घरेलू उपचार

गंजेपन के कारण, लक्षण और घरेलू इलाज – Home Remedies for Baldness in Hindi

by
गंजेपन के कारण, लक्षण और घरेलू इलाज – Home Remedies for Baldness in Hindi Hyderabd040-395603080 August 7, 2019

आज हर किसी के लिए बालों का झड़ना एक बड़ी समस्या बन गई है। खासकर, युवाओं में बालों का झड़ना और गंजेपन का शिकार होना अहम सिर दर्द हो सकता है। इस वजह से आप उम्र से अधिक बड़े दिखने लगते हैं और मजाक का पत्र भी बन सकते हैं। आपके बाल इसलिए झड़ते हैं, क्योंकि आपके शरीर में पोषक तत्वों की कमी हो जाती है। स्टाइलक्रेज के इस लेख में हम आपको गंजेपन के कारण के साथ-साथ बाल उगाने के आयुर्वेदिक उपाय की भी जानकारी देंगे।

गंजेपन होने का कारण – Causes of Baldness in Hindi

गंजेपन के कारण कई हो सकते हैं, जिनमें से प्रमुख कुछ इस प्रकार हैं (1) (2) (3) :

  • एक उम्र के बाद बाल झड़ने लगते हैं, जो गंजेपन का रूप ले लेते हैं। यह बाल झड़ने का आम कारण है।
  • हार्मोनल असंतुलन के कारण भी बाल झड़ सकते हैं।
  • सिर पर चोट लगने की वजह से भी बाल झड़ सकते हैं, जो गंजेपन के कारण बन सकते हैं।
  • सिर पर दाद के होने से भी गंजेपन को बढ़ावा मिल सकता है।
  • शरीर में आयरन की कमी बालों के झड़ने को बढ़ावा दे सकती है।
  • आहार में पर्याप्त मात्रा में प्रोटीन न होने से भी गंजेपन को आमंत्रण मिल सकता है।
  • अगर परिवार में कोई गंजेपन का शिकार हुआ है, तो यह समस्या आने वाली पीढ़ी के किसी भी शख्स को हो सकती है।
  • कोई बीमारी भी बालों के झड़ने का कारण बन सकती है।
  • रसायन चिकित्सा में उपयोग की जाने वाली दवाइयां भी गंजेपन का कारण बन सकती हैं।

इस लेख के आगे के भाग में हम गंजेपन के लक्षणों की जानकारी देंगे।

गंजेपन के लक्षण – Symptoms of Baldness in Hindi

बालों के झड़ने को नजरअंदाज न करें, यह आपके आने वाले गंजेपन का लक्षण हो सकता है। गंजेपन के कुछ प्रमुख लक्षण इस प्रकार हैं (1) (2) :

  • गंजेपन सिर के मध्य से दिखाई देने शुरू होता है।
  • बालों का पतला होना गंजेपन का लक्षण हो सकता है, क्योंकि इस कारण बाल झड़ने लगते हैं।
  • कंघी करते या बालों को धोते समय अधिक बाल हाथ में दिखाई दे रहे हैं, तो यह गंजेपन की निशानी हो सकता है।
  • पूरे शरीर के बालों का झड़ना भी गंजेपन की ओर इशारा हो सकता है।
  • बालों का टूटना भी गंजेपन का लक्षण हो सकता है।

इस लेख के आगे के भाग में गंजेपन के प्रकार की जानकारी देंगे।

गंजेपन के प्रकार – Types of Baldness in Hindi

गंजेपन के प्रकार को मनुष्य की उम्र और लिंग के अनुसार निर्धारित किया जा सकता है। आइए, जानते हैं कि गंजेपन के कितने प्रकार होते हैं (3) :

पुरुषों में गंजापन– यह आनुवंशिक है और बालों का झड़ना किसी भी उम्र में शुरू हो सकता है। पुरुषों में अक्सर सामने की तरफ या सिर के बीच से बालों का झड़ना शुरू होता है।

महिलाओं में गंजापन– यह पुरुष को गंजेपन से अलग है। इसमें बाल पूरे सिर से झड़ने लगते हैं। पुरुषों के मुकाबले महिलाओं में गंजापन कम दिखाई देता है।

