फैट बर्निंग फूड्स और उनके फायदे – 18 Most Effective Fat Burning Foods in Hindi

by

वजन कम करने के लिए खाना छोड़ना कोई उपाय नहीं है। अक्सर देखा जाता है, लोग पतले होने के लिए खाने का सेवन करना कम कर देते हैं। वहीं, कुछ अपने आहार की मात्रा में कमी कर देते हैं, लेकिन ऐसा करने से मोटापा कम नहीं होगा। इसलिए, अगर वजन घटाने की सोच रहे हैं, तो सबसे पहले यह जाने कि इसके लिए कौन से आहार का सेवन करना चाहिए। वसा कम करने वाले खाद्य पदार्थ के बहुत सारे विकल्प उपलब्ध हैं। स्टाइलक्रेज के इस लेख में हम उन्हीं खाद्य पदार्थों के बारे में बात कर रहे हैं। तो चलिए, जानते हैं कुछ ऐसे ही फैट बर्निंग फूड के बारे में।

नीचे है पूरी जानकारी

सबसे पहले हम यह जानते हैं कि फैट बर्निंग फूड होता क्या है।

फैट बर्निंग फूड क्या हैं? – What are Fat Burning Foods In Hindi

वसा को कम करने वाले खाद्य पदार्थ वे होते हैं, जिनमें फाइबर और कार्बोहाइड्रेट की मात्रा अधिक हो और वसा की मात्रा कम हो। ऐसे खाद्य पदार्थों का उपयोग वसा को कम कर कैलोरी की खपत को कम करने में मदद कर सकता है। इस प्रकार ये वजन कम करने में सहायक हो सकते हैं (1)। इसका मतलब यह बिल्कुल नहीं है कि कम कैलोरी का सेवन करने मात्र से ही शरीर के फैट को कम किया जा सकता है। इसके लिए व्यायाम करना भी बहुत जरूरी है। मोटापे को कम करने के दौरान इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि हमें कम कैलोरी का सेवन करना है और ज्यादा कैलोरी को बर्न करना है (2)

पढ़ते रहें लेख

अब आगे हम मेटाबॉलिज्म और फैट बर्निंग प्रोसेस से जुड़े फैट बर्निंग फूड्स के प्रभाव को जानेंगे।

फैट बर्निंग फूड्स मेटाबॉलिज्म और फैट बर्निंग में कैसे मदद करते हैं?

चयापचय (मेटाबॉलिज्म) वह प्रक्रिया है, जिसके तहत शरीर भोजन को पचाकर ऊर्जा बनाने का काम करता है। यही वजह है कि मेटाबॉलिज्म बढ़ाने के उपाय अपनाने से अधिक कैलोरी जलाने और वजन घटाने में मदद मिलती है।

दरअसल, जब हमारे शरीर में वसा अधिक हो जाती है, तो मेटाबॉलिज्म की प्रक्रिया धीमी हो जाती है। इससे शरीर वसा को ठीक तरह से पचा नहीं पाता है। ऐसे में वसा को कम करने वाले खाद्य पदार्थों को अपना कर मेटाबॉलिज्म को बढ़ाने में मदद मिल सकती है। इस बात को बर्मिंघम विश्वविद्यालय द्वारा किए गए एक शोध में साफ तौर पर स्वीकार किया गया है (3)। ऐसे में फैट लॉस डाइट वाले खाद्य पदार्थों को अपनाने से पहले जरूरी है कि उनके संबंध में भी थोड़ा जान लिया जाए।

आगे है और जानकारी

आइए, अब वसा कम करने वाले खाद्य पदार्थों के बारे में कुछ और जानकारी हासिल कर लेते हैं।

