Medically Reviewed By Dr. Suvina Attavar, MBBS, DVD
Written by , (शिक्षा- बैचलर ऑफ जर्नलिज्म एंड मीडिया कम्युनिकेशन)

कोमल उंगलियों पर मनचाहा नेल पेंट या खूबसूरत अंगूठी सजाने का शौक लगभग हर किसी को होता है। ऐसे में  उंगलियों की त्वचा को स्वस्थ रखना भी जरूरी है। अगर उंगलियों पर ध्यान न दिया जाए तो फटी उंगलियों की समस्या हो सकती है। फटी उंगलियां न सिर्फ हाथों की शोभा बिगाड़ती हैं, बल्कि इनमें दर्द भी हो सकता है। ऐसे में वक्त रहते उंगलियां फटने के कारण पर ध्यान देना आवश्यक है। तो स्टाइलक्रेज का हमारा यह लेख इसी सामान्य, लेकिन गंभीर समस्या पर है। यहां हम फटी उंगलियों को ठीक करने के घरेलू उपाय बताएंगे। तो फटी उंगलियों के लिए घरेलू उपाय को जानने के लिए लेख को अंत तक पढ़ें।

स्क्रॉल करें

आर्टिकल में सबसे पहले हम बता रहे हैं उंगलियों के फटने के कारणों के बारे में।

उंगलियां फटने के कारण – Causes of Cracked Skin On The Fingertips in Hindi

उंगलियों के फटने का एक ही मुख्य कारण माना जाता है। यह कारण कुछ और नहीं, बल्कि स्किन ड्राइनेस यानी त्वचा का रूखा होना होता है (1)। स्किन रूखी किन कारणों से होती है इसके बारे में हम आगे बिंदुओं के माध्यम से समझा रहे हैं (2) (3) (4)।

  • बार-बार हाथ धोना।
  • कठोर केमिकल वाले साबुन या अन्य उत्पाद का इस्तेमाल करना।
  • सनबर्न।
  • शुष्क, गर्म और ठंडा मौसम।
  • एक्जिमा और सोरायसिस।
  • कॉन्टेक्ट डर्मेटाइटिस (Contact dermatitis – त्वचा में लालिमा और सूजन की स्थिति)।

उंगलियों के फटने के अन्य कारण भी हो सकते हैं, जो कुछ इस प्रकार हैं:

  • विटामिन-ए – विटामिन-ए का अधिक सेवन करने से भी त्वचा छिल सकती है। ऐसे में यह उंगलियों के फटने का कारण हो सकता है (5)।
  • कावासाकी बीमारी – यह एक दुर्लभ बीमारी, जिसमें रक्त वाहिकाओं की सूजन की समस्या हो सकती है। त्वचा का छिलना या फटना इसके लक्षणों में से एक है। कावासाकी बीमारी (Kawasaki disease) पांच साल से कम उम्र के बच्चों को प्रभावित कर सकती है (6)।
  • केराटोलाइसिस एक्सफोलिएटिवा (Keratolysis exfoliativa) – यह एक त्वचा संबंधी समस्या है, जिसमें हाथ की त्वचा छिलने लग सकती है। ऐसे तो इसका कारण अज्ञात है, लेकिन माना जाता है कि खासतौर पर गर्मी के मौसम में पसीने के कारण यह समस्या हो सकती है (7)। ऐसे में उंगलियों के फटने का एक कारण यह भी हो सकता है।
  • राइबोफ्लेविन की कमी – राइबोफ्लेविन (Riboflavin), जिसे विटामिन बी 2 भी कहा जाता है, इसकी शरीर में कमी भी त्वचा के फटने और रूखे होने का कारण हो सकता है। इतना ही नहीं यह त्वचा में खुजली और डर्मेटाइटिस (एक्जिमा) का कारण भी बन सकता है (8)। जैसे कि हमने पहले ही जानकारी दी है कि इन दोनों का ही परिणाम त्वचा का रूखा होना हो सकता है। वहीं, रूखी त्वचा उंगलियों के फटने का कारण हो सकती है।
  • अंगूठा चूसना – कई लोगों का मानना है कि अंगूठा चूसना या उंगली की त्वचा को दांत से काटने की आदत भी फटी उंगलियों का कारण हो सकता है। हालांकि, इस विषय को लेकर अभी शोध की आवश्यकता है।

