खाली पेट तुलसी के पत्ते खाने के फायदे – Khali Pet Tulsi Khane Ke Fayde in Hindi

Written by , (शिक्षा- एमए इन जर्नलिज्म मीडिया कम्युनिकेशन)

तुलसी ऐसा दिव्य पौधा है, जो कई मर्ज की दवा साबित हो सकता है। इसके औषधीय गुणों के कारण सदियों से इसका उपयोग आयुर्वेद में दवाई के रूप में किया जाता रहा है। अगर रोज सुबह तुलसी का पत्ता खाने की आदत डाल ली जाए, तो सेहतमंद रहने में मदद मिल सकती है। इसी वजह से स्टाइलक्रेज के इस लेख में हम सुबह खाली पेट तुलसी खाने के फायदे बता रहे हैं। साथ ही सावधानी के तौर पर अधिक तुलसी का सेवन करने से होने वाले नुकसान की भी जानकारी देंगे। बस तो सुबह खाली पेट तुलसी के पत्ते खाने से फायदे और नुकसान आगे पढ़ें।

स्क्रॉल करें

लेख में सबसे पहले जानते हैं कि सुबह खाली पेट तुलसी का पत्ता खाने के फायदे क्या-क्या हो सकते हैं।

खाली पेट तुलसी खाने के फायदे – Benefits of Eating Tulsi on Empty Stomach in Hindi

खाली पेट तुलसी खाने के फायदे अनेक हैं। तुलसी कई तरह की शारीरिक समस्याओं को दूर करने में मदद कर सकती है (1)। चलिए, नीचे विस्तार से सुबह खाली पेट तुलसी के पत्ते खाने के फायदे जानते हैं।

1. एंटीमाइक्रोबियल प्रभाव

एनसीबीआई (नेशनल सेंटर फॉर बायोटेक्नोलॉजी इंफॉर्मेशन) की वेबसाइट पर पब्लिश एक रिसर्च पेपर के मुताबिक, तुलसी में एंटीमाइक्रोबियल गतिविधि होती है। अपने इस प्रभाव के कारण तुलसी बैक्टीरिया से होने वाले संक्रमण से बचाव में मदद कर सकती है। यह प्रभाव बैक्टीरिया को खत्म करके डेंटल प्लाक (दातों पर जमने वाली परत) को साफ कर सकता है (2)।

इतना ही नहीं, तुलसी में मौजूद यह एंटीमाइक्रोबियल गतिविधि पेट में बनने वाले ई.कोली (E. coli) बैक्टीरिया को पनपने से रोक सकती है। साथ ही इससे पेट में होने वाले कीड़े की समस्या को कम करने में भी मदद मिल सकती है। इसके लिए बस तुलसी की चाय या रस का सेवन शहद के साथ करना होगा (3)।

2. खांसी में फायदेमंद

तुलसी को खांसी से राहत पाने का तरीका माना जा सकता है (4)। इसी वजह से खांसी को कम करने वाले कफ सिरप में भी तुलसी का इस्तेमाल होता है, क्योंकि इसमें एक्सपेक्टोरेन्ट प्रभाव होता है। तुलसी के ये प्रभाव गले से बलगम को निकालकर खांसी से राहत दिला सकता है (5)।

इसके अलावा, तुलसी में मौजूद एंटी बैक्टीरियल प्रभाव भी खांसी और सर्दी की समस्या को ठीक करने में सहायक माना जाता है (6)। इसके लिए सीधे तुलसी के पत्तों से बनी चाय या फिर गर्म पानी में तुलसी डालकर भाप ले सकते हैं  (7)।

3. अच्छी नींद के लिए

अगर किसी को चिंता या तनाव के कारण नींद नहीं आती, तो तुलसी का इस्तेमाल किया जा सकता है। एक रिसर्च के मुताबिक, तुलसी में मौजूद एंटी-एंग्जाइटी और एंटी-डिप्रेसेंट गुण की वजह से इसका सेवन करने वालों की नींद की गुणवत्ता में सुधार हो सकता है। इसी वजह से तुलसी को अनिद्रा की समस्या को दूर करने का तरीका भी माना जाता है (8)।