वसा को कम करने/जलाने वाले खाद्य पदार्थ – 18 Best Fat Burning Foods in Hindi

फैट लॉस डाइट या कम वसा वाले भोजन की तलाश कर रहे हैं, तो कुछ खाद्य पदार्थ ऐसे हैं, जिनका सेवन करने से वजन को कम किया जा सकता है। नीचे हम ऐसे ही कुछ कम वसा वाले भोजन के बारे में बता रहे हैं। यहां हम फिर स्पष्ट कर दें कि कम वसा युक्त खाद्य पदार्थ खाने के साथ-साथ नियमित रूप से व्यायाम करना भी जरूरी है, तभी वजन कम होने के परिणाम नजर आ सकते हैं।

1. क्विनोआ

बढ़ते वजन या मोटापे को कम करने के लिए क्विनोआ फायदेमंद साबित हो सकता है। इसका सेवन करने से अतिरिक्त वसा को कम करने में काफी मदद मिल सकती है। जर्नल ऑफ न्यूट्रिशन एंड फूड साइंस द्वारा किए गए एक शोध में यह पाया गया है कि क्विनोआ ऐसा खाद्य पदार्थ है, जिसमें कम ग्लाइसेमिक इंडेक्स (glycemic index) होता है। वहीं, कम ग्लाइसेमिक इंडेक्स वाले खाद्य पदार्थ भूख को नियंत्रित कर मोटापे की समस्या को कम करने में मदद कर सकते हैं (4)

कैसे खाएं :

  • क्विनोआ को सलाद के रूप में दोपहर या रात के खाने के साथ लिया जा सकता है।
  • पनीर के साथ क्विनोआ को एक हेल्दी स्नैक्स के रूप में सुबह या शाम के नाश्ते में शामिल किया जा सकता है।

2. ओट्स

वजन को कम करने वाले खाद्य पदार्थ के तौर पर ओट्स का भी सेवन किया जा सकता है। इस बात को नार्थ कोरिया की चुंग शान यूनिवर्सिटी द्वारा किए गए शोध में भी माना गया है। शोध में जिक्र मिलता है कि ओट्स में बीटा ग्लूकैन (beta-glucan) नाम का एक खास तत्व पाया जाता है। यह तत्व शरीर की उपापचय प्रक्रिया को बढ़ावा देकर वजन को कम करने में मदद कर सकता है (5)

कैसे खाएं :

  • ऑट्स को सीजनल फ्रूट्स के साथ शेक की तरह नाश्ते में पिया जा सकता है।
  • ओट्स को विभिन्न प्रकार की सब्जियों के साथ मिलाकर स्नैक्स के रूप में भी नाश्ते में लिया जा सकता है।

3. दही

वजन कम करने के लिए जाने आहार में दही को शामिल करना भी बेहतरीन विकल्प साबित हो सकता है। दही से संबंधित एनसीबीआई (National Center for Biotechnology Information) की वेबसाइट पर उपलब्ध के एक शोध से भी यह बात प्रमाणित होती है। शोध में माना गया है कि दही में मौजूद प्रोटीन और कैल्शियम भूख को नियंत्रित करने में मदद कर सकते हैं। इस तरह यह शुगर को नियंत्रित करने के साथ ही वजन को कम करने में भी सहायक हो सकता है (6)

कैसे खाएं :

  • सुबह या शाम को स्नैक्स के रूप में दही को फ्रूट सलाद में मिक्स करके लिया जा सकता है।
  • इसे रायते के रूप में दोपहर और रात के खाने के साथ भी लिया जा सकता है।

4. अंडा

फैट लॉस डाइट में अंडे को शामिल किया जा सकता है। अमरीका की सेंट लूइस यूनिवर्सिटी द्वारा किए गए वजन नियंत्रण से संबंधित एक शोध में इस बात को माना गया है। दरअसल, अंडे का सेवन एनर्जी डेफसिट डाइट (energy-deficit diet) यानी कम कैलोरी वाले आहार के साथ किया जाए, तो यह पौष्टिक सप्लीमेंट की तरह काम करता है। वहीं, अकेले अंडे का सेवन वजन कम करने के मामले में प्रभावी नहीं है। इस आधार पर माना जा सकता है कि लो कैलोरी डायट के साथ अंडे का नाश्ते में सेवन वजन कम करने में मददगार माना जा सकता है (7)

