काले सेम के 15 फायदे, उपयोग और नुकसान – Black Beans Benefits, Uses and Side Effects in Hindi

by

काले सेम का उपयोग सदियों से स्वादिष्ट व्यंजन बनाने में किया जाता रहा है। स्वाद से भरपूर सेम को फेजोलस वल्गरिस (Phaseolus vulgaris) परिवार का हिस्सा माना गया है, जो स्वाद के साथ-साथ पोषण से भी भरपूर होते हैं (1)। स्टाइलक्रेज के इस लेख में हम काले सेम खाने के फायदे बताने वाले हैं। साथ ही हम लेख में कुछ ऐसी समस्याओं पर भी चर्चा करेंगे, जिनसे राहत पाने के लिए काले सेम खाने के लाभ काम आ सकते हैं। ध्यान रखें कि काले सेम का उपयोग मेडिकल ट्रीटमेंट नहीं है। ये सिर्फ समस्या के लक्षणों को कुछ हद तक कम कर सकते हैं। इसलिए, किसी समस्या के पूर्ण उपचार के लिए डॉक्टर से परामर्श करना बेहतर होगा।

इस लेख में सेहत के साथ-साथ बालों और त्वचा के लिए काले सेम के फायदे के बारे में बताया गया है। लेख के अंत तक आप काले सेम के नुकसान और उसके उपयोग से भी अच्छी तरह परिचित हो जाएंगे।

आइए, सबसे पहले आपको बता दें कि काले सेम किस प्रकार फायदेमंद होते हैं।

काले सेम के फायदे – Benefits of Black Beans in Hindi

काले सेम खाने के फायदे की बात करें, तो यह कई पोषक तत्वों से समृद्ध होते हैं जैसे :- फाइबर, कैल्शियम, आयरन व जिंक आदि। इसके साथ काले सेम में विटामिन-ए, विटामिन-ई व विटामिन-के भी मौजूद होते हैं, जो शरीर के लिए लाभदायक माने जाते हैं (2)। ये शरीर का वजन नियंत्रित करने से लेकर जन्म दोष का खतरा कम करने तक की समस्याओं में आपकी मदद कर सकते हैं। वहीं, सेहत के साथ यह त्वचा और बालों को भी पोषण प्रदान करते हैं। सेहत, त्वचा और बालों के लिए काले सेम के लाभ के बारे में आप लेख के आने वाले भागों में विस्तार से जान पाएंगे।

फिलहाल, लेख के अगले भाग में हम सेहत के लिए काले सेम खाने के लाभ बताने जा रहे हैं।

सेहत/स्वास्थ्य के लिए काले सेम के फायदे – Health Benefits of Black Beans in Hindi

1. वजन नियंत्रित करे

वजन नियंत्रित करने के लिए आवश्यक पोषक तत्वों का सेवन जरूरी होता है और इन्हीं में फाइबर का नाम शामिल है। आहार में फाइबर की भरपूर मात्रा लेने से ज्यादा देर तक पेट भरा रहने का एहसास होता है और लंबे समय तक भूख नहीं लगती। इस वजह से व्यक्ति कम खाता है और वजन नियंत्रित करने में मदद मिलती है (3)। ऐसे में फाइबर से भरपूर होने के कारण काले सेम खाने के फायदे वजन नियंत्रित करने में भी मददगार साबित हो सकते हैं (2)।  

2. हृदयरोग का खतरा कम करे

खाना खाने के बाद शरीर में शुगर के बढ़ते स्तर की वजह से इन्फ्लेमेशन और ऑक्सीडेटिव स्ट्रेस की समस्या हो सकती है। यह इन्फ्लेमेशन और ऑक्सीडेटिव स्ट्रेस मधुमेह और हृदय रोग का कारण भी बना सकते हैं। शोध में पाया गया है कि काले सेम प्रोटीन और फाइबर से भरपूर और एंटीऑक्सीडेंट गुण से समृद्ध आहार होते हैं, जिसका सेवन करने से इस समस्या से बचा जा सकता है (4)।

