सामग्री और उपयोग

गाजर के जूस के 13 फायदे, उपयोग और नुकसान – Carrot Juice Benefits and Side Effects in Hindi

by
गाजर के जूस के 13 फायदे, उपयोग और नुकसान – Carrot Juice Benefits and Side Effects in Hindi Hyderabd040-395603080 October 18, 2019

अक्सर आपने देखा होगा कि ज्यादातर लोग सुबह पार्क या जिम से वापस लौटने के बाद किसी न किसी जूस का सेवन करते हैं। सेहतमंद बने रहने के लिए जूस अहम भूमिका निभाता है, जिनमें गाजर का जूस भी शामिल है। स्वास्थ्य के लिए गाजर जूस के फायदे बहुत हैं। स्टाइलक्रेज के इस लेख में हम वैज्ञानिक तथ्यों के साथ गाजर जूस पीने के फायदे से लेकर गाजर जूस के नुकसान बता रहे हैं। उससे पहले जानते हैं कि सेहत के लिए गाजर का जूस किस प्रकार लाभदायक है।

गाजर का जूस आपकी सेहत के लिए क्यों अच्छा है?

शरीर को तरोताजा रखने के लिए गाजर का जूस फायदेमंद माना जाता है, लेकिन इसके लाभ यहीं समाप्त नहीं होते। दरअसल, यह कई पोषक तत्वों से समृद्ध होता है, जो शरीर को स्वस्थ रखने और बीमारियों से लड़ने का काम कर सकते हैं। गाजर विटामिन-ए का अच्छा स्रोत माना जाता है और विटामिन-ए आंखों के लिए लाभकारी माना जाता है (1) (2)। गाजर का जूस एंटीऑक्सीडेंट को बढ़ाकर हृदय की कार्यप्रणाली के लिए मददगार साबित हो सकता है (3)। इसके अलावा, गाजर का जूस गर्भावस्था में आवश्यक वजन बढ़ाने का काम कर सकता है (4)। इसके अन्य लाभ में ब्लड प्रेशर को नियंत्रित करना हड्डियों के विकास और प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने को शामिल किया जा सकता है (1), (2), (3)।

लेख के इस भाग में आपको गाजर जूस के स्वास्थ्य संबंधी फायदे बताए जा रहे हैं।

गाजर के जूस के फायदे – Benefits of Carrot Juice in Hindi

1. कैंसर के लिए

For cancer Pinit

Shutterstock

गाजर जूस के फायदे कैंसर जैसी समस्या में भी लाभदायक हो सकते हैं। गाजर प्रोविटामिन ए के उच्च स्रोतों में से एक है। एक वैज्ञानिक अध्ययन के अनुसार यह देखा गया कि रजोनिवृत्ति के बाद यह ब्रेस्ट कैंसर के खतरे को कम कर सकता है। साथ ही वैज्ञानिक शोध में यह भी देखा गया कि धूम्रपान करने वालों में गाजर का जूस फेफड़ों के कैंसर का खतरा कम कर सकता है (5)। इस आधार पर यह कह सकते हैं कि गाजर का जूस कैंसर से बचाव का काम कर सकता है।

2. रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए

गाजर जूस के फायदे आपकी रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के काम आ सकते हैं। मानव शरीर के लिए जरूरी सूक्ष्म पोषक तत्वों में कैरोटेनॉयड्स ( Carotenoids) भी शामिल हैं, जो गाजर में पर्याप्त मात्रा में पाया जाता है। विशेषज्ञों के द्वारा किए गए एक वैज्ञानिक शोध के मुताबिक गाजर में मौजूद कैरोटेनॉयड्स रोग प्रतिरोधक क्षमता को मजबूत बनाने के काम आ सकते हैं (6)।

3. आंखों के स्वास्थ्य के लिए

आंख शरीर का एक प्रमुख हिस्सा होती है और आंखों के स्वास्थ्य का ख्याल रखने के लिए गाजर जूस का सेवन किया जा सकता है। जी हां, एक वैज्ञानिक रिपोर्ट के अनुसार, गाजर का जूस शरीर में विटामिन ए की पूर्ति कर दृष्टि क्षमता को बढ़ाने का काम कर सकता है (7)।

