लव मैरिज बेहतर है या अरेंज्ड मैरिज? : Love Marriage vs Arrange Marriage In Hindi

Written by

शादी एक पवित्र बंधन है, जिसे जन्मों-जन्मों का साथ माना जाता है। हर कोई चाहता है कि उसका होने वाला पार्टनर परफेक्ट हो और उनकी शादी एक सफल मैरिज कहलाए। इसी के साथ शादी के लायक लड़के-लड़कियों के मन में एक सवाल यह भी पैदा होता है कि लव मैरिज बढ़िया है या अरेंज मैरिज? अगर आपकी शादी हो गई है, तो जरूर आपके भी मन में यह सवाल आया होगा या फिर आपकी शादी करने की उम्र है, तो आपके मन में यह सवाल जरूर चलता होगा। तो आइये, स्टाइलक्रेज के इस आर्टिकल में इस सवाल का जवाब ढूंढने की कोशिश करते हैं।

शुरू करते हैं आर्टिकल

सबसे पहले जानते हैं कि लव मैरिज और अरेंज मैरिज में क्या फर्क है।

दोनो शादियों में फर्क क्या है?

लव और अरेंज मैरिज में से बढ़िया चुनने से पहले हम दोनों शादियों के बीच का फर्क समझ लेते हैं। पढ़ें नीचे :

अरेंज मैरिज/सुसंगत विवाह – Arrange Marriage in hindi

अरेंज मैरिज या सुसंगत विवाह में अक्सर लड़का-लड़की के परिवार एक दूसरे का चुनाव करते हैं, जिसके बाद लड़का-लड़की की मर्जी भी देखी जाती है। इस तरह की मैरिज में लड़का-लड़की आपस में अनजान होते हैं और शादी के दौरान या बाद में ही एक-दूसरे को जान पाते हैं। दोनों परिवारों की सहमति से की गई इस शादी में परिवारों की भागीदारी ज्यादा होती है और वह शादी के बाद की दिक्कतों और चुनौतियों में साथ भी देते हैं।

लव मैरिज/प्रेम विवाह – Love Marriage in hindi

लव मैरिज या प्रेम विवाह में लड़का और लड़की की भागीदारी ज्यादा होती है। वह पहले से ही एक-दूसरे की अच्छाइयों और कमियों को जानते हैं, जिसके बाद वे जिंदगी भर एक-दूसरे के साथ रहने का फैसला करते हैं। हालांकि, इस तरह की शादियों में अक्सर दोनों के परिवार वालों की पसंद कम ही देखने को मिलती है। दोनों परिवारों का एक-दूसरे को पसंद करना मुश्किल से ही मिलता है। हालांकि, माहौल अब बदल रहा है। हालांकि, लव मैरिज में शादी के बाद कोई विवाद होने पर परिवार वालों का साथ मिलना मुश्किल होता है।

स्क्रॉल करें

अब लव मैरिज बनाम अरेंज मैरिज इन हिंदी जानते हैं।

अरेंज मैरिज और लव मैरिज में से कौन-सी शादी बेहतर है : Love Marriage and Arrange Marriage Difference In Hindi

लव और अरेंज मैरिज में से कौन-सी शादी बेहतर है, इसका सीधा जवाब नहीं मिल सकता है। हर किसी की प्राथमिकताएं अलग-अलग होती हैं। हम यहां लव मैरिज और अरेंज मैरिज के के बीच के अंतर को बता रहे हैं, जिसे जानने के बाद आप खुद के लिए एक बेहतर निर्णय ले पाएंगे। सबसे पहले हम अरेंज मैरिज के

कुछ बिंदुओं पर बात कर लेते हैं।

1. हमेशा मिलता है परिवार का साथ

अरेंज मैरिज का यह फायदा है कि शुरू से लेकर अंत तक दोनों पार्टनर को दोनों परिवारों का साथ मिलता रहता है। जिस कारण भविष्य में कोई भी ऊंच-नीच आने पर वह आपके साथ खड़े रहते हैं। परिवारों के होने से दोनों पार्टनर्स का कमिटमेंट देखने को मिलता है, लेकिन इसका नुकसान भी हो सकता है कि आपके रिश्ते में किसी एक या दोनों परिवार की तरफ से दखल दी जा सकती है।

2. फ्यूचर प्लानिंग आसान होती है

आप जब अरेंज मैरिज करते हो, तो घरवाले शुरुआत से ही फाइनेंशियल स्टेबिलिटी सुनिश्चित करते हैं, जिससे आपको अपनी फ्यूचर और फैमिली प्लानिंग करने में आसानी होती है। वह शुरू से ही घरवालों को साथ लेकर चलते हैं, जिस वजह से भविष्य में किसी भी तरह की आर्थिक तंगी आने पर मदद मिलने की संभावना होती है।

