दही फेस पैक के फायदे और बनाने का तरीका – Benefits of Curd (Dahi) Face Pack in Hindi

दही को एक खास स्वाद के लिए सदियों से आहार में शामिल किया जाता रहा है। इसी वजह से दही को लोगों की रोजमर्रा की जिंदगी का एक अहम हिस्सा कहा जाए, तो गलत नहीं होगा। दही मनुष्य को आंतरिक और बाहरी रूप से स्वस्थ रखने का काम कर सकता है। जी हां, इसे खाने के साथ ही त्वचा पर लगाने के भी अनेक फायदे होते हैं। शायद इसी वजह से कई जगह दही फेस पैक काफी प्रचलित है। हम भी कुछ फेमस और फायदेमंद दही फेस पैक के बारे में इस लेख में बताने वाले हैं। स्टाइलक्रेज के इस लेख में हम रिसर्च पर आधारित दही फेस पैक के फायदे के साथ ही विभिन्न दही के फेस पैक बनाने के तरीके बताएंगे। साथ ही इससे जुड़ी सावधानियों को भी इस लेख में साझा किया जाएगा।

जानें विस्तार से

सबसे पहले हम लेख में दही फेस के फायदे के बारे में बताएंगे।

दही फेस पैक के फायदे – Benefits of Curd (Dahi) Face Pack in Hindi

  1. त्वचा को पोषण – दही में कई ऐसे तत्व होते हैं, जो त्वचा को पोषण देने का काम कर सकते हैं। दही में सेलेनियम और विटामिन-ए होता है (1)। सेलेनियम की बात करें, तो यह डीएनए को रिपयेर करके एजिंग और फोटो एजिंग दोनों से बचा सकता है। यह त्वचा को यूवी रेज से भी बचा सकता है (2)। वहीं, विटामिन-ए त्वचा की रंगत को हल्का करने के साथ ही मुहांसों से भी बचाव कर सकता है (3)
  1. त्वचा की नमी बनाए रखे – दही फेस पैक के फायदे में त्वचा की नमी को बरकरार रखना यानी मॉइस्चराइज करना भी शामिल है। एनसीबीआई (नेशनल सेंटर फॉर बायोटेक्नोलॉजी इंफॉर्मेशन) की वेबसाइट पर मौजूद एक रिसर्च में भी दही के फेसपैक में नमी को बनाए रखने के गुण पाए गए। इसके अलावा, यह त्वचा को कोमल और चमकदार बनाए रखने का काम भी कर सकता है (4)। ऐसे में यह कहा जा सकता है कि दही और उसमें मौजूद लैक्टिक एसिड त्वचा को मॉइस्चराइज करने में सहायक साबित हो सकता है (5)
  1. एक्सफॉलिएट – दही चेहरे को एक्सफॉलिएट करने का भी काम कर सकता है। इसे स्किन मास्क की तरह चेहरे पर लगाने से यह त्वचा की गहराई तक सफाई कर सकता है। हालांकि, इसको लेकर किसी तरह का वैज्ञानिक शोध उपलब्ध नहीं है।
  1. त्वचा स्वास्थ्य – दही का फेस पैक त्वचा को स्वस्थ बनाए रखने का काम भी कर सकता है। इससे जुड़े एक वैज्ञानिक अध्ययन में इस बात का जिक्र करते हुए कहा गया है कि दही को खाने के साथ ही स्किन पर लगाना त्वचा के स्वास्थ्य के लिए लाभदायक हो सकता है। हालांकि, रिसर्च में यह भी स्पष्ट कर दिया गया है कि यह कितना प्रभावी है, यह देखने के लिए भविष्य में अधिक शोध किए जाने चाहिए (6)

बने रहें हमारे साथ

दही फेस पैक के फायदे जानने के बाद, विभिन्न तरीके से दही फेस पैक कैसे बनता है यह जानते हैं।

दही फेस पैक बनाने का तरीका – How to Make Curd Face Packs In Hindi

1. दही और शहद का फेस पैक

सामग्री:

  • एक चम्मच दही
  • आधा चम्मच शहद

उपयोग का तरीका:

  • एक कटोरी में शहद और दही डालकर अच्छे से मिलाएं।
  • अब तैयार हुए इस पेस्ट को चेहरे पर लगाएं और करीब 10 से 15 मिनट के लिए छोड़ दें।
  • दही का फेस पैक जब सूख जाए तो चेहरे को पानी से साफ कर लें।