3. कोलेस्ट्रोल कम करे

काले सेम खाने के फायदे से कोलेस्ट्रोल कम करने में मिल सकते है। शोध में पाया गया है कि काले सेम के अनाज के भीतरी भाग में हाइपोकोलेस्टेरोलेमिक कंपाउंड (कोलेस्ट्रोल को कम करने वाले कंपाउंड) पाए जाते है। फिलहाल, इस विषय में और वैज्ञानिक शोध की जरूरत है (5)।

4. ब्लड शुगर को नियंत्रित करे

काले सेम खाने के फायदे की बात करें, तो यह शरीर में ब्लड शुगर को नियंत्रित करने में भी मदद कर सकता है। लेख में हम पहले भी बता चुके हैं कि इन्फ्लेमेशन और ऑक्सीडेटिव स्ट्रेस खून में शुगर का स्तर बढ़ा सकते हैं। वहीं, काले सेम में मौजूद डाइटरी फाइबर, प्रोटीन और एंटीऑक्सीडेंट गुण इस इन्फ्लेमेशन और ऑक्सीडेटिव स्ट्रेस को कम करके ब्लड शुगर को नियंत्रित करने में मदद कर सकते हैं (4)।

इसके अलावा, काले सेम का ग्लाइसेमिक इंडेक्स (Glycemic Index) भी कम होता है (6)। ग्लाइसेमिक इंडेक्स एक प्रकार का माप है, जिससे यह पता चलता है कि खाद्य पदार्थ में मौजूद कार्बोहाइड्रेट्स शरीर में शुगर का स्तर कितनी जल्दी बढ़ाते हैं (7)। इस वजह से भी काले सेम को बल्ड शुगर नियंत्रित करने में मददगार माना जा सकता है।

5. आयरन का स्रोत

आयरन के स्रोत के तौर पर भी आप काले सेम का इस्तेमाल कर सकते हैं। दरअसल, अन्य पोषक तत्वों के साथ काले सेम में आयरन की भी भरपूर मात्रा पाई जाती है (2)। इस वजह से काले सेम खाने के लाभ एनीमिया की समस्या में भी मददगार साबित हो सकते हैं। एनीमिया ऐसी समस्या है, जिसमें शरीर में आयरन की कमी हो जाती है। इसके चलते शरीर पर्याप्त मात्रा में हीमोग्लोबिन नहीं बना पाता। हीमोग्लोबिन एक तरह का प्रोटीन होता है, जो खून के माध्यम से पूरे शरीर में ऑक्सीजन का प्रवाह बनाए रखता है (8)।

6. कैंसर का खतरा कम करे

मिशिगन स्टेट विश्वविद्यालय के एक शोध के मुताबिक, काले सेम में कैंसर कोशिकाओं को बढ़ने से रोकने की अद्भुत क्षमता पाई जाती है। इस कारण यह कहा जा सकता है कि काले सेम के स्वास्थ्य लाभ पेट के कैंसर की समस्या से राहत दिलाने में काफी हद तक मददगार साबित हो सकते हैं (9)।

कैंसर ऐसी बीमारी है, जिसका मेडिकल ट्रीटमेंट कराना जरूरी है। काले सेम खाने के फायदे सिर्फ कुछ हद तक व्यक्ति को कैंसर से बचाने में मदद कर सकते हैं।

7. महिलाओं के लिए लाभदायक

गर्भावस्था के दौरान फोलेट आवश्यक पोषक तत्व होता है। फोलेट की कमी से होने वाले शिशु में जन्म दोष का खतरा बढ़ सकता है (10)। वहीं, काले सेम में गर्भावस्था के लिए जरूरी फोलेट की पर्याप्त मात्रा पाई जाती है (2)। इस कारण यह महिलाओं में फोलेट की कमी को पूरा कर गर्भ में पल रहे बच्चे में जन्म दोष के खतरे को कम कर सकता है । ऐसे में यह कहना गलत नहीं होगा कि काले सेम के स्वास्थ्य लाभ गर्भवती महिला और होने वाले शिशु दोनों के लिए फायदेमंद साबित हो सकते हैं।

