सामग्री और उपयोग

गन्ने के रस (Ganne Ka Juice) के 19 फायदे, उपयोग और नुकसान – Sugarcane Juice Benefits, Uses and Side Effects in Hindi

by
गन्ने के रस (Ganne Ka Juice) के 19 फायदे, उपयोग और नुकसान – Sugarcane Juice Benefits, Uses and Side Effects in Hindi Hyderabd040-395603080 August 23, 2019

गर्मियों में गन्ने का जूस न सिर्फ प्यास बुझाता है, बल्कि अपने औषधीय गुण के कारण शरीर की रक्षा भी करता है। आपको जानकर हैरानी होगी कि यह दांतों की समस्या से लेकर कैंसर जैसी जानलेवा बीमारी तक की रोकथाम कर सकता है। इसमें आयरन, पोटैशियम, कैल्शियम व मैग्नीशियम जैसे जरूरी पोषक तत्व पाए जाते हैं, जो शरीर को कई तरीके से लाभ पहुंचाने का काम करते हैं। इस लेख में हमारे साथ जानिए गन्ने के रस के शारीरिक लाभ और इसके इस्तेमाल के विभिन्न तरीकों के बारे में।

गन्ने के रस के फायदे – Benefits of Sugarcane Juice (Ganne ka Ras) in Hindi

गन्ने की खेती इससे प्राप्त मीठे रस के लिए की जाती है। गन्ने से ही चीनी व गुड़ जैसे उत्पादों का निर्माण किया जाता है। इन सबके अलावा, गन्ने का रस गर्मियों का सबसे खास पेय है। यह निर्जलीकरण से बचाने का काम करता है और शरीर को थकान से मुक्त कर तरोताजा करता है। भारत में व्यापक रूप से गन्ने के रस का इस्तेमाल पीलिया, बदहजमी और कई मूत्र रोगों के उपचार में किया जाता है (1)। आंतरिक स्वास्थ्य के अलावा, इसका प्रयोग त्वचा के लिए भी किया जाता है। नीचे जानिए गन्ने का रस किस प्रकार आपको शारीरिक लाभ पहुंचा सकता है।

सेहत के लिए गन्ने के रस के फायदे – Health Benefits of Sugarcane Juice in Hindi

1. बढ़ाता है उर्जा

अगर आप गर्मियों में निर्जलीकरण का सामना कर रहे हैं, तो गन्ने का जूस आपको तुरंत ऊर्जा देने का काम करेगा। गन्ने का रस थकान मिटाने के साथ-साथ आपको तरोताजा करने का काम करेगा। गन्ना प्राकृतिक शर्करा का एक अच्छा स्रोत है, जो आपके शरीर में खोए हुई शर्करा की पूर्ति करेगा।

2. पाचन स्वास्थ्य

digestive Health Ke liye Ganne ka Ras Pinit

Shutterstock

अगर आप पाचन समस्या से पीड़ित हैं, तो आपको जल्द गन्ने के रस का सेवन शुरू कर देना चाहिए। गन्ना पोटैशियम से समृद्ध होता है (2), जो पेट को संतुलित रखने में मदद करता है और पाचन क्रिया को सरल बनाता है (3)।

3. लिवर स्वास्थ्य (पीलिया)

गन्ने का रस लिवर से संबंधित पीलिया बीमारी के लिए भी फायदेमंद माना जाता है (1)। लिवर की कार्यप्रणाली में रूकावट आने पर पीलिया होता है। यह स्थिति तब बनती है, जब शरीर में बिलीरुबिन अधिक बढ़ जाता है। बिलीरुबिन एक पीला रंगद्रव्य (pigment) है, जो लिवर में लाल रक्त कोशिकाओं के टूटने से बनता है। इस स्थिति पर काबू पाने के लिए आप रोजाना एक गिलास ताजा गन्ने का रस पी सकते हैं (4)।

4. लड़ता है कैंसर से

गन्ने का रस कैंसर जैसी जानलेवा बीमारी से भी रोकथाम करने का काम कर सकता है। यह फ्लेवेनॉइड से समृद्ध होता है (5), जो कैंसर से रोकथाम करने वाले एजेंट के रूप में जाना जाता है। फ्लेवेनॉइड, कोशिकाओं को संतुलित करने और कैंसर प्रभाव से बचाने का काम करता है (6)। भविष्य में कैंसर के जोखिम से बचने के लिए आप गन्ने के रस का सेवन शुरू कर सकते हैं।

