सामग्री और उपयोग

ड्रैगन फ्रूट के 25 फायदे, उपयोग और नुकसान – Dragon Fruit Benefits, Uses and Side Effects in Hindi

by
ड्रैगन फ्रूट के 25 फायदे, उपयोग और नुकसान – Dragon Fruit Benefits, Uses and Side Effects in Hindi Hyderabd040-395603080 September 19, 2019

फलों का सेवन सभी करते हैं, लेकिन आज हम जिस फल के बारे में बात करने जा रहे हैं, उसके बारे में शायद ही आपने कुछ पढ़ा या सुना हो। हम बात कर रहे हैं ड्रैगन फ्रूट के बारे में। बता दें इसके रंग रूप को देखते हुए ही इसे यह नाम दिया गया है। लेकिन यकीन मानिए यदि आप इसके गुणों और फायदों के बारे में जानेंगे तो खुद को इसे खाने से रोक नहीं पाएंगे। स्टाइल क्रेज के इस लेख में हम ड्रैगन फ्रूट के फायदे और इसके उपयोग के बारे में विस्तार से जानेंगे।

ड्रैगन फ्रूट के गुणों और उपयोग के बारे में जानने से पहले जरूरी होगा कि ड्रैगन फ्रूट क्या है, इस बारे में थोड़ा अच्छे से जान लें।

ड्रैगन फ्रूट क्या है – What is Dragon Fruit in Hindi

ड्रैगन फ्रूट का वैज्ञानिक नाम हिलोकेरेस अंडटस है। यह दक्षिण अमेरिका में पाया जाता है। यह एक किस्म की बेल पर लगने वाला फल है, जो कैक्टेसिया फैमिली से संबंधित है। इसके तने गूदेदार और रसीले होते हैं। खास यह है कि इसके फूल बहुत ही सुगन्धित होते हैं, जो रात में ही खिलते हैं और सुबह होने तक झड़ जाते हैं। इसके गुणों और फायदों को देखते हुए अब इसे पटाया, क्वींसलैंड, पश्चिमी ऑस्ट्रेलिया और न्यू साउथ वेल्स में भी उगाया जाने लगा है। इसका उपयोग सलाद, मुरब्बा, जेली और शेक बनाकर किया जा सकता है(1)।

ड्रैगन फ्रूट क्या है इस बारे में जानने के बाद आगे लेख में हम बात करेंगे ड्रैगन फ्रूट के फायदे के बारे में।

ड्रैगन फ्रूट के फायदे – Benefits of Dragon Fruit in Hindi

ड्रैगन फ्रूट खाने में जितना स्वादिष्ट है, उससे अधिक उसके उपयोग से होने वाले फायदे हैं। बता दें ड्रैगन फ्रूट में ऐसे ढेंरों गुणकारी पोषक तत्व पाएं जाते हैं, जिनका इस्तेमाल त्वचा, बाल और स्वास्थ्य से संबंधित कई जटिल समस्याओं से निजात पाने के लिए किया जा सकता है। ड्रैगन फ्रूट के उपयोग और उनसे होने वाले फायदों को आगे के लेख में हम विस्तार से बताएंगे।

आइए इस चमत्कारी फल के बारे में विस्तार से जानकारी हासिल करने के लिए ड्रैगन फ्रूट के फायदे पर क्रमवार नजर डालते हैं।

सेहत के लिए ड्रैगन फ्रूट के फायदे – Dragon Fruit Health Benefits in Hindi

1. ब्लड शुगर/डायबिटीज

Blood sugar diabetes Pinit

Shutterstock

ड्रैगन फ्रूट में प्राकृतिक एंटीऑक्सीडेंट के साथ-साथ बेटासानिन, फ्लेवोनोइड, फेनोलिक एसिड, एस्कॉर्बिक एसिड और फाइबर प्रचुर मात्रा में पाए जाते हैं। यह तत्व ब्लड में शुगर की मात्रा को नियंत्रित करने में सहायक साबित होते हैं(2)।

[ पढ़े: गले में खराश के कारण, लक्षण और घरेलू उपचार ]

