फटी एड़ियों के लिए असरदार घरेलू इलाज – Remedies for Cracked Heel in Hindi

Written by , BA (Journalism & Media Communication) Saral Jain BA (Journalism & Media Communication)
 • 
 

चेहरे की खूबसूरती का ध्यान रखते-रखते अक्सर लोग अपने पांव को नजरअंदाज कर देते हैं। देखा जाए तो शारीरिक आकर्षण बनाए रखने में चेहरे के साथ-साथ पांव की भी भूमिका होती है। इसलिए, पांव से जुड़ी समस्याओं पर भी ध्यान देना जरूरी है। वहीं, महिलाएं फटी एड़ियों से ज्यादा परेशान रहती हैं। ऐसे में अगर आप फटी एड़ियों की दवा या अन्य उपाय करके थक चुके हैं और अब आपके मन में यह सवाल आ रहा है कि फटी एड़ियां कैसे ठीक करें, तो यह लेख खास आपके लिए ही है। स्टाइलक्रेज के इस लेख में हम आपको फटी हुई एड़ियों से छुटकारा पाने के उपाय बता रहे हैं। वहीं, लेख में आपको फटी एड़ियों के घरेलू उपाय के साथ-साथ फटी एड़ियों के कारण और लक्षण भी जानने को मिलेंगे।

पढ़ें विस्तार से

फटी एड़ियों का उपचार जानने से पहले हम फटी एड़ियां होने के कारणों पर चर्चा करेंगे।

फटी एड़ियों के मुख्य कारण – Causes of Cracked Heels in Hindi

अगर किसी तकलीफ की वजह पता हो, तो उसे ठीक करना आसान हो जाता है। इसलिए, फटी एड़ियों से छुटकारा पाने के लिए सबसे पहले जरूरी है उसके होने का कारण जानना, तभी गर्मी में फटी एड़ियों का इलाज जान पाएंगे। नीचे हम एड़ियों के फटने का कारण बताएंगे, इसके बाद हम फटी एड़ियों के घरेलू उपाय भी सुझाएंगे (1) (2)।

  • मौसम का ज्यादा शुष्क होना। इससे त्वचा पर असर पड़ता है।
  • मोटापा भी इसकी एक वजह है। इससे शरीर का पूरा भार पैरों पर पड़ता है, जिससे एड़िया फट सकती हैं।
  • बहुत देर तक चलने या एक ही जगह पर बहुत देर तक खड़े रहने से भी एड़ियां फट सकती हैं।
  • डायबिटीज के कारण भी एड़ियां फट सकती हैं।
  • बिना चप्पल पहने चलना, ज्यादातर सैंडल पहनना, एक ही तरह के फुटवियर पहनना, ज्यादा कड़ी चप्पल पहनना या ऐसे जूते पहनना जिसकी फिटिंग सही न हो।

पढ़ते रहें यह आर्टिकल

लेख के आगे के भाग में जानिए कि फटी एड़ियां होने के क्या-क्या लक्षण हो सकते हैं।

फटी एड़ियों के लक्षण – Symptoms of Cracked Heels in Hindi

फटी एड़ियों के कारण जानने के बाद अब हम फटी एड़ियों के लक्षण बता रहे हैं, ताकि फटी एड़ियों का उपचार करना आसान हो। इसलिए, नीचे जानिए फटी एड़ियां होने के लक्षण (3) –

  • एड़ियों की त्वचा का शुष्क हो जाती है और हल्की दरारें दिखने लगती हैं।
  • फटी एड़ियों की त्वचा हल्के पीले रंग की दिख सकती है।
  • त्वचा की ऊपरी परत का निकलना।
  • प्रभावित त्वचा का सख्त होना।
  • खुजली होना या चलने से दर्द का एहसास होना।
  • गंभीर स्थिति में दरारों से खून निकलना और दर्द होना।

आगे पढ़ें

अब जब हम इतना कुछ जान चुके हैं, तो आगे जानते हैं कि फटी एड़ियों के घरेलू उपाए क्या हैं।

फटी एड़ियों के लिए घरेलू उपचार – Home Remedies for Cracked Heels in Hindi

नीचे जानिए फटी एड़ियों से छुटकारा पाने के लिए फटी एड़ियों के घरेलू उपाय, जो न सिर्फ आसान होंगे, बल्कि सही उपयोग से असरदार भी हो सकते हैं। यहां इस बात का ध्यान रखें कि नीचे बताए जा रहे उपाय फटी एड़ियों का डॉक्टरी उपचार नहीं हैं। ये केवल समस्या से कुछ हद आराम देने में मददगार हो सकते हैं। अगर स्थिति गंभीर है, तो संबंधित डॉक्टर से संपर्क जरूर करें।

1. वेजिटेबल ऑयल

सामग्री :

  • दो चम्मच वेजिटेबल ऑयल

उपयोग करने का तरीका :

  • अपनी एड़ियों को धो लें और साफ तौलिए से अच्छी तरह सूखा लें।
  • अब तेल को अपनी फटी एड़ियों पर लगाएं।
  • फिर जुराबें पहनकर रातभर के लिए तेल को एड़ियों पर लगे रहने दें।
  • सुबह उठकर अपने पैरों को धो लें।
  • कुछ दिन तक रोजाना सोने से पहले यह प्रक्रिया दोहराएं।

कैसे फायदेमंद है?

