चेहरे के लिए डिटॉक्स वॉटर – Detox Water For Skin in Hindi

Written by

कहते हैं चेहरे की खूबसूरती शरीर के अंदर से आती है। शरीर जितना अंदर से स्वस्थ रहेगा, चेहरे पर निखार भी उतना बढ़ेगा। इसके लिए डिटॉक्स वॉटर बेहतर विकल्प साबित हो सकता। यही वजह है कि स्टाइलक्रेज के इस लेख में हम त्वचा के लिए डिटॉक्स वॉटर के फायदे लेकर आए हैं। साथ ही यहां हम ग्लोइंग स्किन के लिए डिटॉक्स वॉटर बनाने की विधि और इसके उपयोग के बारे में भी बताएंगे। इसके अलावा, यहां आपको चेहरे के लिए डिटॉक्स वॉटर से जुड़ी कुछ सावधानियों की भी जानकारी मिलेगी।

शुरू करते हैं लेख

सबसे पहले समझ लीजिए कि डिटॉक्स वॉटर होता क्या है।

डिटॉक्स वॉटर क्या है? What is Detox water in Hindi

यह एक प्रकार का खास पेय पदार्थ होता है, जो कई प्रकार के फल, हरी सब्जियों और जड़ी बूटियों से मिलकर बनता है। शरीर से विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालने में इसे काफी हद तक सहायक माना गया है (1)।  यही नहीं, एक शोध में तो यह भी जानकारी मिलती है कि गुनगुना पानी भी शरीर को डिटॉक्स करने का काम कर सकता है। यह शरीर से विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालने के साथ-साथ त्वचा की इलास्टिसिटी को बढ़ाने में मदद कर सकता है (2)। लेख में आगे हमने ग्लोइंग स्किन के लिए डिटॉक्स वॉटर के बारे में विस्तार से जानकारी दी है।

आगे पढ़ें

यहां जानें स्किन के लिए डिटॉक्स वॉटर के लाभ।

त्वचा के लिए डिटॉक्स वॉटर के फायदे – Benefits Of Detox Water For Skin in Hindi

जैसा कि हमने लेख के ऊपरी भाग में बताया कि डिटॉक्स वॉटर कई प्रकार के फल और सब्जियों को मिलाकर बनाया जाता है। ऐसे में यहां हम उन्हीं फलों और सब्जियों के आधार पर त्वचा के लिए डिटॉक्स वॉटर के फायदे बता रहे हैं।

1. त्वचा को हाइड्रेट रखता है

त्वचा को हाइड्रेटेड रखने के लिए खीरे से बने डिटॉक्स वॉटर को उपयोगी माना जा सकता है। खीरे से संबंधित एक शोध में इस बात की जानकारी मिलती है कि खीरा शरीर से विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालने के साथ-साथ हाइड्रेशन में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकता है।

एक जर्नल पेपर के अनुसार, खीरे में 96 प्रतिशत पानी की मात्रा होती है, जो साधारण पानी के मुकाबले अधिक पौष्टिक है। यह शरीर को हाइड्रेट रखने के साथ-साथ तापमान को भी नियंत्रित करने में मदद कर सकता है (3)। इस आधार पर यह माना जा सकता है कि त्वचा को हाइड्रेट रखने के लिए खीरे से बना डिटॉक्स वॉटर लाभकारी हो सकता है।

2. ग्लोइंग स्किन के लिए

एनसीबीआई की वेबसाइट पर प्रकाशित एक शोध में बताया गया है कि कई सौंदर्य और स्वास्थ्य पत्रिकाओं के साथ-साथ इंटरनेट जैसे कई स्रोतों से जानकारी मिलती है कि एक दिन में 8-10 गिलास पानी पीने से त्वचा से विषाक्त पदार्थ निकल सकते हैं, जिससे स्किन में ग्लो आ सकता है (4)

वहीं, अगर पानी में नींबू मिला दिया जाए, तो यह त्वचा के लिए और लाभकारी हो सकता है। बता दें कि नींबू को एक बेहतरीन डिटॉक्सिफायर के रूप में जाना जाता है। साथ ही इसमें विटामिन-सी भी मौजूद होता है, जो त्वचा को निखारने के साथ-साथ चमकदार बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकता है (5)