ध्यान रहे, एक दिन में गर्भवती महिला को 0.4 mg से 4 mg (आवश्यकतानुसार) तक फोलेट की जरूरत होती है। अगर गर्भावस्था के दौरान आप फोलेट की कमी के लिए सप्लीमेंट्स का सेवन कर रहीं हैं, तो काले सेम का सेवन डॉक्टर से परामर्श करने के बाद ही करें।

8. पाचन संबंधी समस्याओं को करे दूर

काले सेम खाने के लाभ पेट से जुड़ी समस्याओं से आराम पाने में भी मिल सकते हैं। दरअसल, काले सेम फाइबर का एक समृद्ध स्रोत हैं (2)। वहीं, पाचन तंत्र और उससे जुड़ी समस्याओं के लिए फाइबर जरूरी पोषक तत्व माना जाता है। यह पेट और पाचन तंत्र से जुड़ी कई समस्याओं जैसे – कब्ज, इर्रिटेबल बाउल सिंड्रोम (आंत से जुड़ी समस्या) और आंत की जलन से आराम दिलाने में मदद कर सकता है। साथ ही कुछ मामलों में फाइबर अल्सर और हर्निया से बचाव के उपाय के रूप में भी काम कर सकता है, लेकिन इस विषय पर अभी और शोध की आवश्यकता है (11)। इस प्रकार यह माना जा सकता है कि काले सेम के स्वास्थ्य लाभ में पाचन शक्ति को बेहतर में भी काले सेम सहायक साबित हो सकते हैं।

9. प्रोटीन का स्रोत

काले सेम में अन्य जरूरी पोषक तत्वों के साथ प्रोटीन भी अच्छी मात्रा में उपलब्ध होता है (2)। प्रोटीन शरीर के लिए जरूरी पोषक तत्वों में से एक है। यह बच्चों और किशोरों के साथ-साथ गर्भवती महिलाओं के विकास में सहायक माना जाता है। इसके अलावा, शरीर की क्षतिग्रस्त कोशिकाओं को ठीक करने और नई कोशिकाओं का निर्माण करने के लिए भी प्रोटीन अहम भूमिका निभाता है (12)।

सेहत के लिए काले सेम खाने के लाभ जानने के बाद लेख के अगले भाग में जानिए त्वचा के लिए काले सेम के फायदे के बारे में।

त्वचा के लिए काले सेम के फायदे – Skin Benefits of Black Beans in Hindi

1. ल्यूकोडर्मा का उपचार

ल्यूकोडर्मा को विटिलिगो भी कहा जाता है (13)। यह ऐसी समस्या है, जिसमें त्वचा अपना प्राकृतिक रंग खोने लगती है। इस कारण त्वचा पर सफेद धब्बे दिखने लगते हैं। समस्याएं जैसे:- मधुमेह, एनीमिया व थायराइड के कारण ल्यूकोडर्मा की स्थिति पैदा हो सकती है (14)। ल्यूकोडर्मा का उपचार करने के लिए काले सेम का उपयोग फायदेमंद साबित हो सकता है। ल्यूकोडर्मा का उपचार करने के लिए पारंपरिक चीनी औषधि के रूप में काले सेम के उपयोग का जिक्र मिलता है, लेकिन यह इस समस्या में कैसे लाभदायक है, इस संबंध में अधिक शोध उपलब्ध नहीं है (15)।

सामग्री :

  • 8 से 10 काले सेम
  • 10 ग्राम त्रिफला
  • आधा कप पानी

विधि :

  • आधे कप पानी में काले सेम और त्रिफला मिलाकर रात भर के लिए भिगोकर रख दें।
  • सुबह उठ कर सेम को एक गीले कपड़े में ढक कर रख दें।
  • जब सेम अंकुरित हो जाए, तो नाश्ते में उनका सेवन करें।
  • इस प्रयोग को कुछ महीनों तक करने से ल्यूकोडर्मा में राहत मिल सकती है।