पढ़ना जारी रखें

आइए, अब जानते हैं कि फटी उंगलियों की समस्या में किन-किन घरेलू उपायों को अपनाया जा सकता है।

फटी उंगलियां ठीक करने के घरेलू उपाय – Home Remedies for Cracked Fingertips in Hindi

जैसे कि लेख की शुरुआत में ही हमने जानकारी दी है कि उंगलियां फटने का मुख्य कारण रूखी त्वचा है। ऐसे में फटी उंगलियों के लिए घरेलू उपाय में उन सामग्रियों को उपयोग करने की जरूरत है जो त्वचा को मॉइस्चराइज कर सके। इसी बात को ध्यान में रखते हुए यहां हम फटी उंगलियां ठीक करने के घरेलू उपाय के कुछ आसान नुस्खे बता रहे हैं, जो कुछ इस प्रकार हैं:

1. वैसलीन

सामग्री :

  • वैसलीन

उपयोग का तरीका:

  • वैसलीन को अपने हाथों और उंगलियों पर अच्छी तरह लगा लें।
  • वैसलीन दिन में कई बार अपने हाथों और उंगलियों पर लगा सकते हैं। खासतौर पर तब, जब त्वचा रूखी होने लगे।

कैसे फायदेमंद है :

फटी उंगलियों हो या फिर रूखी त्वचा वैसलीन का उपयोग दोनों समस्याओं में ही फायदेमंद हो सकता है। वैसलीन को पेट्रोलियम जेली भी कहा जाता है। एनसीबीआई (National Center for Biotechnology Information) की वेबसाइट पर प्रकाशित एक रिपोर्ट में इस बात का जिक्र मिलता है कि वैसलीन रूखी, फटी त्वचा से बचाव के लिए उपयोगी हो सकता है (9)। ऐसे में त्वचा की नमी को बनाएं रखने और फटी उंगलियों से बचाव के लिए यह आसान और उपयोगी विकल्प हो सकता है।

2. शहद

सामग्री :

  • एक चम्मच शहद
  • एक चम्मच नारियल तेल
  • एक कटोरा

उपयोग का तरीका:

  • एक कटोरे में शहद और नारियल तेल को मिला लें।
  • अब इस मिश्रण को अपने हाथों में क्रीम की तरह लगाएं।
  • इस मिश्रण को कुछ देर हाथों और उंगलियों पर लगा रहने दें, फिर पानी से धो लें।
  • यह नुस्खा सप्ताह में दो से तीन बार उपयोग कर सकते हैं।

कैसे फायदेमंद है :

जैसी कि हमने ऊपर बताया कि उंगलियों के फटने का एक कारण ड्राई स्किन यानी रूखी त्वचा भी है। वहीं, शोध में पाया गया कि त्वचा के लिए शहद का उपयोग स्किन को मॉइस्चराइज रखने के लिए सदियों से किया जाता रहा है। शहद त्वचा को कोमल और मुलायम बनाने में सहायक हो सकता है। साथ ही यह त्वचा की टिश्यू को भरने में भी उपयोगी हो सकता है (10)। वहीं, नारियल तेल त्वचा के रूखेपन को कम करने के साथ-साथ सोरायसिस, एक्जिमा और त्वचा के संक्रमण से बचाव करने में सहायक हो सकता है (11)।

शहद और नारियल तेल दोनों में ही मॉइस्चराइजिंग गुण हैं, जो त्वचा की ड्राइनेस पर असरदार हो सकता है। इस आधार पर कहा जा सकता है कि नारियल तेल और शहद का उपयोग फटी उंगलियों की समस्या से बचाव या राहत दिलाने में सहायक हो सकता है।

3. सेंधा नमक

सामग्री :

  • आधा कप सेंधा नमक
  • पानी (आवश्यकतानुसार)
  • एक बड़ा कटोरा

उपयोग का तरीका:

  • एक बड़े कटोरे में गुनगुना पानी लें।
  • इस पानी में आधा चम्मच सेंधा नमक मिलाएं।
  • दोनों हाथों को 10 से 15 मिनट के लिए पानी में भिगोएं।
  • आप नमक से हाथों को एक्सफोलिएट भी कर सकते हैं।
  • इस प्रक्रिया को सप्ताह में एक बार कर सकते हैं।

कैसे फायदेमंद है :

सेंधा नमक का उपयोग त्वचा के लिए काफी फायदेमंद हो सकता है। शोध में पाया गया कि इसमें क्लींजिंग और डिटॉक्सिफाइंग प्रभाव होते हैं, जो डेड स्किन सेल्स को एक्सफोलिएट करने में मदद कर सकता है। सेंधा नमक त्वचा को ड्राई नहीं करता है, ऐसे में इसका इस्तेमाल हाथ और पैरों को स्क्रब करने के लिए किया जाता रहा है। साथ ही स्किन के टिश्यू को मजबूत बनाकर त्वचा में नयापन और चमक ला सकता है। साथ ही यह त्वचा को सुरक्षा प्रदान कर सकता है । ऐसे में त्वचा कोमलता बरकरार रह सकती है और फटी उंगलियों की समस्या से बचाव हो सकता है।

4. नारियल का तेल

सामग्री :

एक चम्मच नारियल तेल

उपयोग का तरीका:

  • नारियल तेल लें और दोनों हाथों की मालिश करें।
  • अब तेल को त्वचा में अवशोषित होने दें।
  • नहाने के बाद या सोने से पहले रोजाना इस तेल का उपयोग किया जा सकता है।

कैसे फायदेमंद है :

जैसे कि लेख की शुरुआत में ड्राई स्किन को फटी उंगलियों के मुख्य कारणों में से एक बताया गया है। वहीं, फटी उंगलियों की समस्या से बचाव के लिए त्वचा को मॉइस्चराइजर की आवश्यकता होती है। ऐसे में नारियल तेल का उपयोग लाभकारी हो सकता है। दरअसल, एनसीबीआई की वेबसाइट पर प्रकाशित एक शोध में, नारियल तेल का उपयोग मॉइस्चराइजर के तौर पर प्रभावी पाया गया है (12)। इस आधार पर कहा जा सकता है कि नारियल तेल त्वचा के रूखेपन को कम करने और फटी उंगलियों की समस्या से बचाव करने में सहायक हो सकता है।

5. टी-ट्री ऑयल

सामग्री :

  • दो से तीन बूंद टी-ट्री ऑयल
  • एक-दो चम्मच नारियल तेल
  • एक कटोरी

उपयोग का तरीका:

  • टी-ट्री ऑयल और नारियल तेल को एक कटोरी में मिला लें।
  • इस मिश्रण को अपनी उंगलियों पर लगाएं और रात भर इसे लगा छोड़ दें।
  • अगली सुबह हाथ धो लें।
  • रोजाना रात को सोने से पहले इसे अपने हाथों पर लगाएं।

कैसे फायदेमंद है :

त्वचा संबंधी कई समस्याओं में टी-ट्री ऑयल का उपयोग फायदेमंद हो सकता है। रिसर्च के मुताबिक त्वचा संबंधी बैक्टीरियल और फंगल संक्रमण जैसे- एक्जिमा और सोरायसिस की समस्या में यह फायदेमंद हो सकता है (13)। वहीं, हमने लेख की शुरुआत में ही जानकारी दी है कि एक्जिमा और सोरायसिस भी उंगलियों के फटने का कारण हो सकता है। टी-ट्री ऑयल के साथ फटी उंगलियां ठीक करने के घरेलू उपाय में नारियल तेल को भी शामिल किया गया है। नारियल तेल त्वचा को नमी प्रदान करने में सहायक हो सकता है। ऐसे में फटी उंगलियों से बचाव के लिए यह उपाय लाभकारी हो सकता है।

सावधानी :

टी-ट्री ऑयल को बिना कैरियर ऑयल या डायलुट किए हुए न लगाएं, क्योंकि इससे त्वचा में जलन महसूस हो सकती है।

6. अरंडी का तेल

सामग्री :