2. दिल का रखे ख्याल

ड्रैगन फ्रूट में पाया जाने वाला एंटीऑक्सीडेंट हृदय की धमनियों (आर्टरी) की कठोरता को करने का काम करते हैं, जिससे हार्ट अटैक का खतरा काफी हद तक कम हो जाता है(3)। वहीं इस फल में पाए जाने वाले डायट्री फाइबर खून में केलेस्ट्रोल की मात्रा को नियंत्रित करने के साथ-साथ दिल के जोखिमों को भी काफी हद तक कम करने का काम करते हैं(4)(5)।

3. कैंसर

शोधकर्ताओं के मुताबिक ड्रैगन फ्रूट में एंटीट्यूमर, एंटीऑक्सीडेंट और एंटी इन्फ्लामेट्री गुण देखे गए हैं। साथ ही इस पर किये गए प्रयोग में यह भी पाया गया कि ड्रैगन फ्रूट में पाए जाने वाले ये खास गुण महिलाओं में होने वाले ब्रेस्ट कैंसर के प्रभाव को काफी हद तक कम कर सकते हैं(6)।

4. कोलेस्ट्रोल

ड्रैगन फ्रूट का नियमित सेवन खून में कोलेस्ट्रॉल की मात्रा को संतुलित करने में सहायक है। एक वैज्ञानिक शोध में इस बात का पता चला है कि ड्रैगन फ्रूट में पाया जाने वाला डायट्री फाइबर कोलेस्ट्रॉल को नियंत्रित कर सकता है। साथ ही यह दिल के खतरे को भी काफी हद तक कम करने में कारगर साबित होता है(4)(5)।

5. वजन घटाने में मददगार

Helpful in weight loss Pinit

Shutterstock

अपने डाइट प्लान में ड्रैगन फ्रूट को शामिल करना एक बेहतर विकल्प साबित हो सकता है। कारण यह है कि इसमें कैलोरी काफी कम मात्रा में पाई जाती है। वहीं पानी और फाइबर का यह एक अच्छा स्रोत है(5)। इस कारण इसके सेवन से पाचन क्रिया बेहतर होती है और लंबे समय तक भूख का एहसास नहीं होता (7)। ड्रैगन फ्रूट का यही खास गुण इसे वजन घटाने में मददगार बना सकता है।

6. पेट की समस्याएं

पेट संबंधी समस्याएं (जैसे- पाचन और कब्ज) में ड्रैगन फ्रूट का इस्तेमाल काफी हद तक मददगार साबित हो सकता है। दरअसल इसमें पाए जाने वाले डायट्री फाइबर डाइजेस्टिव जूस के बनने की प्रक्रिया को तेज कर पाचन प्रक्रिया में सुधार लाते हैं। वहीं इसमें पाया जाने वाला यह गुण कब्ज की शिकायत को भी दूर करने में लाभकारी सिद्ध होता है(8)।

7. आर्थराइटिस

आर्थराइटिस यानी जोड़ों में दर्द की समस्या में भी ड्रैगन फ्रूट का इस्तेमाल फायदेमंद साबित हो सकता है। विशेषज्ञों की मानें तो इस चमत्कारी फल में पाए जाने वाले पोषक तत्व और एंटी इंफ्लेमेटरी गुण आर्थराइटिस की समस्या में काफी मददगार साबित होते हैं। वहीं इसमें मौजूद फाइबर वजन घटाने में सहायक होते हैं, जो आर्थराइटिस का एक कारक माना जा सकता है(8)।

8. प्रतिरोधक क्षमता (इम्यूनिटी) को बढ़ाता है

विशेषज्ञों के मुताबिक ड्रैगन फ्रूट में पाए जाने वाले एंटीऑक्सीडेंट और एंटी टॉक्सिक गुण शरीर में रोगों से लड़ने की क्षमता को बढ़ाने में लाभकारी साबित हो सकते हैं। इसलिए ऐसा कहा जा सकता है कि नियमित आहार में ड्रैगन फ्रूट का इस्तेमाल शरीर की प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ावा देने में कारगर सिद्ध हो सकता है(9)।