5. मधुमेह

मधुमेह के मरीज गन्ने के रस का सेवन कर सकते हैं। गन्ने का रस आइसोमाल्टुलोज (Isomaltulose) नामक तत्व से समृद्ध होता, जिसे जापान और कई एशियाई देशों में शक्कर के विकल्प के तौर पर इस्तेमाल किया जाता है। आइसोमाल्टुलोज में ग्लाइसेमिक की मात्रा कम होती है, यानी इसका इस्तेमाल मधुमेह से पीड़ित मरीज कर सकते हैं। कम ग्लाइसेमिक इंडेक्स डायबिटीज के मरीजों में रक्त शर्करा नियंत्रण करता है और मरीजों को अन्य पोषण भी प्रदान करता है (7)।

6. करता है वजन कम

वजन घटाने के प्राकृतिक नुस्खे के रूप में आप गन्ने के रस का सेवन शुरू कर सकते हैं। गन्ना फाइबर से युक्त होता है, जो शरीर से अतिरिक्त चर्बी को हटाने का काम कर सकता है। फाइबर शरीर में फैट को नियंत्रित करने में अहम भूमिका निभाता है (8)।

7. बढ़ाता है रोग प्रतिरोधक क्षमता

शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने के लिए आप गन्ने के रस का सेवन कर सकते हैं। यह प्राकृतिक पेय एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर होता है, जो संक्रमण से लड़ने का काम करता है और इम्यून सिस्टम को बूस्ट करता है। यह मूत्र मार्ग से जुड़े संक्रमण और किडनी स्टोन जैसी समस्याओं पर भी प्रभावी असर डालता है (9)।

8. बुखार

fever Ke liye Ganne ka Ras Pinit

Shutterstock

जैसा कि हमने ऊपर बताया है कि गन्ने का रस एंटीऑक्सीडेंट गुणों से युक्त होता है, जो शरीर में बैक्टीरिया, वायरस या परजीवी के कारण होने वाले संक्रमण व बुखार से हमारी रक्षा करता है। इसके अलावा, यह प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने का काम भी करता है (9), (10)।

9. एसिडिटी

गन्ने में मौजूद पोटैशियम पाचन तंत्र को सुचारू रूप से चलाने में मदद करता है, जिससे गैस व एसिडिटी जैसी समस्याओं के होने की आशंका बहुत हद तक कम हो जाती है (2), (3)।

10. गर्भावस्था में लाभदायक

गर्भावस्था के दौरान गन्ने का रस अहम भूमिका निभा सकता है। इसमें मौजूद पॉलीफेनॉल्स मेटाबॉलिज्म को बढ़ाने और गर्भावस्था के दौरान वजन को नियंत्रित करने का काम करता है। इसके अलावा, गन्ने का लो ग्लाइसेमिक इंडेक्स ऊर्जा के स्तर को बनाए रखने में मदद करता है। एक गिलास गन्ने के रस के साथ अदरक का रस गर्भवती महिलाओं में मार्निंग सिकनेस को कम करने में मदद कर सकता है।

गन्ने का जूस कैल्शियम, मैग्नीशियम और आयरन से समृद्ध स्रोत है, इसलिए नियमित रूप से इसका सेवन शरीर की प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने और गर्भावस्था के दौरान खनिज की कमी की पूर्ति करता है। गर्भावस्था में कब्ज की समस्या से निजात पाने के लिए भी गन्ने के रस का सेवन किया जा सकता है (11)।

नोट : गर्भावस्था एक नाजुक दौर होता है। इसलिए, गन्ने का जूस पीने से पहले एक बार डॉक्टर से जरूर पूछ लें।

11. दंत स्वास्थ्य

Dental health Ke liye Ganne ka Ras Pinit

Shutterstock

गन्ना आपके दांतों के लिए भी लाभदायक हो सकता है। एक रिपोर्ट के अनुसार अगर देर तक गन्ना चबाया जाए, तो यह दांतों में कैविटी की समस्या को दूर सकता है (12)।

12. गले में दर्द

गन्ने के रस के फायदे यहां समाप्त नहीं होते, गन्ने के रस का सेवन गले के दर्द के लिए भी किया जा सकता है। एक रिपोर्ट के अनुसार इसमें एंटीइंफ्लेमेटरी गुण पाए गए हैं, जो दर्द से निजात दिलाने का काम कर सकते हैं (13)।