एलोपेसिया एरियाटा– इसमें बाल किसी एक खास एरिया से झड़ने शुरू होते हैं। वहां पर बाल फिर मुश्किल से उगते हैं। हालांकि, इस प्रकार के बालों के झड़ने का मुख्य कारण अभी पता नहीं चला है, लेकिन शोधकर्ताओं का मानना है कि ऐसा ऑटोइम्यून स्थिति के कारण हो सकता है। वहीं, अगर बालों का झड़ना पूरे सिर पर शुरू हो जाता है, तो इसे एलोपेसिया टोटलिस कहा जाता है।

टॉक्सिक एलोपेसिया – तेज बुखार या गंभीर बीमारी के बाद बाल झड़ सकते हैं। वहीं, कुछ दवाइयों के सेवन, जैसे – थैलियम, विटामिन-ए की हाइ डोज व कैंसर की दवा लेने से भी गंजापन हो सकता है। इसके अलावा, थायराइड व शिशु को जन्म देने के बाद भी बाल झड़ सकते हैं, लेकिन ये अस्थाई कारण होते हैं।

ट्रिकोटिलोमेनिया (बाल खींचना)– बालों को खींचने से भी गंजेपन का शिकार होना पड़ सकता है। किशोरावस्था के दौरान ऐसा होना आम है।

स्कारिंग या सिकाट्रिकियल – सिर में किसी जगह घाव हो जाने पर भी वहां से बाल झड़ सकते हैं। जलने, चोट लगने या एक्स-रे के कारण स्कारिंग की समस्या हो सकती है। ऐसा बैक्टीरिया, फंगल इंफेक्शन व स्किन कैंसर आदि के कारण भी ऐसा हो सकता है।

चलिए देखते है कि गंजेपन कम करने के लिए कौन-कौन से घरेलू उपाय काम आ सकते हैं।

गंजेपन कम करने के लिए घरेलू उपाय – Home Remedies To Cure Baldness in Hindi

बाल झड़ने और गंजेपन की परेशानी को दूर किया जा सकता है। यहां हम बालों के झड़ने को रोकने के लिए घरेलू उपाय की जानकारी दे रहे हैं, जो आपके लिए सहायक साबित हो सकती है।

1. गंजापन ठीक करने के लिए तेल

गंजेपन को दूर करने के लिए तेल मुख्य भूमिका निभाता है। इसमें मौजूद पोषक तत्व बालों में अवशोषित होकर बालों के झड़ने की समस्या से निजाद दिला सकते हैं।

क) अरंडी का तेल

Castor oil Pinit

iStock

सामग्री :

  • 2 से 3 चम्मच अरंडी का तेल
  • 2 चम्मच नारियल तेल

कैसे करें इस्तेमाल

  • तेलों को मिलाकर हल्का गर्म करें और इसे अपने स्कैल्प पर लगाएं।
  • इसे रात भर लगा रहने दें।
  • अगली सुबह बालों को शैम्पू से धो लें।

कितनी बार करें :

  • इसे हफ्ते में 3-4 बार लगाएं।

कैसे है लाभदायक :

बाल उगाने के आयुर्वेदिक उपाय में अरंडी के तेल की अहम भूमिका होती है। अरंडी के तेल से बार-बार मालिश करने पर पूरे सिर में रक्त का संचार बढ़ता है, इसमें ओमेगा-6 एसेंशियल फैटी एसिड होते हैं, जो बालों को जड़ों से मजबूत बनते हैं। यह स्कैल्प को पोषण प्रदान करते हैं और डेंड्रफ को कम करते हैं, जिससे बालों को विकसित होने में मदद मिलती है (4)।

ख) नारियल तेल

सामग्री :

  • 2 से 3 चम्मच नारियल तेल

कैसे करें इस्तेमाल :

  • कुछ सेकंड के लिए तेल को गर्म करें और इससे सिर की मालिश करें।
  • 4-5 घंटे बाद सिर को धो लें। आप इसे रात को सोने से पहले भी लगा सकते हैं।

कितनी बार करें :

  • इसे हफ्ते में 3-4 बार लगाएं।

कैसे है लाभदायक :

गंजेपन का इलाज नारियल के तेल से किया जा सकता है। नारियल के तेल में पौष्टिक वसा और अल्फा-टोकोफेरॉल होता है, जो स्कैल्प को हाइड्रेटेड करने में सहायता करता है। साथ ही बालों के रोम छिद्र को मजबूत करने और बालों के विकास को प्रोत्साहित करने में भी मदद करता है। वर्जिन नारियल तेल एंटीऑक्सीडेंट से समृद्ध होता है, जो स्कैल्प और बालों को नुकसान होने से बचाता है (5)।

