सामग्री और उपयोग

फालसा फल के फायदे और नुकसान – Falsa Fruit Benefits and ASide Effects in Hindi

by
फालसा फल के फायदे और नुकसान – Falsa Fruit Benefits and ASide Effects in Hindi Hyderabd040-395603080 October 22, 2019

हमारे शरीर को समय-समय पर बीमारियां और अन्य शारीरिक परेशानियां जकड़ लेती हैं। उनके इलाज के लिए हम डॉक्टर के पास अक्सर चक्कर लगाते हैं, लेकिन अगर फलों का सही तरीके से सेवन किया जाए, तो शरीर को कई बीमारियों और छोटी-छोटी स्वास्थ्य समस्याओं से बचाया जा सकता है। इसी क्रम में हम आपको आकार में मटर के दानों जैसे दिखने वाले फालसा फल के फायदे के बारे में बताएंगे। आपको इस लेख में फालसा से संबंधित हर छोटी-बड़ी जानकारी मिलेगी। फालसा फल के बारे में जानने के लिए इस आर्टिकल को आप अंत तक जरूर पढ़ें।

आइए, सबसे पहले जान लेते हैं कि फालसा फल क्या है। इसके बाद हम फालसा फल खाने के फायदे के बारे में बात करेंगे।

फालसा फल क्या है? – What is Falsa Fruit in Hindi

फालसा फल की पैदावार गर्मियों में होती है। यह छोटे आकार का फल होता है, जो कच्चा होने पर हरा और पकने के बाद बैंगनी, लाल और गहरे-बैंगनी रंग का दिखता है। इसकी खेती मुख्य रूप से पंजाब और मुंबई के आसपास की जाती है। इसका स्वाद कुछ-कुछ अंगूर से मिलता-जुलता होता है, यानी इसे स्वाद में खट्टा-मिट्ठा कहा जा सकता है। फालसा फल का वैज्ञानिक नाम ग्रेविआ एशियाटिक (Grewia asiatica) है (1)। आइए, आगे फालसा फल के फायदे के बारे में जानते हैं।

फालसा फल के फायदे – Benefits of Falsa Fruit in Hindi

1. गठिया

Arthritis Pinit

iStock

फालसा फल का इस्तेमाल गठिया से संबंधित परेशानी को कम करने के लिए किया जा सकता है। दरअसल, फालसा फल में एंटीइंफ्लेमेटरी गुण होते हैं (2), जो गठिया की वजह से जोड़ों में होने वाली सूजन और दर्द को कम करने में मदद कर सकते हैं। एक शोध के मुताबिक, फालसा फल के अर्क में एंटी-अर्थराइटिस प्रभाव पाया जाता है, क्योंकि इसमें फ्लेवोनोइड्स, फेनोलिक यौगिक और विटामिन सी पाया जाता है (3)। वहीं, गठिया में फालसा पेड़ की छाल को भी इस्तेमाल में लाया जा सकता है (4)।

2. कैंसर

फालसा फल में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट्स हमारे शरीर में बतौर एंटी कैंसर एजेंट काम करते हैं। इसलिए, फालसा फल का सेवन आपको कैंसर जैसी प्राणघातक बीमारी से भी बचा सकता है। माना जाता है कि इस फल में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट्स ब्रेस्ट और लीवर कैंसर से हमारे शरीर की रक्षा कर सकते हैं (2)।

3. डायबिटीज

फालसा फल के रस में लो ग्लाइसेमिक इंडेक्स पाया जाता है, जिसकी मदद से डायबिटीज को नियंत्रित करने में मदद मिल सकती है। दरअसल, लो ग्लाइसेमिक इंडेक्स वाले खाद्य पदार्थ में मौजूद कार्बोहाइड्रेट शरीर में काफी धीरे-धीरे टूटते हैं, जिससे शरीर में ग्लूकोज लेवल एक दम से नहीं बढ़ता है। वहीं, ताजा फालसा फल में पॉलीफेनोल भी डायबिटीज के लिए लाभदायक हो सकते हैं (2)।

4. अस्थमा

अस्थमा और सांस से संबंधित अन्य समस्याओं के इलाज में फालसा फल के जूस को सहायक पाया गया है (5)। फालसा फल में मौजूद फाइटोकेमिकल्स कंपाउंड श्वास संबंधी परेशानियों को कम करता है। खासकर, फालसा के गर्म जूस का अदरक और काले नमक के साथ सेवन श्वास संबंधी परेशानी को दूर करने में फायदेमंद माना जाता है (6)।

