फालसा फल के फायदे और नुकसान – Falsa Fruit Benefits and ASide Effects in Hindi

Medically Reviewed By Neha Srivastava (Nutritionist), Nutritionist
Written by

हमारे शरीर को समय-समय पर बीमारियां और अन्य शारीरिक परेशानियां जकड़ लेती हैं। उनके इलाज के लिए हम डॉक्टर के पास अक्सर चक्कर लगाते हैं, लेकिन अगर फलों का सही तरीके से सेवन किया जाए, तो शरीर को कई बीमारियों और छोटी-छोटी स्वास्थ्य समस्याओं से बचाया जा सकता है। इसी क्रम में हम आपको आकार में मटर के दानों जैसे दिखने वाले फालसा फल के फायदे के बारे में बताएंगे। आपको इस लेख में फालसा से संबंधित हर छोटी-बड़ी जानकारी मिलेगी। फालसा फल के बारे में जानने के लिए इस आर्टिकल को आप अंत तक जरूर पढ़ें।

स्क्रॉल करें

आइए, सबसे पहले जान लेते हैं कि फालसा फल क्या है। इसके बाद हम फालसा फल खाने के फायदे के बारे में बात करेंगे।

फालसा फल क्या है? – What is Falsa Fruit in Hindi

फालसा के कई फायदे होते हैं, जो सेहत के लिए अच्छा होता है। इसके शरबत को गर्मियों के दिनों में मुख्य रूप से सेवन करना चाहिए। दरअसल,डॉक्टर की मानें, तो यह शरीर की गर्मी को कम करने का काम कर सकता है। साथ ही इलेक्ट्रोलाइट को भी संतुलित बनाए रखता है।

आगे पढ़ें

लेख के इस हिस्से में हम फालसा फल के लाभ वैज्ञानिक शोध के आधार पर बता रहे हैं।

फालसा फल के फायदे – Benefits of Falsa Fruit in Hindi

1. गठिया

फालसा फल का इस्तेमाल गठिया से संबंधित परेशानी को कम करने के लिए किया जा सकता है। दरअसल, फालसा फल में एंटीइंफ्लेमेटरी गुण होते हैं (2), जो गठिया की वजह से जोड़ों में होने वाली सूजन और दर्द को कम करने में मदद कर सकते हैं। एक शोध के मुताबिक, फालसा फल के अर्क में एंटी-अर्थराइटिस प्रभाव पाया जाता है, क्योंकि इसमें फ्लेवोनोइड्स, फेनोलिक यौगिक और विटामिन सी पाया जाता है (3)। वहीं, गठिया में फालसा पेड़ की छाल को भी इस्तेमाल में लाया जा सकता है (4)।

2. कैंसर

फालसा फल में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट्स हमारे शरीर में बतौर एंटी कैंसर एजेंट काम करते हैं। इसलिए, फालसा फल का सेवन आपको कैंसर जैसी प्राणघातक बीमारी से भी बचा सकता है। माना जाता है कि इस फल में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट्स ब्रेस्ट और लीवर कैंसर से हमारे शरीर की रक्षा कर सकते हैं (2)।

3. डायबिटीज

फालसा फल के रस में लो ग्लाइसेमिक इंडेक्स पाया जाता है, जिसकी मदद से डायबिटीज को नियंत्रित करने में मदद मिल सकती है। दरअसल, लो ग्लाइसेमिक इंडेक्स वाले खाद्य पदार्थ में मौजूद कार्बोहाइड्रेट शरीर में काफी धीरे-धीरे टूटते हैं, जिससे शरीर में ग्लूकोज लेवल एक दम से नहीं बढ़ता है। वहीं, ताजा फालसा फल में पॉलीफेनोल भी डायबिटीज के लिए लाभदायक हो सकते हैं (2)।

4. अस्थमा

अस्थमा और सांस से संबंधित अन्य समस्याओं के इलाज में फालसा फल के जूस को सहायक पाया गया है (5)। फालसा फल में मौजूद फाइटोकेमिकल्स कंपाउंड श्वास संबंधी परेशानियों को कम कर सकता है। खासकर, फालसा के गर्म जूस का अदरक और काले नमक के साथ सेवन श्वास संबंधी परेशानी को दूर करने में फायदेमंद माना जाता है (6)।

5. मजबूत हड्डियां

फालसा फल कैल्शियम से समृद्ध होता है, जिसकी वजह से इसे हड्डी स्वास्थ्य के लिए अच्छा माना जाता है। यह हड्डियों को मजबूत करने के साथ ही हड्डियों के घनत्व यानी डेंसिटी को बढ़ाने में भी मदद कर सकता है (5)।

