लहसुन और शहद के फायदे – Amazing Benefits of Garlic and Honey in Hindi

by

सालों से शहद और लहसुन का उपयोग कई तरह की समस्याओं को दूर करने के लिए किया जाता रहा है। दादी-नानी भी शारीरिक परेशानियों से छुटकारा पाने के लिए झट से इस नुस्खे को इस्तेमाल करने की सलाह देती हैं। आखिर ऐसा क्या जादुई है शहद और लहसुन में यह आप भी जरूर जानना चाहते होंगे। आपकी इसी जिज्ञासा को ध्यान में रखते हुए स्टाइलक्रेज के इस लेख में हम लेकर आए हैं शहद और लहसुन को साथ में खाने के फायदे से जुड़ी जानकारी। आर्टिकल में हम शहद और लहसुन के फायदे सुनी सुनाई बातों के नहीं, बल्कि रिसर्च के आधार पर दे रहे हैं।

आगे पढ़ते रहें

आइए, लेख की शुरुआत में जानते हैं कि शहद और लहसुन के फायदे किस तरह से होते हैं। 

लहसुन और शहद के फायदे – Benefits of Garlic and Honey in Hindi

लहसुन और शहद दोनों को एक साथ मिलाकर सेवन करने से हमें औषधि की तरह फायदा मिल सकता है। कई शोध बताते हैं कि सैकड़ों साल से शहद और लहसुन को घरेलू उपचार के तौर पर इस्तेमाल किया जाता रहा है। ध्यान रहे कि ये सिर्फ घरेलू उपचार हैं। इसका इस्तेमाल करने से किसी गंभीर बीमारी का संपूर्ण इलाज नहीं हो सकता है। इसी वजह से बीमार होने पर डॉक्टर की राय लेना जरूरी है। चलिए, अब पढ़ते हैं लहसुन शहद के फायदे। 

1. एंटीबैक्टीरियल प्रभाव

लहसुन और शहद दोनों का औषधीय उपयोग काफी पुराना है। लहसुन और शहद दोनों को बैक्टीरिया को मारने में सक्षम माना जाता है (1)। एक लैब स्टडी में लहसुन के रस और शहद के संयोजन को ऐसे बैक्टीरिया संक्रमण तक रोकने में सक्षम पाया गया, जिनका इलाज एंटीबायोटिक दवाओं द्वारा भी नहीं किया जा सकता है (2)

नेशनल सेंटर फॉर बायोटेक्नोलॉजी इंफॉर्मेशन (NCBI) की एक रिसर्च के मुताबिक, शहद और लहसुन से बैक्टीरियल इंफेक्शन को कम किया जा सकता है। दोनों का साथ सेवन करने से ये काफी हद तक प्राकृतिक एंटीमाइक्रोबियल दवा की तरह भी काम कर सकते हैं (1)। लहसुन और शहद के मिश्रण को रेस्पिरेटरी ट्रैक्ट इन्फेक्शन और निमोनिया का कारण बनने वाले बैक्टीरिया को खत्म करने के लिए भी लाभदायक माना जाता है (3)

2. इम्यूनिटी बढ़ाने के लिए

इम्यूनिटी यानी रोग प्रतिरोधक क्षमता कमजोर होने से शरीर को घेर बीमारियां लेती हैं। इस इम्यूनिटी को बढ़ाने के लिए शहद और लहसुन को घरेलू उपचार के तौर पर जाना जाता है (2)। एक रिसर्च में बताया गया है कि नए और पुराने लहसुन दोनों रोग प्रतिरोधक क्षमता को बेहतर करने में मदद कर सकते हैं (4)। लहसुन साइटोकिन (सिग्नलिंग प्रोटीन का व्यापक समूह) के प्रोडक्शन को बढ़ाकर प्रतिरोधक क्षमता को बेहतर कर सकता है। शोध में 90 दिनों तक रोजाना इसका सेवन करने वालों की इम्यूनिटी को बेहतर पाया गया है (5)।

शहद की बात करें, तो माना जाता है कि इसमें मौजूद एंटीऑक्सीडेंट्स की वजह से यह इम्यूनिटी को बढ़ाने में मदद कर सकता है (6)। एक अन्य रिसर्च में कहा गया है कि शहद एक प्राकृतिक इम्यूनिटी बूस्टर है। यह इम्यून सेल्स के साइटोकिन के उत्पादन को बढ़ावा देकर ऐसा कर सकता है (7)। इसी वजह से इम्यूनिटी को बढ़ाने के लिए शहद और लहसुन के मिश्रण को अच्छा माना जाता है।