फटी एड़ियों के नुस्खे के तौर पर वेजिटेबल ऑयल का इस्तेमाल किया जा सकता है। वेजिटेबल ऑयल में एमोलिएंट (Emollient) गुण मौजूद होते हैं, जो त्वचा को नर्म बनाकर उसे फटने से बचा सकते हैं (4)। इसके अलावा, इसमें मौजूद एंटीबैक्टीरियल गुण त्वचा को बैक्टीरियल संक्रमण से बचाने में मददगार हो सकते हैं (5)। फटी एड़ियों का इलाज आप वेजिटेबल ऑयल के जरिए किया जा सकता है।

2. शहद

सामग्री :

  • एक कप शहद
  • हल्का गर्म पानी ( एक बाल्टी)

उपयोग करने का तरीका :

  • एक बाल्टी पानी में एक कप शहद मिला लें।
  • अब अपने पैरों को इस मिश्रण में 15-20 मिनट तक डूबोकर रखें।
  • अब अपनी एड़ियों को आराम से स्क्रब करें।
  • स्क्रब के बाद हल्के गर्म पानी से पैरों को धो लें।
  • एड़ियां मुलायम होने तक रोजाना इस प्रक्रिया को दोहराएं।

कैसे फायदेमंद है?

त्वचा के लिए शहद का उपयोग लंबे समय से किया जाता रहा है। शहद में एंटी-माइक्रोबियल, एंटी-इंफ्लेमेटरी, एंटीबैक्टीरियल व एंटीफंगल गुण मौजूद होते हैं, जो त्वचा को स्वस्थ रखने में मदद कर सकते हैं (6)। इतना ही नहीं, यह त्वचा को हील करने के साथ-साथ त्वचा को मॉइस्चराइज करने का काम भी कर कर सकता है, जिसका सकारात्मक प्रभाव फटी एड़ियों पर दिख सकता है (7) (8)।

3. चावल का आटा

सामग्री :

  • चावल का आटा एक चम्मच
  • शहद 2 चम्मच
  • एक चम्मच नींबू का रस

उपयोग करने का तरीका :

  • चावल के आटे में शहद और नींबू का रस मिलाकर पेस्ट तैयार कर लें।
  • मिश्रण तैयार करने के बाद हल्के गर्म पानी में 10 मिनट के लिए अपने पैरों को डूबोकर रखें।
  • इसके बाद अपनी एड़ियों को तैयार किए गए पेस्ट से स्क्रब करें।
  • जब तक एड़ियां मुलायम नहीं हो जातीं, तब तक इस प्रकिया को हफ्ते में दो बार करें।

नोट : अगर एड़ियां ज्यादा सूखी और फटी हैं, तो इस मिश्रण में जैतून या बादाम का तेल मिलाकर उपयोग कर सकते हैं।

कैसे फायदेमंद है?

गर्मी में फटी एड़ियों का इलाज करने के लिए चावल के आटे का इस्तेमाल किया जा सकता है। एक शोध से पता चलता है कि चावल का आटा डैमेज स्किन पर हीलिंग प्रभाव दिखा सकता है (9)। वहीं, नींबू का उपयोग त्वचा को स्मूद करने में मदद कर सकता है (10)। इसके अलावा, जैसा कि हमने ऊपर बताया कि शहद त्वचा को मॉइस्चराइज करने करने के साथ-साथ त्वचा को हील करने में लाभकारी हो सकता है। फटी एड़ियों की समस्या के लिए यह उपाय अपनाया जा सकता है।

4. सोडियम और वैसलीन से करें फटी एड़ियों का इलाज

सामग्री :

  • एक चम्मच वैसलीन
  • आधा कप हल्का गर्म पानी
  • सोडियम एक चम्मच

उपयोग करने का तरीका :

  • सबसे पहले एड़ियों को भिगोने के लिए पानी को हल्का गर्म करें।
  • अब गर्म पानी में सोडियम और वैसलीन को मिलाएं।
  • तैयार किए गए इस मिश्रण में एक घंटे तक एड़ियों को डूबोकर रखें।
  • इसके बाद एड़ियों को पानी से बाहर निकाल कर उसे अच्छे से साफ कर लें।
  • सोने से पहले अपनी एड़ियों पर मॉइस्चराइजर लगाकर सोएं।
  • एड़ियों के मुलायम होने तक रोजाना यह प्रक्रिया दोहराएं।

कैसे फायदेमंद है?

सोडियम और वैसलीन से भी फटी एड़ियों के उपचार के लिए बेहद लाभकारी माना जाता है। इससे जुड़े एक शोध के अनुसार, सोडियम का उपयोग त्वचा से मृत कोशिकाओं को हटाने के साथ-साथ त्वचा की प्राकृतिक परत को सुरक्षा प्रदान करने का काम कर सकता है। वहीं, वैसलीन एक कारगर मॉइस्चराइजर की तरह काम कर सकता है (12)। इस आधार पर हम कह सकते हैं कि सोडियम और वैसलीन का मिश्रण फटी एड़ियों की समस्या से निजात दिलाने में मदद कर सकता है।

जानें और नुस्खे

5. नारियल का तेल

सामग्री :

  • दो चम्मच नारियल का तेल

उपयोग करने का तरीका :

  • अपनी एड़ियों पर नारियल का तेल लगाएं।
  • अब कुछ देर धीरे-धीरे मसाज करें।
  • अब जुराबें पहन लें और रातभर तेल को एड़ियों पर लगे रहने दें।
  • सुबह पानी से एड़ियों को धो लें।
  • एड़ियों के मुलायम होने तक रोज रात को सोने से पहले यह प्रक्रिया दोहराएं।

कैसे फायदेमंद है?