13.भरता है घाव

पाचन क्रिया को सुचारू रूप से चलाने और प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने के साथ-साथ गन्ने का रस घाव को जल्द भरने का काम भी कर सकता है। गन्ना एंटीऑक्सीडेंट गुणों से समृद्ध होता है और एंटीऑक्सीडेंट संक्रमित व गैर-संक्रमित घाव को जल्द भरने का काम कर सकता है। इसके अलावा, गन्ना रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने का काम भी करता है, जिससे शरीर को किसी भी प्रकार के घाव से लड़ने में मदद मिलती है (9), (14)।

14. यूरिनरी ट्रैक्ट इन्फेक्शन (UTI)

मूत्र प्रणाली के किसी भी हिस्से (गुर्दे, मूत्राशय या मूत्रमार्ग) में संक्रमण को यूरिनरी ट्रैक्ट इन्फेक्शन कहा जाता है। यह समस्या किसी भी उम्र के व्यक्ति को प्रभावित कर सकती है। इससे पीड़ित व्यक्ति को पेशाब करते हुए जलन व दर्द जैसी समस्याओं का सामना करना पड़ता है (15)। इस समस्या से निजात पाने के लिए आप गन्ने के रस का सेवन कर सकते हैं। गन्ने का जूस एक कारगर मूत्रवर्धक के रूप में काम करता है, जो यूरिनरी ट्रैक्ट इन्फेक्शन को दूर करने और किडनी की कार्यप्रणाली में सुधार का काम कर सकता है (9)।

15. नाखूनों के लिए

nails Ke liye Ganne ka Ras Pinit

Shutterstock

नाखूनों को स्वस्थ रखने के लिए भी गन्ना आपकी मदद कर सकता है। गन्ना कैल्शियम से समृद्ध होता है, जो नाखूनों को मजबूत बनाने का काम करता है (2), (16)।

16. मांसपेशियों की ताकत

गन्ने के रस के स्वास्थ्य लाभों में मांसपेशियों की ताकत बढ़ाना भी शामिल है। गन्ना ग्लूकोज का अच्छा स्रोत है, जो मांसपेशियों के स्वास्थ्य के लिए जरूरी तत्व माना जाता है (18)।

आंतरिक स्वास्थ्य के लिए गन्ने का रस के फायदे जानने के बाद आइए जानते हैं त्वचा के लिए गन्ने के गुण।

त्वचा के लिए गन्ने के जूस के फायदे – Skin Benefits of Sugarcane Juice in Hindi

17. मुंहासों के लिए

गन्ने का जूस अल्फा हाइड्रॉक्सी एसिड (AHA) का अच्छा स्रोत है, तो त्वचा के लिए खास तत्व माना जाता है। अल्फा हाइड्रॉक्सी एसिड में ग्लाइकोलिक एसिड, लैक्टिक एसिड, मैलिक एसिड, टार्टरिक एसिड और साइट्रिक एसिड मौजूद होते हैं, जिनका कॉस्मेटिक उत्पादों में बड़े पैमाने पर प्रयोग किया जाता है। मुंहासों से निजात दिलाने में ये एसिड अहम भूमिका निभा सकते हैं (19)।

कैसे करें इस्तेमाल

सामग्री :

  • गन्ने का रस (आवश्यकतानुसार)
  • मुल्तानी मिट्टी (आवश्यकतानुसार)

प्रयोग की विधि :

  • मुल्तानी मिट्टी में गन्ने का रस डालकर पेस्ट बना लें।
  • अब अपने चेहरे और गर्दन पर यह पेस्ट लगाएं।
  • लगभग 20 मिनट तक चेहरे पर पेस्ट लगा रहने दें और बाद में ठंडे पानी से चेहरा धो लें।
  • हफ्ते में एक-दो बार इस उपाय को कर सकते हैं।

18. चमकती त्वचा के लिए

गन्ने का रस के फायदे में चमकती त्वचा भी शामिल है। गन्ने का रस त्वचा के लिए खास माना जाता है। इसमें मौजूद फाइबर पाचन तंत्र को सुचारू रूप से चलाने में मदद करता है, जिसका सकारात्मक प्रभाव त्वचा पर भी पड़ता है। गन्ने के रस में एंटीऑक्सीडेंट गुण भी पाए जाते हैं, जो सूर्य की हानिकारक पैराबैंगनी किरणों से त्वचा की रक्षा करते हैं, जिससे त्वचा की चमक बनी रहती है (9), (20)।