कैसे लाभदायक है:

दही को हर्बल पदार्थों के साथ इस्तेमाल करने से त्वचा को कई फायदे मिल सकते हैं। इससे संबंधित एक शोध एनसीबीआई (National Center for Biotechnology Information) की वेबसाइट पर उपलब्ध है। रिसर्च में जिक्र है कि दही के साथ अन्य पदार्थ को इस्तेमाल करने से चेहरे की नमी, चमक और इलास्टिसिटी को बेहतर किया जा सकता है (4)। वहीं, शहद में एंटीबैक्टीरियल गुण होते हैं, जो एक्ने के बैक्टीरिया को खत्म कर सकते हैं। साथ ही इसमें एंटी-इंफ्लामेटरी गुण भी होते हैं, जो मुंहासे की सूजन को कम कर सकता है (7) (8)

2. दही और बेसन का फेस पैक

सामग्री:

  • 1 चम्मच दही
  • 1 बड़ा चम्मच बेसन
  • नींबू के रस की कुछ बूंदें
  • आधा चम्मच पानी या गुलाब जल
  • 1 चम्मच शहद (वैकल्पिक)

उपयोग का तरीका:

  • एक कटोरी में सभी सामग्रियों को डालकर अच्छी तरह से मिलाएं।
  • पेस्ट तैयार होने के बाद इसे चेहरे पर समान रूप से लगा लें।
  • अब इसे चेहरे पर तब तक रहने दें जब तक यह सूख न जाए।
  • दही का फेस पैक सूखने के बाद त्वचा को गुनगुने पानी से धो लें।
  • इसे हफ्ते में एक से दो बार लगा सकते हैं।

कैसे लाभदायक है:

त्वचा के लिए बेसन, दही और नींंबू फेस पैक को काफी लाभकारी माना जाता है। बेसन त्वचा के लिए टॉनिक के रूप में काम करता है। दरअसल, यह त्वचा को एक्सफोलिएट कर रंग साफ करने का काम कर सकता है। साथ ही बेसन टैनिंग को भी कम कर सकता है। बेसन के प्रयोग से त्वचा के अतिरिक्त तेल को भी साफ किया जा सकता है। साथ ही यह एंटी-पिंपल प्रभाव भी दिखा सकता है। इतना ही नहीं, बेसन त्वचा पर फेयरनेस एजेंट की तरह काम कर सकता है, जिससे त्वचा का रंग हल्का हो सकता है (9)। बेसन के साथ दही त्वचा पर और अच्छा प्रभाव दिखा सकता है। हालांकि, रूखी और संवेदनशील त्वचा वाले लोग इस फेस पैक का उपयोग न करें।

3. दही और हल्दी का फेस पैक

सामग्री:

  • आधा चम्मच दही
  • 1 चम्मच पानी या गुलाब जल
  • एक चौथाई चम्मच हल्दी पाउडर
  • 1 चम्मच ऑर्गेनिक शहद

उपयोग का तरीका:

  • एक बाउल में पानी या गुलाब जल और दही डालें।
  • अब इसमें शहद और हल्दी डालकर अच्छे से मिलाएं।
  • तैयार पैक को पूरे चेहरे और गर्दन पर लगाएं।
  • करीब 15 मिनट बाद गुनगुने पानी से चेहरे और गर्दन को धो लें।
  • हफ्ते में दो बार इसे लगाया जा सकता है।

कैसे लाभदायक है:

हल्दी त्वचा स्वास्थ्य के लिए लाभदायक मानी जाती है। हल्दी से संबंधित शोध में भी इसे एक्ने, फोटो एजिंग (चेहरे पर सूर्य की हानिकारक किरणों की वजह दिखने वाली झुर्रियां और फाइन लाइन्स) जैसी कई त्वचा संबंधी समस्या को कम करने में लाभदायक माना गया है (10)। इसी वजह से हल्दी का इस्तेमाल सौंदर्य प्रसाधन जैसे सनस्क्रीन और फेसवॉश में भी किया जाता है। दरअसल, हल्दी में नियासिन, एक प्रकार का विटामिन-बी3 भी होता है, जो बतौर एंटीऑक्सीडेंट की तरह काम करता है। यह विटामिन-बी3 त्वचा के हाइपरपिगमेंटेशन को कम करके रंग निखारने में भी मदद कर सकता है (11) (12)