3. झुर्रियों के लिए

चेहरे के लिए डिटॉक्स वॉटर के फायदों की बात करें, तो यह झुर्रियों के लिए भी लाभकारी साबित हो सकता है (6)। इसके लिए खीरे से बने डिटॉक्स वॉटर का इस्तेमाल करना लाभकारी हो सकता है। ऐसा इसलिए, क्योंकि खीरे में त्वचा को झुर्रियों से बचाने और स्किन इलास्टिसिटी को बनाए रखने के गुण मौजूद होते हैं (7)

वहीं,  लहसुन, अदरक, शहद, गाजर, एलोवेरा, खजूर और कॉर्न से बने डिटॉक्स वॉटर को भी झुर्रियों के लिए फायदेमंद माना गया है। बता दें कि लहसुन, अदरक और कॉर्न तीनों में एंटी एजिंग गुण होते हैं, जो झुर्रियों को कम करने में सहायक साबित हो सकते हैं (8)

4. मुंहासों के लिए

त्वचा के लिए नींबू के फायदे कई सारे हैं। इनमें मुहांसों की समस्या से निजात पाना भी शामिल है। नींबू के उपयोग पर हुए एक शोध में बताया गया है कि यह मुंहासों के खिलाफ अच्छा काम कर सकता है। इसमें मुंहासे पैदा करने वाले बैक्टीरिया को नष्ट करने की क्षमता होती है। रोज सुबह पानी के साथ इसका सेवन मुंहासों से छुटकारा दिलाने में मददगार साबित हो सकता है (9)

लेख में ऊपर बताया भी गया है कि नींबू में शरीर के विषाक्त पदार्थों को निकालने की क्षमता होती है (5)। इस आधार पर यह माना जा सकता है कि नींबू से बने डिटॉक्स वॉटर का उपयोग मुंहासों के खिलाफ प्रभावी साबित हो सकता है।

5. साफ-सुथरी त्वचा के लिए

स्वास्थ्य के साथ-साथ त्वचा के लिए भी टमाटर को गुणकारी माना जा सकता है। इसके पीछे की वजह है टमाटर में मौजूद डिटॉक्सिफिकेशन प्रभाव, जो शरीर में जमी अशुद्धियों को बाहर निकालने में सहायक माना जाता है।

टमाटर पर हुए शोध से पता चला है कि इसमें लाइकोपीन होता है, जो चेहरे की अंदरूनी सफाई कर सकता है। इसमें मौजूद विटामिन-सी सनबर्न से भी बचा सकता है (10)। इन तथ्यों को देखते हुए यह कहा जा सकता है कि टमाटर के इस्तेमाल से बना डिटॉक्स वॉटर क्लियर स्किन के लिए मददगार साबित हो सकता है।

पढ़ते रहिए यह लेख

स्किन के लिए डिटॉक्स वॉटर के फायदे जानने के बाद डिटॉक्स वॉटर बनाने की विधि जानें।

डिटॉक्स वॉटर बनाने की विधि – How to make detox water in Hindi

घर बैठे डिटॉक्स वॉटर बनाना बहुत आसान है। यहां हम कुछ सामान्य डिटॉक्स वॉटर बनाने की विधि बता रहे हैं, जो इस प्रकार है :

सामग्री :

  • खीरा – एक
  • नींबू – एक
  • पानी (आवश्यकतानुसार)
  • पुदीना पत्ती – 2 से 4

बनाने की विधि :

  • सबसे पहले खीरे को अच्छी तरह से साफ करके धो लें। फिर उसे गोल टुकड़ों में काट लें।
  • अब नींबू को भी धोकर गोल टुकड़ों में काट लें।
  • फिर एक जार में पानी लें और उसमें खीरे व नींबू के कटे हुए टुकड़ों को डालें। अब उसमें पुदीना पत्तियों को भी धोकर डाल दें।
  • इसके बाद इसे रात भर के लिए ढककर छोड़े दें।
  • अगल सुबह इसका सेवन करें।

