खाली पेट घी खाने के फायदे – Subah Khali Pet Ghee Khane ke Fayde

Written by

भारतीय रसोई और पकवानों में देसी घी को अव्वल दर्जा मिला हुआ है। इसका इस्तेमाल खाना बनाने से लेकर दाल, सब्जी या रोटी में ऊपर से सर्व करने के लिए भी किया जाता है। घर के बड़े बुजुर्ग देसी घी खाने के लाभ के बारे में अक्सर चर्चा करते हैं, लेकिन क्या आपने कभी सुबह खाली पेट देसी घी खाने के बारे में सुना है। अगर नहीं, तो इसकी जानकारी आप स्टाइलक्रेज के इस लेख में पढ़ सकते हैं। यहां सुबह खाली पेट घी खाने के फायदे के साथ ही, इसके खाने के तरीके और नुकसान के बारे में भी विस्तार से चर्चा की गई है। देसी घी का इस्तेमाल स्वास्थ्य के लिए किस तरह लाभकारी हो सकता है, जानने के लिए इस लेख को अंत तक जरूर पढ़ें।

शुरू करें

सुबह खाली पेट देसी घी खाने के फायदे जानने के लिए नीचे स्क्रॉल करें।

सुबह खाली पेट देसी घी खाने के फायदे – Benefits of Eating Ghee on Empty Stomach in Hindi

लेख शुरू करने से पहले यहां स्पष्ट कर दें कि खाली पेट घी खाने के फायदे को लेकर सटीक शोध की कमी है। ऐसे में यहां हम घी खाने के फायदों के आधार पर खाली पेट घी के फायदों से जुड़ी जानकारी साझा कर रहे हैं। ध्यान रखें कि किसी स्वास्थ्य स्थिती से राहत और बचाव के लिए इसका इस्तेमाल घरेलू उपचार के तौर पर किया जा सकता है। किसी भी रोग के लिए इसे पूर्ण इलाज न समझें। गंभीर स्वास्थ्य समस्या होने पर डॉक्टरी इलाज करवाएं।

1. वजन घटाए

वजन कम करने की डाइट में देसी घी शामिल किया जा सकता है। एनसीबीआई (नेशनल सेंटर फॉर बायोटेक्नोलॉजी इंफॉर्मेशन) की एक रिसर्च के अनुसार, गाय का घी वजन घटाने में मदद कर सकता है। दरअसल, अन्य फैट और तेल जहां पाचन क्रिया धीमी कर सकते हैं, वहीं गाय का घी पेट में एसिड को उत्तेजित कर पाचन को मजबूत करने में मदद कर सकता है। इससे शरीर में भोजन आसानी से अवशोषित यानी पच सकता है (1)। इस वजह से वजन घटाने के लिए खाली पेट देसी घी खाना लाभकारी माना जा सकता है।

2. मस्तिष्क के लिए

आयुर्वेद के अनुसार, गाय का घी सीखने और स्मृति शक्ति को बढ़ावा देने में मदद करता है, जिससे मानसिक क्रिया बेहतर हो सकती है। शायद यही वजह है कि आयुर्वेद में घी का सेवन स्मरण शक्ति बढ़ाने वाले एक ब्रेन टॉनिक के रूप में किया जाता रहा है। इसकी पुष्टि एनसीबीआई के एक शोध से में की गई है (1)। वहीं, एनसीबीआई के एक अन्य अध्ययन के अनुसार, घी ओमेगा-3 फैटी एसिड से समृद्ध होता है, जो मस्तिष्क के विकास में मदद कर सकता (2)

मस्तिष्क के लिए घी के इस लाभ को बढ़ाने के लिए इसमें अपराजिता या वच (​कैलामस) का मिश्रण भी किया जा सकता है। दरअसल, आयुर्वेद में इसका भी जिक्र मिलता है कि 1 से 3 ग्राम अपराजिता की जड़ या 500 मिलीग्राम वच (​कैलामस) के पेस्ट में घी मिलाकर खाने से याददाश्त बढ़ाने में मदद मिल सकती है (3)। इस आधार पर कहा जा सकता है, खाली पेट घी खाना मस्तिष्क के लिए अच्छा हो सकता है।

