केलोइड के कारण, लक्षण और घरेलू उपाय – Keloids Causes, Symptoms and Home Remedies in Hindi

Medically Reviewed By Suvina Attavar (Dermatologist & Hair transplant surgeon)
Written by
573747

त्वचा पर लगे घाव और मुंहासे समय के साथ ठीक हो जाते हैं, लेकिन उनके निशान रह जाते हैं। ऐसे निशानों को केलोइड कहा जाता है, जो देखने में भद्दे लगते हैं। जिन लोगों को मुंहासे की शिकायत रहती है, उनकी त्वचा पर ऐसे निशान नजर आना आम बात होती है। अगर आपकी त्वचा पर भी केलोइड के निशान हैं, तो यह लेख आपके लिए काम का साबित हो सकता है। इस लेख की मदद से आप केलोइड का उपचार कर सकते हैं। स्टाइलक्रेज के इस लेख में हम केलोइड के कारण और केलोइड के लक्षण के साथ-साथ केलोइड के लिए घरेलू उपाय के बारे में जानकारी देंगे।

विषय सूची


लेख विस्तार से पढ़ें

आइए, सबसे पहले जानते हैं कि केलोइड क्या होता है।

केलोइड क्या है? – What is Keloids in Hindi

केलोइड त्वचा पर होने वाला एक तरह का निशान है। यह स्कार टिश्यू के असाधारण तरीके से फैलने के कारण होता है। त्वचा के जिन हिस्सों पर केलोइड का असर होता है, वह हिस्सा त्वचा से ऊपर की तरफ उठा हुआ होता है। इसका आकार छोटा या बड़ा हो सकता है। इससे त्वचा के रंग में भी परिवर्तन आ सकता है। हालांकि, यह नुकसानदायक नहीं होता है, लेकिन इसका इलाज करना जरूरी है, क्योंकि केलोइड बिना उपचार के आपकी त्वचा से नहीं जाता है।

आगे पढ़ें

केलोइड के कारण जानने के लिए पढ़ें आर्टिकल का अगला हिस्सा।

केलोइड के कारण – Causes of Keloids in Hindi

केलोइड के कुछ ऐसे कारण हो सकते हैं, जिसके बारे में आपने कभी सोचा भी नहीं होगा। यहां हम उसी के बारे में बता रहे हैं (1):

  • मुंहासे
  • त्वचा के जलने पर
  • चिकनपॉक्स
  • कान या शरीर के किसी भाग में छेद कराने पर
  • त्वचा पर खरोंच लगने से
  • सर्जरी में कट लगने पर
  • टीकाकरण वाले स्थान पर
  • केलोइड्स आनुवांशिक भी हो सकते हैं

लक्षण जानिए

आगे हम केलोइड के लक्षणों के बारे में बता रहे हैं।

केलोइड के लक्षण – Symptoms of Keloids in Hindi

क्या आपको केलोइड के लक्षण के बारे में नहीं पता है। अगर नहीं, तो आइए हम आपको बताते हैं (1):

  • त्वचा के रंग का लाल या गुलाबी होना।
  • किसी घाव या चोट के निशान छोड़ने पर।
  • त्वचा का खुरदुरा या उभरा हुआ होना।
  • त्वचा पर अधिक खुजली होना।
  • कपड़े से त्वचा पर घर्षण होना।
  • कुछ लोगों को केलोइड्स में खुजली और दर्द भी हो सकता है।

पढ़ते रहें

केलोइड के घरेलू उपचार जानने के लिए पढ़ते रहें यह लेख।

केलोइड के घरेलू उपाय – Home Remedies for Keloids in Hindi

केलोइड के बारे में सोच कर घबराने की जरूरत नहीं है। हम आपको कुछ ऐसे घरेलू उपचार बता रहें, जो सस्ते और कारगर हैं। हालांकि, इन्हें केलोइड का उपचार समझने की भूल न करें। ये घरेलू उपाय केलोइड के लक्षणों को कम करने या केलोइड को बढ़ने से रोकने में मदद कर सकते हैं। तो केलोइड के घरलू उपाय कुछ इस प्रकार हैं :

1. सेब का सिरका

सामग्री:

  • एक चम्मच सेब का सिरका
  • एक चम्मच पानी

उपयोग की विधि:

  • सेब के सिरके और पानी को मिला लें।
  • इस मिश्रण को केलोइड वाले हिस्से पर लगा लें।
  • फिर इसे 30 मिनट के लिए छोड़ दें।
  • इसके बाद उस हिस्से को पानी से धो लें।

