दूध और इलायची के फायदे – Amazing Benefits of Milk and Cardamom in Hindi

Written by

रोजमर्रा की जिंदगी में कुछ लोग अपनी डाइट में दूध को जरूर शामिल करते हैं। अब करें भी क्यों न, आखिर यह होता ही इतना गुणकारी है। वहीं, यदि इसमें औषधीय गुणों से भरपूर इलायची को मिला दिया जाए तो फिर यह सोने पे सुहागा जैसा हो जाएगा। अच्छी सेहत के साथ ही बीमारियों और शारीरिक समस्याओं को दूर रखने के लिए इलायची और दूध के फायदे कई सारे हो सकते हैं। ऐसे में स्टाइलक्रेज के इस आर्टिकल में हम इलायची वाला दूध पीने के फायदे विस्तार से बता रहे हैं। साथ ही यहां दूध और इलायची के नुकसान से बचने के लिए इसके सेवन के सही तरीके की भी जानकारी साझा की गई है। तो दूध और इलायची के फायदे जानने के लिए लेख पूरा पढ़ें।

स्क्रॉल करें

आर्टिकल की शुरुआत करते हैं सेहत के लिए दूध और इलायची के फायदे के साथ।

दूध और इलायची के फायदे – Benefits of Milk and Cardamom in Hindi

वैसे तो दूध बहुत गुणकारी होता है, लेकिन अगर इसमें इलायची मिला दी जाए तो इसके गुण और बढ़ सकते हैं, जो इसे सेहत के लिए फायदेमंद हो सकते हैं। ऐसे में यहां हम बता रहे हैं अच्छी सेहत के लिए इलायची वाला दूध पीने के फायदे, जो कुछ इस प्रकार हैं:

1.सर्दी और खांसी में दूध और इलायची के फायदे

सर्दी और खांसी की समस्या में इलायची वाला दूध पीने के फायदे हो सकते हैं। दरअसल, इलायची का उपयोग सामान्य सर्दी और खांसी की समस्या में पारंपरिक चिकित्सा के रूप में किया जाता रहा है। वहीं, घरेलू उपाय के तौर पर सूखी खांसी के लिए कई बार लोग गर्म दूध के साथ शहद का सेवन करते हैं। फोर्टिफाइड दूध में लैक्टोबैसिलस (Lactobacillus) नामक अच्छे बैक्टीरिया मौजूद होते हैं, जो कोल्ड और फ्लू के साथ-साथ एलर्जी के जोखिम को भी कम कर सकते हैं (1)।

इसके अलावा, गाय के दूध में लैक्टोफेरिन (Lactoferrin) नामक प्रोटीन मौजूद होता है, जो एंटीऑक्सीडेंट, एंटी-वायरल और एंटी बैक्टीरियल गुणों को प्रदर्शित कर रोग-प्रतिरोधक क्षमता में सुधार करने में सहायक हो सकते हैं और सर्दी-जुकाम की समस्या से राहत दिला सकते हैं (2)। ऐसे में हल्की-फुल्की सर्दी-जुकाम या खांसी की समस्या में हल्दी-दूध की तरह ही दूध इलायची का सेवन लाभकारी हो सकता है।

2.वजन कम करने के लिए दूध और इलायची के फायदे

शरीर में अधिक फैट का जमा होना मोटापे का कारण बन सकता है। वहीं, मोटापा शरीर में कई तरह की बीमारियों जैसे – मधुमेह, ह्रदय रोग का जोखिम बढ़ा सकता है (3)। ऐसे में वक्त रहते बढ़ते वजन की समस्या पर ध्यान देना आवश्यक है। वजन को संतुलित रखने के लिए दूध और इलायची के फायदे हो सकते हैं। जहां इलायची एनर्जी मेटाबॉलिज्म को बढ़ा सकता है और फैट बर्न करने में सहायक हो सकता है (4)।

वहीँ, लो फैट दूध को वजन संतुलित करने के डाइट का हिस्सा बनाया जा सकता है (5)। इसके अलावा डेयरी प्रोडक्ट में कंजुगेटेड लिनोलिक एसिड (Conjugated linoleic acid) पाया जाता है, इस एसिड में वजन कम करने वाला एंटी-ओबेसिटी गुण होता है (6)। ऐसे में नियमित व्यायाम के साथ-साथ वजन घटाने के डाइट में दूध और इलायची को शामिल करना अच्छा विकल्प हो सकता है।