फटी एड़ियों के नुस्खे के तौर पर नारियल तेल का इस्तेमाल किया जा सकता है। नारियल तेल त्वचा को हाइड्रेट करने का काम कर सकता है। साथ ही यह एक कारगर मॉइस्चराइजर की तरह काम कर त्वचा को अंदर तक पोषण प्रदान कर उसे मुलायम बना सकता है । इस आधार पर कहा जा सकता है कि नारियल का तेल फटी एड़ियों के लिए कारगर घरेलू उपाय हो सकता है।

6. नींबू, नमक, ग्लिसरीन और गुलाब जल

सामग्री :

  • एक चम्मच नमक
  • आधा कप नींबू का रस
  • दो चम्मच ग्लिसरीन
  • हल्का गर्म पानी
  • दो चम्मच गुलाब जल
  • फुट स्क्रबर

उपयोग करने का तरीका :

  • बाल्टी को आधे गुनगुने पानी से भर दें।
  • अब इसमें एक चम्मच नमक, नींबू के रस की 10 बूंदें, एक चम्मच ग्लिसरीन और एक चम्मच गुलाब जल मिलाएं।
  • पानी के इस मिश्रण में अपने दोनों पैरों को 15-20 मिनट तक डूबोकर रखें।
  • अब फूट स्क्रबर से एड़ियों को स्क्रब करें।
  • इसके बाद अलग से एक चम्मच ग्लिसरीन, एक चम्मच गुलाब जल और एक चम्मच नींबू के रस को मिलाकर मिश्रण तैयार करें और फटी एड़ियों पर लगाएं।
  • थोड़ी देर बाद जुराबें पहनकर रात भर के लिए मिश्रण को एड़ियों पर लगे रहने दें।
  • सुबह एड़ियों को गुनगुने पानी से धो लें।
  • जब तक एड़ियां मुलायम नहीं हो जातीं, इस प्रक्रिया को रोज रात को सोने से पहले दोहराएं।

कैसे फायदेमंद है?

ग्लिसरीन ह्यूमेक्टेंट (Humectant) की तरह काम कर सकता है, ताकि त्वचा में मॉइस्चर बरकरार रहे (13)। वहीं, गुलाब में एंटी-इन्फ्लेमेटरी गुण होते हैं, जो त्वचा को सूजन से राहत दिलाने में मदद कर सकते हैं (14)। नींबू त्वचा की रंगत को निखारने में मदद कर सकता है (15)। इसके अलावा, नमक में एनाल्जेसिक (Analgesic) यानी दर्दनाशक गुण मौजूद होते हैं, जो फटी एड़ियों में होने वाले दर्द से राहत दिला सकते हैं (16)। यह मिश्रण फटी एड़ियों की दवा के रूप में असर करने में मदद कर सकता है ।

सावधानी : नींबू का प्रयोग करने से त्वचा में जलन या सूखापन आ सकता है। इसलिए, एलर्जी की जांच के लिए पैच टेस्ट (हाथ पर लगाकर देखना) जरूर कर लें।

7. तिल का तेल

सामग्री :

  • तिल के तेल की चार से पांच बूंदें
  • उपयोग करने का तरीका :
  • अपनी एड़ियों पर तिल का तेल लगाएं।
  • अब धीरे-धीरे कुछ देर तक मसाज करें।
  • एड़ियों के मुलायम होने तक रोजाना सोने से पहले यह प्रक्रिया दोहराएं।

कैसे फायदेमंद है?

तिल का तेल कई पोषक तत्वों से भरपूर होता है और इसमें घाव को भरने का भी गुण मौजूद होता है। कई बार फटी एड़ियों में संक्रमण की समस्या भी हो जाती है, ऐसे में तिल का तेल लाभकारी हो सकता है। इसके साथ ही यह फटी एड़ियों में होने वाले दर्द को भी कम कर सकता है (17) (18)। यह फटी एड़ियों के उपाय के रूप में कारगर साबित हो सकता है।

8. पैराफिन वैक्स

सामग्री :

  • पैराफिन वैक्स एक चम्मच
  • नारियल या सरसों का तेल 2 से 3 बूंदें

उपयोग करने का तरीका :

  • एक चम्मच वैक्स में नारियल या सरसों का तेल मिलाकर उसका मिश्रण तैयार कर लें।
  • इस मिश्रण को तब तक मिलाते रहें, जब तक कि वैक्स अच्छे से मिल न जाए।
  • इसके बाद इस मिश्रण को हल्का गर्म करें और फिर अपनी एड़ियों पर लगाएं।
  • थोड़ी देर बाद जुराबें पहनकर रात भर के लिए मिश्रण को एड़ियों पर लगे रहने दें।
  • एड़ियां मुलायम होने तक रोज रात को सोने से पहले हफ्ते में एक या दो बार इसका इस्तेमार करें।

कैसे फायदेमंद है?

