घर पर बनाये एंटी एजिंग फेस पैक – Homemade Anti-Aging Face Masks in Hindi

by

एक तय उम्र के बाद चेहरे पर झुर्रियां और महीन रेखाएं दिखने लगती हैं। इनसे छुटकारा पाने के लिए लोग तरह-तरह के एंटी एजिंग उत्पादों का प्रयोग शुरू कर देते हैं। बाजार में मिलने वाले कई एंटी एजिंग उत्पाद रसायन युक्त होते हैं, जिनसे त्वचा को भारी क्षति भी पहुंच सकती है। ऐसे में घर पर बनाए एंटी एजिंग फेस पैक का सहारा लिया जा सकता है। ये एंटी एजिंग फेस पैक प्राकृतिक सामग्री से बनने के कारण त्वचा के लिए लाभकारी हो सकते हैं। हमारे साथ स्टाइलक्रेज के इस लेख में जानिए 15 तरह के एंटी एजिंग फेस मास्क और इन्हें घर पर बनाने की आसान विधि। इसके अलावा, लेख में आप एंटी एजिंग फेस पैक से संबंधित जरूरी टिप्स भी जान पाएंगे।

आइए, क्रमवार तरीके से जानिए त्वचा के लिए कारगर एंटी एजिंग फेस पैक के बारे में।

घर पर बनाए एंटी एजिंग फेस पैक – Homemade Anti-Aging Face Masks in Hindi

1. नारियल तेल फेस मास्क

सामग्री :
  • एक चम्मच नारियल तेल
  • आधा चम्मच अनार के बीज का तेल
  • रूई
विधि :
  • अपने चेहरे को साफ पानी से धोकर तौलिये से साफ कर लें।
  • अब एक बाउल में दोनों तेलों को मिलाकर इसे रूई की मदद से चेहरे पर लगाएं।
  • इस पैक को लगभग एक घंटे तक चेहरे पर लगा रहने दें।
  • अंत में फेसवॉश की मदद चेहरा धो लें।
  • इस पैक को रोजाना उपयोग किया जा सकता है।
कैसे काम करता है :

यूवी रेडिएशन की वजह से त्वचा में रिएक्टिव ऑक्सीजन स्पीशीज बढ़ जाते हैं। ये एक प्रकार के फ्री रेडिकल्स होते हैं, जिनकी वजह से कोशिकाओं को नुकसान पहुंचता है (1)। इनकी वजह से स्कीन कैंसर हो सकता है और त्वचा पर इन्फ्लेमेशन के साथ बढ़ती उम्र के लक्षण भी दिखने लग सकते हैं। इन फ्री रेडिकल्स से सुरक्षा के लिए नारियल के तेल का उपयोग किया जा सकता है। नारियल का तेल त्वचा को यूवी रेडिएशन के प्रभाव से बचा सकता है, साथ ही इसमें एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण होते हैं, जो त्वचा को इन्फ्लेमेशन से बचा सकते हैं (2)। इसके अलावा, अनार का तेल यूवी किरणों के प्रभाव को कम करके फोटोएजिंग को कम करने में मदद कर सकता है (3)। इस प्रकार नारियल के तेल का उपयोग एंटी एजिंग फेस पैक बनाने में किया जा सकता है।

2. बेंटोनाइट क्ले फेस मास्क

सामग्री :
  • 2 चम्मच बेंटोनाइट क्ले
  • गुलाब के तेल की कुछ बूंदें
  • चार-पांच चम्मच पानी
विधि :
  • बेंटोनाइट क्ले से एंटी एजिंग फेस पैक बनाने के लिए एक बाउल में सभी सामग्रियों को मिलाकर पेस्ट बना लें।
  • फिर चेहरे को पानी से धो लें और बाद में तौलिये से साफ कर लें।
  • अब बने हुए पेस्ट को चेहरे और गले पर अच्छी तरह लगाएं।
  • लगभग 10-15 मिनट सूखने के बाद गुनगुने पानी से चेहरा धो लें।
  • इस पैक का उपयोग हफ्ते में दो बार किया जा सकता है।
कैसे काम करता है :