कितनी बार इस्तेमाल करें:

  • इस विधि को लगभग 4 सप्ताह के लिए रोजाना दोहरा सकते हैं।

कैसे है फायदेमंद:

सेब का सिरका अच्छे टोनर की तरह काम कर सकता है। यह त्वचा से गंदगी को साफ करने में मदद कर सकता है। इससे मुंहासे होने की आशंका नहीं रहती। इसमें एंटी बैक्टीरियल गुण होता है, जो त्वचा को मुंहासे से बचाता है। इसके अलावा, इसमें पाया जाने वाला लैक्टिक एसिड त्वचा को नरम करता है और धब्बे भी कम करता है (2)। इसलिए, ऐसा कहा जा सकता है कि सेब का सिरका केलोइड से छुटकारा दिला सकता है

2. एस्पिरिन

सामग्री:

  • 3-4 एस्पिरिन की गोलियां
  • पानी आवश्यकतानुसार

उपयोग की विधि:

  • सबसे पहले गोलियों को पीस लें।
  • फिर उसमें पानी मिलाकर पेस्ट तैयार कर लें।
  • अब केलोइड वाले हिस्से को साफ कर पेस्ट लगा लें।
  • फिर इसे 25 से 30 मिनट तक सूखने दें।
  • उसके बाद पानी से धो लें।

कितनी बार इस्तेमाल करें:

  • एक दिन छोड़कर इसका उपयोग करें।

कैसे है फायदेमंद:

एस्पिरिन एक तरह की दवाई है, जो केलोइड की समस्या से छुटकारा दिलाने में मददगार साबित हो सकती है। इसके उपयोग से त्वचा पर नजर आ रहे केलोइड के निशान को मिटाया जा सकता है। यह दवाई है, इसलिए इसके उपयोग से पहले डॉक्टर की सलाह लेना बेहतर होगा (3)।

3. नींबू का रस

सामग्री:

  • नींबू का रस

उपयोग की विधि:

  • नींबू के रस को प्रभावित जगह पर लगाएं।
  • फिर इसे 30 मिनट के लिए छोड़ दें।
  • इसके बाद उस क्षेत्र को गुनगुने पानी से धो लें।

कितनी बार इस्तेमाल करें:

  • दिन में दो बार इसका उपयोग कर सकते हैं।

कैसे है फायदेमंद:

केलोइड के लिए घरेलू उपाय में नींबू के रस को भी शामिल किया जा सकता है। दरअसल, नींबू के रस में एंटी ऑक्सीडेंट गुण होते हैं, जो आपकी त्वचा से फ्री रेडिकल्स को खत्म करने का काम कर सकते हैं। साथ ही खुजली , संक्रमण और मुंहासे की समस्या से भी राहत मिल सकती है (4)। इस प्रकार केलोइड की समस्या से छुटकारा पाया जा सकता है।

4. बेकिंग सोडा

सामग्री:

  • एक चम्मच बेकिंग सोडा
  • तीन चम्मच हाइड्रोजन पेरोक्साइड
  • रूई

उपयोग की विधि:

  • बेकिंग सोडा और हाइड्रोजन पेरोक्साइड को मिलाकर पेस्ट तैयार कर लें।
  • फिर रूई की सहायता से इसे केलोइड से प्रभावित क्षेत्र पर लगाएं।
  • अब इसे 20 मिनट के लिए छोड़ दें।
  • फिर पानी से धो लें।

कितनी बार इस्तेमाल करें:

  • इसे दिन में दो बार इस्तेमाल कर सकते हैं।

कैसे है फायदेमंद:

बेकिंग सोडा त्वचा से केलोइड को कम कर सकता है। यह सूजन को कम करने के साथ-साथ मुंहासे को भी दूर कर सकता है, लेकिन इस पर अभी तक कोई सटीक वैज्ञानिक शोध उपलब्ध नहीं है।

5. चंदन और गुलाब जल

सामग्री:

  • एक चम्मच चंदन पाउडर
  • आवश्यकतानुसार गुलाब जल

उपयोग की विधि:

  • चंदन पाउडर में गुलाब जल मिलाकर पेस्ट बना लें।
  • इसे सोने से पहले लगाकर कपड़े से ढक लें, ताकि पेस्ट बिस्तर पर न लगे।
  • अगली सुबह उस भाग को गुनगुने पानी से धो लें।

कितनी बार इस्तेमाल करें:

  • इसे रोज रात को उपयोग कर सकते हैं।

कैसे है फायदेमंद:

ऐसा माना जाता है कि चंदन में त्वचा को पुनर्जीवित करने वाला गुण होता है। ववहीं, गुलाब जल एक उच्च किस्म का स्किन टोनर है। इसलिए, इसका मिश्रण केलोइड को कम करने में सहायक हो सकता है। फिलहाल, इस बात की पुष्टि के लिए अभी तक किसी भी तरह की मेडिकल रिसर्च नहीं की गई है। इसलिए, आप डॉक्टर की सलाह पर ही इस घरेलू उपचार को प्रयोग करें। वैसे आपकी जानकारी के लिए बता दें कि चंदन और गुलाब जल से त्वचा को किसी प्रकार का नुकसान नहीं होता है।

6. लहसुन

सामग्री:

  • एक या दो लहसुन की कलियां

उपयोग की विधि:

  • लहसुन की कलियों को कुचल कर प्रभावित क्षेत्र पर लगाएं और 15 मिनट के लिए छोड़ दें।
  • फिर उस क्षेत्र को गुनगुने पानी से धो लें।

कितनी बार इस्तेमाल करें:

  • दिन में दो बार तक इस्तेमाल कर सकते हैं।

कैसे है फायदेमंद:

केलॉइड का इलाज लहसुन के जरिए किया जा सकता है। लहसुन में कई गुण पाए जाते हैं, जिनमें एंटीऑक्सीडेंट भी शामिल है। इसलिए, लहसुन का उपयोग कर कई तरह की त्वचा से जुड़ी समस्याओं से निजात पाया जा सकता है। इनमें केलोइड से राहत और घाव भरना भी शामिल है (5)। अभी लहसुन और केलोइड के बीच संबंध को लेकर ठोस प्रमाण की कमी है।

7. चकोतरा के बीज

सामग्री:

  • एक चम्मच पानी
  • दो से तीन बूंद चकोतरा के बीज का अर्क
  • रूई

उपयोग की विधि:

  • चकोतरा बीज के अर्क को पानी में मिलकर घोल तैयार कर लें।
  • फिर इसमें रूई को डुबोकर केलोइड से प्रभावित जगह पर लगाएं।
  • इसे लगभग घंटे भर के लिए छोड़ दें।
  • फिर पानी से धो लें।

कितनी बार इस्तेमाल करें:

  • दिन में एक बार इसका उपयोग करें।

कैसे है फायदेमंद:

केलोइड के लिए घरेलू उपाय के तौर पर आप चकोतरा का इस्तेमाल कर सकते हैं। एक शोध के अनुसार, विटामिन-सी एक प्रकार से एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण की तरह काम करता है, जो मुंहासे की समस्या से छुटकारा दिलाने के साथ-साथ घाव भरने में भी मददगार साबित हो सकता है (6)। वहीं, चकोतरा में विटामिन-सी की भरपूर मात्रा पाई जाती है (7)। इसलिए, ऐसा कहा जा सकता है कि केलोइड से छुटकारा पाने के लिए चकोतरा लाभकारी हो सकता है।

8. शहद

सामग्री:

  • शहद आवश्यकतानुसार

उपयोग की विधि:

  • शहद को प्रभावित जगह पर लगाएं।
  • फिर कुछ मिनट तक हल्की मालिश करें और करीब 30-40 मिनट के लिए छोड़ दें।
  • उसके बाद पानी से धो लें।

कितनी बार इस्तेमाल करें:

  • आप इस विधि का दिन में दो बार इस्तेमाल कर सकते हैं।

कैसे है फायदेमंद:

शहद के स्वाद से आप बेशक परिचित होंगे, लेकिन आपको बता दें कि शहद में औषधि गुण भी होता है। इसके प्रयोग से त्वचा से जुड़ी कई समस्याओं को दूर किया जा सकता है। इन समस्याओं में मुंहासे, घाव भरना और जलन शामिल है, जिससे केलोइड के निशान भी खत्म हो सकते हैं (8)।

9. एलोवेरा जेल

सामग्री:

  • एक चम्मच एलोवेरा जेल

उपयोग की विधि:

  • सबसे पहले प्रभावित क्षेत्र को गुनगुने पानी से धो लें।
  • फिर एलोवेरा जेल को लगाएं।
  • इसे करीब 30 मिनट तक लगा रहने दें।
  • उसके बाद पानी से धो लें।

कितनी बार इस्तेमाल करें:

  • आप दिन में दो बार एलोवेरा जेल लगा सकते हैं।

कैसे है फायदेमंद:

एलोवेरा जेल का उपयोग आपकी त्वचा से केलोइड के निशान को दूर कर सकता है। एक शोध के अनुसार, एलोवेरा आपके घाव को भरने के साथ-साथ केलोइड के निर्माण को भी कम करने का काम कर सकता है (9)। केलोइड के मामले में एलोवेरा को इस्तेमाल करने के संबंध में वैज्ञानिक शोध कम ही हुआ है। इसलिए, इसे इस्तेमाल करने से पहले डॉक्टर की सलाह जरूरी है।

10. पेट्रोलियम जेली

सामग्री:

  • एक चम्मच पेट्रोलियम जेली

उपयोग की विधि:

  • सबसे पहले प्रभावित क्षेत्र को साफ कर लें।
  • फिर पेट्रोलियम जेली को लगाकर हल्की मालिश कर लें।

कितनी बार इस्तेमाल करें:

  • दिन में 3 से 4 बार इसका इस्तेमाल कर सकते हैं।

कैसे है फायदेमंद:

केलोइड के निशान से निपटने के लिए उसे हर समय हाइड्रेट रखना जरूरी है। इस काम में पेट्रोलियम जेली आपकी मदद कर सकती है। पेट्रोलियम जेली में त्वचा को पर्याप्त मॉइस्चर देने का गुण पाया जाता है। इस प्रकार केलोइड से छुटकारा पाने में पेट्रोलिय जेली फायदेमंद साबित हो सकती है (10)।

11. प्याज का रस

सामग्री:

  • एक सफेद प्याज
  • रूई

उपयोग की विधि:

  • प्याज को पीसकर रस निकाल लें।
  • फिर इसे रूई की सहायता से केलोइड वाले निशान पर लगाएं।
  • इसे धोने की जरूरत नहीं है।

कितनी बार इस्तेमाल करें:

  • दिन में 3 से 4 बार तक इस्तेमाल कर सकते हैं।

कैसे है फायदेमंद:

एक रिसर्च के अनुसार, प्याज के अर्क का उपयोग करके केलोइड्स के निशान को मिटाने में लाभकारी हो सकता है। एक मेडिकल रिसर्च में भी इस बात की पुष्टि की गई है कि केनोइड से निपटने के लिए प्याज का रस गुणकारी पदार्थ है (11)। 

लेख अभी बाकी है

केलोइड से निपटने के घरेलू उपचार जानने के बाद अब केलोइड से बचने के उपाय भी जान लेते हैं।

केलोइड से बचने के उपाय – Prevention Tips for Keloids in Hindi

अगर कुछ बातों का ध्यान रखा जाए, तो केलोइड को होने से रोका जा सकता है। यहां हम कुछ ऐसे ही काम के टिप्स दे रहे हैं :

  • शरीर में टैटू न बनवाएं।
  • त्वचा को साफ-सुथरा रखें।
  • त्वचा पर खरोंच लगने या उसे छिलने से बचाएं।
  • धूप में निकलने से पहले त्वचा को कपड़े से अच्छी तरह ढक लें।
  • कान के ऊपरी हिस्से पर छेद करने से बचें।

अब आप केलोइड के निशान को देखकर परेशान न हों, बल्कि इस लेख में बताए गए घरेलू उपचारों को अपनाएं। भले ही यह किसी बड़ी बीमारी का कारण न बने, लेकिन आपकी खूबसूरती पर दाग जैसा तो बन ही जाता है, जो आपके लिए शर्मिंदा होने का कारण बन सकता है। इसलिए, ऊपर बताए गए घरेलू उपचार को अपनाएं और केलोइड के निशान को मिटाएं। हम उम्मीद करते हैं कि आप इस लेख में दी गई जानकारी को उपयोग में लाकर अपने केलोइड के निशान को कम करने में सफल होंगे।

Sources

Stylecraze has strict sourcing guidelines and relies on peer-reviewed studies, academic research institutions, and medical associations. We avoid using tertiary references. You can learn more about how we ensure our content is accurate and current by reading our editorial policy.

और पढ़े:

Was this article helpful?
The following two tabs change content below.

Suvina Attavar (Dermatologist & Hair transplant surgeon)

()
Dr. Suvina Attavar - I have a thirst for learning and a passion for Dermatology, Cosmetology and hair transplantation. I am well versed with lasers, chemical peels, and other minor dermatologic procedures. I have been doing hair transplants since 2018.  I have written articles on dermatology topics for Residream during my residency as well as for practo and icliniq. 

ताज़े आलेख

573747