  • अरंडी का तेल (आवश्यकतानुसार)

उपयोग का तरीका:

  • थोड़ा-सा अरंडी का तेल लें और फटी उंगलियों पर मालिश करें।
  • फिर 15-20 मिनट बाद धो लें।
  • आप चाहें तो इसे रात भर लगाकर छोड़ सकते हैं।
  • रोजाना दिन में एक बार इसे लगाएं।

कैसे फायदेमंद है :

अरंडी के तेल का उपयोग भी त्वचा के रूखे होने के कारण फटने वाली उंगलियों के लिए उपयोग किया जा सकता है। रिसर्च के अनुसार अरंडी के तेल में फैटी एमोलिएंट (Fatty Emollient) होते हैं। ये एमोलिएंट त्वचा को मॉइस्चराइज करने और ड्राई होने से बचाव कर सकते हैं (14)। इसके अलावा, अरंडी के तेल का उपयोग कई तरह के कॉस्मेटिक प्रोडक्ट जैसे – स्किन केयर क्रीम, मॉइस्चराइजर, हैंड क्रीम में भी उपयोग किया जाता है (15)। इस आधार पर माना जा सकता है कि अरंडी के तेल का उपयोग उंगलियों की त्वचा को कोमल और मुलायम रखने और उसे फटने से बचाने के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है।

7. जैतून का तेल

सामग्री :

  • दो चम्मच जैतून का तेल
  • दो बूंद लैवेंडर एसेंशियल ऑयल
  • वॉश क्लॉथ यानी हांथ पैर पोछने वाला कपड़ा
  • एक कटोरा

उपयोग का तरीका:

  • एक कटोरे में लैवेंडर तेल को जैतून के तेल के साथ अच्छी तरह मिला लें।
  • अब इस मिश्रण को प्रभावित त्वचा पर लगाएं।
  • यदि तेल ज्यादा लग जाए तो इसे कपड़े से पोंछ सकते हैं।
  • इस तेल का उपयोग मॉइस्चराइजर की तरह हर दूसरे दिन कर सकते हैं।

कैसे फायदेमंद है :

जैतून के तेल का इस्तेमाल फटी उंगलियों की समस्या में भी किया जा सकता है। एक शोध के मुताबिक जैतून के तेल में स्क्वालीन (Squalene) नामक तत्व पाया जाता है। इस तत्व में मॉइस्चराइजिंग प्रभाव होता है, जो ड्राई स्किन की समस्या से आराम दिलाने में मदद कर सकता है। इसके अलावा शोध में इस बात का जिक्र भी मिलता है कि जैतून के तेल का उपयोग डर्मेटाइटिस और सोरायसिस की समस्या में राहत का काम कर सकता है। त्वचा के लिए जैतून के तेल को सुरक्षित भी पाया गया है (16)।

वहीं, यहां लैवेंडर एसेंशियल ऑयल का भी उपयोग किया गया है, जिसमें एंटी-सोराइटिक गुण होने की पुष्टि हुई है। इसके अलावा, इसमें एंटी-इंफ्लेमेटरी और हीलिंग प्रभाव होता है। इन दोनों प्रभाव के कारण ही इसका उपयोग सोरायसिस, डर्मेटाइटिस और एक्जिमा जैसी त्वचा संबंधी समस्याओं में राहत के लिए उपयोग किया जा सकता है (19)।

सावधानी – जैतून के तेल को पानी में या अन्य तेल में डायलुट करके ही उपयोग करना उचित है।

8. अलसी का तेल

सामग्री :

  • कुछ बूंद अलसी का तेल

उपयोग का तरीका:

  • अलसी के तेल की कुछ बूंदें प्रभावित क्षेत्र पर लगाएं।
  • इससे उंगलियों की मालिश करें।
  • दिन में एक या दो बार इस तेल को लगाएं।

कैसे फायदेमंद है :