त्वचा पर सूरज की यूवी किरणों का प्रभाव लगातार पड़ता रहता है। इसके चलते समय से पहले बढ़ती उम्र के लक्षण जैसे इलास्टिसिटी कम होना, झुर्रियां दिखना और फोटोएजिंग की समस्या हो सकती है (4)। ऐसे में एंटी एजिंग के लिए फेस पैक बनाने के लिए बेंटोनाइट क्ले का उपयोग किया जा सकता है। बेंटोनाइट क्ले का उपयोग सूरज की हानिकारक किरणों से बचाने के लिए सनस्क्रीन बनाने में किया जाता है। ईरानियन जर्नल ऑफ पब्लिक हेल्थ के एक शोध में पाया गया है कि त्वचा पर यूवी लाइट का प्रभाव कम करने में बेंटोनाइट क्ले सबसे प्रभावी साबित हुई है। इस शोध में यह भी पाया गया है कि जिन सनस्क्रीन में बेंटोनाइट क्ले मौजूद होती है, वह अन्य सन लोशन से ज्यादा प्रभावशाली होती हैं (5)।

3. एवोकाडो फेस माक्स

सामग्री :
  • पका हुआ आधा एवोकाडो
  • एक बड़ा चम्मच ओट्स
विधि :
  • एक बाउल में एवोकाडो का गूदा निकालें और उसे मैश करके ओट्स मिला दें।
  • अब इस पैक को चेहरे पर लगाएं और 10-20 मिनट के लिए सूखने दें।
  • एक बार पैक अच्छी तरह से सूख जाए, तो चेहरे को गुनगुने पानी से धो लें।
  • इस पैक का उपयोग हफ्ते में दो से तीन बार किया जा सकता है।
कैसे काम करता है :

एवोकाडो में लिनोलिक नाम का एसिड पाया जाता है। लिनोलिक एसिड, त्वचा में नमी और स्किन एट्रोफी (त्वचा का ढीला हो जाना) जैसे एजिंग के लक्षणों को कम करने में मदद कर सकता है (6)। वहीं, दूसरी ओर एवोकाडो का तेल भी एजिंग के प्रभाव को कम करने में मदद कर सकता है। दरअसल, एनसीबीआई की वेबसाइट पर प्रकाशित एक शोध के अनुसार एवोकाडो का तेल कोलेजन मेटाबॉलिज्म को बढ़ाने में मदद कर सकता है। इससे त्वचा की इलास्टिसिटी को बनाए रखने में मदद मिल सकती है (7)। एक अन्य शोध के अनुसार ये फायदे एवोकाडो और इसके तेल के सेवन के बाद भी मिल सकते हैं। एंटी एजिंग फेस पैक के तौर पर यह कितना कारगर होगा, फिलहाल इस पर वैज्ञानिक प्रमाण का अभाव है।

4. केले का फेस पैक

सामग्री :
  • एक पका हुआ केला
  • दो चम्मच गुलाब जल
विधि :
  • केले से एंटी एजिंग फेस पैक बनाने के लिए एक बाउल में पके हुए केले को अच्छी तरह मैश कर लें।
  • अब इसमें दो चम्मच गुलाब जल मिलाएं।
  • इस पैक को अच्छी तरह चेहरे व गले पर लगाएं और 20-25 मिनट तक सूखने दें।
  • पैक के अच्छी तरह सूख जाने के बाद, चेहरे को ठंडे पानी से धो लें।
  • इस पैक का उपयोग हफ्ते में तीन बार किया जा सकता है।
कैसे काम करता है :

केले का फल विटामिन-सी और विटामिन-ए से समृद्ध होता है (8)। त्वचा पर एंटीएजिंग प्रभाव डालने में ये दोनों ही विटामिन बहुत लाभदायक माने जाते हैं। विटामिन-सी त्वचा में कोलेजन को बढ़ाने में मदद करता है और झुर्रियों को कम करने में लाभदायक साबित हो सकता है। वहीं विटामिन-ए एक प्रभावी एंटीऑक्सीडेंट के रूप में काम करता है, जिससे त्वचा पर यूवी किरणों का प्रभाव कम करने में मिल सकती है। इनके प्रभाव से त्वचा पर उम्र से पहले झुर्रियां, महीन रेखाएं, इलास्टिसिटी और पिगमेंटेशन जैसी समस्याओं को कम किया जा सकता है (9)।

