लौंग की चाय के फायदे और नुकसान – Cloves Tea Benefits and Side Effects in Hindi

Written by , (शिक्षा- एमए इन जर्नलिज्म मीडिया कम्युनिकेशन)

बहुत सारे लोगों के दिन की शुरुआत ही चाय से होती है। किसी को ब्लैक टी पसंद होती, तो किसी को दूध वाली, तो किसी को ग्रीन टी से प्यार, तो कोई हर्बल टी पीता है। मगर आज हम जिसकी बात करेंगे वो है क्लोव टी यानी लौंग की चाय। लेख में आप जानेंगे कि लौंग चाय किस प्रकार विभिन्न शारीरिक समस्याओं से बचाव और उनके जोखिम को कम करने में सहायक हो सकती है। इसके अलावा, यहां लौंग की चाय बनाने का तरीका भी बताया गया है।

पढ़ना शुरू करें

सबसे पहले जानेंगे स्वास्थ्य के लिए लौंग की चाय अच्छी है या नहीं।

क्या लौंग की चाय स्वास्थ्य के लिए अच्छी है?- Is Clove Tea Good For You?

हां, लौंग की चाय स्वास्थ के लिए लाभकारी हो सकती है। जैसे स्वास्थ्य संबंधी कई समस्याओं के लिए लौंग को उपयोगी माना जाता है, वैसे ही लौंग की चाय भी सेहत से जुड़ी कई परेशानियों का कारगर इलाज है। लौंग की चाय में मुख्य रूप से लौंग का इस्तेमाल किया जाता है। ऐसे में लौंग में मौजूद सभी औषधीय गुणों को लौंग की चाय से हासिल किया जा सकता है।

वहीं, एक अध्ययन की मानें तो अगर पेट में दर्द या फिर गैस की समस्या है, तो लौंग की चाय इससे राहत दिला सकती है। इसके अलावा, मतली व उल्टी की समस्या को दूर करने के लिए भी लौंग की चाय का सेवन लाभकारी माना गया है (1)। लौंग की चाय के अन्य कई फायदे हैं, जिसके बारे में लेख में आगे विस्तार से जानकारी दी गई है।

नीचे पढ़ें

आइए लौंग की चाय पीने के फायदे के बारे में नीचे विस्तार से जानते हैं।

लौंग की चाय पीने के फायदे – Benefits of Laung Tea in Hindi

यहां हम लौंग की चाय पीने से फायदे के बारे में बताने जा रहे हैं, लेकिन ध्यान रहे कि यह किसी बीमारी का इलाज नहीं है। इसका सेवन करने से कुछ शारीरिक बीमारियों के जोखिम को कम किया जा सकता है, जिसके बारे में नीचे विस्तार से जानकारी दे रहे हैं।

1. प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में लाभकारी

एनसीबीआई (नेशनल सेंटर फॉर बायोटेक्नोलॉजी इंफाॅर्मेशन) की वेबसाइट पर प्रकाशित एक शोध में जिक्र मिलता है कि लौंग का अर्क अपने औषधीय गुणों के कारण व्यापक रूप से उपयोग में लाया जाता है। लौंग का सबसे महत्वपूर्ण घटक यूजेनॉल है, जो कई गुणों को दर्शाता है, जिसमें इम्यूनोमॉड्यूलेटरी भी शामिल है। इम्यूनोमॉड्यूलेटरी गुण इम्यून सिस्टम की कार्यप्रणाली को बेहतर करने में अहम भूमिका निभाता है (2)। इस आधार पर माना जा सकता है कि लौंग की चाय के सेवन से शरीर के प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने में मदद मिल सकती है।