ग) कद्दू के बीज का तेल

सामग्री :

  • 1 चम्मच कद्दू के बीज का तेल
  • 1 बड़ा चम्मच जैतून का तेल

कैसे करें इस्तेमाल :

  • इन दोनों तेलों को मिलाकर सिर पर लगाएं।
  • इसे रात भर लगा रहने दें।
  • सुबह नहाते समय शैंपू से बालों को धो लें।

कितनी बार करें :

  • इस घरेलू उपचार को हफ्ते में 2 बार प्रयोग किया जा सकता है।

कैसे है लाभदायक :

कद्दू के बीज से बने तेल पर परीक्षण किया गया है, जिसमें यह साबित हुआ है कि गंजेपन के इलाज के लिए कद्दू के बीज का तेल अधिक उपयोगी है। यह कैरोटीन, टोकोफेरोल और अन्य लाभकारी पोषक तत्वों से समृद्ध होता है, जो गंजेपन की समस्या को दूर रखने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता हैं (6)। इस प्रकार यह गंजेपन का रामबाण इलाज साबित हो सकता है।

घ) पुदीने का तेल

Mint oil Pinit

iStock

सामग्री :

  • 3-5 बूंदें पेपरमिंट ऑयल
  • पानी से भरा एक प्याला
  • गर्म तौलिया या शॉवर कैप

कैसे करें इस्तेमाल :

  • पानी में तेल को मिक्स करें और बालों पर लगाएं।
  • 20-30 मिनट के लिए अपने सिर को गर्म तौलिया या शॉवर कैप से ढक लें।
  • फिर इसे हल्के शैम्पू से धो लें।

कितनी बार करें :

  • इसे हफ्ते में 2 बार लगाएं।

कैसे है लाभदायक :

पुदीने के तेल से गंजेपन का इलाज किया जा सकता है। इसमें में एंटीऑक्सीडेंट और जीवाणुरोधी गुण पाए जाते हैं। जो बालों के झड़ने से रोकने में मदद करते हैं। एक अध्ययन से यह साबित हुआ है कि पुदीने का तेल कुछ ही हफ्तों में बालों को लंबा और घना बना सकता है (7)।

च) सिद्ध हेयर ऑयल

सामग्री :

  • 100 मिली सिद्ध हेयर ऑयल
  • 4-5 कपूर की गोलियां

कैसे करें इस्तेमाल :

  • कपूर की गोलियों को पीसकर उन्हें सिद्ध तेल में मिलाएं।
  • इसे ऐसी जगह पर रखें, जहां तक हवा न पहुंच सके।
  • सोने से पहले इस तेल को सिर पर लगाएं।
  • अगली सुबह बालों को अच्छे शैम्पू से धो लें।

कितनी बार करें :

  • इसे हर रात को इस्तेमाल करें।

कैसे है लाभदायक :

सिद्ध हेयर ऑयल को तिल का तेल, नारियल तेल, गुलाब और मेंथी के बीज को मिलाकर तैयार किया जाता है। इन तेलों और बीजों के मिश्रण का उपयोग बालों के लिए फायदेमंद होता है। इसलिए, ऐसा माना जाता है कि यह गंजेपन की समस्या को दूर करने में भी सहायक हो सकता है। यहांं हम स्पष्ट कर दें कि बालों के संबंध में सिद्ध हेयर ऑयल को लेकर अभी कोई वैज्ञानिक प्रमाण उपलब्ध नहीं है। इसलिए, आप इसे यूज करने से पहले अपने डॉक्टर से जरूर पूछ लें।

छ) तारामीरा तेल

सामग्री :

  • 2-3 बड़े चम्मच तारामिरा तेल

कैसे करें इस्तेमाल :

  • इस तेल से सिर की मालिश करें।
  • इसे 2-3 घंटे के लिए लगे रहने दें और फिर सिर को धो लें।

कितनी बार करें :

  • इसे हफ्ते में 2 बार लगाएं।

कैसे है लाभदायक :

