फोलिक एसिड क्या है, इसके फायदे और खाद्य सामग्री – Folic Acid Benefits in Hindi

by

शरीर एक मशीन की तरह होता है और इस मशीन को लगातार काम करने के लिए सही पोषण मिलना जरूरी है। शरीर को स्वस्थ रहने और बीमारियों से लड़ने के लिए कई पोषक तत्वों की जरूरत होती है, जिनमें फोलिक एसिड भी एक अहम भूमिका निभाता है। अब तो आप समझ ही गए होंगे कि हमारे इस लेख का विषय क्या है। स्टाइलक्रेज के इस लेख में हम आपको न सिर्फ फोलिक एसिड क्या है यह बताएंगे, बल्कि फोलिक एसिड के उपयोग और उसकी कमी से होने वाली समस्याओं के बारे में भी जानकारी देंगे। इन सभी सवालों के जवाब जानने के लिए आगे पढ़िए ये लेख।

सबसे पहले जानते हैं कि फोलिक एसिड क्या है?

फोलिक एसिड क्या है और आपके शरीर में इसकी भूमिका क्या है?

फोलिक एसिड के फायदे जानने से पहले यह जान लेना जरूरी है कि फोलिक एसिड क्या है और यह हमारे शरीर के लिए क्यों जरूरी है? बता दें फोलेट एक प्राकृतिक विटामिन-बी है, जो स्वाभाविक रूप से कुछ खाद्य पदार्थ (हरी पत्तेदार सब्जियों, खट्टे फल और फलियों) में पाया जाता है। वहीं, फोलिक एसिड एक अप्राकृतिक (synthetic) फोलेट है, जिसका इस्तेमाल एक सप्लीमेंट के रूप में फोलेट की कमी को पूरा करने के लिए किया जाता है। फोलिक एसिड को विटामिन बी -9, फोलासीन या फोलेट के रूप में भी जाना जाता है। यह शरीर में नए रेड ब्लड सेल यानी लाल रक्त कोशिकाओं को बनने में मदद करता है। शरीर में इसकी कमी के कारण मेगालोब्लास्टिक एनीमिया (megaloblastic anemia- इसमें लाल रक्त कोशिकाएं जरूरत से ज्यादा बड़ी हो जाती हैं) हो सकता है (1) (2) (3)।

फोलिक एसिड गर्भवती महिला या जो महिला गर्भवती होना चाहती है, उसके लिए बहुत ही आवश्यक होता है। यह भ्रूण को स्वस्थ और सुरक्षित रखने के साथ-साथ जन्म दोष से भी बचाव कर सकता है (4)।

लेख के आगे के भाग में जानिए फोलिक एसिड के फायदे।

फोलिक एसिड के फायदे – Benefits of Folic Acid in Hindi

वैसे तो फोलिक एसिड के फायदे अनेक हैं, जिनमें से कुछ के बारे में हम आपको नीचे जानकारी दे रहे हैं।

1. ह्रदय के लिए फोलिक एसिड

Shutterstock

अनियंत्रित जीवनशैली की वजह से दिल से संबंधित बीमारियां दिन-प्रतिदिन बढ़ती जा रही हैं। ऐसे में फोलिक एसिड एक कारगर भूमिका निभा सकता है। एक वैज्ञानिक शोध से इस बात का पता चला है कि फोलिक एसिड सप्लीमेंट दिल के दौरे के साथ-साथ स्ट्रोक के जोखिम से बचाव का काम कर सकता है (5)। साथ ही फोलिक एसिड ह्रदय स्वास्थ्य को बरकरार रखने का काम कर सकता है (6)।

2. कैंसर के लिए फोलिक एसिड

कैंसर जैसी घातक बीमारी में भी फोलिक एसिड के लाभकारी प्रभाव देखे जा सकते हैं। डाइट में फोलिक एसिड युक्त खाद्य पदार्थों को शामिल करने से ब्रेस्ट कैंसर का खतरा कम हो सकता है। हालांकि, इस विषय पर अभी और शोध की आवश्यकता है (7)(8)।

