मधुमेह (डायबिटीज) के लिए शहद का उपयोग – Honey For Diabetes in Hindi

Written by , (शिक्षा- एमए इन जर्नलिज्म मीडिया कम्युनिकेशन)

मधुमेह की स्थिति में मीठी चीजों का सेवन करने की सख्त मनाही होती है। इस समय अगर मीठी चीजों का सेवन किया जाता है, तो मधुमेह का स्तर और बढ़ सकता है। ऐसे में शहद जैसे मीठे खाद्य पदार्थ के सेवन से मधुमेह की स्थिति में सुधार हो सकता है कहा जाए, तो हैरानी होना लाजमी है। कई रिसर्च इस बात का समर्थन करती हैं कि डायबिटीज में शहद लाभकारी होता है। मधुमेह में शहद कैसे फायदेमंद साबित हो सकता है, समझने के लिए स्टाइलक्रेज के इस लेख को पढ़ें। यहां हम डायबिटीज को नियंत्रित करने के लिए शहद का उपयोग करने के तरीके भी बताएंगे।

आगे पढ़ें

इस लेख के पहले भाग में जानिए कि किस तरह से शहद का सेवन मधुमेह को नियंत्रित कर सकता है।

कैसे शहद से मधुमेह को नियंत्रित करने में मदद मिलती है?

मधुमेह के रोगियों के लिए शहद सबसे अच्छा स्वीटनर साबित हो सकता है, जिसके सेवन से डायबिटीज को नियंत्रण में रखा जा सकता है। एनसीबीआई (नेशनल सेंटर फॉर बायोटेक्नोलॉजी इंफॉर्मेशन) की वेबसाइट पर पब्लिश एक मेडिकल रिसर्च में भी इस बात का जिक्र मिलता है। शोध के मुताबिक, शहद में एंटीडायबिटिक और हाइपोग्लाइसेमिक गुण होते हैं (1)।

ये दोनों प्रभाव ब्लड ग्लूकोज के स्तर को कम करने के लिए जाने जाते हैं, जिनसे मधुमेह की समस्या को नियंत्रित करने में मदद मिल सकती है (1)। भले ही यह मददगार है, लेकिन इसका सेवन अत्यधिक करने से बचें और इसे डाइट में शामिल करने से पहले अपने डॉक्टर की भी सलाह जरूर लें।

स्क्रॉल करें

आगे जानिए, मधुमेह को नियंत्रित करने के लिए शहद को किस प्रकार उपयोग किया जा सकता है।

डायबिटीज को नियंत्रित करने के लिए शहद का उपयोग कैसे करें?

मधुमेह में शहद को अन्य सामग्रियों के साथ मिलाकर सेवन करने से ग्लूकोज के स्तर को नियंत्रित करने में सहायता मिल सकती है। नीचे हम शहद के इन्हीं उपयोग और इनसे किस तरह मधुमेह कंट्रोल हो सकता है, यह बता रहे हैं।

1. शहद और दही

सामग्री:

  • आधा चम्मच शहद
  • तीन से चार चम्मच दही

उपयोग करने का तरीका:

  • दोनों सामग्रियों को अच्छी तरह मिलाएं।
  • फिर इस मिश्रण का सेवन कर लें।
  • इसे प्रतिदिन सुबह खाली पेट सेवन करना बेहतर होगा।

कैसे है फायदेमंद:

शहद का उपयोग करने से मधुमेह की समस्या को नियंत्रित किया जा सकता है। इससे जुड़े एक वैज्ञानिक शोध में दिया हुआ है कि शहद में एंटीडायबिटिक व हाइपोग्लाइसेमिक गुण होते हैं, जो मधुमेह को नियंत्रित रखने में सहायक हो सकते हैं (1)।

साथ ही दही में प्रोबायोटिक प्रभाव होता है, जो ग्लूकोज चयापचय को नियंत्रित कर सकता है। इसकी मदद से टाइप 2 मधुमेह का जोखिम कम हो सकता है (2)। इसी वजह से कि शहद और दही के उपयोग को मधुमेह के रोगियों के लिए प्रभावी माना जाता है।

