धनिये के पत्ते के फायदे और नुकसान – Coriander Leaves Benefits and Side Effects in Hindi

by

दाल हो या सब्जी, अगर ऊपर से धनिये के पत्ते काटकर डाल दिए जाएं, तो खाने का स्वाद बढ़ना तय है। इसलिए, धनिये के पत्ते और धनिया के बीज का उपयोग हर किसी की रसोई में किया जाता है। साथ ही आपको जानकर हैरानी होगी कि धनियां स्वाद के साथ-साथ सेहत के लिए भी कई प्रकार से लाभदायक है। स्टाइलक्रेज के इस आर्टिकल में हम सेहत के लिए धनिये के पत्ते के फायदे बताएंगे। साथ ही जानेंगे इसके उपयोग और संभावित नुकसान के बारे में। आर्टिकल को शुरू करने के पहले हम बता दें कि धनिया के पत्ते हमें स्वस्थ रख सकते हैं। साथ ही ये बीमारी की अवस्था में कुछ लक्षणों को कम कर सकते हैं, लेकिन गंभीर बीमारी की अवस्था में मददगार साबित नहीं हो सकते। कोई गंभीर रोग होने पर डॉक्टर से इलाज करवाना ही सही निर्णय है।

आर्टिकल में सबसे पहले हम धनिये के पत्ते के फायदे के बारे में बता रहे हैं।

धनिये के पत्ते के फायदे – Benefits of Coriander Leaves in Hindi

1. अच्छे पाचन तंत्र के लिए धनिये के पत्ते के फायदे

धनिये के पत्ते का उपयोग पाचन तंत्र को ठीक करने के लिए फायदेमंद हो सकता है। एनीसीबीआई (नेशनल सेंटर फॉर बायो टेक्नोलॉजी इंफार्मेशन) की वेबसाइट पर इसी संबंध में कई शोध संस्थाओं के रिसर्च प्रकाशित हैं। इन रिसर्च के अनुसार, धनिया पाचन के लिए फायेमंद हो सकता है। इसमें लिनालूल (linalool) नामक कंपाउंड पाया जाता है, जो कार्मिनेटिव (पेट फूलने से राहत देने वाली दवा) की तरह काम करता है (1)।

2. वजन कम करने के लिए धनिये के पत्ते के उपयोग

धनिये के पत्ते का उपयोग वजन कम करने के लिए किया जा सकता है। इस संबंध में कई संस्थाओं ने जानवरों पर कई दिनों तक शोध किया और उस शोध को एनीसीबीआई की वेबसाइट पर प्रकाशित किया गया। शोध के अनुसार, धनिये के पत्ते में क्वेरसेटिन (Quercetin) नामक फ्लेवोनोइड पाया जाता हैं। क्वेरसेटिन में एंटीओबेसिटी गुण होते हैं, जो शरीर के वजन को कम करने में फायदेमंद हो सकते हैं (2)।

3. मधुमेह की समस्या में धनिये के पत्ते के फायदे

रक्त में शुगर की मात्रा बढ़ने से मधुमेह का खतरा हो सकता है। इस संबंध में हुए एक शोध के अनुसार, धनिये के पत्तों में एंटीडायबिटिक गुण हाेते हैं। यह गुण रक्त में मौजूद ग्लूकोज की मात्रा को कम करने में मदद कर सकता है। इसके अलावा, धनिये के पत्ते एंटीडायबिटिक गुण के कारण पैंक्रियाज सेल्स यानी अग्न्याशय में इंसुलिन के प्रवार हो बढ़ा देते हैं। इस प्रकार यह गुण मधुमेह को नियंत्रित करने में फायदेमंद हो सकता है (3)।

4. प्रतिरोध क्षमता को बेहतर करे

अक्सर बीमार रहना रोग प्रतिरोधक प्रणाली के कमजोर होने का लक्षण है। इस समस्या को दूर करने के लिए धनिये के पत्ते का उपयोग फायदेमंद हो सकता है। एक शोध में पाया गया है कि धनिया के पत्ते से निकाले गए अर्क इथेनॉल में कई फ्लेवोनोइड यौगिक पाए जाते हैं। ये यौगिक इम्यूनोमॉड्यूलेटर की तरह काम करते हैं, जिससे प्रतिरक्षा प्रणाली में सुधार हो सकता है (4)।