3. हृदय स्वास्थ्य के लिए 

शहद और लहसुन के फायदे में हृदय स्वास्थ्य भी शामिल है। लहसुन सभी तरह के हृदय रोग के जोखिम से बचा सकता है। रिसर्च में बताया गया है कि यह कोलेस्ट्रॉल, ब्लड प्रेशर, एथेरोस्क्लेरोसिस (धमनी में वसा का जमना) जैसी सभी समस्याओं को कम कर सकता है। इन सभी को हार्ट डिजीज का जोखिम बताया जाता है (8)। आयुर्वेद में भी कहा जाता है कि लहसुन का उपयोग हृदय रोग के इलाज में सदियों से हो रहा है (9)

इसके अलावा, शहद के फायदे में भी हृदय स्वास्थ्य शामिल है। दरअसल, शहद में मौजूद फ्लेवोनॉइड्स एंटीऑक्सीडेंट प्रभाव दिखाता है, जो हृदय रोग के जोखिम को कम कर सकता है। रिसर्च में बताया है कि शहद तीन तरह से हृदय को बीमारियों से बचा सकता है। पहला कोरोनरी वासोडिलेटेशन (रक्त वाहिकाओं का चौड़ीकरण) में सुधार करके, दूसरा खून के थक्के को बनने से रोककर और तीसरा लो डेंसिटी लिपोप्रोटीन (कोलेस्ट्रॉल) को ऑक्सीकरण से रोककर (10)। इसी आधार पर कहा जा सकता है कि शहद और लहसुन का मिश्रण हृदय के लिए और प्रभावी साबित हो सकता है।

4. मेमोरी और ब्रेन हेल्थ के लिए

शहद और लहसुन को मस्तिष्क स्वास्थ्य और याददाश्त को बनाए रखने के लिए भी जाना जाता है। शहद में मौजूद पॉलीफेनोल्स न्यूरोइन्फ्लेमेशन से बचाव कर सकते हैं, जो याददाश्त से संबंधी ब्रेन स्ट्रक्चर यानी मस्तिष्क संरचना से जुड़ा है। यही नहीं ये पॉलीफेनोल्स स्मृति संबंधी विकारों को पनपने से रोकते हैं और याददाश्त को बढ़ने का काम कर सकते हैं (10)।

लहसुन से संबंधी एक रिसर्च के मुताबिक, इसमें न्यूरोप्रोटेक्टिव प्रभाव होता है। इससे मस्तिष्क को बीमारियों से बचाए रखने में भी मदद मिल सकती है (11)। इसमें मौजूद कायोलिक एसिड एंटीऑक्सीडेंट की तरह कार्य करके भूलने वाली मानसिक बीमारी जैसे डिमेंशिया (Dementia) से बचाव करने में सहायक हो सकता है। साथ ही लहसुन न्यूरॉन्स की रक्षा करके संज्ञानात्मक गिरावट यानी याददाश्त को कम होने से बचा सकता है (12)

5. कोलेस्ट्रॉल कम करने के लिए 

लहसुन और शहद का मिश्रण लेस्ट्रॉल के स्तर को नियंत्रित करने में सहायक हो सकता है। हम ऊपर बता ही चुके हैं कि लहसुन हानिकारक कॉलेस्ट्रॉल के लेवल को बढ़ने से रोक सकता है (13)साथ ही शहद भी कोलेस्ट्रॉल को कम कर सकता है। एनसीबीआई द्वारा प्रकाशित रिसर्च पेपर में लिखा है कि बढ़े हुए कोलेस्ट्रॉल वाले लोग प्राकृतिक शहद का सेवन करके 3.3 प्रतिशत टोटल कोलेस्ट्रॉल को कम कर सकता है (14)।

यही नहीं एलडीएल यानी हानिकारक कोलेस्ट्रॉल को 4.3 प्रतिशत तक कम करता है। साथ ही शहद के सेवन से स्वस्थ लोगों में अच्छा कोलेस्ट्रॉल 3.3 प्रतिशत तक बढ़ सकता है (14)। ऐसे में शहद और लहसुन के मिश्रण को कोलेस्ट्रॉल के लिए प्रभावकारी माना जा सकता है।

6. वजन कम करना

लहसुन शहद के फायदे में एक वजन कम करना भी है। एनसीबीआई की एक रिसर्च में लिखा है कि 365 दिनों तक रोजाना शहद का सेवन करने वालों के समग्र वजन बढ़ाने की प्रक्रिया में कमी पाई गई। इस आधार पर शोध में कहा गया है कि शहद में एंटी ओबेसिटी यानी मोटापे को कम करने वाला प्रभाव हो सकता है (15)।