एक अन्य शोध के अनुसार यह कहा गया कि जिन लोगों को बढ़ती उम्र के साथ देखने में समस्या होती है, विटामिन-ई, विटामिन-सी और जिंक का सेवन करने से यह समस्या कम हो सकती है और इन पोषक तत्वों की पूर्ति गाजर के जरिए की जा सकती है (1), (8)।

4. डायबिटीज की समस्या में

गाजर जूस का सेवन डायबिटीज की समस्या में भी लाभकारी हो सकता है। गर्भावस्था के दौरान मधुमेह से बचने के लिए आहार में गाजर का सेवन करने की सलाह दी जाती है (9)। वहीं, एक वैज्ञानिक अध्ययन के अनुसार, ब्लड शुगर को कंट्रोल करने के लिए कार्बोहाइड्रेट में कम और फाइबर में उच्च खाद्य पदार्थों का सेवन करना चाहिए और इन पोषक तत्वों की पूर्ति गाजर के जूस के जरिए की जा सकती है (10)।

5. गर्भावस्था में लाभदायक

Beneficial in pregnancy Pinit

Shutterstock

मां बनने से पहले गर्भावस्था में खान-पान का विशेष ध्यान मां और बच्चे दोनों के लिए जरूरी माना जाता है और इसमें गाजर जूस के फायदे भी शामिल हैं। दरअसल, गर्भावस्था में मां को संतुलित वजन की जरूरत होती है। वहीं, विशेषज्ञों के द्वारा किए गए एक वैज्ञानिक शोध में यह कहा गया कि गर्भावस्था में वजन बढ़ाने के लिए गाजर के जूस का सेवन किया जा सकता है (4)। इसके अलावा, जैसे की हमने ऊपर बताया कि गाजर का जूस गर्भावस्था में मधुमेह से बचाव का काम कर सकता है (9)।

6. मस्तिष्क स्वास्थ्य के लिए

मस्तिष्क की कार्य क्षमता ठीक रहे इसके लिए आप गाजर का जूस इस्तेमाल कर सकते हैं। गाजर में नियासिन विटामिन पाया जाता है। एक वैज्ञानिक अध्ययन के अनुसार, सिजोफ्रेनिया (एक मानसिक बीमारी) के रोगियों के लिए रोजाना गाजर का सेवन फायदेमंद साबित हो सकता है। मस्तिष्क स्वास्थ्य के लिए गाजर का सेवन सलाद के रूप में, सीधे कच्चा या पालक के साथ जूस बनाकर किया जा सकता है (11)।

7. उपापचय (Metabolism) में सहायक

उपापचय (Metabolism) को सामान्य बनाए रखने के लिए गाजर जूस के फायदे देखे जा सकते हैं। गाजर मैंगनीज का प्रमुख स्रोत माना जाता है, जो शरीर में एंजाइमों के साथ मिलकर कार्बोहाइड्रेट मेटाबॉलिज्म में मदद कर सकता है। इसके अलावा, गाजर मोलिब्डेनम नामक खास तत्व से समृद्ध होता है, जो फैट मेटाबॉलिज्म को बढ़ावा देने का काम कर सकता है।

इसके अलावा, गाजर में विटामिन-सी विटामिन-के, थियामिन (बी1), राइबोफ्लेविन (बी2), पाइरिडोक्सिन (बी6) और फोलेट (बी9) कार्बोहाइड्रेट चयापचय में मदद कर सकते हैं (5)।

8. कोलेस्ट्रोल को कम करने में

गाजर जूस के फायदे कोलेस्ट्रोल के संतुलन को बनाए रखने में भी मददगार हो सकते हैं। एक वैज्ञानिक अध्ययन के अनुसार, यह देखा गया कि गाजर जूस के सेवन से कोलेस्ट्रोल के स्तर को कम किया जा सकता है (5)।

