सामग्री और उपयोग

धनिया के बीज के 10 फायदे, उपयोग और नुकसान – Coriander Seeds Benefits and Uses in Hindi

by
धनिया के बीज के 10 फायदे, उपयोग और नुकसान – Coriander Seeds Benefits and Uses in Hindi Hyderabd040-395603080 October 16, 2019

हरा धनिया अक्सर भारतीय व्यंजनों में स्वाद बढ़ाने के लिए इस्तेमाल में लाया जाता है। धनिया के पत्तों के साथ ही इसके बीज का उपयोग भी खाने में आम है। लेकिन, क्या आपको पता है, धनिया के बीज को अगर सही तरीके से इस्तेमाल में लाया जाए, तो यह आपके शरीर के लिए वरदान साबित हो सकता है। इस लेख में हम आपको तथ्य-प्रमाण के आधार पर स्वास्थ्य के लिए धनिया के बीज के फायदे बताएंगे। साथ ही किस तरीके से इसका उपयोग आपके शरीर के लिए लाभदायक साबित हो सकता है, इसपर भी चर्चा करेंगे।

धनिया के बीज के फायदे – Benefits of Coriander Seeds Oil in Hindi

1. डायबिटीज

डायबिटीज के मरीजों के लिए धनिए के बीज काफी लाभदायक सिद्ध हो सकते हैं। दरअसल, इसमें मौजूद फ्लेवोनोइड, पॉलीफेनोल, बी-कैरोटीनोइड (β-Caroteinoids) जैसे कई कंपाउंड प्लाज्मा ग्लूकोज को सामान्य रखने में मदद करते हैं। इसके साथ ही यह कुल कॉलेस्ट्रोल और वसा के स्तर को भी कम करने में मदद करता है। साथ ही यह टाइप-2 डायबिटीज के मरीजों में हाइपरलिपिडिमिया (खून में फैट की अधिक मात्रा) के कारण होने वाली हृदय संबंधी जटिलताओं को भी रोक सकता है (1)

2. पाचन

धनिया के बीज को पुराने समय से ही पाचन को बढ़ावा देने वाले पदार्थ के रूप में इस्तेमाल किया जाता रहा है। दरअसल धनिया बीज के सेवन से बाइल एसिड बनता है, जो पाचन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। धनिया के बीज में कार्मिनेटिव (carminative) प्रभाव भी होता है, जो गैस की समस्या से भी राहत दिला सकता है। इसके अलावा, यह छोटी आंत में मौजूद प्रोटीन को तोड़कर खाने को हजम करने वाले एंजाइम को भी बढ़ावा देता है (2)

3. अर्थराइटिस

Coriander Seeds Benefits and Uses in Hindi (3) Pinit

Shutterstock

धनिया के बीज के फायदे यकीनन अनेक हैं। धनिया के बीज अर्थराइटिस में आराम दिलाने में मदद करते हैं। दरअसल, धनिया में लिनोलिक एसिड पाया जाता है, जो एंटी-अर्थाराइटिक की तरह शरीर में काम करता है। धनिया बीज में मौजूद एंटी अर्थराइटिस और एंटीऑक्सीडेंट जोड़ों में इंफ्लामेशन को बढ़ावा देने वाले कुछ साइटोकिन्स (cytokines) कंपाउंड से लड़ने में हमारे शरीर की मदद करते हैं। इसके साथ धनिया के बीज को जोड़ों में लगाने से भी फायदा मिलता है (3) (4)

4. कंजंक्टिवाइटिस

कंजंक्टिवाइटिस का मतलब आंखों का लाल या गुलाबी होना। इसमें आंख की बाहरी परत और पलक के अंदर इंफ्लामेशन हो जाता है, जिसकी वजह से सूजन, खुजली, जलन और आखें लाल होने लगती हैं। इसकी वजह बैक्टीरियल व वायरल संक्रमण, एलर्जी होती है (5)। ऐसे में आपकी मदद धनिया बीज कर सकते हैं। जैसा कि हम आपको ऊपर बता चुके हैं कि धनिया के बीज इंफ्लामेशन को बढ़ावा देने वाले साइटोकिन्स कंपाउंड से लड़ने में मदद करते हैं। इसके अलावा, इसमें एंटी बैक्टीरियल गुण भी होते हैं। इसलिए, कहा जा सकता है कि यह कंजंक्टिवाइटिस से लड़ने में भी मदद करते हैं (3)। एक शोध के मुताबिक, धनिया के बीज संक्रमण से लड़कर आंखों में होने वाली खुजली से राहत दिलाने में मदद कर सकते हैं (6)