एक अन्य अध्ययन के हिसाब से शहद में पाए जाने वाले एंटीऑक्सीडेंट्स की वजह से यह वजन कम करने में सहायक हो सकता है। साथ ही भूख विनियमन हार्मोन (लेप्टिन, घ्रेलिन और पेप्टाइड) में मॉड्यूलेशन करके भी इससे वजन घटाने में मदद मिल सकती है (16)। अगर लहसुन की बात करें, तो यह फैट सेल्स (Adipogenesis) को कम करके मोटापे से बचा सकता है। इसके अलावा, लहसुन में एंटी ओबेसिटी प्रभाव भी होता है (17)।

7. स्किन के लिए

शहद और लहसुन के फायदे में त्वचा स्वास्थ्य को भी गिना जा सकता है। सालों से शहद को कॉस्मेटिक्स इंडस्ट्री में उपयोग किया जा रहा है। इसमें मौजूद एंटी माइक्रोबियल गतिविधि के कारण यह त्वचा संबंधित रोगाणुओं से लड़ता है। इसे स्किन के इम्यून सिस्टम को बढ़ाने के लिए भी जाना जाता है। साथ ही शहद से एक्जिमा (लाल चकत्ते), डर्मेटाइटिस (खुजलीदार त्वचा) और अन्य बीमारियों से बचा सकता है (18)। यही नहीं शहद को स्किन को जवां रखने और झुर्रियों से बचाने में भी सहायक माना जाता है (19)।

लहसुन संबंधी रिसर्च में भी लिखा है कि इसमें एंटीऑक्सीडेंट होता है। यह स्किन एजिंग को कम करने के लिए जाना जाता है। इसे त्वचा को जवां बनाए रखने और उसे कई तरह की बीमारियों जैसे सोरायसिस और इंफेक्शन से बचा सकता है। अध्ययन में बताया गया है कि लंबे समय तक लहसुन का इस्तेमाल करने से फाइब्रोब्लास्ट्स का अधिकतम प्रसार होता है, जिसकी वजह से लहसुन एंटी-एजिंग और रिजूवनेटिंग एजेंट के रूप में कार्य कर सकता है (20)।

स्क्रॉल करें

आगे पढ़ेंगे कि लहसुन शहद के फायदे इनमें मौजूद कौन से पोषक तत्व से होते हैं।

लहसुन और शहद के पोषक तत्व Garlic and Honey Nutritional Value in Hindi

शहद और लहसुन में पाए जाने वाले पौष्टिक तत्व की जानकारी हम नीचे टेबल के माध्यम से दे रहे हैं। यह मात्रा प्रति 100 ग्राम शहद और लहसुन की है (21) (22)।

पोषक तत्व शहदलहसुन
वाटर17.1 g58.23 g
एनर्जी304 kcal148 kcal
प्रोटीन0.3 g6.32 g
कार्बोहाइड्रेट82.4 g32.86 g
फाइबर0.2 g2.1 g
शुगर टोटल82.12 g 0.99 g
सुक्रोज0.89 g
ग्लूकोज (डेक्सट्रोज)35.75 g
फ्रुक्टोज40.94 g
माल्टोज1.44 g
गैलेक्टोज3.1 g
कैल्शियम6 mg180 mg
आयरन0.42 mg1.69 mg
मैग्नीशियम2 mg25 mg
फास्फोरस4 mg152 mg
पोटेशियम52 mg399 mg
सोडियम4 mg248 mg
विटामिन सी0.5 mg24.8 mg
जिंक0.22 mg1.15 mg
कॉपर0.036 mg0.297 mg
मैंगनीज0.08   mg
सेलेनियम0.8  µg14.1 µg
थियामिन0.179 mg
     फ्लोराइड7  µg
राइबोफ्लेविन0.038 mg0.104 mg
नियासिन0.121 mg0.661 mg
विटामिन बी -60.024 mg1.166 mg
पैंटोथेनिक एसिड0.068 mg
फोलेट2 µg2 µg
कोलिन2.2 mg23.1 mg
बीटेन1.7
कैरोटीन, बीटा4 g
ल्यूटिन + ज़ेक्सेंथिन14 µg
विटामिन ई (अल्फा-टोकोफ़ेरॉल)0.08 mg
विटामिन के1.7 µg

लेख में बने रहें

आगे पढ़िए स्वस्थ रहने के लिए लहसुन और शहद खाने का तरीका क्या है।

शहद और लहसुन का कैसे करें उपयोग – How To Use Garlic and Honey in Hindi 

लहसुन और शहद को एक साथ इस्तेमाल करने के कई तरीके हैं। कहा जाता है कि लहसुन को पकाकर इस्तेमाल करने से इसमें मौजूद पोषक तत्वों की मात्रा कई गुना बढ़ जाती है। यही वजह है कि हम आगे लहसुन और शहद को उपयोग करने के विभिन्न तरीके बता रहे हैं।