5. चावल के पानी का फेस मास्क

सामग्री :
  • आधा कप ब्राउन राइस
  • एक कप पानी
  • फेशियल पेपर टॉवल
विधि :
  • एक कप पानी में आधा कप ब्राउन राइस एक घंटे के लिए भिगो कर रख दें।
  • एक घंटे बाद पानी को छान लें।
  • अब फेशियल पेपर टॉवल को लगभग 5-6 मिनट के लिए चावल के पानी में भिगो लें।
  • ध्यान रखें कि पेपर टॉवल पानी में गल न जाएं।
  • अब पेपर टॉवल को पानी से निकाल कर हल्का-सा निचोड़ लें और चेहरे पर लगाएं।
  • पेपर टॉवल को लगभग 20-25 मिनट तक चेहरे पर लगे रहने दें।
  • अंत में टॉवल हटा कर साफ पानी से चेहरा धो लें।
  • चावल के पानी से घर पर बनाए एंटी एजिंग फेस पैक का उपयोग प्रतिदिन किया जा सकता है।
कैसे काम करता है :

ब्राउन राइस खाने के फायदे तो कई सारे हैं, लेकिन इसका पानी त्वचा पर एंटी-एजिंग एजेंट की तरह काम कर सकता है। दरअसल, ब्राउन राइस में नियासिन नाम का एक विटामिन पाया जाता है, जो अपने एंटीएजिंग गुणों के लिए जाना जाता है (10)। नियासिन झुर्रियों, पिगमेंटेशन और ढीली त्वचा के साथ-साथ मुंहासों और यूवी प्रभाव के कारण स्कीन कैंसर को बढ़ने से रोकने में भी लाभदायक हो सकता है (11)।

6. कॉफी फेस मास्क

सामग्री :
  • एक चम्मच कॉफी
  • एक चम्मच कोको
  • एक चम्मच नारियल का तेल
विधि :
  • कॉफी की मदद से एंटी एजिंग फेस मास्क घर में बनाने के लिए बताई गई सारी सामग्रियों को एक बाउल में मिला लें और पेस्ट बना लें।
  • इस पेस्ट को चेहरे व गले पर लगाएं और 15-20 मिनट के लिए छोड़ दें।
  • अच्छी तरह सूख जाने के बाद हाथों को हल्का-सा गीला करें और चेहरे पर गोलाकार में घुमाएं।
  • इस तरह हाथों को गोल-गोल घुमाते हुए चेहरे को दो से तीन मिनट तक स्क्रब करें।
  • आखिरी में चेहरे को ठंडे पानी से धो लें।
  • इस एंटी एजिंग फेस पैक को हफ्ते में दो से तीन बार उपयोग किया जा सकता है।
कैसे काम करता है :

जैसा कि हमने बताया कि यूवी रेडिएशन त्वचा पर बढ़ती उम्र के लक्षण दिखने का एक बड़ा कारण हो सकता है। ऐसे में कॉफी से घर पर बनाए एंटी एजिंग फेस पैक का उपयोग करने से फायदा मिल सकता है। एनसीबीआई (नेशनल सेंटर फॉर बायोटेक्नोलॉजी इंफार्मेशन) की वेबसाइट पर प्रकाशित एक शोध में पाया गया है कि कैफीन एक प्रभावी एंटीऑक्सीडेंट को रूप में त्वचा की कोशिकाओं को यूवी रेडिएशन के प्रभाव से बचा सकता और फोटोएजिंग को कम करने में मदद कर सकता है (12)।

