मारुला तेल के फायदे, उपयोग और नुकसान – Marula Oil Benefits, Uses and Side Effects in Hindi

Written by , (शिक्षा- एमए इन जर्नलिज्म मीडिया कम्युनिकेशन)

स्वास्थ्य के लिए कई तरह के तेल लाभदायक होते हैं। कुछ ऐसा ही गुणकारी मारुला तेल को भी माना जाता है। मरुला तेल का नाम कई लोगों के लिए नया हो सकता है। बस तो मारुला तेल से जुड़ी पूरी जानकारी पाने के लिए स्टाइलक्रेज का यह लेख पढ़ें। यहां हम बताएंगे मारुला तेल के फायदे क्या हैं और मारुला तेल का उपयोग कैसे कर सकते हैं। साथ ही सावधानी के तौर पर मारुला तेल के नुकसान पर भी चर्चा करेंगे।

नीचे विस्तार से पढ़ें

लेख के शुरुआत में हम मारुला तेल के फायदे बताएंगे।

मारुला तेल के फायदे – Benefits of Marula Oil in Hindi

मारुला तेल के स्वास्थ्य फायदे क्या-क्या हो सकते हैं, यह जानकारी हम नीचे दे रहे हैं। बस गंभीर स्थिति में चिकित्सक से संपर्क जरूर करें, क्योंकि मारुला तेल मेडिकल ट्रीटमेंट का विकल्प नहीं है।

1. स्ट्रेच मार्क्स के लिए

मारुला तेल का उपयोग करके स्ट्रेच मार्क्स को कम किया जा सकता है। एनसीबीआई (नेशनल सेंट्रल फॉर बायोटेक्नोलॉजी इंर्फोमेशन) की वेबसाइट में भी इस बात का जिक्र मिलता है। रिसर्च के अनुसार, मारुला तेल का इस्तेमाल घाव के आसपास और निशानों के लिए किया जा सकता है। यह स्कार टिश्यू यानी निशान का कारण बनने वाले टिश्यू से बचाव और उनका उपचार कर सकता है (1)। ऐसे में स्ट्रेच मार्क्स हटाने के उपाय में मारुला तेल को भी गिना जा सकता है।

उपयोग की विधि:

  • सबसे पहले आवश्यकतानुसार मारुला तेल को हल्का गर्म करें।
  • अब उसे हाथ में लेकर प्रभावित हिस्से पर लगाएं।
  • फिर तब तक हल्की मसाज करें जब तक यह अवशोषित न हो जाए।
  • इसे रात में सोने से पहले लगा सकते हैं।

2. मुंहासों के लिए

मारुला ऑयल मुंहासों के लिए भी लाभकारी हो सकता है। दरअसल, मारुला तेल में लिनोलेनिक फैटी एसिड होता है। इससे संबंधित एक शोध में जिक्र मिलता है कि लिनोलेनिक एसिड मुंहासों की समस्या से आराम दिला सकता है। इसके अलावा, लिनोलेनिक एसिड त्वचा को मॉइस्चराइज करने का काम भी करता है। यही वजह है कि इसका इस्तेमाल कई कॉस्मेटिक उत्पादों में किया जाता है (2)।

उपयोग की विधि:

  • उंगलियों की मदद से मारुला तेल की कुछ बूंदें मुंहासे पर लगाएं।
  • इसे कुछ घंटों तक त्वचा पर लगे रहने दें।
  • फिर गुनगुने पानी से चेहरा धो लें।

3. फटे होंठ ठीक करने के लिए

होंठ फटने की समस्या से परेशान व्यक्ति के लिए मारुला तेल घरेलू उपचार के रूप में काम कर सकता है। दरअसल, होंठ फटने का एक मुख्य कारण होंठों में नमी की कमी है (3)। वहीं, इस तेल में मॉइस्चराइजिंग प्रभाव होता है, जो होंठों की नमी को बरकरार रख सकता है (1)। ऐसे में माना जा सकता है कि फटे होंठों से छुटकारा पाने के लिए इसका इस्तेमाल किया जा सकता है।

उपयोग की विधि:

  • मारुला तेल को होठों पर लिप बाम की तरह लगाएं।
  • इसे रातभर लगाकर रख सकते हैं।
  • एक-दो बूंद मारुला ऑयल से होंठों पर मसाज भी कर सकते हैं।

