रूसी (डैंड्रफ) हटाने के लिए नीम का तेल – Neem Oil To Treat Dandruff in Hindi

by

रूसी की समस्या लोगों से गहरे रंग के कपड़े पहनने की आजादी छीन लेती है। साथ ही रूसी के कारण बालों पर कई तरह के नकारात्मक प्रभाव भी पड़ते हैं। शायद इसी वजह से बाजार में आज के समय डैंड्रफ से छुटकारा दिलाने वाले कई उत्पाद मौजूद हैं। यह प्रोडक्ट कितने कारगर होंगे यह तो कह नहीं सकते, लेकिन उनमें अगर केमिकल हो तो स्कैल्प को नुकसान जरूर पहुंच सकता है। ऐसे में ऑर्गेनिक नीम के तेल का उपयोग किया जा सकता है। रूसी हटाने के लिए नीम का तेल कितना लाभदायक है, इससे जुड़ी सारी जानकारी इस लेख में रिसर्च के आधार पर दी गई है।

आगे पढ़ें

सबसे पहले जानिए कि डैंड्रफ हटाने के लिए नीम ऑयल कितना फायदेमंद है।

रूसी हटाने के लिए नीम का तेल क्यों फायदेमंद है?

रूसी हटाने के लिए नीम के तेल को फायदेमंद इसमें मौजूद एंटी फंगल प्रभाव के कारण माना जाता है (1)। इसी वजह से कई तरह के एंटी डैंड्रफ प्रोडक्ट्स में भी नीम का इस्तेमाल किया जाता है (2)। यही नहीं, नीम के एक्टिव यानी सक्रिय घटक निंबिडिन में एंटी इंफ्लेमेटरी प्रभाव होता है (3)। इससे संबंधित रिसर्च में कहा गया है कि यह निंबिडिन घटक सेबोरहाइक डर्मेटाइटिस यानी सूजन वाली लाल, पपड़ी और खुजलीदार त्वचा से बचाव कर सकता है (4)।

स्क्रोल करें

लेख में आगे बढ़ते हुए पढ़िए कि रूसी हटाने के लिए नीम के तेल का उपयोग कैसे किया जाता है।

रूसी हटाने के लिए नीम का तेल का उपयोग – How To Use Neem Oil For Dandruff In Hindi

रूसी हटाने के लिए नीम के तेल का उपयोग कई अन्य सामग्रियों के साथ किया जा सकता है। ऐसा करने से नीम का तेल और प्रभावकारी तरीके से कार्य कर सकता है। इसी वजह से हम लेख में आगे हम नीम के तेल के उपयोग के तरीके विभिन्न सामग्रियों के साथ बता रहे हैं।

1. नीम तेल और सिरका

सामग्री :

  • नीम के तेल का एक बड़ा चम्मच
  • सेब का सिरका या सामान्य सिरके के 2 बड़े चम्मच

उपयोग की विधि :

  • एक चम्मच नीम के तेल के साथ सिरका मिलाएं।
  • अब इस मिश्रण से अपने स्कैल्प की मसाज करें।
  • फिर सिर के चारों ओर एक तौलिया लपेटें या शॉवर कैप लगा लें।
  • इसे लगभग 20 मिनट तक सिर पर ऐसे ही छोड़ दें।
  • अब माइल्ड शैम्पू से बालों को धो लें।

कैसे लाभदायक है :

रूसी से राहत दिलाने में नीम के तेल का एंटीफंगल प्रभाव मदद कर सकता है (1)। इसके साथ जब सेब का सिरका मिलाया जाता है, तो यह और प्रभावकारी तरीके से कार्य कर सकता है। इससे संबंधित एक रिसर्च पेपर में बताया गया है कि इसमें एंटी इंफ्लेमेटरी और एंटी बैक्टीरियल प्रभाव भी होते हैं। इन दोनों इफेक्ट के कारण रूसी के लक्षण ही नहीं, बल्कि इससे जुड़े फंगस को भी बनने से रोका जा सकता है (5)।

2. DIY नीम ऑयल शैम्पू

सामग्री :

  • आधा चम्मच नीम का तेल
  • आवश्यकतानुसार एक नॉर्मल शैम्पू

उपयोग की विधि :

  • अपने नियमित शैंपू में नीम का तेल डालें।
  • अब इन दोनों को मिक्स करें।
  • फिर बाल धोते समय इसे शैंपू की तरह ही उपयोग करें।

