सामग्री और उपयोग
Stylecraze

करोंदा (क्रैनबेरी) के फायदे, उपयोग और नुकसान – Cranberry Benefits, Uses and Side Effects in Hindi

करोंदा (क्रैनबेरी) के फायदे, उपयोग और नुकसान – Cranberry Benefits, Uses and Side Effects in Hindi Hyderabd040-395603080 May 13, 2019

कई लोगों को क्रैनबेरी का जूस काफी पसंद आता है। यह स्वाद में जितना लाजवाब होता है, उतना ही सेहत के लिए फायदेमंद भी होता है। इसमें भरपूर मात्रा में पोषक तत्व होते हैं। यह अम्लीय फल होता है, जो सदाबहार झाड़ियों में पाया जाता है। आपको बता दें कि क्रैनबेरी का फल सबसे पहले उत्तर अमेरिका में उगाया गया था, लेकिन अब इसका सेवन हर जगह किया जाने लगा है। स्टाइलक्रेज के इस लेख में हम करोंदे के बारे में विस्तार से जानेंगे। साथ ही करोंदे के फायदे, करोंदे के नुकसान और करोंदे का उपयोग भी जानेंगे।

करोंदा सेहत के लिए क्यों अच्छा होता है?

करोंदे को अगर सुपरपावर वाला खाद्य पदार्थ कहा जाए, तो गलत नहीं होगा। इसमें फ्लेवोनॉयड, एंटीऑक्सीडेंट, एंटी-इंफ्लेमेटरी, ऑर्गेनिक एसिड, विटामिन-सी, पॉलिफेनॉलिक और डायटरी फायबर होते हैं, जो इसे पौष्टिक बनाते हैं (1)। इसके अलावा, यह मूत्र संक्रमण में भी काफी फायदा पहुंचाता है।

करोंदे (क्रैनबेरी) के फायदे – Benefits of Cranberry in Hindi 

कई लोग कहते हैं कि करोंदा क्या है, सिर्फ छोटी-सी चीज, लेकिन जब आप इसके फायदे जानेंगे, तो हैरान रह जाएंगे। यह छोटी-सी चीज बड़े-बड़े फायदे करती है। आइए, जानते हैं कि करोंदा किस तरह से हमारे स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद होता है –

1. मूत्र संक्रमण से बचाए :

1. मूत्र संक्रमण से बचाए Pinit

Shutterstock

करोंदा मूत्र संक्रमण को रोकने में काफी मददगार साबित हो सकता है। इसमें फ्लेवोनॉयड होता है, जो बैक्टीरिया को यूरिनरी ट्र्रैक्ट में पैदा होने से रोकने में मदद करता है (2)।

2. कार्डियोवस्कुलर सिस्टम का बचाव

क्रैनबेरी यानी करोंदा दिल संबंधी बीमारियों से बचाने में मदद कर सकता है। इसके जूस को पीने से एचडीएल कोलेस्ट्रॉल (अच्छा कोलेस्ट्रॉल) का स्तर बढ़ता है। इसके अलावा, इसमें मौजूद एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण रक्तचाप को नियंत्रित करने में मदद कर सकते हैं।

3. कैंसर से बचाव

2016 में हुई एक रिसर्च में यह सामने आया है कि करोंदे का सेवन आपको 17 तरह के कैंसर से बचाने में मदद करता है (3)। इसमें मौजूद एंटीऑक्सीडेटिव पॉलीफेनॉल्स कैंसर सेल को फैलने से रोकते हैं।

4. मुंह का स्वास्थ्य

क्रैनबेरी आपके मुंह का स्वास्थ्य भी ख्याल रखने में मदद करती है। शोध के मुताबिक, करोंदे में मौजूद एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण दांतों और मसूड़ों में संक्रमण होने से बचाते हैं (4)।

5. खराब कोलेस्ट्रॉल को कम करे

अगर करोंदे को सही मात्रा में खाया जाए, तो यह अच्छे कोलेस्ट्रॉल (एचडीएल) को बढ़ाने में मदद करता है। इसके पॉलिफेनोलिक यौगिक रक्त में एचडीएल और ट्राइग्लिसराइड्स के स्तर को ठीक रखते हैं (5)। इस वजह से यह आपको हार्ट अटैक, डायबिटीज और मोटापे से बचाता है।

6. पेट ठीक रखे

एक स्टडी के मुताबिक, इसमें मौजूद पिग्मेंट पेट में मौजूद बैक्टीरिया से लड़ने में मदद कर सकता है। यह आंतों की आंतरिक कोशिकाओं को ठीक करने में मदद कर सकता हैं, जिससे पेट के अल्सर से बचाव हो सकता हैं।