3. कैंसर के लिए

कैंसर जैसी गंभीर बीमारी से बचाव करने के लिए भी खाली पेट घी खाना लाभकारी हो सकता है, जिसकी पुष्टि दो अलग-अलग रिसर्च पेपर से होती है। एक शोध में जिक्र मिलता है कि घी में मौजूद लिनोलिक एसिड (Conjugated Linoleic Acids) में एंटी कैंसर (Anti-Cancer) प्रभाव होता है, जिस वजह से यह कैंसर से सुरक्षा करने में मदद कर सकता है (4)

वहीं, एनसीबीआई पर प्रकाशित एक अन्य शोद के अनुसार, घी में कार्सिनोजन (Carcinogenesis) यानी कैंसर के असर को कम करने और कैंसर के ट्यूमर को रोकने वाले गुण होते हैं। इस वजह से घी के सेवन से स्तन कैंसर के जोखिम कम किया जा सकता है। साथ ही, घी में मौजूद लिनोलिक एसिड (CLA) कोलन कैंसर को रोकने में भी सहायक हो सकता है (5)। ध्यान रहे कि कैंसर एक घातक बीमारी है। अगर किसी को कैंसर होता है, तो उचित डॉक्टरी इलाज कराएं।

4. हड्डियों के लिए

शरीर में विटामिन के की कमी हड्डियों का घनत्व (BMD) कम कर सकती है, जिस वजह से हड्डियों के टूटने का जोखिम अधिक हो सकता है (6)। वहीं, एनसीबीआई की वेबसाइट पर उपलब्ध एक शोध के अनुसार, घी विटामिन के से समृद्ध होता है, जो हड्डियों को मजबूत बनाने व उनके विकास में अहम भूमिका निभा सकता है (7)। ऐसे में अगर किसी को कमजोर हड्डियों की समस्या है, तो उनके लिए आहार में घी शामिल करना लाभकारी हो सकता है। इसके लिए सुबह खाली पेट घी का सेवन करना एक बेहतर विकल्प माना जा सकता है।

5. त्वचा के लिए

आयुर्वेद में घी के कई उपयोगों का जिक्र मिलता है, उन्हीं में त्वचा के लिए घी का इस्तेमाल शामिल है। घी न सिर्फ एलर्जी की समस्या बल्कि, त्वचा से जुड़े रोगों के उपचार में भी लाभकारी हो सकता है। एनसीबीआई पर उपलब्ध एक शोध के अनुसार, घी के सेवन से ड्राई स्किन, त्वचा की लालिमा और त्वचा की खुजली जैसी समस्याओं से राहत मिल सकती है। इसके अलावा यह स्किन सोरायसिस के उपचार में भी प्रभावकारी हो सकता है (8)। इस आधार पर हम यह कह सकते हैं कि त्वचा के लिए खाली पेट घी के सेवन के फायदे देखे जा सकते हैं।

6. बालों के लिए

बालों का झड़ना कम करना व इनके विकास को बढ़ावा देने के लिए विटामिन ए व ई जैसे कई पोषक तत्व आवश्यक माने जाते हैं (9)। वहीं, घी विटामिन ए और विटामिन ई जैसे एंटीऑक्सीडेंट्स से समृद्ध होता है (1)। इस आधार पर यह माना जा सकता है कि खाली पेट घी पीने के फायदे बालों या स्कैल्प से जुड़ी समस्याओं को भी काफी हद तक कम कर सकते हैं।

स्क्रॉल करें

अब पढ़ें खाली पेट घी खाने का तरीका।

खाली पेट घी खाने का तरीका

खाली पेट घी कैसे खाएं, यह जानने के लिए आप यह भाग पढ़ सकते हैं। यहां सुबह खाली पेट घी खाने का तरीका और इसकी मात्रा बताई गई है।