2. दाद का इलाज

दाद, जिसे आम भाषा में रिंगवर्म भी कहा जाता है, यह एक प्रकार का फंगल संक्रमण होता है। ये लाल, खुजलीदार और गोलाकार चकत्ते होते हैं। दाद किसी भी उम्र के व्यक्ति को हो सकता है, लेकिन बच्चों को यह होने का खतरा ज्यादा होता है (16)। काले सेम में एंटीफंगल गुण होते हैं, जो फंगल संक्रमण के लक्षणों और जीवाणु को खत्म करने में मदद कर सकते हैं (17)।

विधि :

यहां काले सेम खाने के फायदे हो सकते हैं, लेकिन दाद के लिए मेडिकल ट्रीटमेंट की जरूरत भी होती है और इस बारे में डॉक्टर ही आपको बेहतर तरीके से बता पाएंगे।

3. चेहरे की त्वचा की देखभाल

त्वचा को स्वस्थ रखने के लिए कई पोषक तत्वों की जरूरत होती है, जैसे – विटामिन-ए, विटामिन-ई, जिंक, कॉपर और सिलेनियम। ये पोषक तत्व त्वचा को यूवी किरणों के हानिकारक प्रभाव, झाइयां, डर्मेटाइटिस, और स्किन कैंसर तक के खतरे से बचा सकते हैं (18)। काले सेम में ये सभी पोषक तत्व पाए जाते हैं और इस कारण काले सेम त्वचा को स्वस्थ बनाए रखने में मदद कर सकते हैं (2)। त्वचा के लिए काले सेम के फायदे उठाने के लिए नीचे बताई गई विधि से फेस पैक बना कर उसका उपयोग किया जा सकता है।

सामग्री :

  • आधा कप काले सेम
  • आधा कप दही
  • एक चुटकी हल्दी

विधि :

  • काले सेम को ब्लेंडर में डाल कर उसका पाउडर बना लें।
  • एक बाउल में काले सेम का तैयार पाउडर, हल्दी और आवश्यकतानुसार दही मिला कर पेस्ट बना लें।
  • इस पेस्ट को चेहरे पर लगा लें और लगभग 15 मिनट के लिए छोड़ दें।
  • 15 मिनट बाद चेहरे को ठंडे पानी से धो लें और तौलिये से थपथपा कर पोंछ लें।
  • इस प्रयोग को हफ्ते में करीब दो बार दोहरा सकते हैं।

त्वचा के बाद, लेख के अगले भाग में जानिए बालों के लिए काले सेम के फायदे क्या हैं।

बालों के लिए काले सेम के फायदे – Hair Benefits of Black Beans in Hindi

1. बालों को बढ़ने में मदद करे

शरीर की ही तरह बालों को भी विकास के लिए पोषक तत्वों की जरूरत होती है। पोषण न मिलने से बालों का बढ़ना रुक जाता है। इनमें सबसे जरूरी होता है प्रोटीन। वहीं, प्रोटीन के साथ आयरन, जिंक, सिलेनियम, विटामिन-ए और विटामिन-ई भी बालों के लिए जरूरी पोषक तत्वों में आते हैं (19)। लेख में हम आपको पहले भी बता चुके हैं कि काले सेम में प्रोटीन अच्छी मात्रा में उपलब्ध होता है। साथ ही इसमें बालों के विकास के लिए अन्य जरूरी पोषक तत्व भी पाए जाए हैं (2)। इस कारण काले सेम को बालों के स्वास्थ्य को बनाए रखने के लिए उपयोग में लाया जा सकता है।

2. बालों को झड़ने से रोके

जैसे बालों के विकास के लिए पोषक तत्वों की जरूरत होती है, वैसे ही उनकी कमी बालों के झड़ने का कारण भी बन सकती है। इसके अलावा, ऑक्सीडेटिव स्ट्रेस और फ्री रेडिकल्स का प्रभाव भी बालों के झड़ने के कारण बन सकता है। ऐसे में काले सेम बालों के झड़ने की समस्या से राहत दिलाने में मदद कर सकते हैं। इसमें मौजूद जिंक, फोलेट, आयरन व सिलेनियम के साथ-साथ विटामिन-ए और विटामिन-ई बालों को ऑक्सीडेटिव स्ट्रेस और फ्री रेडिकल्स के प्रभाव से बचा कर उनके झड़ने की समस्या को काफी हद तक नियंत्रित कर सकते हैं (2) (20)।

