गुड़ के फायदे और नुकसान – Jaggery Benefits and Side Effects in Hindi

by

बड़े-बुजुर्ग हों या डॉक्टर, सभी स्वस्थ रहने के लिए चीनी से दूरी बनाने की सलाह देते हैं। देखा जाए, तो यह बात सही भी है। चीनी कई बीमारियों की जड़ है, लेकिन खाने के बाद थोड़ा मीठा खाना तो बनता है। ऐसे में चीनी का विकल्प गुड़ काम आ सकता है, जिसे सेहतमंद माना गया है। कहा जाता है कि गुड़ से भोजन जल्दी हजम होता है और पाचन तंत्र ठीक रहता है। इन सभी बातों में कितनी सच्चाई है, यह हम स्टाइलक्रेज के इस आर्टिकल में रिसर्च के आधार पर बताएंगे। साथ ही गुड़ के औषधीय गुण से मिलने वाले अन्य गुड़ के फायदे और अधिक सेवन से होने वाले गुड़ खाने के नुकसान पर भी बात करेंगे।

स्क्रॉल करें

हम इस लेख में सबसे पहले गुड़ क्या है, इस बारे में बताएंगे।

गुड़ क्या है- What Is Jaggery in Hindi?

गुड़ एक प्रकार का मीठा खाद्य पदार्थ होता है, जिसे गन्ने के रस से बनाया जाता है। इसके लिए गन्ने के रस को किसी बड़े बर्तन में रखकर आग में गर्म किया जाता है, जो कुछ समय बाद गुड़ का रूप ले लेता है। यूं तो चीनी को भी गन्ने के रस से ही बनाया जाता है, लेकिन चीनी गन्ने के रस का रिफाइंड रूप है, जबकि गुड़ अनरिफाइंड प्रकार है। इसी कारण से गुड़ में अधिक पोषक तत्व पाए जाते हैं, इसलिए ब्राउन शुगर व साधारण चीनी के मुकाबले गुड़ को सेहतमंद माना जाता है (1)

फायदे पढ़ें

आइए, अब जानते हैं कि गुड़ खाने के फायदे क्या-क्या हो सकते हैं।

गुड़ के फायदे – Benefits of Jaggery in Hindi

गुड़ कई औषधीय गुणों से भरपूर होता है, जिसके कारण गुड़ खाने के अनेक फायदे होते हैं। बस ध्यान दें कि यह किसी बीमारी का उपचार नहीं है। यह बस नीचे बताई गई समस्याओं से कुछ हद तक राहत पहुंचाने में और उनसे बचाव में सहायक हो सकता है।

1. पाचन के लिए

लोग अक्सर भोजन के बाद मीठा खाना पसंद करते हैं। ऐसे में चीनी से बनी कोई चीज खाने की जगह गुड़ का सेवन किया जा सकता है। इसे पाचन के लिए अच्छा माना जाता है (2)। दरअसल, गुड़ का सेवन करने के बाद यह शरीर में डाइजेस्टिव एजेंट की तरह काम करके पाचन क्रिया को बेहतर कर सकता है (3)। इसी वजह से गुड़ के फायदे में पाचन को भी गिना जाता है।

2. एनीमिया

एनीमिया के दौरान शरीर में लाल रक्त कोशिकाएं कम हो जाती है। इससे थकान और कमजोरी होने लगती है। अधिकतर एनीमिया की समस्या आयरन की कमी के कारण होती है। इस बात की पुष्टि एनसीबीआई (National Center for Biotechnology Information) में प्रकाशित एक वैज्ञानिक शोध में भी हुई है। इस शोध के अनुसार, एनीमिया से बचाव करने के लिए डाइट में आयरन युक्त गुड़ के साथ ही अन्य खाद्य पदार्थों को शामिल किया जा सकता है (4)

3. लीवर डिटॉक्सिफिकेशन के लिए

गुड़ खाने के फायदे में लीवर को डिटॉक्सिफाई यानी विषैले पदार्थों को निकालना भी शामिल है। दरअसल, गुड़ में मौजूद माइक्रोन्यूट्रिएंट्स एंटीटॉक्सिक प्रभाव दिखाते हैं, जो शरीर से टॉक्सिक चीजों को बाहर निकालने में सहायक हो सकता है (2)। इसके अलावा, गुड़ के सेवन से लीवर को रेगुलेट करने और उसे साफ रखने में भी मदद मिल सकती है (5)