  • खाली पेट घी पीने के फायदे पाने के लिए एक गिलास दूध में एक चम्मच घी मिलाकर उसका सेवन किया जा सकता है।
  • एक चम्मच शहद में एक चम्मच घी मिलाकर खाया जा सकता है।
  • सुबह खाली पेट घी खाने के फायदे पाने के लिए गुनगुने पानी में एक चम्मच चीनी और घी मिलाकर पी सकते हैं।
  • पानी, काली मिर्च, चीनी और अदरक की चाय में घी मिलाकर पिया जा सकता है।
  • मांसपेशियों में दर्द होने पर दिन में एक से दो बार 1 ग्राम की मात्रा तक घी और चीनी का सेवन गुनगुने दूध या पानी के साथ किया जा सकता है (10)
  • आयुर्वेद में जिक्र है कि रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए सुबह और शाम नाक से घी लिया जा सकता है (10)
  • उल्टी रोकने के लिए 200 से 250 ग्राम भूने हुए इलायची पाउडर और शहद के साथ घी का सेवन किया जा सकता है (11)
  • भूख बढ़ाने के लिए हींग और जीरा पाउडर के साथ घी का सेवन कर सकते हैं (11)
  • पेचिश होने पर घी में कटा हुआ सफेद प्याज भूनकर चावल के साथ सेवन किया जा सकता है (11)

खाने की मात्रा : प्रतिदिन 125 मिलीग्राम से 6 ग्राम की मात्रा तक देशी घी का सेवन किया जा सकता है (10)। हालांकि, यह मात्रा हर किसी के लिए अलग हो सकती है। घी का कितनी मात्रा में सेवन किया जाए, इसके लिए आहार विशेषज्ञ से परामर्श कर सकते हैं।

अंत तक पढ़ें

आखिरी भाग में पढ़ें खाली पेट घी खाने के नुकसान।

खाली पेट घी खाने के नुकसान – Side Effects of Eating Ghee on Empty Stomach In Hindi

सुबह खाली पेट देसी घी खाने के फायदे कई हैं। हालांकि, कुछ स्थितियों में खाली पेट घी खाने के नुकसान भी हो सकते हैं, जिनके बारे में नीचे बता रहे हैं।

  • आयुर्वेद के अनुसार, घी की अधिकता से विषाक्ता हो सकती है। अगर शहद के साथ घी की अधिक मात्रा का सेवन किया जाए, तो इससे शरीर में ग्लाइकेशन बढ़ सकता है, जो वजन बढ़ने और बालों के झड़ने का कारण बन सकता है (2)। बता दें, ग्लाइकेशन एक प्रकार का एंजाइम होता है।
  • अत्यधिक तापमान (200°C) पर गर्म किया घी खाने से भी दुष्प्रभाव हो सकते हैं (7)
  • प्रति 100 ग्राम घी में 4000 IU विटामिन ए की मात्रा होती है (12)। वहीं, विटामिन ए की अधिकता से विषाक्ता हो सकती है। यह जन्म दोष और त्वचा में पीलापन का जोखिम भी बढ़ा सकता है (13)
  • घी का ज्यादा सेवन करने से शरीर में कोलेस्ट्रॉल का स्तर बढ़ सकता है (4)। इस वजह से यह हृदय रोगों का जोखिम बढ़ा सकता है (14)
  • अधिक मात्रा में घी का सेवन करने से अपच और दस्त की समस्या हो सकती है (15)।
  • मोटापे और टीबी (Tuberculosis) की समस्या वाले लोगों को घी के सेवन से परहेज करना चाहिए (16)

दोस्तों, उम्मीद करते हैं कि इस आर्टिकल में बताए गए खाली पेट घी पीने के फायदे आपके लिए लाभकारी साबित होंगे। अगर आप घरेलू तौर पर सुबह खाली पेट घी खाने के फायदे पाना चाहते हैं, तो लेख में बताए गए तरीकों से अपने आहार में घी को शामिल कर सकते हैं। ध्यान रखें कि इस दौरान घी का अधिक मात्रा में सेवन न करें। ध्यान रखें कि अगर स्वास्थ्य से जुड़ी कोई गंभीर परेशानी है, तो डॉक्टरी सलाह अपनाएं और उसी आधार पर आहार में घी शामिल करें। साथ ही आप इस लेख में दी गई जानकारी को अन्य लोगों के साथ साझा कर उन्हें भी खाली पेट घी खाने के फायदे से वाकिफ करा सकते हैं।

अक्सर पूछे जाने वाले सवाल

सुबह के समय घी कैसे पिएं?