कैसे लाभदायक है :

नीम के तेल का इस्तेमाल किस तरह से फायदेमंद है, यह तो हम बता ही चुके हैं। इसमें मौजूद एंटी फंगल प्रभाव डैंड्रफ को कम कर सकता है (1)। साथ ही इसमें एंटी इंफ्लेमेशन इफेक्ट भी होता है, जो पपड़ीदार त्वचा जैसी समस्या यानी डर्मेटाइटिस की परेशानी को दूर कर सकता है (3)।

3. नीम ऑयल और जैतून का तेल

सामग्री :

  • एक चम्मच जैतून का तेल या कोई अन्य तेल
  • नीम के तेल का 1 बड़ा चम्मच

उपयोग की विधि :

  • जैतून और नीम के तेल को मिलाएं।
  • अब अपने स्कैल्प पर इस मिश्रण को लगाएं।
  • फिर तकरीबन 10 मिनट के लिए स्कैल्प की मालिश करें।
  • इसके बाद सिर को चारों ओर एक तौलिया लपेटें या शॉवर कैप पहन लें।
  • अब इसे स्कैल्प पर 20 मिनट के लिए छोड़ दें।
  • समय पूरा होने पर बालों को माइल्ड शैम्पू से धोएं।

कैसे लाभदायक है :

नीम का तेल रूसी के लिए कैसे फायदेमंद है, यह तो आप समझ ही गए होंगे। इसके साथ जैतून तेल को मिलाने से इसकी कार्यक्षमता और बढ़ सकती है। दरअसल, जैतून के तेल में एंटीफंगल प्रभाव होता है। इससे डैंड्रफ की समस्या और इससे संबंधित मालासेजिया फंगस को दूर करने में मदद मिल सकती है (6)।

4. जड़ी बूटियों और नीम तेल का मिश्रण

सामग्री :

  • नीम के तेल की कुछ बूंदें
  • तुलसी के कुछ पत्ते
  • भृंगराज पाउडर का एक चम्मच
  • एक चम्मच शिकाकाई पाउडर
  • एक चम्मच मेथी पाउडर

उपयोग की विधि :

  • एक साफ कटोरे में सभी सामग्री को मिलाएं।
  • जब मिश्रण तैयार हो जाए, तो उसे अच्छे से स्कैल्प और बालों पर लगाएं।
  • अब इस पेस्ट को बालों और स्कैल्प पर करीब 30 मिनट तक लगा रहने दें।
  • इस दौरान सिर पर शॉवर कैप भी लगा सकते हैं।
  • फिर 30 मिनट पूरे होने के बाद बालों को माइल्ड शैम्पू से धो लें।

कैसे लाभदायक है :

नीम के तेल को अन्य जड़ी बूटियों के साथ मिलाने से यह और प्रभावकारी तरीके से कार्य कर सकता है। इस हेयर पैक में उपयोग होने वाली तुलसी को स्कैल्प की जड़ों को अच्छे से साफ करने के लिए जाना जाता है। साथ ही तुलसी स्कैल्प में ब्लड सर्कुलेट करने और स्कैल्प की स्किन को शांत रखने का काम करती है। इससे बाल मजबूत होने और डैंड्रफ व खुजली की समस्या दूर हो सकती है (7)।

साथ ही भृंगराज को भी रूसी दूर करने के लिए अच्छा माना जाता है (8)। इस हेयर पैक में मौजूद मेथी में एंटी फंगल प्रभाव होता है, जिसके कारण रूसी से राहत मिल सकती है (7)। यही नहीं, शिकाकाई बालों के लिए क्लींजर की तरह कार्य करके डैंड्रफ को दूर कर सकता है। साथ ही यह बालों के पीएच के साथ ही नेचुरल ऑयल को बनाए रखता है, जिससे बाल स्वस्थ बने रह सकते हैं 9)।

5. नीम तेल और नींबू का छिलका

सामग्री :

  • नीम के तेल की कुछ बूंदें
  • 1 नींबू के छिलके का पाउडर

6. उपयोग की विधि :

  • एक साफ कटोरी में नीम का तेल और नींबू के छिलके का पाउडर मिलाएं।
  • इससे जब एक मिश्रण तैयार हो जाए, तो उसे स्कैल्प पर लगाएं।
  • कुछ देर बालों की मसाज करके करीब 30 मिनट के लिए इसे बालों पर छोड़ दें।
  • फिर बालों को साफ पानी से धो लें।