अरुगुला (एरुका सैटिवा) के बीज से निकाले गए तरल पदार्थ को तारामिरा तेल कहा जाता है। इसे बाल उगाने के इलाज के रूप में उपयोग कर सकते हैं। इसमें भरपूर मात्रा में फैटी एसिड होता है और इसमें एंटी-इंफ्लेमेटरी और एंटीफंगल के भी गुण पाए जाते हैं। इस तेल से बालों के झड़ने और गंजेपन का इलाज भी किया जाता है (8)।

2. सेब का सिरका

Apple vinegar Pinit

iStock

सामग्री :

  • 1-2 बड़े चम्मच सेब का सिरका
  • पानी से भरा एक प्याला

कैसे करें इस्तेमाल :

  • सेब के सिरके को पानी में घोलें और इसे बालों पर लगाएं।
  • इससे एक या दो मिनट तक सिर की मालिश करें और फिर पानी से इसे धो लें।

कितनी बार करें :

  • इस उपाय को हफ्ते में 2 बार किया जा सकता है।

कैसे है लाभदायक :

बाल उगाने के आयुर्वेदिक उपाय के बारे में बात करें, तो सेब का सिरका भी इसमें शामिल है। सेब का सिरका सिर के पीएच स्तर को संतुलित करता है और बालों के विकास में बाधा उत्पन्न करने वाले रोगाणुओं को दूर करता है। इससे बालों को बढ़ने में सहायता मिलती है (9)।

3. आंवला

सामग्री :

  • 1 बड़ा चम्मच आंवला का तेल

कैसे करें इस्तेमाल :

  • तेल को थोड़ी देर गर्म करके ठंडा होने दें।
  • फिर उसे सिर की मालिश करें।
  • इसे 2-3 घंटे लगा रहने दें और फिर धो लें।

कितनी बार करें :

  • इसे हफ्ते में 2 से 3 बार लगा सकते हैं।

कैसे है लाभदायक :

आंवले से निकाले गए तेल का उपयोग गंजेपन को दूर रखने के लिए भी किया जा सकता है। इसके उपयोग से बालों के विकास को मजबूत करने में सहायता मिलती है। इस आंवले का उपयोग बालों के बेहतर विकास के लिए पारंपरिक व्यंजनों में हेयर टॉनिक के रूप में भी किया जा सकता है (10)। इसे गंजेपन का रामबाण इलाज माना जा सकता है।

4. प्याज का रस

सामग्री :

  • 1 मध्यम आकार का प्याज
  • 1 बड़ा चम्मच शहद
  • कॉटन बॉल

कैसे करें इस्तेमाल :

  • प्याज को पीसकर उसका रस निचोड़ लें।
  • फिर इसमें शहद मिलाकर अच्छी तरह से मिक्स करें।
  • इसके बाद कॉटन बॉल का इस्तेमाल करके इसे सिर पर लगाएं और 20-30 मिनट तक लगे रहने दें।
  • फिर सिर को शैम्पू से धोएं।

कितनी बार करें :

  • इस प्रक्रिया को हफ्ते में 2 बार किया जा सकता है।

कैसे है लाभदायक :

ज्यादातर लोग इस बात से परेशान होते हैं कि नये बाल कैसे उगाएं या फिर नये बाल उगाने के उपाय ढूंढते रहते हैं। अगर आप भी झड़ते बालों के लिए कोई इलाज ढूंढ रहे हैं, तो प्याज का रस लाभदायक हो सकता है। यह बालों को जड़ों से मजबूत करने में मदद करता है। वहीं, जब इसे शहद के साथ मिलाया जाता है, तो यह बालों के झड़ने के उपचार में भी मुख्य भूमिका निभाने का काम करने लगता है। सिर के जिस हिस्से से बाल उड़ चुके हैं, वहां इस मिश्रण को लगाने से बालों के विकास में सुधार होता है (11)।

5. अदरक

Ginger Pinit

iStock

सामग्री :

  • 1-2 इंच का अदरक
  • 2 बड़े चम्मच जैतून का तेल या जोजोबा तेल

कैसे करें इस्तेमाल :

  • अदरक को कद्दूकस करके तेल में कुछ मिनट के लिए भिगो दें।
  • इसे सिर पर लगाएं (अदरक के टुकड़ों के साथ) और 2-3 मिनट तक मसाज करें।
  • इसे 30 मिनट के लिए लगे रहने दें और फिर अपने बालों को शैम्पू करें।