3. चिंता-तनाव के लिए फोलिक एसिड

Shutterstock

बच्चों से लेकर बूढ़े तक को तनाव और चिंता की समस्या हो सकती है। कई बार लोग समझ ही नहीं पाते कि उन्हें तनाव की समस्या है। इन समस्याओं से बचने के लिए पोषक तत्व एक अहम भूमिका निभाते हैं, क्योंकि पोषक तत्वों की कमी के कारण तनाव हो सकता है और फोलेट उन्हीं में से एक है (9)। फोलिक एसिड के सप्लीमेंट से तनाव की समस्या कम हो सकती है, लेकिन इसके मिले-जुले परिणाम है (10) (11)। सिर्फ फोलिक एसिड ही नहीं, बल्कि इसके साथ विटामिन बी 12 के सेवन से भी तनाव की समस्या से राहत मिल सकती है (12)।

4. नवजात में न्यूरल ट्यूब दोष के जोखिम को कम करने के लिए

गर्भवती महिलाओं को फोलिक एसिड की ज्यादा जरूरत होती है। यह नवजात में होने वाले जन्म दोष या नवजात में न्यूरल ट्यूब दोष (Neural Tube Defects) के जोखिम को कम करने का काम कर सकता है। इसमें शिशु के दिमाग और रीढ़ की हड्डी पर असर पड़ता है। शिशु को इस स्थिति से बचाने के लिए महिला को पर्याप्त मात्रा में फोलिक एसिड लेने की जरूरत होती है। महिला को हर दिन 400 माइक्रोग्राम फोलिक एसिड लेने की सलाह दी जाती है (13) (14) (15)। हालांकि, गर्भावस्था के दौरान फोलेट की दैनिक मात्रा कितनी होनी चाहिए यह जानकारी डॉक्टर सही दे सकता है।

5. एनीमिया के लिए फोलिक एसिड

Shutterstock

सिर्फ आयरन की कमी से ही नहीं, बल्कि फोलिक एसिड डेफिशियेंसी से भी एनीमिया होने का खतरा होता है (16)। इस स्थिति से उबरने के लिए में मरीज को तीन से छह महीने का वक्त लग सकता है। फोलिक एसिड की कमी से होने वाले एनीमिया के लिए मरीज को फोलिक एसिड सप्लीमेंट या ज्यादा से ज्यादा फोलिक एसिड युक्त आहार देने की जरूरत होती है (17) (18)।

6. पीसीओएस (PCOS) के लिए फोलिक एसिड

पीसीओएस (PCOS- Polcystic ovary syndrome) महिलाओं में होने वाली एक ऐसी अवस्था, जिसमें उन्हें अनियमित पीरियड्स, मोटापा, कील-मुहांसे और यहां तक कि कैंसर जैसी जानलेवा बीमारी का खतरा रहता है। ऐसे में डाइट का ध्यान रखना बहुत जरूरी है। पीसीओएस के मरीजों की डाइट थेरेपी में विटामिन-डी और विटामिन-सी के साथ-साथ फोलिक एसिड की भी भरपूर मात्रा की जरूरत होती है (19)। इसके अलावा, फोलिक एसिड पीसीओएस की अवस्था में होमोसिस्टीन (Homocysteine) जोकि एक एमिनो एसिड है, उसकी मात्रा को संतुलित करने का काम भी कर सकता है (20)।

7. गर्भावस्था में फोलिक एसिड

Shutterstock

गर्भावस्था के दौरान मां और शिशु दोनों को ही अधिक से अधिक पोषक तत्वों की जरूरत होती है। इन्हीं में से एक है फोलिक एसिड। जैसा कि हमने ऊपर बताया कि गर्भावस्था के दौरान फोलिक एसिड के सेवन से नवजात शिशु में न्यूरल ट्यूब दोष (Neural Tube Defects) का खतरा कम हो सकता है। गर्भवती महिला को प्रतिदिन 400 माइक्रोग्राम फोलिक एसिड लेने की आवश्यकता होती है (13)।

8. किडनी के लिए फोलिक एसिड

किडनी की समस्या से राहत पाने के लिए भी फोलिक एसिड मददगार साबित हो सकता है। एक वैज्ञानिक अध्ययन के अनुसार, गंभीर किडनी की समस्या से जूझ रहे लोगों में होमोसिस्टीन (homocysteine) की उच्च मात्रा पाई जाती है और होमोसिस्टीन एमिनो एसिड की उच्च मात्रा ह्रदय रोग और स्ट्रोक का कारण बन सकती है। ऐसे में फोलिक एसिड की एक अहम भूमिका देखी जा सकती है, क्योंकि फोलिक एसिड गंभीर किडनी की समस्या से जूझ रहे लोगों में होमोसिस्टीन से स्तर को कम कर सकता है (8)।