  • लहसुन और शहद खाने का तरीका यह है कि 12 से 13 लहसुन की कलियों को धोकर पीस लें। फिर एक कप शुद्ध शहद तकरीबन 300 ml में इस पेस्ट को मिलाकर कांच के जार में डालकर एक सप्ताह तक कमरे में रख दें। उसके बाद रोजाना इसका सेवन शहद और लहसुन के फायदे के लिए किया जा सकता है।
  • लहसुन को पीसकर या कूटकर शहद में डालने के बजाए हल्का पकाकर भी शहद में मिलाकर खा सकते हैं।
  • लहसुन के पेस्ट और शहद को साथ मिलाकर त्वचा पर लगा सकते हैं।
  • लहसुन और शहद खाने का तरीका एक और है। आप पानी में लहसुन का पेस्ट और शहद डालकर पी सकते हैं।

पढ़ते रहें

आइए, अब जानते हैं कि शहद और लहसुन के सेवन का कोई साइड इफेक्ट भी होता है या नहीं।

शहद और लहसुन के साइड इफेक्ट – Side Effects of Garlic and Honey in Hindi

लहसुन और शहद के पोषक तत्व हमारे लिए काफी लाभदायक हैं, लेकिन लहसुन और शहद का सेवन करने के कुछ साइड इफेक्ट भी हो सकते हैं। क्या हैं यह साइड इफेक्ट्स नीचे जानिए।

लहसुन के नुकसान (23) :

  • लहसुन से मुंह और शरीर से दुर्गंध आ सकती है।
  • कच्चा लहसुन खाने से पेट संबंधी परेशानियां और सीने में जलन हो सकती है।
  • ज्यादा लहसुन के सेवन रक्तस्राव हो सकता है।
  • संवेदनशील लोगों को लहसुन से एलर्जी हो सकती है।

शहद के नुकसान :

  • पराग के कणों से एलर्जिक लोगों को शहद से एनाफिलेक्सिस (Anaphylaxis) एलर्जिक रिएक्शन हो सकता है (24)।
  • शहद में मौजूद फ्रुक्टोज की वजह से पेट दर्द और डायरिया हो सकता है (25)।
  • शहद ब्लड ग्लूकोज को कम कर सकता है, इसलिए बीपी की दवा लेने वालों को इसके सेवन से बचना चाहिए (26)।

लहसुन और शहद का सेवन अगर सही तरीके से किया जाए, तो हमारा शरीर स्वस्थ रह सकता है। एक ओर लहसुन खाने के स्वाद से लेकर कई बीमारियों को दूर रखता है। दूसरी ओर शुद्ध शहद एंटी बैक्टीरियल की तरह काम करने के साथ ही शरीर की इम्यूनिटी बढ़ाने में सहायक है। इस तरह जब हम शहद और लहसुन दोनों को एक साथ इस्तेमाल करते हैं, तो यह सुपर हेल्दी फूड की तरह कार्य कर सकता है। बस तो हल्की स्वास्थ्य परेशानियों को दादी-नानी के इस पुराने नुस्खे का इस्तेमाल करें और स्वस्थ रहें।

अक्सर पूछे जाने वाले सवाल

खाली पेट लहसुन और शहद के क्या फायदे हैं?

खाली पेट लहसुन और शहद का सेवन कितना फायदेमंद होता है, इसपर किसी तरह की रिसर्च मौजूद नहीं है। हां, खाली पेट सिर्फ लहसुन खाने से पेट फूलने और आंत संबंधी अन्य समस्या हो सकती है (29)।

क्या हम रोजाना लहसुन और शहद खा सकते हैं?

हां, रोजाना एक चम्मच लहसुन और शहद का सेवन किया जा सकता है। इससे लेख में बताए गए सभी फायदे मिल सकते हैं।

शहद में लहसुन कितने समय तक रहता है?

पुराने लहसुन और शुद्ध शहद के मिश्रण को कमरे के तापमान पर सफेद कांच के जार में डालकर एक साल तक इस्तेमाल कर सकते हैं। हां, अगर इसे खाने से कुछ परेशानी होने लगे, तो तुरंत डॉक्टर से बात करें।

क्या रात में लहसुन और शहद ले सकते हैं?

अगर आपको एलर्जी की समस्या नहीं है, तो सोने से 1-2 घंटे पहले लहसुन और शहद को ले सकते हैं।

क्या लहसुन और शहद वजन घटाएंगे?

हां, लहसुन शहद के फायदे में वजन घटाना भी शामिल है, जिसके बारे में हमने ऊपर लेख में विस्तार से जानकारी दी है।

अदरक लहसुन शहद के फायदे होते हैं?

हां, अदरक लहसुन शहद के फायदे हो सकते हैं।

26 Sources

Was this article helpful?
The following two tabs change content below.

ताज़े आलेख

scorecardresearch