5. मजबूत हड्डियां

फालसा फल कैल्शियम से समृद्ध होता है, जिसकी वजह से इसे हड्डी स्वास्थ्य के लिए अच्छा माना जाता है। यह हड्डियों को मजबूत करने के साथ ही हड्डियों के घनत्व यानी डेंसिटी को बढ़ाने में भी मदद करता है (5)।

6. हृदय

heart Pinit

iStock

फालसा फल में मौजूद फाइबर आपको हृदय संबंधी (कार्डियोवसकुलर) रोगों से बचाने में मदद करता है। फालसा फल और जूस में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट भी हृदय से संबंधित बीमारियों से लड़ने में सहायक साबित हो सकते हैं। यह लो ग्लाइसेमिक इंडेक्स वाला खाद्य पदार्थ है, जो कोरोनरी हृदय रोग और मोटापे के जोखिम को कम करने में मदद करता है (6)।

7. पेट दर्द

पेट दर्द होने पर भी फालसा फल के सेवन की सलाह दी जाती है। दरअसल, इसमें फाइबर भरपूर मात्रा में पाया जाता है, जो पेट दर्द में राहत पहुंचाने में मदद करता है। इसलिए, आप फल या इसके जूस का सेवन पेट दर्द से छुटकारा पाने के लिए कर सकते हैं (5)। इसके साथ ही फालसा फ्रूट अपने कूलिंग एजेंट और भूख बढ़ाने व पाचन में सहायक माना जाता है (7)। ऐसे में अगर आपका कभी पेट दर्द शरीर की गर्मी या अपच से हो रहा है, तो ऐसी स्थिति में भी फालसा उसे ठीक करने में मदद कर सकता है।

8. डायरिया

फालसा फल का सेवन डायरिया में लाभदायक माना जाता है (8) वहीं, फालसा के पेड़ की छाल का इस्तेमाल दस्त रोकने के लिए किया जाता रहा है (9)। दरअसल, फालसा में पोटैशियम भरपूर मात्रा में पाया जाता है, जो डायरिया में राहत दिलाने में मदद कर सकता है (10)।

9. घाव

फालसा आपके घाव भरने में भी मदद करता है। ध्यान देने वाली बात यह है कि फालसा की पत्तियों को आप घाव और एक्जिमा को ठीक करने के लिए इस्तेमाल कर सकते हैं। फालसा की पत्तियों को पीसकर त्वचा पर लगाएं और कुछ मिनट के लिए छोड़ दें, ताकि वो अपना काम कर सकें (5)। वहीं, फालसा में विटामिन-सी पाया जाता है, जो घाव भरने में सहायक माना जाता है। इसलिए, ऐसा कहा जा सकता है कि घावों पर इसकी पत्तियों का लेप और इसका सेवन दोनों तरीके से इस समस्या से राहत दिलाने में सहायक साबित हो सकते हैं (6)।

10. एनीमिया

फालसा फ्रूट में आयरन भरपूर होता है, इसलिए इसके सेवन से एनीमिया के इलाज में मदद मिल सकती है। इसमें मौजूद आयरन आपके शरीर की लाल रक्त कोशिकाओं को बनाने में मदद कर सकता है, जिसकी कमी की वजह से एनीमिया होता है। एनीमिया की वजह से थकान और अन्य स्वास्थ्य समस्याएं भी हो सकती हैं (5)।

फालसा खाने के ये फायदे तो आप जान गए हैं। अब आगे फालसा फल के उपयोग और फालसा फल के नुकसान के बारे में हम आपको बताएंगे। उससे पहले एक नजर फालसा फल के पोषक तत्वों पर डाल लेते हैं।

फालसा फल के पौष्टिक तत्व – Falsa Fruit Nutritional Value in Hindi

Falsa Fruit Nutritional Value in Hindi Pinit

Shutterstock

फालसा फल के फायदे जानने के बाद अब बात करते हैं इसमें मौजूद पोष्टिक तत्वों की। नीचे दिए गए टेबल में देखें प्रति 100 ग्राम फालसा फल में कितनी मात्रा में पोषक तत्व मौजूद होते हैं (6)।

पोषक तत्वमात्रा प्रति 100 ग्राम
प्रोटीन1.57g
कुल फैट0.1g
कार्बोहाइड्रेट21.1g
ऐश1.1g
फाइबर5.53g
कैल्शियम136mg
आयरन1.08mg
फास्फोरस24.2mg
पोटैशियम372mg
सोडियम17.3mg
विटामिन-बी10.02mg
विटामिन-बी20.264mg
विटामिन-बी30.825mg
विटामिन-सी4.385mg
विटामिन-ए16.11g

इतने पोषक तत्वों के मौजूद होने के बाद भी फालसा फल के नुकसान हमारे शरीर को उठाने पड़ सकते हैं। आपको फालसा फल के नुकसान से पहले इसके उपयोग के बारे में बता देते हैं।