कैसे खाएं :

  • अंडे को उबालकर नाश्ते में खाने के लिए उपयोग किया जा सकता है।
  • उबले हुए अंडे की सलाद बनाकर भी सुबह नाश्ते में इस्तेमाल किया जा सकता है।

5. ब्रोकली

फैट लॉस डाइट में ब्रोकली को भी एक बेहतरीन विकल्प के तौर पर इस्तेमाल किया जा सकता है। दरअसल, ब्रोकली का सेवन भी वजन को नियंत्रित करने में मददगार साबित हो सकता है। इस बात को ब्रोकली से संबंधित एक शोध में स्वीकार किया गया है। एनसीबीआई की साइट पर उपलब्ध इस शोध में जिक्र मिलता है कि ब्रोकली के अर्क में मौजूद ग्लूकोराफैनिन (Glucoraphanin) नाम का एक खास तत्व पाया जाता है। यह तत्व वजन को कम करने में मदद कर सकता है (8) 

कैसे खाएं :

  • ब्रोकली को दोपहर या शाम के खाने में सब्जी के रूप में शामिल किया जा सकता है।
  • इसे दोपहर या शाम के खाने में सलाद के साथ भी शामिल कर सकते हैं।

6. ब्लैक बीन्स

ब्लैक बीन्स में शामिल काले सोयाबीन का उपयोग करके भी बढ़ते हुए वजन को नियंत्रित करने में मदद मिल सकती है। इस बात को काले सोयाबीन से संबंधित एक शोध में स्पष्ट रूप से स्वीकार किया गया है। शोध में माना गया है कि काले सोयाबीन में मौजूद पेप्टाइड (फैटी अमीनो एसिड की शॉर्ट चेन) इस काम में अहम भूमिका अदा कर सकती है (9)। इस आधार पर काले सोयाबीन को वजन को नियंत्रित करने के मामले में सहायक माना जा सकता है।

कैसे खाएं :

  • काले सोयाबीन को अंकुरित करके सलाद के रूप में सुबह नाश्ते में लिया जा सकता है।
  • काले सोयाबीन की सब्जी बनाकर इसे दोपहर या रात के खाने में भी जगह दी जा सकती है।

7. पनीर

कम वसा वाले खाद्य पदार्थ और वसा रहित भोजन वजन कम करने में फायदेमंद माने जाते हैं। ऐसे में कम वसा युक्त पनीर को भी वजन कम करने के आहार में जगह दी जा सकती है। दरअसल, पनीर प्रोटीन का अच्छा स्त्रोत है और प्रोटीन वजन को नियंत्रित करने में मदद कर सकता है। वजह यह है कि प्रोटीन युक्त आहार लेने के बाद काफी देर तक व्यक्ति को पेट भरा हुआ महसूस हो सकता है। इस तरह कम वसा युक्त पनीर वजन नियंत्रण में सहायक हो सकता है (10)। यही वजह है कि पनीर के फायदे वजन नियंत्रित करने में भी उपयोगी माने जा सकते हैं।

कैसे खाएं :

  • पनीर को ग्रिल करके नाश्ते में इस्तेमाल किया जा सकता है।
  • कच्चे पनीर का सेवन भी हेल्दी स्नैक्स के रूप में कर सकते हैं।

8. पालक

कम फैट वाला खाना वजन घटाने के मामले में कारगर माना गया है। ऐसे में एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर पालक का इस्तेमाल वजन घटाने वाले आहार के रूप में किया जा सकता है। इस बात का प्रमाण चूहों पर आधारित पालक से जुड़े एक शोध में मिलता है। शोध में पाया गया है कि पालक में मौजूद एंटी ऑक्सीडेंट गुण के कारण यह वजन कम करने के मामले में सकारात्मक प्रभाव प्रदर्शित कर सकती है। बशर्ते, पालक का सेवन करने के साथ ही व्यायाम को भी नियमित दिनचर्या में जगह दी जाए (11)