3.रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए दूध और इलायची के फायदे

इलायची और दूध का सेवन रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए भी फायदेमंद माना गया है। दरअसल, एनसीबीआई (National Center for Biotechnology Information) की रिसर्च के मुताबिक इलायची का सेवन इम्यूनोमॉड्यूलेटरी (Immunomodulatory- इम्यून सिस्टम में सुधार करने वाला) और एंटीट्यूमर गतिविधियों को बढ़ाकर प्रतिरक्षा प्रणाली में सुधार करने में सहायक हो सकता है (7)। इसके अलावा, अध्ययनों से यह भी पता चलता है कि इलायची में एंटीऑक्सिडेंट गुण है, जो शरीर में प्राकृतिक एंटीऑक्सीडेंट ग्लूटाथियोन (Glutathione) को बढ़ा सकता है। साथ ही इम्यून पावर में सुधार कर सकता है (4)।

वहीं, यह लगभग हर किसी को पता है कि इम्यून पावर में सुधार करने के लिए सालों से लोग घरेलू उपाय के तौर पर हल्दी-दूध का सेवन करते आ रहे हैं (8)। हमने पहले ही जानकारी दी है कि गाय के दूध में लैक्टोफेरिन (Lactoferrin) नाम का प्रोटीन होता है। यह एंटीवायरल गुण को प्रदर्शित कर इम्यून सिस्टम को सुधारने और इम्यूनिटी बेहतर बनाने के लिए उपयोगी हो सकता है (9)। रिसर्च में यह भी पुष्टि हुई है कि गाय के कच्चे दूध के सेवन से एलर्जी, अस्थमा और श्वास तंत्र संक्रमण से बचाव हो सकता है (10)। ऐसे में रोग प्रतिरोधक क्षमता को सुधारने के लिए इलायची और दूध को अपनी डाइट में शामिल करना अच्छा विकल्प हो सकता है।

4.गैस्ट्रिक की समस्या से बचाव

गैस्ट्रिक की समस्या में भी इलायची और दूध का उपयोग फायदेमंद हो सकता है। एक रिसर्च के अनुसार इलायची में गैस्ट्रो प्रोटेक्टिव गुण (Gastro protective) पाया जाता है जो गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल रोगों (Gastrointestinal disorders) से बचाव कर सकता है (11)। इतना ही नहीं, इलायची का सेवन पाचन क्रिया में सुधार करने के साथ-साथ सीने में जलन, दस्त, अपच की समस्या से भी बचाव सकता है (4)। वहीं, एनसीबीआई की वेबसाइट पर प्रकाशित एक रिसर्च के मुताबिक, जानवरों पर हुए डेयरी प्रोडक्ट के शोध में भी इस बात की पुष्टि की गई है, कि दूध में भी गैस्ट्रो प्रोटेक्टिव प्रभाव होता है, जो गैस्ट्रिक की समस्या में फायदेमंद हो सकता है (12)। ऐसे में पाचन क्रिया को स्वस्थ रखने के लिए और गैस्ट्रिक की परेशानी से बचाव के लिए इलायची और दूध का उपयोगी हो सकता है।

5.त्वचा के लिए

इलायची वाला दूध पीने के फायदे त्वचा के लिए भी देखे जा सकते हैं। इलायची त्वचा संबंधी एलर्जी से बचाव कर सकती है और त्वचा की रंगत में निखार ला सकती है। इतना ही नहीं यह त्वचा को गहराई से साफ करने में भी सहायक हो सकती है (4)। वहीं, दूध त्वचा को हाइड्रेट करने के साथ-साथ ब्लैकहेड्स और वाइटहेड्स को कम कर त्वचा को चमकदार बना सकता है (13)। इस आधार पर मान सकते हैं कि अगर दूध और इलायची को एक साथ मिलाकर सेवन किया जाए तो इसकी गुणवत्ता और बढ़ सकती है, जिससे त्वचा सेहतमंद हो सकती है।

6.तनाव से छुटकारा दिलाए

दूध और इलायची का सेवन प्राकृतिक चिकित्सा के रूप में तनाव को कम करने के लिए किया जा सकता है। जानवरों पर हुए रिसर्च के अनुसार इलायची में मौजूद मेथनोलिक अर्क (Methanolic extract) तनाव की स्थिति में सुधार करने में कारगर हो सकता है (14)। वहीं, एनसीबीआई की वेबसाइट पर प्रकाशित एक रिसर्च में यह पाया गया कि रात में सोने से पहले दूध पीने से चिंता और तनाव कम करने में मदद मिल सकती है (15)। इस आधार पर मान सकते हैं कि अच्छी नींद और स्ट्रेस को कम करने के लिए रात को इलायची दूध का सेवन उपयोगी हो सकता है।