त्वचा संबंधी की कई समस्याओं में अलसी का तेल उपयोगी माना गया है। अलसी के बीजों का उपयोग करके तैयार किया गया यह तेल, त्वचा को हाइड्रेट करने के साथ-साथ कोमल और मुलायम बना सकता है। यह पपड़ीदार त्वचा की समस्या से भी बचाव कर सकता है (18)। इस आधार पर माना जा सकता है कि फटी उंगलियां ठीक करने के घरेलू उपाय में या इससे बचाव के लिए अलसी का तेल उपयोगी हो सकता है।

9. बादाम का तेल

सामग्री :

  • चार छोटा चम्मच बादाम तेल
  • कुछ बूंदें अलसी के तेल की
  • एक चोटी शीशी

उपयोग का तरीका:

  • सबसे पहले बादाम तेल में अलसी के तेल को मिलाकर एक शीशी में रख लें।
  • इस मिश्रण को रोजाना सोने से पहले त्वचा पर मॉइस्चराइजर की तरह इस्तेमाल करें।

कैसे फायदेमंद है :

एक्जिमा और सोरायसिस के कारण भी त्वचा का रूखापन हो सकता है और इससे उंगलियां फट सकती है (3)। वहीं, इस समस्या में बादाम का तेल फायदेमंद माना गया है। इसके अलावा बादाम के तेल में इमोलिएंट (Emollient-त्वचा को आराम देने वाला) प्रभाव भी होता है, जिसके कारण यह त्वचा को मॉइस्चराइज करने में मदद कर सकता है। इस प्रकार हम यह कह सकते हैं कि फटी उंगलियों की समस्या से बचाव में त्वचा के लिए बादाम तेल का उपयोग किया जा सकता है (19)।

10. एलोवेरा जेल

सामग्री :

  • एलोवेरा का एक पत्ता

उपयोग का तरीका:

  • सबसे पहले एलोवेरा के टुकड़े या पत्ती में से जेल को निकाल लें।
  • चाहें तो बाजार में मिलने वाले एलोवेरा जेल का उपयोग भी किया जा सकता है।
  • इस जेल को रूखी और फटी हुई त्वचा पर लगाएं।
  • रोजाना सोने के पहले भी इस जेल का उपयोग किया जा सकता है।

कैसे फायदेमंद है :

वर्षों से एलोवेरा जेल का उपयोग त्वचा की समस्याओं के लिए किया जाता रहा है। फटी उंगलियों की समस्या में भी यह फायदेमंद हाे सकता है। रिसर्च के अनुसार इसमें मॉइस्चराइजिंग गुण होता है, जो रूखी त्वचा की समस्या के लिए लाभकारी हो सकता है। इसमें एंटी-इंफ्लेमेटरी और हीलिंग गुण भी मौजूद होते हैं, जो त्वचा पर होने वाले जख्म के लिए उपयोगी हो सकते हैं (20)। एलोवेरा जेल के इन प्रभावों के कारण इसे फटी उंगलियों की परेशानी के लिए उपयोगी माना जा सकता है।

11. ग्लिसरीन:

सामग्री :

  • एक चम्मच ग्लिसरीन
  • एक चम्मच गुलाब जल
  • एक शीशी

उपयोग का तरीका:

  • गुलाब जल और ग्लिसरीन को मिला लें।
  • फिर इस मिश्रण को एक शीशी में रख लें।
  • इस मिश्रण को दिन में कई बार अपनी उंगलियों पर लगा सकते हैं।

कैसे फायदेमंद है :

ग्लिसरीन का उपयोग रूखी त्वचा की समस्या में आम है। शोध में पाया गया कि है कि ग्लिसरीन युक्त क्रीम का उपयोग त्वचा को मॉइस्चराइज कर सकता है (20)। साथ ही त्वचा को मुलायम और नरम बनाने में भी लाभदायक हो सकता है, जिससे उंगलियों के फटने का जोखिम कम हो सकता है। इसके अलावा एक अन्य शोध में पाया गया कि ग्लिसरीन में हुमेक्टैंट (Humectants- मॉइस्चराइजिंग गुण) प्रभाव यानी त्वचा की नमी बरकरार रखने का गुण भी पाया जाता है (14)।