कैसे खाएं :

  • पालक को अच्छे से धोकर सलाद के रूप में खाने के लिए इस्तेमाल में लिया जा सकता है।
  • पालक और पनीर को मिलाकर इसे सब्जी के रूप में भी खाया जा सकता है।

9. शकरकंद

शकरकंद का उपयोग भी वजन कम करने के आहार के तौर पर किया जा सकता है। दरअसल, 8 सप्ताह तक 58 लोगों पर शकरकंद से होने वाले फायदों को लेकर एक शोध किया गया। इस शोध के अनुसार, शकरकंद का सेवन करने वाले लोगों के वजन, वसा और बॉडी मास इंडेक्स में करीब 5 प्रतिशत तक की कमी पाई गई। यह रिसर्च पेपर एनसीबीआई की साइट पर उपलब्ध है (12)। इस आधार पर कहा जा सकता है कि शकरकंद को वजन करने के आहार में शामिल करना सहायक साबित हो सकता है।

कैसे खाएं :

  • इसे सुबह या शाम को नाश्ते में भूनकर खाने के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है।
  • स्नैक्स के रूप में इसे दही के साथ भी नाश्ते में ले सकते हैं।
  • इसे उबालकर हल्का नमक और नींबू लगाकर भी स्नैक्स के तौर पर खा सकते हैं।

10. सालमन

सालमन मछली का उपयोग वजन घटाने के लिए भी किया जा सकता है। इस बात को वजन घटाने के आहार से संबंधित एक शोध में माना गया है। शोध में जिक्र मिलता है कि सालमन (फैटी फिश) कम ऊर्जा वाले आहार में शामिल है। इस कारण इसका उपयोग वजन को नियंत्रित करने मदद कर सकता है (13)। इस आधार पर वजन कम करने वाले आहार में सालमन मछली को शामिल करना फायदेमंद माना जा सकता है।

कैसे खाएं :

  • ग्रिल्ड सालमन यानी सालमन को भूनकर नाश्ते में इस्तेमाल कर सकते हैं।
  • सालमन की करी बनाकर दोपहर या रात के आहार में शामिल किया जा सकता है।

11. बेरीज

बेरीज हर किसी को पसंद होती है। ऐसे में वजन कम करने का प्रयास करने वाले लोग भी इन्हें अपने आहार में जगह दे सकते हैं। इसी संबंध में एनसीबीआई ने अपनी साइट पर एक रिसर्च पेपर को प्रकाशित किया है। इस शोध के मुताबिक, ब्लूबेरी और मलबेरी वजन कम करने के मामले में उपयोगी हो सकती हैं। शोध में जिक्र मिलता है कि इसमें एन्थोसायनिन (anthocyanin) नाम का एक खास तत्व पाया जाता है। यह तत्व बढ़ते हुए वजन को नियंत्रित करने के साथ ही वजन को कम करने में भी मदद कर सकता है (14)। यही वजह है कि ब्लूबेरी और मलबेरी को वसा कम करने वाले खाद्य पदार्थ में शामिल करना सहायक माना जा सकता है।

कैसे खाएं :

  • बैरीज को सीधे खाने के लिए दिन में कभी भी इस्तेमाल किया जा सकता है।
  • वहीं, फ्रूट सलाद में इसे मिलाकर नाश्ते में खाने के लिए उपयोग किया जा सकता है।