फालसा फल का उपयोग – How to Use Falsa Fruit in Hindi

How to Use Falsa Fruit in Hindi Pinit

Shutterstock

फालसा फल को आप अपने आहार में कई तरीके से शामिल कर सकते हैं। इन्हीं में से कुछ फायदेमंद और झटपट तरीकों के बारे में हम नीचे बात करेंगे।

  • सबसे आसान तरीका तो फालसा को सीधे फल की तरह खाना है। ये इतने छोटे और नरम होते हैं कि एक दम आपके मुंह में घुल जाएंगे।
  • इसका आप शरबत बनाकर भी इस्तेमाल कर सकते हैं। इसमें थोड़ा-सा नींबू और पुदीना स्वाद के लिए मिलाया जा सकता है।
  • फालसा के जूस में हल्का-सा गुलाब भी मिलाया जा सकता है (5)।
  • आप फालसा को फ्रूट सलाद में मिक्स करके खा सकते हैं।
  • इसका इस्तेमाल आप आइसक्रीम, मीठा ब्रेड और अन्य पदार्थों के लिए मीठा सिरप बनाने के लिए भी कर सकते हैं (5)।
  • आप फालसा को कभी भी अपने आहार में संयमित मात्रा में शामिल कर सकते हैं।

फालसा फल के बारे में आप ऊपर दी गई जानकारी के माध्यम से काफी कुछ जान चुके हैं। बस अब जरूरत है, तो फालसा फल के नुकसान जानने की, क्योंकि किसी भी फल का सेवन करते समय उसके दुष्प्रभाव आपको पता होने चाहिए, ताकि उसी हिसाब से फल का सेवन किया जाए।

फालसा फल के नुकसान – Side Effects of Falsa Fruit in Hindi

फालसा खाने के फायदे जानने के बाद अब इसके नुकसान के बारे में बात कर लेते हैं, जो इस प्रकार हैं (6) (11) :

  • फालसा में एंटी-हाइपरग्लाइसेमिक गतिविधि पाई जाती है, जिसकी वजह से ब्लड ग्लूकोज लेवल कम होता है। ऐसे में इसके अधिक सेवन से आपको हाइपरग्लाइसेमिक (लो ग्लूकोज लेवल) की परेशानी हो सकती है ।
  • आपको अगर फालसा में मौजूद किसी भी पोषक तत्व से एलर्जी है, तो आपके शरीर में इसका दुष्प्रभाव नजर आ सकता है।
  • जैसा कि हम आपको बता चुके हैं कि फालसा फल में काफी कैल्शियम होता है, ऐसे में इसे ज्यादा खाने से आपके शरीर में कैल्शियम की मात्रा ज्यादा होने की आशंका रहती है। इससे आपको हाइपरलकसीमिया हो सकता है। हाइपरलकसीमिया की वजह से आपकी किडनी पर असर पड़ सकता है।

क्या कभी आपने सोचा था, बचपन में स्कूल के बाहर टोकरी में बिकने वाले ये फालसा फल सेहत के लिए इतने लाभदायक हो सकते हैं? इस गुणकारी फल के चमत्कारी फायदे जानने के बाद अब आप इसे अपने आहार में जरूर शामिल करना चाहेंगे। वैसे तो फालसा फल के बारे में आप इस आर्टिकल की मदद से काफी कुछ जान चुके होंगे, लेकिन अभी भी अगर फालसा को लेकर आपको कुछ पूछना या हमें बताना है, तो आप नीचे दिए गए कमेंट बॉक्स के माध्यम से हमसे जुड़ सकते हैं। आपकी बचपन की यादों से जुड़े फालसा फल के फायदे के बारे में अपने दोस्तों और प्रियजनों को बताने के लिए इस आर्टिकल को उनके साथ जरूर शेयर करें।

और पढ़े:

The following two tabs change content below.

vinita pangeni

विनिता पंगेनी ने एनएनबी गढ़वाल विश्वविद्यालय से मास कम्यूनिकेशन में बीए ऑनर्स और एमए किया है। टेलीविजन और डिजिटल मीडिया में काम करते हुए इन्हें करीब चार साल हो गए हैं। इन्हें उत्तराखंड के कई पॉलिटिकल लीडर और लोकल कलाकारों के इंटरव्यू लेना और लेखन का अनुभव है। विशेष कर इन्हें आम लोगों से जुड़ी रिपोर्ट्स करना और उस पर लेख लिखना पसंद है। इसके अलावा, इन्हें बाइक चलाना, नई जगह घूमना और नए लोगों से मिलकर उनके जीवन के अनुभव जानना अच्छा लगता है।

संबंधित आलेख