क्या गर्भावस्था में करेला खाना सुरक्षित है? – Is Bitter Gourd Good for Pregnancy in Hindi

by

गर्भावस्था के दौरान हर छोटे-बड़े फैसले सोच विचार कर ही लेने चाहिए। खासकर खान-पान संबंधी मामलों में बिलकुल भी लापरवाही बरतनी नहीं चाहिए। इस दौरान गर्भवती के स्वास्थ्य को ध्यान में रखते हुए बहुत से खाद्य पदार्थों के सेवन की सलाह दी जाती है, जबकि कुछ से परहेज करने के लिए कहा जाता है। प्रेगनेंसी में परहेज करने वाले खाद्य पदार्थों में करेला भी शामिल है। आपको जानकर आश्चर्य होगा कि प्रेगनेंसी में करेला बहुत सी स्वास्थ्य समस्याओं की वजह बन सकता है। स्टाइलक्रेज के इस लेख में जानिए कि प्रेगनेंसी में करेला खाने के नुकसान क्या-क्या हो सकते हैं।

आइए, सबसे पहले जानते कि क्या गर्भावस्था में करेला खाने के फायदे हो सकते हैं या नहीं ?

क्या गर्भावस्था में करेला खाना सुरक्षित है?

गर्भावस्था में करेला खाने पर अक्सर सवाल उठते हैं कि इसका सेवन प्रेगनेंसी में किया जा सकता है या नहीं। इस संबंध पर किए गए शोध की मानें तो करेला गर्भवती के लिए नुकसानदायक हो सकता है (1)(2)। माना जाता है कि इस दौरान करेले का सेवन बहुत सी स्वास्थ्य समस्याओं का कारण बन सकता है, जिसके बारे में नीचे विस्तारपूर्वक जानकारी दी गई है। इस वजह से कहा जा सकता है कि गर्भावस्था में करेला खाने के फायदे नहीं हैं और इसका सेवन न करना ही बेहतर है।

आइए, अब आपको बताते हैं कि गर्भवस्था में करेले खाने के नुकसान क्या-क्या हो सकते हैं।

गर्भावस्था में करेला खाने के नुकसान – Side Effects of Eating Bitter Gourd During Pregnancy in hindi

प्रेगनेंसी में करेला खाने के नुकसान बहुत सारे हो सकते हैं, जिनके बारे में आप नीचे जानेंगे।

1. ब्लड शुगर

मधुमेह को नियंत्रित करने के लिए अक्सर करेले के जूस का सेवन करने की सलाह दी जाती है। लेकिन प्रेगनेंसी में इसका सेवन हानिकारक हो सकता है। दरअसल, करेले में एंटी-डायबिटिक गुण होते हैं, यानी यह ब्लड शुगर को कम करने में मदद कर सकता है (3)। अगर कोई गर्भवती महिला मधुमेह के लिए दवाई ले रही है, तो उस दवाई के साथ करेले का सेवन रक्त में शुगर की मात्रा को जरूरत से ज्यादा कम कर सकता है (1)।

2. पाचन से जुड़ी समस्याएं

भारतीय और चीनी चिकित्सा में पेट से जुड़ी समस्याओं जैसे कब्ज के लिए करेले का इस्तेमाल किया जाता रहा है (4)। लेकिन, कुछ मामलों में यह भी पाया गया है कि करेला पाचन से जुड़ी समस्याएं जैसे डायरिया और पेट दर्द का कारण बन सकता है। इसलिए, गर्भावस्था में करेला खाने के नुकसान से बचने के लिए डॉक्टरी परामर्श जरूरी है (5)।

3. विषाक्त प्रभाव

गर्भावस्था के दौरान करेले का सेवन विषाक्तता का कारण बन सकता है। दरअसल, इस संबंध में एक शोध किया गया है, जिसमें इस बात की पुष्टि की गई है। शोध में कहा गया है कि करेले की पत्तियों की तुलना में इसका फल और बीज अधिक विषाक्त प्रभाव प्रदर्शित कर सकते हैं (2)। फिलहाल, इस विषय पर अभी और शोध की आवश्यकता है। वहीं एक अन्य शोध में जिक्र मिलता है कि करेले का सेवन शरीर में एक्यूट टाक्सिसटी (Acute Toxicity), क्रॉनिक टाक्सिसटी (Chronic Toxicity) और रिप्रोडक्टिव टाक्सिसटी (Reproductive Toxicity, प्रजनन संबंधी) का कारण बन सकता है (6)। इन तथ्यों के आधार पर कहा जा सकता है कि गर्भावस्था के दौरान करेले का सेवन नहीं करना चाहिए।

4. गर्भपात का खतरा

गर्भावस्था में करेला न खाने की सलाह देने का एक बहुत बड़ा कारण यह है कि यह गर्भपात का कारण बन सकता है। दरअसल, पुराने समय में करेले को गर्भान्तक (गर्भ का अंत करने वाली) दवा के रूप में उपयोग किया जाता था। माना जाता है कि करेले के बीजों में गर्भान्तक गुण पाए जाते हैं। इसके अलावा, करेले में मोमोराचारिन (Momorcharin) नाम के केमिकल पाए जाते हैं, जो प्रारंभिक और मध्य अवधि के दौरान गर्भपात (Early and Mid term Abortions) का कारण बन सकते हैं (2)।

5. स्तनपान कराने वाली महिलाओं के लिए असुरक्षित

करेले का सेवन स्तनपान करवाने वाली महिलाओं के लिए असुरक्षित हो सकता है। जैसा कि हमने ऊपर बताया है कि यह शरीर में विषाक्तता का कारण बन सकता है। इस संबंध में जानवरों पर किए गए एक शोध में पाया गया है कि इसमें मौजूद विषाक्त तत्व स्तनपान के जरिए मां से बच्चे में जा सकते हैं। इस वजह से गर्भवती के साथ, स्तनपान करवाने वाली महिलाओं को भी करेले का सेवन न करने की सलाह दी जाती है (2)।

उम्मीद है कि अब आप समझ गए होंगे कि जहां सामान्य स्थिति में करेला एक औषधि के रूप में काम कर सकता है, वहीं गर्भावस्था में करेला हानिकारक भी हो सकता है। मौजूद तथ्यों के आधार पर कहा जा सकता है कि प्रेगनेंसी में करेला खाने के फायदे नहीं हैं, बल्कि इसका सेवन गर्भवती महिला के लिए नुकसानदायक हो सकता है। इसलिए, हम यही सलाह देंगे कि गर्भावस्था के दौरान इसका सेवन न करें और डॉक्टर से इस संबंध में पूरी जानकारी लें। डॉक्टरी परामर्श पर प्रेगनेंसी में करेला की जगह अन्य स्वास्थ्यवर्धक खाद्य पदार्थों का सेवन किया जा सकता है। इसके अलावा, लेख से जुड़े सवाल या सुझाव के लिए आप नीचे दिए कमेंट बॉक्स की मदद जरूर ले सकते हैं।

और पढ़े:

scorecardresearch