2. वजन कम करने में सहायक

लौंग की चाय अतिरिक्त मोटापे की समस्या को कम करने में भी लाभकारी हो सकती है। दरअसल, एक शोध में साफतौर से इस बात का जिक्र मिलता है कि लौंग के अल्कोहल एक्सट्रैक्ट में वजन कम करने का प्रभाव देखा गया है। इसके अलावा, लौंग को हाई फैट डाइट से होने वाली मोटापे की समस्या को नियंत्रित किया जा सकता है (3)। इस आधार पर माना जा सकता है कि लौंग चाय मोटापे को रोकने में सहायक हो सकती है।

3. सर्दी खांसी से आराम

एक अध्ययन में बताया गया है कि लौंग में एंटीइंफ्लामेटरी प्रभाव मौजूद होता है, जो सर्दी और खांसी से राहत पाने में असरदार साबित हो सकता है। दरअसल, यह एक्सपेक्टोरेंट की तरह काम करता है, जो बलगम को मुंह से निकालकर ऊपरी श्वसन तंत्र को साफ कर सकता है (1)। लौंग में मौजूद इस गुण के आधार पर माना जा सकता है कि लौंग की चाय पीने के फायदे से सर्दी खांसी की परेशानी से राहत मिल सकती है।

4. बुखार में राहत

लौंग की चाय बुखार में राहत प्रदान कर सकती है। दरअसल, लौंग में एंटीवायरल गुण मौजूद होता है, जो बुखार को कम कर सकता है (4)। इसके अलावा, लौंग की एंटीमाइक्रोबियल गतिविधि अन्य फलों, सब्जियों और मसालों की तुलना में अधिक होती है। इस वजह से डेंगु से राहत दिलाने में यह लाभकारी हो सकता है (5)।

5. पाचन संबंधित समस्याओं के लिए

पाचन संबंधित समस्याओं में लौंग की चाय का सेवन फायदेमंद हो सकता है। दरअसल, एक शोध में इस बात का जिक्र मिलता है कि लौंग डाइजेस्टिव एंजाइम को उत्तेजित करने के साथ पाचन तंत्र को दुरुस्त रखने में सहायक हो सकता है। इसके साथ ही यह गैस, अपच, डायरिया, मतली, उल्टी व पेट दर्द को कम कर सकता है। शोध में पेट संबंधित परेशानियों के लिए लौंग की चाय का सेवन करने की सलाह दी गई है (1)।

6. त्वचा स्वास्थ्य के लिए लाभकारी

अध्ययन बताते हैं कि एक्ने और पिंपल्स की समस्या से निजात पाने के लिए लौंग का इस्तेमाल किया जा सकता है (1)। इसके पीछे इसमें मौजूद यूजेनॉल कंपाउंड को माना जा सकता है। यह एक्ने के कारण होने वाली सूजन को कम करने में अहम भूमिका निभा सकता है (6)। ऐसे में इन तथ्यों के आधार पर यह माना जा सकता है कि लौंग की चाय पीने के फायदे त्वचा संबंधी समस्याओं के लिए देखे जा सकते हैं।

आगे और भी है

लेख में आगे लौंग की चाय में मौजूद पौष्टिक तत्वों के बारे में बता रहे हैं।

लौंग की चाय के पौष्टिक तत्व – Clove Tea Nutritional Value in Hindi

लौंग की चाय बनाने के लिए लौंग का इस्तेमाल किया जाता है, जिस वजह से इसमें लौंग के पोषक तत्व पाए जाते हैं। इसी वजह से नीचे हम लौंग में मौजूद पोषक तत्वों के बारे में बता रहे हैं (7)।

पौष्टिक तत्व मात्रा 
पानी9.87 g
एनर्जी274 kcal
प्रोटीन5.97 g
कुल फैट13 g
कार्बोहाइड्रेट65.5 g
फाइबर33.9  g
शुगर2.38 g
ग्लूकोज1.14 g
फ्रुक्टोज1.07 g
कैल्शियम632 mg
आयरन11.83 mg
मैग्नीशियम259 mg
फास्फोरस104 mg
पोटेशियम1020 mg
सोडियम277 mg
जिंक2.32 mg
सेलेनियम7.2 µg
कॉपर0.368 mg
मैंगनीज60.1 mg
विटामिन-सी0.2 mg
थियामिन0.158 mg
राइबोफ्लेविन0.22 mg
नियासिन1.56 mg
विटामिन-बी60.391 mg