9. पुरुषों में इनफर्टिलिटी के लिए फोलिक एसिड

पुरुषों में होने वाली इनफर्टिलिटी के उपचार में जिंक सल्फेट के साथ फोलिक एसिड एक प्रभावी भूमिका निभा सकता है। हालांकि, यह कितना असरदार है, उसके लिए अभी और शोध की जरूरत है (21) (8)।

10. त्वचा के लिए फोलिक एसिड

Shutterstock

प्रदूषण, धूप व कॉस्मेटिक का उपयोग और देखभाल की कमी के कारण त्वचा संबंधी समस्याएं आम हो गई हैं। ऐसे में कील-मुहांसों और सफेद दाग जैसी परेशानियों से निजात पाने में फोलिक एसिड के फायदे देखे जा सकते हैं। फोलिक एसिड में मौजूद एंटी-इंफ्लेमेशन गुण मुहांसों पर प्रभावी रूप से काम कर सकते हैं (8)।

11. बालों के लिए फोलिक एसिड

खूबसूरत और घने बालों की चाहत लगभग हर किसी को होती है, लेकिन देखभाल के अभाव के कारण बाल रूखे व बेजान होकर झड़ने लगते हैं। कई बार तो सही डाइट न लेने के वजह से भी बाल झड़ने की समस्या हो सकती है। ऐसे में फोलिक एसिड डाइट बालों के लिए फायदेमंद हो सकता है। बता दें कि शरीर को नई कोशिकाओं जैसे – त्वचा, बाल व नाखून के निर्माण के लिए फोलिक एसिड की जरूरत होती है (13)।

लेख के आगे के भाग में जानिए फोलिक एसिड के उपयोग के लिए खाद्य पदार्थ।

फोलिक एसिड युक्त खाद्य पदार्थ – Folic Acid Rich Foods in Hindi

Shutterstock

वैसे तो कई खाद्य पदार्थ हैं, जिसमें फोलिक एसिड मौजूद होते हैं, लेकिन उनमें से कुछ के नाम हम आपके साथ नीचे शेयर कर रहे हैं (22) (23) (24) (25) :

  • हरी पत्तेदार सब्जियां जैसे – पालक, सलाद पत्ता और ब्रोकली
  • बीन्स
  • मूंगफली
  • सूरजमुखी के बीज
  • साबुत अनाज
  • सी फूड
  • अंडा
  • मटर
  • सिट्रस फल

इस लेख के आगे के भाग में जानिए, क्यों होती है फोलिक एसिड की कमी।

शरीर में फोलिक एसिड की कमी होने के कारण – Causes of Folic Acid Deficiency in Hindi

Shutterstock

फोलिक एसिड कम होने के कई कारण हो सकते हैं, जिनमें से कुछ के बारे आप लेख के इस भाग में पढ़ें (26)।

  • अल्कोहल का सेवन
  • आहार में पोषक तत्व कमी से
  • जरूरत से ज्यादा सब्जी या फलों को पकाकर खाना
  • कुछ खास तरह की दवाइयों का दुष्प्रभाव
  • हेमोलिटिक एनीमिया (Hemolytic anemia)
  • ज्यादा इधर-उधर की चीजें खाना, जिसमें कुछ खास पोषक तत्व मौजूद न हों।

आगे जानिए फोलिक एसिड की कमी के क्या-क्या लक्षण हो सकते हैं।

फोलिक एसिड की कमी के लक्षण – Symptoms of Folic Acid Deficiency in Hindi

फोलिक एसिड के बारे में जानने के बाद आपको लग रहा होगा कि कैसे समझेंगे कि शरीर में फोलिक एसिड की कमी है। इसलिए, नीचे हम आपको फोलिक एसिड की कमी के कुछ लक्षणों के बारे में जानकारी दे रहे हैं (23) (26) (27) (28)।

  • वजन का घटना
  • थकावट महसूस होना
  • चिड़चिड़ापन
  • सफेद बाल
  • डायरिया
  • कमजोरी
  • किसी चीज पर ध्यान लगाने में परेशानी
  • सिरदर्द

आगे जानिए अगर आपके शरीर में फोलिक एसिड की कमी हो तो क्या-क्या हो सकता है।

शरीर में फोलिक एसिड की कमी से होने से क्या होता है?