9. गर्भावस्था में फायदेमंद

गर्भावस्था के दौरान ड्रैगन फ्रूट का सेवन अत्यंत लाभकारी सिद्ध हो सकता है। कारण यह है कि इस दौरान महिला को अधिक मात्रा में ऊर्जा और पोषक तत्वों की आवश्यकता होती है, जो कि ड्रैगन फ्रूट में प्रचुर मात्रा में पाए जाते हैं। खास यह है इसमें पाया जाने वाला आयरन और नियासिन (विटामिन-बी 3) गर्भावस्था के दौरान अत्यधिक जरूरी होता है। बता दें इनकी कमी से गर्भवती को एनीमिया का खतरा हो सकता है(10)(5)।

10. हड्डियों और दांतों को करता है मजबूत

Bones and teeth are strong Pinit

Shutterstock

ड्रैगन फ्रूट हड्डियों और दांतों को मजबूती प्रदान करने में सहायक साबित होता है। इसकी मुख्य वजह है इसमें पाए जाने वाले कैल्शियम और फास्फोरस की प्रचुर मात्रा। कैल्शियम और फास्फोरस का अच्छा स्रोत होने के कारण इसका इस्तेमाल हड्डियों और दांतों के लिए लाभकारी साबित हो सकता है(11)।

11. डेंगू में लाभकारी

ड्रैगन फ्रूट का इस्तेमाल डेंगू जैसी गंभीर बीमारी में भी फायदेमंद साबित हो सकता है। इसके पीछे की वजह है, इसमें पाए जाने वाले एंटीऑक्सीडेंट गुण। इसमें मौजूद एंटीऑक्सीडेंट शरीर में प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ावा देते हैं। इस कारण प्लेटलेट्स काउंट(डब्लूबीसी) भी बढ़ता है। वहीं दूसरी ओर इसमें प्रचुर मात्रा में फाइबर्स, आयरन, कैल्शियम, मैग्नीशियम और विटामिन-सी जैसे तत्व पाए जाते हैं, जो शरीर को पुनर्जीवित करने में सहायक सिद्ध होते हैं(5)(12)।

12. शारीरिक कोशिकाओं की मरम्मत

शारीरिक कोशिकाओं की मरम्मत (रिपेयर बॉडी सेल्स) करने के मामले में ड्रैगन फ्रूट का उपयोग बेहद फायदेमंद साबित हो सकता है। बता दें ड्रैगन फ्रूट विटामिन सी का एक अच्छा स्रोत है। विटामिन सी एक एंटीऑक्सीडेंट भी है, जो फ्री रेडिकल्स से कोशिकाओं को होने वाले नुकसान से बचाता है(5)(13)। इसलिए ऐसा कहा जा सकता कि ड्रैगन फ्रूट का उपयोग कोशिकाओं की मरम्मत में लाभकारी परिणाम दे सकता है।

13. श्वसन विकार में लाभकारी

शोधकर्ताओं के मुताबिक ड्रैगन फ्रूट में कुछ ऐसे तत्व पाए जाते हैं, जिनके नियमित इस्तेमाल से अस्थमा (एक श्वसन संबंधी विकार) जैसी गंभीर बीमारी से निजात पाई जा सकती है(14)(11)।

14. हीमोग्लोबिन को बढ़ाता है

जैसा कि आपको लेख में पहले भी बताया जा चुका है कि ड्रैगन फ्रूट में प्रचुर मात्रा में आयरन पाया जाता है। आयरन खून में हीमोग्लोबिन की मात्रा को बढ़ाने का मुख्य स्रोत है। इसलिए यह कहा जा सकता है कि ड्रैगन फ्रूट का उपयोग करके शरीर में हीमोग्लोबिन की कमी को पूरा किया जा सकता है(10)।

15. कोग्निटल ग्लूकोमा में है मददगार

बता दें ड्रैगन फ्रूट में विटामिन ए और सी प्रचुर मात्रा में पाए जाते हैं, जो ग्लूकोमा (आंखों से संबंधित रोग) को दूर करने की क्षमता रखते हैं(5)(15)। इस लिहाज से ऐसा माना जा सकता है कि इसका उपयोग कोग्निटल ग्लूकोमा (जन्मांधत) में सहायक साबित हो सकता है। दरअसल आंखों का यह विकार लिवर से संबंधित साइटोक्रोम P450 के कारण होता है। हालांकि इस संबंध में ड्रैगन फ्रूट पर किए गए शोध में इस बात की पूरी तरह से पुष्टि नहीं हो पाई है(16)। इस पर अभी और शोध की आवश्यकता है।