7. किडनी को स्वस्थ रखे

7. किडनी को स्वस्थ रखे Pinit

Shutterstock

अगर आप समय रहते यूटीआई का इलाज नहीं करेंगे, तो यह संक्रमण किडनी तक पहुंच सकता है। ऐसे में क्रैनबेरी में मौजूद एंथोसाइनिडिन एंथोसायनिन किडनी को इस समस्या से बचाने में मदद कर सकते हैं (6) (7) (8)।

8. रोग-प्रतिरोधक क्षमता

जैसा कि हमने बताया करोंदे में एंटीऑक्सीडेंट और फाइटोकेमिकल्स गुण होते हैं, जो आपकी रोग-प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने में मदद करते हैं। जिस व्यक्ति की इम्यून पावर कमजोर हो और वो जल्दी-जल्दी बीमार पड़ जाता हो, तो उसके लिए क्रैनबेरी का जूस फायदेमंद साबित हो सकता है।

9. वजन कम करे

क्रैनबेरी का जूस शरीर में जमा हुआ फैट को हटाने में मदद करता है, जिससे आसानी से बढ़ा हुआ वजन कम किया जा सकता है। इसमें काफी मात्रा में फाइबर होता है, जिसे ग्रहण करने के बाद आपको लंबे समय तक भूख नहीं लगती और आपका पेट भरा रहता है।

10. प्रेग्नेंसी में संक्रमण से बचाए

ठीक यूटीआई से बचाव की तरह, क्रैनबेरी का सेवन करने से प्रेग्नेंसी में बैक्टीरियल इन्फेक्शन होने का खतरा कम हो जाता है। हालांकि, यह मिथक काफी प्रचलित है कि प्रेग्नेंसी में क्रैनबेरी के सेवन से बच्चे को नुकसान हो सकता है, लेकिन यह सच नहीं है। अगर इसका सीमित मात्रा में इस्तेमाल किया जाए, तो प्रेग्नेंसी में क्रैनबेरी फायदा पहुंचाती है (9)।

11. प्रोस्टेट डिसऑर्डर

ऐसा माना जाता है कि क्रैनबेरी के सेवन से प्रोस्टेट डिसऑर्डर का खतरा कम किया जा सकता है (10)। प्रोस्टेट डिसऑर्डर का खतरा पुरुषों को होता है, जिसमें प्रोस्टेट कैंसर और बिनाइन प्रोस्टेट हाइपरप्लेसिया जैसे रोग हो सकते हैं।

12. ग्लोइंग स्किन

आपको जानकर हैरानी होगी कि क्रैनबेरी के सेवन से आपकी त्वचा में ग्लो आता है। इसमें पानी, विटामिन-सी और एंटीऑक्सीडेंट गुणों की भरमार होती है, जो आपकी त्वचा को ग्लोइंग बनाने में मदद करते हैं।

13. बालों की ग्रोथ

13. बालों की ग्रोथ Pinit

Shutterstock

अगर आप अपने बालों की ग्रोथ को लेकर परेशान हैं, तो करोंदे का सेवन फायदेमंद हो सकता है। इसमें विटामिन-सी और विटामिन-ए होता है, जो बालों को बढ़ने में मदद करते हैं। ऐसे में आप नियमित रूप से क्रैनबेरी का जूस पी सकते हैं, जिससे आपके शरीर में ये विटामिन जाएंगे और आपके बालों की ग्रोथ होगी।

ताजा करोंदा (क्रैनबेरी) बनाम सूखा करोंदा (क्रैनबेरी) 

ताजा करोंदे और सूखे करोंदे को पोषक तत्वों में कुछ अंतर हो सकता है, जिसके बारे में हम नीचे बता रहे हैं। ताजे करोंदे में उच्च मात्रा में विटामिन-सी, कार्बोहाइड्रेट, पानी और पोटैशियम होता है। वहीं, सूखे करोंदे में यह तत्व कम मात्रा में पाए जाते हैं, लेकिन इसमें शुगर और कार्बोहाइड्रेट की मात्रा उच्च होती है। सूखी क्रैनबेरी जहां कुछ हद तक स्वाद में मीठी होती है, तो वहीं ताजा क्रैनबेरी खट्टी होती है।

करोंदा के पौष्टिक तत्व – Cranberry Nutritional Value in Hindi

इस लेख में आपने करोंदे के फायदे तो जान लिए। लेकिन, यह जानना दिलचस्प होगा कि इसमें ऐसे और क्या-क्या पौष्टिक तत्व होते हैं, जो इसे इतना गुणकारी बनाते हैं। यही बताने के लिए हम आपको करोंदे के पौष्टिक तत्वों की तालिका नीचे दे रहे हैं :

