केले के फूल के फायदे, उपयोग और नुकसान – Banana Flower Benefits, Uses and Side Effects in Hindi

by

केले खाने के फायदे के बारे में लोगों ने खूब सुना है, लेकिन क्या आप जानते हैं कि केले के फूल के लाभ भी कई हैं। जी हां, केले के फूल का सेवन करके कई तरह की शारीरिक समस्याओं से राहत मिल सकती है। केले के फूल को अक्सर बनाना ब्लॉसम और बनाना हार्ट भी कहा जाता है। यह दिखने में जितना आकर्षक होता है, खाने में उतना ही स्वादिष्ट और लाभकारी होता है। केले के फूल के औषधीय गुण को देखते हुए स्टाइलक्रेज के इस लेख में हम इसके बारे में विस्तार से बता रहे हैं। यहां सबसे पहले केले के फूल के गुण के बारे में हम बात करेंगे। उसके बाद केले के फूल खाने के फायदे बताएंगे।

शुरू करते हैं लेख

चलिए, सबसे पहले केले के फूल के औषधीय गुण के बारे में जानते हैं।

केले के फूल के औषधीय गुण

केले का ब्लॉसम व फूल को उसके गुणों के कारण सुपर फूड भी माना जाता है। इसमें उच्च मात्रा में पोषक तत्व होते हैं। बताया जाता है कि इसमें फाइबर, प्रोटीन, विटामिन-ए, सी, ई, फास्फोरस, पोटेशियम, कैल्शियम, आयरन, मैग्नीशियम और एंटीऑक्सीडेंट होते हैं। इनकी वजह से इसे चिकित्सकीय रूप से बेहतर माना जाता है। इसके औषधीय गुणों के कारण यह रक्तस्राव कम करने, स्तन में दूध का उत्पादन बढ़ाने और मधुमेह पर काबू पाने में सहायक हो सकता है (1)।

पढ़ते रहें

केले के फूल के औषधीय गुण के बाद केले के फूल के फायदे के बारे में बता रहे हैं।

केले के फूल के फायदे – Benefits of Banana Flower in Hindi

केले के फूल खाने के फायदे के बारे में हम विस्तार से नीचे बता रहे हैं। बस ध्यान दें कि इन फायदों के आधार पर डॉक्टरी सलाह व इलाज को दरकिनार नहीं किया जा सकता है। हम केले के फूल के गुण के बारे में वैज्ञानिक रिसर्च के आधार पर स्वस्थ रहने के लिए दे रहे हैं।

1. किडनी के लिए केले के फूल के गुण

किडनी को स्वस्थ रखने के लिए केले के फूल का उपयोग किया जा सकता है। दरअसल, इसमें नेफ्रोपोट्रैक्टिक गतिविधि (Nephroprotective activity) होती है। मतलब ऐसा प्रभाव, जो किडनी को किसी भी तरह की हानि से बचाने में मदद कर सकता है (2)। इसके अलावा, केले के फूल में मौजूद फाइबर किडनी स्टोन से राहत दिलाने में भी मदद कर सकता है (3)।

2. डायबिटीज

केले के फूल के फायदे में डायबिटीज नियंत्रण करना भी शामिल है। केले के फूल में रक्त शर्करा के स्तर को कम करने का गुण होता है। इसके कम होने से डायबिटीज के स्तर को नियंत्रित किया जा सकता है (1)। एनसीबीआई की ओर से पब्लिश एक रिसर्च में कहा गया है कि यह लो ग्लाइसेमिक इंडेक्स खाद्य पदार्थ है, जो शरीर में ग्लूकोज को धीरे-धीरे रिलीज करता है। इसके अलावा, केले के फूल में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट्स और फाइबर भी डायबिटीज को नियंत्रित करने में मदद कर सकते हैं (4)।

3. उच्च रक्तचाप के लिए केले के फूल के गुण

केले के फूल का सेवन व्यक्ति को उच्च रक्तचाप से बचाव कर सकता है। एक रिसर्च पेपर में बताया गया है कि केले का फूल एंटीहाइपरटेंसिव एजेंट की तरह काम कर सकता है। यह प्रभाव उच्च रक्तचाप को नियंत्रित कर सकता है। शोध के मुताबिक इसमें मौजूद फाइबर, एंटीऑक्सिडेंट यौगिक और कई अन्य मैक्रो और माइक्रो पोषक तत्व उच्च रक्तचाप को कम करने में मदद कर सकते हैं (5)।