इसके साथ कोको का उपयोग करने से इस पैक के फायदे दोगुने हो सकते हैं। कोको में मौजूद पॉलीफिनोल भी त्वचा पर यूवी किरणों के प्रभाव को कम करके फोटोएजिंग प्रक्रिया को धीमा कर सकता है। कोको त्वचा पर प्रभावी एंटीऑक्सीडेंट, एंटी इंफ्लेमेटरी और फोटो प्रोटेक्टिव एजेंट की तरह काम कर सकता है, जिसकी मदद से बढ़ती उम्र के लक्षणों को कम करने में मदद मिल सकती है (13)।

7. सीवीड फेस मास्क

सामग्री :
  • एक चम्मच सीवीड पाउडर
  • दो चम्मच गुनगुना पानी
विधि :
  • सीवीड की मदद से एंटी एजिंग के लिए फेस पैक बनाने के लिए एक बाउल में दोनों सामग्रियों को अच्छी तरह मिलाकर पेस्ट बना लें।
  • इस पेस्ट को चेहरे और गर्दन पर अच्छी तरह लगाएं और 15-20 सूखने के लिए छोड़ दें।
  • अच्छी तरह सूख जाने के बाद चेहरे को ठंडे पानी से धो लें।
  • इस एंटी एजिंग फेस पैक का उपयोग हफ्ते में तीन से चार बार किया जा सकता है।
कैसे काम करता है :

सीवीड को मरीन एल्गी भी कहा जाता है (14)। इनमें मौजूद कार्बोहाइड्रेट्स का उपयोग कई प्रकार के कॉस्मेटिक उत्पाद जैसे सनस्क्रीन बनाने में किया जाता है। इनमें एंटीएजिंग गुण पाए जाते हैं, जो त्वचा को यूवी रेडिएशन, इन्फ्लेमेशन और बढ़ती उम्र के प्रभाव से बचाते हैं (15)।

8. हल्दी फेस पैक

 सामग्री :
  • एक चम्मच हल्दी पाउडर
  • दो चम्मच गुलाब जल
विधि :
  • एक बाउल में हल्दी और गुलाब जल को अच्छी तरह मिलाकर पेस्ट बना लें।
  • इस पेस्ट को चेहरे और गर्दन पर लगाएं और लगभग 20 मिनट के लिए छोड़ दें।
  • 20 मिनट के बाद चेहरे को ठंडे पानी से धो लें।
  • हल्दी और गुलाब जल से घर पर बनाए एंटी एजिंग फेस पैक का उपयोग हर दूसरे दिन किया जा सकता है।
कैसे काम करता है :

हल्दी में एक करक्यूमिन नाम का कंपाउंड पाया जाता है, जिसका उपयोग एक प्रभावी एंटी एजिंग एजेंट की तरह किया जा सकता है। यह त्वचा को रिएक्टिव ऑक्सीजन स्पीशीज (फ्री रेडिकल्स) की वजह से होने वाली क्षति से बचा सकता है (1)। यह प्रभावशाली एंटीऑक्सीडेंट होता है, जो फ्री रेडिकल्स के प्रभाव को कम करके त्वचा में बढ़ती उम्र की दर को कम करने में मदद कर सकता है (16)।

9. खीरे का फेस पैक 

सामग्री :
  • आधा खीरा (कद्दूकस)
  • एक चम्मच नींबू का रस
विधि :
  • एंटी एजिंग फेस पैक घर में बनाने के लिए एक बाउल में कद्दूकस किया हुआ आधा खीरा लें और उसमें एक चम्मच नींबू का रस मिला लें।
  • इस पैक को चेहरे पर 15-20 मिनट के लिए लगे रहने दें।
  • अंत में चेहरे को ठंडे पानी से साफ कर लें।
  • इस पैक का उपयोग प्रतिदिन किया जा सकता है।
कैसे काम करता है :

जैसा कि हम पहले भी बता चुके हैं कि फ्री रेडिकल्स और यूवी किरणों का प्रभाव त्वचा पर एजिंग के लक्षण दिखने की वजह बन सकते हैं। इनसे आराम पाने के लिए खीरे का उपयोग किया जा सकता है। खीरा प्रभावशाली एंटीऑक्सीडेंट होता है, जो फ्री रेडिकल्स के प्रभाव को कम करने में मदद कर सकता है (17)। इसके अलावा, खीरा त्वचा से विषाक्त पदार्थों को निकाल कर उसे साफ करने और ठंडक पहुंचाने का काम भी कर सकता है और त्वचा पर जलन या सूजन को कम करने में मदद कर सकता है (18)।