3. रूसी से दिलाए छुटकारा

रूसी एक प्रकार का फंगल इंफेक्शन होता है, जिसे हटाने के लिए एंटी डैंड्रफ शैम्पू की जरूरत होती है। इस शैंपू में एंटीफंगल गुण होते हैं। ये गुण संक्रमण फैलाने वाले यीस्ट को नियंत्रित कर रूसी को कम करने में मदद करते हैं (21)। इस समस्या में भी काले सेम के फायदे लाभदायक साबित हो सकते हैं। दरअसल, काले सेम में भी एंटीफंगल गुण पाया जाते हैं, जो रूसी को नियंत्रित करने में मददगार साबित हो सकते हैं (17)।

बालों के लिए काले सेम के फायदे उठाने के लिए उसका उपयोग नीचे बताई गई विधि से किया जा सकता है :

सामग्री :

  • 250 ग्राम काले सेम
  • एक कप पानी

विधि :

  • काले सेम को ब्लेंडर में डालकर उसका पाउडर बना लें।
  • चार चम्मच पाउडर को एक बाउल में लें और उसमें एक कप पानी मिलाकर पेस्ट बना लें।
  • इस पेस्ट को बालों में लगाएं और लगभग 15-20 मिनट तक लगा रहने दें।
  • अंत में बालों को ठंडे पानी की मदद से शैम्पू कर लें।
  • इस उपाय को हफ्ते में एक बार किया जा सकता है।

सेहत, त्वचा और बालों के लिए काले सेम के फायदे जानने के बाद, लेख के अगले भाग में जानिए काले सेम के पोषक तत्वों के बारे में।

काले सेम के पौष्टिक तत्व – Black Beans Nutritional Value in Hindi

काले सेम में मौजूद पोषक तत्वों और उनकी मात्रा के बारे में हम नीचे टेबल के जरिए बता रहे हैं (2) :

पोषक तत्वमात्रा प्रति 100 ग्राम
पानी 65.74 ग्राम
ऊर्जा132 kcal
प्रोटीन8.86 ग्राम
फैट0.54  ग्राम
कार्बोहाइड्रेट23.71 ग्राम
फाइबर8.7 ग्राम
शुगर0.32 ग्राम
मिनरल
कैल्शियम27 मिलीग्राम
आयरन2.1 मिलीग्राम
मैग्नीशियम70 मिलीग्राम
फास्फोरस140 मिलीग्राम
पोटैशियम355 मिलीग्राम
सोडियम1 मिलीग्राम
जिंक1.12 मिलीग्राम
 कॉपर0.209 मिलीग्राम
सिलेनियम1.2 माइक्रोग्राम
मैंगनीज0.444 मिलीग्राम
विटामिन
थियामिन0.244 मिलीग्राम
राइबोफ्लेविन0.059 मिलीग्राम
नियासिन0.505 मिलीग्राम
पैंटोथैनिक एसिड0.242 मिलीग्राम
विटामिन-बी 60.069 मिलीग्राम
फोलेट DFE149 माइक्रोग्राम
कोलीन32.6 मिलीग्राम
विटामिन-ए, आईयू6 आईयू
विटामिन-ई0.87 माइक्रोग्राम
विटामिन-के3.3  माइक्रोग्राम
लिपिड
फैटी एसिड टोटल सैचुरेटेड0.139 ग्राम
फैटी एसिड टोटल मोनोअनसैचुरेटेड0.047 ग्राम
फैटी एसिड टोटल पॉलीअनसैचुरेटेड0.231 ग्राम