नीचे पढ़ें

अब जानते हैं लौंग की चाय का उपयोग व इसके बाद जानेंगे लौंग की चाय के नुकसान ।

लौंग की चाय का उपयोग – How to Use Clove Tea in Hindi

लौंग की चाय का उपयोग कई प्रकार से किया जा सकता है, जिसके बारे में नीचे जानकारी दे रहे हैं।

  • लौंग की चाय का उपयोग हर्बल टी के रूप में किया जा सकता है (8)। इसके लिए लौंग को पानी में उबालकर और फिर इसे छानकर सेवन किया जा सकता है।
  • पेट में दर्द, गैस और जी मिचलाने की समस्या में गुनगुने पानी में लौंग पाउडर मिलाकर लौंग चाय तैयार कर सकते हैं (1)।
  • सांसों में ताजगी लाने के लिए लौंग का चाय पी सकते हैं (1)। इसके लिए पानी में लौंग के साथ थोड़ी चाय पत्ती उबालकर ले सकते हैं।

पढ़ना जारी रखें

लेख में आगे लौंग की चाय बनाने का आसान तरीका जानेंगे।

लौंग की चाय बनाने की विधि – How to Prepare Clove Tea in Hindi

लौंग की चाय को घर पर आसानी से बनाया जा सकता है। नीचे लौंग की चाय बनाने का तरीका बता रहे हैं।

सामग्री:

  • 2 लौंग/ 1 छोटा चम्मच लौंग पाउडर
  • 1 ½ कप पानी
  • एक बर्तन
  • छलनी

बनाने की विधि :

  • सबसे पहले एक बर्तन में पानी डालकर उबलने रख दें।
  • अब इसमें लौंग डालें और कुछ देर तक उबलने दें।
  • वैकल्पिक रूप से इसमें चायपत्ती मिला सकते हैं।
  • अच्छी तरह उबल जाने के बाद इसे एक कप में छान लें।
  • मीठी चाय पसंद है तो इसमें शहद मिला सकते हैं।

नीचे स्क्रॉल करें

अब एक नजर डालेंगे लौंग की चाय के नुकसान पर।

लौंग की चाय के नुकसान – Side Effects of Clove Tea in Hindi

साइड इफेक्ट ऑफ क्लोव टी की बात करें, तो लौंग टी का अधिक मात्रा में सेवन कई दुष्प्रभाव का कारण बन सकता है। ऐसे में नीचे दिए गए नुकसान लौंग की चाय की अधिकता के कारण हो सकते हैं, जिसके बारे में हम नीचे बता रहे हैं (1) (9)।

  • अधिक मात्रा में लौंग का सेवन त्वचा में जलन के साथ बलगम संबंधी समस्या उत्पन्न कर सकता है। ऐसे में ये समस्या लौंग की चाय के अधिक सेवन से भी हो सकती है।
  • प्रेग्नेंसी के दौरान लौंग की चाय के सेवन से परहेज करना चाहिए।
  • संवेदनशील लोगों को लौंग की चाय के सेवन से एलर्जी भी हो सकती है।
  • लौंग की चाय का अधिक सेवन विषाक्तता का कारण बन सकता है।

लौंग का इस्तेमाल चाय बनाने के लिए भी किया जा सकता है, इससे तो आप अच्छे से वाकिफ हो गए होंगे। वहीं, स्वास्थ्य के लिए इसके फायदे कई सारे हैं, जिनके बारे में लेख में विस्तार से जानकारी दी गई है। तो, फिर सोच क्या रहे हैं आज ही से लौंग की चाय के फायदे हासिल करने के लिए इसे अपनी जीवनशैली का हिस्सा बनाएं। बस ध्यान रखें कि अधिक मात्रा में इसका सेवन कई जोखिम का कारण बन सकता है। लौंग की चाय को लेकर मन में किसी तरह का कोई संशय हो तो इसका सेवन से पहले एक बार डॉक्टर से परामर्श अवश्य लें।

अक्सर पूछे जाने वाले सवाल

क्या मैं प्रतिदिन लौंग की चाय पी सकता हूं?