नोट : डिटॉक्स वॉटर बनाने के लिए अपनी पसंद के किसी भी फल या सब्जी का इस्तेमाल किया जा सकता है। बशर्ते उसमें शरीर के विषाक्त पदार्थों को निकालने के गुण होने चाहिए। इसके अलावा, चाहें तो गुनगुने पानी का भी इस्तेमाल डिटॉक्स ड्रिंक बनाने के लिए किया जा सकता है।

स्क्रॉल कर पढ़ें

लेख के इस हिस्से में आप जानेंगे कि स्किन के लिए डिटॉक्स वॉटर का उपयोग कैसे कर सकते हैं।

चेहरे व स्किन के लिए डिटॉक्स वॉटर कैसे इस्तेमाल करें – How To Use Detox Water For Face And Skin in Hindi

फेस और स्किन के लिए डिटॉक्स वॉटर का उपयोग निम्न प्रकार से करना सही रहेगा :

  • डिटॉक्स वॉटर को ड्रिंक के तौर पर पी सकते हैं।
  • चाहे तो डिटॉक्स वॉटर को टोनर के तौर पर भी इस्तेमाल कर सकते हैं।
  • इसके अलावा, डिटॉक्स वॉटर को फेस पैक में भी मिला सकते हैं।

यह भी पढ़ें

त्वचा के लिए डिटॉक्स वॉटर के उपयोग जानने के बाद अब कुछ काम की बातों पर चर्चा कर लेते हैं।

त्वचा पर डिटॉक्स वाटर का उपयोग करने से पहले बरती जाने वाली सावधानियां – Precautions To Follow Before Using Detox Water on Skin in Hindi

चेहरे के लिए डिटॉक्स वॉटर का उपयोग करते समय नीचे बताई गई बातों का खास ख्याल रखें :

  • अगर चेहरे पर गंभीर मुंहासे की समस्या है, तो उस पर डिटॉक्स वॉटर का इस्तेमाल न करें।
  • डिटॉक्स वॉटर में केवल उन्हीं सामग्रियों को मिलाएं, जिससे एलर्जी की समस्या न हो।
  • डिटॉक्स वॉटर बनाने के लिए केवल ताजे फल और सब्जियों का ही उपयोग करें।
  • डिटॉक्स वॉटर को कभी भी अधिक गर्म पानी में न बनाएं।
  • स्किन के लिए डिटॉक्स वॉटर का इस्तेमाल हमेशा सीमित मात्रा में ही करें।

जुड़े रहें हमारे साथ

अब बारी है चेहरे के लिए डिटॉक्स वॉटर के नुकसान जानने की।

चेहरे पर डिटॉक्स वॉटर का उपयोग करने के साइड इफेक्ट – Side Effects Of Using Detox Water On Your Face in Hindi

त्वचा के लिए डिटॉक्स वॉटर के फायदे जानने के बाद चलिए अब जरा इसके नुकसानों पर भी एक नजर डाल लीजिए :

  • डिटॉक्स वॉटर के रूप में पानी का इस्तेमाल हमेशा सीमित मात्रा में ही करें। अधिक मात्रा में पानी पीने से ओवरहाइड्रेशन यानी शरीर में बहुत अधिक पानी जमा हो सकता है। इस वजह से सिरदर्द की समस्या, थकान, चक्कर आना और मतली की समस्या हो सकती है (11)
  • इसके अलावा, डिटॉक्स वॉटर में नींबू का इस्तेमाल सीमित मात्रा में ही करें। बता दें कि नींबू में सिट्रिक एसिड मौजूद होता है। ऐसे में इसका अधिक उपयोग दांतों को नुकसान पहुंचा सकता है (12)
  • नींबू में मौजूद सिट्रिक एसिड मुंह के अल्सर का भी कारण बन सकता है (13)
  • यही नहीं, कुछ मामलों में नींबू एलर्जी का भी कारण बन सकता है (14)
  • डिटॉक्स वॉटर के लिए खीरे का भी अधिक मात्रा में इस्तेमाल न करें। इससे पेट फूलने और गैस की समस्या हो सकती है (15)
  • वहीं, खीरे में ड्यूरेटिक प्रभाव भी मौजूद होता है (16)। ऐसे में इसके अधिक इस्तेमाल से बार-बार पेशाब लगने की समस्या हो सकती है।
  • वहीं, डिटॉक्स वॉटर के लिए बहुत अधिक गर्म पानी का इस्तेमाल न करें। अधिक गर्म पानी पीने से इसोफेगस कैंसर का खतरा बढ़ सकता है (17)। बता दें कि इसोफेगस गले से लेकर पेट तक जाने वाली एक नली होती है।

