कंधे की अकड़न (फ्रोजन शोल्डर) के कारण, लक्षण और घरेलू इलाज – Frozen Shoulder Causes, Symptoms and Home Remedies in Hindi

Written by , (शिक्षा- बैचलर ऑफ जर्नलिज्म एंड मीडिया कम्युनिकेशन)

कोरोना वायरस ने लोगों के काम करने के तरीके को बदल दिया है। पहले के मुकाबले अधिकतर लोग अब वर्क फ्रॉम होम कर रहे हैं। इस कारण उनका सारा दिन लैपटॉप के सामने ही गुजर जाता है, जिसके परिणामस्वरूप उन्हें कई शारीरिक समस्याओं का सामना करना पड़ता है। कंधे की अकड़न भी इन्हीं में से एक है। यही वजह है कि स्टाइलक्रेज के इस लेख में हम कंधे की अकड़न के कारण, लक्षण और इलाज के बारे में जानकारी लेकर आए हैं। साथ ही यहां हम कंधे के अकड़न से बचाव के तरीके भी बताएंगे।

स्क्रॉल करें

लेख में सबसे पहले समझ लीजिए कि कंधे की अकड़न आखिर होती क्या है।

कंधे की अकड़न क्या है? – What is Frozen Shoulder in Hindi

फ्रोजन शोल्डर को एडहेसिव कैप्सूलाइटिस भी कहा जाता है। यह एक प्रकार का कंधे का दर्द है, जो कंधे में अकड़न पैदा कर सकता है। इस दर्द का एहसास हर समय होते रहता है। दरअसल, कंधे के जोड़ का कैप्सूल मजबूत ऊतकों से बना होता है, जो कंधे की हड्डियों को एक दूसरे से जोड़कर रखता है। जब इस कैप्सूल में सूजन की समस्या हो जाती है, तो यह सख्त हो जाता है। इस वजह से कंधे की हड्डियां पहले की तरह काम नहीं कर पाती हैं। इसी स्थिति को ही फ्रोजन शोल्डर कहा जाता है (1)

पढ़ते रहें

अब हम कंधे की अकड़न के चरणों के बारे में जानेंगे।

कंधे की अकड़न के चरण- Frozen Shoulder Stages In Hindi

कंधे की अकड़न को तीन चरणों में बांटा गया है, जो कुछ महीनों तक बना रहता है। नीचे हम उन्हीं चरणों के बारे में विस्तार से बता रहे हैं (2):

1. फ्रीजिंग या दर्दनाक चरण (Freezing): इस चरण में दर्द धीरे-धीरे बढ़ता है और रात के समय यह अधिक तेज हो जाता है। यह दर्द आमतौर पर 2 से 9 महीने तक रहता है।

2. फ्रोजन (Frozen): यह फ्रोजन शोल्डर का दूसरा चरण है। इसमें फ्रीजिंग चरण के मुकाबले कम दर्द का एहसास होता है। यह चरण 4 से 12 महीने तक रहता है।

3. थाविंग (Thawing): यह फ्रोजन शोल्डर का सबसे अंतिम चरण माना जाता है। इसमें कंधा पहले की तरह काम करने में सक्षम हो जाता है। हालांकि, दर्द के फिर से उठने की संभावना बनी रहती है। यह चरण 12 से 42 महीने तक रहता है।

नीचे स्क्रॉल करें

कंधे की अकड़न के चरणों को जानने के बाद कंधे की अकड़न होने के कारण जान लीजिए।

कंधे की अकड़न (फ्रोजन शोल्डर) के कारण – Causes of Frozen Shoulder in Hindi

अगर बात की जाए फ्रोजन शोल्डर के कारण की, तो बता दें कि ज्यादातर समय फ्रोजन शोल्डर का कोई कारण नहीं होता है। यह अकड़न मुख्यतौर पर तब महसूस होती है, जब कंधों की हड्डियों को जोड़कर रखने वाली कैप्सूल में सूजन आ जाती है। बताया जाता है कि 40 से 70 साल की महिलाएं इस समस्या से सबसे ज्यादा प्रभावित होती हैं। वहीं, पुरुषों को भी कंधे की अकड़न की समस्या हो सकती है (3)