वहीं, गुलाब जल का उपयोग भी त्वचा के लिए कई सालों से किया जाता रहा है। यह न सिर्फ त्वचा को हाइड्रेट रख सकता है, बल्कि स्किन को मॉइस्चराइज करके जवां बनाने में सहायक हो सकता है। साथ ही त्वचा में किसी प्रकार की लालिमा या रैशेज से भी राहत दिला सकता है (18)।

पढ़ते रहें

आर्टिकल के इस हिस्से में हम बता रहे हैं फटी उंगलियों से राहत पाने के लिए कुछ और टिप्स।

फटी उंगलियों से राहत पाने के कुछ अन्य टिप्स – Other Tips To Prevent Cracked Fingertips in Hindi

अभी तक आपने पढ़ा उंगलियों के फटने के कारण और उसके घरेलू उपचार के बारे में। अब फटी उंगलियों की समस्या से बचाव के लिए या राहत पाने के लिए कुछ टिप्स दिए गए हैं, जो कुछ इस प्रकार हैं :

  • ठंड के मौसम में या तेज धूप में बाहर जाते समय अपने हाथों को ढक कर रखें।
  • दस्ताने का उपयोग सर्दियों में हाथों को नरम बनाए रखने के लिए किया जा सकता है।
  • हमेशा अपने हाथों को मॉइस्चराइज करके रखें।
  • खूब पानी पिएं और खुद को हाइड्रेट रखें।
  • गुनगुने पानी से हाथ धोएं।
  • हैंड सैनिटाइजर का ज्यादा इस्तेमाल न करें, इससे त्वचा और रूखी हो सकती है।
  • बार-बार हाथ न धोएं।
  • हाथ धोने के बाद मॉइस्चराइजर या हैंड क्रीम का उपयोग भी फायदेमंद हो सकता है।
  • घर के अंदर ह्यूमिडिफायर का उपयोग करें। यह हवा के कारण होने वाले ड्राइनेस को कम कर सकता है (19)।

नोट :  हम यह स्पष्ट कर दें कि ऊपर बताए गए फटी उंगलियां ठीक करने के घरेलू उपाय हल्की-फुल्की समस्या के लिए उपयोगी हो सकते हैं। अगर इन उपायों के बाद भी फटी उंगली की समस्या बरकरार रहे या उंगलियों से खून आने लगे या दर्द बढ़ने लगे, तो तुरंत अपने डॉक्टर से संपर्क करें।

अब फटी उंगलियों के कारण हाथ छिपाने की जरूरत नहीं पड़ेगी। ऊपर बताए गए घरेलू उपचार से फटी उंगलियों से राहत पा सकेंगे। इतना ही नहीं यहां दिए गए टिप्स को आजमाकर इस समस्या से बचाव भी किया जा सकता है। हालांकि, कुछ सावधानियों को ध्यान में रखें तो फटी उंगलियों की समस्या को होने से रोकने के साथ ही इससे जल्दी छुटकारा पाया जा सकता है। आशा करते हैं कि फटी उंगलियों से राहत दिलाने की जानकारी देता यह आर्टिकल फायदेमंद रहा होगा। सेहत और स्वास्थ्य से जुड़ी जानकारी के लिए बने रहिए स्टाइलक्रेज के साथ।

अक्सर पूछे जाने वाले सवाल

आप रात भर में फटी उंगलियों को कैसे ठीक करते हैं?

रात भर में फटी उंगलियों को ठीक नहीं किया जा सकता है, लेकिन ऊपर दिए गए उपायों से इस समस्या में थोड़ी राहत जरूर मिल सकती है।

मेरी उंगलियों में दरार और खून क्यों आता है?

उंगलियां फटने और उनमें से खून आने के कई कारण हो सकते हैं, जैसे कि हाथों की स्किन का सूखना, सूजन, संक्रमण आदि (20)। ऐसे में अगर समस्या ज्यादा हो तो त्वचा विशेषज्ञ की सलाह लेकर समस्या का सटीक कारण जानें और इलाज कराएं।

आप गंभीर रूप से फटी उंगलियों को कैसे ठीक करते हैं?

गंभीर रूप से फटी उंगलियों की समस्या में राहत पाने के लिए तुरंत ही डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए। यदि समस्या सामान्य है तो ऊपर दिए नुस्खों को आजमाया जा सकता है।

फटी उंगलियों के लिए सबसे अच्छी क्रीम कौन सी है?