पढ़ना जारी रखें

दूध और इलायची के फायदे के बाद जानते हैं इसके उपयोग के बारे में।

दूध और इलायची का उपयोग – How to Use Milk and Cardamom in Hindi

दूध और इलायची को कई प्रकार से उपयोग किया जा सकता है। ऐसे में यहां हम दूध और इलायची के इस्तेमाल के तरीकों के बारे में जानकारी दे रहे हैं।

  • दूध और इलायची को सादा ही सेवन किया जा सकता है।
  • चीनी के स्थान पर शहद को मिलाकर भी इलायची वाला दूध पीने के फायदे हो सकते हैं।
  • सुबह नाश्ते के साथ दूध और इलायची का सेवन किया जा सकता है।
  • इलायची वाले दूध की चाय बनाकर भी पी सकते हैं।
  • इलायची दूध शहद और अदरक को भी एक साथ मिलाकर पिया जा सकता है।
  • इलायची दूध से घर में बनी मिठाई का सेवन भी कर सकते हैं।

मात्रा: रोजाना बच्चों को दो से तीन छोटा कप दूध दिया जा सकता है (16)। वहीं बड़े प्रतिदिन एक से दो गिलास (लगभग 200 एमएल) दूध का सेवन कर सकते हैं (17)। इतनी ही मात्रा में इलायची वाला दूध पीने के फायदे हो सकते हैं। हालांकि, उम्र और सेहत के हिसाब से इसकी मात्रा अलग-अलग हो सकती है, इसलिए इसकी सही मात्रा के बारे में डॉक्टर से सलाह लेना बेहतर होगा।

आगे है और जानकारी

फायदे और उपयोग के बाद जानते हैं दूध और इलायची के नुकसान के बारे में।

दूध और इलायची के नुकसान – Side Effects of Milk and Cardamom in Hindi

जहां एक ओर इलायची वाला दूध पीने के फायदे देखे गए हैं, तो वहीं अधिक मात्रा में सेवन करने पर दूध और इलायची के नुकसान भी हो सकते है। सावधानी के तौर पर यहां हम बता रहे हैं दूध और इलायची के नुकसान, जो कुछ इस प्रकार हैं:

  • इलायची का अधिक उपयोग करने पर यह डायरिया, त्वचा में जलन, जीभ में सूजन और कब्ज की समस्या का कारण बन सकती है (18)।
  • दूध में मौजूद लैक्टोज कभी-कभी पाचन को बिगाड़ सकता है, जिससे दस्त, ब्लोटिंग या गैस की समस्या हो सकती है (19)। ऐसे में जिन लोगों को लैक्टोज
  • इनटॉलेरेंस की समस्या है, उन्हें दूध से एलर्जी हो सकती है।
  • दूध का अधिक सेवन कुछ लोगों में मुहांसों की समस्या का कारण भी बन सकता है (20)।
  • इलायची के बीज में मौजूद टेरपेन के कारण त्वचा की सूजन, एलर्जी और डर्मेटाइटिस की समस्या हो सकती है (21)।

इलायची वाला दूध पीने के फायदे और नुकसान दोनों ही हो सकते हैं। वहीं, यदि सीमित मात्रा में सेवन किया जाए तो दूध और इलायची के नुकसान से बचा जा सकता है। ध्यान रहे कि दूध और इलायची के फायदे बीमारियों को दूर करने और उपचार के दौरान मदद करने में हो सकते हैं। गंभीर बीमारियों के इलाज के लिए डॉक्टर से परामर्श लेना ही फायदेमंद हो सकता है। हमारे ऐसे ही अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़े रहिए स्टाइलक्रेज की वेबसाइट से। आगे हम जानते हैं दूध और इलायची से जुड़े उन सवालों को जो अक्सर लोगों के मन में रहते हैं।

अक्सर पूछे जाने वाले सवाल

खाली पेट दूध और इलायची का सेवन करने के क्या फायदे हो सकते हैं?

खाली पेट दूध और इलायची के सेवन के फायदे के बारे में फिलहाल कोई शोध की कमी है। हालांकि, खाली पेट दूध पीने से पीएच का स्तर बढ़ सकता है, जो प्रोबायोटिक बैक्टीरिया (पाचन में सहायक बैक्टीरिया) को बिना नष्ट किए छोटी आंत तक पहुंचाने में मददगार हो सकता है (22)। हालांकि, बेहतर है खाली पेट दूध या इलायची दूध के सेवन से पहले एक बार डॉक्टरी सलाह ली जाए।

क्या मैं रोज दूध और इलायची ले सकता हूं?