इन सभी पोषक तत्वों के बारे में पढ़ कर आप यह समझ गए होंगे कि काले सेम कितने पौष्टिक हैं। अब लेख के अगले भाग में जानिए कि पोषण से भरपूर काले सेम को अपने आहार में शामिल कैसे किया जा सकता है।

काले सेम का उपयोग – How to Use Black Beans in Hindi

कैसे उपयोग करें :

  • रात भर काले सेम को भिगोकर, अगले दिन सब्जी बनाने में इसका उपयोग किया जा सकता है।
  • आप काले सेम को अंकुरित कर उसमें ककड़ी, टमाटर व प्याज आदि मिलाकर सलाद बना कर खा सकते हैं।
  • काले सेम का उपयोग आप पुलाव में भी कर सकते हैं।

कितना उपयोग करें :

एक व्यक्ति दिन में करीब तीन चौथाई कप काले सेम का सेवन कर सकता है (22)।

कब उपयोग करें :

  • अंकुरित या साबुत काले सेम का उपयोग नाश्ते में किया जा सकता है।
  • काले सेम की सब्जी या अन्य व्यंजन के रूप में इसका सेवन सुबह और शाम को खाने में भी किया जा सकता है।

सभी फायदे जानने के बाद, लेख के अगले भाग में जानिए काले सेम के नुकसान के बारे में।

काले सेम के नुकसान – Side Effects of Black Beans in Hindi

संतुलित मात्रा में सेवन न करने पर संभवतः काले सेम के नुकसान भी देखने को मिल सकते हैं, जो इस प्रकार हैं :

  • इसमें फाइबर की भरपूर मात्रा होती है, जिसका सीमित मात्रा में सेवन न करने से गैस, पेट दर्द और शरीर में पोषक तत्वों का ठीक से उपयोग न होने जैसी समस्याएं हो सकती हैं (11) (2)।
  • काले सेम प्रोटीन के भी अच्छे स्रोत होते हैं। प्रोटीन का सेवन नियंत्रित मात्रा में न करने से पाचन तंत्र, किडनी और नसों से संबंधी समस्याएं हो सकती हैं (23) (2)।
  • कुछ मामलों में सेम का अधिक सेवन करने से विषाक्ता के प्रभाव, डायरिया और कुछ अन्य समस्याएं देखी गई हैं (24)।

अब आप अच्छी तरह समझ गए होंगे कि काले सेम के खाने के लाभ कितने हैं और इसे अपने आहार में शामिल कर आप किस तरह इसका उपयोग कर सकते हैं। ध्यान रखिए कि लेख में बताए गए काले सेम के स्वास्थ्य लाभ कोई मेडिकल ट्रीटमेंट नहीं हैं और किसी बीमारी के उपचार में इनका उपयोग किया जा सकता है, लेकिन ये बीमारी के लक्षणों को कम करने में मदद जरूर कर सकते हैं। वहीं, नियंत्रित मात्रा में इसका सेवन न करने से काले सेम के नुकसान का सामना भी करना पड़ सकता है। इसलिए, सीमित मात्रा में इसका सेवन करें और कमेंट बॉक्स में लिख कर हमें बताना न भूलें कि यह लेख आपको कैसा लगा।

Was this article helpful?
The following two tabs change content below.

Soumya Vyas

सौम्या व्यास ने माखनलाल चतुर्वेदी विश्वविद्यालय, भोपाल से इलेक्ट्रॉनिक मीडिया में बीएससी किया है और इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ जर्नलिज्म एंड न्यू मीडिया, बेंगलुरु से टेलीविजन मीडिया में पीजी किया है। सौम्या एक प्रशिक्षित डांसर हैं। साथ ही इन्हें कविताएं लिखने का भी शौक है। इनके सबसे पसंदीदा कवि फैज़ अहमद फैज़, गुलज़ार और रूमी हैं। साथ ही ये हैरी पॉटर की भी बड़ी प्रशंसक हैं। अपने खाली समय में सौम्या पढ़ना और फिल्मे देखना पसंद करती हैं।

ताज़े आलेख

scorecardresearch