6. हृदय

फालसा फल में मौजूद फाइबर आपको हृदय संबंधी (कार्डियोवसकुलर) रोगों से बचाने में मदद करता है। फालसा फल और जूस में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट भी हृदय से संबंधित बीमारियों से लड़ने में सहायक साबित हो सकते हैं। यह लो ग्लाइसेमिक इंडेक्स वाला खाद्य पदार्थ है, जो कोरोनरी हृदय रोग और मोटापे के जोखिम को कम करने में मदद करता है। साथ ही इसमें पोटेशियम की भी अच्छी मात्रा होती है, जो रक्तचाप को नियंत्रित रखने का काम कर सकता है (6)।

7. पेट दर्द

पेट दर्द होने पर भी फालसा फल के सेवन की सलाह दी जाती है। दरअसल, इसमें फाइबर भरपूर मात्रा में पाया जाता है, जो पेट दर्द में राहत पहुंचा सकता है। इसलिए, फालसा फल या इसके जूस का सेवन करने से पेट दर्द से राहत मिल सकती है (5)। इसके साथ ही फालसा फ्रूट अपने कूलिंग एजेंट और भूख बढ़ाने व पाचन में सहायक माना जाता है (7)। ऐसे में अगर आपका कभी पेट दर्द शरीर की गर्मी या अपच से हो रहा है, तो ऐसी स्थिति में भी फालसा उसे ठीक करने में मदद कर सकता है।

8. डायरिया

फालसा फल का सेवन डायरिया में लाभदायक माना जाता है (2) वहीं, फालसा के पेड़ की छाल का इस्तेमाल दस्त रोकने के लिए किया जाता रहा है (7)। दरअसल, फालसा में पोटैशियम भरपूर मात्रा में पाया जाता है, जो डायरिया में राहत दिलाने में मदद कर सकता है (8)।

9. घाव

फालसा आपके घाव भरने में भी मदद करता है। ध्यान देने वाली बात यह है कि फालसा की पत्तियों को घाव और एक्जिमा को ठीक करने के लिए इस्तेमाल कर सकते हैं। फालसा की पत्तियों को पीसकर त्वचा पर लगाएं और कुछ मिनट के लिए छोड़ दें, ताकि वो अपना काम कर सकें (5)। वहीं, फालसा में विटामिन-सी पाया जाता है, जो घाव भरने में सहायक माना जाता है। इसलिए, ऐसा कहा जा सकता है कि घावों पर इसकी पत्तियों का लेप और इसका सेवन दोनों तरीके से इस समस्या से राहत दिलाने में सहायक साबित हो सकते हैं (2)।

10. एनीमिया

फालसा फ्रूट में आयरन भरपूर होता है, इसलिए इसके सेवन से एनीमिया के इलाज में मदद मिल सकती है। इसमें मौजूद आयरन आपके शरीर की लाल रक्त कोशिकाओं को बनाने में मदद कर सकता है, जिसकी कमी की वजह से एनीमिया होता है। एनीमिया की वजह से थकान और अन्य स्वास्थ्य समस्याएं भी हो सकती हैं (5)।

फालसा खाने के ये फायदे तो आप जान गए हैं। अब आगे फालसा फल के उपयोग और फालसा फल के नुकसान के बारे में हम आपको बताएंगे। उससे पहले एक नजर फालसा फल के पोषक तत्वों पर डाल लेते हैं।

आगे पढ़ें

अब जानिए फालसा फल में मौजूद पोषक तत्व और उसके मूल्य के बारे में।

फालसा फल के पौष्टिक तत्व – Falsa Fruit Nutritional Value in Hindi

फालसा फल के फायदे जानने के बाद अब बात करते हैं इसमें मौजूद पौष्टिक तत्वों की। नीचे दिए गए टेबल में देखें प्रति 100 ग्राम फालसा फल में कितनी मात्रा में पोषक तत्व मौजूद होते हैं (6)।

पोषक तत्वमात्रा प्रति 100 ग्राम
कैलोरी (ऊर्जा)72 kcal
कुल फैट0.1g
कार्बोहाइड्रेट21.1g
ऐश1.1g
फाइबर5.53g
कैल्शियम136mg
आयरन1.08mg
फास्फोरस24.2mg
पोटैशियम372mg
सोडियम17.3mg
विटामिन-बी10.02mg
विटामिन-बी20.264mg
विटामिन-बी30.825mg
विटामिन – सी22 mg
विटामिन-ए16.11mg