हां, अन्य चाय की तरह लौंग की चाय को दिन में एक बार रोजाना पी सकते हैं। अगर कोई गंभीर बीमारी का उपचार करा रहा है, तो इसका सेवन करने से पहले एक बार डॉक्टर की सलाह अवश्य लें।

क्या लौंग की चाय पेट की चर्बी कम करती है?

हां, चूहों पर किए गए एक रिसर्च में इस बात की पुष्टि होती है कि मोटापे को नियंत्रित करने के साथ पेट की चर्बी को कम करने के लिए लौंग का अर्क प्रभावी हो सकता है (3)। इस आधार पर लौंग की चाय को पेट की चर्बी कम करने के लिए उपयोगी माना जा सकता है।

क्या मैं रात में लौंग की चाय पी सकता हूं?

हां, अगर आप सोने से पहले चाय पीना चाहते हैं, तो लौंग की चाय एक बेहतर विकल्प साबित हो सकती है। शोध में बताया गया कि लौंग में मौजूद एंटी-स्ट्रेस एक्टिविटी तनाव को कम कर सकता है (10)। ऐसे में लौंग की चाय तनाव से राहत दिलाकर अच्छी नींद लेने में सहयोग कर सकती है।

संदर्भ (Sources):

Articles on StyleCraze are backed by verified information from peer-reviewed and academic research papers, reputed organizations, research institutions, and medical associations to ensure accuracy and relevance. Read our editorial policy to learn more.

  1. Recent Trends in Indian Traditional Herbs Syzygium aromaticum and its Health Benefits
    https://www.phytojournal.com/archives/2012/vol1issue1/PartA/1.pdf
  2. Clove and eugenol in noncytotoxic concentrations exert immunomodulatory/ anti-inflammatory action on cytokine production by murine macrophages
    https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/22420667/
  3. Clove extract functions as a natural fatty acid synthesis inhibitor and prevents obesity in a mouse model
    https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/28726934/
  4. In Vitro Antiviral Activity of Clove and Ginger Aqueous Extracts against Feline Calicivirus a Surrogate for Human Norovirus
    https://meridian.allenpress.com/jfp/article/79/6/1001/173960/In-Vitro-Antiviral-Activity-of-Clove-and-Ginger
  5. Clove (Syzygium aromaticum): a precious spice
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC3819475/
  6. Clove extract and eugenol suppress inflammatory responses elicited by Propionibacterium acnes in vitro and in vivo
    https://www.tandfonline.com/doi/full/10.1080/09540105.2017.1320357
  7. Spices cloves ground
    https://fdc.nal.usda.gov/fdc-app.html#/food-details/171321/nutrients
  8. Clove Based Herbal Tea: Development Phytochemical Analysis and Evaluation of Antimicrobial Property
    https://www.jpsr.pharmainfo.in/Documents/Volumes/vol11issue09/jpsr11091905.pdf
  9. Cloves
    https://www.publish.csiro.au/hc/pdf/HC15163
  10. Anti-stress activity of hydro-alcoholic extract of Eugenia caryophyllus buds (clove)
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC2825010/
Was this article helpful?
thumbsupthumbsup
The following two tabs change content below.
पुजा कुमारी ने बनारस हिंदू यूनिवर्सिटी से जर्नलिज्म एंड मास कम्युनिकेशन में एमए किया है। इन्होंने वर्ष 2015 में अपने... more

ताज़े आलेख