कोम्बुचा चाय के फायदे और नुकसान – Kombucha Tea Benefits and Side Effects in Hindi

by

विश्व के अधिकांश देशों में चाय पीने का चलन है। हालांकि, चाय के प्रकार और इसे पीने के तरीकों में भिन्नता जरूर देखी जा सकती है। भारत की बात करें तो यहां दूध से बनी चाय पीने वालों की संख्या अधिक है। लेकिन, समय के साथ-साथ लोग अब हर्बल चाय के प्रति भी अपनी दिलचस्पी दिखा रहे हैं, जिनमें एक नाम ‘कोम्बुचा चाय’ का भी है। माना जाता है कि यह चाय कई स्वास्थ्य समस्याओं पर सकारात्मक प्रभाव दिखा सकती है। इसलिए, स्टाइलक्रेज के इस लेख में हम कोम्बुचा चाय के औषधीय गुणों की जानकारी देने जा रहे हैं।
इस लेख के जरिए आप शरीर के लिए कोम्बुचा चाय के फायदे, कोम्बुचा चाय का उपयोग और साथ ही इसके नुकसान के बारे में जान पाएंगे। लेकिन, इस बात का ध्यान रखें कि कोम्बुचा चाय लेख में बताई गई किसी भी बीमारी का सटीक इलाज नहीं है। यह इन समस्याओं के लक्षण और इनके प्रभाव को कम करने में एक सहायक भूमिका निभा सकती है।

आइए, सबसे पहले जान लेते हैं कि कोम्बुचा चाय क्या है ?

कोम्बुचा चाय क्या है ?

कोम्बुचा चाय, स्वीट ब्लैक टी को बैक्टीरिया और यीस्ट के जरिए फरमेंट कर बनाई जाती है। हालांकि, यह अन्य चाय जैसे- ग्रीन टी या लेमन टी से भी बनाई जाती है। इस चाय का स्वाद थोड़ा मीठा, कार्बोनेटेड और अम्लीय (Acidic) होता है। इसका सेवन कई देशों में किया जाता है, लेकिन ऐतिहासिक रूप से यह चीन, रूस और जर्मनी का उत्पाद है (1)। यह चाय स्वास्थ्य के लिए कई तरीकों से लाभकारी है। जिसके बारे में आगे विस्तार से बताया गया है।
आगे जानिए सेहत के लिए कोम्बुचा चाय के फायदे।

कोम्बुचा चाय के फायदे – Benefits of Kombucha Tea in Hindi

ऐसे तो कोम्बुचा चाय के फायदे कई हैं, लेकिन उनमें से कुछ चुनिंदा फायदों के बारे में हम नीचे जानकारी दे रहे हैं।

1. लिवर के लिए कोम्बुचा चाय के फायदे

कोम्बुचा चाय का उपयोग लिवर के लिए लाभकारी हो सकता है। कई बार पर्यावरण प्रदूषकों के कारण लिवर की समस्या हो सकती है। ऐसे में जानवरों पर किये गए कई शोधों में यह बात सामने आई है कि कोम्बुचा चाय में मौजूद पॉलीफेनोल के एंटीऑक्सीडेंट गुण लिवर को स्वस्थ रखने में मदद कर सकते हैं। इसका कारण फर्मेंटेशन के दौरान उत्पादित एंटीऑक्सिडेंट मॉलिक्यूल हो सकते हैं, जो सीसीI4 (CCI4-Carbon Tetrachloride – एक प्रकार का केमिकल कंपाउंड) के कारण होने वाली लिवर समस्या से बचाव कर सकते हैं। इतना ही नहीं चूहों पर कोम्बुचा चाय के हेपेटोप्रोटेक्टिव प्रभावों के लिए पैथोफिजियोलॉजिकल एविडेंस भी उपलब्ध हैं (2) (3)।