12. एवोकाडो

वजन को कम करने के लिए एवोकाडो को भी इस्तेमाल किया जा सकता है। एनसीबीआई के एक शोध से पता चलता है कि एवोकाडो में कम कैलोरी होती है, जिससे इसका सेवन करने से वजन को नियंत्रित करने में मदद मिल सकती है। साथ ही इसमें फाइबर भी मौजूद होता है, जो वजन कम करने में फायदेमंद है। इसमें मौजूद मोनोअनसैचुरेटेड फैटी एसिड (MUFA) वसा को बढ़ने से रोक सकता है (15)। इस आधार पर यह कहा जा सकता है कि यह वसा जलाने वाले खाद्य पदार्थ में शामिल हो सकता है।

कैसे खाएं:

  • बेक करके एवोकाडो का सेवन सुबह या शाम नाश्ते में किया जा सकता है।
  • सलाद के रूप में भी एवोकाडो का सेवन दोपहर और रात के खाने के साथ किया जा सकता है।

13. चकोतरा

जब बात कम वसा वाले भोजन की होती है, तो उसमें चकोतरे का भी जिक्र होता है। चकोतरा में अच्छी मात्रा में फाइबर और विटामिन-सी पाया जाता है (16)। जैसा कि हम आपको ऊपर बता चुके हैं कि फाइबर वजन कम करने में फायदेमंद साबित हो सकता है। इसलिए, कहा जा सकता है कि चकोतरा का इस्तेमाल वजन कम करने के लिए किया जा सकता है। इसके अलावा, एनसीबीआई की ओर से प्रकाशित शोध में पाया गया है कि चकोतरा और उसके रस का सेवन वजन को कम कर सकता है (17)। इसलिए, शरीर से वजन घटाने के तरीके में चकोतरा का सेवन उपयोगी माना जा सकता है।

कैसे खाएं:

  • अन्य फलों के साथ फ्रूट सलाद के तौर पर इसे सुबह या शाम के नाश्ते में लिया जा सकता है।
  • वहीं, सुबह नाश्ते में चकोतरा का जूस भी पिया जा सकता है।

14. अखरोट

वसा जलाने वाले खाद्य पदार्थ (fat cutter food) में अखरोट भी है। दरअसल, अखरोट के फायदे से संबंधित एक शोध में माना गया है कि कम कैलोरी डाइट के साथ इसका सेवन भूख को कम कर सकता है। इससे वजन कम करने में मदद मिल सकती है (18)। इस तथ्य को देखते हुए यह कहा जा सकता है कि अखरोट के सेवन से वजन घटाने में मदद मिल सकती है।

कैसे खाएं:

  • शाम के नाश्ते में अखरोट का सेवन अन्य ड्राई फ्रूट के साथ किया जा सकता है।
  • वहीं, फ्रूट सलाद में भी अखरोट को डालकर खाने के लिए इस्तेमाल कर सकते हैं।

15. लहसुन

लहसुन में एंटी-ओबेसिटी गुण होते हैं, जो मोटापे को कम करने में मददगार साबित हो सकते हैं। अपने इस अनोखे गुण की वजह से लहसुन मोटापे से राहत दिला सकता है (19)। इसके अलावा, एनसीबीआई की वेबसाइट पर प्रकाशित एक शोध में जिक्र मिलता है कि लहसुन के तेल में मौजूद एंटी-ओबेसिटी गुण हाई फैट डाइट (HFD) के कारण बढ़ते वजन की समस्या पर भी प्रभावकारी सिद्ध हो सकता है (20)। इस आधार पर लहसुन और लहसुन से तैयार तेल दोनों को ही वजन घटाने में प्रभावी माना जा सकता है।

कैसे खाएं:

  • लहसुन की चटनी बनाकर खाने के लिए इस्तेमाल में लाया जा सकता है।
  • दो कली लहसुन को दवा के तौर पर कच्चा खाने के लिए भी इस्तेमाल किया जा सकता है।