गाजर में विटामिन बी भी पाया जाता है (1)। एक अन्य वैज्ञानिक अध्ययन के अनुसार, यह देखा गया है कि विटामिन-बी के सेवन से अच्छे कोलेस्ट्रोल के स्तर को बढ़ाया जा सकता है और खराब कोलेस्ट्रोल के स्तर को कम किया जा सकता है (12)।

9. ह्रदय को स्वस्थ रखने के लिए

To keep the heart healthy Pinit

Shutterstock

दिल को स्वस्थ बनाए रखने के लिए तरह-तरह के उपाय किए जाते हैं, जबकि गाजर जूस के सेवन से हृदय के स्वास्थ्य को बेहतर बनाया जा सकता है। एक वैज्ञानिक अध्ययन के दौरान यह पाया गया कि गाजर का रस पीने से कुल एंटीऑक्सीडेंट की मात्रा में वृद्धि होती है और लिपिड पेरोक्सीडेशन (लिपिड में गिरावट) में कमी आती है, जिससे हृदय को स्वस्थ बनाए रखने में मदद मिल सकती है (13)।

एक अन्य वैज्ञानिक रिपोर्ट के अनुसार, हृदय के बेहतरीन संचालन के लिए पोटैशियम एक अहम भूमिका निभा सकता है और शरीर में पोटैशियम की पूर्ति गाजर या गाजर के जूस के जरिए की जा सकती है (14)।

10. पाचन क्रिया में सहायक

पाचन क्रिया दुरुस्त रखना चाहते हैं, तो गाजर जूस का सेवन आपको यहां भी फायदा पहुंचा सकता है। गाजर का जूस फाइबर से भरपूर होता है और फाइबर पाचन क्रिया को मजबूत बनाने के साथ-साथ स्टूल को मुलायम बनाकर कब्ज जैसी समस्याओं से भी छुटकारा दिलाने का काम कर सकता है (1) (15)।

11. वजन घटाने के लिए

वजन घटाने के लिए भी गाजर का जूस इस्तेमाल किया जा सकता है। गाजर जूस में फाइबर की मात्रा पाई जाती है (1)। विशेषज्ञों के द्वारा किए गए एक वैज्ञानिक शोध के अनुसार, फाइबर का सेवन पेट को ज्यादा समय तक भरा रखने में मदद कर सकता है और अतिरिक्त खाने की आदत में सुधार लाकर वजन नियंत्रित करने में अहम भूमिका निभा सकता है (16)।

12. त्वचा के लिए

त्वचा को स्वस्थ बनाए रखने के लिए गाजर जूस का सेवन फायदेमंद हो सकता है, क्योंकि गाजर के जूस में विटामिन-सी और विटामिन-ई की मात्रा पाई जाती है (1)। एक वैज्ञानिक अध्ययन के अनुसार, यह देखा गया है कि विटामिन-सी त्वचा को निखारने (skin tone improvement) और त्वचा कसाव (skin tightness) करने में मदद कर सकता है (17)।

एक अन्य वैज्ञानिक अध्ययन के अनुसार यह देखा गया कि विटामिन-ई यूवी विकिरण ( UV Rays) से प्रभावित त्वचा में सूजन, एरिथमा (त्वचा का लाल हो जाना) व एडिमा (सूजन) को ठीक करने का काम कर सकता है (18)।

13. बालों के स्वास्थ्य के लिए

गाजर का जूस आपके बालों के स्वास्थ्य के लिए उत्तम साबित हो सकता है। गाजर में बीटा-कैरोटीन की एक अच्छी मात्रा होती है। यह ऐसा महत्वपूर्ण पोषक तत्व है, जो बालों के स्वास्थ्य को बढ़ावा दे सकता है। साथ ही साथ इसके सेवन से बालों का झड़ना भी रुक सकता है गाजर में मौजूद विटामिन ए स्कैल्प को स्वस्थ रखने का काम कर सकता है (19)।

गाजर जूस के स्वास्थ्य संबंधी फायदों को जानने के बाद लेख के इस भाग में गाजर जूस के पौष्टिक तत्वों की जानकारी दी जा रही है।