16. भूख बढ़ाता है

लेख में आपको पहले ही बताया जा चुका है कि ड्रैगन फ्रूट में पाए जाने वाले डायट्री फाइबर्स पेट संबंधी विकारों जैसे- पाचन क्रिया और कब्ज जैसी समस्याओं को दूर करने में कारगर सिद्ध होते हैं(8)। वहीं इसमें पाया जाने वाला विटामिन बी-2 शरीर में मल्टीविटामिन की तरह काम करता है। जो भूख में सुधार करने में सक्षम है(11)।

[ पढ़े: भूख बढ़ाने के 12 घरेलू उपाय ]

17. दृष्टि में सुधार

Improving vision Pinit

Shutterstock

लेख में आपको पहले ही बताया जा चुका है कि इसमें पाए जाने वाले कुछ खास तत्व ग्लूकोमा को दूर करने में सहायक हैं। वहीं इसमें पाया जाने वाला विटामिन बी-3 आंखों की रोशनी बढ़ाने में मददगार साबित होता है(11)।

18. दिमागी कार्यक्षमता को बढ़ाता है

ड्रैगन फ्रूट में एंटी-ऑक्सीडेशन, एंटी-फ्री रेडिकल और एंटी-एजिंग प्रभावों के साथ प्रचुर मात्रा में आयरन, विटामिन ई और एंथोसायनिन पाया जाता है। इसमें पाए जाने वाले यह सभी तत्व दिमाग की कोशिकाओं को समृद्ध बनाते हैं और उनके खराब होने की आशंकाओं को काफी हद तक कम करने में कारगर साबित होते हैं। इस कारण इसका सेवन डिमेंशिया जैसी गंभीर मानसिक बीमारी में भी लाभकारी साबित हो सकता है(17)(18)।

सेहत संबंधी ड्रैगन फ्रूट के फायदे जानने के बाद अब हम जानेंगे कि त्वचा के लिए यह कितना लाभकारी है।

त्वचा के लिए ड्रैगन फ्रूट के फायदे – Skin Benefits of Dragon Fruit in Hindi

1. त्वचा को जवां बनाए

ड्रैगन फ्रूट में विटामिन बी और सी पाए जाते हैं, जो त्वचा के लिए काफी लाभदायक माने जाते हैं(8)। वहीं एक रिसर्च में शोधकर्ताओं ने पाया कि विटामिन सी त्वचा के खिंचाव और तनाव को बरकरार रखने में कारगर साबित होते हैं। साथ ही इस बात का भी दावा किया गया कि इसका उपयोग त्वचा पर बढ़ती उम्र के प्रभाव में भी सहायक साबित होता है(19)। त्वचा संबंधी विकारों को दूर करने के लिए इसका उपयोग आहार के साथ-साथ फेस पैक के रूप में किया जा सकता है।

2. सनबर्न को रोकने में मददगार

ड्रैगन फ्रूट में विटामिन बी-3 भरपूर मात्रा में पाया जाता है। विशेषज्ञों का मानना है कि विटामिन बी-3 का उपयोग न केवल त्वचा को चमकदार और जवां बनाता है, बल्कि यह सनबर्न में भी काफी मददगार साबित होता है। इसका उपयोग आप फेसपैक या लोशन के रूप में कर सकते हैं। ड्रैगन फ्रूट से बने फेसपैक को आप चेहरे पर लगाएं और कुछ समय बाद ठंडे पानी से धो डालें। सनबर्न के साथ-साथ सूरज से निकलने वाली हानिकारक अल्ट्रा वायलेट किरणों से भी यह आपकी त्वचा की रक्षा करने में सहायक साबित होगा(5)(20)।

