लेमन बाम के फायदे, उपयोग और नुकसान – Lemon Balm Benefits, Uses and Side Effects in Hindi

Medically reviewed by Neha Srivastava (Nutritionist), Nutritionist
Written by

लेमन यानी नींबू को तो आप दैनिक रूप से किसी न किसी तरह इस्तेमाल में लाते ही होंगे। इसका स्वाद और स्फूर्ती से भर देने वाला गुण हर किसी को भाता है। लेमन की तरह ही मनमोहक खुशबू और स्वाद वाली एक बूटी भी होती है, जिसका नाम है लेमन बाम। इसका इस्तेमाल आप विभिन्न स्वास्थ्य लाभों के लिए कर सकते हैं। औषधीय गुणों से भरपूर इस लेमन बाम के लाभ से अधिकतर लोग अभी भी अनजान ही हैं। इसलिए, स्टाइलक्रेज के इस खास लेख में हम लेमन बाम के बारे में आपको बताएंगे। लेमन बाम के फायदे, उपयोग और अन्य अहम जानकारियां पाने के लिए इस लेख को जरूर पढ़ें।

शुरू करते हैं लेख

अगर आप लेमन बाम से अनजान हैं, तो सबसे पहले आपको हम लेमन बाम क्या है, यह बता देते हैं।

लेमन बाम क्‍या है – What is Lemon balm in Hindi

लेमन बाम, मिन्ट (पुदीना) परिवार का एक हिस्सा है। लेमन बाम में नींबू की जैसी सुगंध होती है। इस पौधे व जड़ी-बूटी का वैज्ञानिक नाम मेलिसा ऑफिसिनैलिस है। इसकी पत्तियों का रंग पीला या गहरा हरा होता है। इन पत्तियों को हाथों पर रगड़ने से तीखी और भीनी-भीनी खुशबू आती है। इसे बाम मिन्ट, ब्लू बाम, गार्डन बाम और स्वीट बाम भी कहा जाता है (1)।

पढ़ते रहें लेख

लेमन बाम क्या है, यह तो आप जान गए हैं। अब हम आपको लेमन बाम के फायदे बताते हैं।

लेमन बाम के फायदे – Benefits of Lemon balm in Hindi 

1. कोल्ड सोर (Cold Sore)

कभी-कभी होंठों के आसपास की त्वचा पर लाल रंग के चकत्ते हो जाते हैं। इस पर खुजली और हल्की सूजन भी हो जाती है, जिसे कॉल्ड सोर कहते हैं। हरपीज वायरस की वजह से होने वाले कॉल्ड सोर को अगर समय रहते ठीक न किया जाए, तो यह मुंह के छाले में भी बदल सकता हैं (3)। आप इससे निजात पाने के लिए लेमन बाम का इस्तेमाल कर सकते हैं। इसमें एंटीवायरल गुण होते हैं, जो हरपीज वायरस से होने वाले कॉल्ड सोर में राहत दिलाने में मदद कर सकते हैं (2)

2. अनिद्रा और चिंता

तनाव, अवसाद, चिंता व घबराहट ऐसे कई कारण हैं, जिनकी वजह से कई लोगों को रातों को नींद नहीं आती। अनिद्रा की समस्या और होने वाली चिंता को दूर करने में भी लेमन बाम को फायदेमंद माना गया है। इसे पानी में उबालकर पी सकते हैं। लेमन बाम में मौजूद एंटी-स्ट्रेस और एंक्सियोलिटिक (anxiolytic) गतिविधि पाई जाती है, जो तनाव को कम करके अच्छी नींद को बढ़ावा दे सकती है (4) (3)। एंक्सियोलिटिक एक प्रकार की चिंता व घबराहट को कम करने की प्राकृतिक दवा है।

3. एंटीऑक्सीडेंट

लेमन बाम में फेनोलिक कंटेंट और एंटीऑक्सीडेंट गुण होते हैं। ये आपके शरीर में मुक्त कणों की वजह से होने वाली स्वास्थ्य समस्याओं को दूर करने में मदद कर सकते हैं (3)

4. रेडिएशन से होने वाले नुकसान से बचाएं

कैंसर और कुछ अन्य बीमारियों व स्वास्थ्य समस्याओं में रेडिएशन का इस्तेमाल किया जाता है। यह आपकी समस्या दूर करने के साथ-साथ अन्य समस्याओं का कारण भी बन सकती है। ऐसे में अगर आप रेडिएशन थेरेपी या किसी अन्य तरह के रेडिएशन से होने वाले नुकसान से खुद को बचाना चाहते हैं, तो लेमन बाम का इस्तेमाल कर सकते हैं। दरअसल, यह रेडिएशन की वजह से डीएनए को होने वाले नुकसान को रोकने में मदद करता है। साथ ही ऑक्सिडेटिव स्ट्रेस को भी कम करता है (3)