3. धीरे-धीरे बढ़ता है प्यार

अरेंज मैरिज में लड़का-लड़की एक-दूसरे से बिल्कुल अनजान हो सकते हैं। इस कारण बातों व मुलाकातों का सिलसिला धीरे-धीरे बढ़ता है। यही वजह है कि सुसंगत विवाह में प्यार धीरे-धीरे बढ़ता है, इसकी शुरुआत अमूमन शादी के बाद ही होती है। समय के साथ परवान चढ़े प्यार के हमेशा बने रहने की ज्यादा संभावना होती है। इसलिए भी इस प्रकार की शादी को बेहतर माना जा सकता है।

4. बिग फैट वेडिंग

अगर आप उन लोगों में से हैं, जिन्हें अपना शादी बिल्कुल बिग फैट वेडिंग जैसी चाहिए, तो अरेंज मैरिज ही आपका जवाब हो सकता है, क्योंकि इसमें दोनों परिवारों के मिलकर एक बड़े फंक्शन करने की संभावना ज्यादा होती है। जहां विभिन्न रस्मों, संगीत व सभी रिश्तेदारों और फैमिली के साथ शादी का भरपूर लुत्फ उठाया जा सकता है।

5. आपसी मतभेद हो सकते हैं

जैसा कि हमने बताया कि अरेंज मैरिज में दोनों पार्टनर एक-दूसरे से बिल्कुल अनजान हो सकते हैं और एक-दूसरे की पसंद-नापसंद से भी अनजान हो सकते हैं। इससे उनमें कंपैटिबिलिटी इश्यू आ सकता है, क्योंकि उन्हें अचानक ही एक दूसरे के साथ रहना पड़ता है। इससे शुरुआत में आपसी मतभेद हो सकते हैं। ऐसा भी हो सकता है कि इससे जिंदगी भर रिश्ता चलाना भारी पड़ जाए।

6. कुछ ही मुलाकात में निर्णय लेना

किसी इंसान को जानने-पहचानने के लिए समय लगता है। आप कुछ ही मुलाकात या थोड़ी बात करके सामने वाले के व्यक्तित्व के बारे में कुछ नहीं जान सकते हैं। उसके साथ ही आपको इन चंद मुलाकातों में जिंदगी भर साथ रहने का बड़ा फैसला करना पड़ता है। ऐसे में आपके लिए हालात और फैसला मुश्किल हो सकता है।

7. शेयर करने से पहले सोचना पड़ता है

जब हम अरेंज मैरिज करते हैं, तो अधिकतर लोगों को अपने बारे में कुछ बताने या बोलने से पहले कई बार सोचना पड़ता है। दिमाग में आता है कि ना जाने सामने वाला व्यक्ति आपको जज न करने लगे या फिर परेशानी या बात समझने लायक इमोशंस हैं या नहीं। शादी के काफी समय बाद तक लोग एक-दूसरे को अपनी पुरानी जिंदगी के बारे में खुलकर बात नहीं कर सकते।

8. जबरदस्ती शादी से नहीं किया जा सकता इनकार

जब घरवाले आपकी शादी करते हैं, तो ऐसे में यह समझना और जानना बहुत जरूरी है कि सामने वाला व्यक्ति किसी जोर-जबरदस्ती के तहत तो शादी नहीं कर रहा, क्योंकि खासकर लड़कियों के साथ कुछ घरवाले उनकी मर्जी के बिना शादी करवा देते हैं, जिससे शादी के बाद ना लड़की खुश रह पाती है और ना लड़का।

नीचे पढ़ें लव मैरिज से जुड़ी बातें

9. प्यार की नींव पर होती है लव मैरिज

लव मैरिज की सबसे खास बात यही है कि यह तभी होती है, जब दो लोगों में आपस में प्यार होता है। शादी के लिए प्यार ही वह कसौटी है, जिसपर आगे की इमारत बनती है। प्रेम विवाह में दोनों पार्टनर्स के बीच में बहुत प्यार होता है, जिस कारण उनकी शादी के बाद की जिंदगी भी काफी अच्छी देखी जा सकती है।

10. बेहतर तरीके से समझना

लव मैरिज में दोनों लोग एक-दूसरे को पहले से जानते हैं और वह तभी इसका फैसला लेते हैं, जब उनका जानना पर्याप्त हो चुका होता है। इसलिए, उनके बीच कंपैटिबिलिटी इश्यू नहीं आते। वह एक-दूसरे को बेहतर तरीके से समझते हैं और उसी हिसाब से साथ निभाते है। इस प्रकार की शादी में पार्टनर्स के बीच अंडरस्टैंडिंग देखी जाती है।