पैराफिन वैक्स का भी इस्तेमाल फटी एड़ियों के घरेलू उपचार के लिए किया जा सकता है। दरअसल, यह एक एमोलिएंट की तरह काम कर त्वचा को मुलायम बनाने में मदद कर सकता है (19)। इससे फटी एड़ियों की सख्त हो चुकी त्वचा को मुलायम बनाने में मदद मिल सकती है।

9. एप्सम सॉल्ट

सामग्री :

  • आधा कप एप्सम सॉल्ट
  • हल्का गर्म पानी
  • एक बाल्टी

उपयोग करने का तरीका :

  • एड़ियां डुबोने लायक बाल्टी में हल्का गर्म पानी भर लें और उसमें एप्सम सॉल्ट मिला दें।
  • अब 15 मिनट तक अपनी फटी एड़ियों को डूबोकर रखें और धीरे-धीरे स्क्रब करें।
  • एड़ियों के मुलायम होने तक यह प्रक्रिया हफ्ते में दो से तीन बार जारी रखें।

कैसे फायदेमंद है?

एप्सम सॉल्ट से भी फटी एड़ियों का घरेलू इलाज किया जा सकता है। दरअसल, इस खास नमक का उपयोग त्वचा की मृत कोशिकाओं को हटाने और त्वचा को मुलायम बनाने में सहयोग कर सकता है (20)। इस आधार पर कहा जा सकता है कि एप्सम सॉल्ट फटी एड़ियों की समस्या से निजात दिलाने में सहयोग कर सकता है।

10. एलोवेरा (Aloe Vera)

सामग्री :

  • एलोवेरा जेल आवश्यकतानुसार
  • गुनगुना पानी
  • एक बाल्टी
  • जुराबें

उपयोग करने का तरीका :

  • एड़ियां डूबोने लायक बाल्टी में गुनगुना पानी भर लें।
  • अब एड़ियों को कुछ मिनट के लिए पानी में डूबोकर रखें और बाद में साफ करके सूखा लें।
  • अब फटी एड़ियों पर एलोवेरा जेल लगाएं।
  • इसके बाद जुराबें पहन लें और रातभर के लिए एलोवेरा जेल को एड़ियों पर लगे रहने दें।
  • सुबह साफ पानी से एड़ियों को धो लें।
  • चार से पांच दिन तक रोजाना सोने से पहले यह प्रक्रिया दोहराएं।

कैसे फायदेमंद है?

फटी हुई एड़ियों के घरेलू उपचार में एलोवेरा भी शामिल है। एलोवेरा में हीलिंग और मॉइस्चराइजिंग गुण मौजूद होते हैं (21)। एलोवेरा का हीलिंग गुण फटी एड़ियों को भरने में मदद कर सकता है। वहीं, मॉइस्चराइजिंग गुण प्रभावित त्वचा को मॉइस्चराइज करने का काम कर सकता है।

11. केला-एवोकाडो युक्त फुट मास्क

सामग्री :

  • एक पका केला
  • आधा एवोकाडो

उपयोग करने का तरीका :

  • केले और एवोकाडो को अच्छी तरह मिलाकर पेस्ट बना लें।
  • अब इस पेस्ट को अपनी फटी एड़ियों पर लगाएं।
  • 15-20 मिनट तक पेस्ट को एड़ियों पर लगे रहने दें।
  • अब हल्के गर्म पानी से एड़ियों को धो लें।
  • एड़ियों के मुलायम होने तक यह प्रक्रिया रोजाना दोहराएं।

कैसे फायदेमंद है?

त्वचा के स्वास्थ्य के लिए केले का उपयोग किया जा सकता है। दरअसल, केला त्वचा के लिए बेहतरीन प्राकृतिक मॉइस्चराइजर की तरह काम कर सकता है। साथ ही यह हीलिंग को भी बढ़ावा दे सकता है (22)। वहीं, एवोकाडो में भी मौजूद हीलिंग के गुण फटी एड़ियों को भरने का काम काम कर सकते हैं (23)। फटी एड़ियों के घरेलू उपाय के लिए यह फुट मास्क असरदार साबित हो सकता है।

12. विटामिन-ई

सामग्री :

  • तीन से चार विटामिन-ई कैप्सूल

उपयोग करने का तरीका :

  • तीन से चार कैप्सूल में छेद करके तेल निकाल लें।
  • अब इस तेल को फटी एड़ियों पर लगाएं और थोड़ी देर तक मसाज करें।
  • एक दिन में दो से तीन बार विटामिन-ई तेल का प्रयोग करें।

कैसे फायदेमंद है?