5. इम्यूनिटी

लेमन बाम आपके इम्यूनिटी लेवल को भी बढ़ाने में मदद कर सकता है। दरअसल, इसमें एंटी-बैक्टीरियल, एंटीफंगल व एंटी-पैरासिटिक जैसे कई गुण मौजूद होते हैं। इसलिए, यह बैक्टीरिया की वजह से होने वाली सभी बीमारियों से आपको बचाता है। साथ ही इसका एंटी-माइक्रोबियल गुण कीटाणुओं को पनपने से भी रोक सकता है (3) (5)

6. मुंह का इंफेक्शन

जैसा कि हम आपको ऊपर लेख में बता चुके हैं कि लेमन बाम में एंटीबैक्टीरियल, एंटीफंगल और एंटीवायरल गुण होते हैं। यह लेमन बाम के गुण कई तरह के वायरस और बैक्टीरिया से लड़ने में सक्षम हैं (3), इसलिए इसका इस्तेमाल मुंह से संबंधित इंफेक्शन (ओरल हरपीज) को दूर करने के लिए भी किया जा सकता है। मुंह में पनपने वाले बैक्टीरिया से लड़ने के लिए लेमन बाम से आप कुल्ला कर सकते हैं (6)। अगर मुंह के इंफेक्शन की वजह से आपको मसूड़ों में दर्द या सूजन की समस्या हो रही है, तो इसमें मौजूद एंटीइंफ्लेमेटरी और एनाल्जेसिक गुण आपको राहत दे सकते हैं। आप इंफेक्शन वाली जगह पर इसका पेस्ट भी लगा सकते हैं।

7. तनाव

हम आपको लेख के ऊपरी हिस्से में बता चुके हैं कि लेमन बाम में एंटी-स्ट्रेस और एंक्सियोलिटिक (anxiolytic) गुण होते हैं। लेमन बाम में मौजूद यह गुण आपको तनाव से बचाने में मदद कर सकते हैं। दरअसल, एंक्सियोलिटिक गुण उस ड्रग की तरह काम करता है, जो आपकी तनावपूर्ण व थकी नसोंं को रिलेक्स करने में मदद कर सकता है (4)

8. वजन

आजकल बढ़ते वजन की समस्या से कई लोग परेशान हैं। अगर आप भी इसी श्रेणी में आते हैं, तो आप लेमन बाम की चाय का इस्तेमाल कर सकते हैं। दरअसल, लेमन बाम में फ्लेवोनोइड होता है, जो वजन को नियंत्रित रखने में मदद कर सकता है दरअसल, लेमन बाम में फ्लेवोनोइड होता है, जो वजन को नियंत्रित रखने में मदद कर सकता है (7) (8)

9. डायबिटीज

लेमन बाम एंटी-डायबिटिक के रूप में काम करता है। इसका अर्क लिपिड प्रोफाइल को सुधारने और ग्लाइसेमिक इंडेक्स यानी ग्लूकोज के लेवल को कम करने में मदद कर सकता है (8)। इसके अलावा, लेमन बाम का तेल भी टाइप-2 डायबिटीज के मरीजों के ब्लड ग्लूकोज लेवल को कम करने में सहायक पाया गया है (9)

10. थायराइड

लेमन बाम थायराइड को बढ़ने से रोकता है। यह शरीर में थायराइड इनहिबिटर्स की तरह काम करता है (10)। प्रयोगशाला में हुए एक रिसर्च के मुताबिक, लेमन बाम का सूखा अर्क थायराइड हार्मोन को संतुलित कर सकता है। इसके अलावा, यह थायराइड हार्मोन को ज्यादा उत्तेजित होने से भी रोकने में अहम भूमिका निभा सकता है। ध्यान रहे कि यह थायराइड से संबंधित दवाओं पर भी प्रभाव डाल सकता है (1)। इसलिए, थायराइड की अवस्था में इसका सेवन डॉक्टर से पूछकर ही करें।

11. सिरदर्द

माना जाता है कि लेमन बाम सिरदर्द को भी ठीक करने में मदद कर सकता है। इसी वजह से इसका इस्तेमाल कई तरह की एरोमाथेरेपी में किया जाता है। दरअसल, इसमें एनाल्जेसिक और एंक्सियोलिटिक (anxiolytic) गुण पाए जाते हैं, जो सिरदर्द को ठीक करने में सहायक हो सकते हैं। इसके अलावा, अगर आपका मूड खराब है, तो उसे भी सुधारने में लेमन बाम मदद कर सकता है (12)। आप इसके तेल को सूखाकर या फिर इसके काढ़ा का सेवन करके अपने सिरदर्द को ठीक कर सकते हैं