4. मासिक धर्म के लिए

मासिक धर्म संबंधी परेशानी को कम करने में भी केले के फूल की मदद ली जा सकती है। प्राचीन काल से महिलाएं इसका सेवन मासिक धर्म के अधिक रक्तस्राव को कम करने के लिए करती थीं (6)। साथ ही यह पेट की ऐंठन को कम करने में मददगार साबित हो सकता है। बताया जाता है कि केले का फूल प्रोजेस्टेरोन हार्मोन को रेगुलेट करके रक्तस्राव के दौरान होने वाले दर्द को कम करने में सहायक हो सकता है। इसके अलावा, केले के फूल में मैग्नीशियम भी होता है, जो मासिक धर्म के दौरान होने वाली चिंता को भी कम कर सकता है (1)।

5. गर्भाशय के लिए केले के फूल के लाभ

गर्भाशय को स्वस्थ रखने में भी केले का फूल लाभदायक हो सकता है (1)। लोक मान्यता के आधार पर महिलाएं इसका सेवन गर्भाशय को मजबूत बनाने के लिए करती हैं। हालांकि, इसके संबंध में किसी तरह का ठोस शोध उपलब्ध नहीं है, जो बता सके कि केले के फूल में ऐसे कौन से गुण व तत्व होते हैं, जो गर्भाशय के लिए अच्छा हो सकता है।

6. हृदय के लिए केले के फूल खाने के फायदे

हृदय को स्वस्थ रखने के लिए भी केले के फूल का सेवन लोग करते हैं। केले के ताजा फूलों को हृदय के लिए अच्छा माना जाता है (7)। बताया जाता है कि केले के फूल में मौजूद फेनिलफेनेलेनोन नामक फेनोलिक में कार्डियो प्रोटेक्टिव प्रभाव होता है (8)। इसके अलावा, केले के फूल का सेवन करने से हार्ट पेन यानी दिल में होने वाले दर्द को भी कम किया जा सकता है (9)। डाइट पर ध्यान देने के साथ ही हृदय को स्वस्थ रखने के लिए योग भी करते रहना चाहिए।

7. डायरिया में केले के फूल के लाभ

डायरिया की समस्या से परेशान लोग केले के फूल का सेवन करके इससे छुटकारा पा सकते हैं। बताया जाता है कि यह डायरिया से राहत दिला सकता है। भले ही पारंपरिक रूप से लोग इसका इसका इस्तेमाल डायरिया को कम करने के लिए करते हों, लेकिन इसके कौन से गुण की वजह से यह लाभदायक होता है यह स्पष्ट नहीं है (10)।

जारी रखें पढ़ना

8. वजन कम करने के लिए केले के फूल खाने के फायदे

वजन कम करने के लिए अपनी डाइट में केले के फूल को शामिल कर सकते हैं। इससे जुड़े रिसर्च पेपर के मुताबिक, इसमें मौजूद फाइबर बॉडी हेल्थ को बनाए रखने के साथ ही मोटापे को कम करने में मदद कर सकता है (11)। शरीर की चर्बी कम करने के लिए केले के फूल का सेवन किया जा सकता है।

9. ब्रेस्टफीडिंग के लिए केले के फूल के फायदे

स्तनपान कराने वाली माताओं के लिए भी यह खाद्य पदार्थ अच्छा होता है। यह एक तरह का गैलेक्टागोग (Galactagogue) खाद्य पदार्थ है, जो लैक्टेशन को बढ़ावा देता है। आसान शब्दों में कहा जाए, तो इस प्रभाव की वजह से स्तन ग्रंथियों में दूध का स्राव को बढ़ सकता है और मां अच्छे तरीके से बच्चे को स्तनपान करा सकती है। इसके अलावा, इसमें मौजूद प्रोटीन भी दूध को बढ़ावा देने में सहायक हो सकता है (12)।

10. इंफेक्शन

केले के फूल खाने के फायदे में इंफेक्शन से बचाव भी शामिल है। केले के फूलों का इथेनॉल-आधारित अर्क रोगजनक बैक्टीरिया को खत्म कर सकता है। बताया जाता है कि इसका अर्क बेसिलस सबटिलिस (Bacillus Subtilis), बेसिलस सेरेस (Bacillus Cereus) और एस्चेरिचिया कोली (Escherichia coli) जैसे जीवाणुओं को पनपने से रोकने में मदद कर सकता है। इसके अलावा, यह इंफेक्शन को रोकने और घाव को भरने में भी मदद कर सकता है (7)।