4. ब्रिटल नेल्स के लिए

ब्रिटल नेल्स नाखूनों से जुड़ी समस्या है। इसमें नाखून की सतह खुरदरी और कमजोर हो जाती है। यह स्थिति आमतौर पर बुजुर्ग व्यक्तियों में देखी जाती है (4)। बताया जाता है कि ब्रिटल नेल्स की समस्या नाखूनों में होने वाली डिहाइड्रेशन के कारण हो सकती है (5)। ऐसे में मारुला तेल में मौजूद मॉइस्चराइजिंग प्रभाव मददगार साबित हो सकता है (1)।

उपयोग की विधि:

  • रात में सोने से पहले मारुला तेल को हाथों और पैरों के नाखूनों पर लगाएं।
  • फिर कुछ देर नाखूनों की मसाज करें।
  • रोजाना इस उपाय को किया जा सकता है।

5. बढ़ती उम्र के लक्षण कम करने के लिए

बढ़ती उम्र के लक्षण कम करने में मारुला तेल लाभदायक साबित हो सकता है। रिसर्च बताती हैं कि मारुला तेल में एंटीऑक्सीडेंट्स और लिनोलिक एसिड होता है (2)। एंटीऑक्सीडेंट्स यूवी रेज की वजह से नजर आने वाली बढ़ती उम्र के लक्षणों को कम कर सकते हैं (6)।

लिनोलिक एसिड की बात करें, तो यह एंटीएजिंग प्रभाव प्रदर्शित करता है (7)। साथ ही एनसीबीआई की वेबसाइट पर प्रकाशित एक वैज्ञानिक शोध से पता चलता है कि मारुला की डंठल से प्राप्त अर्क में एंटी एजिंग प्रभाव होता है, जिससे बढ़ती उम्र के लक्षण जैसे झुर्रियों को कम किया जा सकता है (1)।

उपयोग की विधि:

  • इसे मॉइस्चराइजिंग क्रीम में मिलाकर लगा सकते हैं।
  • फेसवॉश में मिक्स करके इसका उपयोग कर सकते हैं।
  • सोने से पहले हल्के हांथों से त्वचा पर इससे मसाज कर सकते हैं।

6. मुलायम त्वचा के लिए

मारुला तेल त्वचा को मुलायम भी बना सकता है। दरअसल, त्वचा को मुलायम रखने के लिए उसे मॉइस्चराइज करना होता है (8)। जैसा कि हम उपर बता चुके हैं कि मारुला तेल में मॉइस्चराइजिंग और हाइड्रेटिंग प्रभाव होते हैं। ये त्वचा में नमी को बनाए रखते हैं (1)। साथ ही त्वचा की स्मूदनेस को बरकरार रखने और स्किन वाटर लॉस को कम करने के लिए भी इन्हें जाना जाता है (2)।

उपयोग की विधि:

  • इसे सामान्य तेल या बॉडी लोशन की तरह त्वचा पर लगाया जा सकता है।
  • स्किन क्रीम में मिक्स करके भी मारुला तेल लगा सकते हैं।

7. त्वचा से जुड़ी समस्या में सहायक

मारुला तेल त्वचा पर मॉइस्चराइजिंग और हाइड्रेटिंग प्रभाव डालता है (1)। साथ ही इसमें लिनोलिक एसिड मौजूद होता है (2)। लिनोलिक एसिड त्वचा को स्वस्थ रखने के साथ ही त्वचा संबंधी समस्या जैसे कि सोरायसिस (पपड़ीदार त्वचा), एक्जिमा यानी खुजली और चकत्ते होना़ और मुंहासों को रोकने और ठीक करने में मदद कर सकता है (9)। हालांकि, इसे साबित करने के लिए अधिक शोध की आवश्यकता है।  

8. बाल और स्कैल्प को स्वस्थ रखने के लिए

बालों का झड़ना और उनके सफेद होने के पीछे कई कारण हैं, जिनमें से एक ऑक्सीडेटिव स्ट्रेस भी है (10)। यहां मारुला तेल कुछ हद तक फायदेमंद साबित हो सकता है, क्योंकि इसमें एंटीऑक्सीडेंट गुण होता है (11)। इससे ऑक्सीडेटिव स्ट्रेस के कारण होने वाली बालों और स्कैल्प की समस्याओं को ठीक करने में मदद मिल सकती है।

साथ ही एनसीबीआई द्वारा प्रकाशित एक शोध में जिक्र मिलता है कि मारुला तेल के मॉइस्चराइजिंग प्रभाव के कारण इसका इस्तेमाल डैमेज, कमजोर और रूखे बालों के लिए बने कई शैम्पू में किया जाता है (1)। इस आधार पर कहा जा सकता है कि मारुला तेल हेयर और स्केल्प हेल्थ के लिए अच्छा है।