12. हर्बल टी

लेमन बाम में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट और अन्य जरूरी गुणों की वजह से इसका इस्तेमाल हर्बल टी की तरह भी किया जाता है। कुछ देशों में लेमन बाम की पत्तियों से बनी चाय का उपयोग माइग्रेन, अनिद्रा और पेट की बीमारियों के इलाज के लिए एक वैकल्पिक चिकित्सा के रूप में किया जाता है। साथ ही दिल को मजबूत बनाने और स्मृति शक्ति को बेहतर बनाने के लिए भी इस चाय का सेवन किया जाता है (13)

13. त्वचा

लेमन बाम आपकी त्वचा के लचीलेपन को बरकरार रखने में मददगार हो सकता है (14)। साथ ही यह सूरज की पराबैंगनी किरणों के कारण त्वचा को होने वाले नुकसान को कम करने में सहायक माना गया है। इसमें मौजूद रोजमारिनिक एसिड, साल्विनोलिक एसिड, कैफीक एसिड और ल्यूटोलिन ग्लुकोरोनाइड लेमन बाम को त्वचा के लिए फायदेमंद बनाते हैं (15)। इसका इस्तेमाल स्किन टोनर की तरह करने की सलाह दी जाती है।

आगे और पढ़ें

14. खाने में उपयोग

लेमन बाम का इस्तेमाल खाने में भी इस्तेमाल कर सकते हैं। लेमन बाम की ताजा और सूखी दोनों पत्तियों का इस्तेमाल खाने में किया जा सकता है। इसे बर्गर और पेटीज में फ्लेवर के लिए उपयोग करते हैं। इसके अलावा, मीट में एंटीऑक्सीडेंट गुण जोड़ने के लिए भी इसका प्रयोग किया जाता है (16)

लेमन बाम के फायदे जानने के बाद चलिए अब बात करते हैं इसमें मौजूद पोषक तत्वों की।

लेमन बाम के पौष्टिक तत्व –  Lemon balm Nutritional Value in Hindi

लेमन बाम (मेलिसा ऑफिसिनैलिस) में विटामिन सी और थियामिन (विटामिन-बी) दोनों होते हैं। लेमन बाम के प्रति 100 मिलीलीटर घोल में 254 मिलीग्राम विटामिन सी पाया जाता है। वहीं, जब लेमन बाम की पत्तियों को सुखाकर इसे स्टोर किया जाता है, तो विटामिन सी की मात्रा में 50 प्रतिशत तक गिरावट आ जाती है। इसे फ्रीज करने पर 25 प्रतिशत विटामिन-सी इसमें कम पाया गया। थियामिन की मात्रा की बात करें, तो 100 मिलीलीटर घोल में 76.4 माइक्रोग्राम थियामिन पाया जाता है (11)

जारी रखें पढ़ना

अब हम बात करेंगे लेमन बाम के उपयोग की। आगे लेख में हम आपको लेमन बाम के नुकसान के बारे में भी बताएंगे।

लेमन बाम का उपयोग – How to Use Lemon balm in Hindi

लेमन बाम के लाभ तो आप पढ़ ही चुके हैं। अब आपको इसका उपयोग भी बता देते हैं, ताकि आप इस औषधीय बूटी का भरपूर लाभ उठा सकें। इसे नीचे क्रमवार पढ़ें :

  • लेमन बाम का इस्तेमाल आप पेस्ट की तरह कर सकते हैं।
  • लेमन बाम का आप काढ़ा बनाकर पी सकते हैं।
  • इसका इस्तेमाल लिप बाम बनाने के लिए किया जा सकता है।
  • लेमन बाम की पत्तियोंं को पीसकर आप फेस पैक की तरह उपयोग में ला सकते हैं।
  • आप इसे हर्बल चाय की तरह पी सकते हैं।

लेख को अंत तक पढ़ें

लेमन बाम के उपयोग के बाद अब लेमन बाम के नुकसान पर भी नजर डाल लेते हैं।

लेमन बाम के नुकसान – Side Effects of Lemon balm in Hindi 

लेमन बाम के फायदे तो हैं ही, लेकिन इसका ज्यादा सेवन करने से शरीर को लेमन बाम के नुकसान भी झेलने पड़ सकते हैं (17) (3)

  • लेमन बाम में हाइपोग्लाइमिक गुण होता है। यह उच्च रक्तचाप की स्थिति में फायदेमंद होता है। वहीं, अगर इसे जरूरत से ज्यादा लिया जाए, तो यह शरीर में ग्लूकोज का स्तर इतना कम कर देता है कि आप ऊर्जाहीन महसूस करने लगते हैं।
  • प्रेगनेंसी में इसे असुरक्षित माना जाता है।
  • स्तनपान के दौरान भी इसका सेवन सुरक्षित नहीं माना गया है।
  • बाल रोगियों के लिए भी यह असुरक्षित माना गया है।
  • लेमन बाम को थायराइड की दवा के साथ न लेने की सलाह दी जाती है।