4. इम्यूनिटी के लिए

माना जाता है गुड़ का सेवन करके इम्यून सिस्टम (प्रतिरक्षा प्रणाली) मजबूत हो सकता है। ऐसा सभी प्रकार के गुड़ का सेवन करने से नहीं होता है। दरअसल, कुछ गुड़ को बनाते समय आंवला पाउडर का इस्तेमाल किया जाता है। ऐसे गुड़ में विटामिन-सी होता है, जो रोग प्रतिरक्षा क्षमता को बेहतर कर सकता है (6)। ऐसा अन्य किस्म के गुड़ कर सकते हैं या नहीं, यह स्पष्ट नहीं है।

5. वजन घटाने के लिए

गुड़ खाने के फायदे में वजन कम करना भी शामिल है। दरअसल, गुड़ में फाइबर होता है, जो चीनी की तुलना में धीरे-धीरे पचता है और शरीर में ऊर्जा को बनाए रखता है (1)। इससे लंबे समय तक भूख शांत रहती है और व्यक्ति बार-बार खाने से बचता है, जिसके कारण मोटापे से बचा जा सकता है (7)

इसके अलावा, गुड़ में पोटैशियम की भी अच्छी मात्रा होती है, जो वजन को नियंत्रित रखने में सहायता कर सकता है। दरअसल, पोटैशियम शरीर में वाटर रिटेंशन से बचाने का काम कर सकता है। साथ ही चयापचय को बढ़ाकर भी यह मोटापे को कम करने में सहायक हो सकता है (5)

6. एंटीऑक्सीडेंट की तरह

गुड़ को एंटीऑक्सीडेंट का एक अच्छा स्रोत माना जाता है। इस संबंध में प्रकाशित एक मेडिकल रिसर्च की मानें, तो गुड़ में एंटीऑक्सीडेंट प्रभाव होता है। यह प्रभाव शरीर में फ्री रेडिकल्स के असर को कम करके इनसे होने वाले नुकसान से बचाने का काम कर सकता है। दरअसल, गन्ने के जूस में मौजूद फेनोलिक घटक की वजह से गुड़ में एंटीऑक्सीडेंट प्रभाव दिखाए देते हैं (8)

7. रक्तचाप के लिए

गुड़ खाने के फायदे में रक्तचाप को नियंत्रित रखना भी शामिल है। दरअसल, गुड़ में आयरन की अच्छी मात्रा होती है, जो ब्लड प्रेशर रेगुलेशन में मदद कर सकता है। इससे रक्तचाप बढ़ने के जोखिम से बचा जा सकता है (9)। साथ ही गुड़ में पोटैशियम और कम मात्रा में सोडियम भी होता है। ये शरीर की कोशिकाओं में एसिड का संतुलन बनाए रखते हैं, जिससे रक्तचाप को नियंत्रित रखा जा सकता है (6)

8. हृदय के लिए

हृदय को स्वस्थ रखने के लिए गुड़ के फायदे देखे जा सकते हैं। इस संबंध में प्रकाशित एक वैज्ञानिक शोध के अनुसार, गुड़ हृदय के लिए लाभदायक हो सकता है। दरअसल, इसमें मैग्नीशियम, पोटैशियम, सेलेनियम, मैंगनीज और जिंक जैसे पोषक तत्व होते हैं। ये सभी हृदय की कार्य प्रणाली को रेगुलेट करने में मदद कर सकते हैं (10)। फिलहाल गुड़ के इस फायदे से जुड़े मैकेनिज्म को लेकर अधिक वैज्ञानिक शोध की आवश्यकता है।

9. ऊर्जा के लिए

शरीर को ऊर्जा प्रदान करने के लिए गुड़ का सेवन करना बेहतर साबित हो सकता है। इससे जुड़ी एक मेडिकल रिसर्च की मानें, तो गुड़ में एनर्जी यानी ऊर्जा की अच्छी मात्रा पाई जाती है। इससे मिलने वाली ऊर्जा से व्यक्ति दिनभर चुस्त रहता है (6)। दरअसल, गुड़ धीरे-धीरे पचता है और शरीर को लंबे समय तक एनर्जी देता रहता है, जिस वजह से इसे एनर्जी का स्रोत माना जाता है (5)