4. पाचन के लिए

खराब खानपान से पेट संबंधी परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है। ऐसे में तुलसी का सेवन फायदेमंद साबित हो सकता है। एक शोध में पाया गया कि तुलसी का सेवन लैक्टोबैसिलस, बिफीडोबैक्टीरिया एसपीपी जैसे लाभकारी बैक्टीरिया को बढ़ाने में मदद करके पाचन में सहायता कर सकता है (9)।

इसके अलावा, एक अन्य रिसर्च के अनुसार, तुलसी पाचन एंजाइम्स का स्राव यानी सिक्रीशन में सहायक होती है। यह एंजाइम्स पेट में खाना पचाने में और पेट फूलने की समस्या को कम करने में मदद कर सकते हैं (10)।

5. वजन कम करने में फायदेमंद

वजन व चर्बी कम करने के तरीके में तुलसी का सेवन भी शामिल है। इंडियन जर्नल ऑफ क्लिनिकल बायोकेमिस्ट्री के रिसर्च में भी यह बात साबित हुई है। शोध के अनुसार, रोजाना दो बार 250 मिलीग्राम तुलसी के अर्क से बने कैप्सूल का सेवन करने वाले चूहों के वजन में कमी देखी गई। इस आधार पर कहा जा सकता है कि तुलसी के रस का सेवन करने से बढ़ते वजन और चर्बी को कम किया जा सकता है (1)। स्टडी में यह बात स्पष्ट नहीं है कि तुलसी के कौन-से गुण के कारण ऐसा होता है।

6. इम्यूनिटी बढ़ाने के लिए

कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली के कारण कई प्रकार के संक्रमण और बीमारी की आशंका हो सकती है (11)। इस समस्या को दूर करने के लिए जरूरी है कि प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत बनाया जाए और इसके लिए तुलसी का सेवन फायदेमंद हो सकता है (8)। 

शोध के मुताबिक, तुलसी का इम्यूनोमॉड्यूलेटरी प्रभाव इम्यून सिस्टम की कार्यप्रणाली को बेहतर कर सकता हैं। इसके कारण अस्थमा जैसी बीमारी का उपचार करने में भी तुलसी लाभदायक मानी गई है (8)। इसके लिए तुलसी के पत्ते को सीधे खा सकते हैं या फिर तुलसी का काढ़ा बनाकर उपयोग में लाया जा सकता है।

7. मुंह की बदबू को दूर करे

तुलसी खाने के फायदे मुंह की बदबू आने की समस्या में भी देखे जा सकते हैं। माना जाता है कि कीटाणुओं और बैक्टीरिया के कारण दांतों की कैविटी, प्लाक के साथ ही सांसों की बदबू की समस्या भी हो सकती है। वहीं, रिसर्च में इस बात का जिक्र मिलता है कि तुलसी एक माउथ फ्रेशनर और ओरल डिसइंफेक्टेंट है, जो मुंह को लंबे समय तक फ्रेश रखने और ओरल समस्याओं में लाभदायक हो सकता है (12)।

8. तनाव को दूर करे

तनाव को कम करने के उपाय में तुलसी को शामिल किया जा सकता है। रिसर्च के अनुसार, तुलसी में एटी स्ट्रेस प्रभाव होता है, जो तनाव की स्थिति को कम कर सकता है। साथ ही यह स्ट्रेस के कारण होने वाली समस्याओं को कम करने में भी मददगार माना जाता है। यही नहीं, इसमें मौजूद एंटी-एंग्जाइटी और एंटी-डिप्रेसेंट गतिविधि चिंता और डिप्रेशन को कुछ हद तक कम कर सकते हैं (8)।

9. त्वचा के लिए

त्वचा को स्वस्थ रखने के लिए भी तुलसी का सेवन लाभदायक हो सकता है। इसका उपयोग त्वचा संबंधी कई समस्याओं में किया जा सकता है, जिनमें त्वचा संक्रमण और घाव के संक्रमण शामिल हैं (8)। एक अन्य शोध में पाया गया कि त्वचा पर हो रहे एक्ने को कम करने के लिए तुलसी के तेल का उपयोग किया जा सकता है। इसका जिक्र नेशनल लाइब्रेरी ऑफ मेडिसिन द्वारा प्रकाशित एक अध्ययन में भी मिलता है (13)। 