5. एनीमिया

एनिमिया (खून की कमी) एक रक्त विकार है, जो मुख्यत: शरीर में आयरन की कमी की वजह से होता है। शरीर को खून बनाने के लिए भरपूर मात्रा में आयरन चाहिए होता है (7)। ऐसे में आयरन से भरपूर धनिया के बीज का इस्तेमाल कर सकते हैं। आयरन के साथ ही इसमें विटामिन-सी भी मौजूद होता है, जो शरीर में आयरन के अवशोषण (Absorption) को बढ़ावा देता है (8) (9)

6. हृदय स्वास्थ्य

Coriander Seeds Benefits and Uses in Hindi (3) Pinit

Shutterstock

हम आपको ऊपर बता चुके हैं कि धनिया के बीज कॉलेस्ट्रोल और वसा के साथ हृदय रोगों के जोखिम को भी कम कर सकते हैं। धनिया के बीज में हाइपोलिपिडेमिक (Hypolipidemic) क्रिया होती है, जो शरीर में मौजूद ट्राइग्लिसराइड्स (एक तरह का वसा) को कम करता है (10)। दरअसल, कोलेस्ट्रोल और ट्राइग्लिसराइड्स हृदय संबंधी बीमारियों का कारण होते हैं (11)। इनके स्तर को कम करके धनिया के बीज आपके हृदय को स्वस्थ रखने में मदद कर सकता है।

7. मासिक धर्म स्वास्थ्य

मासिक धर्म का समय पीड़ादायक होता है। इस दौरान पेट और कमर में असहनीय दर्द होता है। ये दर्द गर्भाशय में संकुचन की वजह से होता है (12)। ऐसे में आप धनिया के बीज की चाय बनाकर पी सकते हैं, जो एंटी इंफ्लामेटरी व एनाल्जेसिक (Analgesic) ड्रग की तरह काम करके आपके दर्द को कम कर सकती है (13) (14) । इसके अलावा, यह मासिक धर्म में अगर आपको सामान्य से अधिक ब्लीडिंग हो रही है, तो उसे भी रोकने में मदद कर सकता है (15)

8. न्यूरोलॉजिकल हेल्थ

धनिया के बीज के फायदे कई हैं। इसमें एंटी-कंवलसेंट (Anti-Convulsant) गतिविधी पाई जाती हैं (16), जिसकी मदद से मिर्गी (Epilepsy) की समस्या को दूर किया जा सकता है (17)। दरअसल, यह एक दिमागी (न्यूरोलॉजिकल) विकार है, जिसमें मस्तिष्क की गतिविधि असामान्य हो जाती है। इस स्थिति में धनिया बीज आपकी मदद कर सकता है। इसके अलावा, धनिया आपके न्यूरोन्स को पहुंचने वाली क्षति से भी बचाता है (18)। माना जाता है कि धनिया याददाश्त में भी सुधार कर सकता है, हालांकि अभी इसको लेकर अभी और शोध की आवश्यकता है (19)

9. त्वचा स्वास्थ्य

Coriander Seeds Benefits and Uses in Hindi (3) Pinit

Shutterstock

धनिया में भरपूर एंटीऑक्सिडेंट पाये जाते हैं। इसके अलावा, त्वचा के लिए फायदेमंद माने जाने वाला विटामिन-सी की भी इसमें प्रचुरता होती है। हम आपको ऊपर लेख में तो बता ही चुके हैं कि धनिया के बीज एंटी-बैक्टीरियल और एंटी-इंफ्लेमेटरी भी होते हैं (16)। तो बस त्वचा को स्वस्थ बनाए रखने के लिए और क्या चाहिए। आप अपने चेहरे में धनिया के बीज का पानी रुई की मदद से लगा सकती हैं। इसके अलावा, धनिया के बीज में मौजूद विटामिन-सी आपके चेहरे के निशान दूर करने के साथ ही आपको बढ़ती उम्र के चेहरे पर दिखने वाले असर को कम करने में मदद करता है। साथ ही यह चेहरे के लचीलेपन को बनाए रखता है और सनबर्न से राहत देने में मदद कर सकता है (20)

10. बालों के लिए

खनिज और विटामिन से भरपूर होने के कारण आप धनिया के बीज को बतौर हर्बल टॉनिक के रूप में उपयोग कर सकते हैं। दरअसल, आयरन और जिंक की कमी से बाल झड़ते हैं। ऐसे में आप इनसे समृद्ध धनिया के बीज के इस्तेमाल से झड़ते बालों को रोक सकते हैं (21)। धनिया के बीज के तेल का इस्तेमाल बालों के लिए कर सकते हैं। हालांकि, इसको लेकर अभी कोई शोध नहीं हुआ है।

धनिया बीज के लाभ जानने के बाद चलिए अब बात करते हैं इसमें मौजूद पोषक तत्वों की।

धनिया के बीज का पौष्टिक तत्व – Coriander Seeds Nutritional Value in Hindi 

धनिया के बीज के फायदे के बाद अब हम बात करते हैं इसमें मौजूद पौष्टिक तत्वों की। नीचे दिए गए टेबल में देखें प्रति 100 ग्राम  धनिया के बीज में कितनी मात्रा में पोषक तत्व मौजूद होते हैं (8)