4. दही और लेमन फेस मास्क

सामग्री:

  • 1 केला
  • एक चम्मच नींबू का रस
  • आधा चम्मच पानी
  • एक चम्मच शहद

उपयोग का तरीका:

  • केले को ब्लैंडर में मैश कर लें।
  • इसे कटोरी में निकालकर नींबू, पानी और शहद के साथ मिलाकर पेस्ट बनाएं।
  • पेस्ट तैयार होने के बाद पूरे चेहरे पर लगा लें।
  • करीब 15 से 20 मिनट बाद, जब फेस मास्क सूख जाए तो त्वचा को धो लें।

कैसे लाभदायक है:

नींबू का फेस मास्क चेहरे के लिए अच्छा माना जाता है। यह त्वचा को चमकदार रखने के साथ ही रंगत को निखारने का काम कर सकता है (13)। इसमें विटामिन-सी होता है, जो चेहरे की असामान्य रंगत को ठीक करने में फायदेमंद माना जाता है। नींबू में मौजूद विटामिन-सी एंटी-ऑक्सीडेंट की तरह भी काम करता है, जो यूवी रेज से त्वचा को बचा सकता है (12)। इसके अलावा, यह एंटी-एजिंग की तरह काम करता है और फोटो-एजिंग से भी बचा सकता है (14)। इस फेस पैक के उपयोग से पहले पैच टेस्ट जरूर करें।

आगे है और जानकारी

5. दही और ओट्स फेसपैक

सामग्री:

  • 2 बड़े चम्मच दही
  • 1 बड़ा चम्मच ओट्स

उपयोग का तरीका:

  • ओट्स में दही को डालें।
  • कुछ देर बाद इसे अच्छे से मिलाएं।
  • अब इसे अपने चेहरे और गर्दन पर लगा लें।
  • उंगलियों की मदद से धीरे-धीरे त्वचा की मालिश करें।
  • तकरीबन 15 मिनट के बाद ठंडे पानी से चेहरा धो लें।

कैसे लाभदायक है:

एनसीबीआई की वेबसाइट पर मौजूद एक वैज्ञानिक रिसर्च से पता चलता है कि दलिया में एंटीऑक्सिडेंट और एंटी-इंफ्लामेटरी गुण होते हैं, जो विभिन्न प्रकार के स्किन संबंधी इंफ्लामेटरी रोग जैसे प्रुरिटस (स्किन पर होने वाली खुजली), एटॉपिक डर्मेटाइटिस (त्वचा पर खुजली और लाल चकत्ते), एक्ने और वायरल संक्रमण पर प्रभावी माना गया है (15)। यह भी माना जाता है कि ओट्स पाउडर का उपयोग कर बनाया गया मॉइस्चराइजर स्किन को ड्राई होने से बचा जा सकता है। हालांकि, त्वचा को मॉइस्चराइज रखने के ओट्स के गुण के बारे में अभी और अध्ययन की जरूरत है (16)

6. दही और टमाटर का फेसपैक

सामग्री:

  • आधे टमाटर का रस
  • नींबू की कुछ बूंदें
  • एक चम्मच दही

उपयोग का तरीका:

  • एक बाउल में सभी सामग्रियों को डालकर मिक्स कर लें।
  • अब इस पैक को अपने चेहरे पर लगाएं और 10-15 मिनट तक सूखने दें।
  • सूख जाने के बाद गुनगुने पानी से चेहरा धो लें।

कैसे लाभदायक है:

त्वचा की बढ़ती उम्र के लक्षण को टमाटर में मौजूद विटामिन-ए और विटामिन-सी दूर कर सकते हैं। इन दोनों विटामिन में एंटी-एजिंग प्रभाव होते हैं, जो झुर्रियां और महीन रेखाओं जैसे बढ़ती उम्र के लक्षण को कम करने का काम कर सकते हैं (17) (18) (19)। टमाटर में पाया जाने वाला विटामिन-सी एंटीऑक्सीडेंट की तरह काम करके, स्किन को यूवी-किरणों से भी बचा सकता है। साथ ही यह रोमछिद्रों में कसाव लाने का काम भी कर सकता है (19)