नियमित रूप से डिटॉक्स वॉटर का उपयोग न केवल शरीर से विषाक्त पदार्थों को निकालता है, बल्कि चेहरे पर चमक भी लाता है। इस लेख को पढ़ने के बाद अब आपको ग्लोइंग स्किन के लिए डिटॉक्स वॉटर के फायदों के बारे में विस्तार से जानकारी मिल गई होगी। ऐसे में अगर आपने अभी तक स्किन के लिए डिटॉक्स वॉटर को अपने डेली रूटीन में शामिल नहीं किया है, तो आज से ही इसे अपनाएं और निखरी हुई त्वचा पाएं।

संदर्भ (Sources)

  1. Formulation and quality analysis of detox drink
    https://www.homesciencejournal.com/archives/2016/vol2issue3/PartC/2-2-81.pdf
  2. Say Yes To Warm For Remove Harm: Amazing Wonders Of Two Stages Of Water!
    https://www.ejpmr.com/home/abstract_id/220
  3. Invigorating Efficacy of Cucumis Sativus for Healthcare & Radiance
    https://www.pharmaresearchlibrary.com/wp-content/uploads/2014/04/IJCPS2001.pdf
  4. Water, Hydration and Health
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC2908954/
  5. Formulation and evaluation of herbal face mist
    http://www.jipbs.com/VolumeArticles/FullTextPDF/471_JIPBSV7I102.pdf
  6. In vivo anti aging effects of alkaline water supplementation
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC7054916/#S0004title
  7. Anti Wrinkle herbal drugs – An update
    https://www.phytojournal.com/archives/2015/vol4issue4/PartD/4-4-26.pdf
  8. Herbal Detox Extract Formulation From Seven Wonderful Natural Herbs: Garlic, Ginger, Honey, Carrots, Aloe Vera, Dates, & Corn
    https://www.researchgate.net/publication/336429526_Hearbal_Detox_Extract_Formulation_From_Seven_Wonderful_Natural_Herbs_Garlic_Ginger_Honey_Carrots_Aloe_Vera_Dates_Corn
  9. Tomato-A Natural Medicine and Its Health Benefits
    https://www.phytojournal.com/vol1Issue1/Issue_may_2012/3.pdf
  10. Citric acid consumption and the human dentition
    https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/267657/
  11. Canker sores from allergy to weak organic acids (citric and acetic): Case report and clinical study
    https://www.sciencedirect.com/science/article/abs/pii/002187075690154X
  12. Allergy to citrus juice
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC3723546/
  13. Prevention and Treatment of Flatulence From a Traditional Persian Medicine Perspective
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC4893422/
  14. Free Radical Scavenging and Analgesic Activities of Cucumis sativus L. Fruit Extract
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC3019374/
  15. High-temperature beverages and Foods and Esophageal Cancer Risk — A Systematic Review
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC2773211/
Was this article helpful?
The following two tabs change content below.
आवृति गौतम ने सेंट्रल यूनिवर्सिटी ऑफ साउथ बिहार से मास कम्युनिकेशन में एमए किया है। इन्होंने अपने करियर की शुरूआत डिजिटल मीडिया से ही की थी। इस क्षेत्र में इन्हें काम करते हुए दो वर्ष से ज्यादा हो गए हैं। आवृति को स्वास्थ्य विषयों पर लिखना और अलग-अलग विषयों पर विडियो बनाना खासा पसंद है। साथ ही इन्हें तरह-तरह की किताबें पढ़ने का, नई-नई जगहों पर घूमने का और गाने सुनने का भी शौक है।

ताज़े आलेख