गाजर के जूस का पौष्टिक तत्व – Carrot Juice Nutritional Value in Hindi

नीचे दी गई तालिका में गाजर जूस के पौष्टिक तत्वों को दर्शाया जा रहा है (1)।

पोषक तत्वमात्रा प्रति 100 ग्राम
जल88.87g
ऊर्जा40kcal
प्रोटीन0.95g
कुललिपिड(वसा)0.15g
कार्बोहाइड्रेट9.28g
फाइबर, कुलडाइटरी0.8g
शुगर, कुल3.91g
मिनरल
कैल्शियम24mg
आयरन0.46mg
मैग्नीशियम14mg
फास्फोरस42mg
पोटैशियम292mg
सोडियम66mg
जिंक0.18mg
विटामिन
विटामिनसी, कुलएस्कॉर्बिकएसिड8.5mg
थियामिन0.092mg
राइबोफ्लेविन0.055mg
नियासिन0.386mg
विटामिनबी-60.217mg
फोलेट, डीएफई4μg
विटामिनबी-120.00μg
विटामिनए, आरएई956μg
विटामिनए, आईयू19124IU
विटामिनई(अल्फा-टोकोफेरॉल)1.16mg
विटामिनडी(डी2+डी3)0.0μg
विटामिनडी0IU
विटामिनके, (फिलोकिओनोन)15.5μg
लिपिड
फैटीएसिड, टोटलसैचुरेटेड0.027g
फैटीएसिड, टोटलमोनोअनसैचुरेटेड0.007g
फैटीएसिड, टोटलपॉलीअनसैचुरेटेड0.071g
फैटीएसिड, टोटलट्रांस0.000g
कोलेस्ट्रॉल0mg
अन्य
कैफीन0mg

गाजर के जूस का पौष्टिक तत्व जानने के बाद लेख के इस भाग में घर में गाजर का जूस बनाने का तरीका बताया जा रहा है।

घर पर गाजर का जूस बनाने का तरीका

How to make carrot juice at home Pinit

Shutterstock

घर पर गाजर का जूस बनाने के लिए आप निम्न बिन्दुओं का पालन कर सकते हैं।

सामाग्री :
  • 2-3 गाजर
  • एक छोटा कप पानी
  • एक बर्तन
  • एक प्लेट
  • एक छन्नी
कैसे बनाएं गाजर का जूस :
  • सबसे पहले गाजर को पानी से अच्छी तरह धो लें।
  • अब गाजर को एक प्लेट में छोटे-छोटे टुकड़ों में काट लें और इसे जूसर में डाल दें।
  • फिर इसमें एक छोटा कप पानी मिला लें।
  • अब इसे 5 मिनट तक जूसर में ग्राइंड करें।
  • जब गाजर जूस के रूप में बन जाए, तो इसे एक बर्तन में निकाल लें।
  • अब इसे छन्नी से छान लें और इसका सेवन करें।

आइए, अब गाजर जूस के उपयोग के बारे में जानते हैं।

गाजर के जूस का उपयोग – How to Use Carrot Juice in Hindi

How to Use Carrot Juice in Hindi Pinit

Shutterstock

गाजर जूस का उपयोग निम्न प्रकार से किया जा सकता है

  • सुबह जूस के रूप में इस्तेमाल कर सकते हैं।
  • गाजर का उपयोग सूप के रूप में कर सकते हैं।
  • कस्टर्ड बनाने में गाजर जूस का इस्तेमाल किया जा सकता है।
  • जाफरानी पुलाव बनाने में गाजर के जूस का उपयोग किया जा सकता है।
  • गाजर की सब्जी बनाकर भी खाई जा सकती है।

कब करें इस्तेमाल

  • दिन की शुरुआत गाजर के जूस से कर सकते हैं।
  • आप दोपहर के खाने के साथ गाजर का सेवन सलाद के रूप में कर सकते हैं।
  • इसे शाम में सूप के रूप में लिया जा सकता है।
  • रात में खाने के दौरान इसे कस्टर्ड रूप में परोसा जा सकता है।