7. दही और आलू का फेसपैक

सामग्री

  • 1 चम्मच दही
  • दो चम्मच कच्चे आलू का रस

उपयोग का तरीका

  • एक कटोरी में सभी सामग्रियों को डालकर अच्छी तरह से मिलाएं।
  • अब ब्रश की मदद से इस पैक को अपने चेहरे पर लगाएं।
  • करीब 15 मिनट बाद त्वचा को ठंडे या गुनगुने पानी से धो लें।
  • एक हफ्ते में 2 से 3 बार इस फेस पैक को चेहरे पर लगाया जा सकता है।

कैसे लाभदायक है

आलू विटामिन-सी से भरपूर होता है (20)। जैसा कि हम लेख मे ऊपर भी बता चुके हैं कि विटामिन-सी त्वचा पर एंटी-पिगमेंटेशन की तरह काम करता है। यह प्रभाव स्किन के दाग-धब्बों (पिगमेंट) को कम करके त्वचा को निखारने का काम करता है। दरअसल, यह मेलेनिन की मात्रा को कम करके रंगत को साफ करता है (21)। इसके अलावा, आलू में सल्फर, पोटेशियम, फास्फोरस के साथ ही क्लोराइड भी होता है, जो दाग-धब्बों को कम कर नई कोशिकाओं को विकसित करने में मदद करते हैं (22)

आलू में एंटी-एजिंग प्रभाव भी होते हैं, जो चेहरे से झुर्रियों को कम कर सकते हैं। यही नहीं, आलू की एल्कलाइन प्रोपर्टी भी चेहरे को जवां रखने में मदद कर सकती है। साथ ही आलू में एजेलिक (Azelaic) एसिड भी होता है, जो लाइटनिंग एजेंट की तरह काम कर सकता है (23) (12)

8. दही और संतरे का फेस मास्क

सामग्री:

  • एक चम्मच दही
  • एक चम्मच संतरे के छिलके का पाउडर

उपयोग का तरीका:

  • एक बर्तन में दही और संतरे के छिलके के पाउडर को डालें।
  • अब दोनों सामग्रियों को अच्छी तरह से फेंटकर पेस्ट बना लें।
  • मिश्रण तैयार होने के बाद अच्छी तरह से त्वचा पर लगा लें।
  • संतरे के छिलके और दही का फेस पैक जब सूख जाए, तो चेहरे को ठंडे पानी से धो लें।

कैसे लाभदायक है:

संतरे के अर्क का इस्तेमाल स्किन एजिंग को कम करने के लिए किया जा सकता है। एक अध्ययन से पता चलता है कि संतरे के मेथेनॉलिक अर्क में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट और एंटी-एंजाइमेटिक एजेंट त्वचा को बढ़ती उम्र के लक्षण से बचाने में मदद करते हैं (24)

9. दही और मुल्तानी मिट्टी का फेसपैक

सामग्री:

  • एक चम्मच मुल्तानी मिट्टी
  • एक चम्मच एलोवेरा जेल
  • एक चम्मच दही

उपयोग का तरीका:

  • एक कटोरी में सभी सामग्रियों को मिलाकर पेस्ट बना लें।
  • अब इस पेस्ट को अपने चेहरे पर लगा लें, लेकिन ध्यान रहे कि यह पेस्ट आंखों में न जाए।
  • जब पेस्ट सूख जाए, तो चेहरे को गुनगुने पानी से धो लें।
  • आप इस पेस्ट को हफ्ते में एक बार लगा सकते हैं।

कैसे लाभदायक है:

मुल्तानी मिट्टी चेहरे के अत्यधिक तेल को सोखकर गंदगी को गहराई से साफ कर सकती है। साथ ही यह त्वचा के दाग-धब्बों को कम करके स्किन को नमी देने का काम भी कर सकती है (9)। इसके अलावा, मुल्तानी मिट्टी में मौजूद एंटी-माइक्रोबियल गुण मुंहासों के बैक्टीरिया को खत्म करके उन्हें दोबारा पनपने से रोक सकते हैं (25)। वहीं, एलोवेरा एंटी-ऑक्सीडेंट्स से भरपूर होता है, जो त्वचा को झुर्रियों और अन्य स्किन एजिंग समस्या से बचाने में मदद कर सकता है (26)। इस पैक को अपने हाथ और पैरों पर भी इस्तेमाल कर सकते हैं।