10. त्वचा के लिए

गुड़ के फायदे त्वचा के लिए भी हो सकते हैं। दरअसल, गुड़ के उपयोग से बैक्टीरिया व फंगस की समस्या से राहत मिल सकती है, क्योंकि इसमें एंटीमाइक्रोबियल गुण होता है (11)। बैक्टीरिया त्वचा संबंधी विभिन्न समस्याओं का कारण बन सकते हैं, जिसमें इम्पेटिगो (त्वचा में लाल निशान), एडिमा और सूजन आदि शामिल हैं (12)

वहीं, गुड़ में एंटीऑक्सीडेंट्स प्रभाव भी होता है, जिसके बारे में हम ऊपर बता ही चुके हैं। यह इफेक्ट कोशिकाओं और ऊतकों को क्षति से बचाने का काम कर सकता है। इसके अलावा, यह एजिंग की प्रक्रिया को भी धीमा करने में सहायक हो सकता है (13)

11. बालों के लिए

गुड़ के औषधीय गुण के कारण इसे बालों के लिए भी अच्छा माना जाता है। वैसे तो इसको लेकर किसी तरह का सटीक वैज्ञानिक प्रमाण मौजूद नहीं है। हां, कुछ लोगों के बाल आयरन की कमी के कारण भी झड़ने लगते हैं (14)। ऐसे में गुड़ में मौजूद आयरन बालों का झड़ना कुछ कम कर सकता है (1)

पढ़ना जारी रखें

ऊपर गुड़ खाने के फायदे जानने के बाद आगे हम गुड़ के पोषक तत्वों की जानकारी दे रहें हैं।

गुड़ के पौष्टिक तत्व – Jaggery Nutritional Value in Hindi

किसी भी खाद्य पदार्थ के महत्व को उसमें मौजूद पोषक तत्वों से समझा जा सकता है। यहां हम टेबल के जरिए बता रहे हैं कि गुड़ में कौन-कौन से पोषक तत्व कितनी मात्रा में होते हैं (15)

पोषक तत्वमूल्य प्रति 100 g
ऊर्जा367Kcal
कार्बोहाइड्रेट88.67 g
शुगर88 g
कैल्शियम, Ca83 mg
आयरन, Fe10 mg
पोटैशियम, K1213 mg
सोडियम Na8 mg

नीचे और जानकारी है

अब आगे जानेंगे कि गुड़ को किस-किस तरह से उपयोग किया जा सकता है।

गुड़ का उपयोग – How to Use Jaggery in Hindi

गुड़ को कई तरह से खाने के लिए इस्तेमाल में लाया जा सकता है, जो इस प्रकार है :

कैसे खाएं :

  • गुड़ को सीधे खाया जा सकता है।
  • गुड़ को रोटी के साथ खाया जा सकता है।
  • इसे चाय में चीनी की जगह मिलाया जा सकता है।
  • गुड़ और तिल को मिलाकर लड्डू बनाया जा सकता है।
  • इसे हलवा बनाने में उपयोग किया जा सकता है।
  • गुड़ से स्वादिष्ट गुलगुले भी बनाए जा सकते हैं।
  • कई लाेग गुड़ की बनी चिक्की भी स्वाद से खाते हैं।

कब खाएं :

  • सुबह और शाम गुड़ की चाय पी सकते हैं।
  • दोपहर और रात को खाना खाने के बाद थोड़ा-सा गुड़ खाया जा सकता है।

कितना खाएं : फिलहाल ऐसा कोई वैज्ञानिक प्रमाण मौजूद नहीं है, जिससे यह स्पष्ट हो सके कि प्रतिदिन कितना गुड़ खाना चाहिए। फिर भी 10-15 ग्राम गुड़ का सेवन आहार विशेषज्ञ की सलाह पर किया जा सकता है।