5. स्वस्थ्य हृदय के लिए धनिये के पत्ते के फायदे

धनिया के पत्ते सेहत के साथ-साथ हृदय के स्वास्थ्य के लिए भी फायदेमंद हो सकते हैं। दरअसल, कई संस्थाओं ने एक संयुक्त शोध में पाया कि धनिया के पत्तों में क्वेरसेटिन (quercetin) नामक कंपाउंड के साथ-साथ अन्य फ्लेवोनोइड्स (flavonoids) भी पाए जाते हैं। ये कम घनत्व वाले लिपोप्रोटीन (हानिकारक एलडीएल) के स्तर को कम करने के साथ ही हृदय के स्वास्थ्य को बढ़ाने के लिए फायदेमंद हो सकते हैं (5)।

6. संक्रमण को दूर करने के लिए

धनिया के पत्ते को उपयोग से कई प्रकार के संक्रमण को कुछ हद तक दूर किया जा सकता है। एनसीबीआई की वेबसाइट पर प्रकाशित एक शोध के अनुसार, धनिया के पत्ते से निकले तेल में एंटीफंगल और एंटी अडहिरंट (anti adherent) गुण पाए जाते हैं। ये गुण कई प्रकार के फंगल इंफेक्शन की समस्या को कम करने में मदद करने के साथ-साथ दांतों के संक्रमण को भी दूर करने में फायदेमंद हो सकते हैं (6)।

7. त्वचा के लिए फायदेमंद

सेहत के साथ ही धनिया के पत्ते त्वचा के लिए भी फायदेमंद हो सकते हैं। कई शोध संस्थाओं ने धनिया के पत्ते पर शोध किए हैं, जिसमें पाया गया कि धनिया पत्ते के अर्क में एंटीऑक्सीडेंट और एंटीइंफ्लेमेटरी गुण पाए जाते हैं। ये गुण त्वचा को हानिकारक यूवी किरणों से सुरक्षा प्रदान करने के साथ ही घाव को भरने में मदद कर सकते हैं। साथ ही धनिया के पत्ते त्वचा के लिए मॉइस्चराइजर के रूप में भी काम कर सकते हैं। इस शोध को एनसीबीआई की वेबसाइट पर प्रकाशित किया गया था (7)। इसके अलावा एक अन्य शोध में पाया गया कि धनिया में कीटाणुनाशक, डिटॉक्सिफाइंग, एंटीसेप्टिक, एंटीफंगल और एंटीऑक्सीडेंट गुण पाए जाते हैं। ये गुण एक्जिमा, त्वचा के सूखेपन और फंगल संक्रमण जैसे त्वचा के विकारों को ठीक करने में फायदेमंद हो सकते हैं (8)।

धनिये के पत्ते के फायदे के बाद लेख के अगले भाग में हम इसमें पाए जाने वाले पौष्टिक तत्वों के बारे में बता रहे हैं।

धनिये के पत्ते के पौष्टिक तत्व – Coriander Leaves Nutritional Value in Hindi

प्रति 100 ग्राम धनिये के पत्ते में पाए जाने वाले पौष्टिक तत्व और उनकी मात्रा के बारे में नीचे चार्ट में विस्तार से बताया गया है (9):

पोषक तत्वमात्रा प्रति 100 ग्राम
पानी 92.21 ग्राम
कैलोरी 23 kcal
ऊर्जा95 किलोजूल
प्रोटीन2.13 ग्राम
फैट0.52 ग्राम
कार्बोहाइड्रेट3.67 ग्राम
फाइबर2.8 ग्राम
शुगर0.87 ग्राम
मिनरल्स
कैल्शियम67 मिलीग्राम
आयरन1.77 मिलीग्राम
मैग्नीशियम26 मिलीग्राम
फास्फोरस48 मिलीग्राम
पोटैशियम521 मिलीग्राम
सोडियम46 मिलीग्राम
जिंक0.5 मिलीग्राम
मैंगनीज0.426 मिलीग्राम
कॉपर0.225 मिलीग्राम
सेलेनियम0.9 माइक्रोग्राम
विटामिन
विटामिन सी27 मिलीग्राम
थायमिन0.067 मिलीग्राम
राइबोफ्लेविन0.162 मिलीग्राम
नियासिन1.114 मिलीग्राम
विटामिन-बी 60.146 मिलीग्राम
फोलेट62 माइक्रोग्राम
कोलीन12.8 मिलीग्राम
विटामिन-ए337 माइक्रोग्राम
बीटा कैरोटिन3930 माइक्रोग्राम
विटामिन-ए IU6748 IU
विटामिन-ई2.5 मिलीग्राम
विटामिन-के310 माइक्रोग्राम
लिपिड
फैटी एसिड टोटल सैचुरेटेड0.014 ग्राम
फैटी एसिड टोटल मोनोअनसैचुरेटेड0.275 ग्राम
फैटी एसिड टोटल पोलीअनसैचुरेटेड0.04 ग्राम