2. शहद और दालचीनी

समग्री:

  • एक चम्मच शहद
  • आधा चम्मच दालचीनी पाउडर
  • एक गिलास पानी

उपयोग करने का तरीका:

  • सबसे पहले पानी को गर्म कर लें।
  • फिर उसमें दालचीनी पाउडर डालें और कुछ देर के लिए उबाल लें।
  • फिर इसे छानकर एक गिलास में निकाल लें।
  • जब यह थोड़ा ठंडा हो जाए, तो ऊपर से शहद मिलाएं।
  • शहद को अच्छी तरह मिलाने के बाद इसका सेवन कर लें।
  • इसे सुबह खाली पेट पीने से बेहतर परिणाम नजर आ सकते हैं।

कैसे है फायदेमंद:

डायबिटीज में शहद का लाभ किस प्रकार हो सकता है, इसके बारे में हमने ऊपर बताया है। इसके साथ उपयोग होने वाली दालचीनी भी मधुमेह के लिए फायदेमंद मानी जाती है। एनसीबीआई की वेबसाइट पर प्रकाशित एक वैज्ञानिक अध्ययन के मुताबिक, दालचीनी में एंटी- डायबिटिक प्रभाव होता है। इसकी मदद से डायबिटीज प्रभावित लोगों का रक्त शुगर कम हो सकता है (3)। शहद और दालचीनी के इस प्रभाव की वजह से ही इस मिश्रण को मधुमेह के लिए लाभकारी माना जाता है।

3. शहद, तुलसी, नीम, और हल्दी

समग्री:

उपयोग करने का तरीका:

  • सबसे पहले सभी सामग्रियों को पानी में अच्छी तरह मिलाएं।
  • फिर इस मिश्रण का हर दिन सुबह एक चम्मच सेवन करें।
  • बचे हुए मिश्रण को फ्रिज में रख दें।

कैसे है फायदेमंद:

शहद, तुलसी, नीम और हल्दी का सेवन करने से डायबिटीज के घरेलू इलाज में कुछ मदद मिल सकती है। हम ऊपर बता ही चुके हैं कि शहद में एंटीडायबिटीक गुण होता है। ठीक शहद की तरह ही तुलसी में भी डायबिटीज को कम करने वाला प्रभाव होता है। इंसानों पर किए गए अध्ययनों में इसे ब्लड ग्लूकोज के स्तर के साथ ही टाइप 2 मधुमेह के अन्य लक्षणों को कम करने में भी सहायक पाया गया है (4)।

साथ ही नीम में हाइपोग्लाइसेमिक गतिविधि पाई जाती है, जिससे रक्त शुगर के स्तर को कम करने में मदद मिल सकती है (5)। इसके अलावा, हल्दी में मौजूद करक्यूमिन कंपाउंड ऑक्सीडेटिव स्ट्रेस को कम करके  एंटी-डायबिटिक प्रभाव दिखाता है। साथ ही यह कंपाउंड ब्लड ग्लूकोज को कम करने के लिए भी जाना जाता है (6)। ऐसे में इस मिश्रण को मधुमेह के जोखिम से बचाने के लिए प्रभावकारी कहा जा सकता है।

4. शहद, अदरक और नींबू की चाय

सामग्री:

  • एक चम्मच शहद
  • एक इंच अदरक
  • आधा चम्मच नींबू का रस
  • आधा चम्मच चाय की पत्ती
  • दो कप पानी

उपयोग करने का तरीका:

  • एक बर्तन में अदरक, चाय की पत्ती और पानी डालें।
  • इसे लगभग 15 मिनट तक उबलने दें।
  • उबलने के बाद इसे छानकर एक कप में निकाल लें।
  • अब ऊपर से नींबू का रस और शहद डालें।
  • फिर इन्हें अच्छे से मिलाकर चाय की चुस्कियां लें।

कैसे है फायदेमंद:

मधुमेह में शहद के साथ ही इन सामग्रियों को शामिल करने से अच्छे फायदे नजर आ सकते हैं। दरअसल, शहद में एंटीडायबिटिक और हाइपोग्लाइसेमिक प्रभाव होते हैं। इन्हें रक्त शुगर को कम करने के लिए जाना जाता है (1)। इसके साथ अदरक का उपयोग करके ब्लड शुगर को संतुलित रखने और इन्सुलिन की सक्रियता को बढ़ाने में मदद मिल सकती है, जिससे डायबिटीज लेवल कम हो सकता है (7)।

नींबू संबंधी एक रिसर्च पेपर में कहा गया है कि सिट्रेट एसिड मधुमेह के स्तर और इससे संबंधित जटिलताओं को कम करने में सहायक हो सकता है (8)। इसके अलावा, चाय पत्ती में एंटी-डायबिटीक गुण होता है, जिसे मधुमेह से राहत पहुंचाने के लिए जाना जाता है। दरअसल, चाय में मौजूद कैटेचिन, थिअफ्लेविन, पॉलीसेकेराइड और कैफीन में एंटीडायबिटिक क्षमता होती है (9)। इसी वजह से इस मिश्रण को मधुमेह के लाभकारी माना जाता है।

पढ़ना जारी रखें

चलिए, अब जान लेते हैं कि मधुमेह के रोगियों के लिए सही शहद का चयन कैसे करना चाहिए।

मधुमेह के रोगियों के लिए सही शहद का चयन कैसे करें

मधुमेह के रोगियों के लिए सही शहद का चयन करना जरूरी होता है। तभी शहद से मिलने वाले फायदे शरीर को हो सकते हैं। इसी वजह से लेख में आगे हम डायबिटीज में शहद का चयन करते समय ध्यान दी जाने वाली बातों के बारे में बता रहे हैं।

  • पूरी तरह से प्राकृतिक शहद का चयन करें।
  • ध्यान रहे कि शहद में बिल्कुल भी चीनी न हो।
  • शहद रॉ हो, तो बेहतर होगा।
  • शहद खरीदने से पहले मैन्युफैक्चरिंग डेट और एक्सपायरी डेट की जांच कर लें।
  • इसे लेते समय सुनिश्चित करें कि बोतल पहले से खुली न हो।
  • स्वास्थ्य के लिए मुनका शहद को सबसे अच्छा माना जाता है, इसलिए मुनका शहद खरीद सकते हैं।
  • शुरुआत में शहद की छोटी बोतल खरीद कर पानी में उसकी शुद्धता जांच लें।

नीचे जरूरी जानकारी है

इस लेख के अगले भाग में डायबिटीज में शहद खाने के नुकसान की जानकारी दे रहे हैं।

मधुमेह में शहद खाने के नुकसान – Side Effects of Honey For Diabetes In Hindi

मधुमेह की स्थिति में बेशक शहद फायदेमंद होता है, लेकिन इसका सेवन अधिक मात्रा में करने से कुछ नुकसान भी हो सकते हैं। इन नुकसान के बारे में हम नीचे बता रहे हैं :

  • डायबिटीज में शहद की अधिक लेने से मधुमेह की समस्या बढ़ सकती है। दरअसल, इसमें मौजूद फ्रुक्टोज की अधिकता होने से रक्त में शुगर बढ़ सकता है (10)। ऐसे में डायबिटीज के मरीज को डॉक्टर की सलाह पर सही मात्रा में शहद का सेवन करना चाहिए।
  • शहद के सेवन से एलर्जी होने का जोखिम भी बना रहता है। एक वैज्ञानिक रिसर्च की मानें, तो शहद एनाफिलेक्सिस (Anaphylaxis) का कारण बन सकता है, जो एक तरह का एलर्जिक रिएक्शन है (11)।
  • मधुमेह के मरीजों को शहद से दस्त हो सकता है। इसके लिए भी शहद में मौजूद फ्रुक्टोज जिम्मेदार होता है (12)।