3. मुंहासों से दिलाए छुटकारा

ड्रैगन फ्रूट के फायदे में मुहासों से छुटकारा पाना भी शामिल है। कारण है इसमें पाया जाने वाला विटामिन सी। विशेषज्ञों के मुताबिक विटामिन सी त्वचा संबंधी सभी विकारों से निजात दिलाने में कारगर साबित होता है। इसलिए ऐसा माना जा सकता है कि इसके प्रयोग से मुंहासों से भी छुटकारा पाया जा सकता है। इसका उपयोग आप फेसपैक के रूप में कर सकते हैं। वहीं ड्रैगन फ्रूट क्रीम का भी इस्तेमाल किया जा सकता है(5)(21)।

4. मॉइस्चराइजर के रूप में

ड्रैगन फ्रूट क्रीम और फेसपैक का इस्तेमाल मॉइस्चराइजर के रूप में भी किया जा सकता है। इसमें पाया जाने वाला विटामिन बी-3 ड्राई स्किन को नमी प्रदान कर उसे चमकदार बनाने में मददगार साबित हो सकता है(11)।

5. संपूर्ण त्वचा की देखभाल

Whole Skin Care Pinit

Shutterstock

जैसा कि आपको लेख में पहले ही बताया जा चुका है कि ड्रैगन फ्रूट में विटामिन सी पाया जाता है और विटामिन सी त्वचा की चमक-दमक बरकरार रखने के साथ मुंहासे, सनबर्न जैसी त्वचा समस्या को दूर कर सकता है। साथ ही यह त्वचा को मॉइस्चराइज करने का काम भी कर सकता है। वहीं ड्रैगन फ्रूट के फायदे में पूरे शरीर की त्वचा की देखभाल भी शामिल है। ड्रैगन फ्रूट से बनी क्रीम को आप चेहरे, गर्दन और शरीर के अन्य हिस्सों पर प्रयोग कर सकते हैं(5)(21)।

त्वचा संबंधी ड्रैगन फ्रूट की जानकारी जानने के बाद अब हम बात करेंगे बालों से संबंधित इसके फायदों के बारे में।

बालों के लिए ड्रैगन फ्रूट के फायदे – Hair Benefits of Dragon Fruit in Hindi

बालों के फायदे के बारे में बात करें तो ड्रैगन फ्रूट की जानकारी और इसके अनगिनत फायदों में बालों का पोषण और विकास भी छिपा हुआ है। दरअसल शोधकर्ताओं का मानना है कि बालों के बेहतर स्वास्थ्य के लिए विटामिन ए और विटामिन ई मुख्य भूमिका निभाते हैं। मालूम हो कि यह दोनों ही विटामिन ड्रैगन फ्रूट में प्रचुर मात्रा में पाए जाते हैं। इसलिए यह कहा जा सकता है कि ड्रैगन फ्रूट का उपयोग बालों से संबंधित सभी प्रकार की समस्याओं का निदान कर सकता है(19)(22)।

1. कलर्ड हेयर की देखभाल

जब बालों को रंगने के लिए आप तरह-तरह के रंगों और केमिकल्स का प्रयोग करते हैं तो यह आपके बालों को काफी नुकसान पहुंचाते हैं। केमिकल युक्त रंगों का लगातार उपयोग बालों को रूखा और बेजान बना सकता है। इस समस्या से निजात पाने के लिए आप ड्रैगन फ्रूट का इस्तेमाल कर सकते हैं। ड्रैगन फ्रूट की जानकारी में इस बात का भी जिक्र मिलता है कि इसमें मौजूद पोषक तत्व और विटामिन ए, बी, सी की उपलब्धता इस समस्या से निपटने में आपकी मदद कर सकते हैं(5)(23)।

विधि

  • ड्रैगन फ्रूट के पल्प को निकाल कर उसे अच्छी तरह मिक्स करें।
  • इस मिश्रण को बालों पर लगाएं और 15 से 20 मिनट के लिए ऐसे ही छोड़ दें।
  • समय पूरा होने पर बालों को धो डालें।
  • इस प्रक्रिया को हफ्ते में एक बार दोहराएं।