11. कैंसर से बचाव के लिए केले के फूल के लाभ

केले के फूल में एंटी-कैंसर गतिविधि पाई जाती है। यह सर्विक्स (गर्भाशय का निचला हिस्सा जो योनि से जुड़ता है) में होने वाले सर्वाइकल कैंसर से बचाने में मदद कर सकता है। इसको लेकर हुए एक शोध में कहा गया है कि केले के फूल में मौजूद फाइटोकेमिकल्स (विटामिन, फ्लेवोनोइड्स, प्रोटीन) और एंटीऑक्सीडेंट की वजह से इसमें यह गुण पाया जाता है। स्टडी के दौरान इसमें एंटीप्रोलिफेरेटिव प्रभाव नजर आए, जो ट्यूमर की कोशिकाओं को बढ़ने से रोकने में मदद कर सकता है (13)। बस ध्यान दें कि केले के फूल का सेवन कैंसर का इलाज नहीं है। इससे प्रभावित व्यक्ति को डॉक्टर से इलाज करवाना जरूरी है। यह महज बचाव का एक तरीका हो सकता है।

12. एंग्जाइटी के लिए केले के फूल के गुण

केले के फूल का उपयोग एंटीडिप्रेसेंट की तरह भी किया जा सकता है। यह एंग्जाइटी यानी चिंता के स्तर को कम करने में सहायक हो सकता है। दरअसल, इसमें मैग्नीशियम होता है, जिसे चिंता को कम करने के साथ ही मूड को बेहतर बनाने में मददगार माना जाता है (14)।

13. एंटीएजिंग

केले के फूल खाने के फायदे जवां दिखना भी शामिल है। लोग जवान रहने के लिए भी केले के फूल का सेवन करते हैं। जी हां, केले के फूल में एंटी-एजिंग प्रभाव होता है। यह त्वचा पर बढ़ती उम्र के प्रभाव को पड़ने से रोकने या धीमा करने का काम कर सकता है (15)। बस, तो फिर युवा दिखने के लिए इसे अपने आहार में शामिल कर दें।

स्क्रॉल करें

केले के फूल के लाभ के बाद आगे हम केले के फूल के पौष्टिक तत्व के बारे में बता रहे हैं।

केले के फूल के पौष्टिक तत्व – Banana Flower Nutritional Value in Hindi

केले के फूल के फायदे जानने के बाद इनके पोषक तत्वों के बारे में भी पता होना जरूरी है। इसी वजह से नीचे हम टेबल के माध्यम से केले के फूल के न्यूट्रिएंट्स के बारे में बता रहे हैं (16)।

पोषक तत्वमात्रा प्रति 100 ग्राम 
ऊर्जा13 kcal
प्रोटीन1.33 g
कार्बोहाइड्रेट2 g
फाइबर, कुल आहार1.3 g
कैल्शियम40 mg
आयरन0.6 mg
सोडियम367 mg

इनके अलावा, केले के फूल में मैग्नीशियम, पोटेशियम, कॉपर, फाइबर, फास्फोरस, विटामिन-ई और फैट की भी अच्छी मात्रा पाई जाती है। इनकी वजह से केले के फूल को पौष्टिक माना जाता है (17)।

जुड़े रहें हमारे साथ

केले के पोषक तत्व के बाद आगे हम बता रहे हैं कि केले के फूल का उपयोग कैसे किया जाना चाहिए।

केले के फूल का उपयोग – How to Use Banana Flower in Hindi

केले के फूल का उपयोग कई तरीके से किया जा सकता है। क्या हैं वो तरीके इसके बारे में जानने के लिए नीचे पढ़ें (15)।

  • सबसे पहले केले के फूल को सामान्य तरीके से सब्जी के रूप में खाया जा सकता है।
  • इसका इस्तेमाल सूप बनाने के लिए भी किया जाता है।
  • केले के फूल की कढ़ी भी खूब पसंद की जाती है।
  • इसका उपयोग दाल में भी किया जा सकता है।
  • पकौड़े व कटलेट बनाते समय भी कुछ लोग अलग टेस्ट के लिए सामग्री में केले के फूल का इस्तेमाल कर लेते हैं।
  • इसे उबालकर खाया जाता है।
  • कई जगहों में आचार बनाकर भी केले के फूल का उपयोग किया जाता है।
  • केले के फूल को सिर्फ तल कर और हल्का नमक मिर्च डालकर भी खाया जाता है।