ताजा क्रैनबेरी

पौष्टिक मूल्य प्रति 100 ग्राम
तत्वमूल्यडीवी %
ऊर्जा 5146 kcal
टोटल फैट0.13 g0 %
सैचुरेटेड फैट0 g0 %
कोलेस्ट्रॉल0 mg0 %
सोडियम2 mg0 %
टोटल कार्बोहाइड्रेट13 g4 %
डायटरी फाइबर5 g20 %
शुगर4 g
प्रोटीन0 g
विटामिन-ए3 μg1 %
विटामिन-सी13.3 mg24%
कैल्शियम8 mg1 %
आयरन0.25 mg2 %
विटामिन
66.0IU1%
विटामिन-सी14.6mg24%
विटामिन-डी
विटामिन-ई1.3 mg7%
विटामिन-के5.6 mcg7%
थियामिन0.0 mg1%
रिबोफ्लेविन0.0 mg1%
नियासिन0.1 mg1%
विटामिन-बी60.1 mg3%
फोलेट1.1 mcg0%
विटामिन-बी120.0 mcg0%
पेंटोथेनिक एसिड0.3 mg3%
कोलीन6.0 mg
बिटाइन0.2 mg
मिनरल
कैल्शियम8.8 mg1%
आयरन0.3 mg2%
मैग्नीशियम6.6 mg2%
फास्फोरस4.3 mg1%
पोटैशियम93.5 mg3%
सोडियम2.2 mg0%
जिंक0.1 mg1%
कॉपर0.1 mg3%
मैंगनीज0.4 mg20%
सेलेनियम0.1 mcg0%
फ्लोराइड0.1 mcg
~
कैलोरी
कैलोरी50.6(212 kJ)3%
कार्बोहाइड्रेट47.9(201 kJ)
फैट1.2(5.0 kJ)
प्रोटीन1.4(5.9 kJ)
एल्कोहल0.0(0.0 kJ)

सूखे करोंदे के पौष्टिक तत्व (40 ग्राम प्रति सर्विंग) : 

कैलोरी123g
कार्बोहाइड्रेट13g
शुगर26g
प्रोटीन0g
फैट1g
विटामिन-ए0g
विटामिन-सी0g

करोंदा का उपयोग – How to Use Cranberries in Hindi 

यह तो स्पष्ट हो गया है कि करोंदे के फायदे कई हैं। ऐसे में आप करोंदे का उपयोग कई तरह से कर सकते हैं, जैसे :

  • करोंदे की चटनी बनाकर आप इसका सेवन कर सकते हैं।
  • वहीं, कुछ लोग करोंदे की जैम बनाकर भी इसका सेवन करते हैं।
  • करोंदे का जूस बनाकर भी इसे पिया जा सकता है।
  • आप चाहें तो करोंदे का अचार डालकर भी इसे भोजन के साथ खा सकते हैं। 

करोंदा के नुकसान – Side Effects of Cranberry in Hindi

यूं तो करोंदे के फायदे अनेक हैं, लेकिन हर चीज के कुछ न कुछ नुकसान भी सामने आते हैं। ठीक करोंदे के साथ भी ऐसा ही है। इसलिए, नीचे हम करोंदे के नुकसान बता रहे हैं :

  • ज्यादा मात्रा में क्रैनबेरी का इस्तेमाल करने से दांत खराब हो सकते हैं।
  • जिन्हें डायबिटीज और पेट की समस्या रहती है, उन्हें करोंदे का सेवन करने से बचना चाहिए। इसके रस का अधिक सेवन करने से ब्लड शुगर बढ़ सकता है।
  • जिन लोगों को इंटरस्टीशियल सिस्टाइटिस (मूत्राशय रोग) की समस्या होती है, उन्हें इसका रस नहीं पीना चाहिए।

आपको इस लेख में करोंदे यानी क्रैनबेरी के फायदे और करोंदे के उपयोग के बारे में हमने विस्तार से बताने की कोशिश की है। उम्मीद है कि इस लेख से आपको करोंदे के लाभ अच्छी तरह पता चल गए होंगे। अगर आप अपने खानपान में करोंदे का सेवन पहले से कर रहे हैं, तो हमें बताएं कि किस तरह आप करोंदे का उपयोग करते हैं। साथ ही संबंध में कुछ और जानकारी चाहते हैं, तो नीचे दिए कमेंट बॉक्स में पूछ सकते हैं।

संबंधित आलेख