कितना करें इस्तेमाल – गाजर जूस का सेवन सीमित मात्रा में ही करें। आप सुबह और शाम एक छोटा गिलास गाजर का जूस का सेवन कर सकते हैं। सलाद के लिए एक गाजर पर्याप्त है। इसके अलावा, अपनी इच्छानुसार आप इसका सेवन कर सकते हैं, लेकिन ध्यान रहे कि इसकी अत्यधिक मात्रा नीचे बताए जा रहे नुकसानों का कारण बन सकती है।

कुछ स्थिति में गाजर जूस के नुकसान भी हो सकते हैं, जिसकी जानकारी आपको इस भाग में दी जा रही है।

गाजर के जूस के नुकसान – Side Effects of Carrot Juice in Hindi

  • गाजर के जूस में कार्बोहाइड्रेट की अधिक मात्रा पाई जाती है और लगातार गाजर जूस के सेवन से शरीर में कार्बोहाइड्रेट की अधिक मात्रा मोटापे का कारण बन सकती है (1), (20)।
  • अगर आप अल्सर जैसी समस्या से पीड़ित हैं, तो गाजर जूस का सेवन सीमित मात्रा में करें, क्योंकि गाजर में पोटैशियम की अधिक मात्रा पाई जाती है और यह परेशानी का कारण बन सकती है (1), (21)
  • जिनका शरीर सोडियम के प्रति संवेदनशील हैं, उन्हें गाजर जूस के सेवन से हाई ब्लड प्रेशर की समस्या हो सकती है (1), (22)।
  • प्रीजर्व करके रखे गए गाजर के जूस से बोटुलिज्म (Botulism) नामक पॉइजनिंग बीमारी हो सकती है, जो क्लोस्ट्रीडियम बोटुलिनम (Clostridium botulinum) बैक्टीरिया से होती है। यह बैक्टीरिया गाजर के संपर्क में आ सकता है, जिससे बोटुलिज्म का खतरा बढ़ सकता है (23)।

अभी आपने पढ़ा और समझा कि कैसे एक स्वस्थ दिनचर्या के लिए गाजर का जूस फायदेमंद हो सकता है। आप वैज्ञानिक तथ्यों के आधार पर बताई गई जानकारी का प्रयोग कर सकते हैं। गाजर जूस के फायदे को देखते हुए इसका सेवन किया जा सकता है। हालांकि, अधिक सेवन से यह कुछ विशेष स्थिति में हानिकारक भी है, लेकिन आप सावधानी बरत कर इन समस्याओं से बच सकते हैं। हम आशा करते हैं कि इस लेख से आपको कई जरूरी जानकारियां मिली होंगी। इस लेख में दी गई जानकारी के अतिरिक्त अगर आपके मन में गाजर जूस से जुड़े अन्य सवाल हैं, तो उसे नीचे दिए गए कॉमेंट बॉक्स के जरिए हम तक अवश्य पहुंचाएं। हमें आपकी प्रतिक्रिया का इंतजार रहेगा।

और पढ़े:

The following two tabs change content below.

Somendra Singh

सोमेंद्र ने इलाहाबाद विश्वविद्यालय से 2019 में बी.वोक इन मीडिया स्टडीज की है। पढ़ाई के दौरान ही इन्होंने पढ़ाई से अतिरिक्त समय बचाकर काम करना शुरू कर दिया था। इस दौरान सोमेंद्र ने 5 वेबसाइट पर समाचार लेखन से लेकर इन्हें पब्लिश करने का काम भी किया। यह मुख्य रूप से राजनीति, मनोरंजन और लाइफस्टइल पर लिखना पसंद करते हैं। सोमेंद्र को फोटोग्राफी का भी शौक है और इन्होंने इस क्षेत्र में कई पुरस्कार भी जीते हैं। सोमेंद्र को वीडियो एडिटिंग की भी अच्छी जानकारी है। इन्हें एक्शन और डिटेक्टिव टाइप की फिल्में देखना और घूमना पसंद है।

संबंधित आलेख