विटामिन-ई त्वचा को स्वस्थ रखने के लिए एक खास पोषक तत्व माना जाता है। यह त्वचा को कई तरीके से लाभ पहुंचा सकता है, जैसे इसमें वून्ड हीलिंग (Wound Healing) गुण पाया जाता है, यानी यह त्वचा के किसी भी हल्के घाव को भरने में मदद कर सकता है (24)। वहीं, इसमें एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण भी पाया जाता है, जो त्वचा की सूजन को कम करने का काम कर सकता है (25)। इसके अलावा, इसमें हाइड्रेटिंग गुण भी मौजूद होता है, जो शुष्क त्वचा को नमी पहुंचाने में मदद कर सकता है (26)। ये सभी गुण फटी एड़ियों की समस्या में लाभ पहुंचाने में मददगार साबित हो सकते हैं।

अभी बाकी है जानकारी

13. ओट्स और जोजोबा ऑयल

सामग्री :

  • ओट्स मील पाउडर एक चम्मच
  • जोजोबा ऑयल एक चम्मच

उपयोग करने का तरीका :

  • ओट्स मील पाउडर में जोजोबा ऑयल को मिलाकर एक गाढ़ा मिश्रण तैयार कर लें।
  • तैयार मिश्रण को फटी एड़ियों पर अच्छे से लगाएं।
  • कुछ देर बाद अपनी एड़ियों को धो लें।
  • इसके बाद रात में सोने से पहले एड़ियों में फुट क्रीम लगाकर जुराबें पहन लें और अगली सुबह उतार दें।
  • जब तक एड़ियां मुलायम नहीं हो जातीं, इस प्रक्रिया को करते रहें।

कैसे फायदेमंद है?

ओट्स और जोजोबा ऑयल त्वचा के लिए फायदेमंद साबित हो सकते हैं। दरअसल, ओट्स का उपयोग ड्राई त्वचा और त्वचा के खुरदरेपन को दूर करने में सहायक हो सकता है। साथ ही यह एंटी इंफ्लेमेटरी (सूजन दूर करने वाला) गुण प्रदर्शित कर सकता है (27)। वहीं, जोजोबा तेल एमोलिएंट (त्वचा को मुलायम बनाने वाला) और मॉइस्चराइजर की तरह काम कर सकता है (28)। इस आधार पर कहा जा सकता है कि ओट्स और जोजोबा तेल का मिश्रण फटी एड़ियों की समस्या में लाभकारी हो सकता है।

14. टी ट्री तेल

सामग्री :

  • टी ट्री तेल की 4 से 5 बूंदें
  • नारियल का तेल एक चम्मच
  • जैतून का तेल एक चम्मच

उपयोग करने का तरीका :

  • टी ट्री तेल और नारियल के तेल को मिलाकर मिश्रण तैयार लें।
  • अब इस तैयार मिश्रण को एड़ियो पर लगाएं और एक से दो मिनट तक मसाज करें।
  • सोने से पहले पैरों में जुराबें पहन लें।
  • एड़ियां मुलायम होने तक रोज रात में सोने से पहले इस प्रक्रिया को करें।

कैसे फायदेमंद है?

फटी एड़ियों के घरेलू नुस्खे में टी ट्री तेल भी शामिल है। दरअसल, इसमें हीलिंग गुण के साथ-साथ एंटीइंफ्लेमेटरी (सूजन कम करने वाला) प्रभाव भी पाया जाता है। इसके अलावा, यह त्वचा को बैक्टीरिया और फंगल संक्रमण से भी बचाने में मददगार हो सकता है (29)। ये सभी गुण फटी एड़ियों की समस्या में फायदा पहुंचाने में मदद कर सकते हैं।

15. ऑलिव ऑयल

सामग्री :

  • ऑलिव ऑयल एक चम्मच

उपयोग करने का तरीका :

  • हाथों पर थोड़ा-सा ऑलिव ऑयल लेकर फटी एड़ियों पर लगाएं।
  • इसके बाद पैरों को आधे घंटे के लिए ऐसे ही छोड़ दें।
  • सोने से पहले रात को रोजाना इस प्रक्रिया को करें, जब तक एड़ियां मुलायम न हो जाए।

कैसे फायदेमंद है?

गर्मी में फटी एड़ियों का इलाज करने के लिए जैतून के तेल का इस्तेमाल किया जा सकता है। टी ट्री ऑयल की तरह ही इसमें हीलिंग और एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण पाए जाते हैं। इसके अलावा, यह ऑलिव ऑयल डर्मल रिकंस्ट्रक्शन यानी त्वचा के पुनर्निर्माण को बढ़ावा देने में सहायक हो सकता है (30)। इस आधार पर कहा जा सकता है कि फटी एड़ियों का इलाज करने में जैतून का तेल मददगार हो सकता है।

16. मॉइस्चराइजिंग मोजे

एड़ियां फटी होने का मुख्य कारण है त्वचा में मॉइस्चर की कमी होना। इसके लिए जरूरी है कि रात में सोने से पहले फटी एड़ियों को गुनगुने पाने से धो लें और साफ कपड़े से पोंछ लें। इसके बाद मॉइस्चराइजिंग क्रीम लगा लें और ऊपर से मोजे पहन लें। इसके अलावा, बाजार या ऑनलाइन उपलब्ध मॉइस्चराइजिंग मोजे खरीद कर इस्तेमाल किए जा सकते हैं। हालांकि, ये कितने प्रभावकारी होंगे इससे जुड़ा कोई सटीक वैज्ञानिक प्रमाण उपलब्ध नहीं है।

17. प्यूमिक स्टोन

सामग्री :

  • एक प्यूमिक स्टोन
  • एड़ियां भिगोने लायक गुनगुना पानी
  • टब

उपयोग करने का तरीका :

  • एड़ियां डुबोने भर के लिए टब में गुनगुना पानी डालें।
  • अब कुछ देर प्यूमिक स्टोन से एड़ियों की स्क्रबिंग करें।
  • अब साफ पानी से एड़ियों को धो लें और सूखाकर मॉइस्चराइजर लगाएं।
  • हर दूसरे दिन इसका उपयोग किया जा सकता है।

कैसे फायदेमंद है?

