कसूरी मेथी के 9 फायदे और नुकसान – Kasuri Methi Benefits and Side Effects in Hindi

Medically Reviewed By Neelanjana Singh, RD
Written by , (शिक्षा- एमए इन जर्नलिज्म मीडिया कम्युनिकेशन)

हम कई मसालों व खाद्य पदार्थों को अपनी दिनचर्या में शामिल करते हैं, लेकिन उनके फायदों से अनजान होते हैं। ऐसी ही एक चीज है कसूरी मेथी। हालांकि, कसूरी मेथी स्वाद में थोड़ी कड़वी होती है, लेकिन कसूरी मेथी का उपयोग करने से भोजन का जायका बढ़ जाता है। साथ ही इसके गुणों में भी कोई कमी नहीं होती है। फिर चाहे आपको वजन कम करना है या फिर डायबिटीज से छुटकारा पाना है, हर लिहाज से कसूरी मेथी लाभकारी है। स्टाइलक्रेज के इस आर्टिकल में हम कसूरी मेथी के बारे में ही बात करेंगे। हम वैज्ञानिक प्रमाणों सहित कसूरी मेथी के फायदे बताने का प्रयास करेंगे। साथ ही इसके कुछ दुष्प्रभावों से भी आपका परिचय कराएंगे।

हम कसूरी मेथी के फायदे जाने, उससे पहले यह पता करते हैं कि आखिर कसूरी मेथी कहते किसे हैं।

कसूरी मेथी क्‍या है? – What is Kasuri Methi in Hindi 

मेथी के पत्तों को सुखाकर कसूरी मेथी बनाई जाती है। मेथी का पौधा फैबासी (Fabaceae) परिवार से संबंध रखता है। इसकी पत्तियों और बीजाें का उपयोग गरम मसाले के रूप में किया जाता है। स्वाद के साथ-साथ इसमें कई औषधीय गुण भी मौजूद हाेते हैं। इसमें पाए जाने वाले औषधीय गुण पाचन से जुड़ी समस्याओं को ठीक कर सकते हैं और मधुमेह को नियंत्रित कर सकते हैं। इसके अलावा, कसूरी मेथी का सेवन स्तनपान कराने वाली महिलाओं के लिए लाभदायक है। इससे स्तनों में दूध का निर्माण अच्छी तरह से हो सकता है। साथ ही यह घाव को जल्दी भरने के काम भी आ सकती है (1)।

कसूरी मेथी से परिचित होने के बाद अब हम यह भी जान लेते हैं कि इसके फायदे क्या-क्या हैं।

कसूरी मेथी के फायदे – Benefits of Kasuri Methi in Hindi

आयुर्वेद में कसूरी मेथी के कई फायदों के बारे में उल्लेख किया गया है। यहां हम आपको इसके प्रमुख फायदों के बारे में बता रहे हैं, जो आपकी अच्छी जीवनशैली के लिए लाभदायक हाे सकते हैं।

1. वजन कम करने के लिए कसूरी मेथी के फायदे

अगर आप मोटापे का शिकार हैं और वजन कम करना चाहते हैं, तो सुबह खाली पेट भीगी हुई कसूरी मेथी का सेवन आपके लिए फायदेमंद हो सकता है। इसमें मौजूद फाइबर जल्दी नहीं पचता और आपकी भूख को कम करता है। इससे आप कम खाद्य पदार्थों का सेवन करते हैं, जिससे वजन को कम करने में मदद मिल सकती है (2)।

2. कोलेस्ट्रोल के लिए 

कोलेस्ट्रोल की समस्या में भी मेथी का उपयोग कारगर हो सकता है। इसके अर्क में पाए जाने वाले फ्लेवोनोइड्स में हाइपोकोलेस्टेरोलेमिक प्रभाव और एंटीऑक्सीडेंट गुण होते हैं, जो एडीएल यानी खराब कोलेस्ट्रोल के स्तर को कम करके एचडीएल यानी अच्छे कोलेस्ट्रोल के स्तर को बढ़ाने में मदद करते हैं (3)।

3. मधुमेह को नियंत्रित करने के लिए 

मधुमेह से ग्रस्त मरीजों के लिए मेथी का सेवन वरदान के रूप में काम कर सकता है। इसमें मौजूद हाइपोग्लाइसेमिक गुण रक्त में शुगर की मात्रा को कम करने में कारगर होता है। रात में 10 ग्राम मेथी को 40 मिली पानी में डालकर रख दें और सुबह इसके पानी का सेवन करें। इससे न सिर्फ आप मधुमेह को नियंत्रित कर सकते हैं, बल्कि इससे होने वाले खतरों को भी दूर करने में भी मदद मिल सकती है (4)।