फटी उंगलियों की समस्या में सबसे अच्छी वह क्रीम हो सकती है जो त्वचा और उंगलियों में नमी बनाए रखने के साथ ही कई प्रकार के संक्रमण से भी बचा सके। इसके अलावा, अगर समस्या गंभीर हो तो विशेषज्ञ से क्रीम के बारे में सलाह ले सकते हैं।

और पढ़े:

Sources

Articles on StyleCraze are backed by verified information from peer-reviewed and academic research papers, reputed organizations, research institutions, and medical associations to ensure accuracy and relevance. Read our editorial policy to learn more.

  1. Moisturisers for the treatment of foot xerosis: a systematic review
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC5297015/

2. Dry skin – self-care
https://medlineplus.gov/ency/patientinstructions/000751.htm#:~:text=Moisturize%20your%20skin%20with%20an,%2C%20dyes%2C%20or%20other%20chemicals.

3. Vitamin A Toxicity
https://www.ncbi.nlm.nih.gov/books/NBK532916/

4. Riboflavin Deficiency
https://www.ncbi.nlm.nih.gov/books/NBK470460/

5. petroleum jelly
https://www.cancer.gov/publications/dictionaries/cancer-terms/def/petroleum-jelly

6. Medicinal and cosmetic uses of Bee’s Honey – A review
https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC3611628/

7. Medicinal benefit of coconut oil
https://www.researchgate.net/publication/268805677_Medicinal_benefit_of_coconut_oil

8. A randomized double-blind controlled trial comparing extra virgin coconut oil with mineral oil as a moisturizer for mild to moderate xerosis
https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/15724344/

9. Tea tree oil
https://pubchem.ncbi.nlm.nih.gov/compound/Tea-tree-oil

10. The Role of Moisturizers in Addressing Various Kinds of Dermatitis: A Review
https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC5849435/

11. Final Report on the Safety Assessment of Ricinus Communis (Castor) Seed Oil, Hydrogenated Castor Oil, Glyceryl Ricinoleate, Glyceryl Ricinoleate SE, Ricinoleic Acid, Potassium Ricinoleate, Sodium Ricinoleate, Zinc Ricinoleate, Cetyl Ricinoleate, Ethyl Ricinoleate, Glycol Ricinoleate, Isopropyl Ricinoleate, Methyl Ricinoleate, and Octyldodecyl Ricinoleate1
https://journals.sagepub.com/doi/pdf/10.1080/10915810701663150

12. Topical use of olive oil preparation to prevent radiodermatitis: results of a prospective study in nasopharyngeal carcinoma patientsTopical use of olive oil preparation to prevent radiodermatitis: results of a prospective study in nasopharyngeal carcinoma patients
https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC4565279/

13. Anti-psoriatic effect of Lavandula angustifolia essential oil and its major components linalool and linalyl acetate
https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/32623016/

14. The Enigma of Bioactivity and Toxicity of Botanical Oils for Skin Care
https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC7272663/

15. The uses and properties of almond oil
https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/20129403/

16. ALOE VERA: A SHORT REVIEW
https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC2763764/

17. A double-blind study comparing the effect of glycerin and urea on dry, eczematous skin in atopic patients
https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/12013198/

18. Formulation and evaluation of herbal face mist
http://www.jipbs.com/VolumeArticles/FullTextPDF/471_JIPBSV7I102.pdf

19. Effects of water nanodroplets on skin moisture and viscoelasticity during air-conditioning
https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/23590637/

20. Dermatologic Diagnoses in the Perianal Area
https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC2780053/

Was this article helpful?
thumbsupthumbsdown
The following two tabs change content below.
सरल जैन ने श्री रामानन्दाचार्य संस्कृत विश्वविद्यालय, राजस्थान से संस्कृत और जैन दर्शन में बीए और डॉ. सी. वी. रमन... more

Dr. Suvina Attavar

(MBBS, DVD)
Dr. Suvina Attavar - I have a thirst for learning and a passion for Dermatology, Cosmetology and hair transplantation. I... more

ताज़े आलेख