फटी एड़ियो का उपचार करने के लिए प्यूमिक स्टोन का भी उपयोग कर सकते हैं। प्यूमिक स्टोन की खुरदरी सतह मृत त्वचा को हटाने में मदद कर सकती है। वहीं, इसका इस्तेमाल करते वक्त ध्यान रखें कि प्यूमिक स्टोन का उपयोग आराम से किया जाए, वरना त्वचा छिल सकती है और खून निकल सकता है।

पढ़ते रहें लेख

घरेलू नुस्खे जानने के बाद आगे हम फटी एड़ियों के लिए मेडिकल उपचार है या नहीं, इसकी जानकारी देंगे।

फटी एड़ी के लिए मेडिकल उपचार – Medical treatments For Cracked Heels

फटी एड़ियां एक आम त्वचा समस्या है, इसके लिए किसी खास मेडिकल उपचार या फटी एड़ियों की दवा लेने की आवश्यकता नहीं होती है। ऊपर बताए गए घरेलू उपचार के जरिए इससे आराम पाया जा सकता है। वहीं, अगर समस्या गंभीर रूप ले लेती है और अन्य तकलीफ जैसे चलने में दर्द या सूजन हो, तो ऐसी स्थिति में त्वचा विशेषज्ञ से परामर्श किया जा सकता है। त्वचा विशेषज्ञ फटी एड़ियों की स्थिति को देखकर ऑइंटमेंट या अन्य दवा दे सकते हैं।

अंत तक पढ़ें

फटी एड़ियों की समस्या के दौरान आपका खान-पान

फटी एड़ियों से छूटकारा पाने के लिए खानपान पर भी ध्यान देना आवश्यक है। नीचे जानें इससे जुड़ी जानकारी।

  • विटामिन-सी युक्त खाद्य पदार्थों का सेवन किया जा सकता है। त्वचा को स्वस्थ रखने के लिए विटामिन-सी खास पोषक तत्व माना जाता है। इससे युक्त खाद्य पदार्थ स्किन को ड्राई होने से बचा सकते हैं। वहीं, इसकी कमी घाव भरने की क्षमता को कमजोर बना सकती है (32)। इसलिए, विटामिन-सी युक्त फलों (जैसे संतरा, चकोतरा व सेब) और सब्जियों का सेवन किया जा सकता है।
  • विटामिन-ई युक्त खाद्य-पदार्थों का सेवन भी फटी-एड़ियों की समस्या के दौरान खास माना जा सकता है। जैसा कि हमने ऊपर लेख में बताया कि विटामिन-ई त्वचा को हाइड्रेट रखने का काम कर सकता है (27)। वहीं, फटी-एड़ियों की समस्या के दौरान प्रभावित त्वचा में नमी की कमी देखी जा सकती है। इस खास तत्व की पूर्ति के लिए हरी-पत्तेदार सब्जियों, नट्स व बीज का सेवन किया जा सकता है (33)।
  • त्वचा को हाइट्रेट रखने के लिए शरीर का हाइट्रेड रहना जरूरी है। इसलिए, रोजाना पर्याप्त मात्रा में पानी का सेवन जरूरी है (34)।
  • फटी-एड़ियों की समस्या के दौरान उन खाद्य-पदार्थों को भी शामिल किया जा सकता है, जो हीलिंग प्रभाव को बढ़ावा देने का काम कर सकते हैं, जिसमें विटामिन-सी के साथ विटामिन ए और प्रोटीन युक्त खाद्य पदार्थ शामिल हैं। विटामिन-ए के लिए हरी-पत्तेदार सब्जियां, गाजर आदि का सेवन किया जा सकता है। वहीं, प्रोटीन के लिए डेयरी उत्पाद और अंडों का सेवन किया जा सकता है (34)।

अंत तक पढ़ें

आगे पढ़ें फटी एड़ियों की समस्या के दौरान जीवनशैली से जुड़ी जानकारी।

फटी एड़ियों की समस्या में आपकी जीवनशैली

  • पैरों का अच्छे से देखभाल करना बेहद जरूरी है।
  • खाली पैर चलने से परहेज करें। हमेशा जूता या चप्पल पहनें।
  • रोजाना पैरों को साफ करें।
  • ऐसे फुटवियर को पहनें जो एड़ी की दर्द और खिंचाव होने से बचाएं।
  • पैरों को हमेशा गुनगुने पानी से धोएं।
  • मॉइस्चराइजिंग क्रीम का इस्तेमाल करें।