11. एक-दूसरे की आदत

प्रेम विवाह में शादीशुदा पार्टनर्स को एक-दूसरे की पहले से आदत होती है और वह दोनों की पुरानी जिंदगी से भी वाकिफ होते हैं। वह एक-दूसरे की समस्याओं, भावनाओं और मानसिक स्थिति को बखूबी समझते हैं। इसलिए, वो लोग आपस में बिना सोचे-समझे कुछ भी शेयर कर सकते हैं, जिससे रिश्ता मजबूत होता है।

12. खुद के फैसले

प्रेम विवाह की एक अच्छी बात यह भी है कि इसमें आप अपनी लाइफ के फैसले खुद लेते हैं। जब जिंदगी आपकी है, तो फैसले कोई और क्यों लें। आप अपनी स्थिति और समझ के मुताबिक निर्णय लेते हैं, जो कि गलत तो हो सकते हैं, लेकिन किसी तरह का दबाव नहीं होता।

13. खुद तय कर सकते हैं कि शादी कैसी हो

भारत में शादियों पर खूब पैसा खर्च किया जाता है, लेकिन आजकल के युवाओं की सोच काफी अलग है। उनका मानना है कि शादियों में इतना पैसा खर्च करने का कोई मतलब नहीं है। आप इस पैसे को अपने भविष्य के लिए बचा सकते हैं। इसलिए, लव मैरिज में यह आजादी मिल जाती है कि आप कितने बजट में शादी करना चाहते हैं या फिर आप सिर्फ कोर्ट मैरिज से ही खुश हैं।

14. अनुभव की कमी

लव मैरिज के साथ जहां फैसले लेने की आजादी मिल जाती है, वहीं अनुभव की कमी भी खलती है। दरअसल, शादी-विवाह के फैसले बहुत बड़े होते हैं, जिनमें बड़े-बुजुर्गों या परिवार वाले बहुत कुछ देखते हैं। इसके साथ शादी के बाद कोई विवाद आने पर आपको उनका पूरा समर्थन मिलना थोड़ा मुश्किल हो सकता है।

17. क्या यही प्यार है

प्रेम विवाह में अक्सर एक गलती लोग कर बैठते हैं, जो शादी के बाद पता चलती है। कुछ लोग आकर्षण को प्यार समझ लेते हैं और बहुत जल्दी शादी का फैसला कर लेते हैं। यह गलत अनुमान शादी के बाद उनकी जिंदगी में कई परेशानियां और झगड़े ला सकता है। इसलिए, आपका परिपक्वता से निरीक्षण करना बहुत जरूरी है।

16. दूसरे जरूरी पहलुओं को न जानना

हमेशा बताया जाता है कि शादी सिर्फ दो लोगों का नहीं, बल्कि परिवारों का मिलन होता है, लेकिन लव मैरिज में पार्टनर के फैमिली बैकग्राउंड, वातावरण, आर्थिक स्थिति व सामाजिक स्थिति के बारे में आपको बहुत कम जानकारी हो सकती है, जो आगे चलकर आपके लिए परेशानी का कारण बन सकती है। यह समझने की गलती न करें कि यह बातें शादी में मायने नहीं रखती।

जारी रखें

अब आगे जानते हैं हैप्पी मैरिज के लिए कौन-से टिप्स काम आ सकते हैं।

हैप्पी मैरिज के लिए टिप्स : लव और अरेंज मैरिज दोनों के लिए – Tips for Happy Marriage : Either Arrange or Love in Hindi

लव हो या अरेंज, लेकिन शादी का हैप्पी मैरिज होना बहुत जरूरी है। तो आइये, जानते हैं कि किसी शादी को हैप्पी मैरिज बनाने के लिए कौन-से टिप्स काम आ सकते हैं।

1. दिलचस्पी दिखाना

शादी के कुछ समय बाद पार्टनर्स की एक-दूसरे के लिए दिलचस्पी कम हो सकती है, जो कि शादी व रिश्ते के लिए काफी नुकसानदायक है। इससे सामने वाले पार्टनर को लगता है कि मेरे लिए साथी का प्यार कम हो गया है। इसलिए, शादी के बाद बीच-बीच में पार्टनर को गिफ्ट देना, बाहर घूमने ले जाना या सरप्राइज प्लान जैसे काम करते हैं, जिससे यह न लगे कि अब रिश्ते में दिलचस्पी कम हो गई है। साथ ही बीच-बीच में एक दूसरी की तारीफ भी करते रहें।