2. पाचन के लिए कोम्बुचा चाय के फायदे

कई बार चाय-कॉफी का सेवन भी पाचन संबंधी परेशानियों का कारण बन सकता है। ऐसे में बेहतर है कि चाय के रूप को थोड़ा बदल दिया जाए। अगर कोई पाचन की समस्या से परेशान है तो वो सामान्य चाय के बदले कोम्बुचा चाय का उपयोग कर सकता है। जिन लोगों ने कोम्बुचा चाय का उपयोग किया है, उनका मानना है कि यह न सिर्फ ताजगी से भरपूर है, बल्कि यह चाय पाचन में भी सुधार करने में मदद कर सकती है (4)। हालांकि, यह सही मायने में पाचन के लिए कितनी फायदेमंद होगी, इसपर अभी और शोध की आवश्यकता है।

3. डिटॉक्सिफिकेशन के लिए कोम्बुचा चाय का उपयोग

डिटॉक्सिफिकेशन उस प्रक्रिया को कहते हैं, जिसमें शरीर से विषाक्त पदार्थों को बाहर निकाला जाता है। यह प्रक्रिया शारीरिक या औषधीय तरीके से हो सकती है। डिटॉक्सिफिकेशन व्यक्ति को स्वस्थ रखने में मदद करता है। कोम्बुचा चाय का उपयोग शरीर को डिटॉसीफाई करने में मददगार साबित हो सकता है। दरअसल, कोम्बुचा चाय में पाए जाने वाले अधिकांश एंजाइम और बैक्टीरियल एसिड काफी हद तक उन रसायनों के समान होते हैं, जो शरीर द्वारा डिटॉसीफाई प्रक्रिया के लिए उत्पादित किए जाते हैं। ऐसे में यह अनुमान लगाया जा सकता है कि कोम्बुचा चाय में मौजूद डिटॉक्सिफिकेशन गुण शरीर से विषाक्त पदार्थ निकालने में मदद कर सकते हैं (3)।

4. हृदय के लिए कोम्बुचा चाय के फायदे

कोम्बुचा चाय का उपयोग हृदय को स्वस्थ रखने में मदद कर सकता है। दरअसल, एनसीबीआई (NCBI) की वेबसाइट पर प्रकाशित एक अध्ययन में यह बात सामने आई है। शोध में परीक्षण चूहों पर किया गया था। अध्ययन के परिणामों से पता चलता है कि कोम्बुचा में एंटीहाइपरट्रोफिक (Antihypertrophic- मांसपेशियों की कोशिकाओं की अत्यधिक वृद्धि को रोकने का गुण), एंटीहाइपरग्लाइसेमिक (Antihyperglycemic – ब्लड शुगर को कम करने का गुण), एंटीहाइपरलिपिडेमिक (Antihyperlipidemic- कोलेस्ट्रॉल को कम करने का गुण) गुण होते हैं। इसलिए, हृदय रोगों से पीड़ित लोगों के साथ-साथ स्वस्थ व्यक्तियों को भी कोम्बुचा चाय पीने की सलाह दी जाती है (5)। हालांकि, याद रखें कि अगर समस्या गंभीर है तो डॉक्टरी उपचार को पहली प्राथमिकता दें।

5. सूजन के लिए कोम्बुचा चाय के फायदे

शरीर में सूजन की समस्या कई अन्य शारीरिक परेशानियों जैसे – डायबिटीज, हृदय संबंधी समस्या, गठिया, कैंसर का कारण बनती है (6) (7)। ऐसे में कोम्बुचा चाय का उपयोग सूजन की समस्या से निजात दिलाने में मददगार हो सकता है। एनसीबीआई (NCBI) की वेबसाइट पर प्रकाशित एक अध्ययन में कोम्बुचा चाय के सेवन में वृद्धि की बात सामने आई है। इसका कारण कोम्बुचा चाय में मौजूद एंटी-इन्फ्लेमेटरी और एंटीऑक्सीडेंट गुणों को माना जा रहा है (8)। इसके अलावा, एनसीबीआई (NCBI) के एक अन्य शोध में ओक की पत्तियों की कोम्बुचा चाय में एंटी-इन्फ्लेमेटरी गुण की बात सामने आई है (9)। हालांकि, इसमें अभी और शोध की आवश्यकता है।