वहीं, त्वचा से जुड़ी अन्य गंभीर समस्या जैसे एक्जिमा (त्वचा पर लाल और खुजलीदार चकत्ते) से आराम पाने में भी तुलसी फायदेमंद हो सकती है। दरअसल, एक्जिमा का एक कारण ऑक्सीडेटिव स्ट्रेस होता है और तुलसी के एंटीऑक्सीडेंट इसके लक्षणों को कम करने में सहायक माने जाते हैं (14)।

पढ़ना जारी रखें

अब जानते हैं कि खाली पेट तुलसी का सेवन कैसे करना चाहिए।

खाली पेट तुलसी खाने का तरीका

सुबह खाली पेट तुलसी खाने के फायदे पाने का सबसे बेहतर तरीका इसकी पत्तियों को धोकर सीधे खाना है। इसके अलावा, हम नीचे तुलसी का सेवन करने के अन्य तरीकों के बारे में बता रहे हैं।

  • अदरक और शहद के साथ तुलसी के पत्तों को मिलाकर हर्बल चाय बनाई जा सकती है। खाली पेट तुलसी के पत्तों की चाय सेहत के लिए बहुत फायदेमंद होती है।
  • जूस या मॉकटेल में भी तुलसी की पत्तियों का उपयोग किया जा सकता है।
  • सलाद में भी तुलसी के ताजे पत्तों को काटकर मिक्स कर सकते हैं।
  • खाली पेट तुलसी के रस को शहद के साथ खा सकते हैं।
  • तुलसी का काढ़ा बनाकर खाली पेट पी सकते हैं।
  • रोज सुबह खाली पेट तुलसी की पत्तियों को चबाकर भी खा सकते हैं।
  • खाने में हरे धनिया की तरह तुलसी के पत्तों को मिलाकर भी खा सकते हैं।

लेख में बने रहें

तुलसी के फायदे के साथ-साथ तुलसी खाने के नुकसान भी हो सकते हैं। चलिए, जानते हैं इसके बारे में।

खाली पेट तुलसी खाने के नुकसान – Side Effects of Tulsi on Empty Stomach In Hindi

तुलसी का सेवन सीमित मात्रा में ही करना चाहिए, नहीं तो सुबह खाली पेट तुलसी खाने के फायदे की जगह नुकसान हो सकते हैं। इसी वजह से हम आगे खाली पेट तुलसी खाने के नुकसान के बारे में बता रहे हैं (14)।

  • तुलसी गर्भावस्था में सुरक्षित है या नहीं, यह स्पष्ट नहीं है। इसी वजह से गर्भवती और स्तनपान कराने वाली महिलाओं को इसका सेवन डॉक्टर की सलाह पर ही करना चाहिए।
  • तुलसी में एंटीफर्टिलिटी प्रभाव होता है। इस वजह से तुलसी का अधिक उपयोग करने से पुरुषों के स्पर्म काउंट कम हो सकते हैं।
  • मधुमेह की दवाओं का सेवन करने वालों को भी तुलसी के उपयोग से बचना चाहिए। इससे शरीर में रक्त शर्करा का स्तर कम हो सकता है।

सुबह खाली पेट तुलसी के पत्ते खाने से फायदे से जुड़ी सारी जानकारी इस लेख में हमने वैज्ञानिक रिसर्च के आधार पर दी है। बस, तो रोजाना खाली पेट तुलसी के पत्ते खाने के फायदे पाने और सेहतमंद रहने के लिए इसका सेवन शुरू कर दें। अगर घर में तुलसी का पौधा नहीं है, तो जल्दी से इसे खरीद कर ले आएं। यह पूरे परिवार को स्वस्थ बनाए रख सकती है। हां, इसके कुछ नुकसान भी हैं, इसलिए सेवन की मात्रा को लेकर थोड़ी सावधानी जरूर बरतें।

अक्सर पूछे जाने वाले सवाल

क्या तुलसी का पानी रोज पिया जा सकता है?

हां, तुलसी का काढ़ा व पानी का सेवन रोज किया जा सकता है। इससे पेट और श्वसन संबंधी समस्याओं से बचाव हो सकता है (15)

क्या तुलसी के पत्तों को सुबह और शाम खाया जा सकता है?