पढ़ना जारी रखें

अब जरा कंधे की अकड़न के लक्षणों को भी जान लीजिए।

कंधे की अकड़न के लक्षण – Symptoms of Frozen Shoulder in Hindi

कंधे की अकड़न के कई लक्षण हो सकते हैं, जिन्हें सामान्य से देखकर ही पहचाना जा सकता है। यहां हम उन्हीं के बारे में बता रहे हैं (3):

  • कंधे को हिलाने में परेशानी महसूस होना।
  • कंधे में तेज दर्द का अनुभव होना।
  • स्टिफनेस यानी कंधे की कैप्सूल का सख्त या कठोर हो जाना।

आगे पढ़ें कुछ खास

लेख के इस हिस्से में हम कंधे की अकड़न के निदान के बारे में बता रहे हैं।

कंधे की अकड़न का निदान – Diagnosis of Frozen Shoulder in Hindi

कंधे की अकड़न की जांच के लिए डॉक्टर निम्न परीक्षणों की सलाह दे सकते हैं :

1. शारीरिक परीक्षण: कंधे की अकड़न के निदान के लिए डॉक्टर सबसे पहले शारीरिक परीक्षण की सिफारिश कर सकते हैं। इसमें कंधे की हड्डी को गर्दन के पीछे और पीठ के पीछे से छूकर देखा जाता है कि असल में समस्या कहां हो रही है (2)

2. मेडिकल हिस्ट्री: इसमें डॉक्टर मरीज से उसकी मेडिकल हिस्ट्री के बारे में पूछ सकते हैं कि क्या पहले उसे ऐसी कोई समस्या हुई थी। अगर हां, तो उसके लिए किस प्रकार का उपचार दिया गया था (2)

3. एक्स-रे : कंधे की अकड़न के निदान के लिए एक्स-रे भी किया जा सकता है। इससे यह पता लगाया जा सकता है कि कहीं गठिया की समस्या या कैल्शियम डिपॉजिट यानी शरीर में कैल्शियम जमा होने जैसी कोई अन्य समस्या तो नहीं है (3)

पढ़ते रहें यह लेख

आगे हम कंधे की अकड़न के इलाज के बारे जानकारी दे रहे हैं।

कंधे की अकड़न (फ्रोजन शोल्डर) का इलाज – Frozen Shoulder Treatment in Hindi

कंधे की अकड़न का इलाज कई तरीकों से किया जा सकता है। हालांकि, यह पूरी तरह से उसकी गंभीरता पर निर्भर करता है, तो फिर चलिए जानते हैं कंधे की अकड़न के इलाज क्या-क्या हैं (4) :

1. दवाइयां: कंधे की अकड़न के दौरान दर्द और सूजन को कम करने के लिए डॉक्टर नॉनस्टेरॉइडल एंटी-इंफ्लेमेटरी दवा के उपयोग की सलाह दे सकते हैं। इसके अलावा, फ्रोजन शोल्डर के लिए कॉर्टिकोस्टेरॉइड के मौखिक उपयोग की भी सिफारिश की जा सकती है।

2. फिजियोथेरेपी: कंधे की अकड़न के इलाज के लिए डॉक्टर फिजियोथेरेपी की भी सलाह दे सकते हैं। इसमें कुछ स्ट्रेचिंग एक्सरसाइज की मदद से कंधे की अकड़न को ठीक करने का प्रयास किया जाता है। इन व्यायामों में फॉरवर्ड एलिवेशन, इंटरनल रोटेशन, एक्सटर्नल रोटेशन और क्रॉस बॉडी एडिक्शन शामिल हैं। इसका अभ्यास कम से कम 5 से 10 मिनट के अंतराल पर रोजाना 5 से 6 बार करने की सलाह दी जाती है।