स्क्रॉल करें

आइए, अब जानते हैं कि गुड़ खाने के नुकसान क्या-क्या हो सकते हैं।

गुड़ के नुकसान – Side Effects of Jaggery in Hindi

गुड़ के फायदे कई होते हैं, लेकिन इसका अधिक सेवन करने से गुड़ खाने के नुकसान भी हो सकते हैं। हालांकि, इसके नुकसान से जुड़े ज्यादा वैज्ञानिक शोध उपलब्ध नहीं हैं, पर इसके नुकसान में यह शामिल हो सकते हैं :

  • अधिक मात्रा में गुड़ खाने से इसमें मौजूद शुगर के कारण टाइप 2 मधुमेह रोग का जोखिम बढ़ सकता है (16)
  • गुड़ ज्यादा खाने से दांत में कीड़े होने की समस्या हो सकती है।
  • शरीर में कैलोरी की मात्रा बढ़ सकती है।

अब तो यह स्पष्ट हो ही गया होगा कि चीनी का बेहतरीन विकल्प गुड़ है। बस अब मीठा खाने के शौकीन लोग चीनी से परहेज करके गुड़ का इस्तेमाल कर सकते हैं। हां, गुड़ को भी सावधानी से और सीमित मात्रा में ही उपयोग में लाएं। इससे न सिर्फ मीठे की तलब पूरी होगी, बल्कि गुड़ के औषधीय गुण भी मिलेंगे। अगर कोई मधुमेह से पीड़ित है, तो वह डॉक्टर की सलाह पर ही गुड़ का इस्तेमाल करें। हम उम्मीद करते हैं कि इस लेख में दी गई जानकारी आपके लिए उपयोगी साबित होगी।

अक्सर पूछे गए सवाल

क्या गुड़ चीनी से अधिक पौष्टिक है?

जी हां, गुड़ चीनी से ज्यादा पौष्टिक होता है (1)

क्या गुड़ चीनी से बेहतर है?

हां, गुड़ चीनी से बेहतर होता है (1)

गुड़ की तासीर कैसी होती है?

गुड़ की तासीर गर्म होती है।

क्या हम रोजाना गुड़ खा सकते हैं?

सीमित मात्रा में प्रतिदिन गुड़ का सेवन किया जा सकता है।

क्या गुड़ वजन बढ़ाता है?

किसी भी मीठी चीज को ज्यादा खाने से वजन बढ़ता है। हां, लेकिन गुड़ का संतुलित मात्रा में सेवन करने से वजन नियंत्रित करने में भी मदद मिल सकती है, जिसके बारे में हम ऊपर बता चुके हैं।

शहद और गुड़ में कौन सा बेहतर है?

शहद और गुड़ दोनों अपनी-अपनी जगह बेहतर हैं। कुछ लोगों के स्वास्थ्य पर शहद का अच्छा असर होता है, तो कुछ पर गुड़ का। अगर दोनों की पोषक तत्वों की बात की जाए, तो शहद में गुड़ के मुकाबले अधिक पोषक तत्व होते हैं (17) (15)। बस बाजार में नकली शहद भी मिलता है, लेकिन नकली गुड़ मिलने की गुंजाइश कम होती है।

क्या गुड़ का चाय अच्छा होता है?

शक्कर की चाय की तुलना में गुड़ की चाय का सेवन करना अच्छा हो सकता है।

17 संदर्भ (Sources):

Stylecraze has strict sourcing guidelines and relies on peer-reviewed studies, academic research institutions, and medical associations. We avoid using tertiary references. You can learn more about how we ensure our content is accurate and current by reading our editorial policy.

Was this article helpful?
The following two tabs change content below.

Bhupendra Verma

भूपेंद्र वर्मा ने सेंट थॉमस कॉलेज से बीजेएमसी और एमआईटी एडीटी यूनिवर्सिटी से एमजेएमसी किया है। भूपेंद्र को लेखक के तौर पर फ्रीलांसिंग में काम करते 2 साल हो गए हैं। इनकी लिखी हुई कविताएं, गाने और रैप हर किसी को पसंद आते हैं। यह अपने लेखन और रैप करने के अनोखे स्टाइल की वजह से जाने जाते हैं। इन्होंने कुछ डॉक्यूमेंट्री फिल्म की स्टोरी और डायलॉग्स भी लिखे हैं। इन्हें संगीत सुनना, फिल्में देखना और घूमना पसंद है।

ताज़े आलेख

scorecardresearch