्पॉट्स के लिए

डार्क स्पॉट्स के लिए साधारण कंसीलर के साथ ऑरेंज या पीच कलर के कलर करेक्टर को मिलाकर लगाया जा सकता है। ये एक्ने, पिगमेंटेशन या अन्य किसी कारण से हुए डार्क स्पॉट्स को छुपाने और त्वचा का रंग निखारने में मदद करते हैं।

पढ़ते रहें लेख।

लेख के अगले भाग में बताया गया है कि कंसीलर कैसे लगाया जाता है।

कंसीलर लगाने का सही तरीका

नीचे स्टेप बाय स्टेप कंसीलर लगाने का तरीका बताया गया है, जिसकी मदद से प्रोफेशनल मेकअप आर्टिस्ट की तरह कंसीलर लगाया जा सकता है।

1. चेहरे को करें तैयार

सबसे पहले चेहरे को फेसवॉश की मदद से धो लें और स्क्रब की मदद से एक्सफोलिएट कर लें। अब उसे तौलिए से थपथपा कर पोंछें और मॉइस्चराइजर लगा लें। अब प्राइमर लगाने के सही तरीका अपनाकर, चेहरे पर प्राइमर लगा लें। यह मेकअप को देर तक टिके रहने में मदद करेगा।

2. डार्क सर्कल्स को छुपाएं

अब ऑरेंज और येल्लो रंग के कलर करेक्टर को मिलाकर, आंखों के नीचे मौजूद काले घेरों पर लगाएं। इसके लिए आंखों के नीचे इससे एक लाइन खींचें और फिर डार्क सर्कल की लंबाई के अनुसार, कंसीलर को गालों की ओर लाते हुए एक वी-शेप बनाएं। इससे फुल कवरेज मिलेगा। अब इसे ब्यूटी ब्लेंडर की मदद से थपथपा कर ब्लेंड कर लें।

3. नाक के आस-पास का लालपन

अगर चेहरे पर मुंहासे हैं या नाक के आसपास की त्वचा लाल पड़ गई है तो हरे रंग के कलर करेक्टर का उपयोग करें। इसे उंगली की मदद से प्रभावित क्षेत्र पर लगाएं और ब्यूटी ब्लेंडर की मदद से थपथपा कर ब्लेंड कर लें।

4. डार्क स्पॉट्स के लिए

त्वचा के किसी भी हिस्से पर मौजूद डार्क स्पॉट्स, धब्बों या अन्य किसी प्रकार के निशान के लिए, अपनी स्किन टोन के अनुसार ऑरेंज या पीच रंग के कलर करेक्टर लगाएं। इसकी थोड़ी सी मात्रा को उंगलियों या ब्रश की मदद से प्रभावित क्षेत्र पर लगाएं और फिर उसे ब्लेंड कर लें।

5. सेट करें मेकअप

पूरे चेहरे के डार्क स्पॉट्स को विभिन्न रंग के कलर करेक्टर से कवर कर लेने के बाद, चेहरा रंगीन सा लग सकता है। ऐसे में घबराने की कोई बात नहीं है। ऐसे में अपने चेहरे पर थोड़ी मात्रा में फाउंडेशन लगाएं और उसे ब्यूटी ब्लेंडर की मदद से चेहरे पर ब्लेंड करें। इसके बाद भी अगर डार्क सर्कल्स या डार्क स्पॉट्स दिख रहे हों तो लिक्विड कंसीलर की मदद से उन्हें कवर कर सकते हैं। अंत में, लूस पाउडर की मदद से अपने मेकअप को सेट कर लें।

कंसीलर के बारे अधिक जानने के लिए स्क्रॉल करें।

आगे हम बताएंगे कि क्या कंसीलर की जगह फाउंडेशन का उपयोग हो सकता है?

क्या कंसीलर को फाउंडेशन की तरह इस्तेमाल कर सकते है?