आगे पढ़ें

फायदे के बाद अब जानते हैं मारुला तेल के पौष्टिक तत्व के बारे में।

मारुला तेल के पौष्टिक तत्व – Marula Oil Nutritional Value in Hindi

मारुला तेल के फायदेमंद होने का कारण इसमें मौजूद पौष्टिक तत्वों को माना जाता है। इस तेल में मौजूद सभी पोषक तत्वों की जानकारी स्पष्ट नहीं है। इसी वजह से हम नीचे मारुला तेल के साथ ही मारुला नट्स में मौजूद न्यूट्रिएंट्स के बारे में बता रहे है, क्योंकि मारुला नट्स से ही इसका तेल बनाया जाता है (12)।

मारुला ऑयल
पोषक तत्वमात्रा प्रति 100 ग्राम
फैटी एसिड12 ग्राम
ओलिक एसिड69.9 ग्राम
लिनोलिक एसिड7.8 ग्राम
स्टीयरिक एसिड9.2 ग्राम
मारुला नट
प्रोटीन30.9 ग्राम
तेल57.0 ग्राम
मैग्नीशियम467 मिलीग्राम
फास्फोरस836 मिलीग्राम
पोटेशियम677 मिलीग्राम

स्क्रॉल करें

चलिए, अब मारुला ऑयल इन हिंदी में अब जानते हैं कि मारुला तेल का उपयोग किस प्रकार कर सकते हैं।

मारुला तेल का उपयोग – How to Use Marula Oil in Hindi

मारुला तेल का उपयोग कई तरह से किया जा सकता है। नीचे जानिए इसके उपयोग के विभिन्न तरीके।

  • मारुला तेल को मॉइश्चराइजर की तरह इस्तेमाल किया जा सकता है।
  • इसे बालों में भी लगाया जा सकता है।
  • कई जगह मारुला तेल को कुकिंग ऑयल की तरह भी इस्तेमाल किया जाता है (13)।
  • मुंहासों के लिए इसे प्रभावित त्वचा पर लगाया जा सकता है।
  • लिप बाम की तरह इसका उपयोग कर सकते हैं।
  • बॉडी लोशन की तरह मारुला के तेल का उपयोग कर सकते हैं।

पढ़ते रहें आर्टिकल

मारुला तेल का उपयोग कैसे करते हैं समझने के बाद आगे मारुला तेल के नुकसान पढ़िए।

मारुला तेल के नुकसान – Side Effects of Marula Oil in Hindi

यूं तो मारुला तेल के फायदे कई सारे हैं, लेकिन इसका अधिक इस्तेमाल नुकसान का कारण बन सकता है। इसी वजह से आगे हम मारुला तेल के नुकसान के बारे में बता रहे हैं।

  • एक शोध के मुताबिक, मारुला तेल में हाइपोग्लाइसेमिक गुण होता है। तीन सप्ताह तक मारुला के अर्क के सेवन से रक्तचाप में कमी पाई गई। ऐसे में इसका उपयोग सामान्य रक्तचाप वालों के रक्तचाप में कमी ला सकता है (14)।
  • मारुला तेल के उपयोग से संवेदनशील त्वचा वालों को एलर्जी हो सकती है, जिससे त्वचा में सूजन, लालिमा और खुजली हो सकती है।
  • हम बता ही चुके हैं कि मारुला तेल में हाइपोग्लाइसेमिक गुण होता है (14)। ऐसे में जो लोग ब्लड प्रेशर की दवा ले रहे हैं, वो इसका उपयोग न करें, क्योंकि इससे उनका ब्लड प्रेशर गिर सकता है और वो उर्जाहीन महसूस कर सकते हैं।
  • मारुला तेल के उपयोग से पहले पैच टेस्ट जरूर कर लें। इससे यह स्पष्ट हो जाएगा कि स्किन मारुला तेल के प्रति संवेदनशील है या नहीं।

अब आप जान गए होंगे कि मारुला तेल के फायदे किस प्रकार शरीर को हो सकते हैं। विशेषज्ञों की राय पर इस तेल का इस्तेमाल लेख में बताई गईं शारीरिक समस्याओं के लिए किया जा सकता है। वहीं, इसके इस्तेमाल के दौरान किसी भी तरह के दुष्प्रभाव नजर आते हैं, तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें। अब आगे मारुला तेल से जुड़े कुछ सवालों के जवाब जान लीजिए।

अक्सर पूछे जाने वाले सवाल

क्या मारुला तेल, आर्गन तेल से बेहतर होता है?