कैसे करें इस्तेमाल

सामग्री :

  • एक चौथाई कप गन्ने का रस
  • एक चम्मच शहद

प्रयोग की विधि :

  • गन्ने के रस में शहद को मिलाएं।
  • इसे चेहरे और गर्दन पर लोशन की तरह लगाकर 20 मिनट के लिए छोड़ दें।
  • 20 मिनट बाद आप ठंडे पानी से चेहरा धो लें।
  • इस उपाय को हफ्ते में दो बार कर सकते हैं।

19. स्किन एजिंग

Skin aging Ke liye Ganne ka Ras Pinit

Shutterstock

गन्ने के गुण यहां समाप्त नहीं होते। गन्ने का रस एजिंग से छुटकारा देने का काम कर सकता है। इसमें मौजूद एंटीऑक्सीडेंट एक कारगर एंटी-एजिंग एजेंट के रूप में काम करता है, जो झुर्रियों की समस्या और झुर्रियों को बढ़ावा देने वाली सूर्य की हानिकारक पैराबैंगनी किरणों से त्वचा की रक्षा करता है (9), (20)।

कैसे करें इस्तेमाल

सामग्री :

  • 2-3 चम्मच गन्ने का रस
  • चुटकी भर हल्दी

प्रयोग की विधि :

  • गन्ने के रस में हल्दी को मिलाएं।
  • इसे पूरे चेहरे पर लगाएं और 10-12 मिनट के लिए छोड़ दें।
  • अब चेहरे को गुनगने पानी से धो लें।
  • यह उपाय आप सप्ताह में दो बार कर सकते हैं।

त्वचा के लिए गन्ने के रस के फायदे जानने के बाद आइए जान लेते हैं गन्ने के जूस में मौजूद पौष्टिक तत्वों के बारे में।

गन्ने के जूस के पौष्टिक तत्व – Sugarcane Juice (Ganne ka Ras) Nutritional Value in Hindi

पोषक तत्वमात्रा प्रति (28.35)
प्रोटीन0.20 g
पानी0.19 g
वसा0.09 g
कैलोरी
कुल कैलोरी111.43
कार्बोहाइड्रेट से कैलोरी
वसा से कैलोरी0.03
प्रोटीन से कैलोरी
कार्बोहाइड्रेट
कुल कार्बोहाइड्रेट27.40 g
शुगर25.71 g
विटामिन
राइबोफ्लेविन0.16 mg
नियासिन0.20mg
पैंटोथैनिक एसिड0.09mg
मिनरल्स
कैल्शियम32.57mg
आयरन0.57mg
मैग्नीशियम2.49mg
फास्फोरस0.01mg
पोटैशियम162.86mg
कॉपर0.09mg
मैंगनीज0.09mg

गन्ने के रस के फायदे और इसमें मौजूद पौष्टिक तत्वों के बाद नीचे जानिए इसका सेवन किस प्रकार किया जा सकता है।

गन्ने के रस का उपयोग – How to Use Sugarcane Juice in Hindi

गन्ने का रस एक लाभकारी प्राकृतिक पेय है, जिसका सेवन आप विभिन्न तरीकों से कर सकते हैं। नीचे जानिए गन्ने के रस की कुछ बेहतरीन रेसिपी :

1. घर का बना गन्ने का रस

सामग्री :

  • एक गन्ना
  • एक बड़ा चम्मच अदरक कटा हुआ
  • नींबू का रस स्वाद के लिए
  • काला नमक स्वाद के लिए

बनाने की प्रक्रिया :

  • गन्ने का छिल्का उतारकर छोटे-छोटे टुकड़ों में काट लें।
  • अब ब्लेंडर में सभी सामग्रियों को डालें और कुछ देर तक अच्छी तरह ब्लेंड करें।
  • अब अपने हाथों की मदद से ब्लेंड सामग्री से रस निचोड़कर गिलास में डालें।
  • निकाले गए रस को कुछ देर ठंडा करें और पिएं।

2. गन्ना और अदरक से बना स्लश

सामग्री :

  • एक कप गन्ने का रस
  • एक चम्मच अदरक का रस
  • आधा छोटा चम्मच काला नमक

बनाने की प्रक्रिया :