3. कॉर्टिकोस्टेरॉइड इंजेक्शन: कंधे की अकड़न के फ्रीजिंग स्टेज यानी पहले चरण में इस इंजेक्शन की सिफारिश की जा सकती है। यह मुख्य रूप से कंधे के दर्द को कम करने में सहायक साबित हो सकती है।

4. हाइड्रोडिस्टेंस: फ्रोजन शोल्डर के इलाज में हाइड्रोडिस्टेंस के इस्तेमाल की भी सिफारिश की जा सकती है। यह कंधे की अकड़न के दर्द से थोड़े से समय के लिए ही राहत दे सकता है।

5. सर्जिकल प्रक्रिया: अगर दवा, फिजियोथेरेपी या फिर इंजेक्शन के इस्तेमाल के 3 से 6 महीने के बाद भी लगातार दर्द और स्टिफनेस की स्थिति बनी रहती है, तो ऐसे में डॉक्टर सर्जिकल उपचार कराने की सलाह दे सकते हैं। इसमें कंधे की अकड़न की गंभीरता के अनुसार सर्जरी का चुनाव किया जाता है।

आगे पढ़ें कुछ खास

क्या आप जानते हैं कि फ्रोजन शोल्डर के लिए डॉक्टर की सलाह कब लेनी चाहिए, अगर नहीं तो आगे पढ़ें।

डॉक्टर की सलाह कब लेनी चाहिए?

अगर कंधे में दर्द और अकड़न महसूस हो रही हो, साथ ही उसे हिलाने-डुलाने में परेशानी हो रही हो, तो ऐसे में बेझिझक डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए। इसके अलावा, निम्नलिखित लक्षणों के दिखने पर भी डॉक्टर की सलाह लेनी चाहिए (1) :

  • दर्द की दवा लेने पर भी कंधे का दर्द बढ़ रहा हो।
  • हाथ या कंधे पर दोबारा से चोट लगने पर।
  • फ्रोजन शोल्डर को कोई भी लक्षण दिखने पर।

पढ़ना जारी रखें

आर्टिकल में यहां हम बता रहे हैं कि कंधे की अकड़न जैसी समस्या न हो, उसके लिए क्या कर सकते हैं।

कंधे की अकड़न से बचाव – Prevention Tips for Frozen Shoulder in Hindi

कंधे की अकड़न से बचाव के लिए नीचे दिए तरीकों को अपनाया जा सकता है (1) (3):

  • प्रारंभिक उपचार कंधे की हड्डियों को जोड़कर रखने वाली कैप्सूल को सख्त होने से रोकने में मदद कर सकता है।
  • अगर किसी को मधुमेह की समस्या या थायराइड की समस्या है और वे अपनी स्थिति को नियंत्रण में रखते हैं, तो ऐसे में उन्हें फ्रोजन शोल्डर की शिकायत होने की संभावना कम होगी।
  • कंधे की अकड़न से बचे रहने के लिए नियमित तौर पर व्यायाम और योग करने के फायदे भी देखे जा सकते हैं।
  • इसके अलावा, डेस्क पर बैठकर काम करते समय भी बीच-बीच में कंधों का एक्सरसाइज कर के भी इस समस्या से बचा सकता है।

बन रहें हमारे साथ

चलिए, अब जरा यह भी जान लीजिए कि कंधे की अकड़न के लिए कौन-कौन से व्यायाम करने चाहिए।

कंधे की अकड़न (फ्रोजन शोल्डर) के लिए व्यायाम

कंधे की अकड़न को कम करने के लिए नीचे बताए गए एक्सरसाइज का अभ्यास किया जा सकता है। इन व्यायामों का अभ्यास हर घंटे में एक बार या फिर दिन में कम से कम 4 बार करने का प्रयास करना चाहिए (1)। अब जानते हैं फ्रोजन शोल्डर के लिए व्यायाम:

1. शोल्डर स्ट्रेच

Frozen Shoulder Causes, Symptoms and Home Remedies in Hindi 1

Shutterstock

कंधे की अकड़न से राहत पाने के लिए शोल्डर एक्सरसाइज का अभ्यास करना फायदेमंद हो सकता है। नीचे हमने इस एक्सरसाइज को करने का तरीका बताया है, जो इस प्रकार है :

  • सबसे पहले अपने बाएं हाथ को सामने की ओर उठाएं।
  • फिर इसे दाईं ओर ले जाएं।
  • अब दाहिने हाथ की कोहनी से बाएं हाथ को दबाएं।
  • इस स्थिति में कम से कम 30 सेकंड तक रहें।
  • इसके बाद इसी प्रक्रिया को दाएं हाथ के लिए भी उसी तरह से करें।

2. पेंडुलम

Frozen Shoulder Causes, Symptoms and Home Remedies in Hindi 2

Shutterstock

पेंडुलम एक्सरसाइज के अभ्यास से भी फ्रोजन शोल्डर की समस्या से आराम पाया जा सकता है। नीचे जानें पेंडुलम एक्सरसाइज करने का तरीका :

  • इस एक्सरसाइज को करने के लिए सबसे पहले कुर्सी या टेबल के पास खड़े हो जाएं।
  • इसके बाद दोनों पैरों के बीच में कम से कम एक फीट की दूरी बनाएं।
  • थोड़ा आगे की ओर झुकें और शरीर को बैलेंस करते हुए बायां हाथ कुर्सी पर टिकाएं।
  • अब दाएं हाथ को पेंडुलम की तरह नीचे ढीला लटका कर उसे दाएं से बाएं घुमाएं।
  • चाहें तो हाथ को गोल-गोल भी घुमा सकते हैं।
  • इसके बाद पुरानी अवस्था में लौट जाएं ।
  • अब एक बार फिर से आगे की ओर झुकें और शरीर को बैलेंस हुए दाएं हाथ को कुर्सी पर टिकाएं।
  • फिर बाएं हाथ को पेंडुलम की तरह नीचे ढीला लटका कर उसे बाएं से दाएं घुमाएं।
  • इसी तरह इसका अभ्यास बारी-बारी से दोनों हाथों के लिए करें।

3. वाल क्राॅवल

Frozen Shoulder Causes, Symptoms and Home Remedies in Hindi 3

Shutterstock

फ्रोजन शोल्डर की समस्या से छुटकारा पाने के लिए वाल क्राॅवल व्यायाम को भी लाभकारी माना गया है। इस एक्सरसाइज को निम्न तरीकों से किया जा सकता है:

  • इस एक्सरसाइज को करने के लिए सबसे पहले दीवार की तरफ मुंह करके एक हाथ की दूरी पर खड़े हो जाएं।
  • अब अपने प्रभावित हाथ को कंधे की ऊंचाई तक उठाएं और हथेली को दीवार से सटाएं।
  • इसके बाद अपनी उंगलियों को दीवार पर ऊपर की ओर धीरे-धीरे चलाते जाएं।
  • इस प्रक्रिया को करने के दौरान नाक के दीवार से सटने तक आगे बढ़ते जाएं।
  • जब नाक दीवार से सट जाए, तो इसी अवस्था में कुछ सेकंड के लिए रुकें।
  • इसके बाद अपनी हथेली को दीवार से सटाते हुए नीचे ले जाएं।

4. रोप एंड पुल्ली स्ट्रेचेस

Frozen Shoulder Causes, Symptoms and Home Remedies in Hindi 4

Shutterstock

रोप एंड पुल्ली स्ट्रेचेस करने के लिए ओवर-द-डोर शोल्डर पुली का उपयोग किया जाता है। इसके अभ्यास से भी कंधे की अकड़न से निजात पाया जा सकता है। इसे निम्न तरीकों से किया जा सकता है:

  • सबसे पहले ओवर-द-डोर शोल्डर पुली को अपने दरवाजे में फंसा कर दरवाजा बंद कर लें।
  • इसके बाद दरवाजे के पास एक टेबल रखकर उस पर बैठ जाएं।
  • अब अपने दोनों हाथों की उंगलियों में पुली के हैंडल को फंसा कर उसे टाइट से पकड़ें।
  • फिर बारी-बारी से दोनों हाथों को ऊपर से नीचे की ओर खींचे।
  • इस प्रक्रिया को लगातार 10 बार करते रहें।

कंधे की अकड़न की समस्या धीरे-धीरे विकसित होती है। समय रहते अगर इसका इलाज नहीं कराया गया, तो यह अधिक कष्टदायक हो सकती है। इस लेख में हमने कंधे की अकड़न के कारण, लक्षण और इलाज के बारे में विस्तार से बताया है। इसके अलावा, यहां हमने कुछ एक्सरसाइज का भी जिक्र किया है, जिसका नियमित अभ्यास कंधे की अकड़न से निजात दिलाने में मदद कर सकता है। अब लेख में आगे हम पाठकों द्वारा पूछे गए सवाल के जवाब दे रहे हैं।

अक्सर पूछे जाने वाले सवाल

कंधे की अकड़न को ठीक करने का सबसे तेज तरीका क्या है?

कंधे की अकड़न को ठीक करने का सबसे तेज तरीका उसकी गंभीरता पर निर्भर करता है। अगर कंधे में अकड़ अधिक गंभीर नहीं है, तो उसे एक्सरसाइज से भी कम किया जा सकता है। वहीं, अगर दर्द तेज है, तो इसके लिए मेडिकल ट्रीटमेंट की आवश्यकता पड़ सकती है।

अगर फ्रोजन शोल्डर का इलाज न किया जाए तो क्या होगा?

अगर कंधे की अकड़न का इलाज नहीं किया गया, तो यह समस्या और भी गंभीर हो सकती है। इस वजह से किसी भी तरह के कार्य को करने में परेशानी का सामना करना पड़ सकता है।

क्या फ्रोजन शोल्डर की मालिश करना ठीक है?

हां, कंधे के दर्द से राहत पाने के लिए मालिश का विकल्प लिया जा सकता है (5)

क्या फ्रोजन शोल्डर के लिए हीट से सिकाई अच्छी है?

हां, कंधे के दर्द से राहत पाने के लिए हिट पैक यानी गर्म सिकाई का इस्तेमाल किया जा सकता है (6)

क्या फ्रोजन शोल्डर हर समय दर्द करता है?

हां, फ्रोजन शोल्डर का दर्द हर समय महसूस होते रहता है (1)

संदर्भ (Sources):

Articles on StyleCraze are backed by verified information from peer-reviewed and academic research papers, reputed organizations, research institutions, and medical associations to ensure accuracy and relevance. Read our editorial policy to learn more.

  1. Frozen shoulder – aftercare
    https://medlineplus.gov/ency/patientinstructions/000550.htm
  2. Frozen Shoulder
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/books/NBK482162/
  3. Frozen shoulder
    https://medlineplus.gov/ency/article/000455.htm
  4. Treatment Strategy for Frozen Shoulder
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC6695331/
  5. Effectiveness of massage therapy for shoulder pain: a systematic review and meta-analysis
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC5462703/
  6. Frozen shoulder: What can help?
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/books/NBK328458/
Was this article helpful?
thumbsupthumbsup
The following two tabs change content below.
सरल जैन ने श्री रामानन्दाचार्य संस्कृत विश्वविद्यालय, राजस्थान से संस्कृत और जैन दर्शन में बीए और डॉ. सी. वी. रमन... more

ताज़े आलेख