यह त्वचा और बालों के प्रकार पर निर्भर करता है। कुछ लोगों की त्वचा पर मारुला तेल बेहतर लाभ पहुंचाता है, तो कुछ लोगों की त्वचा पर आर्गन तेल। अगर गुण की बात करें, तो दोनों में ही काफी प्रभावी गुण हैं, इसलिए त्वचा के लिए दोनों ही तेल अच्छे माने जाते हैं।

क्या मारुला तेल नाखून के लिए अच्छा होता है?

हां, लेख में उपर विस्तार से बताया गया है कि इसमें मॉइस्चराइजिंग गुण होता है, जो त्वचा के साथ-साथ नाखूनों को भी मॉइस्चराइज करने में मदद करता है। इससे टूटते और कमजोर होते नाखूनों की शिकायत कम हो सकती है।

क्या मारुला तेल त्वचा के लिए हानिकारक है?

नहीं, मारुला तेल त्वचा के लिए हानिकारक नहीं होता। मारुला तेल में त्वचा को स्वस्थ रखने वाले कई सकारात्मक प्रभाव दिखते हैं (1)। इसकी विस्तृत जानकारी लेख में मारुला तेल के फायदे वाले भाग में दी गई है।

क्या आंखों के नीचे मारुला तेल का उपयोग कर सकता हूं?

आंखें सबसे संवेदनशील होती हैं, इसलिए एहतियात बरतते हुए इसे आंखों के नीचे लगा सकते हैं। इस दौरान आंखों के अंदर यह तेल बिल्कुल भी नहीं जाना चाहिए।

क्या मारुला तेल बालों के विकास में मदद करता है?

जी, बिल्कुल बालों को स्वस्थ रखने के साथ बालों के विकास में मारुला तेल उपयोगी साबित हो सकता है (10)।

संदर्भ (Sources)

Articles on StyleCraze are backed by verified information from peer-reviewed and academic research papers, reputed organizations, research institutions, and medical associations to ensure accuracy and relevance. Read our editorial policy to learn more.

  1. Anti-aging potential of extracts from Sclerocarya birrea (A. Rich.) Hochst and its chemical profiling by UPLC-Q-TOF-MS
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC5804067/
  2. African seed oils of commercial importance — Cosmetic applications
    https://www.sciencedirect.com/science/article/pii/S0254629911001074
  3. Clinical Assessment of a Combination Lip Treatment to Restore Moisturization and Fullness
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC2923945/
  4. Management of simple brittle nails
    https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/23210755/
  5. Water content and other aspects of brittle versus normal fingernails
    https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/17412454/
  6. Role of antioxidants in the skin: anti-aging effects
    https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/20399614/
  7. Clinical benefits of conjugated linoleic acid (CLA) to 3-dimensional wrinkle morphology
    https://www.jaad.org/article/S0190-9622(08)01587-9/fulltext
  8. The Role of Moisturizers in Addressing Various Kinds of Dermatitis: A Review
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC5849435/
  9. Healing fats of the skin: the structural and immunologic roles of the omega-6 and omega-3 fatty acids
    https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/20620762/
  10. Oxidative Stress in Ageing of Hair
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC2929555/
  11. Sclerocarya birrea (Marula) An African Tree of Nutritional and Medicinal Uses: A Review
    https://www.tandfonline.com/doi/abs/10.1080/87559129.2012.660716
  12. A summary of knowledge on marula
    https://www.researchgate.net/publication/269393080_A_summary_of_knowledge_on_marula
  13. Antibacterial Activity of Marula [Sclerocarya Birrea] and Brominated Marula Seed Oil
    https://www.ijisrt.com/assets/upload/files/IJISRT20AUG668.pdf
  14. Oxidised palm oil and sucrose induced hyperglycemia in normal rats: effects of Sclerocarya birrea stem barks aqueous extract
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC4739403/
Was this article helpful?
thumbsupthumbsup
The following two tabs change content below.
पुजा कुमारी ने बनारस हिंदू यूनिवर्सिटी से जर्नलिज्म एंड मास कम्युनिकेशन में एमए किया है। इन्होंने वर्ष 2015 में अपने... more

ताज़े आलेख