16. दालचीनी

दालचीनी भी मोटापे को कम करने में एक कारगर खाद्य पदार्थ साबित हो सकती है। एनसीबीआई के शोध में भी इस बात को माना गया है। 786 लोगों पर किए गए 12 परीक्षणों के परिणामों से पता चला कि दालचीनी ने बॉडी वेट, बॉडी मास इंडेक्स और फैट मास को कम करने का काम किया। बॉडी मास कम करने का सबसे अधिक प्रभाव 50 वर्ष से कम आयु के लोगों में देखा गया था। इस आधार पर शोध में माना गया कि मोटापे को कम करने के लिए एक सप्लीमेंट के तौर पर दालचीनी का उपयोग किया जा सकता है (21)

कैसे खाएं:

  • दालचीनी की चाय बनाकर पी जा सकती है।
  • खाने में मसाले के साथ भी दालचीनी को उपयोग किया जा सकता है।

17. काले चावल

काले चावल का उपयोग वजन कम करने के लिए प्रभावकारी हो सकता है। काले चावल में एक उच्च मात्रा में फाइबर होता है, जो पेट के स्वास्थ्य के लिए अच्छा होता है और पाचन क्रिया में सहायक होता है। इसमें फाइबर होने से यह धीरे-धीरे पचता है, जिससे लंबे समय तक भूख का एहसास नहीं होता। वहीं, ब्राउन राइज की तुलना में काले चावलों में फाइबर की मात्रा दोगुनी पाई जाती है। इसलिए, इन्हें वजन कम करने में अधिक सहायक माना जा सकता है (22)

कैसे खाएं :

  • सामान्य चावल की जगह पर इन्हें पकाकर खाने के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है।
  • चाहें तो खिचड़ी के रूप में भी इसका सेवन कर सकते हैं।

18. सेब का सिरका

वजन कम करने के लिए आहार में एप्पल साइडर विनेगर यानी सेब के सिरके के फायदे सहायक साबित हो सकते है। इससे वजन कम करने में काफी मदद मिल सकती है। दरअसल, सिरके में एसिटिक एसिड होता है, जो शरीर की वसा को कम करने में सहायक हो सकता है (23)। इसके अलावा, सेब के सिरके में सेटीएटिंग प्रभाव (भूख का एहसास न होना) पाया जाता है (24)। इससे वजन कम करने में मदद मिल सकती है। इसलिए, कहा जा सकता है कि वजन कम करने वाले खाद्य पदार्थों में सेब के सिरके को शामिल करना सहायक हो सकता है।

कैसे खाएं :

  • एक गिलास पानी में एक चम्मच सिरका मिलाकर पिया जा सकता है।
  • वहीं, इसे सलाद में मिलाकर भी खाने के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है।

पढ़ना जारी रखें

आगे हम वजन कम करने के लिए परहेज से जुड़ी चीजों के बारे में जानेंगे।

वजन घटाने के दौरान किन चीजों का सेवन नहीं करना चाहिए?

निम्न बिन्दुओं के माध्यम से हम वजन घटाने के दौरान परहेज की जाने वाली चीजों के बारे में जान सकते हैं, जो कुछ इस प्रकार हैं :

  • तली हुई चीजों के सेवन से बचना चाहिए (25)
  • मिठाई, डेसर्ट और अतिरिक्त शर्करा वाले खाद्य पदार्थों को खाने से बचें (26)
  • अधिक वसा और ऊर्जा (जैसे :- जंक फूड, ऑयल, वसा युक्त दूध, दही व मांस) वाले खाद्य पदार्थों के सेवन से बचना चाहिए (27)

मोटापा कई प्रकार की बीमारियों की जड़ होता है। इससे बाहरी स्वास्थ के साथ ही अंदरूनी स्वास्थ्य को भी नुकसान पहुंचता है। इसलिए, इसे कम करना और भी ज्यादा जरूरी हो जाता है। ऐसे में वजन को कम करने के लिए लेख में शामिल खाद्य पदार्थों को इस्तेमाल में लाया जा सकता है, लेकिन ध्यान रहे कि लेख में शामिल किसी भी खाद्य पदार्थ का इस्तेमाल सीमित मात्रा में ही किया जाना चाहिए। उम्मीद है कि वजन कम करने का प्रयास करने वाले लोगों को यह लेख जरूर पसंद आएगा।

अक्सर पूछे जाने वाले सवाल

अतिरिक्त वसा कम करने के लिए सबसे ज्यादा जरूरी क्या है?