आगे पढ़ें

आगे जानिए फटी एड़ियों से बचने के कुछ उपाय।

फटी एड़ियों से बचने के उपाय – Prevention Tips for Cracked Heels in Hindi

इलाज से बेहतर समस्या से बचाव है। इसलिए, फटी एड़ियों से बचाव के लिए आप नीचे बताए गए टिप्स को फॉलो कर अपनी एड़ियों को फटने से बचा सकते हैं।

  • अपनी एड़ियों को मॉइस्चराइज करके रखें। खासकर, सुबह कहीं बाहर जाने से पहले और रात को सोने से पहले पैरों पर क्रीम या लोशन जरूर लगाएं।
  • आरामदायक फुटवियर का चुनाव करें। सिर्फ फुटवियर की बाहरी खूबसूरती पर न जाएं, बल्कि आराम का भी ध्यान रखें।
  • प्रदूषण व धूल-मिट्टी से अपने पैरों को बचाएं और बाहर जाने से पहले मोजे जरूर पहनें।
  • बीच-बीच में अपनी एड़ियों को प्यूमिक स्टोन से जरूर रगड़ें।
  • पैरों को आराम देने के लिए जैतून या नारियल तेल से मालिश कर सकते हैं।
  • अपनी त्वचा को हाइड्रेट और कोमल रखने के लिए खूब पानी पिएं।
  • खाने में हरी सब्जियों व फलों को जरूर शामिल करें।
  • कहीं बाहर से आने के बाद पैरों को अच्छे से धोएं।

नोट – ऊपर बताए गए फटी एड़ियों के घरेलू उपाय के असर के लिए आपको धैर्य रखना होगा, क्योंकि ये कोई जादू नहीं कि तुरंत काम करें। अगर इन फटी एड़ियों के नुस्खे को आजमाने के बाद भी एड़ियों की दरारें ठीक न हों या उनमें से खून आ रहा हो, तो एक बार डॉक्टर से सलाह जरूर लें। फटी एड़ियों को अनदेखा न करें। वहीं, गर्मी में फटी एड़ियों का इलाज जरूरी है।

इस लेख को पढ़ने के बाद अब आप फटी हुई एड़ियों का घरेलू इलाज तो जान ही चुके हैं। ऊपर बताए गए फटी एड़ियों का इलाज न सिर्फ आसान हैं, बल्कि असरदार भी हैं। अगर कोई फटी एड़ियों की समस्या से जूझ रहा हो, तो इन उपायों को अपना सकता है। ध्यान रहे कि अगर कोई किसी गंभीर शारीरिक समस्या से ग्रसित है, तो इन उपायों को अपनाने से पहले डॉक्टर से सलाह जरूर लें। अब नीचे हम पाठकों द्वारा अक्सर पूछे जाने वाले सवालों के जवाब दे रहे हैं।

अक्सर पूछे जाने वाले सवाल :

आयुर्वेद के अनुसार, एड़ियों के फटने का क्या कारण है?

कभी-कभी अत्यधिक चलने के कारण या नंगे पैर चलने से एड़ियां फट सकती हैं।

गर्मी में फटी एड़ियों का इलाज कैसे करें?

गर्मी में फटी एड़िया का इलाज करने के लिए ऊपर दिए गए किसी भी नुस्खे का इस्तेमाल किया जा सकता है।

एड़ी फटने की क्रीम कौन-सी है?

अगर किसी को गंभीर ए़ड़ियों के फटने की शिकायत है, तो वो डॉक्टरी सलाह पर क्रैक हिल्स क्रीम का इस्तेमाल कर सकते हैं। वहीं, सामान्य स्थिति में किसी मॉइसराइजिंग क्रीम का इस्तेमाल किया जा सकता है।

पैर फट जाए तो क्या करना चाहिए?

पैर फटने पर सबसे पहले उसे अच्छे से धोकर उसमें मॉइस्चराइजिंग क्रीम लगाना चाहिए। फिर ऊपर दिए गए घरेलू उपचार को अपना सकते हैं। अगर इन प्रक्रियाओं के बावजूद भी फटी एड़ियों से राहत नहीं मिलती है, तो डॉक्टर की सलाह जरूर लें।

क्या लिस्टरीन पैर के लिए प्रभावी हैं?

लिस्टरीन (लगभग आधा कप) को गुनगुने पानी (आधी बाल्टी) में मिलाकर, फिर उसमें पैरो को कुछ देर डूबोकर रखा जा सकता है। इससे फटी-एड़ियों की समस्या में कुछ हद तक राहत मिल सकती है। हालांकि, यह उपाय कितना प्रभावी होगा, इससे जुड़े सटीक शोध का अभाव है। वहीं, इस उपाय को करने से पहले डॉक्टरी परामर्श जरूर लें।

फटी एड़ियों को ठीक करने में कितना समय लगता है?

फटी एड़ियों का ठीक होना इस बात पर निर्भर करता है कि वो किस हद तक प्रभावित हैं। अगर एड़ियों में हल्की दरारें हैं, तो वो एक से दो हफ्ते में ठीक हो सकती हैं। वहीं, अगर दरारें अधिक हैं, तो अधिक समय लग सकता है।

References

Articles on StyleCraze are backed by verified information from peer-reviewed and academic research papers, reputed organizations, research institutions, and medical associations to ensure accuracy and relevance. Read our editorial policy to learn more.