कितनी बार करें :

  • इसे आप हफ्ते में 2 बार इस्तेमाल कर सकते हैं।

कैसे है लाभदायक :

अदरक बाल उगाने के इलाज के रूप में काम कर सकता है। इसमें एंटी हेयर लॉस, एंटीऑक्सीडेंट और एंटीइंफ्लेमेटरी प्रभाव होते हैं, जो सिर में रक्त के प्रवाह को बेहतर करते हैं और बालों के रोम छिद्र में सुधार करने में मदद करते हैं। हालांकि, बालों को मजबूत करने के लिए अदरक का इस्तेमाल पारंपरिक तरीके से कई वर्षों से किया जा रहा है, लेकिन इस संबंध में कोई वैज्ञानिक प्रमाण उपलब्ध नहीं है।

6. अंडे का पीला भाग

सामग्री :

  • 1 अंडा

कैसे करें इस्तेमाल :

  • अंडे के पीले भाग को अलग करें और इसे अच्छी तरह से फेंट लें।
  • पेस्ट को स्कैल्प और बालों पर लगाकर एक घंटे के लिए छोड़ दें।
  • इसके बाद शैम्पू से बालों को धो लें।

कितनी बार करें :

  • कुछ हफ्तों के लिए इसे दो बार लगाए और फिर बाद में इसे हफ्ते में एक बार उपयोग करें।

कैसे है लाभदायक :

अंडे को प्रोटीन का सबसे अच्छा स्रोत माना गया है। बालों के विकास और बालों को झड़ने से रोकने के लिए प्रोटीन की अधिक मात्रा में आवश्यकता होती है। यह नये बाल उगाने के उपाय के रूप में अच्छा साबित हो सकता है। यह न केवल बालों को विकास में मदद करता है, बल्कि बालों को रेशमी व चमकदार बनाता है (12)।

7. एलो वेरा

सामग्री :

  • 1 बड़ा चम्मच एलोवेरा जेल

कैसे करें इस्तेमाल :

  • ताजे एलोवेरा जेल को अपने सिर पर लगाएं।
  • इसे 15-20 मिनट तक लगा रहने दें।
  • फिर अपने बालों को पानी धो लें।

कितनी बार करें :

  • आप एलोवेरा जेल को हफ्ते में 2 से 3 बार लगा सकते हैं।

कैसे है लाभदायक :

बाल उगाने के उपाय में एलोवेरा भी अच्छा विकल्प साबित हो सकता है। इसके जेल को सिर पर लगाने से सूखापन दूर होता है। एलोवेरा के एंजाइम प्रभाव के कारण यह बालों को झड़ने से रोक सकता है। साथ ही यह बालों के विकास में मदद करता है (13)।

8. कॉफी

Coffee Pinit

iStock

सामग्री :

  • 1 बड़ा चम्मच शहद
  • 1 बड़ा चम्मच जैतून का तेल
  • 2 चम्मच कॉफी पाउडर

कैसे करें इस्तेमाल :

  • सभी को अच्छी तरह से मिलाएं और फिर इस मिश्रण को स्कैल्प पर मास्क के रूप में लगाएं।
  • इसे 20 मिनट के लिए लगे रहने दें।
  • फिर सामान्य शैम्पू से सिर को धो लें।

कितनी बार करें :

  • इसे हफ्ते में 2 बार इस्तेमाल किया जा सकता है।

कैसे है लाभदायक :

आपको यह पढ़कर कुछ अटपटा लग सकता है, लेकिन बाल उगाने के उपाय में कॉफी भी शामिल है। कॉफी बालों के विकास में बाधा उत्पन्न करने वाले कारकों को रोककर बालों के विकास को बढ़ावा देने का काम करती है (14) (15)।

9. मेथी

सामग्री :

  • 2-4 बड़े चम्मच मेथी पाउडर
  • पानी या छाछ

कैसे करें इस्तेमाल :

  • अच्छा पेस्ट बनाने के लिए मेथी पाउडर में पर्याप्त पानी या छाछ मिलाएं।
  • इसे अपने सिर पर लगाएं और लगभग एक घंटे तक लगे रहने दें।
  • इसके बाद शैम्पू से बालों को धो लें।

कितनी बार करें :