वजन कम करने के लिए बेहतर खाद्य पदार्थों के साथ ही व्यायाम करना जरूरी माना जाता है (28)

क्या ग्रीन टी से वजन कम होता है?

हां, ग्रीन-टी का सेवन वजन कम करने में सहायक हो सकता है। दरअसल, इसमें मौजूद एंटी-ऑक्सीडेंट, हल्के व्यायाम के दौरान मेटाबॉलिज्म को बढ़ाकर वजन कम करने में मदद कर सकता है (29)

कौन से फल से जल्द ही वजन कम होता है?

फल फाइबर और फाइटोकेमिकल्स से भरपूर होते हैं। इसलिए, उन्हें वजन कम करने में कारगर माना जा सकता है (30)। हालांकि, कौन-सा फल वजन कम करने में अधिक प्रभावी है, इस बारे में कुछ भी कह पाना मुश्किल है।

क्या केले का सेवन करने से वसा कम होती है?

केले से संबंधित एक शोध में माना गया है कि केले में मौजूद स्टार्च वजन को कम करने में मदद कर सकता है (31)

क्या गर्म पानी से पेट की वसा कम होती है?

बैली फैट को कम करने वाले खाद्य पदार्थों के तहत गर्म पानी पीने से थर्मोजेनेसिस प्रभाव उत्पन्न होता है, जो चयापचय दर में वृद्धि कर सकता है। यह क्रिया प्रतिदिन की ऊर्जा के व्यय को बढ़ा सकती है, जिससे शरीर में मौजूद फैट कम किया जा सकता है (32)। इसलिए, ऐसा माना जा सकता है कि गर्म पानी पेट की वसा को कम करने में फायदेमंद हो सकता है।

सबसे पहले शरीर के कौन से भाग का वजन कम होता है?

इसको लेकर स्पष्ट रूप से नहीं कहा जा सकता कि सबसे पहले शरीर के कौन से भाग का वजन कम होता है। हां, जब आप वजन कम करने के लिए डाइट प्लान का पालन करते हैं, तो आपके पूरे शरीर पर इसका प्रभाव पड़ सकता है।

फैट बर्निंग को कैसे सक्रिय कर सकते हैं?

जैसा कि लेख में ऊपर बताया गया है कि उचित आहार और व्यायाम के साथ वजन कम करने में मदद मिल सकती है (28)। ऐसे में यह कहा जा सकता है कि उचित आहार और व्यायाम से फैट बर्निंग को कम करने में मदद मिल सकती है।

संदर्भ (Source):

Articles on StyleCraze are backed by verified information from peer-reviewed and academic research papers, reputed organizations, research institutions, and medical associations to ensure accuracy and relevance. Check out our editorial policy for further details.
Was this article helpful?
The following two tabs change content below.

Neha Sajwan

नेहा सजवाण ने दिल्ली विश्वविद्यालय से जर्नलिस्म एंड मास कॉम में बीए और गुरु जम्भेश्वर विश्वविद्यालय से मास कॉम्यूनिकेशन में एमए किया है। इन्हें प्रिंट मीडिया में लगभग 5 साल का अनुभव है। करियर की शुरुआत इन्होंने रिपोर्टिंग से की। नेहा को कला और साहित्य से जुड़े विषयों पर लिखना अच्छा लगता है। इन्हें फीचर राइटिंग भी काफी पसंद है। खाली समय में नेहा को पढ़ना और शास्त्रीय संगीत सुनना बेहद पसंद है।

ताज़े आलेख

scorecardresearch