  1. Diabetic Foot
    https://medlineplus.gov/diabeticfoot.html
  2. Heel Injuries and Disorders
    https://medlineplus.gov/heelinjuriesanddisorders.html
  3. Management of Padadari (cracked feet) with Rakta Snuhi (Euphorbia caducifolia Haines.) based formulation: An open-labeled clinical study
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC6639817/
  4. Moisturisers for the treatment of foot xerosis: a systematic review
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC5297015/
  5. Fatty acid composition of vegetable oil blend and in vitro effects of pharmacotherapeutical skin care applications
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC6376324/
  6. Cosmetic properties of honey
    https://pdfs.semanticscholar.org/fa04/31d70ac761b966ddef0fd376287f594a4722.pdf
  7. Honey
    https://medlineplus.gov/druginfo/natural/738.html
  8. Honey: A Therapeutic Agent for Disorders of the Skin
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC5661189/
  9. Effect of rice starch as a bath additive on the barrier function of healthy but SLS-damaged skin and skin of atopic patients
    https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/12353708/
  10. Citrus limon (Lemon) Phenomenon—A Review of the Chemistry, Pharmacological Properties, Applications in the Modern Pharmaceutical, Food, and Cosmetics Industries, and Biotechnological Studies
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC7020168/
  11. Moisturizers: The Slippery Road
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC4885180/
  12. A randomized double-blind controlled trial comparing extra virgin coconut oil with mineral oil as a moisturizer for mild to moderate xerosis
    https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/15724344/
  13. Moisturizers
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/books/NBK545171/#:~:text=Glycerin%20is%20another%20commonly%20used,%2C%20sorbitol%2C%20and%20hyaluronic%20acid
  14. Skin anti‐inflammatory activity of rose petal extract (Rosa gallica) through reduction of MAPK signaling pathway
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC6261181/
  15. The Hunt for Natural Skin Whitening Agents
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC2801997/
  16. Diclofenac sodium
    https://pubchem.ncbi.nlm.nih.gov/compound/Diclofenac-sodium
  17. Evaluation of the wound healing activity of sesame oil extract in rats
    https://www.researchgate.net/publication/285939888_Evaluation_of_the_wound_healing_activity_of_sesame_oil_extract_in_rats
  18. The Effects of Topical Sesame (Sesamum indicum) Oil on Pain Severity and Amount of Received Non-Steroid Anti-Inflammatory Drugs in Patients With Upper or Lower Extremities 20. Emollients
    https://www.researchgate.net/publication/314663004_Emollients
  19. Interaction of mineral salts with the skin: A literature survey
    https://www.researchgate.net/publication/227393833_Interaction_of_mineral_salts_with_the_skin_A_literature_survey
  20. Aloe Vera: A Short Review
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC2763764/
  21. Traditional and medicinal uses of banana
    https://www.researchgate.net/publication/285484754_Traditional_and_medicinal_uses_of_banana
  22. Hass Avocado Composition and Potential Health Effects
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC3664913/
  23. Vitamin E in dermatology
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC4976416/#!po=26.4706
  24. The role of vitamin E in normal and damaged skin
    https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/7633944/
  25. Influence of vitamin E acetate on stratum corneum hydration
    https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/9706379/
  26. Anti-inflammatory activities of colloidal oatmeal (Avena sativa) contribute to the effectiveness of oats in treatment of itch associated with dry, irritated skin
    https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/25607907/
  27. Acute Effects of Transdermal Administration of Jojoba Oil on Lipid Metabolism in Mice
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC6780807/
  28. A review of applications of tea tree oil in dermatology
    https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/22998411/
  29. Anti-Inflammatory and Skin Barrier Repair Effects of Topical Application of Some Plant Oils
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC5796020/
  30. The Roles of Vitamin C in Skin Health
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC5579659/#:~:text=Normal%20skin%20contains%20high%20concentrations,protection%20against%20UV%2Dinduced%20photodamage.
  31. Vitamin E
    https://medlineplus.gov/ency/article/002406.htm#:~:text=Vitamin%20E%20is%20found%20in%20the%20following%20foods%3A,breakfast%20cereals%2C%20fruit%20juices%2C%20margarine%2C%20and%20spreads.%20
  32. Dietary water affects human skin hydration and biomechanics
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC4529263/
  33. Diet, wound healing and plastic surgery
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC3745116/

और पढ़े:

Was this article helpful?
thumbsupthumbsdown
Saral Jain

Saral Jainहेल्थ एंड वेलनेस राइटर

सरल जैन ने श्री रामानन्दाचार्य संस्कृत विश्वविद्यालय, राजस्थान से संस्कृत और जैन दर्शन में बीए और डॉ. सी. वी. रमन विश्वविद्यालय, छत्तीसगढ़ से पत्रकारिता में बीए किया है। सरल को इलेक्ट्रानिक व प्रिंट मीडिया का लगभग 9 वर्ष का अनुभव है। इन्होंने 3 साल तक टीवी चैनल के कई कार्यक्रमों में एंकर की भूमिका भी निभाई है। इनकी रुचि घरेलू...read full bio

ताज़े आलेख