10. आलू-गाजर फेस पैक

सामग्री :
  • एक मध्यम आकार का आलू
  • एक मध्यम आकार की गाजर
  • एक बड़ा चम्मच गुलाब जल
विधि :
  • आलू और गाजर को छीलकर उसके छोटे-छोटे टुकड़े कर लें।
  • अब गुलाब जल के साथ टुकड़ों को ब्लेंडर में डालकर पेस्ट बना लें।
  • इस पेस्ट को चेहरे पर लगाएं और लगभग 20 मिनट के लिए छोड़ दें।
  • अंत में चेहरे को ठंडे पानी से धो लें और तौलिए से थपथपा कर पोंछ लें।
  • इस एंटीएजिंग फेस पैक का उपयोग प्रतिदिन किया जा सकता है।
कैसे काम करता है :

आलू और गाजर से बना एंटी एजिंग फेस पैक बढ़ती उम्र के लक्षणों को कम करने का काम कर सकता है। दरअसल, आलू और गाजर में विटामिन-सी पाया जाता है। साथ ही गाजर में विटामिन-ए भी पाया जाता है (19) (20)। विटामिन-ए और विटामिन-सी प्रभावी एंटीऑक्सीडेंट होते हैं। ये दोनों ही विटामिन त्वचा को यूवी रेडिएशन के प्रभाव और फोटोएजिंग से बचाने का काम कर सकते हैं। विटामिन-ए त्वचा में कोलेजन को भी बढ़ाता है, जिससे त्वचा की इलास्टिसिटी बनी रहती है (9)। इस प्रकार आलू और गाजर की मदद से एंटी एजिंग फेस मास्क घर पर बना सकते हैं।

11. एलोवेरा फेस पैक 

सामग्री :
  • दो चम्मच एलोवेरा जेल
  • आधा छोटा चम्मच नींबू का रस
विधि :
  • एक बाउल में दोनों सामग्री को अच्छी तरह मिला लें।
  • अब इस पैक को चेहरे पर लगाएं और 10-15 मिनट के लिए छोड़ दें।
  • अंत में चेहरे को ठंडे पानी से धोकर साफ कर लें।
  • इस पैक का उपयोग रोज किया जा सकता है।
कैसे काम करता है :

एलोवेरा त्वचा पर बढ़ती उम्र के लक्षण को कम करने में मददगार साबित हो सकता है। इसमें मेटालोथायोनिन (Metallothionein) नाम का एक प्रोटीन पाया जाता है, जो यूवी रेडिएशन के प्रभाव से बचाने में मदद कर सकता है। इसके अलावा, एलोवेरा के गुण कोलेजन को बढ़ाने में भी मदद कर सकते हैं, जिससे त्वचा की इलास्टिसिटी बढ़ती है और झुर्रियां कम हो सकती हैं। एलोवेरा में पाए जाने वाले अमीनो एसिड कड़क सेल्स को नरम करके त्वचा को कोमल बनाने में मदद करते हैं और त्वचा के पोरों को टाइट करने में भी मदद करते हैं (21)।

12. मेथीदाने का फेस पैक

सामग्री :
  • एक छोटा कप मेथीदाना
  • एक चम्मच गुलाब जल
विधि :
  • एक कप मेथीदाने को रात भर के लिए पानी में भिगोकर रख दें।
  • सुबह मेथीदाने को पानी से निकालकर गुलाब जल के साथ ब्लेंड कर लें।
  • इस पेस्ट को चेहरे पर लगाएं और लगभग 20 मिनट के लिए सूखने दें।
  • 20 मिनट के बाद चेहरे को ठंडे पानी से धो लें।
  • इस एंटी एजिंग फेस पैक का उपयोग हफ्ते में तीन से चार बार किया जा सकता है।
कैसे काम करता है :