मधुमेह के मरीज को कई बारी मीठा खाने की ऐसी तलब लगती है कि वो खुद को इससे रोक नहीं पाते हैं। इसके परिणाम स्वरूप समस्या और भी गंभीर हो जाती है। ऐसे में मीठे की तलब को कम करने और मधुमेह की समस्या को बढ़ने से रोकने के लिए शहद का सेवन करना एक अच्छा विकल्प साबित हो सकता है। यह किस प्रकार सहायक होता है, इस बारे में हमने लेख में ऊपर विस्तार से बताया है। इसके अलावा, अगर कोई मरीज मधुमेह के इलाज के लिए किसी तरह की दवाई ले रहा है, तो ऊपर बताए गए उपाय को अपनाने से पहले डॉक्टर की सलाह जरूर लें।

लेख में आगे मधुमेह में शहद से जुड़े सवालों के जवाब जान लीजिए।

अक्सर पूछे जाने वाले सवाल

डायबिटिक को कितना शहद लेना चाहिए?

मधुमेह में कितना शहद लेना चाहिए, इस संबंध में किसी तरह का वैज्ञानिक प्रमाण उपलब्ध नहीं है। ऐसे में मधुमेह रोगियों को डॉक्टर के सलाह पर शहद को सीमित मात्रा में लेना चाहिए।

क्या मधुमेह रोगी शहद और दालचीनी खा सकते हैं?

जी हां, शहद और दालचीनी को साथ में खा सकते हैं। इसे किस प्रकार सेवन किया जा सकता है, इस संबंध में ऊपर लेख में विस्तार से बताया गया है।

क्या मधुमेह रोगी शहद या मेपल सिरप खा सकते हैं?

हां, मधुमेह में शहद या मेपल सिरप का सेवन कर सकते हैं। मेपल सिरप को मधुमेह से बचने में मददगार माना जाता है (13)।

मधुमेह के लिए शहद के स्थान पर क्या ले सकते हैं ?

मधुमेह के मरीज शहद के स्थान पर मेपल सिरप ले सकते हैं। यह मधुमेह में लाभदायक साबित हो सकता है (13)।

Sources

Articles on StyleCraze are backed by verified information from peer-reviewed and academic research papers, reputed organizations, research institutions, and medical associations to ensure accuracy and relevance. Read our editorial policy to learn more.

  1. Honey – A Novel Antidiabetic Agent
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC3399220/
  2. Yogurt and Diabetes: Overview of Recent Observational Studies
    https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/28615384/
  3. Cinnamon: A Multifaceted Medicinal Plant
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC4003790/
  4. Tulsi – Ocimum sanctum: A herb for all reasons
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC4296439/
  5. A study of hypoglycaemic effects of Azadirachta indica (Neem) in normaland alloxan diabetic rabbits
    https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/10919098/
  6. Curcumin: a natural product for diabetes and its complications
    https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/26088351/
  7. The Effects of Ginger on Fasting Blood Sugar, Hemoglobin A1c, Apolipoprotein B, Apolipoprotein A-I and Malondialdehyde in Type 2 Diabetic Patients
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC4277626/
  8. Citric acid inhibits development of cataracts, proteinuria and ketosis in streptozotocin (type1) diabetic rats
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC2917331/
  9. Effects and Mechanisms of Tea for the Prevention and Management of Diabetes Mellitus and Diabetic Complications: An Updated Review
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC6617012/pdf/antioxidants-08-00170.pdf
  10. Does Natural Honey-Containing Fructose have Benefits to Diabetic Patients?
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC4976705/
  11. Anaphylaxis caused by honey: a case report
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC5287071/
  12. Honey may have a laxative effect on normal subjects because of incomplete fructose absorption
    https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/7491882/
  13. Comparison of the enhancement of plasma glucose levels in type 2 diabetes Otsuka Long-Evans Tokushima Fatty rats by oral administration of sucrose or maple syrup
    https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/24005018/
The following two tabs change content below.

ताज़े आलेख