2. बालों के संपूर्ण स्वास्थ्य को बढ़ावा देता है

ड्रैगन फ्रूट की जानकारी में इस बात का पहले ही पता चल चुका है कि यह फल पोषक तत्वों का भंडार है, जिससे इनकार नहीं किया जा सकता। इसमें आयरन, विटामिन सी, विटामिन ए के साथ एंथोसायनिन पाया जाता है। साथ ही इसमें एंटी-ऑक्सीडेशन और एंटी-फ्री रेडिकल प्रभाव भी मौजूद होते हैं। इन सभी गुणों की उपस्थिति के कारण ड्रैगन फ्रूट को बालों के संपूर्ण स्वास्थ्य के लिए लाभकारी माना जा सकता है। बालों के बेहतर स्वास्थ्य के लिए इसे खाने के साथ इसके द्वारा बनाए गए हेयर पैक का इस्तेमाल भी किया जा सकता है, जिसके बारे में आपको पहले ही बताया जा चुका है(5)(8)।

अब बात करते हैं ड्रैगन फ्रूट में पाए जाने वाले पोषक तत्वों के बारे में।

ड्रैगन फ्रूट के पौष्टिक तत्व – Dragon Fruit Nutritional Value

ड्रैगन फ्रूट में पाए जाने वाले सभी पोषक तत्वों के बारे में विस्तार से जानने के लिए दी गई सारणी को ध्यान से देखें(5)।

पोषक तत्वयूनिटमात्रा प्रति 100g
एनर्जीKcal60
प्रोटीनg1.18
टोटल लिपिड (फैट)g0.00
कार्बोहाइड्रेटg12.94
फाइबर, टोटल डायट्रीg2.9
शुगरg7.65
मिनरल्स
कैल्सियमmg18
आयरनmg0.74
मैग्नीशियमmg40
सोडियमmg0
विटामिन्स
विटामिन सी, टोटल एस्कोर्बिक एसिडmg2.5
थियामिनmg0.000
राइबोफ्लेविनmg0.100
नियासिनmg0.353
विटामिन एIU59
लिपिड्स
फैटी एसिड, टोटल सैचुरेटेडg0.000
कोलेस्ट्रोलmg0

आगे लेख में हम बात करेंगे ड्रैगन फ्रूट के उपयोग के बारे में।

ड्रैगन फ्रूट का उपयोग – How to Use Dragon Fruit in Hindi

ड्रैगन फ्रूट कैसे खाये इस बारे में बात की जाए तो इसके सेवन के कई तरीके हैं(1)(24)।

  • इसे सीधे काटकर खाया जा सकता है।
  • इसे ठंडा करके भी खाया जा सकता है।
  • इसे फ्रूट चाट या सलाद के रूप में भी इस्तेमाल किया जा सकता है।
  • मुरब्बा या जेली बनाकर भी इसका उपयोग किया जा सकता है।
  • आप शेक बनाकर भी इसका सेवन कर सकते हैं।

मात्रा – ड्रैगन फ्रूट कैसे खाये यह जानने के बाद अब बात आती है इसकी मात्रा की। बता दें इस फल की एक बड़ी आधी फांक एक बार में खाई जा सकती है।

समय– सुबह नाश्ते में इसका शेक या शाम को स्नैक्स टाइम में फ्रूट चाट के रूप में इसका उपयोग किया जा सकता है।

ड्रैगन फ्रूट कैसे खाये इस संबंध में जानकारी हासिल करने के बाद हम बात करेंगे इसके चयन और इसे लंबे समय तक सुरक्षित रखने के बारे में।

ड्रैगन फ्रूट का चयन कैसे करें और लंबे समय तक सुरक्षित कैसे रखें?

आइए अब ड्रैगन फ्रूट के संरक्षण और इसके चयन से जुड़ी कुछ अहम् बाते जान लेते हैं(1)।

  • ड्रैगन फ्रूट का चुनाव– ड्रैगन फ्रूट का चुनाव करते समय हमें फल के रंग का विशेष ध्यान रखना चाहिए। साथ ही यह भी देखना चाहिए कि फल पर किसी प्रकार का कोई दाग या धब्बा न हो। कारण यह है कि ड्रैगन फ्रूट को कई तरह के कीट और फसल संबंधित बीमारियां नुकसान पहुंचा सकती हैं।
  • सुरक्षित कैसे करें– ड्रैगन फ्रूट को लंबे समय तक सुरक्षित रखने के लिए हमें इसे ठंडे स्थान पर रखना चाहिए। विशेषज्ञों के मुताबिक 7 से 10 डिग्री सेल्सियस और 90% से 98% आर्द्रता वाले स्थान पर रख कर इसे करीब 3 महीने के लिए सुरक्षित किया जा सकता है।