मेथीदाने में प्रभावी एंटीऑक्सीडेंट गुण पाए जाते हैं। ये फ्री रेडिकल्स के प्रभाव को कम करते हैं और उससे होने वाले दुष्प्रभाव से बचा जा सकता है (22)। जर्नल ऑफ टॉक्सिकोलॉजी के इस शोध के अनुसार, मेथीदाने का यह फायदा उसका सेवन करने पर मिल सकते हैं, इसलिए अभी यह कहना मुश्किल है कि इसे त्वचा पर लगाने से क्या लाभ हो सकता है। हम यही सलाह देंगे कि मेथीदाने से बने एंटी एजिंग फेस पैक को उपयोग करने से पहले एक बार त्वचा विशेषज्ञ से परामर्श अवश्य कर लें।

13. संतरे के छिलके का फेस पैक

सामग्री :
  • एक चम्मच संतरे के छिलके का पाउडर
  • एक छोटा चम्मच चंदन पाउडर
  • तीन चम्मच गुलाब जल
विधि :
  • संतरे के छिलके से एंटी एजिंग मास्क घर पर बनाने के लिए एक बाउल में बताई गई सभी सामग्रियों को मिला लें।
  • इस पेस्ट को अपने चेहरे और गले पर लगाएं और लगभग 20 मिनट के लिए छोड़ दें।
  • जब मास्क सूख जाए, तो चेहरे को ठंडे पानी से धो लें।
  • इस एंटी एजिंग पैक को हफ्ते में दो से तीन बार इस्तेमाल कर सकते हैं।
कैसे काम करता है :

संतरे के छिलके में ऐसे कई गुण पाए जाते हैं, जो त्वचा को एजिंग के लक्षणों से बचाने का काम कर सकते हैं। इस कारण इसका उपयोग कई ब्यूटी उत्पादों को बनाने में भी किया जाता है। सबसे पहले तो यह एंटीऑक्सीडेंट गुणों से भरपूर होता है और त्वचा को फ्री रेडिकल्स के प्रभाव से बचा सकता है। इसके अलावा, संतरे के छिलकों में एंटी कोलेजिनेज गुण होते हैं, जो कोलेजन को क्षति पहुंचने से बचाते हैं और त्वचा की इलास्टिसिटी बनाए रखने में मदद करते हैं। इस प्रकार संतरे के छिलके से घर पर बनाए एंटी एजिंग फेस पैक का उपयोग किया जा सकता है (23)।

14. पपीता फेस पैक

सामग्री :
  • एक चौथाई पका हुआ पपीता
  • एक चम्मच नींबू का रस
विधि :
  • एक बाउल में पपीते को मैश कर लें और उसमें एक चम्मच नींबू का रस मिलाकर पेस्ट बना लें।
  • इस पैक को चेहरे और गर्दन पर लगाएं और 20 मिनट के लिए छोड़ दें।
  • अंत में चेहरे को ठंडे पानी से धो लें।
  • इस पैक का उपयोग प्रतिदिन किया जा सकता है।
कैसे काम करता है :

जैसा कि लेख में बताया गया है कि फ्री रेडिकल्स और यूवी रेडिएशन एजिंग का कारण बन सकते हैं। ऐसे में पपीते से एंटी एजिंग फेस मास्क घर पर बना कर उसका उपयोग करने से फायदा मिल सकता है। पपीते में एंटीऑक्सीडेंट गुण पाए जाते हैं, जो त्वचा को ऑक्सीडेटिव डैमेज, फोटोएजिंग, झुर्रियां और महीन रेखाओं को कम करने में मददगार साबित हो सकते हैं (24)।

15. ग्लिसरीन फेस मास्क

सामग्री :
  • एक छोटा चम्मच ग्लिसरीन
  • दो विटामिन-ई कैप्सूल
विधि :
  • विटामिन-ई कैप्सूल को काटकर बाउल में निकाल लें और उसमें ग्लिसरीन मिला लें।
  • दोनों को अच्छी तरह से मिलाकर उंगलियों की मदद से चेहरे पर लगा लें।
  • लगभग 30 मिनट के बाद ठंडे पानी से चेहरा धो लें।
  • इस प्रक्रिया को रोज रात को सोने से पहले दोहराया जा सकता है।
कैसे काम करता है :