कैसे लाभदायक है :

आप जान ही गए हैं कि नीम के तेल में एंटीफंगल प्रभाव होता है, जो रूसी की परेशानी को कम कर सकता है। इस तेल के साथ नींबू का छिलका मिलने से यह और अच्छी तरीके से कार्य कर सकता है। इससे संबंधित एक रिसर्च में कहा गया है कि नींबू के छिलके में अन्य घरेलू सामग्रियों के मुकाबले काफी प्रभावी एंटीफंगल क्षमता होती है। इससे डैंड्रफ के मालासेजिया फुरफुर फंगस को खत्म करने व बढ़ने से रोकने में मदद मिल सकती है (10)।

7. नीम का तेल और दही

सामग्री :

  • नीम के तेल की कुछ बूंदें
  • दही का एक कप

उपयोग की विधि :

  • नीम के तेल और दही को आपस में अच्छे से मिला लें।
  • अब इस पेस्ट को स्कैल्प और बालों पर लगाएं।
  • अब इसे करीब 30 से 40 मिनट ऐसे ही छोड़ दें।
  • फिर सिर को चारों ओर से एक तौलिया से लपेटें या शॉवर कैप पहन लें।
  • जब 30 मिनट पूरे हो जाएं, तो माइल्ड शैम्पू से बाल धो लें।

कैसे लाभदायक है :

नीम का तेल किस तरह से रूसी से बचाता है, यह ऊपर हम स्पष्ट कर ही चुके हैं। इसके साथ जब दही को मिलाया जाता है, तो यह और भी प्रभावी तरीके से कार्य कर सकता है (11)। दरअसल, दही में मौजूद प्रीबायोटिक को डैंड्रफ संबंधी फंगस से बचाव में मददगार माना जाता (12)। दही से डैंड्रफ की परेशानी कम होने के साथ ही बाल मुलायम और सिल्की भी हो सकते हैं (13)।

पढ़ते रहें लेख

बालों पर नीम का तेल लगाने से होने वाले नुकसान के बारे में आगे पढ़िए।

Side Effects And Risks Of Using Neem Oil For Dandruff- Free Hair In Hindi

नीम का उपयोग वैसे तो सुरक्षित ही माना जाता है, लेकिन कुछ लोगों को इससे ये नुकसान हो सकते हैं।

  • नीम का तेल सीधे लगाने से कुछ लोगों को इससे जलन हो सकती है।
  • नीम के तेल से स्कैल्प और चेहरे पर एलर्जी होने का जोखिम भी रहता है (14)। इसलिए, बिना पैच टेस्ट किए नीम ऑयल का उपयोग न करें।

नीम के तेल का उपयोग सही तरह से किया जाए, तो यह डैंड्रफ की समस्या से राहत पहुंचाने और उसके लक्षणों को कम करने में सहायक हो सकता है। इसे किस तरह से अन्य सामग्रियों के साथ मिलाकर और प्रभावी बनाया जा सकता है, इसके बारे में भी यहां विस्तार से बताया गया है। आप अपनी सहूलियत के हिसाब से किसी भी सामग्री को नीम के तेल के साथ मिलाकर इसके लाभ उठा सकते हैं।

अक्सर पूछे जाने वाले सवाल

रूसी हटाने के लिए नीम का तेल का उपयोग करना चाहिए या नहीं?

हां, रूसी हटाने के लिए नीम का तेल का उपयोग किया जा सकता है।

क्या मैं स्कैल्प पर सीधे नीम का तेल लगा सकता हूं?

नहीं, आप स्कैल्प पर सीधे नीम का तेल लगाने के बजाय उसे पतला यानी डायल्यूट करके ही इस्तेमाल करें।

मुझे अपने सिर पर कितनी बार नीम का तेल लगाना चाहिए?

आप नीम का तेल सिर पर हफ्ते में एक से दो बार लगा सकते हैं।

रूसी के लिए नीम ऑयल कहां से खरीदें

आप रूसी के लिए नीम ऑयल ऑनलाइन खरीद सकते हैं।

14 Sources

14 Sources

Was this article helpful?
The following two tabs change content below.

ताज़े आलेख

scorecardresearch