फायदों और उपयोगों को समझने के बाद अब समय है ड्रैगन फ्रूट से होने वाले नुकसान जानने का।

ड्रैगन फ्रूट के नुकसान – Side Effects of Dragon Fruit in Hindi

हालांकि ड्रैगन फ्रूट से संबंधित अभी तक कोई खास नुकसान सामने नहीं आए हैं, फिर भी हर चीज के कुछ न कुछ बुरे पहलू भी होते है। ऐसा ही कुछ हमारे चमत्कारी गुणों वाले ड्रैगन फ्रूट के साथ भी है। आइए कुछ बिन्दुओं के माध्यम से इसे थोड़ा विस्तार से समझते हैं।

  • हालांकि ड्रैगन फ्रूट को वजन घटाने में मददगार माना जाता है (जैसा आपको लेख में पहले बताया जा चुका है), लेकिन इसमें अधिक मात्रा में फ्रक्टोज पाया जाता है। इसलिए इसका जरूरत से ज्यादा उपयोग आपके वजन घटाने के रास्ते में रोड़ा बन सकता है (5)(25)।
  • वहीं इस फल की बाहरी परत (स्किन) को खाने से बचना चाहिए, क्योंकि इसमें कीटनाशक पाए जाते हैं। यह कीटनाशक आपको नुकसान पहुंचा सकते हैं। बता दें यह कीटनाशक ड्रैगन फ्रूट को कीटों से होने वाले नुकसान से बचाने के लिए डाले जाते हैं(1)।

Conclusion

अब तो आप ड्रैगन फ्रूट से अच्छी तरह से परिचित हो गए होंगे। लेख में आपको इस फल से संबंधित सभी संभव जानकारी दी जा चुकी हैं। आपको लेख में इसके उपयोग और फायदों के बारे में विस्तार से बताया गया है। वहीं आपको इस बात से भी अवगत कराया गया है कि ड्रैगन फ्रूट का इस्तेमाल किन-किन बीमारियों और समस्याओं में किया जा सकता है। साथ ही लेख में इससे होने वाले नुकसान और इस्तेमाल को भी अच्छे से समझाया गया है। तो यदि आप भी ड्रैगन फ्रूट को अपने दैनिक जीवन में अपनाने की सोच रहे हैं, तो बेहतर होगा कि लेख में इस चमत्कारी फल से संबंधित सभी आवश्यक जानकारियों को अच्छे से पढ़ लें, फिर उन्हें अमल में लाएं। आशा करते हैं कि लेख में दी गई ड्रैगन फ्रूट से जुड़ी सभी जानकारियां आपके बेहतर स्वास्थ्य के लिए मददगार साबित होंगी। इस विषय में किसी अन्य प्रकार के सुझाव और सवालों के लिए आप हमसे नीचे दिए कमेंट बॉक्स के माध्यम से जुड़ सकते हैं।

और पढ़े:

The following two tabs change content below.

Ankit Rastogi

अंकित रस्तोगी ने साल 2013 में हिसार यूनिवर्सिटी, हरियाणा से एमए मास कॉम की डिग्री हासिल की है। वहीं, इन्होंने अपने स्नातक के पहले वर्ष में कदम रखते ही टीवी और प्रिंट मीडिया का अनुभव लेना शुरू कर दिया था। वहीं, प्रोफेसनल तौर पर इन्हें इस फील्ड में करीब 6 सालों का अनुभव है। प्रिंट, टीवी और डिजिटल मीडिया में इन्होंने संपादन का काम किया है। कई डिजिटल वेबसाइट पर इनके राजनीतिक, स्वास्थ्य और लाइफस्टाइल से संबंधित कई लेख प्रकाशित हुए हैं। इनकी मुख्य रुचि फीचर लेखन में है। इन्हें गीत सुनने और गाने के साथ-साथ कई तरह के म्यूजिकल इंस्ट्रूमेंट बजाने का शौक भी हैं।

संबंधित आलेख