6. कैंसर से बचाव के लिए कोम्बुचा चाय के फायदे

कैंसर जैसी घातक बीमारी के लिए भी कोम्बुचा चाय फायदेमंद हो सकती है। कुछ वैज्ञानिक अध्ययनों ने दावा किया है कि कोम्बुचा में एंटी-कैंसर गुण मौजूद होते हैं। दी

सेंट्रल ओंकोलॉजिकल रिसर्च यूनिट इन रूस (The Central Oncological Research Unit in Russia) और दी रसियन एकेडमी ऑफ साइंसेज इन मास्को (The Russian Academy of Sciences in Moscow) ने एक अध्ययन आयोजित किया। इसमें उन्होंने पाया कि कोम्बुचा का सेवन कैंसर को कम करने से संबंधित है।

इसके अलावा, अन्य कई शोध हुए जिसमें इसमें मौजूद एंटी-कैंसर गुण की बात सामने आई है। इतना ही नहीं इसमें मौजूद यौगिक जैसे – पॉलीफेनोल्स, ग्लूकॉनिक एसिड, लैक्टिक, एसिड और विटामिन सी पेट के कैंसर के जोखिम को कम कर सकते है (3)। कैंसर के जोखिम से बचने के लिए कोम्बुचा चाय का उपयोग किया जा सकता है। लेकिन, ध्यान रहे अगर किसी को कैंसर है, तो वो डॉक्टरी इलाज जरूर कराए।

7. एंटीबैक्टीरियल गुणों के लिए कोम्बुचा चाय

कोम्बुचा चाय में एंटीबैक्टीरियल गुण भी मौजूद होते हैं। ऐसे में यह अनुमान लगाया जा सकता है कि इससे बैक्टीरियल बीमारियों से बचाव हो सकता है। इतना ही नहीं इसमें एंटीबैक्टीरियल गुण के साथ एंटीफंगल गुण भी मौजूद होते हैं (3)।

8. व्यक्ति को सेहतमंद रखने के लिए कोम्बुचा चाय का उपयोग

इसमें कोई दो राय नहीं है कि कोम्बुचा चाय का उपयोग व्यक्ति को सेहतमंद रखने में मदद कर सकता है। जैसा कि ऊपर बताया गया है कि यह चाय पेट के साथ लिवर के लिए भी फायदेमंद हो सकती है। साथ ही इसमें एंटी-कैंसर गुण भी होते हैं, जिससे कि कैंसर जैसी घातक बीमारी का जोखिम भी कम हो सकता है। वहीं इसके एंटी-बैक्टीरियल गुण बैक्टीरियल बीमारियों से बचाव कर सकते हैं। इतना ही नहीं इसके एंटीऑक्सीडेंट और एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण व्यक्ति को सेहतमंद रखने में मदद कर सकते हैं (10)।

आगे जानिए कोम्बुचा चाय का उपयोग करने का तरीका।

कोम्बुचा चाय का उपयोग – How to Use Kombucha Tea in Hindi

नीचे बताए गए तरीकों से पाठक कोम्बुचा चाय का उपयोग कर सकते हैं।

  • अगर कोई पहली बार कोम्बुचा चाय का उपयोग कर रहा है तो इसका सेवन कम मात्रा में ही करें।
  • शुरूआत में, पूरे दिन में एक बार इसका सेवन करें।
  • इसका सेवन खाने के पहले किया जा सकता है।
  • अगर इसके सेवन के बाद कुछ शारीरिक समस्या महसूस हो तो तुरंत इसका सेवन बंद कर डॉक्टर से बात करें।

नोट : इसकी सटीक मात्रा के बारे में डॉक्टर की सलाह जरूरी है। इसकी मात्रा व्यक्ति की उम्र और स्वास्थ्य पर निर्भर करती है।