  • सामग्री को मिलाएं और 12 घंटे के लिए रेफ्रिजरेटर ट्रे में फ्रीज करें।
  • अब फ्रीज गन्ने के मिश्रण को निकालें और थोड़ी देर ब्लेंड करें।
  • कप में शुगरकेन स्लश को निकालें और आनंद लें।

3. अन्य रस

आप गन्ने के रस को अन्य फलों के रस के साथ मिलाकर भी पी सकते हैं, जैसे :

  • अनार का रस
  • तरबूज का रस
  • नारियल पानी
  • मोसंबी का रस

गन्ने के रस के फायदे, इसमें मौजूद पौष्टिक और उपयोग के तरीकों के बाद नीचे जानिए इसे घर में कैसे स्टोर करें।

गन्ने का चयन और लंबे समय तक सुरक्षित रखना – Selection and Storage of Sugarcane in Hindi

चयन : गन्ने का जूस का आनंद लेने के लिए इसका सही चुनाव भी बहुत जरूरी है। हमेशा पीले हो चुके गन्ने का ही चुनाव करें, जिनकी पत्तियां सूखी हों। गन्ने पर उंगली से हल्की चोट मारकर देखें, अगर आवाज किसी धातु से टकराने जैसी आती है, तो इसका मतलब है कि गन्ना पूरी तरह से पक चुका है।

स्टोर : जब भी आप बड़ा गन्ना खरीदें, तो उसे छोटे टुकड़ों में काट लें, ताकि आप उसे अच्छी तरह फ्रिज में स्टोक कर सकें। गन्ने को रेफ्रिजरेटर में रखने से पहले उसके छिल्के उतारना न भूलें। आप गन्ने के टुकड़ों को प्लास्टिक से कवर भी कर सकते हैं, ताकि बाहरी नमी से ये बचे रहें। अगर सही से प्रक्रिया का पालन किया जाए, तो गन्ने को दो सप्ताह तक स्टोर किया जा सकता है।

गन्ने के जूस के नुकसान – Side Effects of Sugarcane Juice (Ganne ka Juice) in Hindi

इसमें कोई शक नहीं कि गन्ने का रस एक गुणकारी पेय पदार्थ है, लेकिन इसका अत्यधिक सेवन निम्नलिखित समस्याओं का कारण बन सकता है :

  • गन्ना ठंडी तासीर का होता है, इसलिए सर्दियों में इसके सेवन से बचें।
  • सड़क किनारे बिकने वाले गन्ने के रस से बचें, क्योंकि इस रस में हानिकारक कीटाणु हो सकते हैं, जो पेट संबंधी समस्या का कारण बन सकते हैं।
  • बहुत देर पहले निकला हुआ गन्ने का रस न पिएं, इससे स्वास्थ्य पर असर पड़ सकता है।

गर्मियों के दौरान गन्ने का रस किसी औषधि से कम नहीं, इसलिए जब भी मौका मिले गन्ने के रस का सेवन करें। साथ ही ध्यान रखें कि इसका रस साफ तरीके से निकाला गया हो। गंदगी के संपर्क में आने से यह नुकसानदायक भी हो सकता है। अगर आप लेख में बताई गई किसी भी समस्या से पीड़ित हैं, तो गन्ने के रस का सेवन प्राकृतिक दवा के रूप में करें। नियमित सेवन के दौरान अगर आप अपने में किसी शारीरिक समस्या के लक्षण देखते हैं, तो डॉक्टर से जरूर संपर्क करें। आशा है कि यह लेख आपको अच्छा लगा होगा। किसी भी प्रकार के सुझाव और जानकारी के लिए आप नीचे दिए कमेंट बॉक्स का प्रयोग कर सकते हैं।

अक्सर पूछे जाने वाले सवाल:

गन्ने के रस को कब तक पिया जा सकता है?

कोशिश करें कि गन्ने का रस ताजा ही पिएं। अगर गन्ने के रस को फ्रिज में नहीं रखा गया है, तो यह आधा या एक घंटे बाद खराब होने लगता है।

क्या सर्दी-जुकाम के लिए गन्ने का रस ठीक होता है?

गन्ना का रस एंटीऑक्सीडेंट के रूप में काम करता है, जो एक कारगर एंटी इंफ्लुएंजा है। सर्दी-जुकाम के दौरान इसका रस पिया जा सकता है (9), (21)।

और पढ़े:

संबंधित आलेख