कई लोगों को यह लगता है कि कंसीलर का उपयोग फाउंडेशन की तरह भी किया जा सकता है, लेकिन ऐसा नहीं है। दरअसल, दोनों का उपयोग अलग-अलग चीजों के लिए किया जाता है। जहां एक तरफ कंसीलर काले घेरों और डार्क स्पॉट्स को छुपाने में मदद करता है, वहीं फाउंडेशन मेकअप के लिए एक बेस तैयार करता है।

प्रो-टिप – अगर आप हेवी फाउंडेशन का उपयोग नहीं करना हो तो सीसी क्रीम (Complexion Care Cream) का उपयोग कर सकते हैं।

यह जानने के बाद कि कंसीलर कैसे लगाया जाता है, आगे जानिए कंसीलर लगाने के कुछ अन्य टिप्स।

कंसीलर लगाने के कुछ और टिप्स और सावधानियां

कंसीलर लगाने का तरीका जानने के साथ, इससे जुड़ी अन्य बातों का ध्यान रखना भी जरूरी है, जैसे –

  • कोशिश करें कि कंसीलर को हमेशा सूरज की रोशनी में ही लगाएं। इससे पता रहेगा कि कितना कंसीलर लगाने की जरूरत है।
  • आंखों के नीचे कंसीलर के बिंदु लगाने की जगह त्रिकोण बनाए (जैसा कंसीलर लगाने के तरीके में बताया गया है)। इस तरह लगाने से यह फैलने और त्वचा में अवशोषित होने में आसान रहता है।
  • चाहें तो आईशैडो लगाने से पहले आंखों के ऊपर थोड़ा सा कंसीलर लगा सकते हैं। यह आईशैडो को देर तक टिके रहने में मदद करेगा।
  • लिप बाम के बाद लिप प्राइमर की जगह होठों पर कंसीलर का उपयोग किया जा सकता है। यह लिपस्टिक को फैलने से बचाएगा और देर तक टिके रहने में मदद करेगा।
  • कंसीलर को लगाने के बाद उसे हमेशा थपथपा कर ब्लेंड करें।
  • अगर पसीने के कारण कंसीलर में क्रीस आने लगे तो टिश्यू की मदद से उसे थपथपा कर ब्लेंड करें।
  • हमेशा अपनी त्वचा और समस्या के अनुसार ही कंसीलर का चुनाव करें।
  • कभी भी किसी लोकल कंसीलर का उपयोग न करें। हमेशा एक अच्छे व विश्वसनीय ब्रांड के प्रोडक्ट का ही उपयोग करें।

इस बात को अब आप अच्छी तरह समझ गए होंगे कि किस तरह के कंसीलर का उपयोग कर आप अपने मेकअप को प्रभावी बना सकते हैं। अगर आपने आज से पहले कंसीलर का उपयोग नहीं किया है तो लेख में बताए गए तरीके से कंसीलर लगा सकते हैं। इसके साथ ही बताई गईं सावधानियों का भी पूरा ध्यान रखें। उम्मीद करते हैं कि यह लेख आपके लिए लाभकारी सिद्ध होगा।

और पढ़े:

Was this article helpful?
The following two tabs change content below.

Soumya Vyas

सौम्या व्यास ने माखनलाल चतुर्वेदी विश्वविद्यालय, भोपाल से इलेक्ट्रॉनिक मीडिया में बीएससी किया है और इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ जर्नलिज्म एंड न्यू मीडिया, बेंगलुरु से टेलीविजन मीडिया में पीजी किया है। सौम्या एक प्रशिक्षित डांसर हैं। साथ ही इन्हें कविताएं लिखने का भी शौक है। इनके सबसे पसंदीदा कवि फैज़ अहमद फैज़, गुलज़ार और रूमी हैं। साथ ही ये हैरी पॉटर की भी बड़ी प्रशंसक हैं। अपने खाली समय में सौम्या पढ़ना और फिल्मे देखना पसंद करती हैं।

ताज़े आलेख

scorecardresearch