शरीर में फोलिक एसिड की कमी से निम्नलिखित समस्याएं हो सकती हैं (26) (28) :

  • अगर गर्भवती महिला को फोलिक एसिड की कमी हो, तो उसके शिशु में जन्म दोष हो सकता है।
  • फोलिक एसिड की कमी से आपको एनीमिया हो सकता है।
  • इससे गर्भवती महिला को वक्त से पहले प्रसव की समस्या भी हो सकती है।
  • नवजात शिशु कमजोर और कम वजन वाला हो सकता है।
  • मुंह में घाव की समस्या भी हो सकती है।
  • प्लेटलेट में कमी हो सकती है।

नीचे जानिए आप एक दिन में कितने फोलिक एसिड का सेवन कर सकते हैं।

आपको फोलिक एसिड की कितनी आवश्यकता है?
यह मात्रा व्यक्ति दर व्यक्ति और उम्र के अनुसार बदल सकती है। हालांकि, महिलाओं को हर दिन में करीब 400 माइक्रोग्राम फोलिक एसिड लेने की जरूरत होती है (1) (13)। वहीं, गर्भावस्था के दौरान पहली तिमाही के बाद यह मात्रा बढ़ सकती है।

आयुपुरुषस्त्रीगर्भावस्थास्तनपान
जन्म से लेकर 6 महीने तक65 mcg DFE*65 mcg DFE* – –
7–12 महीने80 mcg DFE*80 mcg DFE* – –
1–3 साल150 mcg DFE150 mcg DFE – –
4–8 साल200 mcg DFE200 mcg DFE – –
9–13 साल300 mcg DFE300 mcg DFE – –
14–18 साल400 mcg DFE400 mcg DFE600 mcg DFE500 mcg DFE
19 सेज्यादा400 mcg DFE400 mcg DFE600 mcg DFE500 mcg DFE

नोट : इस संबंध में ज्यादा जानकारी के लिए बेहतर होगा कि आप एक बार इस बारे में डॉक्टर की राय लें।

अगर जरूरत से ज्यादा किसी भी चीज का सेवन किया जाए, तो वो नुकसानदायक हो सकता है, वैसे ही अगर फोलिक एसिड का भी अत्यधिक सेवन किया जाए, तो फोलिक एसिड के नुकसान हो सकते हैं। नीचे हम इसी के बारे में आपको जानकारी दे रहे हैं।

जरूरत से ज्यादा फोलिक एसिड लेने से नुकसान – Side Effects of Folic Acid in Hindi

फोलिक एसिड के नुकसान से घबराने की बात नहीं है, बल्कि हम यह बताकर आपको इसका सावधानी से सेवन करने की सलाह दे रहे हैं। नीचे जानिए फोलिक एसिड के नुकसान (8)।

  • पेट की समस्या
  • सोने में परेशानी
  • त्वचा संबंधी समस्या
  • एलर्जी
  • लंग्स या प्रोस्टेट कैंसर
  • ह्रदय संबंधी समस्या

फोलिक एसिड के नुकसान से डरने की जरूरत नहीं है, क्योंकि अगर लोग संतुलित मात्रा में फोलिक एसिड के उपयोग करते हैं, तो यह फायदेमंद हो सकता है। फोलिक एसिड की कमी से कई तरह की समस्याएं हो सकती हैं, इसलिए संतुलित मात्रा में फोलिक एसिड युक्त आहार का सेवन करें। अगर आप पहले से ही फोलिक एसिड का सेवन कर रही हैं और आपको पहले की तुलना में फर्क महसूस कर रही हैं, तो उसे हमारे साथ नीचे कमेंट बॉक्स में शेयर कर सकते हैं। साथ ही अगर आपके मन में फोलिक एसिड से जुड़े कुछ सवाल हैं, तो उसे भी नीचे कमेंट बॉक्स में हमसे पूछ सकते हैं।

Was this article helpful?
The following two tabs change content below.

Arpita Biswas

अर्पिता ने पटना विश्वविद्यालय से मास कम्यूनिकेशन में स्नातक किया है। इन्होंने 2014 से अपने लेखन करियर की शुरुआत की थी। इनके अभी तक 1000 से भी ज्यादा आर्टिकल पब्लिश हो चुके हैं। अर्पिता को विभिन्न विषयों पर लिखना पसंद है, लेकिन उनकी विशेष रूचि हेल्थ और घरेलू उपचारों पर लिखना है। उन्हें अपने काम के साथ एक्सपेरिमेंट करना और मल्टी-टास्किंग काम करना पसंद है। इन्हें लेखन के अलावा डांसिंग का भी शौक है। इन्हें खाली समय में मूवी व कार्टून देखना और गाने सुनना पसंद है।

ताज़े आलेख

scorecardresearch