धनिये के पत्ते के पोषक तत्व जानने के बाद हम धनिये के पत्ते के उपयोग के बारे में बात करेंगे।

धनिये के पत्ते का उपयोग – How to Use Coriander Leaves in Hindi

धनिये के पत्ते का उपयोग कई प्रकार से किया जा सकता है। यहां पर हम इसके कुछ खास और आसान तरीके बता रहे हैं।

  • धनिये के पत्ते को सलाद में मिला कर उसके स्वाद और पोषण को बढ़ा सकते हैं।
  • इसके पत्तों का उपयोग चटनी बनाने के लिए किया जा सकता है।
  • इसे आप सब्जी और दाल के ऊपर टॉपिंग के रूप में प्रयोग कर सकते हैं।
  • लेमन राइस के ऊपर इसका उपयोग करने पर यह स्वाद के साथ सेहत बढ़ाने में भी मददगार हो सकता है।

मात्रा: धनिया पत्ते की खुराक व्यक्ति की उम्र, स्वास्थ्य और अन्य स्थितियों पर निर्भर करती है। फिर भी इसे सुखाकर पाउडर के रूप में 1-3 ग्राम तक ले सकते हैं (10)। इसकी सही मात्रा जानने के लिए आप आहार विशेषज्ञ की सलाह ले सकते हैं।

धनिया पत्ते के उपयोग के बाद धनिये के पत्ते के नुकसान के बारे में जानते हैं।

धनिये के पत्ते के नुकसान – Side Effects of Coriander Leaves in Hindi

धनिया पत्ते के फायदे और उपयोग के साथ ही इससे होने वाले अनुमानित नुकसान के बारे में जानना भी जरूरी है। यहां हम धनिये के पत्ते के नुकसान के बारे में विस्तार से बता रहे हैं (10)।

  • यह फोटोसेंसेटिव होता है, इसलिए कुछ संवेदनशील लोगों को इससे सनबर्न व त्वचा के कैंसर का खतरा हो सकता है। इससे दाने, खुजली, चक्कर आना या सांस लेने में परेशानी सहित एलर्जी भी हो सकती है।
  • धनिया रक्तचाप को कम कर सकता है, जिससे निम्न रक्तचाप वाले लोगों को समस्या हो सकती है।
  • अधिक मात्रा में लेने पर यह मादक प्रभाव पैदा कर सकता है।
  • अधिक मात्रा में धनिया पत्ते लीवर को नुकसान पहुंचा सकते हैं।
  • कुछ मामलों में धनिया के पत्ते एलर्जी का कारण बन सकते हैं (11)।

इस आर्टिकल को पढ़ने के बाद यह कहना गलत नहीं होगा कि साधारण-से नजर आने वाले धनिया पत्ते में असाधारण गुण होते हैं। अगर इसे सही मात्रा और सही तरीके से उपयोग किया जाए, तो यह सेहत के लिए फायदेमंद हो सकता है। आर्टिकल के माध्यम से आपने धनिये के पत्ते के उपयोग और फायदों के बारे में जाना। साथ ही धनिये के पत्ते के नुकसान की जानकारी भी प्राप्त की। अगर आप अपनी डाइट में इसे शामिल करना चाहते हैं, तो अच्छा होगा कि इससे पहले डॉक्टर की सलाह जरूर लें। धनिया के पत्ते की जानकारी देता यह आर्टिकल आपके लिए किस प्रकार से फायदेमंद रहा नीचे दिए कमेंट बॉक्स में बताना न भूलें।

और पढ़े:

scorecardresearch