2. नये रास्ते

लव हो या अरेंज मैरिज, लेकिन शादी के बाद आपको नये सिरे से सोचने और रास्ते खोजने की जरूरत होती है, क्योंकि शादी के बाद सब कुछ बदल जाता है। आपके ऊपर जिम्मेदारी आ जाती है और आपको भविष्य में और भी जिम्मेदारी उठाने के लिए अभी से तैयारी करनी पड़ती है। इसलिए, साथ मिलकर नये रास्ते ढूंढें, जिससे आप दोनों नये रिश्ते में सहजता महसूस करें।

3. बातचीत करते रहें

ऐसा नहीं होना चाहिए कि शादी के बाद आप दोनों पर्सनल टाइम निकालना भूल जाएं। दिन में एक बार एक-दूसरे से बातचीत जरूर करें और उनकी बातों को सुनें। रिश्ता मजबूत बनाए रखने के लिए बातचीत करना बहुत जरूरी है, नहीं तो दोनों के बीच धीरे-धीरे दूरी आ सकती है।

4. शिकायत का पिटारा रखें बंद

अरेंज या लव मैरिज में शादी के बाद कई शिकायतें आने लगती हैं, जिससे सामने वाला पार्टनर दूरी बनाने लगता है या उसका अक्सर मूड ऑफ रहता है। इस बात को समझें कि दोनों पर नयी जिम्मेदारियां और उम्मीदें आई हैं, जिनके साथ तालमेल बैठाने की वो कोशिश कर रहे हैं। इसलिए, शिकायतें करने की बजाय दिक्कतों का हल निकालने के बारे में सोचें।

5. प्यार है सबका हल

देखिए जिस शादी में प्यार बरकरार रहता है, वह दिक्कतों व अड़चनों के बाद भी मजबूत और खुशहाल रहती है। इसलिए, इस नये रिश्ते में प्यार की कमी न होने दें। चाहे आप कितने भी व्यस्त क्यों न हों, लेकिन पूरे दिन में कम से कम एक बार अपने पार्टनर को स्पेशल फील करवाना न भूलें। एक रोमांटिक मैसेज या प्यार भरा गुड मॉर्निंग मैसेज आपका काम आसान कर सकता है।

6. क्वालिटी टाइम

शादी में क्वालिटी टाइम बिताना बहुत जरूरी है। जहां सिर्फ आप दोनों हों और आपकी फीलिंग्स। इससे शादीशुदा कपल्स के बीच प्यार और रिश्ता काफी मजबूत बना रहता है। आप अपने पार्टनर के साथ किसी वैकेशन, ड्राइव या आउटिंग पर जा सकते हैं। यकीन मानें यह काफी असरदार टिप है।
हमें उम्मीद है कि इस आर्टिकल से आपको पता लग गया होगा कि आपके लिए लव मैरिज व अरेंज मैरिज में से क्या बेहतर है। देखिए दोनों तरह की शादियों की अपनी खासियत और कमियां हैं, जिसे आप अपने हिसाब से बेहतर कर सकते हैं। आपको जो अनुकूल लगे, उसका फैसला ले सकते हैं, लेकिन जो भी फैसला लें, सोच-समझकर लें। इसी तरह के अन्य दिलचस्प विषयों के बारे में पढ़ने के लिए स्टाइलक्रेज से जुड़े रहें।

अक्सर पूछे जाने वाले सवाल :

लव मैरिज या अरेंज मैरिज में से सक्सेसफुल कौन-सी है?

यह समझ लीजिए कि कोई मैरिज वैज्ञानिक तौर पर सक्सेसफुल या अनसक्सेसफुल नहीं है। आप दोनों ही शादियों में प्यार, भरोसा और समर्थन दिखाकर उन्हें सफल बना सकते हैं।

लव मैरिज अरेंज मैरिज से बेहतर क्यों है?

लव मैरिज को अरेंज मैरिज से बेहतर कुछ बिंदुओं पर माना जा सकता है, जिसमें फैसले लेने की आजादी, कपल्स के बीच प्यार होना और कंपैटिबिलिटी होना शामिल है।

लव मैरिज अच्छी है या बुरी?

दोनों ही प्रकार की शादी अच्छी है। लव मैरिज का अच्छा या बुरा होना आपके कंफर्ट व व्यक्तिगत अनुभव पर निर्भर करता है।

Was this article helpful?
The following two tabs change content below.

ताज़े आलेख