जरूरी जानकारी नीचे है

अब एक नजर केले के फूल को सुरक्षित रखने के तरीके पर डाल लेते हैं।

केले के फूल को लंबे समय तक सुरक्षित रखना – Storage of Banana Flower in Hindi

केले का फूल कुछ समय बाद ही भूरे रंग का पड़ना शुरू हो जाता है। इसी वजह से जिस दिन केले का फूल तोड़ा जाता है, उसी दिन खाने की सलाह दी जाती है। फिर भी अगर कोई इसे स्टोर करके रखना चाहता है, तो साबुत फ्रिज में डालकर एक से दो दिन तक सुरक्षित रख सकता है। इसके अलावा, इसे धोकर एक पन्नी में पैक करके फ्रिज में रखकर तीन दिन तक रख सकते हैं (9)।

आगे पढ़ें

केले के फूल के फायदे और अन्य महत्वपूर्ण बातों के बाद केले के फूल के नुकसान जान लेते हैं।

केले के फूल के नुकसान – Side Effects of Banana Flower in Hindi

केले के फूल के गुण जानने के साथ ही सावधानी के तौर पर केले के फूल के नुकसान के बारे में भी पता होना जरूरी है। वैसे, तो केले के फूल के नुकसान पर कोई शोध उपलब्ध नहीं हैं। फिर भी कुछ सामान्य नुकसान के बारे में हम नीचे बता रहे हैं, ताकि ध्यान से इसका सेवन किया जाए।

  • केले से एलर्जी होने वाले लोगों को केले के फूल से भी एलर्जी हो सकती है। इसी वजह से केले के प्रति संवेदनशील लोगों को इसके सेवन से बचना चाहिए।
  • ऊपर हम बता चुके हैं कि यह ब्लड ग्लूकोज को कम करके डायबिटीज के स्तर को कम कर सकता है। ऐसे में इसके अधिक सेवन से ब्लड ग्लूकोज का स्तर सामान्य से अधिक कम हो सकता है और व्यक्ति ऊर्जाहीन महसूस कर सकता है।
  • केले के फायदे में आपने पढ़ा कि यह ब्लड प्रेशर को भी कम कर सकता है। इसी वजह से लो बीपी वाले लोगों को इसका ज्यादा सेवन नहीं करना चाहिए।

अब आप जान ही गए हैं कि केले के फूल खाने के फायदे कितने हैं। बस इसे फायदेमंद सोचकर एक समय में अधिक न खा लें। संयमित मात्रा में सेवन करने से ही केले के फूल के लाभ हो सकते हैं। अब बिना देर किए इस स्वादिष्ट केले के फूल को अपनी डाइट में शामिल करें और इसके स्वास्थ्य लाभ को उठाएं। कोशिश करें कि इसे ताजा ही खाएं। यह जितना ताजा होगा शरीर के लिए उतना गुणकारी साबित हो सकता है।

संदर्भ (Sources) :

Stylecraze has strict sourcing guidelines and relies on peer-reviewed studies, academic research institutions, and medical associations. We avoid using tertiary references. You can learn more about how we ensure our content is accurate and current by reading our editorial policy.
Was this article helpful?
The following two tabs change content below.

vinita pangeni

विनिता पंगेनी ने एनएनबी गढ़वाल विश्वविद्यालय से मास कम्यूनिकेशन में बीए ऑनर्स और एमए किया है। टेलीविजन और डिजिटल मीडिया में काम करते हुए इन्हें करीब चार साल हो गए हैं। इन्हें उत्तराखंड के कई पॉलिटिकल लीडर और लोकल कलाकारों के इंटरव्यू लेना और लेखन का अनुभव है। विशेष कर इन्हें आम लोगों से जुड़ी रिपोर्ट्स करना और उस पर लेख लिखना पसंद है। इसके अलावा, इन्हें बाइक चलाना, नई जगह घूमना और नए लोगों से मिलकर उनके जीवन के अनुभव जानना अच्छा लगता है।

ताज़े आलेख

scorecardresearch