पोषक तत्वमात्रा प्रति 100 ग्राम
वाटर8.86g
ऊर्जा298kcal
प्रोटीन12.37g
कुल फैट17.77g
कार्बोहाइड्रेट54.99g
फाइबर41.9g
मिनरल
कैल्शियम709mg
आयरन16.32mg
मैग्नीशियम330mg
फास्फोरस409mg
पोटेशियम1267mg
सोडियम35mg
जिंक4.70mg
विटामिन
विटामिन सी21.0mg
थियामिन0.239mg
राइबोफ्लेविन0.290mg
नियासिन2.130mg
लिपिड
फैटी एसिड, टोटल सैचुरेटेड0.990g
फैटी एसिड, टोटल मोनोअनसैचुरेटेड13.580g
फैटी एसिड, टोटल पॉलीअनसेचुरेटेड1.750g

धनिया बीज के लाभ और पोषक तत्व जानने के बाद चलिए अब बात करते हैं इसका उपयोग कैसे किया जाए।

धनिया के बीज का उपयोग – How to Use Coriander Seeds in Hindi

Coriander Seeds Benefits and Uses in Hindi (3) Pinit

Shutterstock

सबसे पहले आप अच्छी गुणवत्ता वाले धनिया बीज खरीदें। अब इन्हें अच्छे से धोकर सूखा लें। इससे ये होगा कि धनिया के बीज निकालते समय अगर इसमें मिट्टी या बजरी होगी, तो वो साफ हो जाएगी। नीचे जानिए कैसे करें धनिया के बीज का इस्तेमाल –

  • इसका इस्तेमाल खड़े मसाले के रूप में कर सकते हैं यानी साबुत।
  • इसे समोसा बनाते वक्त तड़के के लिए भी इस्तेमाल में लाया जाता है।
  • आप धनिये को हल्का भूनकर सूप में भी डाल सकते हैं।
  • इसके अलावा, आप भूने हुए धनिये को पीसकर इसे बतौर मसाला इस्तेमाल कर सकते हैं।
  • धनिया के बीज का स्वाद अगर आपको काफी पसंद है, तो इसे आप पीजा, ब्रेड और अन्य स्नैक्स के मसालों में भी उपयोग कर सकते हैं।
  • आप धनिये के बीज के उबालकर बतौर चाय भी पी सकते हैं (10)

इससे पहले कि आप कोरिएंडर सीड को आहार में शामिल करने के लिए इसे खरीदे, आपको इसके नुकसान के बारे में भी जान लेना चाहिए।

धनिया के बीज के नुकसान – Side Effects of Coriander Seeds in Hindi 

  • कई लोगों को धनिया की सुगंध पसंद नहीं, इसलिए यह ऐसे लोगों में धनिया एलर्जी का कारण बन सकता है। (11)
  • जैसा कि हम आपको ऊपर लेख में बता ही चुके हैं कि धनिया के बीज ब्लड शुगर को कम कर सकता है। ऐसे में अगर आप इसका अत्यधिक मात्रा में सेवन करते हैं, तो आपका ब्लड शुगर काफी ज्यादा लो हो सकता है (12) 

रसोई घर में अक्सर इस्तेमाल में लाए जाने वाले धनिया के बीज के लाभ और इससे संबंधित अन्य महत्वपूर्ण जानकारी तो हम आपको इस लेख में बता ही चुके हैं। तो अब देर किस बात की, धनिया के बीज के औषधीय लाभ उठाने के लिए आप इसे जल्द ही अपनी दिनचर्या में शामिल कर लें। अगर आप धनिया के बीज से जुड़ा कोई सवाल पूछना चाहते हैं, तो कॉमेंट बॉक्स के माध्यम से हमसे जुड़ सकते हैं। हम आशा करते हैं कि धनिया के बीजों के स्वास्थ्य लाभ पर लिखा हमारा यह लेख आपके लिए मददगार साबित होगा।

और पढ़े:

The following two tabs change content below.

vinita pangeni

विनिता पंगेनी ने एनएनबी गढ़वाल विश्वविद्यालय से मास कम्यूनिकेशन में बीए ऑनर्स और एमए किया है। टेलीविजन और डिजिटल मीडिया में काम करते हुए इन्हें करीब चार साल हो गए हैं। इन्हें उत्तराखंड के कई पॉलिटिकल लीडर और लोकल कलाकारों के इंटरव्यू लेना और लेखन का अनुभव है। विशेष कर इन्हें आम लोगों से जुड़ी रिपोर्ट्स करना और उस पर लेख लिखना पसंद है। इसके अलावा, इन्हें बाइक चलाना, नई जगह घूमना और नए लोगों से मिलकर उनके जीवन के अनुभव जानना अच्छा लगता है।

संबंधित आलेख