हां, तुलसी के पत्तों का सेवन सुबह और शाम के समय किया जा सकता हैं। ध्यान दें कि तुलसी के पत्तों को शाम के समय नहीं तोड़ा जाता, इसलिए इसे खाने के लिए दिन में ही तोड़कर रख लें।

क्या खाली पेट तुलसी का सेवन किया जा सकता है?

हां, खाली पेट तुलसी का सेवन किया जा सकता है(1)

सुबह खाली पेट तुलसी का पत्ता खाने के फायदे क्या हैं?

सुबह खाली पेट तुलसी का पत्ता खाने के कई फायदे हो सकते हैं, जिनमें माेटापा, कोलेस्ट्रॉल, मधुमेह, दस्त, आंखों से संबंधी परेशानी, स्किन डिजीज और मेटाबोलिक सिंड्रोम जैसी समस्या को दूर करना शामिल है (1)। तुलसी के और भी कई फायदे देखे गए हैं, जिनके बारे में हमने लेख में विस्तार से बताया है।

संदर्भ (Sources)

Articles on StyleCraze are backed by verified information from peer-reviewed and academic research papers, reputed organizations, research institutions, and medical associations to ensure accuracy and relevance. Read our editorial policy to learn more.

  1. Effect of Tulsi (Ocimum sanctum Linn.) Supplementation on Metabolic Parameters and Liver Enzymes in Young Overweight and Obese Subjects
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC5539010/
  2. Anti-microbial Activity of Tulsi {Ocimum Sanctum (Linn.)} Extract on a Periodontal Pathogen in Human Dental Plaque: An Invitro Study
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC4843387/
  3. “Tulsi” – the Wonder Herb (Pharmacological Activities of Ocimum Sanctum)
    https://www.imedpub.com/articles/tulsi–the-wonder-herb-pharmacologicalactivities-of-ocimum-sanctum.pdf
  4. The Clinical Efficacy and Safety of Tulsi in Humans: A Systematic Review of the Literature
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC5376420/
  5. A comparative study to assess the effect of steam inhalation v/s Tulsi leaves inhalation on the sign and symptoms of cold and cough among adult group in selected areas of Pune city
    https://www.researchgate.net/publication/317593286_A_comparative_study_to_assess_the_effect_of_steam_inhalation_vs_Tulsi_leaves_inhalation_on_the_sign_and_symptoms_of_cold_and_cough_among_adult_group_in_selected_areas_of_Pune_city
  6. Pharmacological Actions of Ocimum sacntum– Review Article
    http://www.ijapbc.com/files/27-1332.pdf
  7. Antioxidant Activity of The Ancient Herb, Holy Basil in CCl4-Induced Liver Injury in Rats
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC4766851/
  8. Tulsi – Ocimum sanctum: A herb for all reasons
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC4296439/
  9. Nutrigenomic evaluation of garlic (Allium sativum) and holy basil (Ocimum sanctum) leaf powder supplementation on growth performance and immune characteristics in broilers
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC5301171/
  10. Traditional Indian Herbal Plants Tulsi and Its Medicinal Importance
    https://www.researchgate.net/profile/Debjit-Bhowmik-3/publication/325987440_Review_Article_Traditional_Indian_Herbal_Plants_Tulsi_and_Its_Medicinal_Importance/links/5b31cc4e0f7e9b0df5cb9961/Review-Article-Traditional-Indian-Herbal-Plants-Tulsi-and-Its-Medicinal-Importance.pdf
  11. Immune System and Disorders
    https://medlineplus.gov/immunesystemanddisorders.html
  12. Estimation of salivary and tongue coating pH on chewing household herbal leaves: A randomized controlled trial
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC3807960/
  13. Evaluation of in vitro antimicrobial activity of Thai basil oils and their micro-emulsion formulas against Propionibacterium acnes
    https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/18492147/
  14. Ocimum sanctum Linn. A reservoir plant for therapeutic applications: An overview
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC3249909/
  15. Therapeutic benefits of holy basil (TULSI) in general and oral medicine: A review
    https://www.researchgate.net/publication/269846832_Therapeutic_benefits_of_holy_basil_TULSI_in_general_and_oral_medicine_A_review
Was this article helpful?
The following two tabs change content below.

ताज़े आलेख