  • यह घरेलू उपाय हफ्ते में 1 या 2 बार उपयोग किया जा सकता है।

कैसे है लाभदायक :

अगर आपके मन में सवाल है कि नये बाल कैसे उगाए जाएं, तो आपको बता दे कि मेथी इसके लिए सहायक हो सकती है। मेथी पेस्ट का उपयोग बालों को झड़ने से रोकने और बालों के रोम छिद्रों को विकसित करने में मदद करता है। इसमें हार्मोन और अन्य प्रोटीन के गुण होते हैं, जो बालों को फिर से बढ़ने में मदद करते हैं (16)।

10. चाइनीज जड़ी-बूटियां

बाल उगाने का इलाज चाइनीज जड़ी-बूटियों से भी किया जा सकता है। कई वर्षों से इन जड़ी-बूटियों की मदद से गंजेपन की समस्या को ठीक किया जा रहा है। इन जड़ी बूटियों में जिन्कगो व ड्रायनेरिया आदि शामिल हैं। ये जड़ी-बूटियां स्कैल्प में परिसंचरण को बेहतर करती हैं। साथ ही शरीर के लिए टॉनिक का काम करती हैं (17)।

11. मुलेठी की जड़

liquorice root Pinit

iStock

सामग्री :

  • 1 चम्मच मुलेठी का पाउडर
  • 1/2 कप दूध
  • एक चुटकी हल्दी
  • शॉवर कैप

कैसे करें इस्तेमाल :

  • दूध में मुलेठी के पाउडर और हल्दी को मिलाकर पेस्ट बना लें।
  • फिर इसे अपने सिर पर लगाएं।
  • इसके बाद सिर को एक शॉवर कैप के साथ कवर करें और रात भर लगा रहने दें।
  • अगली सुबह बालों को शैम्पू कर लें।

कितनी बार करें :

  • इसे हफ्ते में 3 बार उपयोग किया जा सकता है। आपको एक महीने में इसका असर दिखने लगेगा।

कैसे है लाभदायक :

लीकोरिस (मुलेठी) एक प्रकार की जड़ी-बूटी है, जो बालों को झड़ने से रोकने का काम कर सकती है। मुलेठी में एंटी एंड्रोजन गुण पाया जाता है, जो शरीर पर टेस्टोस्टेरोन जैसे एंड्रोजन के बायोलॉजिकल प्रभाव को होने से रोकता है (18)। इसी गुण के कारण मुलेठी पुरुषों में होने वाले गंजेपन में फायदेमंद साबित हो सकती है।

साथ ही मुलेठी में अमीनो एसिड और पॉलीसेकेराइड भी पाए जाते हैं, जो स्कैल्प में मॉइस्चर और हाइड्रेट को बनाए रखने का काम करते हैं। साथ ही मुलेठी बालों को मजबूत, रेशमी और चमकदार बनाने का भी काम भी कर सकती है (19) (20)।

चलिए, गंजेपन को कम करने के लिए कुछ और तथ्यों पर नजर डालते हैं।

गंजेपन को कम करने के लिए कुछ और टिप्स – Other Tips To Treat Baldness in Hindi

गंजेपन की समस्या को दूर रखने के लिए कुछ तरीकों का उपयोग कर सकते हैं, जिसकी जानकारी आपके लिए उपयोगी सिद्ध हो सकती है।

गंजापन के लिए आहार- अपने बालों के स्वास्थ्य को बनाए रखने के लिए आपको अनहेल्दी और जंक फूड्स से दूर रहना होगा। पर्याप्त मात्रा में पानी पीना और खुद को हाइड्रेटेड रखना बालों के झड़ने को रोकने का सबसे अच्छा तरीका है। बालों की मजबूती के लिए इन आहार को शामिल करना आपके लिए उचित होगा।

  • विटामिन-सी युक्त खाद्य पदार्थ जैसे खट्टे फल और अमरूद।
  • मांस, चिकन और मछली (बालों के रोम छिद्रों को पर्याप्त प्रोटीन की आपूर्ति करने के लिए)।
  • विटामिन-ए और बीटा-कैरोटीन युक्त खाद्य पदार्थ जैसे हरी पत्तेदार सब्जियां, ब्रोकली, स्क्वैश, तरबूज और खुबानी।
  • स्ट्रॉबेरी, लाल मिर्च, गेहूं, जौ, जई, चावल और बीन्स जैसे सिलिका से भरपूर खाद्य पदार्थ।
  • दूध, दही और अंडे।