हां, डॉक्टर की सलाह पर रोजाना दूध और इलायची का सेवन किया जा सकता है।

क्या मैं रात में दूध और इलायची ले सकता हूं?

रात को दूध और इलायची का सेवन कर सकते हैं या नहीं इस विषय पर शोध की कमी है। हालांकि रात को दूध पीने के फायदे जैसे कि नींद अच्छी आना और तनाव में कमी देखे गए हैं (15)। ऐसे में इस आधार पर कहा जा सकता है कि रात को दूध और इलायची का सेवन किया जा सकता है।

क्या दूध और इलायची वजन कम कर सकते हैं?

हां, हमने लेख में पहले ही जानकारी दी है कि इलायची का सेवन फैट बर्न करने में सहायक हो सकता है। वहीं, दूध में एंटी-ओबेसिटी गुण होता है (6)। ऐसे में वजन कम करने के लिए व्यायाम के साथ-साथ डाइट में लो फैट दूध के साथ इलायची का सेवन कर सकते हैं।

क्या दूध और इलायची मुंहासों की समस्या में फायदेमंद हो सकता है?

मुंहासों की समस्या को कम करने के लिए भी इलायची युक्त दूध का उपयोग किया जा सकता है। दरअसल, इलायची में एंटीमाइक्रोबियल प्रभाव होता है, जो मुंहासे पैदा करने वाले बैक्टीरिया के लिए प्रभावकारी हो सकता है (23)। वहीं दूध ब्लैकहेड्स और वाइटहेड पर असरदार होने के साथ-साथ त्वचा को हाइड्रेट करने में भी उपयोगी हो सकता है (13)। बता दें कि ब्लैकहेड्स और वाइटहेड मुंहासों के ही प्रकार हैं (24)। हालांकि, ध्यान रहे डेयरी प्रोडक्ट के अधिक सेवन से कुछ लोगों में मुंहासों की समस्या बढ़ भी सकती है (25)। ऐसे में बेहतर है इस बारे में त्वचा विशेषज्ञ की सलाह लें।

क्या यूरिन इंफेक्शन के लिए दूध इलायची का सेवन लाभकारी हो सकता है?

यूरिन इंफेक्शन के लिए दूध इलायची फायदेमंद है या नहीं, इस विषय में उचित शोध उपलब्ध नहीं है। हालांकि, इलायची में मूत्रवधक (Diuretic) गुण है, जो शरीर से अशुद्धियों को निकालने में सहायक हो सकता है। साथ ही किडनी को भी स्वस्थ रख सकता है (4)। वहीं इलायची को दही के साथ मिलाकर सेवन कर सकते हैं। दरअसल, दही प्रोबायोटिक खाद्य पदार्थों की श्रेणी में आता है जो यूरिन इंफेक्शन से बचाव या राहत दिलाने में सहायक हो सकता है (26)। वहीं, ध्यान रहे कि अगर समस्या गंभीर है तो बेहतर है इस बारे में डॉक्टर की राय ली जाए।

Sources

Articles on StyleCraze are backed by verified information from peer-reviewed and academic research papers, reputed organizations, research institutions, and medical associations to ensure accuracy and relevance. Read our editorial policy to learn more.

Was this article helpful?
The following two tabs change content below.
सरल जैन ने श्री रामानन्दाचार्य संस्कृत विश्वविद्यालय, राजस्थान से संस्कृत और जैन दर्शन में बीए और डॉ. सी. वी. रमन विश्वविद्यालय, छत्तीसगढ़ से पत्रकारिता में बीए किया है। सरल को इलेक्ट्रानिक मीडिया का लगभग 8 वर्षों का एवं प्रिंट मीडिया का एक साल का अनुभव है। इन्होंने 3 साल तक टीवी चैनल के कई कार्यक्रमों में एंकर की भूमिका भी निभाई है। इन्हें फोटोग्राफी, वीडियोग्राफी, एडवंचर व वाइल्ड लाइफ शूट, कैंपिंग व घूमना पसंद है। सरल जैन संस्कृत, हिंदी, अंग्रेजी, गुजराती, मराठी व कन्नड़ भाषाओं के जानकार हैं।

ताज़े आलेख