स्वास्थ्य लाभ के लिए लेमन बाम का प्रयोग आप इसे भोजन में शामिल करके या चाय के विकल्प के रूप में कर सकते हैं। इस लेख में दिए गए फायदों को पढ़ने के बाद अगर आपको लगता है कि आपकी स्वास्थ्य समस्या का समाधान लेमन बाम में छिपा है, तो आप इस जड़ी-बूटी को आजमा सकते हैं। लेमन बाम के उपयोग के दौरान यह जरूर सुनिश्चित करें कि आप इसका सेवन अधिक मात्रा में न करें। अगर आपको जड़ी-बूटियों से किसी तरह की एलर्जी होती है, तो डॉक्टरी परामर्श जरूर लें। उम्मीद करते हैं यह लेख आपके लिए ज्ञानवर्धक साबित हुआ होगा। ऐसी ही अन्य जानकारी के लिए जुड़े रहे स्टाइलक्रेज के साथ।

19 Sources

Articles on StyleCraze are backed by verified information from peer-reviewed and academic research papers, reputed organizations, research institutions, and medical associations to ensure accuracy and relevance. Read our editorial policy to learn more.

  1. and pharmacology
    http://accurateclinic.com/wp-content/uploads/2016/11/Melissa-officinalis-L.-%E2%80%93-A-review-of-its-traditional-uses-phytochemistry-and-pharmacology-2016.pdf
  2. Melissa officinalis L: A Review Study With an Antioxidant Prospective
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC5871149/
  3. Cold sores: Overview
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/books/NBK525782/
  4. Anti-Stress Effects of Lemon Balm-Containing Foods
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC4245564/
  5. The effect of the Melissa officinalis extract on immune response in mice
    https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/15080594/
  6. Catherine Ulbricht PharmD MBA(C) Column Editor Lemon Balm (Melissa officinalis L.)An Evidence-Based Systematic Review by the Natural Standard Research Collaboration
    https://www.researchgate.net/publication/232034411_Catherine_Ulbricht_PharmD_MBAC_Column_Editor_Lemon_Balm_Melissa_officinalis_LAn_Evidence-Based_Systematic_Review_by_the_Natural_Standard_Research_Collaboration
  7. Effects of Lemon Balm on the Oxidative Stability and the Quality Properties of Hamburger Patties during Refrigerated Storage
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC4662158/?tool=pmcentrez
  8. Dietary flavonoid intake and weight maintenance: three prospective cohorts of 124 086 US men and women followed for up to 24 years
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC4730111/
  9. Efficacy of Melissa officinalis L. (lemon balm) extract on glycemic control and cardiovascular risk factors in individuals with type 2 diabetes: A randomized double-blind clinical trial
    https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/30548118/
  10. Anti-diabetic effects of lemon balm ( Melissa officinalis) essential oil on glucose- and lipid-regulating enzymes in type 2 diabetic mice
    https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/20487577/
  11. In vitro assay of thyroid disruptors affecting TSH-stimulated adenylate cyclase activity
    https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/14759065/
  12. The Effect of Melissa Officinalis Extract on the Severity of Primary Dysmenorrha
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC5963658/
  13. Does Melissa Officinalis Cause Withdrawal or Dependence?
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC4384870/
  14. Beneficial Effects of Lemon Balm Leaf Extract on In Vitro Glycation of Proteins Arterial Stiffness and Skin Elasticity in Healthy Adults
    https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/28367927/
  15. Lemon balm extract (Melissa officinalis L.) promotes melanogenesis and prevents UVB-induced oxidative stress and DNA damage in a skin cell model
    https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/27528586/
  16. Effects of Lemon Balm on the Oxidative Stability and the Quality Properties of Hamburger Patties during Refrigerated Storage
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC4662158/
  17. in Macedonia
    https://core.ac.uk/download/pdf/35333618.pdf

और पढ़े:

Was this article helpful?
The following two tabs change content below.
विनिता पंगेनी ने एनएनबी गढ़वाल विश्वविद्यालय से मास कम्यूनिकेशन में बीए ऑनर्स और एमए किया है। टेलीविजन और डिजिटल मीडिया में काम करते हुए इन्हें करीब चार साल हो गए हैं। इन्हें उत्तराखंड के कई पॉलिटिकल लीडर और लोकल कलाकारों के इंटरव्यू लेना और लेखन का अनुभव है। विशेष कर इन्हें आम लोगों से जुड़ी रिपोर्ट्स करना और उस पर लेख लिखना पसंद है। इसके अलावा, इन्हें बाइक चलाना, नई जगह घूमना और नए लोगों से मिलकर उनके जीवन के अनुभव जानना अच्छा लगता है।

ताज़े आलेख