नीचे हम कोम्बुचा चाय बनाने की एक आसान विधि साझा कर रहे हैं।

कोम्बुचा चाय कैसे बनाएं – How to make kombucha tea in hindi

जानिए घर पर कोम्बुचा टी बनाने की विधि।

ग्रीन या ब्लैक टी कोम्बुचा

सामग्री

  • 8 से 10 ब्लैक या ग्रीन टी बैग्स
  • 12 से 14 कप ठंडा फिल्टर पानी
  • एक कप चीनी
  • 1 कोम्बुचा स्कोबी (यीस्‍ट एवं बैक्‍टीरिया), यह बाजार में या ऑनलाइन उपलब्ध है।
  • एक बड़ा शीशे का जार

बनाने की विधि

  • सबसे पहले एक पैन में पानी उबाल लें।
  • पानी उबलने के बाद गैस बंद कर दें।
  • अब उबले हुए पानी में ब्लैक/ ग्रीन टी डालें और 15 मिनट बाद टी बैग्स को निकाल दें।
  • फिर इस मिश्रण को शीशे के जार में डालें।
  • अब ऊपर से कोम्बुचा स्कोबी (यीस्‍ट एवं बैक्‍टीरिया) डालकर जार को बंद कर दें।
  • इसे एक हफ्ते के लिए ऐसे ही रहने दें।
  • जब यह तैयार हो जाए तो उसका सेवन करें।
  • इसे फ्रिज में स्टोर किया जा सकता है।

अब आगे जानते हैं कोम्बुचा चाय के नुकसान।

कोम्बुचा चाय के नुकसान – Side Effects of Kombucha Tea in Hindi

हर चीज के फायदे और नुकसान दोनों होते हैं। वैसे ही अगर कोम्बुचा चाय के फायदे हैं तो कुछ नुकसान भी हैं। नीचे जानिए कोम्बुचा चाय के नुकसान (11)।

● एलर्जी
● मतली (Nausea)
● उल्टी
● पीलिया (Jaundice)
● सिरदर्द
● गर्दन में दर्द

नोट : गर्भावस्था या स्तनपान के दौरान इसके सेवन के बारे में अपर्याप्त जानकारी है। इसलिए, बेहतर है कि इस बारे में एक बार डॉक्टर से सलाह ले लें।

आशा करते हैं कि इस लेख को पढ़ने के बाद आपको कोम्बुचा चाय के बारे में आवश्यक जानकारी हासिल हो गई होगी। कोम्बुचा चाय का उपयोग कर व्यक्ति इसके बताए गए लाभ प्राप्त कर सकता है। हालांकि, कोम्बुचा चाय के फायदे जानकर कोई यह न समझ बैठे कि यह जादू की तरह काम करती है। यह चाय लेख में बताई गई स्वास्थ्य समस्याओं के प्रभाव को कम कर सकती है, लेकिन यह किसी बीमारी का इलाज नहीं है। हमारी यही सलाह है कि आप कोम्बुचा चाय का उपयोग धैर्य के साथ करें और ध्यान रखें कि इसका जरूरत से ज्यादा सेवन न करें। इसके उपयोग के बाद अपना अनुभव हमारे साथ नीचे कमेंट बॉक्स में शेयर करना न भूलें। कोम्बुचा चाय के फायदे, उपयोग या नुकसान से संबंधित कोई उलझन हो तो आप कमेंट बॉक्स की मदद ले सकते हैं।

अक्सर पूछे जाने वाले सवाल

आप एक दिन में कितनी कोम्बुचा चाय पी सकते हैं?

एक दिन में लगभग आधा कप कोम्बुचा चाय का सेवन किया जा सकता है। अच्छा होगा इस बारे में एक बार डॉक्टर से सलाह ले लें।

कोम्बुचा चाय पीने का सबसे अच्छा समय कब है?

कोम्बुचा चाय को भोजन करने से पहले पीना स्वास्थ्य के लिए सही रहेगा।

और पढ़े:

scorecardresearch