इतने पोषक तत्वों के मौजूद होने के बाद भी फालसा फल के नुकसान हमारे शरीर को उठाने पड़ सकते हैं। आपको फालसा फल के नुकसान से पहले इसके उपयोग के बारे में बता देते हैं।

फालसा फल का उपयोग – How to Use Falsa Fruit in Hindi

फालसा फल को आप अपने आहार में कई तरीके से शामिल कर सकते हैं। इन्हीं में से कुछ फायदेमंद और झटपट तरीकों के बारे में हम नीचे बात करेंगे।

  • सबसे आसान तरीका तो फालसा को सीधे फल की तरह खाना है। ये इतने छोटे और नरम होते हैं कि एक दम आपके मुंह में घुल जाएंगे।
  • इसका आप शरबत बनाकर भी इस्तेमाल कर सकते हैं। इसमें थोड़ा-सा नींबू और पुदीना स्वाद के लिए मिलाया जा सकता है।
  • फालसा के जूस में हल्का-सा गुलाब भी मिलाया जा सकता है (5)।
  • आप फालसा को फ्रूट सलाद में मिक्स करके खा सकते हैं।
  • इसका इस्तेमाल आप आइसक्रीम, मीठा ब्रेड और अन्य पदार्थों के लिए मीठा सिरप बनाने के लिए भी कर सकते हैं (5)।
  • आप फालसा को कभी भी अपने आहार में संयमित मात्रा में शामिल कर सकते हैं।

फालसा फल के बारे में आप ऊपर दी गई जानकारी के माध्यम से काफी कुछ जान चुके हैं। बस अब जरूरत है, तो फालसा फल के नुकसान जानने की, क्योंकि किसी भी फल का सेवन करते समय उसके दुष्प्रभाव आपको पता होने चाहिए, ताकि उसी हिसाब से फल का सेवन किया जाए।

फालसा फल के नुकसान – Side Effects of Falsa Fruit in Hindi

फालसा खाने के फायदे जानने के बाद अब इसके नुकसान के बारे में बात कर लेते हैं, जो इस प्रकार हैं (2) (9) :

  • फालसा में एंटी-हाइपरग्लाइसेमिक गतिविधि पाई जाती है, जिसकी वजह से ब्लड ग्लूकोज लेवल कम होता है। ऐसे में इसके अधिक सेवन से आपको हाइपरग्लाइसेमिक (लो ग्लूकोज लेवल) की परेशानी हो सकती है ।
  • आपको अगर फालसा में मौजूद किसी भी पोषक तत्व से एलर्जी है, तो आपके शरीर में इसका दुष्प्रभाव नजर आ सकता है।
  • जैसा कि हम आपको बता चुके हैं कि फालसा फल में काफी कैल्शियम होता है, ऐसे में इसे ज्यादा खाने से आपके शरीर में कैल्शियम की मात्रा ज्यादा होने की आशंका रहती है। इससे आपको हाइपरलकसीमिया हो सकता है। हाइपरलकसीमिया की वजह से आपकी किडनी पर असर पड़ सकता है।

क्या कभी आपने सोचा था, बचपन में स्कूल के बाहर टोकरी में बिकने वाले ये फालसा फल सेहत के लिए इतने लाभदायक हो सकते हैं? इस गुणकारी फल के चमत्कारी फायदे जानने के बाद अब आप इसे अपने आहार में जरूर शामिल करना चाहेंगे। वैसे तो फालसा फल के बारे में आप इस आर्टिकल की मदद से काफी कुछ जान चुके होंगे। आपकी बचपन की यादों से जुड़े फालसा फल के फायदे के बारे में अपने दोस्तों और प्रियजनों को बताने के लिए इस आर्टिकल को उनके साथ जरूर शेयर करें।

संदर्भ (Sources)

Stylecraze has strict sourcing guidelines and relies on peer-reviewed studies, academic research institutions, and medical associations. We avoid using tertiary references. You can learn more about how we ensure our content is accurate and current by reading our editorial policy.

और पढ़े:

Was this article helpful?
The following two tabs change content below.

Neha Srivastava (Nutritionist)

(Nutritionist)
Neha Srivastava - Nutritionist M.Sc -Life Science PG Diploma in Dietetics & Hospital Food Services. I am a focused health... more

ताज़े आलेख