विटामिन– स्वस्थ बालों के विकास के लिए विटामिन ए, बी, सी और ई आवश्यक है। विटामिन बालों के विकास के लिए आवश्यक पोषक तत्व प्रदान करने के साथ-साथ रक्त के संचार को भी बढ़ाने का काम करता है। विटामिन की कमी बालों के झड़ने का कारण बन सकती है। इसलिए, इन डाइट में विटामिन का संतुलन बनाए रखना जरूरी है। सही विटामिन का चुनाव करने के लिए डॉक्टर की सलाह जरूर लें।

गंजापन के लिए जोंक थेरेपी– जोंक खून चूसने वाला कीड़ा होता है। आयुर्वेद में इसका उपयोग गंजेपन का इलाज करने के लिए किया जाता है। ऐसा माना जाता है कि इस थेरेपी के उपयोग से सिर के रक्त संचार में सुधार होता है। इससे बालों के विकास में मदद मिल सकती है। इस तकनीक को केवल एक प्रशिक्षित व्यक्ति ही कर सकता है। यह उपचार कितना सुरक्षित और कारगर है, इस संबंध में कोई वैज्ञानिक अध्ययन उपलब्ध नहीं है (21)।

लेजर ट्रीटमेंट थेरेपी– लेजर थेरेपी के जरिए एंड्रोजेनिक एलोपेसिया की समस्या को दूर किया जा सकता है और बालों को बढ़ने में मदद मिल सकती है। इस थेरेपी से बाल मोटे व घने हो सकते हैं (22), लेकिन इस संबंध में वैज्ञानिक अध्ययन कम हुए हैं। इसलिए, लेजर थेरेपी करवाने से पहले अपने डॉक्टर से जरूर बात कर लें।

गंजेपन के लिए एक्यूपंक्चर– एक्यूपंक्चर वैकल्पिक चिकित्सा पद्धति है। गंजेपन को दूर रखने के लिए इसका भी इस्तेमाल किया जा सकता है।

नोट : इस विधि को विशेषज्ञ के सहायता से ही करें।

आइए जानते है कि गंजापन से बचने के और तरीके क्या-क्या हैं।

गंजेपन से बचने के उपाय – Prevention Tips for Baldness in Hindi

अगर अच्छी तरह से अपने बालों पर ध्यान दिया जाए, तो गंजेपन की समस्या को शुरू होने से पहले ही रोका जा सकता है। इसके अलावा कुछ अन्य टिप्स भी हैं, जो इस प्रकार हैं :

  • बार-बार कंघी करने से बालों के रोम छिद्र कमजोर हो सकते हैं, जिस कारण आपके बाल झड़ सकते हैं।
  • गर्म पानी से बालों के रोम छिद्र कमजोर हो सकते हैं। परिणामस्वरूप बाल पतले हो सकते हैं। इसलिए, अपने बालों को धोने के लिए सामान्य तापमान के पानी का उपयोग करें।
  • रासायनिक शैंपू का उपयोग आपके बालों के झड़ने का कारण बन सकता है। इसलिए, आयुर्वेदिक शैम्पू का उपयोग करें, जो बालों को लाभ पहुंचा सकता है।
  • स्कैल्प में परिसंचरण को बढ़ावा देने के लिए तेल के साथ नियमित रूप से सिर की मालिश करें।

अगर बालों का सही तरह से ध्यान रखा जाए, तो बाल झड़ने की समस्या से राहत पाना ज्यादा मुश्किल काम नहीं है। इससे गंजेपन की समस्या को दूर किया जा सकता है। जिस प्रकार शरीर को पोषण की आवश्यकता होती है, वैसे ही बालों को भी इसकी जरूरत होती है। आप बालों को इस लेख में बताए गए घरेलू उपायों के जरिए पोषण दे सकते हैं। हम उम्मीद करते हैं कि ऊपर दिए हुए घरेलू उपाय आपके लिए उपयोगी सिद्ध होंगे। अगर आपके पास गंजेपन से संबंधित कोई अन्य जानकारी है, तो आप नीचे दिए कमेंट बॉक्स के माध्यम से हमारे साथ शेयर कर सकते हैं।

संबंधित आलेख