चेहरे पर रोज ग्लिसरीन से बना एंटी एजिंग फेस पैक लगाने से त्वचा को फायदा मिल सकता है। ग्लिसरीन त्वचा की इलास्टिसिटी बनाए रखने में मदद करता है, जिससे त्वचा के ढीलेपन और झुर्रियों को कम करने में मदद मिल सकती है (25)। ग्लिसरीन के साथ विटामिन-ई का उपयोग पैक को और गुणकारी बना सकता है। विटामिन-ई एक प्रभावशाली एंटीऑक्सीडेंट है और त्वचा को फ्री रेडिकल्स के प्रभाव से बचाने में मदद कर सकता है (26)।

लेख के इस भाग में जानिए कि एंटी एजिंग फेस पैक लगाते समय किन बातों का ध्यान रखना जरूरी है।

बचाव – Caution

नीचे बताई गई बातों का ध्यान में रखने से घर में बनाए एंटी एजिंग फेस पैक के गुण दोगुने हो सकते हैं :

  • कोई भी फेस पैक लगाने से पहले चेहरे को अच्छी तरह साफ करना न भूलें।
  • एंटी एजिंग फेस पैक लगाने के बाद घर से बाहर न निकलें।
  • फेस पैक को धोने के बाद चेहरे को रगड़ कर न पोंछें। ऐसा करने से चेहरे की स्वस्थ कोशिकाओं को नुकसान पहुंच सकता है। हमेशा चेहरे को थपथपा कर ही पोंछे।
  • चेहरे को पोंछने के बाद मॉइस्चराइजर लगना न भूलें। ऐसा न करने से त्वचा रूखी पड़ सकती है।
  • अगर किसी को त्वचा से जुड़ी कोई समस्या ( मुंहासे, एक्जिमा या डर्मेटाइटिस) है तो किसी भी प्रकार का एंटी एजिंग पैक का उपयोग करने से पहले एक बार त्वचा विशेषज्ञ से सलाह अवश्य लें।
  • किसी भी फेस पैक का उपयोग करने से पहले एक बार पैच टेस्ट अवश्य कर लें।

दोस्तों, अब आप समझ गए होंगे कि एंटी एजिंग फेस माक्स घर पर बनाना कोई मुश्किल काम नहीं है। पार्लर जाकर हजारों रुपए खर्च करने से बेहतर है कि आप अपने किचन और गार्डन में मौजूद सामग्रियों से घर में ही एंटी एजिंग फेस पैक बनाएं। इन पैक की सबसे अच्छी बात यह है कि यह पूरी तरह से प्राकृतिक होने के कारण इनके दुष्प्रभाव न के बराबर होते हैं। तो आज ही से लेख में बताए गए एंटी एजिंग के लिए फेस पैक का उपयोग करें और नीचे कमेंट बॉक्स में लिख कर हमें बताना न भूलें कि आपके लिए कौन-सा एंटी एजिंग फेस पैक सबसे ज्यादा फायदेमंद रहा।

और पढ़े:

Was this article helpful?
The following two tabs change content below.

Soumya Vyas

सौम्या व्यास ने माखनलाल चतुर्वेदी विश्वविद्यालय, भोपाल से इलेक्ट्रॉनिक मीडिया में बीएससी किया है और इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ जर्नलिज्म एंड न्यू मीडिया, बेंगलुरु से टेलीविजन मीडिया में पीजी किया है। सौम्या एक प्रशिक्षित डांसर हैं। साथ ही इन्हें कविताएं लिखने का भी शौक है। इनके सबसे पसंदीदा कवि फैज़ अहमद फैज़, गुलज़ार और रूमी हैं। साथ ही ये हैरी पॉटर की भी बड़ी प्रशंसक हैं। अपने खाली समय में सौम्या पढ़ना और फिल्मे देखना पसंद करती हैं।

ताज़े आलेख

scorecardresearch