4. स्तनपान में फायदेमंद 

प्रसव के बाद जिन माताओं के स्तन में दूध की कमी पाई जाती है, उनके लिए कसूरी मेथी की चाय फायदेमंद उपचार हो सकती है। कसूरी मेथी में गैलेक्टगॉग (galactagogue) नामक घटक पाया जाता है, जो मां के स्तनों में दूध बढ़ाने में मदद कर सकता है (5) (6)।

5. सेहतमंद हृदय के लिए कसूरी मेथी का उपयोग

मेथी की चाय में कई औषधीय गुण होते हैं, जो शरीर में जमा हानिकारक एसिड को बारह निकालकर सीने की जलन को दूर करने में मदद करते हैं। इसके अलावा, इसमें पोटैशियम की मात्रा पाई जाती है, जो उच्च रक्त को नियंत्रित कर ह्रदय को स्वस्थ रखती है। इसका सेवन रक्त में मौजूद हानिकारक कोलेस्ट्रॉल को कम करता है, जिससे हृदय संबंधी समस्याएं दूर होती हैं। साथ ही इसमें गैलेक्टोमैनन (घुलनशील फाइबर) नामक घटक भी होता है, जो होने वाले दिल के दौरे के खतरे को कम कर सकता है (2)।

6. आंतों की समस्याओं को दूर करने के लिए 

अगर आपको दस्त, खराब पाचन या फिर कब्ज जैसी आंतों से जुड़ी कोई समस्या है, तो मेथी का सेवन आपके लिए फायदेमंद हो सकता है। इसमें मौजूद फाइबर न सिर्फ आपके पाचन तंत्र को ठीक करता है, बल्कि पेट को साफ कर कब्ज से भी राहत दिलाता है (7)। इसके अलावा, संतुलित मात्रा में फाइबर के सेवन से गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल प्रक्रिया बेहतर होती है, जिससे भोजन को पचाना आसान होता है (8)।

7. एनीमिया की रोकथाम के लिए 

एनीमिया की रोकथाम के लिए ही मेथी फायदेमंद साबित हो सकती है। कसूरी मेथी में आयरन की मात्रा पाई जाती है (9)। आयरन एनीमिया के प्रभाव को दूर करने में कारगर होता है। आयरन शरीर में रक्त के जरिए ऑक्सीजन को सभी अंगों तक पहुंचाने का काम करता है। शरीर में आयरन की पूर्णता एनीमिया को रोक सकती है (10)।

8. त्वचा के लिए फायदेमंद

मेथी के औषधीय गुणों के कारण इसका उपयोग प्राचीन काल से ही आयुर्वेद में त्वचा के फायदों के लिए किया जाता है रहा है। मेथी बीज के पेस्ट के उपयोग से आप त्वचा से संबंधित कई समस्याओं से निजात पा सकते हैं, जैसे – त्वचा पर निशान, सूजन, फोड़े, जलन व मुंहासे आदि। इसे लगाने से न सिर्फ त्वचा का रंग निखरता है, बल्कि चेहरे के दाग-धब्बों से भी राहत मिलती है (2)।

9. बालों के लिए कसूरी मेथी के फायदे

कसूरी मेथी का उपयोग बालों की कई समस्याओं को दूर करने के लिए भी किया जाता है। इसमें पाए जाने वाले प्रोटीन, लेक्टिन और निकोटिन जैसे पोषक तत्व बालों के विकास के साथ ही बालों को मजबूत करने में भी कारगर साबित हो सकते हैं। इसके अलावा, यह बालों की जड़ों को मजबूती प्रदान करने और बालों को घना करने में भी फायदेमंद है (2)।

अब जब आप कसूरी मेथी के फायदे जान चुके हैं, तो अब इसे उपयोग करने के तरीके भी जान लेते हैं।

कसूरी मेथी का उपयोग – How to Use Kasuri Methi in Hindi

कसूरी मेथी का उपयोग कई प्रकार से किया जा सकता है, जैसे:

  • कसूरी मेथी की चाय बनाकर इसकी चुस्कियां ली जा सकती हैं।
  • कसूरी मेथी के पत्तों के अर्क को तेल में मिलाकर इसका उपयोग सिर की मालिश करने के लिए कर सकते हैं।
  • कसूरी मेथी के पत्तों को गर्म करके कपड़े में लपेटकर इसका उपयोग दर्द और सूजन वाले स्थान पर सिकाई के लिए किया जा सकता है।
  • दाल या सब्जी में कसूरी मेथी का तड़का लगाकर खाने का जायका बढ़ाया जा सकता है।
  • कसूरी मेथी के पाउडर का उपयोग अचार और परांठे में भी किया जाता है।
  • कसूरी मेथी के अर्क को शैंपू में मिलाकर बाल धोने से बाल मुलायाम और चमकदार बनते हैं।

कसूरी मेथी के लाभ व उपयोग के तरीके जानने के बाद अब इसके नुकसानों पर भी नजर डाल लेते हैं।

कसूरी मेथी के नुकसान – Side Effects of Kasuri Methi in Hindi 

कसूरी मेथी को अधिक मात्रा में इस्तेमाल करने से नकारात्मक परिणाम का सामना करना पड़ सकता है। इसलिए, हम यहां इसके कुछ नुकसान बता रहे हैं।

  • जिन लोगों को शुगर कम होने की समस्या होती है, उन्हें इसके सेवन से बचना चाहिए, क्योंकि कसूरी मेथी का उपयोग रक्त में मौजूद शुगर को कम कर सकता है (4)।
  • गर्भवती होने पर मेथी का उपयोग नहीं करना चाहिए, क्योंकि इसका उपयोग गर्भाशय को प्रभावित कर सकता है (1)।
  • मेथी में फाइबर पाया जाता है, इसलिए इसका ज्यादा मात्रा में सेवन दस्त का कारण बन सकता है (1)।
  • अस्थमा की अवस्था में इसका सेवन हानिकारक हाे सकता है (1)।

आपने इस आर्टिकल में जाना कि सामान्य-सी दिखने वाली कसूरी मेथी के गुण सामान्य नहीं हैं। यह कई लिहाज से हमारे लिए फायदेमंद साबित हो सकती है। फिर चाहे बात सेहत की हो, त्वचा की हो या फिर बालों की, कसूरी मेथी के फायदे हर क्षेत्र में देखने को मिलते हैं। साथ ही एक बात जरूर ध्यान में रखें कि इसे औषधि के रूप में लेने से पहले अपने चिकित्सक से सलाह जरूर करें। यह आर्टिकल आपको कैसा लगा और आपके लिए किस प्रकार फायदेमंद रहा, हमें नीचे दिए कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं।

और पढ़े:

Sources

Articles on StyleCraze are backed by verified information from peer-reviewed and academic research papers, reputed organizations, research institutions, and medical associations to ensure accuracy and relevance. Read our editorial policy to learn more.

    1. Fenugreek
      https://www.nccih.nih.gov/health/fenugreek#hed4
    2. HEALTH BENEFITS OF METHI (FENUGREEK)
      https://www.academia.edu/8070959/HEALTH_BENEFITS_OF_METHI_FENUGREEK_
    3. Lipid-lowering and antioxidant effects of an ethyl acetate extract of fenugreek seeds in high-cholesterol-fed rats
      https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/20108903/
    4. Effect of Fenugreek on Type2 diabetic patients
      http://citeseerx.ist.psu.edu/viewdoc/download?doi=10.1.1.735.1799&rep=rep1&type=pdf
    5. Effectiveness of fenugreek as a galactagogue: A network meta-analysis
      https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/29193352/
    6. The effect of galactagogue herbal tea on breast milk production and short-term catch-up of birth weight in the first week of life
      https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/21261516/
    7. Hypolipidemic influence of dietary fenugreek (Trigonella foenum-graecum) seeds and garlic (Allium sativum) in experimental myocardial infarction
      https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/26220304/
    8. Biochemical and Sensory Evaluation of Wheat Bran Supplemented Sorghum KIsra Bread
      https://www.osti.gov/etdeweb/servlets/purl/696155
    9. Spices, fenugreek seed
      https://fdc.nal.usda.gov/fdc-app.html#/food-details/171324/nutrients
    10. Iron-deficiency anemia
      https://www.womenshealth.gov/a-z-topics/iron-deficiency-anemia
Was this article helpful?
thumbsupthumbsup
The following two tabs change content below.
पुजा कुमारी ने बनारस हिंदू यूनिवर्सिटी से जर्नलिज्म एंड मास कम्युनिकेशन में एमए किया है। इन्होंने वर्ष 2015 में अपने... more

Neelanjana Singh

(RD)
Neelanjana Singh has over 30 years of experience in the field of nutrition and dietetics. She created and headed the... more

ताज़े आलेख