सुबह के समय घी कैसे पी सकते हैं, इसकी जानकारी नीचे पढ़ें।

  • एक चम्मच घी गुनगुना करें।
  • जब घी पिघल जाए, तो इसका सेवन करें।
  • सुबह खाली पेट घी पीने के बाद कुछ भी खाने पीने के लिए 30 मिनट का इंतजार करें।
  • 30 मिनट बाद आप ब्रेकफास्ट कर सकते हैं।

वजन घटाने के लिए घी कब खाना चाहिए?

अगर वजन घटाने के लिए घी का सेवन करना चाहते हैं, तो सुबह खाली पेट एक चम्मच गुनगुना घी पी सकते हैं। इसके अलावा, रोजाना आहार में एक चम्मच घी शामिल करके भी वजन कम करने में मदद हो सकती है।

क्या प्रतिदिन खाली पेट घी पीना अच्छा है?

हां, अगर सीमित मात्रा में प्रतिदिन खाली पेट घी का सेवन किया जाए, तो यह लाभकारी माना जा सकता है। हालांकि, किसी भी चीज की अधिकता सेहत के लिए हानिकारक हो सकती है। इसलिए अधिक मात्रा में घी का सेवन करने से बचें।

Sources

Articles on StyleCraze are backed by verified information from peer-reviewed and academic research papers, reputed organizations, research institutions, and medical associations to ensure accuracy and relevance. Read our editorial policy to learn more.

  1. Comparison between the Effect of Cow Ghee and Butter on Memory and Lipid Profile of Wistar Rats
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC5071963/
  2. Toxicity profile of honey and ghee, when taken together in equal ratio
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC7235625/
  3. Ayurveda offering Herbal Healing
    https://www.esic.nic.in/attachments/publicationfile/7d11b02e5abb4717d53b4ce05efabd21.pdf
  4. Ghee : Its Properties, Importance and Health Benefits
    https://www.researchgate.net/publication/339499398_Ghee_Its_Properties_Importance_and_Health_Benefits
  5. Effects of cow ghee (clarified butter oil) & soybean oil on carcinogen-metabolizing enzymes in rats
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC3510893/
  6. Vitamin K treatment reduces undercarboxylated osteocalcin but does not alter bone turnover, density, or geometry in healthy postmenopausal North American women
    https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/19113922/
  7. Studying heating effects on desi ghee obtained from buffalo milk using fluorescence spectroscopy
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC5947909/
  8. The effect of ghee (clarified butter) on serum lipid levels and microsomal lipid peroxidation
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC3215354/
  9. The Role of Vitamins and Minerals in Hair Loss: A Review
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC6380979/
  10. GUIDELINES for AYURVEDA PRACTITIONERS for COVID 19
    https://www.ayush.gov.in/docs/ayurved-guidlines.pdf
  11. AYURVEDIC HOME REMEDIES
    http://www.ccras.nic.in/sites/default/files/II%20Ayurveda%20Day/Ayurvedic%20%20Home%20Remedies%20English.pdf
  12. Butter, Clarified butter (ghee)
    https://fdc.nal.usda.gov/fdc-app.html#/food-details/171314/nutrients
  13. Vitamin A
    https://medlineplus.gov/ency/article/002400.htm
  14. Cholesterol
    https://medlineplus.gov/cholesterol.html
  15. The red mixture
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC2335272/
  16. The Versatility of Cow Ghee- An Ayurveda Perspective
    https://www.imedpub.com/articles/the-versatility-of-cow-ghee-an-ayurvedaperspective.pdf
Was this article helpful?
The following two tabs change content below.
अर्पिता ने पटना विश्वविद्यालय से मास कम्यूनिकेशन में स्नातक किया है। इन्होंने 2014 से अपने लेखन करियर की शुरुआत की थी। इनके अभी तक 1000 से भी ज्यादा आर्टिकल पब्लिश हो चुके हैं। अर्पिता को विभिन्न विषयों पर लिखना पसंद है, लेकिन उनकी विशेष रूचि हेल्थ और घरेलू उपचारों पर लिखना है। उन्हें अपने काम के साथ एक्सपेरिमेंट करना और मल्टी-टास्किंग काम करना पसंद है। इन्हें लेखन के अलावा डांसिंग का भी शौक है। इन्हें खाली समय में मूवी व कार्टून देखना और गाने सुनना पसंद है।

ताज़े आलेख