पढ़ना जारी रखें

आगे हम दही फेस पैक से संबंधित कुछ जरूरी टिप्स और सावधानियां बता रहे हैं।

दही फेस पैक के लिये कुछ और टिप्स – Other Tips For Curd Face Pack in Hindi

दही के फेस पैक के फायदे तो आप जान ही चुके हैं। अब हम नीचे दही फेस पैक लगाने से संबंधित कुछ जरूरी टिप्स बता रहे हैं।

  • दही फेस पैक लगाते समय ब्रश या हल्के हाथों का ही इस्तेमाल करें।
  • दही का फेस पैक लगाते समय चेहरे पर दबाव न बनाएं।
  • दही फेस पैक का उपयोग हर प्रकार की त्वचा के अनुरूप नहीं होता। अगर पैक लगाने वाले व्यक्ति की त्वचा बहुत तैलीय है, तो इसके इस्तेमाल से मुंहासे बढ़ भी सकते हैं। इसी वजह से अपनी त्वचा के अनुरूप ही फेसपैक का चुनाव करें।
  • दही फेस पैक का उपयोग चेहरे पर करने से पहले पैच टेस्ट कर लें। परीक्षण हाथों पर किया जा सकता है।
  • मुल्तानी मिट्टी के पैकेट को खोलने के बाद उसे एयर टाइट डिब्बे में बंद करके रखें। इससे मुल्तानी मिट्टी नमी से बची रहेगी।
  • रूखी स्किन पर मुल्तानी मिट्टी या बेसन युक्त फेस पैक लगाने के बाद चेहरे को मॉइस्चराइजर जरूर करें। इससे चेहरे की नमी बनी रहती है।

दही फेस पैक का उपयोग, इसके फायदे और फेस मास्क बनाने के विभिन्न तरीकों के बारे में हम लेख में बता चुके हैं। अब देर किस बात की, त्वचा को स्वस्थ रखने के लिए इन्हें आज ही इस्तेमाल में ला सकते हैं। इसे लगाने से पहले एक बार लेख में बताई गईं सावधानियों को भी ध्यान से पढ़ लें, ताकि किसी तरह की समस्या का सामना करना न पड़ें। यह लेख आपके लिए मददगार साबित हुआ या नहीं, हमें बताने के लिए आर्टिकल के बगल में बने यस अथवा नो पर जरूर क्लिक करें। उम्मीद करते हैं कि दही फेस पैक को लगाने के बाद आप हमेशा दमकते रहेंगे।

अक्सर पूछे जाने वाले सवाल

कितनी बार मैं दही फेस पैक का उपयोग कर सकती हूं?

अगर आपकी त्वचा तैलीय नहीं है और दही से स्किन एलर्जी नहीं होती है, तो इसका उपयोग रोजाना किया जा सकता है।

क्या दही को रातभर चेहरे पर लगाकर छोड़ सकते हैं?

दही में कूलिंग इफेक्ट होते हैं। ऐसे में रातभर दही को लगाकर सोने की वजह से सर्दी हो सकती है। साथ ही दही पूरे बिस्तर पर लग जाएगा और कई बार लोग इससे आने वाली गंध को सहन भी नहीं कर पाते। ऐसे में हम यही सलाह देंगे कि दही फेसपैक को लगाने के कुछ मिनट या घंटे बाद त्वचा को अच्छे से धो लें।

26 संदर्भ (References):

Articles on StyleCraze are backed by verified information from peer-reviewed and academic research papers, reputed organizations, research institutions, and medical associations to ensure accuracy and relevance. Check out our editorial policy for further details.
Was this article helpful?
The following two tabs change content below.

vinita pangeni

विनिता पंगेनी ने एनएनबी गढ़वाल विश्वविद्यालय से मास कम्यूनिकेशन में बीए ऑनर्स और एमए किया है। टेलीविजन और डिजिटल मीडिया में काम करते हुए इन्हें करीब चार साल हो गए हैं। इन्हें उत्तराखंड के कई पॉलिटिकल लीडर और लोकल कलाकारों के इंटरव्यू लेना और लेखन का अनुभव है। विशेष कर इन्हें आम लोगों से जुड़ी रिपोर्ट्स करना और उस पर लेख लिखना पसंद है। इसके अलावा, इन्हें बाइक चलाना, नई जगह घूमना और नए लोगों से मिलकर उनके जीवन के अनुभव जानना अच्छा लगता है।

ताज़े आलेख

scorecardresearch